Class 12 Geography Solutions Chapter 6 आर्थिक भूगोल निर्माण उद्योग (सहायक सेवा तथा ज्ञान/विशेष क्षेत्रों की क्रियाएं)

आर्थिक भूगोल निर्माण उद्योग (सहायक सेवा तथा ज्ञान/विशेष क्षेत्रों की क्रियाएं) Textbook Questions and Answers

प्रश्न I. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर एक वाक्यों में दें:

प्रश्न 1. निर्माण उद्योग आर्थिकता के कौन-से क्षेत्र की क्रिया है ?
उत्तर-निर्माण उद्योग आर्थिकता के द्वितीयक क्षेत्र की क्रिया है।

प्रश्न 2. गन्ने की कृषि पर निर्माण क्षेत्र का कौन-सा उद्योग आधारित है ?
उत्तर-गन्ने की कृषि पर चीनी उद्योग आधारित है।

प्रश्न 3. कागज़ बनाने का उद्योग कौन-सी मौलिक क्रिया पर आधारित है ?
उत्तर-लकड़ी की लुगदी से कागज़ बनाने की क्रिया पर।।

प्रश्न 4. किसी उद्योग के स्थानीयकरण पर कैसे दो कारक प्रभाव डालते हैं ?
उत्तर-1. कच्चा माल, मज़दूर, यातायात के साधन (भौगोलिक कारक), 2. पूंजी, सरकारी नीति, (गैर भौगोलिक कारक)।

प्रश्न 5. TISCO का पूरा नाम क्या था ?
उत्तर-टाटा आयरन एंड स्टील कंपनी लिमिटेड।

प्रश्न 6. ढाका में बनता कौन-सी किस्म का कपड़ा बहुत प्रसिद्ध है ?
उत्तर-ढाके की मलमल का कपड़ा बहुत प्रसिद्ध रहा है।

प्रश्न 7. गन्ने से चीनी के अलावा क्या-क्या बनाया जा सकता है ?
उत्तर-गन्ने से कई पदार्थ, जैसे-चीनी, शीरा, मोम, खाद, कागज़ इत्यादि भी तैयार किए जाते हैं।

प्रश्न 8. बठिंडा स्थित तेल शोधक कारखाने का पूरा नाम क्या है ?
उत्तर-गुरु गोबिंद सिंह रिफायनरी, तेल शोधक कारखाने का पूरा नाम है।

प्रश्न 9. आर्थिकता के चौथे स्तर पर किस किस्म के उद्योग आते हैं ?
उत्तर-इसमें विद्वान्, चिंतक तथा बुद्धिजीवी उद्योग आते हैं।

प्रश्न 10. मीडिया सेवाएं, आर्थिकता के कौन-से स्तर की क्रियाएं हैं ?
उत्तर-मीडिया सेवाएं आर्थिकता के पांचवें स्तर की क्रियाएं हैं।

प्रश्न 11. CAGR का पूरा नाम क्या है ?
उत्तर-Compound Annual Growth Rate/Compound Advance Growth Rate.

प्रश्न 12. हरा कालर श्रमिक कौन से क्षेत्रों के क्रियाशील व्यक्तियों को कहते हैं ?
उत्तर-पर्यावरण वैज्ञानिक, सलाहकार, सौर ऊर्जा क्षेत्रों के साथ जुड़े क्रियाशील व्यक्तियों को हरा कालर श्रमिक कहते हैं।

प्रश्न 13. कामकाजी औरतों की रोजगार क्रियाएं कौन-से रंग के कालर से संबंधित होती हैं ?
उत्तर-गुलाबी कालर श्रमिक से संबंधित होती हैं।

प्रश्न 14. कृषि निर्यात जोन के अधीन पंजाब से क्या कुछ निर्यात किया जा सकेगा?
उत्तर-कृषि निर्यात जोन अधीन सब्जियां, आलू, चावल, शहद, पंजाब से निर्यात किया जाएगा।

प्रश्न 15. भारत का मानचैस्टर कौन-से शहर को कहते हैं ?
उत्तर-अहमदाबाद को भारत का मानचैस्टर कहते हैं।

प्रश्न II. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर तीन-चार पंक्तियों में दें:

प्रश्न 1. मज़दूरों की संख्या के आधार पर उद्योगों का विभाजन करो तथा विशेषताएं बताओ।
उत्तर-मजदूरों की संख्या के आधार पर उद्योगों को निम्नलिखित तीन किस्मों में विभाजित किया जाता है-

  1. बड़े पैमाने के उद्योग-जहाँ मज़दूरों की संख्या बहुत अधिक हो।
  2. मध्यम पैमाने के उद्योग-जहाँ मज़दूरों की संख्या न अधिक होती हैं न कम; जैसे-साइकिल उद्योग, बिजली ‘ उपकरण उद्योग इत्यादि।
  3. छोटे पैमाने के उद्योग-जहाँ निजी स्तर से या बहुत कम मज़दूरों की आवश्यकता हों।

प्रश्न 2. ग्रामीण उद्योग तथा कुटीर उद्योगों की विशेषताएं बताओ।
उत्तर-ग्रामीण उद्योग-यह गाँव में स्थित होते हैं तथा गाँव की आवश्यकता को पूरा करते हैं; जैसे-गेहूं, चक्की इत्यादि।
घरेलू/कुटीर उद्योग-जहाँ शिल्पकार अपने घर में ही लकड़ी, बांस, पत्थरों इत्यादि को तराश कर सामान बनाते . हैं; जैसे-खादी, चमड़े के उद्योग इत्यादि।

प्रश्न 3. पूंजी प्रधान तथा मज़दूर प्रधान उद्योगों में अंतर स्पष्ट करो।
उत्तर
पूंजी प्रधान- जिन उद्योगों में पैसे के निवेश की आवश्यकता होती है; जैसे-लौहा तथा इस्पात, सीमेंट इत्यादि पूंजी प्रधान उद्योग कहलाते हैं।
मज़दूर प्रधान – जिन उद्योगों में ज्यादा मजदूरों की आवश्यकता होती है; जैसे-जूते, बीड़ी उद्योग इत्यादि मजदूर प्रधान उद्योग कहलाते हैं।

प्रश्न 4. यातायात उद्योगों के स्थानीयकरण के कारक के तौर पर कैसे प्रभाव डालते हैं ?
उत्तर-कच्चे माल को उद्योगों तक पहुँचाने तथा फिर निर्माण उद्योग से उपयोग योग्य तैयार सामान को बाजार तक पहुँचाने के लिए अच्छी सड़कें, रेल मार्ग, जल मार्ग तथा समुद्री मार्ग की आवश्यकता होती है। बंदरगाहों के कारण कोलकाता, मुंबई, चेन्नई शहरों के आस-पास काफी उद्योग विकसित हो सके हैं। यहाँ तक पंजाब में लुधियाना के पास लगते रेलवे स्टेशन ढंडारी कलां को तो शुष्क बंदरगाह तक का नाम दे दिया गया है।

प्रश्न 5. भद्रावती के लोहा इस्पात उद्योग से जान-पहचान करवाओ।
उत्तर-18 जनवरी, 1923 को मैसूर आयरन वर्क्स के नाम के अंतर्गत भद्रावती (कर्नाटक) में शुरू हुए थे। इस प्लांट का नाम भारत के मशहूर इंजीनियर भारत रत्न श्री एम० विश्वेश्वरैया के नाम पर विश्वेश्वरैया आयरन एंड स्टील लिमिटेड रख दिया गया। यह उत्पादन केंद्र भी स्टील अथारिटी ऑफ इंडिया के अंतर्गत ही आता है।

प्रश्न 6. भारत में सूती वस्त्र के उत्पादन संबंधी इतिहास के बारे में कुछ बताओ।
उत्तर-भारतीय सूती वस्त्र तथा इसके सूत का इतिहास सिंधु घाटी सभ्यता से शुरू हुआ समझा जाता है। 1500 ईसा पूर्व से 1500 ई० तक लगभग 3000 साल तक भारत के सूती वस्त्र का उत्पादन विश्व में काफी प्रसिद्ध है। ढाका शहर के मलमल का कपड़ा, मसूलीपटनम का छींट, कालीकट की कल्लीकैंज से कैम्बे में बने बफता वस्त्र पूरे विश्व में प्रसिद्ध थे। भारत में पहली सूती कपड़े की मिल 1818 में फोर्ट ग्लोस्टर कोलकाता में लगाई गई थी परंतु यह मिल अधिक कामयाब नहीं हुई। फिर एक कामयाब मिल 1854 में मुंबई में लगाई गई तथा देश के विभाजन के समय 1941, में लंबे रेशे वाली कपास वाले क्षेत्र पाकिस्तान की तरफ चले गए परंतु कपड़े के उद्योग गुजरात तथा महाराष्ट्र में रह गए।

प्रश्न 7. सूती वस्त्र मिलों को कौन-से वर्गों में विभाजित किया जा सकता है ?
उत्तर-सूती वस्त्र मिलों को तीन वर्गों में विभाजित किया जा सकता है-

  • कताई मिलें (Spinning Mills)
  • बुनाई मिलें (Weaving Mills)
  • धागे तथा कपड़ा मिलें (Thread and Cotton both produced)

कताई मिलों को आगे अन्य भागों में विभाजित किया जाता है।

  • हथकरघा (Handloom)
  • बिजली के साथ चलने वाली कताई मशीनें (Powerloom)।

प्रश्न 8. मन्जूर माल भाड़ा गलियारा से जान पहचान करवाएं।
उत्तर-यह गलियारा पश्चिमी गलियारे दादरी से जवाहर लाल नेहरू बंदरगाह, मुंबई तक लगभग 1468 कि०मी० का क्षेत्र शामिल है। इसके अलावा पूर्वी गलियारा-लुधियाना (पंजाब) से पश्चिमी बंगाल तक लगभग 1760 कि०मी० का क्षेत्र शामिल है।

प्रश्न 9. दिल्ली-मुंबई औद्योगिक गलियारों से पहचान करवाओ।
उत्तर-यह गलियारा देश के कुछ सात राज्यों में फैला हुआ है। यह योजनाबद्ध औद्योगिक गलियारा देश की राजधानी दिल्ली से लेकर आर्थिक राजधानी मुंबई तक 1500 किलोमीटर तक लंबा है। इसमें 24 औद्योगिक क्षेत्र, 8 स्मार्ट शहर तथा दो हवाई अड्डे, 5 बिजली उत्पादन केंद्र तथा बेहतर यातायात प्रबंध शामिल हैं।

प्रश्न 3. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर 10-12 पंक्तियों में दें: :

प्रश्न 1. किसी उद्योग के स्थानीयकरण के लिए कौन-कौन से गैर भौगोलिक कारक कार्यशील होते हैं ?
उत्तर-किसी उद्योग के स्थानीयकरण के लिए गैर भौगोलिक कारक निम्नलिखित हैं-

  • पूंजी-पूंजी की उद्योगों को लगाने तथा चलाने के लिए खास आवश्यकता होती हैं।
  • सरकारी नीतियां-किसी देश की अच्छी सरकारी नीतियां उस देश के औद्योगिक विकास में योगदान डालती हैं
  • औद्योगिक सुविधाएं-जब कोई उद्योग अपनी उत्पत्ति वाले स्थान पर स्थापित होकर पूरा विकास करे; जैसे-उत्तर प्रदेश में अलीगढ़ में तालों का उद्योग तथा लुधियाना में हौजरी उद्योग इत्यादि।
  • कुशल संगठन-कुशल प्रबंध का होना भी अति आवश्यक है। अयोग्य प्रबंधन कारण कई बार कामयाब उद्योग भी बर्वाद हो जाते हैं।
  • बैंक की सुविधा-उद्योग लगाने तथा इसके प्रबंधन के लिए काफी धन राशि की आवश्यकता होती है। इसलिए इस उद्योग के लिए बैंक की सुविधाएं ज़रूरी होनी चाहिए।
  • बीमा-किसी भी अनहोनी दुर्घटना जो मनुष्य या मशीनरी इत्यादि के साथ भी हो, की सूरत में बीमे की सुविधा का होना ज़रूरी है।

प्रश्न 2. भारत में लोहा तथा इस्पात उद्योग की शुरुआत तथा स्थापना के लिए जरूरी कारकों से पहचान करवाओ।
उत्तर-भारत में लोहा-इस्पात की शुरुआत 1874 ई० में हुई। जब बंगाल आयरन वर्क्स ने पश्चिमी बंगाल में आसनसोल के नज़दीक ‘कुलटी’ नामक स्थान पर स्टील प्लांट लगाया गया था परंतु यह अधिक सफल न हो सका। यह प्लांट 1907 ई० में कामयाब हुआ जब जमशेद जी टाटा द्वारा झारखंड में ‘साकची’ नामक स्थान पर सम्पूर्ण भारतीय कंपनी टाटा आयरन एंड स्टील कंपनी का प्लांट लगाया गया तथा 1,20,000 टन कच्चे लोहे का निर्माण किया। सन् 1947 ई० के समय जहाँ 10 लाख टन कच्चे लोहे का निर्माण हुआ। 2014-15 तक भारत संसार में लोहे का तीसरा बड़ा उत्पादक देश बन गया।
कच्चा लोहा, इस्पात उद्योग की स्थापना के लिए आवश्यक कारक-इन उद्योगों के लिए पानी की बड़ी मात्रा की आवश्यकता होती है। यह उद्योग विशेषतया उन क्षेत्रों में लगाये जाते हैं जहाँ नदियां, नहरें, झीलें हों क्योंकि इन क्षेत्रों में पानी की उपलब्धि के साथ-साथ यातायात भी आसान हो जाती है। इसके साथ-साथ पूंजी, मजदूर, रेल तथा सड़क यातायात तथा उचित बाजार की आवश्यकता है।

प्रश्न 3. भारत में सूती वस्त्र उद्योग की मुसीबतों तथा उनके समाधान बताओ।
उत्तर-भारत में सूती वस्त्र उद्योग में आने वाली मुख्य कठिनाइयां (मुसीबतें) निम्नलिखित हैं-

  • देश में लम्बे रेशे वाली कपास का उत्पादन कम है।
  • कारखाने काफी पुराने हैं जिस कारण उत्पादकता पर असर पड़ता है। मशीनरी पुरानी है जिसको बदलना बहुत ज़रूरी है तथा औद्योगिक पक्ष से देश पीछे है तथा मशीनरी महंगी है।
  • भारतीय सूती वस्त्र को कृत्रिम रेशे के साथ मुकाबला करना पड़ रहा है।
  • भारत को अंतर्राष्ट्रीय बाजार में बंगलादेश, चीन, जापान तथा इंग्लैंड से मुकाबला करना पड़ रहा है जिनका कच्चा माल भारत के कच्चे माल में ज्यादा अच्छा है।
  • पूंजी की कमी भी सूती वस्त्र उद्योग के लिए समस्या का एक कारण है।

समाधान-नई तकनीक वाली मशीनरी को लाना चाहिए तथा उद्योग को आधुनिक बनाने के लिए सस्ते ब्याज पर ऋण उपलब्ध करवाने चाहिए। तैयार माल की कीमतों को कम रखने के लिए औद्योगिक उत्पादन को बढ़ाया जाना चाहिए। कच्चे माल, बिजली तथा मजदूरों की निरन्तर पूर्ति होनी चाहिए।

प्रश्न 4. भारत में चीनी उद्योग में पंजाब का क्या योगदान है तथा समूचे तौर पर उद्योग को क्या-क्या कठिनाइयां आ रही हैं ?
उत्तर-भारत में चीनी उद्योग में पंजाब का योगदान-पंजाब राज्य में कुल 17 चीनी मिलें हैं जिनमें 10 मिलें चालू हालात में हैं जो कि अजनाला, बटाला, भोगपुर, बुंदेबाल, फाजिल्का, फगवाड़ा, गुरदासपुर, नवांशहर, नकोदर, मोरिंडा में स्थित हैं। परंतु यहां की 17 चीनी मिलों में 7 मिलें बंद हो गई हैं जोकि धूरी, फरीदकोट, रखड़ा, तरनतारन, जीरा, बुढ़लाडा, जगराओं में हैं।

कठिनाइयां –

  • गन्ने की लागत पर ज्यादा खर्चा होता है परंतु मूल्य में गिरावट होती है।
  • गन्ना कटाई के बाद तेजी से सूख जाता है तथा लंबे समय के लिए इसको बचा के न रख सकना भी बड़ी समस्या है।
  • चीनी मिलों के मालिकों द्वारा किसानों को समय पर अदायगी न करने से भी गन्ना उत्पादक किसान निराश होता है।
  • कोहरे के कारण भारत की फसल खराब हो जाती है।
  • यातायात की लागत बढ़ने के साथ भी गन्ने की फसल में कठिनाइयां आती हैं।
  • चीनी मिलें छोटी हैं तथा सहकारी क्षेत्र की मिलों में सिर्फ मुनाफा कमाने की नीति कारण रुकावट आ चुकी

प्रश्न 5. भारत के औद्योगिक गलियारे से पहचान करवाओ तथा किसी एक गलियारे पर नोट लिखो।
उत्तर-उद्योगों में कच्चा माल पहुंचाने तथा तैयार हुए माल को बाजार तक पहुंचाने के लिए रेल मंत्रालय के अंतर्गत माल गाड़ियां चलाने के लिए अलग-अलग रेल लाइनें बिछाने की योजना तैयार की गई। इसके लिए निरोल माल भाड़ा गलियारा निगम की स्थापना की गई। ऐसे गलियारे की योजना, विकास, निर्माण, कामकाज तथा देख-रेख इत्यादि का सारा प्रबंध 11वीं पंचवर्षीय योजना के समय किया गया तथा इस योजना के अधीन पूर्वी निरोल माल-भाड़ा गलियारा पंजाब में लुधियाना से पश्चिमी बंगाल तक के पश्चिमी निरोल माल-भाड़ा गलियारा जवाहर लाल नेहरू बंदरगाह मुंबई से उत्तर प्रदेश में दादरी तक होगा। इस गलियारा को बनाने का मुख्य उद्देश्य है कि समर्थ, भरोसे योग्य, सुरक्षित तथा सस्ती गाड़िया चलाना तथा पर्यावरण की संभाल रखते हुए रेलवे में लोगों के भरोसे को बढ़ाना। इस तरह से गलियारों के साथ-साथ आवश्यकता का सामान भी उपलब्ध करवाना है ताकि योजना से अधिक से अधिक लाभ उठाया जा सके।

सुनहला चतुर्भुज माल-भाड़ा गलियारा-यह गलियारा केंद्रों, सड़कों, यातायात तथा राजमार्ग मंत्रालय की योजना है जिसके द्वारा मुख्य रूप में 4 महानगरों, दिल्ली, मुंबई, चेन्नई तथा कोलकाता को जोड़कर एक चतुर्भुज बनाई जाती है तथा उत्तर-दक्षिण तथा पूर्व-पश्चिम की तरफ दो लंब रूप मालभाड़ा गलियारा बनाया गया। इस द्वारा सड़क मार्गों की लंबाई 10,122 कि०मी० होगी तथा भारतीय रेल की तरफ जाए तो मालभाड़े के 55% हिस्से से भी अधिक कमाई की जाए।

प्रश्न 6. भारत की आर्थिकता में तृतीयक क्षेत्र की क्रियाओं पर विस्तार से एक नोट लिखो।
उत्तर-तृतीयक क्षेत्र या सेवा क्षेत्र आर्थिकता की पहली तथा दूसरी श्रेणी के बाद तीसरा महत्त्वपूर्ण क्षेत्र है। इसमें उत्पादकता के प्रदर्शन के ज्ञान में जानकारी का प्रयोग करके वृद्धि की जाती है। इस क्षेत्र में खासकर सेवाओं का प्रयोग किया जाता है। इस क्षेत्र में आने वाली मुख्य सेवाएं हैं मनोरंजन, सरकारी सेवाएं, टैलीकॉम, दूरसंचार, पर्यटन, मीडिया, शिक्षा, बीमा, बैकिंग सुविधाएं, निवेश, लेखा सेवाएं, वकीलों के सुझाव, चिकित्सा सेवाएं, यातायात के साधन इत्यादि को शामिल किया जाता है। भारत में सेवा क्षेत्र, राष्ट्रीय तथा राज्यों की आमदनी तथा आर्थिकता का बड़ा हिस्सा है जो कि व्यापार, सीधी विदेशी पूंजीकारी तथा नौकरी में वृद्धि संबंधी देश की काफी सहायता करता है। यह आर्थिक वृद्धि की पूंजी है। यह क्षेत्र की कुल कीमत की वृद्धि में 66.1% हिस्सा भारत में डालता है तथा विदेशी निवेश की तरफ खींच पैदा करता है। केन्द्रीय आंकड़ा दफ्तर के अनुमान मुताबिक साल 2016-17 में सेवा क्षेत्र 8.8% की दर से बढ़ेगा।

प्रश्न 7. भारत सरकार के ‘मेक इन इंडिया’ प्रोग्राम से पहचान करवाओ।
उत्तर-भारत के निर्माण उद्योग को ताकतवर बनाने के लिए खोज तथा स्थापना के क्षेत्रों में देश को विश्व स्तर पर लाने के लिए भारत सरकार ने ‘मेक इन इंडिया’ योजना की शुरुआत की। इस योजना के मुख्य रूप में चार स्तंभ हैं पहला यह एक नयी प्रक्रिया, दूसरा नयी बुनियादी संरचना, तीसरा नया विकास क्षेत्र तथा चौथा नई सोच। बुनियादी संरचना तथा सेवा के क्षेत्र को भी इस योजना में लाया गया। सरकार ने इस योजना के तहत लैब पैट्रोल की योजना संबंधी जागरुकता तथा जानकारी हित शुरू किया है। इसमें राष्ट्रीय बुनियादी तथा दिल्ली, मुंबई औद्योगिक गलियारे शामिल हैं। इन 25 क्षेत्रों में स्वचालित कार, खनन, सेहत, पर्यटन, वस्त्र, ताप, ऊर्जा, चमड़ा, सूचना तकनोलॉजी, निर्माण रसायन, उड्डयन, बिजली मशीनरी इत्यादि शामिल हैं।

प्रश्न 8. भारत के पैट्रोकैमिकल उद्योग पर नोट लिखो।
उत्तर-भारत का पैट्रोकैमिकल उद्योग देश के सब उद्योगों से तेजी के साथ बढ़ रहा है क्योंकि यह उद्योग वस्त्र, कृषि, निर्माण तथा दवाइयों के उद्योगों को मूल सहायता करवाता है। देश में इस औद्योगिक विकास के कारण आर्थिकता को काफी उभार मिलता हैं। भारत में मुख्य रूप में चार बड़ी कंपनियां हैं जो पैट्रोकैमिकल कंपनी की पूरी मार्किट पर कंट्रोल करती हैं। इनमें रिलायंस इंडस्ट्रीज़ लिमिटेड, इंडियन पैट्रोकैमिकल की जोड़ी तथा गैस अथारिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड तथा हल्दियां पैट्रोकैमिकल की जोड़ी शामिल हैं। भारत में हर रोज प्रयोग किए जाने वाले खनिज तेल का 70 प्रतिशत भाग बाहर से आयात किया जाता हैं। हम अपनी ज़रूरत का सिर्फ 30% हिस्सा ही अपने साधनों से पैदा करते हैं। बाकी का तेल ईरान, साऊदी अरब तथा खाड़ी के देशों से लाया जाता है। पैट्रोकैमिकल उद्योगों को मुख्य रूप में दो स्तर होते हैं-

1. पृथ्वी से कच्चा तेल निकालना
2. तेल शोधन करना।

प्रश्न 4. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर 20 पंक्तियों में दो :

प्रश्न 1. भारत के लोहा-इस्पात उद्योगों के साथ संबंधित प्लांटों से पहचान करवाओ।
उत्तर-लोहा-इस्पात उद्योग आधुनिक समाज का नींव पत्थर है। लोहा कठोरता, प्रबल तथा सस्ता होने के कारण दूसरी धातुओं की तुलना में अधिक उपयोगी है। इसके साथ कई तरह की मशीनों, यातायात के साधन, कृषि, उपकरण, ऊंचे-ऊंचे पुल, सैनिक हथियार, टैंक, रॉकेट तथा दैनिक प्रयोग की गई वस्तुएं तैयार की जाती हैं। लोहा-इस्पात का उत्पादन ही किसी देश के आर्थिक विकास का मापदंड है। आधुनिक सभ्यता लोह-इस्पात पर निर्भर करती है। इसलिए वर्तमान युग को ‘इस्पात युग’ कहते हैं। लोहा निर्माण का काम आज से 3000 साल पहले, मिस्र, रोम इत्यादि देशों में किया जाता था। इस युग को लोह युग कहा जाता है। पृथ्वी की खानों में लोहा अशुद्ध रूप में मिलता है। लोहे को भट्टी में गला कर साफ करके इस्पात बनाया जाता है। इस कार्य के लिए कई वर्ग प्रयोग किए जाते हैं। खुली भट्टी, कोक भट्टी तथा बिजली की पावर भट्टियों का भी ज्यादातर प्रयोग किया जाता है।

भारत के कुछ महत्त्वपूर्ण स्टील प्लांट-

  • टाटा स्टील लिमिटेड-इसका पहले नाम टाटा आयरन एंड स्टील कंपनी (TISCO) था। यह भारत की बहुराष्ट्रीय स्टील कंपनी है। इसका मुख्यालय मुंबई में है। इसकी कुल क्षमता 2 करोड़ 53 लाख टन उत्पादन की थी, यह 2015 में विश्व की 10वीं बड़ी स्टील उत्पादन कंपनी है। इसका सबसे बड़ा प्लांट जमशेदपुर में 1907 में जमशेद जी टाटा ने लगाया था।
  • इंडियन आयरन एंड स्टील कंपनी (IISCO)—यह स्टील प्लांट आसनसोल (ज़िला बर्धमान) के नज़दीक बर्नपुर में है जो कि स्टील अथारिटी ऑफ इंडिया के अधीन इस्पात का उत्पादन करता है।
  • विश्वेश्वरैया आयरन एंड स्टील लिमिटेड-भद्रावती (कर्नाटक) में 18 जनवरी, 1923 को मैसूर आयरन वर्क्स के नाम पर शुरू हुए इस प्लांट का नाम प्रसिद्ध भारतीय श्री एम० विश्वेश्वरैया के नाम पर विश्वेश्वरैया आयरन एंड स्टील प्लांट पड़ गया।
  • भिलाई स्टील प्लांट (BSP) भिलाई स्टील प्लांट छत्तीसगढ़ राज्य में स्थित सबसे बड़ा उत्पादन प्लांट है। यहाँ इस्पात की चौड़ी पलेटें बनती हैं। जहाँ इस्पात के निर्माण का काम 1955 में शुरू हुआ।
  • दुर्गापुर स्टील प्लांट (DSP)—यह उद्योग पश्चिमी बंगाल के दुर्गापुर शहर में स्टील अथारिटी ऑफ इंडिया का एक सामूहिक स्टील प्लांट है। इसको 1955 में बर्तानिया की सहायता के साथ स्थापित किया गया था।
  • बोकारो स्टील प्लांट-यह प्लांट स्टील अथारिटी ऑफ इंडिया के अंतर्गत, झारखण्ड राज्य के बोकारो शहर में है। इसको 1864 में रूस की सहायता से लगाया गया तथा बाद में स्टील अथारिटी जो कि भारतीय सरकार की कंपनी है के कंट्रोल में आ गया।
  • राऊरकेला स्टील प्लांट-राऊरकेला स्टील प्लांट भी स्टील अथारिटी आफ इंडिया अंतर्गत उत्पादन वाला . सरकारी क्षेत्र का प्लांट है। यह उड़ीसा में है। इसकी स्थापना 1960 में हुई। तब से पश्चिमी जर्मनी ने इसकी सहायता की है।

प्रश्न 2. भारतीय सूती वस्त्र उद्योग के विभाजन में पश्चिमी तथा पूर्वी क्षेत्रों की तुलना करो।
उत्तर-वस्त्र मनुष्य की मूल आवश्यकता है। सूती वस्त्र उद्योग बहुत प्राचीन है। आज से लगभग 5000 साल पहले सूती वस्त्र उद्योग भारत में घरेलू उद्योग के रूप में उन्नत थे। ढाके की मलमल विश्व भर में प्रसिद्ध थी। सूती वस्त्र मिल उद्योग की शुरुआत 18वीं सदी में ग्रेट, ब्रिटेन में हुई। औद्योगिक क्रांति के कारण आरकराईट, क्रामपटन तथा कार्टराइट नामी कारीगरों ने पावरलूम इत्यादि कई मशीनों की खोज की। सूती वस्त्र बनाने की मशीनों के कारण इंग्लैंड का लेका शहर सूती वस्त्र के उद्योग कारण प्रसिद्ध हो गया।

भारतीय सूती वस्त्र उद्योग के विभाजन में पश्चिमी पूर्वी क्षेत्र की तुलना-

1. पश्चिमी क्षेत्र–भारत के पश्चिमी क्षेत्र में महाराष्ट्र, गुजरात, मुंबई इत्यादि सूती वस्त्र उद्योग के मुख्य केंद्र हैं।
अहमदाबाद को भारत का मानचेस्टर कहते हैं। अहमदाबाद सूती वस्त्र उद्योग का बड़ा केन्द्र है। यहाँ 75 मिलें हैं। इसके अतिरिक्त महाराष्ट्र में सूरत, भावनगर, राजकोट इत्यादि बहुत प्रसिद्ध सूती वस्त्र के उत्पादक केन्द्र हैं। महाराष्ट्र राज्य सूती कपड़ा उद्योग में सबसे आगे है। यहां 100 मिलें हैं। मुंबई शुरू से ही सूती वस्त्र उद्योग का मुख्य केन्द्र रहा है। इसलिए इसको सूती वस्त्रों की राजधानी कहते हैं। गुजरात की सूती कपड़े के उत्पादन में दूसरी जगह है। देश के पश्चिमी क्षेत्र में सूती वस्त्र उद्योग भी विकसित हुआ। इसके कारण हैं

  • महाराष्ट्र तथा गुजरात की उपजाऊ काली मिट्टी जो कपास की कृषि के लिए बहुत उपयुक्त है। इस प्रकार कच्चा माल, कपास आसानी के साथ मिल जाती है।
  • पश्चिमी घाट से पनबिजली आसानी से मिल जाती है।
  • मुंबई तथा कांडला की बंदरगाहों के कारण माल को एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचाना आसान हो जाता है तथा व्यापार विकसित होता है।
  • नमी वाली जलवायु होने के कारण धागा बुनना आसान है।
  • पारसी तथा भाटिया व्यापारी पूंजी के निवेश में योगदान डालते हैं।
  • कोंकण, सतारा तथा शोलापुर और इलाकों में स्थानीय कुशल तथा सस्ते मज़दूर मिल जाते हैं।
  • यातायात के बढ़िया साधनों के कारण भी यहां व्यापार अच्छा है।

2. पूर्वी क्षेत्र-इस क्षेत्र में पश्चिमी बंगाल, बिहार, उड़ीसा तथा असम राज्य शामिल हैं। अधिकतर मिलें कोलकाता, बेलगाड़ियां, श्याम नगर, गुमुरी, सालकिया, श्रीरामपुर, मुरीग्राम इत्यादि स्थानों पर हैं। इस क्षेत्र में कोलकाता बंदरगाह व्यापार को काफी फायदा देती हैं। क्षेत्र में उद्योगों के विकास के कारण –

  • कोलकाता की बंदरगाहें व्यापार के लिए काफी उपयोगी हैं।
  • यातायात के साधन अच्छे हैं।
  • जलवायु में नमी की मात्रा मौजूद है तथा सूती वस्त्र की मांग बहुत ज्यादा है।

प्रश्न 3. पंजाब की खाद्य प्रसंस्करण उद्योग के बारे विस्तार से नोट लिखो।
उत्तर-पंजाब की कृषि में भिन्नता लाने के लिए तथा खाद्यान्न से जुड़े हुए उद्योगों के विकास के लिए पूंजी लगाने को प्रोत्साहित करने के लिए भारतीय सरकार ने खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय ने देश में खासकर पंजाब में इस उद्योग को बढ़ावा दिया।

  • पंजाब में 2762 करोड़ रुपये की लागत से मैगा कृषि प्रसंस्करण यूनिट मंजूर किये गए हैं। इसके साथ 2680 ‘करोड़ के साथ 20 मैगा प्रकल्प (Project) जिसमें एशनोन निर्माण, सेहत के लिए खाने, चीनी, बच्चों के लिए खाना इत्यादि के 20 मैगा प्रकल्पों को शामिल किया गया। इनके साथ 23145 यूनिट बहुत छोटे क्षेत्र में 1258 करोड़ की लागत से लगाए गए। इनमें अनाज, दालें, सब्जी, डेयरी, मुर्गीपालन आजि पर आधारित उद्योग शामिल हैं।
  • कृषि उत्पाद निर्यात जोन-2002 में भारत सरकार ने कृषि निर्यात जोन सब्जियों; जैसे कि आलू, चावल, शहद इत्यादि निर्यात करने के लिए बनाए। इनमें फतेहगढ़ साहिब, संगरूर, रोपड़ तथा लुधियाना तथा पटियाला के जिले शामिल हैं।
  • कृषि फूड पार्क-छोटे तथा मध्यम यूनिटों का विकास करने के लिए खोज, कोल्ड स्टोर बनाने पर भंडारीकरण तथा पैकिंग सुविधाएँ बढ़ाने के लिए पंजाब एग्रो ऑक्सपोर्ट जोन बनाया गया जो कि पटियाला, फतेहगढ़ साहिब, संगरूर, रोपड़ तथा लुधियाना में बने।
  • मैगा खाद्य पार्क-फूड प्रसंस्करण मंत्रालय ने 8 मैगा खादृा पूरे भारत में लाने का फैसला लिया जिसके बीच सिर्फ पंजाब में तीन मैगा खाद्य पार्क लगाए जाने थे। अब इ२, पंजाब में फाजिल्का में मैगा खाद्य पार्क लगाने का फैसला लिया गया। पंजाब में लगने वाले यह मैगा खाद्य पार्क पंजाब की कृषि के लिए बहुत उपयोगी है। यह केन्द्र मुख्य तौर पर समराला, नाभा, होशियारपुर, लालगढ़ तथा गुरदासपुर में बनाए गए।

खाद्य मंत्रालय ने कपूरथला जिले के गाँव रेहाणा जट्टां में मक्की पर आधारित मैगा खाद्य पार्क का नींव पत्थर रखा। यह पार्क सुरजीत मैगा खाद्य पार्क एंड एनफरा कंपनी लगाने वाली है। इसमें सालाना 250 करोड़ रुपये की लागत के साथ 30 यूनिट लगाये जाने का सुझाव है जिसका सालाना कारोबार 500 करोड़ रुपये होने का अंदाजा है तथा इसके साथ 2500 किसानों को फायदा होगा तथा 5000 लोगों को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तौर पर
रोज़गार मिलेगा।

प्रश्न 4. भारत में दवाइयां बनाने के उद्योग के बारे में विस्तार से नोट लिखो।
उत्तर-भारत संसार की 10 प्रतिशत तक की दवाइयां बनाकर, संख्या तथा उद्योग के आधार पर तीसरा स्थान हासिल कर रहा है परंतु दवाइयों की कीमत तथा खर्च के अंदाजे के अनुसार भारत का तीसरा स्थान नहीं यह 13वां स्थान बनता है। भारत के रसायन तथा खाद्य मंत्रालय अंतर्गत आते फर्मासुटिकल विभाग के अनुसार साल 2008 से सितंबर 2009 तक देश ने 21 अरब 4 करोड़ अमेरिकी डॉलर का कुल कारोबार किया। भारत दुनिया में कई देशों को दवाइयां निर्यात करता है तथा यूरोप, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया तथा जापान के साथ कई देश भारतीय दवाइयों के खरीददार हैं। भारत जैनरिक दवाइयों का सबसे बड़ा उत्पादक देश है, जो कि संसार की 20 फीसदी जैनरिक दवाइयों को बना रहा है। दवाइयों की सामूहिक सालाना विकास दर के हिसाब से 2005-2016 तक दवाइयों के उत्पादन में 17.46% की दर से वृद्धि हुई तथा 2005 में उत्पादन मूल्य 6 अरब अमेरिकी डॉलर से बढ़ कर 2016 के साल दौरान 36 अरब 70 करोड़ अमेरिका डॉलर तक पहुंच गया। एक अंदाजे के अनुसार 2020 तक यह कारोबार 15.92 फीसदी की दर से बढ़ कर 55 अरब अमेरिकी डॉलर तक पहुंच जाने की उम्मीद है। भारतीय दवाइयों के अच्छे उत्पादन के कारण इस क्षेत्र में भारत का झंडा बुलंद है। भारत में पांच दवाइयां बनाने के बड़े केन्द्र हैं, सरकारी क्षेत्र में पांच क्षेत्र हैं, जैसे कि-

im 1

  • इंडियन ड्रग एंड फार्मासुटिकल लिमिटेड (IDPL)—यह भारत सरकार के अंतर्गत सबसे बड़ी कंपनी है जो दवाइयां बनाती है। इसके बड़े कारखाने हैदराबाद, ऋषिकेश, गुड़गाँव तथा छोटे कारखाने चेन्नई तथा मुजफ्फरनगर में हैं। चेन्नई वाला कारखाना नंदमबक्म में स्थित है।
  • हिन्दुस्तान एंटीबायोटिक लिमिटेड, पिंपरी-पुणे (HAL)—यह दवाइयां बनाने का सरकारी क्षेत्र में एक बड़ा उद्योग है। यह 10 मार्च, 1954 को स्थापित किया गया तथा साल 1955-56 में इसने अपना काम शुरू किया। यह भारत का सबसे पुराना उद्योग है। इस कारखाने में एंटीबायोटिक तथा कृषि-वैध दवाइयां बनती हैं।
  • बंगाल कैमिकल एंड फार्मासुटिकल वर्क्स लिमिटेड-12 अप्रैल, 1901 में ब्रिटिश राज्य के दौरान यह कारखाना स्थापित हुआ था। सबसे पहला 1905 में यह कारखाना माणिकताल जो कि कोलकाता में है लगाया गया। इसके बिना पणीग्पट्टी, उत्तरी 24 परगना ज़िला, पश्चिमी बंगाल में 1920 के समय 1938 में मुंबई में तथा कानपुर में 1949 में इस तरह तीन कारखाने लगाये हैं।

प्रश्न 5. भारतीय उद्योगों के कोई तीन आधारों पर वर्गीकरण करो तथा विशेषताओं से पहचान करवाओ।
उत्तर-भारतीय उद्योगों के आधार, उनका वर्गीकरण तथा विशेषताएं निम्नलिखित अनुसार हैं-
मज़दूरों की संख्या के आधार पर वर्गीकरण-इस प्रकार के उद्योगों को तीन वर्गों में विभाजित किया जाता है।

  • बड़े पैमाने के उद्योग-इस प्रकार के उद्योगों में मजदूरों की संख्या अधिक होती है तथा अधिकतर काम मज़दूर अपने हाथों द्वारा करते हैं। जैसे कि सूती वस्त्र तथा पटसन उद्योग।
  • मध्यम पैमाने के उद्योग-इस प्रकार के उद्योगों में मजदूरों की संख्या बहुत अधिक भी नहीं होती है तथा अधिक कम भी नहीं होती ; जैसे कि साइकल उद्योग, टेलीविज़न उद्योग इत्यादि।
  • छोटे पैमाने के उद्योग-इस प्रकार के उद्योगों में मजदूरों की संख्या काफी कम होती है तथा यह उद्योग निजी स्तर पर ही स्थापित होते हैं।

II. कच्चे तथा तैयार माल पर आधार तथा वर्गीकरण-कच्चे माल की उपलब्धि के आधार पर भी उद्योगों को दो वर्गों में विभाजित किया जाता है-

  • भारे उद्योग-जिन उद्योगों में भारी कच्चा माल अधिक उपयोग किया जाता हैं उन्हें भारे उद्योग कहते हैं ; जैसे कि लौहा तथा इस्पात उद्योग।
  • हल्के उद्योग-जिन उद्योगों में हल्का कच्चा माल उपयोग किया जाता है, उन्हें हल्के उद्योग कहते हैं; जैसे कि पंखे, सिलाई मशीनें इत्यादि।

III. स्वामित्व के आधार तथा वर्गीकरण-स्वामित्व के आधार पर उद्योगों को आगे चार वर्गों में विभाजित किया जाता है-

  • निजी उद्योग-जो उद्योग किसी खास व्यक्ति या कंपनी के द्वारा चलाया जाए, निजी उद्योग कहलाता हैं; जैसे-रिलायंस, बजाज; अडानी, टाटा आयरन एंड स्टील इत्यादि।
  • सरकारी क्षेत्र के उद्योग-जो उद्योग सरकार के अधीन चलते हैं सरकारी क्षेत्र के उद्योग कहलाते हैं। जैसे कि हैवी इलैक्ट्रीकल उद्योग, भिलाई स्टील प्लांट, दुर्गापुर स्टील प्लांट इत्यादि।
  • सामूहिक क्षेत्र के उद्योग-यह उद्योग जो सरकार तथा निजी, गैर सरकारी दोनों द्वारा चलाये जाए सामूहिक उद्योग कहलाते हैं। जैसे-ऑल इंडिया तथा ग्रीन गैस लिमिटेड इत्यादि।
  • सहकारी क्षेत्र-जो उद्योग लोगों द्वारा मिलजुल कर चलाये जाए, सहकारी क्षेत्र के उद्योग कहलाते हैं। जैसे कि अमूल, मदर डेयरी इत्यादि।

आर्थिक भूगोल निर्माण उद्योग (सहायक सेवा तथा ज्ञान/विशेष क्षेत्रों की क्रियाएं) Important Questions and Answers

I. वस्तुनिष्ठ प्रश्नोत्तर (Objective Type Question Answers)-

A. बहु-विकल्पी प्रश्न :

1. निम्नलिखित में से कौन-सा औद्योगिक स्थापना का कारक नहीं है ?
(A) बाजार
(B) पूंजी
(C) ऊर्जा
(D) आबादी का घनत्व।
उत्तर-(D) आबादी का घनत्व।

2. पहली सूती वस्त्र मिल मुंबई में क्यों लगाई गई?
(A) मुंबई एक बंदरगाह है
(B) यह कपास पैदा करने वाले क्षेत्रों के नज़दीक है
(C) मुंबई में पूंजी है
(D) उपरोक्त सभी।
उत्तर-(D) उपरोक्त सभी।

3. मुंबई में पहली सूती वस्त्र मिल कब लगाई गई ?
(A) 1834
(B) 1844
(C) 1864
(D) 1854.
उत्तर-(D) 1854.

4. निम्नलिखित में से कौन-से उद्योग फुटकल उद्योग कहलाते हैं ?
(A) ग्रामीण उद्योग
(B) जंगलों पर आधारित उद्योग
(C) सहकारी उद्योग
(D) बड़े उद्योग।
उत्तर-(A) ग्रामीण उद्योग

5. उद्योगों के स्थानीयकरण पर प्रभाव डालने वाले निम्नलिखित कौन-सा भौगोलिक कारक नहीं है ?
(A) कच्चा माल
(B) मज़दूर
(C) बाज़ार
(D) बैंक की सुविधा।
उत्तर-(D) बैंक की सुविधा।

6. जमशेद जी टाटा ने साकची नामक स्थान पर टाटा आयरन एंड स्टील कंपनी का प्लांट कब लगाया?
(A) 1907
(B) 1905
(C) 1906
(D) 1909.
उत्तर-(A) 1907

7. ढाके में किस प्रकार का वस्त्र मशहूर है ?
(A) मलमल
(B) छींट
(C) सूती
(D) सिल्क।
उत्तर-(A) मलमल

8. निम्नलिखित में कौन-सा सूती वस्त्र उद्योग का क्षेत्र पश्चिम की तरफ स्थित है ?
(A) कर्नाटक
(B) महाराष्ट्र
(C) हरियाणा
(D) कोलकाता।
उत्तर-(A) कर्नाटक

9. भारत में सबसे अधिक गन्ने का उत्पादन किस राज्य में होता है ?
(A) उत्तर प्रदेश
(B) हरियाणा
(C) पंजाब
(D) दिल्ली।
उत्तर-(A) उत्तर प्रदेश

10. संसार में सबसे अधिक गन्ने का उत्पादक देश कौन-सा है ?
(A) ब्राजील
(B) ऑस्ट्रेलिया
(C) अफ्रीका
(D) रूस।
उत्तर-(A) ब्राजील

11. कोंची शोधनशाला किस राज्य में स्थित है ?
(A) केरल
(B) तमिलनाडु
(C) पश्चिमी बंगाल
(D) उत्तर प्रदेश।
उत्तर-(A) केरल

12. वेतन भोगी दफ़्तरी श्रमिक किस कॉलर के मज़दूर हैं ?
(A) सफेद कॉलर
(B) नीला कॉलर
(C) गुलाबी कॉलर
(D) सुनहरी कॉलर।
उत्तर-(A) सफेद कॉलर

13. किस नगर को भारत की इलैक्ट्रॉनिक राजधानी कहते हैं ?
(A) मुंबई
(B) कोलकाता
(C) बंगलौर
(D) पूना।
उत्तर-(C) बंगलौर

14. निर्माण किस वर्ग की क्रिया है ?
(A) प्राथमिक
(B) द्वितीयक
(C) तृतीयक
(D) चतुर्थक।
उत्तर-(B) द्वितीयक

15. निम्नलिखित में से किस उद्योग को खनिजों पर आधारित उद्योग कहते हैं ?
(A) वस्त्र उद्योग
(B) तांबा उद्योग
(C) डेयरी उद्योग
(D) कृषि उद्योग।
उत्तर-(B) तांबा उद्योग

B. ‘खाली स्थान भरें :

1. उद्योगों को चलाने के लिए ………. की ज़रूरत होती है।
2. भारत में आधुनिक लौह तथा इस्पात उद्योग ………. में शुरू हुआ।
3. पश्चिमी बंगाल के …………… शहर में स्टील अथारिटी ऑफ इंडिया के सामूहिक यत्नों का बड़ा स्टील प्लांट है।
4. अहमदाबाद को ………. भी कहा जाता है।
5. भारत में ………….. करोड़ टन गन्ना उगाने वाले किसान हैं।
उत्तर-

  1. ऊर्जा,
  2. 1874,
  3. दुर्गापुर,
  4. मानचेस्टर आफ इंडिया,
  5. 2.5.

C. निम्नलिखित कथन सही (√) हैं या गलत (×):

1. बंगाल कैमिकल एंड फार्मासुटिकल वर्क्स लिमिटेड की स्थापना ब्रिटिश राज्य के समय 1901 में हुई।
2. कैदी लोग संतरी कॉलर वाले मज़दूर हैं। 3. भिलाई स्टील प्लांट पश्चिमी बंगाल के दुर्गापुर शहर में स्थित है।
4. सूती वस्त्र उद्योग गुजरात में उन्नत है क्योंकि जहाँ सस्ते मज़दूरों की उपलब्धि है।
5. दवाइयां बनाने के उद्योग में, संसार की दवाइयां बनाकर, संख्या के पक्ष में भारत का पहला स्थान है।
उत्तर-

  1. सही
  2. सही
  3. गलत
  4. सही
  5. गलत।

II. एक शब्द/एक पंक्ति वाले प्रश्नोत्तर (One Word/Line Question Answers) :

प्रश्न 1. निर्माण उद्योग क्या है ?
उत्तर-कच्चे माल से तैयार वस्तुएं बनाना।

प्रश्न 2. टूशरी व्यवसाय क्या हैं ?
उत्तर-जो सेवाएं प्रदान करते हैं।

प्रश्न 3. द्वितीयक उद्योग क्या हैं ?
उत्तर-निर्माण उद्योग इस उद्योग के अंतर्गत आते हैं।

प्रश्न 4. कोयले पर आधारित दो औद्योगिक प्रदेश बताओ।
उत्तर-रूहर घाटी, दामोदर घाटी।

प्रश्न 5. भारत में पहला लौह-इस्पात कारखाना कहां और कब लगाया गया ?
उत्तर-1907 में जमशेदपुर झारखण्ड में।

प्रश्न 6. संयुक्त राज्य में लौह-इस्पात उद्योग के दो केन्द्र बताओ।
उत्तर-पिट्सबर्ग तथा यंगस्टाऊन।

प्रश्न 7. भारत में इस्पात उद्योग में सरकारी क्षेत्र में तीन केन्द्र बताओ।
उत्तर-भिलाई, राऊरकेला, दुर्गापुर।

प्रश्न 8. भारत में सूती वस्त्र उद्योग के लिए किस नगर को मानचेस्टर कहा जाता है ?
उत्तर-अहमदाबाद।

प्रश्न 9. संसार में चीनी का कटोरा किस देश को कहते हैं ?
उत्तर-क्यूबा।

प्रश्न 10. पृथ्वी का तापमान बढ़ने के दो कारण बताओ।
उत्तर-पथराट बालन का अधिक प्रयोग तथा औद्योगिक विकास।

प्रश्न 11. सूती वस्त्र मिलों को कौन-से तीन वर्गों में वर्गीकृत किया जाता है ?
उत्तर-कताई मिलें, बुनाई मिलें तथा धागा तथा वस्त्र मिलें।

प्रश्न 12. भारतीय सूती वस्त्र उद्योग कौन-से चार प्रमुख इलाकों में विभाजित किया जाता है ?
उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र, दक्षिणी क्षेत्र, उत्तरी क्षेत्र तथा पूर्वी क्षेत्र।

प्रश्न 13. भारतीय सूती वस्त्र उद्योग को आने वाली कोई एक कठिनाई बताओ।
उत्तर-भारत में लम्बे रेशे वाली कपास कम उगाई जाती है।

प्रश्न 14. पैट्रोकैमिकल उद्योग के प्रमुख स्तर कौन से हैं ?
उत्तर-धरती के नीचे से तेल निकालना तथा तेल का शोधन करना पैट्रोकैमिकल उद्योग का ही मुख्य स्तर है।

प्रश्न 15. बरौनी शोधनशाला भारत के किस राज्य में है ?
उत्तर-बिहार में।

प्रश्न 16. सूती वस्त्र उद्योग के स्थानीयकरण पर प्रभाव डालने वाले कारक बताओ।
उत्तर-कच्चा माल, ऊर्जा, रासायनिक पदार्थ, मशीनरी, मज़दूर, यातायात के साधन तथा बाजार।

प्रश्न 17. भारत में किस राज्य में सबसे अधिक सूती मिलें हैं ?
उत्तर-तमिलनाडु 439 मिलें।

प्रश्न 18. पहली सूती वस्त्र मिल भारत में कब और कहां लगी ?
उत्तर-1854 में मुंबई में।

प्रश्न 19. कच्चेमाल के स्रोत के आधार पर उद्योगों को कौन-से मुख्य वर्गों में विभाजित किया जाता है ?
उत्तर-कृषि पर आधारित उद्योग, खनिजों पर आधारित, पशुओं पर आधारित तथा जंगलों पर आधारित उद्योग।

अति लघु उत्तरीय प्रश्न (Very Short Answer Type Questions)

प्रश्न 1. आप ऐसा क्या सोचते हो कि लौह-इस्पात उद्योग भारत के औद्योगिक विकास की मूल इकाई है?
उत्तर-आज के औद्योगिक विकास के लिए लौह तथा इस्पात उद्योग एक मूल इकाई है। यह बड़े उद्योगों के लिए कच्चे माल को संभालता है। इस द्वारा नयी मशीनों का निर्माण किया जाता है। इसलिए यह एक मूल तथा बुनियादी उद्योग है।

प्रश्न 2. कच्चे माल के नज़दीक कौन-से उद्योग लगाए जाते हैं ? उदाहरण दो।
उत्तर-कच्चा माल निर्माण उद्योग का आधार है। जिन उद्योगों का निर्माण के बाद भार कम हो जाता है। वह उद्योग कच्चे माल के नज़दीक लगाये जाते हैं। जैसे गन्ने से चीनी बनाना। जिन उद्योगों में भारी कच्चे माल का प्रयोग किया जाता है। वह उद्योग कच्चे माल के नज़दीक लगाए जाते हैं; जैसे-लौह-इस्पात उद्योग।

प्रश्न 3. उद्योगों की स्थापना के लिए किस प्रकार का श्रम ज़रूरी है? कुशल श्रमिक के आधार पर कहाँकहाँ उद्योग स्थित हैं ?
उत्तर-उद्योगों की स्थापना के लिए सस्ते, कुशल तथा अधिक मात्रा में मजदूरों की आवश्यकता होती है। भारत में जगाधरी तथा मुरादाबाद में बर्तन उद्योग, फिरोजाबाद में कांच उद्योग तथा जापान में खिलौनों का उद्योग कुशल श्रमिक के कारण ही विकसित हुआ है।

प्रश्न 4. यातायात के साधनों का उद्योग की स्थिति पर क्या प्रभाव पड़ा है ?
उत्तर-सस्ते यातायात के साधन उद्योगों की स्थिति में सहायक होते हैं। कच्चा माल कारखानों तक ले जाने तथा बनाये माल को बाजार तक लाने में कम लागत लगती है। महान् झीलें तथा तट्टी तथा हुगली नदी घाटी में जापान के पत्तनों तथा राईन नदी घाटी में उद्योगों का संकेंद्रण सस्ते जल मार्गों के कारण ही है।

प्रश्न 5. विकासशील देशों में निर्माण उद्योगों की कमी क्यों है ?
उत्तर-निर्माण उद्योगों के लिए अधिक पूंजी आवश्यक होती है। इन उद्योगों के लिए मांग क्षेत्र तथा बाजार का होना भी आवश्यक है, पर विकासशील देशों में पूंजी की कमी है तथा लोगों की खरीद शक्ति कम है। इसलिए मांग भी कम है। इसलिए विकासशील देशों में भारी उद्योग की कमी है।

प्रश्न 6. भारत के कोई पाँच लौह-इस्पात केंद्र वाले नगरों के नाम लिखो।
उत्तर-लौह-इस्पात नगर— भारत में निम्नलिखित नगरों में आधुनिक इस्पात कारखाने स्थित हैं। इन्हें लौहा इस्पात नगर भी कहा जाता है।

  • जमशेदपुर (झारखंड)
  • बोकारो (झारखंड)
  • भिलाई (छत्तीसगढ़)
  • राऊरकेला (उड़ीसा)
  • भद्रावती (कर्नाटक)

प्रश्न 7. भारे उद्योग किसे कहते हैं ?
उत्तर-खनिज पदार्थों का प्रयोग करने वाले आधारभूत उद्योगों को भारे उद्योग कहते हैं। इन उद्योगों में भारी पदार्थों का आधुनिक मिलों में निर्माण किया गया है। यह उद्योग किसी देश के औद्योगिक विकास की आधारशिला हैं। लौहइस्पात उद्योग, मशीनरी, औज़ार तथा इंजीनियरिंग सामान बनाने के उद्योग भारी उद्योग के वर्ग में गिने जाते हैं।

प्रश्न 8. निर्माण उद्योग से आपका क्या भाव है ?
उत्तर-जब कच्चे माल की मशीनों की सहायता के रूप बदल कर अधिक उपयोगी तैयार माल प्राप्त करने की क्रिया को निर्माण उद्योग कहते हैं। यह मनुष्य का एक सहायक या गौण व्यवसाय है इसलिए निर्माण उद्योग में जिस वस्तु का रूप बदल जाता है, वह वस्तु अधिक उपयोगी हो जाती है तथा निर्माण द्वारा उस पदार्थ की मूल्य-वृद्धि हो जाती है जैसे लकड़ी से लुगदी तथा कागज़ बनाया जाता है।

प्रश्न 9. लौह तथा इस्पात उद्योग के महत्त्वपूर्ण प्लांट (उत्पादन केंद्र) कौन से हैं ?
उत्तर-लौह तथा इस्पात उद्योग के महत्त्वपूर्ण प्लांट निम्नलिखित हैं –

  • टाटा आयरन लिमिटेड
  • इंडियन आयरन एंड स्टील कंपनी
  • विश्वेश्वरैया आयरन एंड स्टील कंपनी
  • भिलाई स्टील प्लांट
  • दुर्गापुर स्टील प्लांट
  • राऊरकेला स्टील प्लांट
  • बोकारो स्टील प्लांट ।

प्रश्न 10. गन्ने की कृषि का महत्त्व बताओ।
उत्तर-सारे संसार में चीनी लोगों के भोजन का एक आवश्यक अंग है। गन्ना तथा चुकंदर चीनी के दो मुख्य साधन हैं। संसार की 65% चीनी गन्ने से तथा बाकी चुकंदर से तैयार की जाती है। गन्ना एक व्यापारिक तथा औद्योगिक फ़सल है। गन्ने से कई पदार्थ-कागज़, शीरा, खाद, मोम, चीनी इत्यादि भी तैयार किए जाते हैं। भारत को गन्ने का जन्म स्थान माना जाता है। यहाँ से गन्ने का विस्तार पश्चिमी देशों में हुआ है।

प्रश्न 11. चीनी उद्योग में आने वाली कोई दो कठिनाइयों के बारे में बताओ।
उत्तर-

  1. गन्ने की उत्पादन लागत से बिक्री मूल्य का कम होना चीनी उद्योग के लिए बड़ी कठिनाई है ।
  2. गन्ने के रस को निकालने के बाद यह जल्दी ही सूख जाता है तथा लम्बे समय के लिए इसको बचा कर रखना बड़ी समस्या है।

प्रश्न 12. पेट्रो रसायन उद्योग का महत्त्व क्या है ?
उत्तर- पेट्रो रसायन उद्योग की महत्ता इस प्रकार है –

  • यह उद्योग कपड़ा, कृषि, पैकिंग, निर्माण तथा दवाइयों के उद्योगों को मूल सहायता प्रदान करता है।
  • इन उद्योगों के विकास के साथ देश की आर्थिकता के स्तर में भी वृद्धि हुई है।

प्रश्न 13. हिन्दुस्तान एंटीबायोटिक लिमिटेड पर नोट लिखें।
उत्तर-हिन्दुस्तान एंटीबायोटिक लिमिटेड, पिंपरी-पुणे-दवाइयां बनाने का सरकारी क्षेत्र का एक बड़ा उद्योग है। यह 10 मार्च, 1954 को स्थापित हुआ तथा 1955-56 में इसने अपना काम शुरू किया। इस तरह यह भारत का पुराना उद्योग हैं। इस उद्योग में एंटीबायोटिक तथा ऐग्रो तथा वैट दवाइयां बनती हैं।

प्रश्न 14. ज्ञान आधारित उद्योग कौन-से हैं ?
उत्तर–ज्ञान पर आधारित उद्योग आर्थिकता की रीढ़ की हड्डी का काम करते हैं। 1970 से सबसे अधिक रोज़गार के साधनों में विकास ज्ञान पर आधारित क्षेत्रों में हुआ। इसमें दवाइयां सेहत से संबंधित, दूरसंचार, साफ्टवेयर, डाक्टरी उपकरण, हवाई जहाज, इत्यादि उद्योग शामिल हैं। इन उद्योगों का कच्चा माल प्रकृति से हमें नहीं मिलता, बल्कि मनुष्य यह खुद अपनी समझ के साथ बनाता है।

प्रश्न 15. औद्योगिक गलियारों से आपका क्या भाव है ?
उत्तर-यह एक भौगोलिक क्षेत्र है यहाँ उद्योगों के विकास के लिए हर संभव स्वरूप अपनाया जाता है तथा औद्योगिक विकास को काफी प्रोत्साहन मिलता है तथा प्रारभिक ज़रूरतें एक जगह पर ही प्राप्त हो जाती हैं। औद्योगिक गलियारा कहलाता है। जैसे कि बंदरगाह, राष्ट्रीय राजमार्ग इत्यादि।

प्रश्न 16. निरोल मालभाड़ा गलियारा निगम की स्थापना कब तथा क्यों हुई ?
उत्तर-निरोल मालभाड़ा गलियारा निगम की स्थापना कंपनी एक्ट 1956 के तहत 30 अक्तूबर, 2006 में हुई। उद्योगों के विकास के कारण कच्चा माल तथा तैयार माल एक स्थान से दूसरी जगह पर पहुंचाने के लिए भारतीय रेलवे मंत्रालय ने मालगाड़ियों को चलाने के लिए अलग रेल लाइनें बनाने की योजना बनाई थी। ताकि आसानी से इस माल की सप्लाई की जा सके। इसलिए इस गलियारा निगम की स्थापना की गयी।

प्रश्न 17. पूंजी प्रधान उद्योग कौन-से हैं ?
उत्तर-जिन उद्योगों के लिए कच्चा माल खरीदने तथा तैयार माल बनाने के लिए काफी मात्रा में पैसे के निवेश की ज़रूरत होती है, पूंजी पर आधारित उद्योग कहलाते हैं; जैसे लौहा तथा इस्पात उद्योग, सीमेंट उद्योग तथा एल्यूमीनियम उद्योग इत्यादि।

प्रश्न 18. किसी उद्योग के स्थानीयकरण पर प्रभाव डालने वाले कोई दो गैर भौगोलिक कारकों की जानकारी दो।
उत्तर-

  1. पूंजी-उद्योगों को स्थापित करने, कच्चा माल खरीदने तथा माल को तैयार करने के लिए काफी पूंजी की आवश्यकता होती है। मुंबई, कोलकाता जैसे नगरों में उद्योगों के विकास होने के कारण जहाँ पूंजीपतियों की अधिकता का होना आवश्यक है।
  2. बैंक की सुविधा-जैसे कि एक उद्योग को चलाने के लिए काफी पूंजी का निवेश होता है। इसलिए उद्योग लगाने के लिए बैंक की सुविधा का होना अति आवश्यक है।

प्रश्न 19. लौह-इस्पात का महत्त्व बताओ।
उत्तर-लौह-इस्पात उद्योग आधुनिक उद्योग का नींव पत्थर है। लोहा कठोर, प्रबल तथा सस्ता होने के कारण दूसरी धातुओं की तुलना में अधिक महत्त्वपूर्ण है। इसके साथ कई तरह की मशीनों, यातायात के साधन, कृषि उपकरण, ऊंचे ऊंचे सैनिक हथियार, टैंक, राकेट तथा दैनिक प्रयोग की कई वस्तुएं तैयार की जाती हैं। लौह-इस्पात का उत्पादन ही किसी देश के आर्थिक विकास का मापदंड है। आधुनिक सभ्यता लौह-इस्पात पर निर्भर करती है। इसलिए वर्तमान युग को इस्पात युग भी कहते हैं।

प्रश्न 20. कौन-सा कच्चा माल पैट्रो रसायन उद्योग के लिए आवश्यक है ? इस उद्योग की स्थापना के लिए ज़रूरी कारक कौन-से हैं ?
उत्तर-कच्चे माल के रूप में पैट्रो रसायन उद्योग के लिए काफी उपयोगी है। पैट्रोरसायन उद्योग खासकर तेल शोधनशालाओं के पास भी लगाये जाते हैं। उद्योग की स्थापना के लिए आवश्यक कारक है-

  • धरती के नीचे से तेल निकालना।
  • यह कच्चे माल के नजदीकी स्थान पर लगेंगे।
  • मंडी तथा बाजार पास होना।
  • या किसी बंदरगाह के पास।

लघु उत्तरीय प्रश्न (Short Answer Type Questions)

प्रश्न 1. उद्योगों का वर्गीकरण किस विभिन्न प्रकार द्वारा किया जा सकता है?
उत्तर-उद्योगों का वर्गीकरण निम्नलिखित आधार पर किया जाता है –

1. उद्योगों के आकार पर आधारित वर्गीकरण-

  • बड़े पैमाने के उद्योग
  • मध्यम पैमाने के उद्योग
  • छोटे पैमाने के उद्योग।

2. कच्चे माल के आधार पर वर्गीकरण

  • कृषि पर आधारित उद्योग
  • खनिजों पर आधारित उद्योग
  • भारे उद्योग
  • हल्के उद्योग।

3. विकास पर आधारित उद्योग-

  • ग्रामीण उद्योग
  • कुटीर उद्योग
  • सहायक उद्योग
  • उपभोक्ता वस्तुओं के उद्योग
  • पूंजी प्रधान उद्योग
  • मजदूर प्रधान उद्योग।

4. स्वामित्व पर आधारित वर्गीकरण-

  • सार्वजनिक उद्योग
  • निजी उद्योग
  • सहकारी क्षेत्र के उद्योग

5. कच्चे माल पर आधारित वर्गीकरण

  • पशुओं पर आधारित उद्योग।
  • जंगलों पर आधारित उद्योग।

प्रश्न 2. स्वामित्व के आधार पर उद्योगों का वर्गीकरण करो ।
उत्तर-स्वामित्व के आधार पर उद्योगों का वर्गीकरण निम्नलिखित है-

  • सरकारी क्षेत्र के उद्योग-यह राज्य द्वारा चलाये जाते हैं। यह खासकर भारे उद्योग होते हैं तथा पूरी तरह सरकारी हाथों में होते हैं; जैसे कि भिलाई स्टील प्लांट।
  • निजी क्षेत्र के उद्योग-यह उद्योग किसी निजी हाथों या गैर सरकारी कंपनियों के द्वारा चलाये जाते हैं; जैसे TISCO.
  • सामूहिक क्षेत्र के उद्योग-जो उद्योग सरकार तथा प्राइवेट सामूहिक क्षेत्र में आते हैं, वह सामूहिक क्षेत्र के उद्योग हैं; जैसे-ऑल इंडिया, ग्रीन गैस लिमिटेड।
  • सहकारी क्षेत्र के उद्योग-जो उद्योग सहकारी क्षेत्र में या लोगों के द्वारा मिल कर चलाया जाए; जैसे कि अमूल, मदर डेयरी इत्यादि।

प्रश्न 3. भारी उद्योग तथा कृषि उद्योगों में अन्तर स्पष्ट करो।
उत्तर-
कृषि उद्योग (Agro Industries):

  1. यह प्रायः प्राथमिक उद्योग होते हैं।
  2. यह उद्योग कृषि पदार्थों पर आधारित होते हैं।
  3. इसको कृषि पदार्थों का रूप बदल कर अधिक उपयोगी पदार्थ जैसे कपास से कपड़ा बनाया जाता है।
  4. यह श्रम-प्रधान उद्योग होते हैं।
  5. इसमें प्राय: छोटे तथा मध्यम वर्ग के उद्योग लगाए जाते हैं।
  6. यह विकासशील देशों में अधिकतर पाए जाते हैं।

भारी उद्योग (Heavy Industries):

  1. यह प्रायः गौण उद्योग होते हैं।
  2. इन उद्योगों में शक्तिचालित मशीनों का अधिक प्रयोग होता है।
  3. इन उद्योगों में बड़े पैमाने पर विषम यन्त्र तथा मशीनें बनाई जाती हैं।
  4. यह पूंजी प्रधान उद्योग होते हैं।
  5. इनमें प्राय: बड़े पैमाने के उद्योग लगाए जाते हैं।
  6. ये उद्योग विकसित देशों में स्थापित हैं।

प्रश्न 4. इस्पात निर्माण ढंग पर नोट लिखो।
उत्तर-लौहा निर्माण का काम आज से 3000 साल पहले, भारत, मिस्र तथा रोम इत्यादि देशों में किया जाता था। इस युग को लौह युग कहा जाता है। लौहे को भट्टी में गला कर साफ करके इस्पात बनाया जाता है। इस कार्य के लिए कई ढंग प्रयोग में लाये जाते हैं। खुली भट्टी, कोक भट्टी तथा बिजली की पावर भट्टी का अधिक प्रयोग किया जाता है

  • लौहे को पिघला कर शुद्ध करके कच्चा लौहा तैयार किया जाता है।
  • कच्चे लौहे में मैंगनीज को मिलाकर इस्पात बनाया जाता हैं जिसके साथ गार्डर, रेल, पटरियां, चादरे तथा पाइप इत्यादि बनाये जाते हैं।
  • क्रोमियम तथा निक्कल मिलाने के साथ जंग न लगने वाला स्टेनलेस स्टील बनाया जाता है।
  • कोबाल्ट मिलाने के साथ तेज गति के साथ धातु काटने वाले उपकरण बनाये जाते हैं।

प्रश्न 5. लौह-इस्पात उद्योग के स्थानीयकरण के कारक बताओ।
उत्तर-लौह-इस्पात उद्योग के स्थानीयकरण के कारक-लौह-इस्पात उद्योग का स्थानीयकरण निम्नलिखित कारणों पर निर्भर करता है।

  • कच्चा माल (Raw material)-यह उद्योग लोहे तथा कोयले की खानों के नजदीक लगाया जाता हैं इसके अलावा मैंगनीज, चूने के पत्थर, पानी तथा रद्दी, लोहा इत्यादि कच्चे माल भी नजदीक हो।
  • कोक कोयला (Coking Coal)-लौह-इस्पात उद्योग की भट्टियों में लौहा साफ करने के लिए कोक प्राप्त हो। कई बार लकड़ी का कोयला भी प्रयोग किया जाता है।
  • सस्ती भूमि (Cheap Land)—इस उद्योग के साथ कोक भट्टिया, गोदामों, इमारतों इत्यादि के बनाने के लिए सस्ती तथा काफी धरती की आवश्यकता है, ताकि कारखानों का विस्तार भी किया जा सके।
  • मंडी से नजदीकी (Nearness to the Market)-इस उद्योग से बनी मशीनों तथा उपकरण भारे होते हैं। इसलिए यह उद्योग मांग क्षेत्रों के नजदीक लगाये जाते हैं।
  • पूंजी (Capital) इस उद्योग को आधुनिक स्तर पर लगाने में काफी पूंजी की जरूरत होती है। इसलिए उन्नत देशों की सहायता के साथ विकासशील देशों में इस्पात कारखाने लगाये जाते हैं। भारत में रूस की सहायता के साथ बोकारो तथा भिलाई के इस्पात कारखाने लगाए गये हैं।

प्रश्न 6. भारत में लोहा तथा इस्पात उद्योग को पेश आने वाली मुश्किलों तथा उनके समाधान के बारे में बताएं।
उत्तर भारत में लोहा तथा इस्पात उद्योग को पेश आने वाली मुश्किलें निम्नलिखित हैं-

  • सस्ती आयात-चीन, कोरिया, तथा रूस इत्यादि से आ रहे सस्ते आयात के कारण देश के लोहे के उत्पादन पर गलत प्रभाव पड़ता है।
  • कच्चे माल की समस्या-विश्व मंडी में इस्पात की कीमत कम होने के कारण भारत में कच्चे माल की मांग की प्राप्ति के बाद इस्पात के उत्पादन के मूल्य में काफी वृद्धि आ जाती है।
  • लचकदार सरकारी नीतियां-सरकारें साधारणतया कच्चे लोहे की खानों की आबंटन में देरी तथा नीतियां बदलती रहती हैं जिस कारण उत्पादन पर बुरा असर पड़ता है।
  • निम्न स्तर उत्पादन-भारतीय उद्योग लोहे के मूल्यों का मुकाबला करने के लिए 50% स्क्रैप लोहे का उपयोग कर जो घटिया प्रकार का होता है उद्योग चलाते हैं।
  • ऊर्जा की कमी-भारत में बढ़िया किस्म का कोयला तथा उसकी निर्यात होने के कारण तथा भारतीय कोयला उत्पादक, कोल इंडिया लिमिटेड की तरफ घटिया किस्म का कोयला ही उपलब्ध करवाया जाए तथा उसकी भी ज़रूरत के अनुसार पूर्ति न करके इस्पात उत्पादक केंद्रों की ऊर्जा की आवश्यकता कभी भी पूरी नहीं होती।
  • पूंजी-पूंजी की कमी भी लोहा तथा इस्पात उद्योग के लिए समस्या का एक कारण है।

समाधान-कच्चे माल की समस्या का समाधान करना चाहिए : सरकार को बार-बार नीतियों में परिवर्तन नहीं करनी चाहिए तथा साफ-स्पष्ट नीतियां बनानी चाहिए। स्क्रैप लोहे के उपयोग पर पाबंदी लगानी चाहिए तथा बैंक की सुविधा प्रदान करनी चाहिए और उचित ऊर्जा की सुविधाएं उपलब्ध करवानी चाहिए।

प्रश्न 7. चीनी उद्योग के स्थानीयकरण के तत्व बताओ।
उत्तर-चीनी उद्योग के स्थानीयकरण के तत्व-

  • कच्चा माल-चीनी मिलें गन्ना पैदा करने वाले क्षेत्रों में लगाई जाती हैं। इसलिए उष्ण कटिबन्ध के देशों में चीनी बनाने के बहुत कारखाने मिलते हैं।
  • सस्ते यातायात-गन्ने की यातायात के लिए सस्ते साधन आवश्यक होते हैं।
  • सस्ते मज़दूर-गन्ने की कटाई इत्यादि तथा मिलों में काम करने के लिए सस्ते तथा अधिक मजदूरों की जरूरत पड़ती है।
  • खपत का ज्यादा होना-चीनी उद्योगों से बचे हुए पदार्थों जैसे कि शीर, एल्कोहल, खाद्य, मोम, कागज इत्यादि उद्योग चलाये जाते हैं इसलिए यह उद्योग कागज तथा गन्ना मिलों के नज़दीक होने चाहिए।

प्रश्न 8. भारत के चीनी उद्योग के विकास का वर्णन करो।
उत्तर–चीनी उद्योग भारत का प्राचीन उद्योग है। सन् 1932 में सरकार ने विदेशों से आने वाली चीनी पर टैक्स लगा दिया। इस तरह बाहर से आने वाली चीनी महंगी हो गई है तथा देशों में चीनी उद्योगों का विकास हो गया। अब देश में 500 चीनी मिलें हैं तथा चीनी का उत्पादन लगभग 140 लाख टन है। भारत संसार में सबसे अधिक चीनी पैदा करता है। देश की अर्थव्यवस्था में चीनी उद्योग का महत्त्वपूर्ण स्थान है। प्रति साल 10 लाख टन चीनी निर्यात की जाती है।

प्रश्न 9. भारतीय चीनी उद्योग को आने वाली मुख्य कठिनाइयों कौन-सी हैं ?
उत्तर-भारतीय चीनी उद्योग को आने वाली मुख्य कठिनाइयां हैं-

  • गन्ने के उत्पादन के लिए लगी हुई पूंजी से बिक्री मूल्यों में भारी गिरावट एक मुख्य समस्या है!
  • गन्ने के रस को निकालने के बाद इसको अधिक समय के लिए बचाया नहीं जा सकता. यह सूख जाता है।
  • चीनी मिलों के मालिकों द्वारा भुगतान किसानों को समय पर नहीं दिया जाता।
  • कोहरा पड़ने के कारण फसल खराब हो जाती है।
  • यातायात पर लागत अधिक आती है।
  • चीनी मिलें छोटी होती हैं।
  • गन्ना प्राप्त न होने के कारण मिलें वर्ष में कुछ महीने बन्द रहती हैं।

प्रश्न 10. तीसरे क्षेत्र के क्षेत्र या सेवा क्षेत्र बारे में आप क्या समझते हो ?
उत्तर-आर्थिकता के पहले स्तर तथा दूसरे क्षेत्र से प्राप्त वस्तुओं के बाद तीसरा स्तर आता है जिसको सेवाक्षेत्र कहते हैं। इसमें उत्पादकता के स्तर में सुधार होता है क्योंकि इस क्षेत्र में ज्ञान का आदान प्रदान होता है। इस क्षेत्र में कई सेवाएं, जैसे-मनोरंजन, सरकारी सेवाएं, टेलीकॉम, दूरसंचार. अतिथि उद्योग, मीडिया, सेहत संभाल, सूचना तकनोलॉजी, कूड़ा संभाल, परचून, बिक्री सलाह. अचल जायदाद, शिक्षा, बीमा बैंकिंग सेवाएं, वकीलों के सुझाव इत्यादि को इसके अंतर्गत शामिल किया जाता है।

प्रश्न 11. पंजाब के खाद्य संसाधन उद्योग पर एक नोट लिखो।
उत्तर-पंजाब की कृषि को प्रोत्साहित करने के लिए कृषि पर आधारित उद्योगों में पूंजी लगाने के लिए पूंजीपतियों को प्रोत्साहित करने के लिए भारत सरकार ने खाद्य संसाधन उद्योग मंत्रालय देश भर में लगाये हैं तथा इस उद्योग को प्रोत्साहित किया है।

पंजाब में 2762 करोड़ रुपये खर्च करके 33 मैगा कृषि संसाधन यूनिट स्थापित किया गया है। इसके अलावा 20 मैगा प्रोजैक्ट जो कि 2680 करोड़ रुपये की लागत के हैं। स्वास्थ्य प्रगति, खाना बनाने, चीनी, बच्चों के भोजन इत्यादि के लिए शामिल किये गए हैं। कपूरथला के जिला रेहाना जट्टां में मक्की पर आधारित मैगा खाद्य पार्क का नींव पत्थर भी केंद्र सरकार के खाद्य संसाधन मंत्रालय द्वारा रखा गया।

निबंधात्मक प्रश्न (Essay Type Questions)

प्रश्न 1. निर्माण उद्योग क्या हैं ? इन उद्योगों का वर्गीकरण करो।
उत्तर-वस्तुओं का रूप बदल के माल तैयार करने की क्रिया को निर्माण उद्योग कहते हैं। यह मनुष्य का एक सहायक धंधा (रोजगार) है। प्राचीन काल से निर्माण उद्योग छोटे पैमाने पर शिल्प उद्योग के रूप में था। आधुनिक युग में यह उद्योग मिल के रूप में बड़े पैमाने पर स्थापित हो गए हैं।
उद्योगों का वर्गीकरण निम्नलिखितानुसार किया जा सकता है-

1. मजदूरों की संख्या के आधार पर वर्गीकरण (On the basis of Labour)—मज़दूरों की संख्या के आधार पर उद्योगों को दो भागों में वर्गीकृत किया जाता है।

  • बड़े पैमाने के उद्योग (Large Scale Industries) इन क्षेत्रों में जनसंख्या की वृद्धि के कारण मजदूर आसानी के साथ मिल जाते हैं तथा मजदूरों की संख्या अधिक होती है। बड़े पैमाने के उद्योग है; जैसे कि सूती कपड़ा तथा पटसन उद्योग।
  • छोटे पैमाने के उद्योग (Small Scale Industries)-जो छोटे उद्योग होते हैं खासकर निजी स्तर पर खोले जाते हैं तथा कम मजदूरों की आवश्यकता होती है, छोटे पैमाने के उद्योग हैं।

2. कच्चे माल पर आधारित उद्योग (On the basis of Product or Raw Material) कच्चे माल पर आधारित उद्योगों को आगे दो भागों में विभाजित किया जाता है-

  • भारे उद्योग (Heavy Industries) जिन उद्योगों में भारे कच्चे माल का प्रयोग किया जाता है, भारे उद्योग कहलाते हैं; जैसे-लौहा तथा इस्पात उद्योग।
  • हल्के उद्योग (Light Industries)-हल्के कच्चे माल का प्रयोग करने वाले उद्योगों को हल्के उद्योग कहते हैं; जैसे कि सिलाई मशीनों के उद्योग।

3. स्वामित्व के आधार पर वर्गीकरण (On the Basis of Ownership)-स्वामित्व के आधार पर उद्योगों को चार मुख्य भागों में वर्गीकृत किया जाता है।

  • निजी उद्योग (Private Industries)—जो उद्योग कुछेक व्यक्तियों द्वारा चलाये जाते हैं तथा सरकार के कंट्रोल के बाहर हों, पूरी तरह से निजी हाथों में हों, निजी उद्योग कहलाते हैं। जैसे-बजाज, रिलायंस इत्यादि।
    im 2
  • सरकारी उद्योग (Public Industries)–जो उद्योग सरकारी कंट्रोल के अंतर्गत आते हों तथा सरकार
    द्वारा चलाये जाएं, सरकारी उद्योग कहलाते हैं; जैसे कि भारी विद्युत्, दुर्गापुर स्टील प्लांट इत्यादि।
  • सामूहिक क्षेत्र के उद्योग (Joint Sector Industries)—जो उद्योग सरकार तथा प्राइवेट दोनों के अंतर्गत हों, सहायक क्षेत्र का उद्योग कहलाते हैं; जैसे कि आयल इंडिया इत्यादि।
  • सहकारी क्षेत्र (Cooperative Industries) जब कुछ व्यक्ति या लोग मिलकर किसी उद्योग को चलाएं सहकारी क्षेत्र का उद्योग कहलाता हैं; जैसे कि अमूल, मदर डेयरी इत्यादि।

4. कच्चे माल पर आधारित उद्योग (On the basis of Raw Material) कच्चे माल पर आधारित उद्योगों को निम्नलिखित चार भागों में विभाजित किया जाता है-

  • कृषि पर आधारित उद्योग (Agro Based Industries)—जो उद्योग अपने लिए कच्चा माल कृषि से हासिल करते हैं कृषि पर आधारित उद्योग कहलाते हैं; जैसे कि चीनी उद्योग, सूती वस्त्र उद्योग इत्यादि।
  • खनिजों पर आधारित उद्योग (Mineral Based Industries)-जो उद्योग अपने लिए कच्चा माल खानों में से खनिज के रूप में लेते हैं, खनिजों पर आधारित उद्योग कहलाते हैं; जैसे कि तांबा उद्योग, इस्पात उद्योग इत्यादि।
  • पशुओं पर आधारित उद्योग (Animals Based Industries)-जब किसी उद्योग को चलाने के लिए कच्चा माल पशुओं से लिया जाता है, पशुओं पर आधारित उद्योग कहलाता है। जैसे कि जूते, डेयरी उत्पाद इत्यादि।
  • जंगलों पर आधारित उद्योग (Forest Based Industries)-जब किसी उद्योग के लिए कच्चा माल जंगलों से लिया जाता है, जगलों पर आधारित उद्योग कहलाते हैं, जैसे कि कागज़, टोकरी, इत्यादि के उद्योग।

5. फुटकल उद्योग (Miscellaneous Industries)-इन उद्योगों को मुख्य रूप में सात भागों में विभाजित किया जाता हैं-

  • ग्रामीण उद्योग (Rural Industries)—जो उद्योग गाँव में लगाये जाते हैं तथा वह गाँव की ज़रूरतों को पूरा करते हैं। ग्रामीण उद्योग कहलाते हैं; जैसे-आटा चक्कियां इत्यादि।
  • कुटीर उद्योग (Cottage Industries)—जब कोई शिल्पकार अपने घर में ही कोई सामान बनाये, जैसे कि बांस, पीतल इत्यादि को तराश के, वह कुटीर उद्योग कहलाते हैं; जैसे चमड़े के सामान बनाने का उद्योग।
  • उपभोक्ता वस्तुओं के उद्योग (Consumer Products Industries)-जिनमें कच्चे माल को तैयार करके उपभोक्ता तक पहुँचाया जाता है उपभोक्ता वस्तुओं के उद्योग कहते हैं-जैसे वस्त्र, चीनी इत्यादि।
  • सहायक उद्योग (Co-operative Industries)-जब किसी स्थान पर छोटे पुर्जे इत्यादि बना कर बड़े उद्योगों को भेजे जाते हैं, तब छोटे पुर्जे बनाने वाले उद्योग सहायक उद्योग कहलाते हैं जैसे-ट्रक, बस, रेल इंजन इत्यादि।
  • बुनियादी उद्योग (Basic Industries)-जो उद्योग निर्माण की प्रक्रिया के लिए दूसरे उद्योगों पर निर्भर करते हैं, बुनियादी उद्योग कहलाते हैं, जैसे बिजली बनाना।
  • पूंजी प्रधान उद्योग (Money Based Industries)-जिन उद्योगों में पैसे का प्रयोग अधिक होता है, पूंजी प्रधान उद्योग कहलाते हैं; जैसे सीमेंट, एल्यूमीनियम उद्योग।
  • मजदूर प्रधान उद्योग (Labour Based Industries)-जिन उद्योगों में मजदूरों की अधिक से अधिक आवश्यकता होती है, वह मज़दूर प्रधान उद्योग कहलाते हैं; जैसे कि बीड़ी उद्योग इत्यादि।

प्रश्न 2. उद्योगों का स्थानीयकरण कौन से तत्वों पर निर्भर करता है ? उदाहरण सहित व्याख्या करो।
उत्तर-उद्योगों का स्थानीयकरण भौतिक तथा मानवीय दो तरह के मुख्य तत्वों पर निर्भर करता है। उदाहरणों सहित व्याख्या इस प्रकार है-

im3
im4

I. भौगोलिक कारक (Geographical Factors)-

1. कच्चे माल की निकटता (Nearness of Raw Material) उद्योग कच्चे माल के स्रोत के निकट ही स्थापित किए जाते हैं। कच्चा माल उद्योगों की आत्मा है। उद्योग वहीं पर स्थापित किए जाते हैं, जहां कच्चा माल अधिक मात्रा में कम लागत पर, आसानी से उपलब्ध हो सके। इसलिए लौहे और चीनी के कारखाने कच्चे माल की प्राप्ति-स्थान के निकट लगाए जाते हैं। शीघ्र खराब होने वाली वस्तुएं जैसे डेयरी उद्योग भी उत्पादक केन्द्रों के निकट लगाए जाते हैं। भारी कच्चे माल के उद्योग उन वस्तुओं के मिलने के स्थान के निकट ही लगाए जाते हैं। इस्पात उद्योग कोयला तथा लौहा खानों के निकट स्थित है। कागज़ की लुगदी के कारखाने तथा आरा मिले कोणधारी वन प्रदेशों में स्थित है। उदाहरण-कच्चे माल की प्राप्ति के कारण ही चीनी उद्योग उत्तर प्रदेश में, पटसन उद्योग पश्चिमी बंगाल में, सूती वस्त्र उद्योग महाराष्ट्र में तथा लौह इस्पात उद्योग बिहार, उड़ीसा में लगे हुए हैं।

2. शक्ति के साधन (Power Resources) कोयला, पेट्रोलियम तथा जल-विद्युत् शक्ति के प्रमुख साधन हैं।
भारी उद्योगों में शक्ति के साधनों का अधिक मात्रा में प्रयोग किया जाता है। इसलिए अधिकतर उद्योग उन स्थानों पर लगाए जाते हैं जहां कोयले की खाने समीप हों या पेट्रोलियम अथवा जल-विद्युत् उपलब्ध हो। भारत में दामोदर घाटी, कोयले के कारण ही प्रमुख औद्योगिक केन्द्र हैं। खाद व रासायनिक उद्योग, एल्यूमीनियम उद्योग, कागज़ उद्योग, जल-विद्युत् शक्ति केन्द्रों के निकट लगाए जाते हैं, क्योंकि इनमें अधिक मात्रा में सस्ती बिजली की आवश्यकता होती है।

उदाहरण-भारत में इस्पात उद्योग झरिया तथा रानीगंज की कोयला खानों के समीप स्थित है। पंजाब में भाखड़ा योजना से जल-विद्युत् प्राप्ति के कारण खाद का कारखाना नंगल में स्थित है। एल्यूमीनियम उद्योग एक ऊर्जा-गहन (Energy intensive) उद्योग है जो रेनूकूट में (उत्तर प्रदेश) विद्युत शक्ति उपलब्धता के कारण स्थापित है।

3. यातायात के साधन (Means of Transport)-उन स्थानों पर उद्योग लगाए जाते हैं, जहां सस्तो, उत्तम
कुशल और शीघ्रगामी यातायात के साधन उपलब्ध हो। कच्चा माल, श्रमिक तथा मशीनों को कारखानों तक पहुंचाने के लिए सस्ते साधन चाहिए। तैयार किए हुए माल को कम खर्च पर बाज़ार तक पहुंचाने के लिए उत्तम परिवहन साधन बहुत सहायक होते हैं।

उदाहरण-जल यातायात सबसे सस्ता साधन है। इसलिए अधिक उद्योग कोलकाता, चेन्नई आदि बंदरगाहों
के स्थान पर हैं जो अपनी पश्चभूमियों (Hinterland) से रेल मार्ग तथा सड़क मार्गों द्वारा जुड़ी हुई हैं।

4. कुशल श्रमिक (Skilled Labour)-कुशल श्रमिक अधिक और अच्छा काम कर सकते हैं जिससे उत्तम तथा सस्ता माल बनता है। किसी स्थान पर लम्बे समय से एक ही उद्योग में काम करने वाले श्रमिकों के कारण
औद्योगिक केन्द्र बन जाते हैं। आधुनिक मिल उद्योग में अधिक कार्य मशीनों द्वारा होता है, इसलिए कम श्रमिकों .. की आवश्यकता होती है। कुछ उद्योगों में अत्यन्त कुशल तथा कुछ उद्योगों में अर्द्ध-कुशल श्रमिकों की आवश्यकता होती है। श्रम प्रधान उद्योग (Labour Intensive) उद्योग कुशल तथा सस्ते श्रम क्षेत्रों की ओर आकर्षित होते हैं। उदाहरण-मेरठ और जालन्धर में खेलने का सामान बनाने, लुधियाना में हौजरी उद्योग तथा वाराणसी में जरी उद्योग, मुरादाबाद में पीतल के बर्तन बनाने तथा फिरोजाबाद में चूड़ियां बनाने का उद्योग कुशल श्रमिकों के
कारण ही है।

5. जल की पूर्ति (Water Supply) कई उद्योगों में प्रयोग किए जल की विशाल राशि की आवश्यकता होती है जैसे-लौह-इस्पात उद्योग, खाद्य संसाधन. कागज़ उद्योग, रसायन तथा पटसन उद्योग, इसलिए ये उद्योग झीलों, नदियों तथा तालाबों के निकट लगाए जाते हैं।
उदाहरण-जमशेदपुर में लौह-इस्पात उद्योग खोरकाई तथा स्वर्ण रेखा नदियों के संगम पर स्थित है।

6. जलवायु (Climate) कुछ उद्योगों में जलवायु का मुख्य स्थान होता है। उत्तम जलवायु मनुष्य की कार्य कुशलता पर भी प्रभाव डालती है। सूती कपड़े के उद्योग के लिए आर्द्र जलवायु अनुकूल होती है। इस जलवायु में धागा बार-बार नहीं टूटता। वायुयान उद्योग के लिए शुष्क जलवायु की आवश्यकता होती है। उदाहरण-मुंबई में सूती कपड़ा उद्योग आर्द्र जलवायु के कारण तथा बंगलौर में वायुयान उद्योग (Aircraft) शुष्क जलवायु के कारण स्थित है।

7. बाजार से निकटता (Nearness to Market) मांग क्षेत्रों का उद्योग के निकट होना आवश्यक है। इससे कम खर्च पर तैयार माल बाजारों में भेजा जाता है। माल की खपत जल्दी हो जाती है तथा लाभ प्राप्त होता है। शीघ्र खराब होने वाली वस्तुओं के उद्योग जैसे डेयरी उद्योग, खाद्य उद्योग बड़े नगरों के निकट लगाए जाते हैं। यहां अधिक जनसंख्या के कारण लोगों की माल खरीदने की शक्ति अधिक होती है। एशिया के देशों में अधिक जनसंख्या है, परन्तु निर्धन लोगों के कारण ऊंचे मूल्य वस्तुओं की मांग कम है। यही कारण है कि विकासशील देशों में निर्माण उद्योगों की कमी है। छोटे-छोटे पुर्ने तैयार करने वाले उद्योग बड़े कारखानों के निकट लगाए जाते हैं जहां इन पों का प्रयोग होता है।

8. सस्ती व समतल भूमि (Cheap and Level Land)-भारी उद्योगों के लिए समतल मैदानी भूमि की बहुत आवश्यकता होती है। इसी कारण से जमशेदपुर का इस्पात उद्योग दामोदर नदी घाटी के मैदानी क्षेत्र में स्थित है।

9. स्थान (Site) किसी भी उद्योग के लिए अच्छे धरातल अर्थ सही समतल ज़मीन की जरूरत होती है ताकि यातायात के साधन अच्छे हों। खासकर खुली जगह पर ऐसे उद्योग स्थापित किये जाते हैं।

II. मानवीय कारक-कच्चे माल के भाव में, मौजूदा विज्ञान तथा तकनीकी विकास के अनुसार कई चीजों को
शामिल किया गया है। उपरोक्त लिखे कई भौगोलिक कारकों के बिना कई गैर भौगोलिक कारक भी हैं जो किसी उद्योग के स्थानीयकरण के लिए ज़रूरी हैं जैसे कि-

1. पूंजी की सुविधा (Capital) -उद्योग उन स्थानों पर लगाए जाते हैं जहां पूंजी पर्याप्त मात्रा में ठीक समय पर तथा उचित दर पर मिल सके। निर्माण उद्योग को बड़े पैमाने पर चलाने के लिए अधिक पूंजी की आवश्यकता होती है। विकसित देशों द्वारा विकासशील देशों में पूंजी लगाने के कारण उद्योगों का विकास हुआ है। राजनीतिक स्थिरता और बिना डर के पूंजी विनियोग उद्योगों के विकास में सहायक है। उदाहरण-दिल्ली, मुंबई, कोलकाता आदि नगरों में बड़े-बड़े पूंजीपतियों और बैंकों की सुविधा के कारण ही औद्योगिक विकास हुआ है।

2. पूर्व आरम्भ (Early Start) जिस स्थान पर कोई उद्योग पहले से ही स्थापित हों, उसी स्थान पर उस उद्योग के अनेक कारखाने स्थापित हो जाते हैं। मुम्बई में सूती कपड़े के उद्योग तथा कोलकाता में जूट उद्योगों इसी कारण से केन्द्रित हैं। किसी स्थान पर अचानक किसी ऐतिहासिक घटना के कारण सफल उद्योग स्थापित हो जाते हैं। अलीगढ़ में ताला उद्योग इसका उदाहरण है।

3. सरकारी नीति (Government Policy)—सरकार के संरक्षण में कई उद्योग विकास कर जाते हैं, जैसे देश में चीनी उद्योग सन् 1932 के पश्चात् सरकारी संरक्षण से ही उन्नत हुआ है। सरकारी सहायता से कई उद्योगों को बहुत-सी सुविधाएं प्राप्त हो जाती हैं। सरकार द्वारा लगाए टैक्सों से भी उद्योग पर प्रभाव पड़ता है। मथुरा में तेल शोधनशाला, कपूरथला में कोच फैक्टरी तथा जगदीशपुर में उर्वरक कारखाना सरकारी नीति के अधीन लगाए गए हैं।
4. बैंकों की सुविधाएं (Facilities of Banks)-उद्योग में खरीद तथा बेच के रुपये का लेन-देन बहुत होता है। इसलिए बैंक की सहूलियतें बड़े शहरों में उद्योगों के लिए आकर्षित करते हैं।
5. सुरक्षा (Defence)-देश में सैनिक सामान तैयार करने वाले कारखाने सुरक्षा के दृष्टिकोण के साथ देश के अंदरूनी भागों में लाये जाते हैं। बंगलौर में हवाई जहाजों का उद्योग इसलिए ही स्थापित है।
6. ऐतिहासिक कारक (Historical Factors) अचानक ही किसी स्थान से कभी कोई उद्योग का रूप धारण कर लेता है; जैसे अलीगढ़ में ताला उद्योग इसलिए ही प्रसिद्ध है।
7. बीमा (Insurance) किसी भी अनहोनी जो मनुष्य या मशीनरी इत्यादि किसी के साथ भी हो ऐसी सूरत में बीमा की सुविधा होनी ज़रूरी है।
8. औद्योगिक जड़त्व (Industrial Inertia)-जिस स्थान पर कोई उद्योग शुरू हुआ होता है कई बार वहाँ ही पूरी तरह से विकसित हो जाता है। यह जड़त्व भौगोलिक तथा औद्योगिक किसी भी प्रकार का हो सकता है; जैसे उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में तालों का उद्योग इत्यादि।
9. अन्य तत्व (Other Factors)-कई और तत्व भी औद्योगिक विकास पर प्रभाव डालते हैं। जल की पूर्ति के लिए कई उद्योग नदियों या झीलों के तट पर लगाये जाते हैं। तकनीकी ज्ञान प्रबंध, संगठन तथा राजनीतिक ‘ कारण भी उद्योग की स्थापना पर प्रभाव डालते हैं।

प्रश्न 3. भारत में लौह तथा इस्पात उद्योग के स्थानीयकरण तथा उद्योग का विवरण दो। भारत में लगाये गये कारखानों का वर्णन करो।
उत्तर-लौह-इस्पात उद्योग आधुनिक औद्योगिक युवा की आधारशिला है। लोहा कठोरता, प्रबलता तथा सस्ता होने के कारण अन्य धातुओं की तुलना में अधिक महत्त्वपूर्ण है। इससे अनेक प्रकार की मशीनें, परिवहन के साधन, कृषि यन्त्र, ऊंचे-ऊंचे भवन, सैनिक अस्त्र-शस्त्र, राकेट तथा दैनिक प्रयोग की अनेक वस्तुएं तैयार की जाती हैं। लौह इस्पात का उत्पादन ही किसी देश के आर्थिक विकास का मापदंड है। आधुनिक सभ्यता लौह-इस्पात पर निर्भर करती है, इसलिए वर्तमान युग को ‘इस्पात युग’ कहते हैं।

इस्पात निर्माण ढंग-लोहा निर्माण का काम आज से 3000 साल पहले, भारत, मिस्र तथा रोम इत्यादि देशों में किया जाता था। इस युग को लौहयुग कहा जाता है। पृथ्वी की खानों में लोहा अशुद्ध रूप में मिलता है। लोहे को भट्टी में गला कर साफ करके इस्पात बनाया जाता हैं। इस कार्य के लिए ढंग प्रयोग में लाये जाते हैं। खुली भट्टी, कोक भट्टी तथा बिजली की पावर भट्टियों का प्रयोग किया जाता है।

  1. लोहे को पिघला कर शुद्ध करके कच्चा लौहा तैयार किया जाता है।
  2. कच्चे लोहे में मैंगनीज़ मिलाकर इस्पात बनाया जाता है जिसके साथ गार्डर, रेल पटरियां, चादरें तथा पाइप इत्यादि बनाये जाते हैं।
  3. क्रोमियम तथा निक्कल मिलाकर रखने से जंगाल न लगने वाला स्टेनलेस स्टील बनाया जाता है।
  4. कोबाल्ट मिलाने से तेज गति के साथ धातु काटने वाले उपकरण बनाये जाते हैं।

लौह-इस्पात उद्योग के स्थानीयकरण के तत्व (Locational Factors)-लौह-इस्पात उद्योग निम्नलिखित दशाओं पर निर्भर करता है।

  • कच्चा कोयला (Raw Material)—यह उद्योग लोहे तथा कोयले की खानों के निकट लगाया जाता है। इसके अतिरिक्त मैंगनीज़, चूने के पत्थर, पानी तथा रद्दी लौहा (Scrap Iron) इत्यादि कच्चे माल भी निकट ही प्राप्त हों।
  • सस्ती भूमि (Cheap Land)—इस उद्योग से बाकी भट्टियों, गोदामों, इमारतों इत्यादि के बनाने के लिए सस्ती तथा पर्याप्त भूमि चाहिए ताकि कारखानों का विस्तार भी किया जा सके।
  • कोक कोयला (Coking Coal)-लौह-इस्पात उद्योग की भट्टियों में लोहा साफ करने के लिए ईंधन के रूप में कोक कोयला प्राप्त हों। कई बार लकड़ी का कोयला भी प्रयोग किया जाता है।
  • बाज़ार की निकटता (Nearness to the Market)-इस उद्योग से बनी मशीनों तथा यन्त्र भारी होते हैं इसलिए यह उद्योग मांग क्षेत्रों के निकट लगाये जाते हैं।
  • पूंजी (Capital)-इस उद्योग को आधुनिक स्तर पर लगाने के लिए पर्याप्त पूंजी की आवश्यकता होती है। इसलिए उन्नत देशों की सहायता से विकासशील देशों में इस्पात कारखाने लगाए जाते हैं।
  • इस उद्योग के लिए परिवहन के सस्ते साधन, कुशल, श्रमिक, सुरक्षित स्थानों तथा तकनीकी ज्ञान की सुविधाएं प्राप्त होनी चाहिएं। भारत में आधुनिक ढंग का पहला कारखाना सन् 1907 में साकची जमशेदपुर बिहार में जमशेद जी टाटा ने लगाया था जो अब झारखण्ड राज्य में है।

निजी क्षेत्र के प्रमुख इस्पात केंद्र-

1. जमशेदपुर में टाटा आयरन एंड स्टील कंपनी (TISCO)

  • कच्चा लौहा-सिंहभूमि जिले में कच्चा लोहा निकट ही से प्राप्त हो जाता है। उड़ीसा की मयूरभंज खानों से 75 कि०मी० दूरी से कच्चा लोहा मिलता है।
  • कोयला-कोक कोयले के क्षेत्र झरिया तथा रानीगंज के निकट ही हैं।
  • अन्य खनिज पदार्थ-चूने के पत्थर गंगपुर में, मैंगनीज़ बिहार से तथा क्वार्टज मिट्टी कालीमती स्थान से आसानी से प्राप्त हो जाती है।
  • नदियों की सुविधा-रेत तथा जल कई नदियों से जैसे दामोदर स्वर्ण रेखा, खोरकाई से प्राप्त हो जाते हैं।
  • सस्ते व कुशल श्रमिक-बिहार, बंगाल राज्य के घनी जनसंख्या वाले प्रदेशों में सस्ते व कुशल श्रमिक आसानी से मिलते हैं।
  • बंदरगाहों की सुविधा-कोलकाता बंदरगाह निकट है तथा आयात व निर्यात की आसानी है।
  • यातायात के साधन-रेल, सड़क व जलमार्गों के यातायात के सुगम व सस्ते साधन प्राप्त हैं।
  • समतल भूमि-नदी घाटियों में समतल व सस्ती भूमि प्राप्त है, जहां कारखाने लगाए जा सकते हैं।

