Class 11 Sociology Notes Chapter 5 संस्कृति

→ मनुष्य को जो वस्तु जानवरों से अलग करती है वह है संस्कृति जो मनुष्यों के पास है परन्तु जानवरों के पास नहीं है। अगर मनुष्यों से संस्कृति छीन ली जाए तो वह भी जानवरों के समान ही हो जाएगा। इस प्रकार संस्कृति तथा समाज दोनों ही एक-दूसरे साथ गहरे रूप से अन्तर्सम्बन्धित हैं।

→ मनुष्य ने आदि काल से लेकर आज तक जो कुछ भी प्राप्त किया है वह उसकी संस्कृति है। संस्कृति एक सीखा हुआ व्यवहार है जो पीढ़ी-दर-पीढ़ी हस्तांतरित किया जाता है। व्यक्ति इसको केवल उस समय ही प्राप्त कर सकता है जब वह किसी समाज का सदस्य होता है।

→ संस्कृति के दो प्रकार होते हैं-भौतिक संस्कृति तथा अभौतिक संस्कृति । भौतिक संस्कृति में वह सब कुछ शामिल है जिसे हम देख या स्पर्श कर सकते हैं जैसे कि कुर्सी, टेबल, कार, पैन, घर इत्यादि। अभौतिक संस्कृति में वह सब कुछ शामिल है जिसे हम देख या स्पर्श नहीं कर सकते जैसे कि हमारे विचार, नियम, परिमाप इत्यादि।

→ संस्कृति तथा परंपराएं एक दूसरे से गहरे रूप से संबंधित हैं। इस प्रकार सामाजिक परिमाप तथा कीमतें भी संस्कृति का महत्त्वपूर्ण हिस्सा होते हैं। अगर इन्हें संस्कृति में से निकाल दिया जाए तो शायद संस्कृति में कुछ भी नहीं बचेगा।

→ संस्कृति के दो भाग होते हैं-भौतिक तथा अभौतिक। इन दोनों भागों में परिवर्तन आते हैं परन्त भौतिक संस्कृति में परिवर्तन तेज़ी से आते हैं तथा अभौतिक संस्कृति में धीरे-धीरे। इस कारण दोनों भागों में अंतर उत्पन्न हो जाता है। भौतिक भाग आगे निकल जाता है तथा अभौतिक भाग पीछे रह जाता है। इस अंतर को सांस्कृतिक पिछड़ापन कहा जाता है।

→ संस्कृति में परिवर्तन आने का अर्थ है समाज के पैटर्न में परिवर्तन आना। यह परिवर्तन अंदरूनी तथा बाहरी कारकों के कारण आता है।

→ संस्कृति (Culture)-आदि काल से लेकर आज तक मनुष्य ने जो कुछ भी प्राप्त किया है वह उसकी संस्कृति है।

→ भौतिक संस्कृति (Material Culture)-संस्कृति का वह भाग जिसे हम देख या स्पर्श कर सकते हैं।

→ अभौतिक संस्कृति (Non-Material Culture)—संस्कृति का वह भाग जिसे हम देख या स्पर्श नहीं कर सकते।

→ सांस्कृतिक पिछड़ापन (Cultural Lag)—संस्कृति के दोनों भागों में परिवर्तन आने से भौतिक संस्कृति आगे निकल जाती है तथा अभौतिक संस्कृति पीछे रह जाती है। दोनों के बीच उत्पन्न हुए अंतर को सांस्कृतिक पिछड़ापन कहते हैं।

→ परिमाप (Norms)-समाज में स्थापित व्यवहार करने के वह तरीके जिन्हें सभी लोग मानते हैं।

→ कीमतें (Values)—वह नियम जिन्हें मानने की सबसे आशा की जाती है।

→ सांस्कृतिक परिवर्तन (Cultural Change)—वह तरीका जिसमें समाज अपनी संस्कृति के पैटर्न बदल लेता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *