Class 12 Religion Solutions Chapter 9 सिख जीवन पद्धति

ESSAY TYPE QUESTIONS

प्रश्न 1. सिख जीवन जाच क्या है ?
(What is Sikh Way of Life ?)
अथवा
सिख जीवन जाच सिख धर्म का आधार है। चर्चा कीजिए।
(Sikh way of life is the base of Sikhism. Discuss.)
अथवा
सिख रहित मर्यादा के प्रमुख लक्षणों के विषय में संक्षिप्त परंतु भावपूर्ण चर्चा कीजिए।
(Discuss in brief but meaningful the salient features of Sikh-Rahit Maryada.)
अथवा
धार्मिक सिख जीवन जाँच के बारे में संक्षिप्त चर्चा कीजिए।
(Discuss in brief the religious Sikh Way of Life.)
अथवा
सिख जीवनचर्या की आलोचनात्मक दृष्टि से परख कीजिए। (Examine critically the Sikh Way of Life.)
अथवा
रहित मर्यादा से क्या अभिप्राय है ? सिख रहित मर्यादा की संक्षिप्त व्याख्या करें।
(What is Code of Conduct ? Explain in briefthe Sikh Code of Conduct.)
अथवा
सिखी रहित मर्यादा लिखें।
(Write about the Sikh Way of Life.)
अथवा
सिख धर्म के अनुसार सिख जीवन के बारे में लिखें।
(Write about the Sikh Way of Life.)
अथवा
सिख जीवन मुक्ति में व्यक्तिगत रहनी के बारे में जानकारी दीजिए। (Describe the personal life in Sikh Code of Conduct.)
अथवा
गुरमत रहनी क्या है ? चर्चा कीजिए।
(What is Gurmat Life ? Discuss.)
अथवा
सिख जीवन युक्ति के मुख्य लक्षणों के बारे में जानकारी दीजिए। (Describe the salient features of Sikh Way of Life.)
अथवा
गुरसिख के जीवन के बारे में लिखें।
(Write about the Gursikh Way of Life.)
अथवा
सिग्न जीवन पद्धति के विषय में संक्षिप्त जानकारी दीजिए।
(Give a brief account of the Sikh Way of Life.)
अथवा
सिख जीवन जाच का स्रोत सिख रहित मर्यादा है। चर्चा कीजिए। (Sikh Rahit Maryada is the source of Sikh Way of Life. Discuss.)
अथवा
(Elucidate the salient features of Sikh Way of Life.)
उत्तर-प्रत्येक जीवन पद्धति किसी न किसी दर्शन पर आधारित होती है। जैसे एक सच्चा हिंद गीता के उपदेशों के अनुसार, एक सच्चा मुसलमान कुरान के उपदेशों के अनुसार एवं एक सच्चा ईसाई बाइबल के उपदेशों को आधार मान कर अपना जीवन व्यतीत करने का प्रयास करता है। गुरु ग्रंथ साहिब जी में अनेक स्थानों पर सिख जीवन पद्धति का वर्णन किया गया है। 1699 ई० में जब गुरु गोबिंद सिंह जी ने आनंदपुर साहिब में खालसा पंथ का सृजन किया तो उन्होंने कुछ नियमों की घोषणा की जिनका पालन करना प्रत्येक खालसा के लिए अनिवार्य था। ये नियम आज भी रहितनामों के रूप में हमारे पास मौजूद हैं। रहितनामे कोई नई विचारधारा प्रस्तुत नहीं करते। ये गुरबाणी में वर्णित जीवन पद्धति की संक्षेप रूप में तस्वीर प्रस्तुत करते हैं। सिख रहित मर्यादा जो शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी, अमृतसर द्वारा जारी की गई है तथा जिसे प्रमाणिक माना जाता है का संक्षिप्त विवरण निम्न अनुसार है :—
(क) सिख कौन है ?
(Who is a Sikh ?)
कोई भी स्त्री अथवा पुरुष जो एक परमात्मा, दस गुरु साहिबान (गुरु नानक देव जी से लेकर गुरु गोबिंद सिंह जी तक), श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी की वाणी एवं शिक्षा तथा दशमेश (गुरु गोबिंद सिंह जी) के अमृत में विश्वास रखता है वह सिख है।

(ख) नाम वाणी का अभ्यास
(Practice of Nam)

  1. सिख अमृत समय जाग कर स्नान करे तथा एक अकाल पुरुख (परमात्मा) का ध्यान करता हुआ ‘वाहिगुरु’ का नाम जपे।
  2. नितनेम का पाठ करे। नितनेम की वाणियाँ ये हैं-जपुजी साहिब, जापु साहिब, अनंदु साहिब, चौपई एवं 10 सवैये। ये वाणिएँ अमृत समय पढ़ी जाती हैं। रहरासि साहिब-यह वाणी संध्या काल समय पढ़ी जाती है। सोहिला-यह वाणी रात को सोने से पूर्व पढ़ी जाती है। अमृत समय तथा नितनेम के पश्चात् अरदास करनी आवश्यक है।
  3. गुरवाणी का प्रभाव साध-संगत में अधिक होता है। अत: सिख के लिए उचित है कि वह गुरुद्वारों के दर्शन करे तथा साध-संगत में बैठ कर गुरवाणी का लाभ उठाए।
  4. गुरुद्वारे में गुरु ग्रंथ साहिब जी का प्रकाश प्रतिदिन होना चाहिए। साधारणतयः रहरासि साहिब के पाठ के पश्चात् सुख आसन किया जाना चाहिए।
  5. गुरु ग्रंथ साहिब जी को सम्मान के साथ प्रकाश, पढ़ना एवं संतोखना चाहिए। प्रकाश के लिए आवश्यक है कि स्थान पूर्णतः साफ़ हो तथा ऊपर चांदनी लगी हो। प्रकाश मंजी साहिब पर साफ़ वस्त्र बिछा कर किया जाना चाहिए। गुरु ग्रंथ साहिब जी के लिए गदेले आदि का प्रयोग किया जाए तथा ऊपर रुमाला दिया जाए। जिस समय पाठ न हो रहा हो तो ऊपर रुमाला पड़ा रहना चाहिए। प्रकाश के समय चंवर किया जाना चाहिए।
  6. गुरुद्वारे में कोई मूर्ति पूजा अथवा गुरमत्त के विरुद्ध कोई रीति-संस्कार न हो।
  7. एक से दूसरे स्थान तक गुरु ग्रंथ साहिब को ले जाते समय अरदास की जानी चाहिए। जिस व्यक्ति ने सिर के ऊपर गुरु ग्रंथ साहिब उठाया हो वह नंगे पाँव होना चाहिए।
  8. गुरु ग्रंथ साहिब जी का प्रकाश अरदास करके किया जाए। प्रकाश करते समय गुरु ग्रंथ साहिब में से एक शबद का वाक लिया जाए।
  9. जिस समय गुरु ग्रंथ साहिब जी की सवारी आए तो प्रत्येक सिख को उसके सम्मान के लिए खड़ा हो जाना चाहिए।
  10. गुरुद्वारे में प्रवेश करते समय अपने जूते अथवा चप्पल आदि बाहर उतार कर तथा हाथ-पाँव धो कर जाना चाहिए।
  11. गुरुद्वारे में दर्शन के लिए किसी देश, धर्म, जाति आदि पर कोई प्रतिबंध नहीं, पर उनके पास सिख धर्म में प्रतिबंधित वस्तुएँ तंबाकू आदि कोई वस्तु नहीं होनी चाहिए।
  12. संगत में बैठते समय सिख, गैर-सिख, जाति-पाति, ऊँच-नीच आदि का कोई भेदभाव नहीं होना चाहिए।
  13. किसी भी व्यक्ति द्वारा गुरु ग्रंथ साहिब जी के प्रकाश के समय अथवा संगत में गदेला, आसन, कुर्सी, चौकी अथवा मंजी आदि पर बैठना गुरमत्त के विरुद्ध है।
  14. संगत में किसी सिख को नंगे सिर नहीं बैठना चाहिए। संगत में सिख स्त्रियों के लिए पर्दा करना अथवा चूंघट निकालने पर प्रतिबंध है।
  15. प्रत्येक गुरुद्वारे में निशान साहिब किसी ऊँचे स्थान पर लगा होना चाहिए।
  16. गुरुद्वारे में नगारा होना चाहिए तथा इसे समय अनुसार बजाया जाना चाहिए।
  17. संगत में कीर्तन केवल सिख कर सकता है।
  18. कीर्तन गुरवाणी को रागों में उच्चारण करना चाहिए।
  19. दीवान समय गुरु ग्रंथ साहिब जी की ताबिया में केवल सिख (पुरुष अथवा स्त्री) को बैठने का अधिकार
  20. दीवान की समाप्ति के समय ‘हक्म’ लिया जाना चाहिए।

(ग) गुरुसिख की जीवन पद्धति
(Code of Conduct of Gursikh)
सिखों की जीवन पद्धति गुरमत्त के अनुसार होनी चाहिए। गुरमत्त यह है :—

  1. एक अकाल पुरुख (परमात्मा) के अतिरिक्त किसी अन्य देवी-देवता की उपासना नहीं करनी चाहिए।
  2. अपनी मुक्ति का दा केवल दस गुरु साहिबान, गुरु ग्रंथ साहिब जी तथा उसमें अंकित वाणी को मानना चाहिए।
  3. जाति-पाति, छुआछूत, मंत्र, श्राद्ध, दीवा, एकादशी, पूरनमाशी आदि के व्रत, तिलक, मूर्ति पूजा इत्यादि में विश्वास नहीं रखना।
  4. गुरु घर के बिना किसी अन्य धर्म के तीर्थ अथवा धाम को नहीं मानना।
  5. प्रत्येक कार्य करने से पूर्व वाहिगुरु के आगे अरदास करना।
  6. संतान को गुरसिखी की शिक्षा देना प्रत्येक सिख का कर्त्तव्य है।
  7. सिख भांग, अफीम, शराब, तंबाकू इत्यादि नशे का प्रयोग न करे।
  8. गुरु का सिख कन्या हत्या न करे। जो ऐसा करे उनके साथ संबंध न रखें।
  9. गुरु का सिख ईमानदारी की कमाई से अपना निर्वाह करे।
  10. चोरी, डाका एवं जुए आदि से दूर रहे।
  11. पराई बेटी को अपनी बेटी समझे, पराई स्त्री को अपनी माँ समझे।
  12. गुरु का सिख जन्म से लेकर देहांत तक गुरु मर्यादा में रहे।
  13. सिख, सिख को मिलते समय ‘वाहिगुरु जी का खालसा, वाहिगुरु जी की फतेह’ कहे।
  14. सिख स्त्रियों के लिए पर्दा अथवा चूंघट निकालना उचित नहीं।
  15. सिख के घर बालक के जन्म के पश्चात् परिवार व अन्य संबंधी गुरुद्वारे जा कर अकालपुरख का शुक्राना करें।
  16. लड़के के नाम के पीछे ‘सिंह’ तथा लड़की के नाम के पीछे ‘कौर’ शब्द लगाया जाए।
  17. सिखों का विवाह बिना किसी जाति-पाति अथवा गौत्र के विचार से होना चाहिए।
  18. सिख का विवाह ‘अनंदु’ रीति से करना चाहिए।
  19. बालक एवं बालिका का विवाह बचपन में करना प्रतिबंधित है। विवाह का दिन निश्चित करते समय अच्छे-बुरे दिन की खोज करना अथवा पत्री बनाना गुरमत्त के विरुद्ध है। इस संबंधी कोई भी दिन निश्चित किया जा सकता है।
  20. सेहरा, घड़ौली भरनी, रूठ जाना, छंद पढ़ने, हवन करना, वेश्या का नाच करवाना, शराब पीना गुरमत्त के विरुद्ध है।
  21. विवाह के समय गुरु ग्रंथ साहिब की हजूरी में दीवान हो। संगत अथवा रागी कीर्तन करें। फिर सम्बंधित वर एवं वधु को गुरु ग्रंथ साहिब जी की हजूरी में बैठाया जाए। संगत की अनुमति लेकर ‘अनंदु’ के आरंभ की अरदास की जाए।
  22. साधारणतयः सिख को एक स्त्री के होते हुए दूसरा विवाह नहीं करना चाहिए।
  23. प्राणी के देहांत के समय यदि वह चारपाई पर हो तो उसे नीचे नहीं उतारना चाहिए अथवा अन्य कोई गुरमत्त के विरुद्ध संस्कार नहीं करना चाहिए। केवल गुरवाणी का पाठ अथवा ‘वाहिगुरु’, ‘वाहिगुरु’ करना चाहिए।
  24. प्राणी के देहांत पर रोना एवं सियापा नहीं करना चाहिए।
  25. प्राणी चाहे छोटा हो अथवा बड़ा उसका संस्कार किया जाना चाहिए।
  26. संस्कार के लिए दिन अथवा रात का भ्रम नहीं करना चाहिए।
  27. दीवा, सियापा, पिंड क्रिया, श्राद्ध, बुड्डे का मरना आदि करना गुरमत्त के विरुद्ध हैं।
  28. सिखों को प्रत्येक प्रसन्नता अथवा गमी के अवसर पर जैसे नए गृह में प्रवेश करना, नई दुकान को खोलना, बालक को शिक्षा के लिए भेजना आदि के समय वाहिगुरु की सहायता के लिए अरदास की जानी चाहिए।
  29. सेवा सिख धर्म का एक विशेष अंग है। सेवा केवल पंखा करना तथा लंगर आदि से ही समाप्त नहीं हो जाती। सिख का संपूर्ण जीवन ही दूसरों की सेवा में व्यतीत होना चाहिए।
  30. प्रत्येक सिख को पाँच कक्कार केश, कंघा, कच्छा, कड़ा एवं कृपाण धारण करनी चाहिए।
  31. ये चार कुरीतियां नहीं करनी चाहिएँ—
    • केशों की बेअदबी।
    • कुट्ठा खाना
    • पर स्त्री-पुरुष का गमन
    • तंबाकू का प्रयोग।
      यदि इनमें से कोई आज्ञा भंग हो जाए तो उसे पुनः अमृत छकना पड़ेगा।।
  32. जिस सिख से रहित संबंधी कोई भूल हो जाए तो वह निकट के गुरुद्वारे में जाकर संगत के समक्ष अपनी भूल स्वीकार करे।
  33. गुरुमत्ता केवल उन प्रश्नों पर ही हो सकता है जो सिख धर्म के प्रारंभिक सिद्धांतों की पुष्टि के लिए हों। यह गुरमत्ता केवल गुरु पंथ द्वारा चुनी गई प्रतिनिधि सभा अथवा संगत द्वारा पास किया जा सकता है।

प्रश्न 2. “नैतिकता सिख जीवन पद्धति का आधार है।” प्रकाश डालिए। (“Morality is the base of the Sikh Way of Life.” Elucidate.)
अथवा
सिख धर्म के अनुसार नैतिक जीवन ही जीवन की कुंजी है। चर्चा करें। (According to Sikhism, Moral Life is Key of Life.)
अथवा
सिख धर्म में नैतिकता की विलक्षणता पर नोट लिखें।
(Write a note on the special features of Sikh Morality.)
अथवा
नैतिक जीवन ही सिख जीवन की कुंजी है। चर्चा करें। (Moral Life is the Key to Sikh Life. Discuss.)
अथवा
“सिख धर्म में नैतिकता सिख जीवनचर्या की कंजी है।” चर्चा कीजिए। (“Morality is the Key in Sikhism as per Sikh Way of Life.” Discuss.)
उत्तर-गुरुसिख की जीवन पद्धति
(Code of Conduct of Gursikh)
सिखों की जीवन पद्धति गुरमत्त के अनुसार होनी चाहिए। गुरमत्त यह है :—

  1. एक अकाल पुरुख (परमात्मा) के अतिरिक्त किसी अन्य देवी-देवता की उपासना नहीं करनी चाहिए।
  2. अपनी मुक्ति का दा केवल दस गुरु साहिबान, गुरु ग्रंथ साहिब जी तथा उसमें अंकित वाणी को मानना चाहिए।
  3. जाति-पाति, छुआछूत, मंत्र, श्राद्ध, दीवा, एकादशी, पूरनमाशी आदि के व्रत, तिलक, मूर्ति पूजा इत्यादि में विश्वास नहीं रखना।
  4. गुरु घर के बिना किसी अन्य धर्म के तीर्थ अथवा धाम को नहीं मानना।
  5. प्रत्येक कार्य करने से पूर्व वाहिगुरु के आगे अरदास करना।
  6. संतान को गुरसिखी की शिक्षा देना प्रत्येक सिख का कर्त्तव्य है।
  7. सिख भांग, अफीम, शराब, तंबाकू इत्यादि नशे का प्रयोग न करे।
  8. गुरु का सिख कन्या हत्या न करे। जो ऐसा करे उनके साथ संबंध न रखें।
  9. गुरु का सिख ईमानदारी की कमाई से अपना निर्वाह करे।
  10. चोरी, डाका एवं जुए आदि से दूर रहे।
  11. पराई बेटी को अपनी बेटी समझे, पराई स्त्री को अपनी माँ समझे।
  12. गुरु का सिख जन्म से लेकर देहांत तक गुरु मर्यादा में रहे।
  13. सिख, सिख को मिलते समय ‘वाहिगुरु जी का खालसा, वाहिगुरु जी की फतेह’ कहे।
  14. सिख स्त्रियों के लिए पर्दा अथवा चूंघट निकालना उचित नहीं।
  15. सिख के घर बालक के जन्म के पश्चात् परिवार व अन्य संबंधी गुरुद्वारे जा कर अकालपुरख का शुक्राना करें।
  16. लड़के के नाम के पीछे ‘सिंह’ तथा लड़की के नाम के पीछे ‘कौर’ शब्द लगाया जाए।
  17. सिखों का विवाह बिना किसी जाति-पाति अथवा गौत्र के विचार से होना चाहिए।
  18. सिख का विवाह ‘अनंदु’ रीति से करना चाहिए।
  19. बालक एवं बालिका का विवाह बचपन में करना प्रतिबंधित है। विवाह का दिन निश्चित करते समय अच्छे-बुरे दिन की खोज करना अथवा पत्री बनाना गुरमत्त के विरुद्ध है। इस संबंधी कोई भी दिन निश्चित किया जा सकता है।
  20. सेहरा, घड़ौली भरनी, रूठ जाना, छंद पढ़ने, हवन करना, वेश्या का नाच करवाना, शराब पीना गुरमत्त के विरुद्ध है।
  21. विवाह के समय गुरु ग्रंथ साहिब की हजूरी में दीवान हो। संगत अथवा रागी कीर्तन करें। फिर सम्बंधित वर एवं वधु को गुरु ग्रंथ साहिब जी की हजूरी में बैठाया जाए। संगत की अनुमति लेकर ‘अनंदु’ के आरंभ की अरदास की जाए।
  22. साधारणतयः सिख को एक स्त्री के होते हुए दूसरा विवाह नहीं करना चाहिए।
  23. प्राणी के देहांत के समय यदि वह चारपाई पर हो तो उसे नीचे नहीं उतारना चाहिए अथवा अन्य कोई गुरमत्त के विरुद्ध संस्कार नहीं करना चाहिए। केवल गुरवाणी का पाठ अथवा ‘वाहिगुरु’, ‘वाहिगुरु’ करना चाहिए।
  24. प्राणी के देहांत पर रोना एवं सियापा नहीं करना चाहिए।
  25. प्राणी चाहे छोटा हो अथवा बड़ा उसका संस्कार किया जाना चाहिए।
  26. संस्कार के लिए दिन अथवा रात का भ्रम नहीं करना चाहिए।
  27. दीवा, सियापा, पिंड क्रिया, श्राद्ध, बुड्डे का मरना आदि करना गुरमत्त के विरुद्ध हैं।
  28. सिखों को प्रत्येक प्रसन्नता अथवा गमी के अवसर पर जैसे नए गृह में प्रवेश करना, नई दुकान को खोलना, बालक को शिक्षा के लिए भेजना आदि के समय वाहिगुरु की सहायता के लिए अरदास की जानी चाहिए।
  29. सेवा सिख धर्म का एक विशेष अंग है। सेवा केवल पंखा करना तथा लंगर आदि से ही समाप्त नहीं हो जाती। सिख का संपूर्ण जीवन ही दूसरों की सेवा में व्यतीत होना चाहिए।
  30. प्रत्येक सिख को पाँच कक्कार केश, कंघा, कच्छा, कड़ा एवं कृपाण धारण करनी चाहिए।
  31. ये चार कुरीतियां नहीं करनी चाहिएँ—
    • केशों की बेअदबी।
    • कुट्ठा खाना
    • पर स्त्री-पुरुष का गमन
    • तंबाकू का प्रयोग।
      यदि इनमें से कोई आज्ञा भंग हो जाए तो उसे पुनः अमृत छकना पड़ेगा।।
  32. जिस सिख से रहित संबंधी कोई भूल हो जाए तो वह निकट के गुरुद्वारे में जाकर संगत के समक्ष अपनी भूल स्वीकार करे।
  33. गुरुमत्ता केवल उन प्रश्नों पर ही हो सकता है जो सिख धर्म के प्रारंभिक सिद्धांतों की पुष्टि के लिए हों। यह गुरमत्ता केवल गुरु पंथ द्वारा चुनी गई प्रतिनिधि सभा अथवा संगत द्वारा पास किया जा सकता है।

प्रश्न 3. मूल मंत्र की व्याख्या करें। मूल मंत्र गुरु-ग्रंथ साहिब में किस स्थान पर अंकित है ?
(Explain the Mul Mantra. Where is the Mul Mantra placed in the Guru Granth Sahib ?)
अथवा
मूल मंत्र की व्याख्या करते हुए सिख धर्म में परम सत्ता की एकता के सिद्धांत को स्पष्ट करें।
(Explain the Sikh doctrine of unity of God while discussing Mul Mantra.)
अथवा
सिख धर्म में एकेश्वरवाद से क्या भाव है ? मूल मंत्र का संक्षिप्त विवरण दीजिए।
(What is meant by Monotheism in Sikhism ? Give a brief account of Mul Mantra.)
अथवा
सिख धर्म में अकाल पुरुख (परमात्मा) के संकल्प का वर्णन करें। (Describe the concept of Akal Purkh (God) in Sikhism.)
अथवा
सिख धर्म में ‘मूल मंत्र’ क्या है ? व्याख्या करें। .
(What is the ‘Mul Mantra’ in Sikhism ? Explain.)
उत्तर-गुरु नानक देव जी की वाणी जपुजी साहिब की प्रारंभिक पंक्तियों को मूल मंत्र कहा जाता है। यह पंक्तियाँ हैं : १ ओंकार सतनाम करता पुरखु निरभउ निरवैरु अकाल मूरति अजूनि सैभं गुर प्रसादि ॥ जपु॥ आदि सच्चु जुगादि सच्चु है भी सच्चु नानक होसी भी सच्चु ॥ इन्हें गुरु नानक देव जी की शिक्षाओं का सार कहा जा सकता है। इसमें अकाल पुरुख (परमात्मा) के स्वरूप का वर्णन किया गया है। मूल मंत्र के अर्थ यह है-अकाल पुरुख केवल एक है। उसका नाम सच्चा है। वह सभी वस्तुओं का सृजनकर्ता है। वह अपनी सृष्टि में मौजूद है। प्रत्येक वस्तु का अस्तित्व उसी पर ही निर्भर करता है, वह डर एवं ईर्ष्या से मुक्त है। उस पर काल का प्रभाव नहीं होता। वह सदैव रहने वाला है। वह जन्म एवं मृत्यु से मुक्त है। उसका प्रकाश अपने आपसे है। उसे केवल गुरु की कृपा द्वारा ही प्राप्त किया जा सकता है। अकाल पुरुख के स्वरूप का संक्षेप वर्णन निम्न अनुसार है :—