2. बेर्नपुर में इंडियन आयरन एंड स्टील कंपनी (IISCO)—पश्चिमी बंगाल में यह निजी क्षेत्र में इस्पात कारखाना स्थित है। यह कारखाना सन् 1972 ई० से केन्द्र द्वारा नियंत्रित है। यहां निम्नलिखित सुविधाएं प्राप्त हैं।

  • रानीगंज तथा झरिया से 137 कि०मी० की दूरी पर कोयला प्राप्त होता है।
  • लौहा झारखंड में सिंहभूमि क्षेत्र में।
  • चूने का पत्थर उड़ीसा से, गंगपुर क्षेत्र से।
  • जल दामोदर नदी से प्राप्त हो जाता है।
  • कोलकाता बंदरगाह से आयात-निर्यात तथा व्यापार की सुविधाएं प्राप्त हैं।

3. विश्वेश्वरैया आयरन एंड स्टील लिमिटेड (VISL) यह कारखाना कर्नाटक राज्य में भद्रा नदी के पश्चिमी किनारे पर स्थित भद्रावती स्थान पर सन् 1923 में लगाया गया।

सुविधाएं (Factors)-

  • हैमेटाइट लोहा बाबा बूदन पहाड़ियों से।
  • लकड़ी का कोयला कादूर के वनों से।
  • जल बिजली जोग जल प्रपात तथा शिवसमुद्रम प्रपात से
  • चूने का पत्थर भंडी गुड्डा से प्राप्त होता है।
  • शिमोगा से मैंगनीज़ प्राप्त होता है।

सार्वजनिक क्षेत्र से लौह-इस्पात केंद्र-देश में इस्पात उद्योग में वृद्धि करने के लिए सार्वजनिक क्षेत्र में हिंदस्तान स्टील लिमिटेड (HSL) कंपनी की स्थापना की गई। इसके अधीन विदेशी सहायता से चार इस्पात कारखाने लगाए गए हैं।

I. भिलाई-यह कारखाना छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले में भिलाई स्थान पर रूस की सहायता से लगाया गया है।

  • यहां लौहा 97 कि०मी० दूरी से धाली-राजहारा पहाड़ी से प्राप्त होता है।
  • कोयला कोरबा तथा झरिया खानों से मिलता है।
  • मैंगनीज़ बालाघाट क्षेत्र से तथा चूने का पत्थर नंदिनी खानों से प्राप्त होता है।
  • तांदुला तालाब से जल प्राप्त होता है।
  • यह नगर कोलकाता, नागपुर रेलमार्ग पर स्थित है। इस कारखाने की उत्पादन क्षमता को 25 लाख टन से बढ़ाकर 40 लाख टन किया जा रहा है।

II. दुर्गापुर-यह इस्पात कारखाना पश्चिमी बंगाल में इंग्लैंड की सहायता से लगाया गया है।

  • यहां लोहा सिंहभूम क्षेत्र से प्राप्त होता है।
  • कोयला रानीगंज क्षेत्र से प्राप्त होता है।
  • गंगपुर क्षेत्र में डोलोमाइट व चूने का पत्थर मिलता है।
  • दामोदर नदी से जल तथा विद्युत प्राप्त होती है। इस कारखाने की उत्पादन क्षमता को 16 लाख टन से बढ़ाकर 24 लाख टन किया जा रहा है।

III. राऊरकेला-यह कारखाना उड़ीसा में जर्मनी की फर्म क्रुप एण्ड डीमग की सहायता से लगाया गया है।

  • यहां लोहा उड़ीसा के बोनाई क्षेत्र से प्राप्त होता है।
  • कोयला झरिया तथा रानीगंज से प्राप्त होता है।
  • चूने का पत्थर पुरनापानी तथा मैंगनीज़ ब्राजमदा क्षेत्र से प्राप्त होता है।
  • हीराकुंड बांध से जल तथा जल विद्युत् मिल जाती है। इस कारखाने की उत्पादन क्षमता को 18 लाख टन से बढ़ा कर 28 लाख टन करने की योजना है।

IV. बोकारो-यह कारखाना झारखंड में बोकारो नामक स्थान पर रूस की सहायता से लगाया गया है।

  • इस केन्द्र की स्थिति कच्चे माल के स्रोतों के मध्य में है। यहां बोकारो, झरिया से कोयला, उडीसा के क्योंझर क्षेत्र से लोहा प्राप्त होता है।
  • जल विद्युत हीराकुंड तथा दामोदर योजना से।
  • जल बोकारो तथा दामोदर नदियों से। इस कारखाने की उत्पादन क्षमता को 25 लाख टन से बढ़ाकर 40 लाख टन किया जा रहा है।

सातवीं पंचवर्षीय योजना के नए कारखाने-सातवीं पंचवर्षीय योजना में तीन नए कारखाने लगाए जाने की योजना बनाई गई है।

  1. आंध्र में विशाखापट्टनम
  2. तमिलनाडु में सेलम
  3. कर्नाटक में होस्पेट के निकट विजय नगर।

उत्पादन-देश में उत्पादन बढ़ जाने के कारण कुछ ही वर्षों में भारत संसार के प्रमुख इस्पात देशों में स्थान प्राप्त कर लेगा। 2009 में देश में तैयार इस्पात का उत्पादन 597 लाख टन था। यंत्रों इत्यादि के लिए स्पैशल इस्पात का उत्पादन
im 5

5 लाख टन था। भारत में इस्पात की प्रति व्यक्ति खपत केवल 32 किलोग्राम है जबकि अमेरिका में 500 किलोग्राम है। भारत में प्रतिवर्ष 20 लाख टन लोहा तथा इस्पात विदेशों को निर्यात किया जाता हैं। जिसका मूल्य ₹ 2000 करोड़ है।

भविष्य-24 जनवरी, 1973 को स्टील अथारिटी ऑफ इंडिया (SAIL) की स्थापना की गई है। यह संगठन लौह इस्पात, उत्पादन व निर्यात का कार्य संभालेगा। विभिन्न कारखानों की क्षमता को बढ़ाकर उत्पादन 1000 लाख टन तक ले जाने का लक्ष्य है। देश में इस्पात बनाने के लिए छोटे-छोटे कारखाने लगाकर उत्पादन बढ़ाया जाएगा।

प्रश्न 4. भारत में सूती कपड़ा उद्योग के स्थानीयकरण तथा सूती कपड़ा उद्योग का विवरण दो। यह उद्योग किन कारणों से मुंबई तथा अहमदाबाद में केंद्रित है?
उत्तर-इतिहास (History)—वस्त्र मनुष्य की मूल आवश्यकता है। सूती कपड़ा उद्योग बहुत प्राचीन है। आज से लगभग बहुत समय पहले सूती वस्त्र उद्योग भारत में घरेलू उद्योग के रूप में उन्नत था। ढाके की मलमल संसार में प्रसिद्ध थी। सूती मिल उद्योग का आरम्भ 18वीं शताब्दी में ग्रेट ब्रिटेन में हुआ। औद्योगिक क्रान्ति के कारण आर्कराइट, क्रोम्पटन तथा कार्टहाईट नामक कारीगरों ने पावरलूम इत्यादि कई मशीनों का आविष्कार किया। सूती कपड़ा बनाने की इन मशीनों के कारण इंग्लैंड का लंकाशायर प्रदेश संसार भर में सूतीवस्त्र उद्योग के लिए प्रसिद्ध हो गया है। इसके पश्चात् सूती वस्त्र का मिल उद्योग संसार में कई क्षेत्रों में यू०एस०ए०, रूस, यूरोप, भारत तथा जापान इत्यादि में फैल गया।

सूती वस्त्र उद्योग के स्थानीयकरण के तत्व (Factors of Location)सूती वस्त्र उद्योग संसार के बहुत सारे देशों में फैल गया है। लगभग 40 देशों में यह उद्योग उन्नत है। कपास की प्राप्ति तथा हर एक देश की मांग होने के कारण इस उद्योग का विस्तार होता जा रहा है। यह उद्योग अग्रलिखित तत्वों पर निर्भर करता है।

  • कच्चे माल की नजदीकी-सूती वस्त्र उद्योग कपास पैदा करने वाले क्षेत्रों में लगाना उपयोगी होता है जैसे भारत में अहमदाबाद क्षेत्र तथा यू०एस०ए० की कपास की पेटी में सूती वस्त्र उद्योग है। जापान तथा इंग्लैंड विदेशों से कपास निर्यात करते हैं।
  • जलवायु-सूती कपड़ा उद्योग के लिए सिल्ल तथा समुद्री जलवायु अनुकूल होती है। इस जलवायु में धागा बार-बार नहीं टूटता। इसीलिए मुंबई, लंकाशायर तथा जापान तट पर यह उद्योग स्थापित है। कई खुश्क भागों में बनावटी नमी पैदा करने वाली मशीनों का प्रयोग किया जाता है; जैसे कानपुर में, परन्तु इस तरह से उत्पादन करने पर खर्च ज्यादा होता है।
  • सस्ती यातायात-जापान तथा इंग्लैंड सस्ती यातायात द्वारा कपास मंगवा कर अपने देश में उद्योग चलाते हैं।
  • सस्ते तथा कुशल श्रमिक-इस उद्योग के लिए कुशल मजदूर अधिक मात्रा में होने चाहिए।
  • बाजार से निकटता- यह उद्योग बाज़ार मुखी उद्योग है। यह उद्योग स्थानिक खपत केन्द्रों तथा विदेशी मंडियों के नज़दीक लगाये जाते हैं। भारत, चीन, जापान में इस उद्योग की एशिया की घनी जनसंख्या के कारण एक विशाल मंडी है।
  • शक्ति के साधन-इस उद्योग के लिए जल बिजली की सुविधा हो या कोयला निकट हो जैसे कोलकाता में रानीगंज कोयला क्षेत्र नजदीक है।
  • अन्य तत्व-इसके बिना सूती वस्त्र उद्योग के लिए मशीनरी, साफ जल, ज्यादा पूंजी, तकनीकी ज्ञान, सरकारी सहायता, रासायनिक पदार्थों इत्यादि की ज़रूरत भी होती है। सूती कपड़ा उद्योग भारत का प्राचीन उद्योग है। ढाका की मलमल दूर-दूर के देशों में प्रसिद्ध है। यह उद्योग घरेलू उद्योग के रूप में उन्नत है, परन्तु अंग्रेजी सरकार ने इस उद्योग को समाप्त करके भारत को इंग्लैंड में बने कपड़े की एक मंडी बना दिया। भारत में पहली आधुनिक मिल सन् 1818 में कोलकत्ता (कोलकाता) में स्थापित की गई।

महत्त्व (Importance)-

  • यह उद्योग भारत का सबसे बड़ा तथा प्राचीन उद्योग है।
  • इसमें 10 लाख मज़दूर काम करते हैं।
  • सब उद्योगों में से अधिक पूंजी इसमें लगी हुई है।
  • इस उद्योग के माल के निर्यात से 2000 करोड़ की विदेशी मुद्रा प्राप्त होती है।
  • इस उद्योग पर रंगाई, धुलाई, रासायनिक उद्योग निर्भर करते हैं। इस उद्योग में 50 लाख रुपए के रासायनिक पदार्थ प्रयोग होते हैं।

सूती कपड़ा उद्योग का स्थानीयकरण (Location)-भारत में इस उद्योग की स्थापना के लिए निम्नलिखित अनुकूल सुविधाएं हैं-

1. अधिक मात्रा में कपास। 2. उचित मशीनें । 3. मांग का अधिक होना।

उत्पादन (Production)-देश में 1300 कपड़ा मिलें थीं। इन कारखानों में 200 लाख तकले तथा 2 लाख करघे हैं। इन मिलों में लगभग 150 करोड़ किलोग्राम सूत तथा 2000 करोड़ मीटर कपड़ा तैयार किया जाता है।
वितरण (Distribution)-सूती कपड़े के कारखाने सभी प्रान्तों में हैं। लगभग 80 नगरों में सूती मिलें बिखरी हुई हैं। इन प्रदेशों में सूती कपड़ा उद्योग की उन्नति निम्नलिखित कारणों से हैं-

1. महाराष्ट्र-यह राज्य सूती कपड़ा उद्योग मे सबसे आगे है। यहां 100 मिलें हैं। मुंबई आरम्भ से ही सूती वस्त्र उद्योग का प्रमुख केंद्र है। इसलिए इसे सूती वस्त्रों की राजधानी (Cotton-Polis of India) कहते हैं। मुंबई के अतिरिक्त नागपुर, पुणे, शोलापुर, अमरावती प्रसिद्ध केन्द्र हैं । मुंबई नगर में सूती कपड़ा उद्योग की उन्नति के निम्नलिखित कारण हैं-

  • पूर्व आरम्भ-भारत की सबसे पहली आधुनिक मिल मुंबई में खोली गई।
  • पूंजी-मुंबई के व्यापारियों ने कपड़ा मिलें खोलने में बहुत धन लगाया।
  • कपास-आस-पास के खानदेश तथा बरार प्रदेश की काली मिट्टी के क्षेत्र में उत्तम कपास मिल जाती है।

im 6

  • उत्तम बन्दरगाह-मुंबई एक उत्तम बन्दरगाह है, जहां मशीनरी तथा कपास आयात करने तथा कपड़ा निर्यात करने की सुविधा है।
  • सम जलवायु-सागर से निकटता तथा नम जलवायु इस उद्योग के लिए आदर्श है।
  • सस्ते श्रमिक-घनी जनसंख्या के कारण सस्ते श्रमिक प्राप्त हो जाते हैं।
  • जल विद्युत्-कारखानों के लिए सस्ती बिजली टाटा विद्युत् केन्द्र से प्राप्त होती है।
  • यातायात-मुंबई रेलों व सड़कों द्वारा देश के भीतरी भागों से मिला है।
  • जल प्राप्ति-कपड़े की धुलाई, रंगाई द्वारा देश के लिए पर्याप्त जल मिल जाता है।

2. गुजरात-गुजरात राज्य का इस उद्योग में दूसरा स्थान हैं। अहमदाबाद प्रमुख केंद्र है। जहां 75 मिलें हैं। अहमदाबाद को भारत का मानचेस्टर कहते हैं। इसके अतिरिक्त सूरत, बड़ौदा, राजकोट प्रसिद्ध केन्द्र हैं। यहां सस्ती भूमि व उत्तम कपास के कारण उद्योग का विकास हुआ है।
3. तमिलनाडु-इस राज्य में पनबिजली के विकास तथा लम्बे रेशे की कपास की प्राप्ति के कारण यह उद्योग बहुत उन्नत है मुख्य केन्द्र मदुराई, कोयम्बटूर, सेलम, चेन्नई हैं।
4. पश्चिमी बंगाल- इस राज्य में अधिकतर मिलें हुगली क्षेत्र में हैं। यहां रानीगंज से कोयला, समुद्री आर्द्र जलवायु, सस्ते मज़दूर व अधिक मांग के कारण यह उद्योग स्थित हैं।
5. उत्तर प्रदेश-यहां अधिकतर (14) मिलें कानपुर में स्थित हैं। कानपुर को उत्तरी भारत का मानचेस्टर कहते हैं। यह कपास उन्नत करने वाला राज्य है। यहां घनी जनसंख्या के कारण सस्ते मजदूर हैं व सस्ते कपड़े की मांग अधिक है। इसके अतिरिक्त आगरा, मोदीनगर, बरेली, वाराणसी, सहारनपुर प्रमुख केन्द्र हैं।
6. मध्य प्रदेश में इंदौर, ग्वालियर, उज्जैन, भोपाल।
7. आन्ध्र प्रदेश में हैदराबाद तथा वारंगल ।
8. कर्नाटक में मैसूर तथा बंगलौर।।
9. पंजाब में अमृतसर, फगवाड़ा, अबोहर, लुधियाना।
10. हरियाणा में भिवानी।
11. अन्य नगर दिल्ली, पटना, कोटा, जयपुर, कोचीन।

प्रश्न 5. भारत में चीनी उद्योग के स्थानीयकरण, विकास तथा उद्योग का विवरण दो। भारतीय चीनी उद्योग कौन-कौन सी मुख्य कठिनाइयों का सामना कर रहा है ?
उत्तर-भारत में चीनी पैदा करने का मुख्य स्रोत (कच्चा माल) गन्ना है। सूती कपड़े के उद्योग के बाद गन्ना उद्योग भारत का दूसरा बड़ा उद्योग है जिसमें 1 अरब से अधिक पूंजी लगी हुई है। देश को 500 मिलों में 2.5 लाख मजदूर काम करते हैं। इस उद्योग में देश के 2 करोड़ कृषकों को लाभ होता है। संसार में ब्राजील के बाद भारत सबसे बड़ा गन्ना उत्पादक राज्य है। भारत विश्व की 10% चीनी उत्पन्न करता है। यहाँ 500 से भी ज्यादा चीनी बनाने की मिलें हैं। इस उद्योग के बचे-खुचे पदार्थों पर एल्कोहल, खाद, मोम, कागज़ उद्योग पर निर्भर करते हैं।