1. ईश्वर एक है (God is One)-गुरुवाणी में बार-बार इस बात पर बल दिया गया है कि ईश्वर एक है यद्यपि उसे अनेक नामों से स्मरण किया जाता है। सिख परंपरा के अनुसार मूल मंत्र के आरंभ में जो अक्षर ‘एक ओ अंकार’ है वह ईश्वर की एकता का प्रतीक है। वह ईश्वर ही संसार की रचना करता है, उसका पालन पोषण करता है तथा उसका विनाश कर सकता है। इसी कारण कोई भी पीर, पैगंबर, अवतार, औलिया, ऋषि तथा मुनि इत्यादि उसका मुकाबला नहीं कर सकते। ये सभी उस ईश्वर के दरबार में एक भिखारी की तरह हैं। ईश्वर के सामने उनका दर्जा उसी प्रकार है जैसे तेज़मय सूर्य के सम्मुख एक लघु तारा। मुहम्मद, ब्रह्मा, विष्णु, महेश, राम तथा कृष्ण इत्यादि हज़ारों तथा लाखों हैं, किंतु ईश्वर एक है। अतः गुरवाणी में एक ईश्वर को छोड़कर किसी अन्य देवीदेवता की पूजा को वर्जित किया गया है। गुरु अमरदास जी फरमाते हैं,

सदा सदा सो सैविए जो सभ महि रिहा समाए॥
अवर दूजा किउं सैविए जन्मे ते मर जाए॥

2. निर्गुण तथा सर्गुण (Nirguna and Sarguna)-ईश्वर के दो रूप हैं। वह निर्गुण भी है तथा सर्गुण भी। सर्वप्रथम संसार में चारों ओर अंधकार था। उस समय कोई धरती अथवा आकाश जीव-जंतु इत्यादि नहीं थे। ईश्वर अपने आप में ही रहता था। यह ईश्वर का निर्गुण स्वरूप था। फिर जब उस ईश्वर के मन में आया तो उसके एक हुकम के साथ ही यह धरती, आकाश, चंद्रमा, सूर्य, पर्वत, दरिया, जंगल, मनुष्य, पशु-पक्षी तथा फूल इत्यादि अस्तित्व में आ गए। इस प्रकार ईश्वर ने अपना रूपमान (प्रकट) किया। इन सब में उसकी रोशनी देखी जा सकती है। यह ईश्वर का सर्गुण स्वरूप है। गुरु अर्जन देव जी फरमाते हैं,

बाजीगर जैसे बाजी पाई॥ नाना रूप भेख दिखलाई॥
सागु उतार थामिउ पसारा॥ तब ऐको एक ओ अंकारा॥

3. रचयिता, पालनकर्ता तथा नाशवानकर्ता (Creator, Sustainer and Destroyer)—ईश्वर ही इस संसार का रचयिता, पालनकर्ता और उसका विनाश करने वाला है। संसार की रचना से पूर्व कोई धरती, आकाश नहीं थे तथा चारों ओर अँधेरा ही अँधेरा था। केवल ईश्वर का हुक्म (आदेश) चलता था। जब उस ईश्वर के मन में आया तो उसने इस संसार की रचना की। उसके हुक्म के अनुसार ही संपूर्ण विश्व चलता है। ईश्वर ही सभी जीव-जंतुओं को रोजी-रोटी देता है तथा उनका पालनकर्ता है। ईश्वर की जब इच्छा हो तो वह इस संसार का विनाश कर सकता है तथा इसकी पुनः रचना कर सकता है। गुरु नानक देव जी फरमाते हैं,

आपीन्है आपु साजिओ आपीन्है रचिओ नाउ॥
दुयी कुदरित साजीऐ करि आसणु डिठो चाउ॥
दाता करता आपि तूं तुसि देवहि करहि पसाउ॥
तूं जाणोई सभसै दे ले सहि जिंदु कवाउ॥
करि आसणु डिठो चाउ॥

4. सर्वशक्तिमान (Sovereign)—ईश्वर सर्वशक्तिमान है। वह जो चाहता है वही होता है। उसकी इच्छा के विपरीत कुछ नहीं हो सकता। वह अपनी शक्तियों के लिए किसी पर भी आश्रित नहीं है। उसे किसी भी सहायता की आवश्यकता नहीं। वह स्वयं सभी का सहारा है। उसकी सर्वशक्तिमानता के संबंध में गुरवाणी में अनेक स्थानों पर उदाहरण मिलते हैं। वह जब चाहे भिखारी को सिंहासन पर बिठा सकता है और राजा को भिखारी बना सकता है। धरती-आकाश तथा सभी जीव-जंतु उसके हुक्म का पालन करते हैं। संक्षेप में कोई भी ऐसा कार्य नहीं जिसे वह ईश्वर करने के योग्य न हो।

5. निराकार तथा सर्वव्यापक (Formless and Omnipresent)ईश्वर निराकार है। उसका कोई आकार अथवा रंग रूप नहीं है। उसका शब्दों में वर्णन नहीं किया जा सकता। उसे न तो मूर्तिमान किया जा सकता है और न ही इन आँखों से देखा जा सकता है। इसके बावजूद वह सर्वव्यापक है। वह जल, थल और आकाश प्रत्येक जगह विद्यमान् है। उसे दिव्य दृष्टि से देखा जा सकता है। उसकी रोशनी सभी में मौजूद है। इसलिए वह सबके निकट है। उसे अपने से दूर न समझो। वह प्रत्येक स्थान पर मौजूद है। गुरु गोबिंद सिंह जी फरमाते हैं,

जलस तूही॥ थलस तूही॥ नदिस तूही॥ नदसु तूही॥
ब्रिछस तूही॥ पतस तूही॥ छितस तूही। उधरसु तूही॥

6. अमर (Immortal)-ईश्वर द्वारा रचित संसार नाशवान है। यह अस्थिर है। पर ईश्वर अमर है। वह आवागमन, जन्म-मृत्यु तथा समय आदि के चक्रों से मुक्त है। ईश्वर के दरबार में हज़ारों-लाखों मुहम्मद, ब्रह्मा, विष्णु और राम हाथ जोड़कर खड़े हैं। ये सभी नाशवान् हैं किंतु ईश्वर नहीं।
7. महानता (Greatness)-गुरुवाणी में अनेक स्थानों पर ईश्वर की महानता का वर्णन मिलता है। संसार में उससे बड़ा दानी कोई और नहीं है। उसका धन भंडार इतना है कि बाँटने से भी खाली नहीं होता। वह मनुष्यों को अतुल्य ख़जाने से मालामाल कर सकता है। वह शरण आए महापापियों को क्षमा कर सकता है। उस ईश्वर की महानता के बारे में हज़ारों तथा लाखों भक्तों तथा संतों ने गुणगान किया है। फिर भी यह उसके गुणों के भंडार का एक छोटा-सा भाग ही है। वास्तव में उसकी महानता अवर्णनीय है। उसकी महिमा, उसकी दया, उसका ज्ञान, उसके उपहार, वह क्या देखता और क्या सुनता है, इसका वर्णन नहीं किया जा सकता। वह अपनी महानता का ज्ञाता स्वयं है। गुरु नानक देव जी फरमाते हैं,

वडी वडिआई जा वडा नाउ॥
वडी वडिआई जा सचु निआउ॥
वडी वडिआई जा निहचल थाउ॥
वडी वडिआई जाणै आलाउ॥
वडी वडिआई बुझै सभि भाउ॥

8. न्यायशील (Just)—ईश्वर न्यायशील भी है। उसके दरबार में सभी को बिना किसी मतभेद के निष्पक्ष न्याय मिलता है। संसार के न्यायालयों में भ्रष्ट ढंग से अथवा उच्च पदों के अधिकारों का प्रयोग कर मनुष्य अपने पापों की सज़ा से बच सकता है, किंतु उस ईश्वर के न्यायालय में नहीं। वह मनुष्य द्वारा किए गए कर्मों को भली-भांति जानता है। इसलिए उसे किसी पड़ताल की आवश्यकता नहीं। वहाँ केवल सच्चाई से निपटारा होता है।

प्रश्न 4. नाम जपना, किरत करनी तथा बाँटकर छकना सिख धर्म के बुनियादी नियम हैं। व्याख्या करें।
(Remembering Divine Name, Honest Labour and Sharing With the Needy are the basis of the Sikh Way of Life. Discuss.)
अथवा
किरत करो, नाम जपो तथा बाँटकर छक्को के महत्त्व पर प्रकाश डालें। (Throw light on the importance of Kirat Karo, Nam Japo and Wand Chhako.)
अथवा
सिख धर्म में जीवन जाँच के निम्नलिखित आवश्यक अंश हैं—
(क) नाम जपना
(ख) किरत करना
(ग) बाँट कर छकना।
[Following are the necessary elements of life in Sikhism,
(a) Remembering Divine Name
(b) Honest Labour
(c) Sharing with the Others.]
अथवा
नाम जपना, किरत करना तथा बाँटकर छकना पर नोट लिखो।
(Write notes on the following : Nam Japna, Kirat-Karna, Wand Chhakna.)
उत्तर- नाम जपना, किरत करनी तथा बाँटकर छकना सिख धर्म के तीन बुनियादी सिद्धांत हैं। इन्हें यदि सिख धर्म की संपूर्ण शिक्षा का सार कह दिया जाए तो इसमें कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी। सिख धर्म में प्रत्येक सिख को अपना जीवन इन तीन सिद्धांतों के अनुसार व्यतीत करने की प्रेरणा दी गई है। इन सिद्धांतों से क्या भाव है तथा उनका क्या महत्त्व है इसका संक्षिप्त विवरण निम्न अनुसार है :—

1. नाम जपना (Remembering Divine Name) सिख धर्म में नाम की आराधना अथवा सिमरन को ईश्वर की भक्ति का सर्वोच्च रूप समझा गया है। गुरु नानक देव जी का कथन था कि नाम की आराधना से जहाँ मन के पाप दूर हो जाते हैं वहीं वह निर्मल हो जाता है। इस कारण मनुष्य के सभी कष्ट खत्म हो जाते हैं। उसकी सभी शंकाएँ दूर हो जाती हैं। नाम की आराधना से मनुष्य के सभी कार्य सहजता से होते चले जाते हैं क्योंकि ईश्वर स्वयं उसके सभी कार्यों में सहायता करता है। नाम की आराधना करने वाले जीव की आत्मा सदैव एक कमल के फूल की तरह होती है। नाम की आराधना करने वाला जीव इस भवसागर से पार हो जाता है तथा उसका आवागमन का चक्र समाप्त हो जाता है। नाम के बिना मनुष्य का इस संसार में आना व्यर्थ है। ऐसा मनुष्य सभी प्रकार के पापों और आवागमन के चक्र में फंसा रहता है। ईश्वर के दरबार में वह उसी प्रकार ध्वस्त हो जाता है जैसे भयंकर तूफान आने पर एक रेत का महल। ईश्वर के नाम का जाप पावन मन और सच्ची श्रद्धा से करना चाहिए। उस परमात्मा के नाम का जाप केवल वह मनुष्य ही कर सकता है जिस पर उसकी नदरि हो। ऐसे मनुष्य परमात्मा के दरबार में उज्ज्वल मुख के साथ जाते हैं। गुरु नानक साहिब जी फरमाते हैं,

माउ तेरा निरंकारु है नाइं लइए नरकि न जाईए॥
गुरु तेग़ बहादुर जी फरमाते हैं,
गुन गोबिंद गाइओ नहीं जनमु अकारथ कीन॥
कहु नानक हरि भजु मना जिह बिधि जल कउ मीन॥
बिखिअन सिउ काहे रचिओ निमख न होहि उदासु॥
कहु नानक भजु हरि मना परै न जम की फास॥

2. किरत करनी (Honest Labour)-किरत से भाव है मेहनत एवं ईमानदारी की कमाई करना। किरत करना अत्यंत आवश्यक है। यह परमात्मा का हुक्म (आदेश) है। हम प्रतिदिन देखते हैं कि विश्व का प्रत्येक जीवजंतु किरत करके अपना पेट पाल रहा है। इसलिए मानव के लिए किरत करने की आवश्यकता सबसे अधिक है क्योंकि वह सभी जीवों का सरदार है। शरीर जिसमें उस परमात्मा का निवास है को स्वास्थ्यपूर्ण रखने के लिए किरत करनी आवश्यक है। जो व्यक्ति किरत नहीं करता वह अपने शरीर को हृष्ट-पुष्ट नहीं रख सकता। ऐसा व्यक्ति वास्तव में उस परमात्मा के विरुद्ध गुनाह करता है। गुरु नानक देव जी स्वयं कृषि का कार्य करके अपनी किरत करते थे। उन्होंने सैदपुर में मलिक भागो का ब्रह्म भोज छकने की अपेक्षा भाई लालो की सूखी रोटी को खुशीखुशी स्वीकार किया। इसका कारण यह था कि भाई लालो एक सच्चा किरती था। सिखों के लिए कोई भी व्यवसाय करने पर प्रतिबंध नहीं। वह कृषि, व्यापार, दस्तकार, सेवा, नौकरी इत्यादि किसी भी व्यवसाय को अपना सकता है। किंतु उसके लिए चोरी, ठगी, डाका, धोखा, रिश्वत तथा पाप की कमाई करना सख्त मना है।
3. बाँट छकना (Sharing with the Needy)-सिख धर्म में बाँट छकने के सिद्धांत को काफी महत्त्व दिया गया है। बाँट छकने से भाव आवश्यक लोगों के साथ बाँटो। सिख धर्म खा कर पीछे बाँटने की नहीं अपितु पहले बाँटकर बाद में खाने की शिक्षा देता है। इसमें दूसरों को भी अपना भाई-बहन समझने तथा उन्हें पहले बाँटने की प्रेरणा दी गई है। गुरु नानक साहिब जी फरमाते हैं,

घालि खाए कुछ हथों देइ॥
नानक राह पछाणे सेइ॥

दान देने अथवा बाँट के खाने के लिए केवल वही व्यक्ति सफल है जो श्रम की कमाई करके दान देता है। सिख धर्म में दसवंध देने का हुक्म है। इससे भाव यह है कि आप अपनी कमाई (आय) का दसवाँ हिस्सा लोक कल्याण कार्यों के लिए खर्च करें। गुरु अर्जुन देव जी ने कहा है,

ददा दाता एक है, सभ को देवनहारु॥
देदे तोटि न आवइ, अगनत भरे भंडार॥

प्रश्न 5. सिख धर्म में संगत का महत्त्व दर्शाएँ।
(Explain the importance of Sangat in Sikhism.)
अथवा
सिख धर्म के अनुसार ‘संगत’ के संकल्प का वर्णन करें। (Describe the Concept of Sangat in Sikhism.)
उत्तर-संगत अथवा साध संगत को सिखी जीवन का थम्म माना जाता है। इस महत्त्वपूर्ण संस्था की नींव गुरु नानक देव जी ने करतारपुर में रखी। उन्होंने जहाँ-जहाँ भी चरण डाले वहाँ-वहाँ संगत की स्थापना होती चली गई। संगत से भाव है “गुरमुख प्यारों का वह इकट्ठ (एकत्रता) जहाँ उस परमात्मा की प्रशंसा की जाती हो।” संगत में प्रत्येक स्त्री अथवा पुरुष बिना किसी जाति, नस्ल, रंग, धर्म, अमीर, ग़रीब इत्यादि के मतभेद के सम्मिलित हो सकते हैं। संगत के लक्षण बताते हुए गुरु नानक साहिब फरमाते हैं,

सति संगत कैसी जाणिए। जिथै ऐकौ नाम वखाणिए॥
एकौ नाम हुक्म है नानक सतिगुरु दीया बुझाए जीउ॥

सिख धर्म में यह भावना काम करती है कि संगत में वह परमात्मा स्वयं उसमें निवास करता है। इस कारण संगत में जाने वाले मनुष्य की काया कल्प हो जाती है। उसके मन की सभी दुष्ट भावनाएँ दूर हो जाती हैं। काम, क्रोध, लोभ, मोह तथा अहंकार का नाश हो जाता है तथा सति, संतोष, दया, धर्म तथा सच्च इत्यादि दैवी गुणों का मनुष्य के मन में प्रवेश होता है। हउमै दूर हो जाती है तथा ज्ञान का प्रकाश होता है। संगत में जाकर बड़े से बड़े पापी के भी पाप धुल जाते हैं। गुरु रामदास जी का कथन है कि जैसे पारस की छोह के साथ मनूर सोना बन जाता है ठीक उसी प्रकार पापी व्यक्ति भी संगत में जाने से पवित्र हो जाता है। गुरु रामदास जी फरमाते हैं।

जिउ छूह पारस मनूर भये कंचन॥
तिउ पतित जन मिल संगति॥

संगत में ऐसी शक्ति है कि लंगड़े भी पहाड़ चढ़ सकने के योग्य हो जाते हैं। मूर्ख सूझवान बातें करने लगते हैं। अंधों को तीनों लोकों का ज्ञान हो जाता है। मनुष्य के मन की सारी मैल उतर जाती है। उसकी सभी मनोकामनाएँ पूर्ण हो जाती हैं तथा पूर्ण परमानंद की प्राप्ति होती है। उसे प्रत्येक जीव में उस ईश्वर की झलक दिखाई देती है। उसके लिए अपने-पराए का कोई भेद-भाव नहीं रहता तथा सबके साथ साँझ पैदा हो जाती है। गुरु अर्जन देव जी फरमाते हैं,

बिसरि गयी सब तातु परायी॥
जब ते साध संगत मोहि पायी ॥रहाउ॥
न को बैरी नाही बिगाना॥
सगल संग हम को बन आयी।

संगत के मिलने से मनुष्य इस भवसागर से पार हो जाता है। यमदूत निकट आने का साहस नहीं करते। मनुष्य के सभी भ्रम दूर हो जाते हैं। उसका हउमै जैसा दीर्घ रोग भी ठीक हो जाता है। संगत में बैठने से मन को उसी प्रकार शांति प्राप्त होती है जैसे ग्रीष्म ऋतु में एक घना वृक्ष शरीर को ठंडक पहुँचाता है। संगत में केवल वे मनुष्य ही जाते हैं जिन पर उस परमात्मा की नदरि (कृपा) हो । संगत का लाभ केवल उन मनुष्यों को ही मिलता है जिनका मन निर्मल हो। जो मनुष्य अहंकार के साथ संगत में जाते हैं उन्हें कुछ प्राप्त नहीं होता। इस संबंध में भक्त कबीर जी चंदन तथा बाँस की उदाहरण देते हैं। आपका कथन है कि जहाँ संपूर्ण वनस्पति चंदन से खुशबू प्राप्त करती है वहीं पास खड़ा हुआ बाँस अपनी ऊँचाई तथा अंदर से खोखला होने के कारण चंदन की खुशबू प्राप्त नहीं कर सकता।
जो मनुष्य संगत में नहीं जाता उसका इस संसार में जन्म लेना व्यर्थ है। उसे अनेक कष्ट सहन करने पड़ते हैं। वे कभी मुक्ति प्राप्त नहीं कर सकते तथा अनेक योनियों में भटकते रहते हैं। गुरु रामदास जी फरमाते हैं,

बिन भागां सति संग न लभे॥
बिन संगत मैल भरीजै जिउ॥

प्रश्न 6. सिख धर्म में पंगत का महत्त्व दर्शाएँ।
(Explain the importance of Pangat in Sikhism.)
अथवा
सिख धर्म में पंगत के संकल्प का वर्णन करें। (Describe the Concept of Pangat in Sikhism.)
उत्तर-सिख पंथ के विकास में पंगत प्रथा का बहुत प्रशंसनीय योगदान है। पंगत से अभिप्राय है एक पंक्ति में बैठ कर लंगर छकना। गुरु नानक देव जी ने इस महत्त्वपूर्ण संस्था की नींव करतारपुर में रखी थी। पंगत में कोई भी स्त्री अथवा पुरुष किसी जाति, धर्म, नस्ल, ऊँच-नीच इत्यादि के मतभेद के बिना सम्मिलित हो सकता था। इसमें प्रत्येक को सेवा करने का बराबर अधिकार है।
पंगत की स्थापना गुरु नानक देव जी का एक क्रांतिकारी पग था। ऐसा करके उन्होंने ब्राह्मणों को शूद्रों के हाथों भोजन करवा दिया। इसका उद्देश्य भारतीय समाज में प्रचलित उस जाति प्रथा का अंत करना था जिसने इसे घुण की तरह खा कर भीतर से खोखला बना दिया था। ऐसा करके गुरु नानक देव जी ने समानता के सिद्धांत को व्यावहारिक रूप दिया। इस कारण सिखों में आपसी भाईचारे की भावना का विकास हुआ। इसने पिछड़ी हुई श्रेणियों को जो शताब्दियों से उच्च जाति के लोगों द्वारा शोषित की जा रही थीं को एक सम्मान दिया। लंगर के लिए सारा धन गुरु के सिख देते थे। इसलिए उन्हें वान देने की आदत पड़ी। पंगत प्रथा के कारण सिख धर्म की लोकप्रियता दूर-दूर तक फैली। पंगत के महत्त्व के संबंध में गुरु नानक देव जी फरमाते हैं,

घाल खाए कुछ हथों देइ॥
नानक राहु पछाणे सेइ॥

गुरु अंगद देव जी ने पंगत प्रथा का विकास किया। उनकी पत्नी बीबी खीवी जी खडूर साहिब में लंगर के संपूर्ण प्रबंध की देखभाल स्वयं करती थीं। गुरु अमरदास जी ने लंगर संस्था का विस्तार किया। उन्होंने यह घोषणा की कि जो कोई भी उनके दर्शन करना चाहता है उसे पहले पंगत में लंगर छकना पड़ेगा। ऐसा इसलिए किया गया कि सिखों में व्याप्त छुआछूत की भावना का सदैव के लिए अंत कर दिया जाए। मुग़ल बादशाह अकबर तथा हरीपुर के राजा ने भी गुरु जी से भेंट से पूर्व पंगत में बैठ कर लंगर छका था। गुरु अमरदास जी का कथन था कि भूखे को अन्न तथा नंगे को वस्त्र देना हज़ारों हवनों तथा यज्ञों से बेहतर है।।
गुरु रामदास जी ने रामदासपुर (अमृतसर) में पंगत संस्था को पूर्ण उत्साह के साथ जारी रखा। उन्होंने गुरु के लंगर तथा अन्य आवश्यक कार्यों के लिए सिखों से धन एकत्र करने के उद्देश्य से मसंद प्रथा की स्थापना की। गुरु अर्जन देव जी ने सिखों को दसवंद देने के लिए कहा। उनके समय उनकी पत्नी माता गंगा जी लंगर प्रबंध की देखभाल करती थीं। उनके समय मंडी, कुल्लू, सुकेत, हरीपुर तथा चंबा रियासतों के शासकों तथा मुग़ल बादशाह अकबर को लंगर छकने का सम्मान प्राप्त हुआ।
गुरु हरगोबिंद जी ने पंगत प्रथा को जारी रखा। उन्होंने सेना में भी गुरु का लंगर बाँटने की प्रथा आरंभ की। गुरु हरराय जी ने यह घोषणा की कि लंगर की मर्यादा तब ही सफल मानी जा सकती है यदि कोई यात्री देर से भी पहुँचे तो उसे तुरंत लंगर तैयार करके छकाया जाए। इसके अतिरिक्त आप जी ने यह भी कहा कि लंगर के आरंभ होने से पूर्व नगारा ज़रूर बजाया जाए ताकि लंगर के लिए न्यौते की सूचना सभी को मिल जाए। गुरु हरकृष्ण जी के समय, गुरु तेग़ बहादुर जी के समय तथा गुरु गोबिंद सिंह जी के समय पंगत प्रथा जारी रही। यह प्रथा उस समय की तरह आज भी न केवल भारत, अपितु विश्व में जहाँ कहीं भी सिख गुरुद्वारा है उसी श्रद्धा तथा उत्साह के साथ जारी है।

प्रश्न 7. सिख जीवनयापन की पद्धति में ‘संगत’ तथा ‘पंगत’ के महत्त्व के विषय में चर्चा कीजिए।
(Discuss the importance of ‘Sangat’ and ‘Pangat’ in the Sikh Way of Life.)
अथवा
सिख धर्म में ‘संगत’ तथा ‘पंगत’ (पंक्ति) से क्या अभिप्राय है ? चर्चा कीजिए।
(What is meant by the Concept of ‘Sangat and Pangat’ in Sikhism ? Discuss.)
अथवा
सिख जीवन जाँच में संगत और पंगत के महत्त्व के बारे में चर्चा कीजिए। (Discuss the importance of Sangat and Pangat in Sikh Way of Life.) उत्तर-संगत अथवा साध संगत को सिखी जीवन का थम्म माना जाता है। इस महत्त्वपूर्ण संस्था की नींव गुरु नानक देव जी ने करतारपुर में रखी। उन्होंने जहाँ-जहाँ भी चरण डाले वहाँ-वहाँ संगत की स्थापना होती चली गई। संगत से भाव है “गुरमुख प्यारों का वह इकट्ठ (एकत्रता) जहाँ उस परमात्मा की प्रशंसा की जाती हो।” संगत में प्रत्येक स्त्री अथवा पुरुष बिना किसी जाति, नस्ल, रंग, धर्म, अमीर, ग़रीब इत्यादि के मतभेद के सम्मिलित हो सकते हैं। संगत के लक्षण बताते हुए गुरु नानक साहिब फरमाते हैं,

सति संगत कैसी जाणिए। जिथै ऐकौ नाम वखाणिए॥
एकौ नाम हुक्म है नानक सतिगुरु दीया बुझाए जीउ॥

सिख धर्म में यह भावना काम करती है कि संगत में वह परमात्मा स्वयं उसमें निवास करता है। इस कारण संगत में जाने वाले मनुष्य की काया कल्प हो जाती है। उसके मन की सभी दुष्ट भावनाएँ दूर हो जाती हैं। काम, क्रोध, लोभ, मोह तथा अहंकार का नाश हो जाता है तथा सति, संतोष, दया, धर्म तथा सच्च इत्यादि दैवी गुणों का मनुष्य के मन में प्रवेश होता है। हउमै दूर हो जाती है तथा ज्ञान का प्रकाश होता है। संगत में जाकर बड़े से बड़े पापी के भी पाप धुल जाते हैं। गुरु रामदास जी का कथन है कि जैसे पारस की छोह के साथ मनूर सोना बन जाता है ठीक उसी प्रकार पापी व्यक्ति भी संगत में जाने से पवित्र हो जाता है। गुरु रामदास जी फरमाते हैं।

जिउ छूह पारस मनूर भये कंचन॥
तिउ पतित जन मिल संगति॥

संगत में ऐसी शक्ति है कि लंगड़े भी पहाड़ चढ़ सकने के योग्य हो जाते हैं। मूर्ख सूझवान बातें करने लगते हैं। अंधों को तीनों लोकों का ज्ञान हो जाता है। मनुष्य के मन की सारी मैल उतर जाती है। उसकी सभी मनोकामनाएँ पूर्ण हो जाती हैं तथा पूर्ण परमानंद की प्राप्ति होती है। उसे प्रत्येक जीव में उस ईश्वर की झलक दिखाई देती है। उसके लिए अपने-पराए का कोई भेद-भाव नहीं रहता तथा सबके साथ साँझ पैदा हो जाती है। गुरु अर्जन देव जी फरमाते हैं,

बिसरि गयी सब तातु परायी॥
जब ते साध संगत मोहि पायी ॥रहाउ॥
न को बैरी नाही बिगाना॥
सगल संग हम को बन आयी।

संगत के मिलने से मनुष्य इस भवसागर से पार हो जाता है। यमदूत निकट आने का साहस नहीं करते। मनुष्य के सभी भ्रम दूर हो जाते हैं। उसका हउमै जैसा दीर्घ रोग भी ठीक हो जाता है। संगत में बैठने से मन को उसी प्रकार शांति प्राप्त होती है जैसे ग्रीष्म ऋतु में एक घना वृक्ष शरीर को ठंडक पहुँचाता है। संगत में केवल वे मनुष्य ही जाते हैं जिन पर उस परमात्मा की नदरि (कृपा) हो । संगत का लाभ केवल उन मनुष्यों को ही मिलता है जिनका मन निर्मल हो। जो मनुष्य अहंकार के साथ संगत में जाते हैं उन्हें कुछ प्राप्त नहीं होता। इस संबंध में भक्त कबीर जी चंदन तथा बाँस की उदाहरण देते हैं। आपका कथन है कि जहाँ संपूर्ण वनस्पति चंदन से खुशबू प्राप्त करती है वहीं पास खड़ा हुआ बाँस अपनी ऊँचाई तथा अंदर से खोखला होने के कारण चंदन की खुशबू प्राप्त नहीं कर सकता।
जो मनुष्य संगत में नहीं जाता उसका इस संसार में जन्म लेना व्यर्थ है। उसे अनेक कष्ट सहन करने पड़ते हैं। वे कभी मुक्ति प्राप्त नहीं कर सकते तथा अनेक योनियों में भटकते रहते हैं। गुरु रामदास जी फरमाते हैं,

बिन भागां सति संग न लभे॥
बिन संगत मैल भरीजै जिउ॥

सिख पंथ के विकास में पंगत प्रथा का बहुत प्रशंसनीय योगदान है। पंगत से अभिप्राय है एक पंक्ति में बैठ कर लंगर छकना। गुरु नानक देव जी ने इस महत्त्वपूर्ण संस्था की नींव करतारपुर में रखी थी। पंगत में कोई भी स्त्री अथवा पुरुष किसी जाति, धर्म, नस्ल, ऊँच-नीच इत्यादि के मतभेद के बिना सम्मिलित हो सकता था। इसमें प्रत्येक को सेवा करने का बराबर अधिकार है।
पंगत की स्थापना गुरु नानक देव जी का एक क्रांतिकारी पग था। ऐसा करके उन्होंने ब्राह्मणों को शूद्रों के हाथों भोजन करवा दिया। इसका उद्देश्य भारतीय समाज में प्रचलित उस जाति प्रथा का अंत करना था जिसने इसे घुण की तरह खा कर भीतर से खोखला बना दिया था। ऐसा करके गुरु नानक देव जी ने समानता के सिद्धांत को व्यावहारिक रूप दिया। इस कारण सिखों में आपसी भाईचारे की भावना का विकास हुआ। इसने पिछड़ी हुई श्रेणियों को जो शताब्दियों से उच्च जाति के लोगों द्वारा शोषित की जा रही थीं को एक सम्मान दिया। लंगर के लिए सारा धन गुरु के सिख देते थे। इसलिए उन्हें वान देने की आदत पड़ी। पंगत प्रथा के कारण सिख धर्म की लोकप्रियता दूर-दूर तक फैली। पंगत के महत्त्व के संबंध में गुरु नानक देव जी फरमाते हैं,

घाल खाए कुछ हथों देइ॥
नानक राहु पछाणे सेइ॥

गुरु अंगद देव जी ने पंगत प्रथा का विकास किया। उनकी पत्नी बीबी खीवी जी खडूर साहिब में लंगर के संपूर्ण प्रबंध की देखभाल स्वयं करती थीं। गुरु अमरदास जी ने लंगर संस्था का विस्तार किया। उन्होंने यह घोषणा की कि जो कोई भी उनके दर्शन करना चाहता है उसे पहले पंगत में लंगर छकना पड़ेगा। ऐसा इसलिए किया गया कि सिखों में व्याप्त छुआछूत की भावना का सदैव के लिए अंत कर दिया जाए। मुग़ल बादशाह अकबर तथा हरीपुर के राजा ने भी गुरु जी से भेंट से पूर्व पंगत में बैठ कर लंगर छका था। गुरु अमरदास जी का कथन था कि भूखे को अन्न तथा नंगे को वस्त्र देना हज़ारों हवनों तथा यज्ञों से बेहतर है।।
गुरु रामदास जी ने रामदासपुर (अमृतसर) में पंगत संस्था को पूर्ण उत्साह के साथ जारी रखा। उन्होंने गुरु के लंगर तथा अन्य आवश्यक कार्यों के लिए सिखों से धन एकत्र करने के उद्देश्य से मसंद प्रथा की स्थापना की। गुरु अर्जन देव जी ने सिखों को दसवंद देने के लिए कहा। उनके समय उनकी पत्नी माता गंगा जी लंगर प्रबंध की देखभाल करती थीं। उनके समय मंडी, कुल्लू, सुकेत, हरीपुर तथा चंबा रियासतों के शासकों तथा मुग़ल बादशाह अकबर को लंगर छकने का सम्मान प्राप्त हुआ।
गुरु हरगोबिंद जी ने पंगत प्रथा को जारी रखा। उन्होंने सेना में भी गुरु का लंगर बाँटने की प्रथा आरंभ की। गुरु हरराय जी ने यह घोषणा की कि लंगर की मर्यादा तब ही सफल मानी जा सकती है यदि कोई यात्री देर से भी पहुँचे तो उसे तुरंत लंगर तैयार करके छकाया जाए। इसके अतिरिक्त आप जी ने यह भी कहा कि लंगर के आरंभ होने से पूर्व नगारा ज़रूर बजाया जाए ताकि लंगर के लिए न्यौते की सूचना सभी को मिल जाए। गुरु हरकृष्ण जी के समय, गुरु तेग़ बहादुर जी के समय तथा गुरु गोबिंद सिंह जी के समय पंगत प्रथा जारी रही। यह प्रथा उस समय की तरह आज भी न केवल भारत, अपितु विश्व में जहाँ कहीं भी सिख गुरुद्वारा है उसी श्रद्धा तथा उत्साह के साथ जारी है।

प्रश्न 8. सिख धर्म में हवम संकल्प का वर्णन करें।
(Describe the Concept of Hukam in Sikhism.)
उत्तर-हुक्म सिख दर्शन का एक महत्त्वपूर्ण संकल्प है। हुक्म अरबी भाषा का शब्द है जिसके अर्थ है आज्ञा, फरमान अथवा आदेश। गुरुवाणी में अनेक स्थानों पर उस परमात्मा के हुक्म को मीठा करके मानने को कहा गया है। हुक्म से भाव उस परम विधान से है जिसके अनुसार संपूर्ण विश्व एक विशेष विधि के अनुसार कार्य कर रहा है।
गुरु नानक देव जी ‘जपुजी’ में लिखते हैं कि संपूर्ण सृष्टि की उत्पत्ति परमात्मा के हुक्म के अनुसार हुई है। हुक्म के कारण ही जीव को प्रशंसा अथवा बदनामी मिलती है। हुक्म के कारण ही वह अच्छे-बुरे बनते हैं तथा दुःखसुख प्राप्त करते हैं। हुक्म के कारण वे पापों से मुक्त हो सकते हैं अथवा वे आवागमन के चक्र में भटकते रहते हैं। उसके हुक्म के बिना पत्ता तक नहीं हिल सकता। वास्तव में सृष्टि की सभी गतिविधियों दिन-रात, जल-धरती, वायु-अग्नि, चंद्रमा-सूर्य, लोक-परलोक पर उसका हुक्म चलता है। गुरु नानक देव जी फरमाते है,

हुकमै आवे हुकमै जाए॥
आगे पाछे हुकम समाए॥

संसार में उस मनुष्य का आना सफल है जिसने उस परमात्मा के हुक्म की पहचान की है। हुक्म को केवल वह मनुष्य पहचान सकता है जिसने हउमै का त्याग कर दिया हो तथा जि में उस परमात्मा के नाम का बसेरा हो। वह मनुष्य जीवन में घटित होने वाली प्रत्येक प्रसन्नता अथवा गमगीन घटना को उस परमात्मा का हुक्म समझकर सहर्ष स्वीकार करता है। गुरु अर्जन देव जी फरमाते हैं,

जिउ जिउ तेरा हुकम तिवें तिउ हौवणा॥
जह जह रखै आप तह जाए खड़ोवणा॥

हुक्म की पहचान करने वाले मनुष्य पर उस परमात्मा की नदरि होती है। उसे किसी प्रकार की कोई चिंता नहीं होती क्योंकि वह जानता है कि जो कुछ घटित हो रहा है वह उस परमात्मा के अटल हुक्म के अनुसार ही हो रहा है। मनुष्य के अपने हाथों में कुछ भी नहीं है। ऐसे मनुष्य का मन सदैव शाँत रहता है तथा उसकी प्रत्येक प्रकार की तृष्णा समाप्त हो जाती है। गुरु नानक देव जी फरमाते हैं,

हुकमि मंनिए होवै परवाणु ता खसमै का महलु पाइसी॥
खसमै भावे सो करे मनहु चिंदिआ सो फलु पाइसी॥
ता दरगाह पैंधा जाइसी॥

जो व्यक्ति उस परमात्मा के हुक्म को नहीं मानते वे न केवल इस जन्म में घोर दुःखों का सामना करते हैं, अपितु आवागमन के चक्र में फंसे रहते हैं। उसके हुक्म की अवज्ञा करने वालों को यमदूतों से घोर मार (पिटाई) पड़ती है। ऐसे व्यक्तियों को कभी सुख नहीं मिलता तथा उनका इस संसार में आमा व्यर्थ जाता है। गुरु अमरदास जी फरमाते हैं,

मनमुख अंध करे चतुराई॥
भाणा न मने बहुत दुःख पाई॥
भरमे भूला आवै जावै॥

अत: गुरुवाणी में अपने हउमै का त्याग कर मनुष्य को उस परमात्मा के हुक्म की पालना करने का आदेश दिया गया है, क्योंकि उस परमात्मा का हुक्म अटल है इसलिए उसका पालन करने वाला व्यक्ति ही इस संसार से मुक्ति प्राप्त कर सकता है।

प्रश्न 9. “अहं दीर्घ रोग है।” कैसे ? इसको दूर करने के क्या उपाय हैं ? (“‘Ego is a deep rooted disease.” How ? What are the means to remove it ?)
अथवा
सिख धर्म में ‘हउमै’ की अवधारणा का वर्णन करो।
(Describe the Concept of Ego in Sikhism.)
उत्तर-सिख दर्शन में हउमै (अहं) की व्याख्या बार-बार आती है। हउमै से तात्पर्य ‘अहंकार’ अथवा ‘मैं’ से है। यह एक ऐसी चारदीवारी है जो जीव आत्मा को उस सर्व-व्यापक परमात्मा से पृथक् करती है। यदि हम हउमै को आदमी की मैं का एक मज़बूत किला कहें तो यह अतिश्योक्ति नहीं होगी।
हउमै के कारण मनुष्य अपने विचारों द्वारा अपने एक अलग संसार की रचना कर लेता है। इसमें उसका अपनत्व और मैं बहुत ही प्रबल होती है। इस प्रकार उसका संसार बेटे, बेटियों, भाइयों, भतीजों, बहनों-बहनोइयों, मातापिता, सास-ससुर, जवाई, पति-पत्नी आदि के साथ संबंधित पास अथवा दूर की रिश्तेदारियों तक ही सीमित रहता है। यदि थोड़ी सी अपनत्व की डोर लंबी कर ली जाए तो इस निजी संसार में सज्जन-मित्र भी शामिल कर लिए जाते हैं। परंतु आखिर में इस संसार की सीमा निजी जान पहचान तक पहुँच कर समाप्त हो जाती है। इस निजी संसार की रचना के कारण मनुष्य में हउमै की भावना उत्पन्न होती है और वह अपने आपको इस आडंबर का मालिक समझने लगता है। परिणामस्वरूप वह अपने असली अस्तित्व को भूल जाता है।
हउमै एक दीर्घ रोग है, जो कैंसर की तरह जब एक बार जड़ पकड़ लेता है तो उसका अंत करना मुश्किल होता है। यह पाँच मनोविकारों-काम, क्रोध, लोभ, मोह और अहंकार का जन्मदाता है। ऐसा मनुष्य कई प्रकार के झूठ बोलता है, पाखंड करता है और कई प्रकार के छलावे का सहारा लेता है। परिणामस्वरूप शैतानियत का जन्म होता है। यह इतना भयानक रूप ले लेती है कि जीवन नरक बन जाता है। हउमै से भरा जीव उस परम पिता परमात्मा से दूर हो जाता है और वह जीवन-मरण के चक्र से कभी छुटकारा नहीं पाता। हउमै के प्रभाव में जीव क्या-क्या करता है ? इसका उत्तर गुरु नानक देव जी देते हैं कि जीव के सारे कार्य हऊमै के बंधन में बंधे होते हैं। वह हउमै में जन्म लेता है, मरता है, देता है, लेता है, कमाता है, गंवाता है, कभी सच बोलता है और कभी झूठ, पाप-पुण्य, स्वर्ग-नरक का हिसाब करता है, समझदारी और मूर्खता भी हउमै के तराजू में तौलता है। हउमै के कारण ही वह मुक्ति के सार को नहीं जान पाता। यदि वह हऊमै को जान ले तो उसे परमात्मा के दरबार के दर्शन हो सकते हैं। अज्ञानता के कारण मनुष्य झगड़ता है। कर्म के अनुसार ही लेख लिखे जाते हैं। जो जैसा कर्म करता है उसे वैसा ही फल मिलता है। गुरु नानक देव जी फरमाते हैं,

हउ विचि आइआ हउ विचि गइआ॥
हउ विचि जंमिआ हउ विचि मुआ॥
हउ विचि दिता हउ विचि लइआ॥
हउ विचि खोटआ हउ विचि गइआ॥
हउ विचि सचिआरु. कूड़िआरु ॥
हउ विचि पाप पुनं वीचारु ॥
हउ विचि नरकि सुरगि अवतारु॥
हउ विचि हसे हउ विचि रोवै॥
हउ विचि भरीऐ हउ विचि धोवै॥
हउ विचि जाती जिनसी खोवै॥
हउ विचि मूरखु हउ विचि सिआणा॥
मोख मुकति की सार न जाणा॥
हउ विचि माइआ हउ विचि छाइआ॥
हउमै करि करि जंत उपाइया।
ह उमै बूझै ता दरु सूझै ॥
गिआन विहणा कथि कथि लूझै॥
नानक हुक मी लिखीए लेखु॥
जेहा वेखहि तेहा वेखु॥

हउमै के कारण मनुष्य के सभी अच्छे कर्म नष्ट हो जाते हैं। परिणामस्वरूप उसकी आत्मा दुःखी होती है। इसका मनुष्य को तब पता चलता है जब वह वृद्ध हो जाता है। उस समय मनुष्य की सभी इंद्रियां जवाब दे चुकी होती हैं। जिन्हें अपना मानकर उसने कई पाप किये होते हैं तथा जिन पर उसके कई अहसान होते हैं वे ही उससे मुख । मोड़ लेते हैं। परिणामस्वरूप उसे भारी आघात पहुँचता है तथा वह अपने किए पर पछताता है। परन्तु अब वह कुछ . करने योग्य नहीं रह जाता और उसे चारों तरफ अंधकार ही अंधकार नज़र आने लगता है।
निस्संदेह हउमै एक दीर्घ रोग है पर उसे ला-इलाज नहीं कहा जा सकता। हउमै से छुटकारा पाने के लिए सबसे पहले इसे समझना अति आवश्यक है। साध-संगत में जाना, जाप करना, आत्म मंथन करना, वैराग्य अपनाना, सेवा, ईर्ष्या का त्याग तथा सत्य से प्यार, आदि ऐसे साधन हैं जिन पर चलकर हउमै से मुक्ति प्राप्त की जा सकती है। गुरु अंगद साहिब जी फरमाते हैं,

हउमै दीरघ रोग है दारु भी इस माहि॥
किरपा करे जे आपणी ता गुरु का सबदु कमाहि॥
नानकु कहै सुणहु जनहु इतु संजमि दुख जाहि॥

जब तक मनुष्य के अंदर हउमै है वह ‘नाम’ के महत्त्व को पहचान नहीं सकता और वह भक्त नहीं बन सकता। ये दोनों एक ही स्थान पर इकट्ठा नहीं रह सकते। हउमै संबंधी गुरु अमरदास जी फरमाते हैं,

हउमै नावे नाल विरोध है दुइ न वसहि इक ठाहि॥
ह उमै सेव न होवई ता मन विरथा जाहि॥
हर चेत मन मेरे तु गुर का शब्द कमाहि ॥
हुकमि मनहि ता हरि मिले ता विचहु हउमै जाहि॥ रहाउ॥

प्रश्न 10. सिख धर्म में सिमरन का महत्त्व बयान करें। (Describe the importance of Simran in Sikhism.)
अथवा
सिमरन से क्या भाव है ? इसके क्या लाभ हैं ?
(What is meant by Simran ? What are its benefits ?)
अथवा
सिख धर्म के नाम के संकल्प पर नोट लिखें।
(Write a note on the Concept of Nam in Sikhism.)
उत्तर-सिमरन अथवा नाम सिख दर्शन का एक प्रमुख सिद्धांत है। गुरु ग्रंथ साहिब में नाम के गुणगान का वर्णन अनेक स्थानों पर किया गया है। उस ‘परमात्मा’ की प्राप्ति के लिए नाम ही सबसे बढ़िया साधन है। नाम की कोई एक परिभाषा नहीं दी जा सकती क्योंकि यह बेअंत, अगम, अथाह तथा अमोलक है।
मनुष्य के पाँच शत्रु काम, क्रोध, लोभ, मोह तथा अहंकार उसके व्यक्तित्व में नकारात्मक रुचियों को जन्म देते हैं। ये मनुष्य को उसके वास्तविक उद्देश्य से भटका कर उसे ऐश्वर्य, स्वाद तथा आनंद में मग्न रखते हैं। समय के साथ इन रुचियों के प्रति उत्साह कम हो जाता है। अतः इन्हें झूठ का प्रसार कहा जाता है। किंतु ये पाँच शत्रु मनुष्य के अंदर एक ऐसी अग्नि उत्पन्न करते हैं जिसमें अंततः वह भस्म हो जाता है। इस प्रकार संसार में उसका आना निष्फल हो जाता है। गुरु नानक देव जी फरमाते हैं,

कूड़ि कूड़े नेह लगा विसरिआ करतारु॥
किसु नालि काचै दोसती सभु जगु चलणहारु ॥
कूड़ि मिठा कूड़ि माखिउ कूड़ि डोबे पुरु॥
नानकु वखाणे बेनती तुधु बाझ कूड़ो कुड़ि॥

नाम की आराधना के साथ जहां मन के दुर्भाव दूर हो जाते हैं वहीं वह निर्मल भी हो जाता है। अतः मनुष्य के शारीरिक कष्ट भी दूर हो जाते हैं। वास्तव में नाम के जाप द्वारा व्यक्ति उस ऊँची अवस्था में पहुँच जाता है जहाँ उसे शारीरिक भूख तथा संसार के साथ लगाव नहीं रहता। नाम सिमरनि के साथ कई जन्मों की मन को लगी मैल उतर जाती है। मनुष्य के सभी दुःखों का नाश हो जाता है। उसके सभी भ्रम दूर हो जाते हैं। आत्मा पर पड़ा माया का पर्दा हट जाता है तथा वह अपने वास्तविक रूप में प्रगट हो जाती है। अत: गुरुवाणी में मनुष्य को प्रत्येक प्रकार की चतुराई को त्याग कर उस परमात्मा के नाम का सहारा लेने पर बल दिया गया है। गुरु अर्जन देव जी फरमाते हैं,

प्रभ कै सिमरनि गरभि न बसै।
प्रभ कै सिमरनि दुख जम् नसै॥
प्रभ कै सिमरनि कालु परहरै॥
प्रभ कै सिमरनि दुश्मनु टरै ॥
प्रभ सिमरनि कछु विघन न लगै॥
प्रभ के सिमरनि अनदिन जागै॥
प्रभ कै सिमरनि भउ न बिआपै॥
प्रभ के सिमरनि दुखु न संतापै।।
प्रभ कै सिमरनि साध के संगि॥
सरब निधान नानक हरि रंगि॥

उस परमात्मा के नाम का जाप करने वाला मनुष्य कभी भी किसी पर बोझ नहीं बनता। उसके सभी कार्य स्वयं होते चले जाते हैं क्योंकि परमात्मा स्वयं उसके कार्यों में सहायक होता है। नाम का जाप करने वाले जीव की आत्मा सदैव एक कंवल के फूल की भांति रहती है। वह जीव इस भवसागर से तर जाता है तथा उसका आवागमन का चक्र समाप्त हो जाता है। परमात्मा के दरबार में ऐसे मनुष्य उज्ज्वल मुख के साथ जाते हैं। गुरु नानक साहिब जी फरमाते हैं,

सुणिऐ सतु संतोखु गिआनु॥
सणिणे अठसठि का इसनानु॥
सुणिऐ पड़ि पड़ि पावहि मानु॥
सुणिए लागै सहजि धिआनु॥
नानक भगता सदा विगासु॥
सुणिऐ दूख पाप का नासु॥

उस परमात्मा के नाम का जाप केवल वह मनुष्य ही कर सकता है जिस पर उसकी नदरि (कृपा) हो। नाम के जाप के लिए मन को नियंत्रण में रखना, हउमै को दूर करना, नम्रता तथा सेवा आदि गुणों को धारण करना आवश्यक है। अतः नाम के जाप को गुरुवाणी में एक जीवन जाँच कहा गया है।
नाम के जाप के बिना मानव जीवन धिक्कार है। ऐसा मानव एक गधे की भांति मों जैसी बातें करता है। वह घोर कष्ट सहन करता है। वे यमलोक में जाते हैं। उन्हें यमदूतों की मार से कोई नहीं बचा सकता। उनके मुख भयावह लगते हैं। ऐसे निम्न मनुष्य का संसार में आना व्यर्थ है। फरीद जी फरमाते हैं,

फरीदा तिना मुख डरावणै जिना विसारिउ नाउ॥
ऐथे दुःख घणेरिआ अगै ठउर न ठाऊ ॥

गुरु तेग बहादुर जी फरमाते हैं कि आवागमन के चक्र में घूमते अनेक युगों के पश्चात् मानव का जीवन प्राप्त हुआ है। इस जन्म में अब परमात्मा से मिलाप की बारी है तो हे मानव तुम उस परमात्मा का नाम क्यों नहीं जपते ?

फिरत-फिरत बहुते युग हारिओ मानस देह लही॥
नानक कहत मिलन की बरिआ सिमरत कहा नहीं॥

प्रश्न 11. सिख धर्म में ‘गुरु’ का क्या महत्त्व है ? वर्णन करें। (What is the importance of ‘Guru’ in Sikhism ? Explain.)
उत्तर-सिख धर्म में गुरु को विशेष महत्त्व प्राप्त है। सच्चे गुरु की शक्ति अपार है। वह लंगड़ों को पर्वत पर चढ़ने की शक्ति प्रदान कर सकता है। वह अन्धों को त्रिलोक के दर्शन करवा सकता है। वह कीड़ी को हाथी जैसा बल दे सकता है। वह घोर अहंकारी को नम्रता का पुजारी बना सकता है। वह कंगाल को लखपति तथा लखपति को कंगाल बना सकता है। वह मुर्दे को जीवित कर सकता है। वह डूबते हुए पत्थरों को तैरा सकता है भाव वह हर असम्भव कार्य को सम्भव बना सकता है। गुरु बेसहारों का सहारा, अनाथों का नाथ तथा सदैव साथ रहने वाला है। वह मनुष्य को अंधकार से प्रकाश की ओर ले कर आता है। उसके बिना विश्व में फैले अज्ञानता के अंधकार को सहस्रों चंद्रमा तथा हज़ारों सूर्यों का प्रकाश भी दूर नहीं कर सकता। गुरु अंगद देव जी फरमाते हैं,

जे सउ चंदा उगवहि सूरज चडहि हजार॥
एते चानण होदिआं गुरु बिन घोर अंधार॥

गुरु की पारस छोह मनुष्य को दैवी गुणों से भरपूर कर सकती है। गुरु का नाम लेने से विष अमृत बन जाता है। वह मनुष्य के मन में उत्पन्न कई जन्मों की मैल को पलक झपकते ही दूर कर सकता है। उसके मिलाप के साथ जीवन में प्रसन्नता आ जाती है तथा मन पर स्वयं नियंत्रण हो जाता है। मनुष्य के सभी कार्य अपने आप सफल हो जाते हैं। गुरु अर्जन देव जी फरमाते हैं,

लख खुशीयां पातशाहीयां जे सतगुरु नदरि करे॥
निमख एक हर नामि दे मेरा मन तन सीतल होय॥

सिख धर्म में देहधारी गुरु पर विश्वास नहीं किया जाता क्योंकि वह सर्व कला संपूर्ण नहीं हो सकता। सच्चा गुरु परमात्मा स्वयं है। गुरु नानक देव जी फरमाते हैं,

आपे करता पुरुख विधाता॥ जिन आपे आप उपाए पछाता॥
आपे सतिगुरु आपे सेवक आपे सृष्टि उपाई है ॥

सच्चा गुरु एक ऐसा पुरुष है जिसके सामने चुगली एवं प्रशंसा एक जैसे होते हैं। उसका हृदय ब्रह्म ज्ञान का भंडार होता है। वास्तव में वह उस परमात्मा की सभी शक्तियों का स्वामी होता है। वह आत्मिक रूप से इतना ऊँचा होता है कि उसका अंत नहीं पाया जा सकता। वास्तव में सच्चे गुरु के अंदर परमात्मा के सभी गुण मौजूद होते हैं। इसी कारण सच्चे गुरु से मिलन मनुष्य के जीवन की काया पलट सकता है।
सच्चे गुरु का एक लक्षण यह भी है कि वह अपनी पूजा कभी नहीं करवाता क्योंकि उसे किसी प्रकार का कोई लालच नहीं होता। वह सदैव निरवैर रहता है। दोस्त तथा दुश्मन उसके लिए एक हैं। अगर कोई आलोचक भी उसकी शरण में आ जाए तो वह उसे भी माफ कर देता है। इसके अतिरिक्त वह कभी भी किसी का बुरा नहीं चाहता। गुरु रामदास जी फरमाते हैं,

सतिगुरु मेरा सदा सदा न आवे न जाए॥
उह अविनासी पुरुख है सब महि रिहा समाए॥

अज्ञानी गुरु के मिलाप से कभी भी जीवन के उद्देश्य को प्राप्त नहीं किया जा सकता। क्योंकि वह स्वयं अज्ञानता के अंधकार में भटक रहा होता है। सच्चे गुरु के साथ मिलाप तभी संभव है अगर उस परमात्मा की नदरि (कृपा) हो। उसे शब्द के द्वारा जाना जा सकता है।

प्रश्न 12. सिख धर्म में ‘कीर्तन’ संकल्प का वर्णन करें। (Discuss the Concept of ‘Kirtan’ in Sikhism.)
उत्तर-सिख धर्म में कीर्तन को प्रमुख स्थान प्राप्त है। इसे मनुष्य के आध्यात्मिक मार्ग का सर्वोच्च साधन माना जाता है। सिखों के लगभग सभी संस्कारों में कीर्तन किया जाता है। कीर्तन से भाव उस गायन से है जिसमें उस अकाल पुरुख भाव परमात्मा की प्रशंसा की जाए। गुरुवाणी को रागों में गायन को कीर्तन कहा जाता है।
सिख धर्म में कीर्तन की प्रथा गुरु नानक देव जी ने आरंभ की थी। उन्होंने अपनी यात्राओं के समय भाई मर्दाना जी को साथ रखा जो कीर्तन के समय रबाब बजाता था। गुरु नानक देव जी कीर्तन करते हुए अपने श्रद्धालुओं के मनों पर जादुई प्रभाव डालते थे। परिणामस्वरूप न केवल सामान्यजन अपितु सज्जन ठग, कोड्डा राक्षस, नूरशाही जादूगरनी, हमजा गौस तथा वली कंधारी जैसे कठोर स्वभाव के व्यक्ति भी प्रभावित हुए बिना न रह सके एवं आपके शिष्य बन गए। कीर्तन की इस प्रथा को शेष 9 गुरुओं ने भी जारी रखा। गुरु हरगोबिंद साहिब ने कीर्तन में वीर रस उत्पन्न करने के उद्देश्य से ढाडी प्रथा को प्रचलित किया।
प्रेम भक्ति की भावना से किया गया कीर्तन मनुष्य की आत्मा की गहराई तक प्रभाव डालता है। इससे मनुष्य का सोया हुआ मन जाग उठता है, उसके दुःख एवं कष्ट दूर हो जाते हैं एवं कई जन्मों की मैल दूर हो जाती है। वह हरि नाम में लीन हो जाता है। मानव का मन निर्मल हो जाता है। उसकी आत्मा प्रसन्न हो उठती है तथा उसका लोकपरलोक सफल हो जाता है। इस कारण कीर्तन को निरमोलक (अमूल्य) हीरा कहा जाता है। गुरु अर्जन देव जी फरमाते हैं,

गुरु दुआरे हरि कीर्तन सुणिए॥
सतिगुरु भेटि हरि जसु मुख भणिए।
कलि क्लेश मिटाए सतगुरु ॥
हरि दरगाह देवे माना है ॥

कीर्तन का गायन करने से अथवा इसके सुनने का सम्मान केवल उन मनुष्यों को प्राप्त होता है जिस पर उस परमात्मा की मिहर हो। उसकी मिहर के बिना न तो मानव को सांसारिक कार्यों से समय मिलता है तथा यद्यपि वह कभी कीर्तन में सम्मिलित भी होता है तो उसका मन नहीं लगता। कीर्तन से मनुष्य के सभी प्रकार के भ्रम दूर हो जाते हैं। गुरु अर्जन साहिब जी फरमाते हैं,

हरि दिन रैन कीर्तन गाइए॥
बहु र न जौनी पाइए॥

प्रश्न 13. सिख जीवनचर्या में सेवा की भूमिका के बारे में चर्चा कीजिए। (Discuss the role of Seva in the Sikh Way of Life.)
अथवा
सिख धर्म में ‘सेवा’ के महत्त्व का वर्णन कीजिए।
(Discuss the importance of ‘Seva’ in Sikhism.)
अथवा
सिख जीवन जाच में सेवा का महत्त्व दर्शाइए।
(Describe the importance of Sewa (Service) in Sikh way of life.)
उत्तर-सिख दर्शन में सेवा को विशेष महत्त्व दिया गया है। इसमें कोई संदेह नहीं कि प्रत्येक धर्म में सेवा का गुणगान किया गया है किंतु जो महत्त्व इसे सिख धर्म में प्राप्त है वह किसी अन्य धर्म में नहीं है। सेवा से भाव केवल गुरुद्वारे जाकर जूते साफ़ करना, झाड़ देना, संगत पर पंखा करना, पानी पिलाना, लंगर आदि ही संमिलित नहीं। इस प्रकार की सेवा में हउमै की भावना उत्पन्न होती है। सेवा से भाव प्रत्येक उस कार्य से है जिसमें मानवता की किसी प्रकार भलाई होती हो।
सेवा वास्तव में बहुत उच्च साधना है। यह केवल उसी समय सफल हो सकती है जब यह निष्काम हो। जब तक मनुष्य हउमै की भावना को खत्म नहीं करता तब तक उसे सेवा का सम्मान प्राप्त नहीं हो सकता। सेवा करने की रुचि प्रत्येक व्यक्ति के मन में उत्पन्न नहीं हो सकती। इसकी प्राप्ति के लिए उच्च आचरण की आवश्यकता है। इसमें मनुष्य को अपनी हउमै का त्याग कर परमात्मा को आत्म-समर्पण करना पड़ता है। सेवा संबंधी गुरु नानक देव जी फरमाते हैं,

तेरी सेवा सो करहे जिस न लैहि तू लाई॥
बिनु सेवा किन्हें न पाइआ दूजे भरम खुआई॥

सिख इतिहास में अनेकों ऐसी उदाहरणें हैं जिनसे यह स्पष्ट होता है कि जिसने सेवा की वह गुरु घर का स्वामी बन गया, किंतु जिसमें हउमै आ गई उसे कुछ प्राप्त न हुआ। भाई लहणा जी द्वारा की गई गुरु नानक देव जी की अथक सेवा के कारण ही उन्हें गुरु अंगद का सम्मान प्राप्त हुआ! अमरदास जी यद्यपि आयु में बहुत बड़े थे किंतु फिर भी उन्होंने गुरु अंगद देव जी की इतनी सेवा की कि उन्हें न केवल गुरुगद्दी ही सौंपी गई अपितु उन्हें “निथावियाँ दी थां” (भाव जिसका कोई आश्रय नहीं है उनका सहारा) कह कर सम्मानित किया गया। दूसरी ओर श्रीचंद, दातू एवं दासू, पृथी चंद इत्यादि गुरु साहिबान के पुत्र होने के बावजूद सेवा के बिना गुरुगद्दी से वंचित रहे। गुरु अर्जन देव जी फरमाते हैं,

गुर कै ग्रिहि सेवकु जो रहै ॥
गुर की आगिआ मन महि सहै ॥
आपस कउ करि कछु न जनावै ॥
हरि हरि नामु रिदै सद धिआवै ॥
मन बेचे सतिगुरु के पास ॥
तिसु सेवक के कारज रासि ॥
सेवा करत होइ निह कामी॥
तिस कउ होत परापति सुआमी॥

मानव सेवा को ही उस परमात्मा की सेवा का सर्वोत्तम रूप समझा गया है। इस संबंध में भाई कन्हैया जी की उदाहरण दी जा सकती है। उसने गुरु गोबिंद सिंह जी के समय लड़ी गई आनंदपुर की प्रथम लड़ाई में अपने तथा दुश्मनों के जख्मी सिपाहियों की बिना किसी भेदभाव के जल सेवा की तथा उनके जख्मों पर मरहम-पट्टी की। पूछने पर उन्होंने बताया कि उन्हें प्रत्येक व्यक्ति में गुरु गोबिंद सिंह जी के दर्शन होते हैं। भाई कन्हैया जी द्वारा यह सच्ची भावना से की गई सेवा आज भी सिखों के लिए एक प्रकाश स्तंभ का कार्य कर रही है। गुरु अंगद साहिब जी फरमाते हैं,

आप गवाहि सेवा करे ता किछ पाए मानु॥
नानक जिस नो लगा तिस मिलै लगा सो परवानु॥

गुरमत्त के अनुसार सेवा सिख जीवन का एक निरंतर भाग है। यह एक दिन अथवा दो दिन अथवा कुछ समय के लिए नहीं अपितु उसके अंतिम सांस तक जारी रहनी चाहिए। सेवा वे ही मनुष्य कर सकते हैं जिन पर उस परमात्मा की मिहर हो तथा जिनके अंदर सच्चे नाम का वास हो। जिनके अंदर झूठ, कपट अथवा पाप हो वह सेवा नहीं कर सकते। सच्ची सेवा को सभी सुखों का स्रोत कहा जाता है। ऐसी सेवा करने वाला मनुष्य न केवल इस लोक अपितु परलोक में भी प्रशंसा प्राप्त करता है।

प्रश्न 14. सिख जीवन जाच के अनुसार सेवा और सिमरन का क्या महत्त्व है ? प्रकाश डालें।
(As per Sikh Way of Life what is the importance of Seva and Simarn? Elucidate.)
अथवा
सिख जीवन जाच में सेवा व सिमरन का महत्त्व दर्शाएं।
(Describe the importance of Seva and Simran in Sikhism.).
उत्तर-उत्तर-सिख दर्शन में सेवा को विशेष महत्त्व दिया गया है। इसमें कोई संदेह नहीं कि प्रत्येक धर्म में सेवा का गुणगान किया गया है किंतु जो महत्त्व इसे सिख धर्म में प्राप्त है वह किसी अन्य धर्म में नहीं है। सेवा से भाव केवल गुरुद्वारे जाकर जूते साफ़ करना, झाड़ देना, संगत पर पंखा करना, पानी पिलाना, लंगर आदि ही संमिलित नहीं। इस प्रकार की सेवा में हउमै की भावना उत्पन्न होती है। सेवा से भाव प्रत्येक उस कार्य से है जिसमें मानवता की किसी प्रकार भलाई होती हो।
सेवा वास्तव में बहुत उच्च साधना है। यह केवल उसी समय सफल हो सकती है जब यह निष्काम हो। जब तक मनुष्य हउमै की भावना को खत्म नहीं करता तब तक उसे सेवा का सम्मान प्राप्त नहीं हो सकता। सेवा करने की रुचि प्रत्येक व्यक्ति के मन में उत्पन्न नहीं हो सकती। इसकी प्राप्ति के लिए उच्च आचरण की आवश्यकता है। इसमें मनुष्य को अपनी हउमै का त्याग कर परमात्मा को आत्म-समर्पण करना पड़ता है। सेवा संबंधी गुरु नानक देव जी फरमाते हैं,

तेरी सेवा सो करहे जिस न लैहि तू लाई॥
बिनु सेवा किन्हें न पाइआ दूजे भरम खुआई॥

सिख इतिहास में अनेकों ऐसी उदाहरणें हैं जिनसे यह स्पष्ट होता है कि जिसने सेवा की वह गुरु घर का स्वामी बन गया, किंतु जिसमें हउमै आ गई उसे कुछ प्राप्त न हुआ। भाई लहणा जी द्वारा की गई गुरु नानक देव जी की अथक सेवा के कारण ही उन्हें गुरु अंगद का सम्मान प्राप्त हुआ! अमरदास जी यद्यपि आयु में बहुत बड़े थे किंतु फिर भी उन्होंने गुरु अंगद देव जी की इतनी सेवा की कि उन्हें न केवल गुरुगद्दी ही सौंपी गई अपितु उन्हें “निथावियाँ दी थां” (भाव जिसका कोई आश्रय नहीं है उनका सहारा) कह कर सम्मानित किया गया। दूसरी ओर श्रीचंद, दातू एवं दासू, पृथी चंद इत्यादि गुरु साहिबान के पुत्र होने के बावजूद सेवा के बिना गुरुगद्दी से वंचित रहे। गुरु अर्जन देव जी फरमाते हैं,

गुर कै ग्रिहि सेवकु जो रहै ॥
गुर की आगिआ मन महि सहै ॥
आपस कउ करि कछु न जनावै ॥
हरि हरि नामु रिदै सद धिआवै ॥
मन बेचे सतिगुरु के पास ॥
तिसु सेवक के कारज रासि ॥
सेवा करत होइ निह कामी॥
तिस कउ होत परापति सुआमी॥

मानव सेवा को ही उस परमात्मा की सेवा का सर्वोत्तम रूप समझा गया है। इस संबंध में भाई कन्हैया जी की उदाहरण दी जा सकती है। उसने गुरु गोबिंद सिंह जी के समय लड़ी गई आनंदपुर की प्रथम लड़ाई में अपने तथा दुश्मनों के जख्मी सिपाहियों की बिना किसी भेदभाव के जल सेवा की तथा उनके जख्मों पर मरहम-पट्टी की। पूछने पर उन्होंने बताया कि उन्हें प्रत्येक व्यक्ति में गुरु गोबिंद सिंह जी के दर्शन होते हैं। भाई कन्हैया जी द्वारा यह सच्ची भावना से की गई सेवा आज भी सिखों के लिए एक प्रकाश स्तंभ का कार्य कर रही है। गुरु अंगद साहिब जी फरमाते हैं,

आप गवाहि सेवा करे ता किछ पाए मानु॥
नानक जिस नो लगा तिस मिलै लगा सो परवानु॥

गुरमत्त के अनुसार सेवा सिख जीवन का एक निरंतर भाग है। यह एक दिन अथवा दो दिन अथवा कुछ समय के लिए नहीं अपितु उसके अंतिम सांस तक जारी रहनी चाहिए। सेवा वे ही मनुष्य कर सकते हैं जिन पर उस परमात्मा की मिहर हो तथा जिनके अंदर सच्चे नाम का वास हो। जिनके अंदर झूठ, कपट अथवा पाप हो वह सेवा नहीं कर सकते। सच्ची सेवा को सभी सुखों का स्रोत कहा जाता है। ऐसी सेवा करने वाला मनुष्य न केवल इस लोक अपितु परलोक में भी प्रशंसा प्राप्त करता है।

प्रश्न 15. निम्नलिखित सिख जीवन के सिद्धांतों के ऊपर नोट लिखो :
(क) हउमै
(ख) सेवा
(ग) जात-पात।
[Write brief notes on the following Principles of Sikh Way of Life :
(a) Humai (Ego)
(b) Seva (Service)
(c) Jat-Pat (Caste)]
उत्तर-(क) हउमै (Haumai)-सिख दर्शन में हउमै (अहं) की व्याख्या बार-बार आती है। हउमै से तात्पर्य ‘अहंकार’ अथवा ‘मैं’ से है। यह एक ऐसी चारदीवारी है जो जीव आत्मा को उस सर्वव्यापक परमात्मा से पृथक् करती है। यदि हम हउमै को आदमी की मैं का एक मज़बूत किला कहें तो यह अतिश्योक्ति नहीं होगी। हउमै एक दीर्घ रोग है, जो कैंसर की तरह जब एक बार जड़ पकड़ लेता है तो उसका अंत करना मुश्किल होता है। यह पाँच मनो-विकारों काम, क्रोध, लोभ, मोह और अहंकार का जन्मदाता है। ऐसा मनुष्य कई प्रकार के झूठ बोलता है, पाखंड करता है और कई प्रकार के छलावे का सहारा लेता है। परिणामस्वरूप शैतानियत का जन्म होता है। यह इतना भयानक रूप ले लेती है कि जीवन नरक बन जाता है। हउमै से भरा जीव उस परमपिता परमात्मा से दूर हो जाता है और जन्म-मरन के चक्र से कभी छुटकारा नहीं पाता।
निस्संदेह हउमै एक दीर्घ रोग है पर उसे ला-ईलाज नहीं कहा जा सकता। हउमै से छुटकारा पाने के लिए सबसे पहले उसे समझना अति आवश्यक है। साध-संगत में जाना, जाप करना, आत्ममंथन करना, वैराग्य धारण करना, सेवाभाव, ईर्ष्या का त्याग तथा सत्य से प्यार आदि साधन हैं जिनपर चलकर हउमै से मुक्ति प्राप्त की जा सकती है। हउमै संबंधी गुरु अमरदास जी फरमाते हैं,

हउमै नावे नाल विरोध है दुइ न वसहि इक ठाहि॥

(ख) सेवा (Seva)-सिख दर्शन में सेवा को विशेष महत्त्व प्रदान किया गया है। इसमें कोई संदेह नहीं कि सेवा की प्रत्येक धर्म में प्रशंसा की गई है परंतु जो स्थान इसे सिख धर्म में प्राप्त है वैसा किसी अन्य धर्म में प्राप्त नहीं है। सेवा वास्तव में एक अंयंत उच्च दर्जे की साधना है। यह तभी सफल होती है जब इसे निष्काम भाव से किया जाता है। जब तक मनुष्य हउमै की भावना को समाप्त नहीं करता तब तक उसे सेवा सम्मान प्राप्त नहीं होता। सेवा करने की रुचि प्रत्येक व्यक्ति के मन में उत्पन्न नहीं हो सकती। इस की प्राप्ति के लिए अत्यन्त ही उच्च आचरण की आवश्यकता होती है। इसके लिए मनुष्य को स