चीनी उद्योग के स्थानीयकरण के लिए महत्वपूर्ण कारक-भारतीय चीनी उद्योग पूरी तरह से गन्ने पर आधारित हैं जो कि भारी तथा जल्दी से सूखने वाली फसल है। इसको काटने के शीघ्र बाद ही इसका रस निकालना जरूरी होता हैं, नहीं तो इसका रस सूख जाता है! औद्योगीकरण के लिए महत्वपूर्ण कारक हैं-

im 7

  • कच्चे माल की निकटता-गन्ना एक भारी पदार्थ है तथा जल्दी ही कटाई के बाद सूख जाता है। इसलिए कच्चा माल उद्योग के नजदीक ही उपलब्ध होना चाहिए, ताकि कटाई के जल्द बाद इसका रस निकाल लिया जाए।
  • बाजार की निकटता-बाज़ार की निकटता भी इस उद्योग के लिए उपयोगी है।
  • सस्ते तथा कुशल मज़दूर-इस उद्योग के लिए कुशल तथा सस्ते मजदूर अधिक मात्रा में चाहिए।
  • अनुकूल जलवायु-इस फसल के लिए तापमान 21°C से 27° C तक चाहिए तथा कम से कम 75 cm से 100 cm तक वार्षिक वर्षा की ज़रूरत है। जिन स्थानों पर वर्षा कम होती है, सिंचाई सुविधा से कृषि की जाती है।

भारतीय चीनी उद्योग में राज्यों की देन इस प्रकार है-

1. उत्तर प्रदेश-भारत में उत्तर प्रदेश चीनी का सबसे बड़ा उत्पादक राज्य है। गन्ना उत्पादन में भी यह प्रदेश प्रथम
स्थान पर है। यहां चीनी मिलें भी दो क्षेत्रों में पाई जाती हैं।
(क) तराई क्षेत्र-गोरखपुर, बस्ती, सीतापुर, फैजाबाद।
(ख) दोआब क्षेत्र-सहारनपुर, मेरठ, मुजफ्फरनगर।

उत्तरी भारत में सुविधाएं-भारत का 50% गन्ना उत्तर प्रदेश में उत्पन्न होता है। अधिक जनसंख्या के कारण खपत अधिक है तथा सस्ते श्रमिक प्राप्त हैं। सस्ती जल बिजली तथा बिहार से कोयला मिल जाता है। यातायात के साधन उत्तम हैं।

2. महाराष्ट्र-महाराष्ट्र में चीनी उद्योग का विकास तेजी से हुआ है। यहाँ ज्यादातर मिलें पश्चिमी हिस्से में हैं यहाँ के पठारी इलाके में नदी घाटियां स्थित हैं यहां अहमदाबाद सब से बड़ा चीनी का उत्पादक राज्य है। कोल्हापुर, पुणे, शोलापुर, सितारा तथा नासिक चीनी के लिए काफी प्रसिद्ध हैं।

im 8

3. तमिलनाडु-पिछले कुछ सालों से तमिलनाडु के चीनी उद्योग का विकास हो रहा है। यहाँ कुल 32 चीनी मिलें हैं जो कि कोयम्बटूर, तिरुचिरापल्ली, रामानाथपुरम, अरकोट इत्यादि स्थानों पर स्थित हैं।

4. कर्नाटक-कर्नाटक में तकरीबन 30 चीनी मिलें हैं जो देश की. 14.7 फीसदी चीनी का उत्पादन करती हैं। राज्य में सबसे ज्यादा चीनी बेलगांव, रामपुर, पाण्डुपुर से आती है।

5. आन्ध्र प्रदेश-यहाँ 35 से भी अधिक चीनी मिलें हैं। ज्यादातर मिलें पूर्वी तथा पश्चिमी गोदावरी जिलों तथा कृष्णा नदी घाटियों में मौजूद हैं। मुख्य चीनी मिलें हैदराबाद, विशाखापट्टनम, विजयवाड़ा, हास्पेट, पीठापुरम में हैं।

6. गुजरात-गुजरात के सूरत, भावनगर, अमरेली, राजकोट, अहमदनगर इत्यादि स्थानों पर भीनी मिलें हैं।

7. हरियाणा-हरियाणा में रोहतक, पलवल, पानीपत, यमुनानगर, जींद, कैथल, सोनीपत, फरीदाबाद इत्यादि .. जिलों में चीनी मिलें मौजूद हैं।
8. पंजाब-पंजाब में 17 मुख्य चीनी मिलें हैं जिनमें 10 ही चलती हैं। सात चीनी मिलें बंद पड़ी हैं। जो कि धूरी, .बुढ़लाड़ा, फरीदकोट, जगराओं, रखड़ा, तरनतारन तथा जीरा में हैं। अजनाला, बटाला, भोगपुर, बुद्देवाल, फाजिल्का, फगवाड़ा, गुरदासपुर, नकोदर, मोरिंडा, नवांशहर इत्यादि चीनी मिलें काफी प्रसिद्ध हैं।

चीनी उद्योग को आने वाली मुख्य कठिनाइयां-

  • भारत में गन्ने की प्रति हेक्टेयर उपज कम है।
  • गन्ने पर पैसा उत्पादन के समय ज्यादा लगता है तथा बिक्री मूल्य में दिन प्रति दिन गिरावट आ रही है।
  • गन्ने की कटाई के बाद इसका रस जल्दी सूख जाता है। इसको लम्बे समय तक बचाकर नहीं रखा जा सकता।
  • चीनी मिलों के मालिक किसानों को पैसे का भुगतान समय पर नहीं करते।
  • गन्ना एक भारी पदार्थ है। एक जगह से दूसरी जगह लेकर जाना मुश्किल है। यातायात पर लागत ज्यादा आती
  • गन्ना प्राप्त न होने के कारण मिलें वर्ष में कुछ महीने बन्द रहती हैं।
  • चीनी उद्योग के बचे खुचे पदार्थों का ठीक उपयोग नहीं होता।

भविष्य-पिछले कुछ वर्षों में चीनी उद्योग दक्षिणी भारत की ओर स्थानान्तरित कर रहा है। कोयम्बटर में गन्ना खोज केन्द्र भी स्थापित किया गया है। दक्षिणी भारत में गन्ना अधिक मोटा होता है तथा इसमें रस की मात्रा अधिक होती है। .. दक्षिणी भारत में गन्ने की पिराई का समय भी अधिक होता है। गन्ने की प्रति हेक्टेयर उपज भी अधिक है। यहां आधुनिक चीनी मिलें सहकारी क्षेत्र में लगाई गई हैं।

प्रश्न 6. औद्योगिक गलियारे से आपका क्या भाव है ? भारतीय औद्योगिक गलियारों के निर्माण के अलगअलंग स्तरों का वर्णन करो।
उत्तर-जिस क्षेत्र में उद्योगों के विकास के लिए हर संभव कोशिश की जाती है तथा एक गलियारा ढांचा तैयार करवाया जाता है, ताकि उद्योग को प्रोत्साहन मिल सके तथा प्रारंभिक ज़रूरतों को एक स्थान से ही पूरा किया जा सके।
औद्योगिक गलियारा कहलाता है। उदाहरण-बंदरगाह, राष्ट्रीय मार्ग तथा रेल प्रबंध इत्यादि को विकसित करना। औद्योगिक गलियारों के निर्माण स्तर-इस समय भारत में लगभग सात औद्योगिक गलियारे तैयार किये गये हैं तथा इनका निर्माण अलग अलग स्तरों पर होता है। जिसका वर्णन इस प्रकार है.

  • दिल्ली-मुंबई औद्योगिक गलियारा (Delhi-Mumbai Industrial corridors) यह गलियारा देश के सात राज्यों में फैला हुआ है। यह गलियारा दिल्ली से आर्थिक राजधानी मुंबई तक फैला है। जिसकी लंबाई – 1500 किलोमीटर हैं। जिसमें 24 औद्योगिक क्षेत्रों के साथ-साथ 8 स्मार्ट शहर, दो हवाई अड्डे भी शामिल हैं। यहां यातायात के साधन भी विकसित हैं।
  • मंबई-बेंगलरू आर्थिक गलियारा (Mumbai-Bangaluru Industrial Corridors) यह गलियारा देश की आर्थिक राजधानी मुंबई से लेकर बेंगलुरू (कर्नाटक की राजधानी) तक फैला हुआ हैं। इसमें महाराष्ट्र तथा कर्नाटक राज्यों में चितदुर्ग, हुबली, बेलागांव, शोलापुर इत्यादि शहर शामिल हैं।
  • चेन्नई-बेंगलुरू औद्योगिक गलियारा (CBIC) यह गलियारा भारत सरकार का एक विशाल तथा बुनियादी ढांचा प्रदान करने वाला प्रोजैक्ट है, जिसका निर्माण अभी तक चल रहा है। इसके अधीन चेन्नई, श्री पोरंबदर, राणीपेट, चिंतुर, पालामानौर इत्यादि शामिल हैं।
  • विशाखापट्टनम-चेन्नई औद्योगिक गलियारा (VCIC)—इस गलियारे को विजाग चेन्नई औद्योगिक गलियारा भी कहते हैं। यह पूर्वी तटी आर्थिक गलियारे का एक हिस्सा है। यह सुनहरो चतुर्भुज के साथ जुड़ा हुआ है तथा भारत के पूर्व के तरफ ध्यान दें तथा मेक इन इंडिया जैसे प्रोग्राम हैं जो इसकी वृद्धि में काफी सहायक हैं।
  • अमृतसर, कोलकाता औद्योगिक गलियारा (AKIC)—यह औद्योगिक गलियारा अमृतसर, दिल्ली, कोलकाता इत्यादि महत्त्वपूर्ण शहरों से जुड़ा हुआ है। यह गलियारा भी भारत के सात रज्यों में निकलता है। इस प्रोजैक्ट के अधीन सड़कें, बंदरगाहें, हवाई मार्ग इत्यादि का विकास किया जा रहा है।
  • वडारेवू तथा निजामापट्टनम (VANPIC)-यह गलियारा आन्ध्र प्रदेश के गंटूर के प्रकासम जिलों से जुड़ा हुआ है।
  • उधना पालमाणा औद्योगिक गलियारा (OPIC)-यह गलियारा गुजरात तथा पालमाणा राजस्थान के बीच फैला हुआ है जिसमें धातुओं से जुड़े उद्योग, सूती कपड़ा, दवाइयां, प्लास्टिक तथा रासायन इत्यादि उद्योग शामिल हैं।

आर्थिक भूगोल निर्माण उद्योग (सहायक सेवा तथा ज्ञान/विशेष क्षेत्रों की क्रियाएं) Notes

  • आर्थिक भूगोल मुख्य रूप में प्रारंभिक, द्वितीयक, तृतीयक तीन क्षेत्रों में विभाजित होती है तथा निर्माण । उद्योग द्वितीयक सैक्टर के अंतर्गत आता है। इसमें प्रारंभिक क्षेत्र से लेकर आये कच्चे माल का उपयोग योग्य सामान उद्योगों में तैयार किया जाता है।
  • उद्योगों को आगे उनमें मजदूरों की संख्या के आधार पर, कच्चे माल पर आधारित उद्योग, मालिकी के आधार पर, कच्चे माल के स्रोतों के आधार पर फुटकल उद्योगों के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है।
  • उद्योगों की स्थापना पर कई भौगोलिक कारक (जैसे कच्चा माल, मजदूर, यातायात इत्यादि), गैर भौगोलिक कारक (पूंजी, सरकारी नीतियां, बैंक की सुविधा इत्यादि) प्रभाव डालते हैं।
  • लौहा तथा इस्पात का उद्योग प्रारंभिक उद्योग है। इसका उपयोग यातायात के साधनों, मशीनरी, भवन निर्माण, समुद्री जहाज़ बनाने इत्यादि में किया जाता है।
  • भारत में मौजूदा लौह तथा इस्पात उद्योग की शुरुआत सन् 1854 ई० में हुई।
  • भारत में TISCO, VISL, BSP, DSP तथा बोकारो स्टील प्लांट, राऊरकेला प्रमुख स्टील प्लांट हैं।
  • भारतीय लौहा तथा इस्पात उद्योग को मुख्य रूप में सस्ती दरामद, कच्चे माल की समस्या, लचकदार सरकारी नीति, ऊर्जा तथा पूंजी की कमी इत्यादि मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।
  • आने वाले समय में 2025 तक भारत में लौह-इस्पात के उत्पादन की क्षमता 30 करोड़ तक पहुंचा देने का उद्देश्य रखा गया है।
    भारतीय सूती कपड़े की मिल 1818 में फोर्ट ग्लॉस्टर कोलकाता में लगाई गई थी जो कि नाकाम रही। पहली सफल कपड़ा मिल 1854 में मुंबई में लगाई गई।
  • भारतीय सूती कपड़ा उद्योग देश के कुल 14 प्रतिशत उत्पादन का हिस्सा डालता हैं। भारत में ढाके की । मलमल, मसूलीपटनम छींट, कालीकट की कल्लीकेंज से कैम्बे में बने बफता वस्त्र पूरे विश्व में प्रसिद्ध है।।
  • चीनी का उत्पादन गन्ने तथा चुकन्दर से होता है। ब्राजील के बाद भारत का गन्ना उत्पादन में दूसरा स्थान है। देश में 35 करोड़ टन गन्ना तथा 2 करोड़ टन चीनी का वार्षिक उत्पादन होता है। भारत में मुख्य गन्ना उत्पादक राज्य हैं-उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, आन्ध्र प्रदेश, कर्नाटक, गुजरात, हरियाणा इत्यादि।
  • भारत का पैट्रोकैमिकल उद्योग देश के सबसे अधिक तेजी से बढ़ने वाले उद्योगों में सबसे आगे हैं। यह उद्योग वस्त्र, पैकिंग, कृषि, निर्माण तथा दवाइयों के उद्योगों को मुख्य सुविधा उपलब्ध करवाता है।।
  • पैट्रो रसायन उद्योग के दो उद्योग पृथ्वी के नीचे से कच्चा तेल निकालना तथा तेलशोधन करना, इत्यादि प्रमुख हैं।
  • औषधि बनाने के उद्योग में भारत विश्व की 10 फीसदी औषधियां बनाता है तथा विश्व में तीसरा स्थान प्राप्त करता है।
  • विश्व की नई आर्थिकता की रीढ़ की हड्डी ज्ञान पर आधारित उद्योग है। 1970 के बाद संसार में इन उद्योगों का विकास अधिक हुआ।
  • उद्योग तथा गलियारे वह भौगोलिक क्षेत्र होते हैं जिसमें उद्योगों के विकास के लिए हर एक संभव बुनियादी स्वरूप उपलब्ध करवाया जाता है। इसमें भारत में सात बड़े उद्योग गलियारे हैं जो कि DMIC, CBIC, BMEC, VCIC, AKIC, VANPIC इत्यादि हैं।
  • निर्माण उद्योग-यह एक सहायक क्रिया है जिसमें कच्चे माल को मशीनों की सहायता से रूप बदल कर अधिक उपयोगी बनाया जाता है।
  • उद्योगों की किस्में (1) बड़े पैमाने तथा छोटे पैमाने के उद्योग (2) भारी तथा हल्के उद्योग (3) निजी, सरकारी तथा सार्वजनिक उद्योग (4) कृषि आधारित तथा खनिज आधारित उद्योग (5) कुटीर उद्योग तथा मिल उद्योग।
  • उद्योगों के स्थानीयकरण को प्रभावित करने वाले भौगोलिक कारक (1) कच्चा माल, (2) ऊर्जा, (3) यातायात, (4) मजदूर, (5) बाज़ार, (6) पानी, (7) जलवायु इत्यादि।
  • इस्पात उद्योग-भारत में पहला इस्पात उद्योग जमशेदपुर में 1907 में लगाया गया।
  • सहकारी क्षेत्र-वह उद्योग जो सहकारी क्षेत्र या फिर लोगों द्वारा मिलकर चलाये जाते हैं सहकारी क्षेत्र के उद्योग होते हैं-जैसे-डेयरी, अमूल इत्यादि।
  • विश्वेश्वरैया आयरन एंड स्टील लिमिटेड (VISL)- यह 18 जनवरी, 1923 को मैसूर आयरन वर्क्स के नाम से शुरू हुआ था। बाद में इसका नाम मशहूर इंजीनियर भारत रत्न श्री एम० विश्वेश्वरैया के नाम पर VISL पड़ गया।
  • सूती वस्त्र मिल का वर्गीकरण-मुख्य रूप में सूती कपड़ा मिल को तीन वर्गों में वर्गीकृत किया जाता है।
    1.कताई मिलें, 2. बुनाई मिलें, 3. धागे से कपड़ा मिलें।
  • विश्व में ब्राजील, भारत, यूरोपीय संघ, चीन तथा थाइलैंड पांच बड़े चीनी के उत्पादक राज्य हैं।
  • नीला कॉलर श्रमिक-नीला कॉलर श्रमिक हाथ से काम करने वाले मजदूर हैं जो कि कुछ घंटों या किये गये काम के मुताबिक वेतन लेते हैं।
  • बड़े पैमाने के उद्योग-वह उद्योग जिनमें मजदूरों की संख्या ज्यादा हो जैसे-सूती कपड़ा उद्योग।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *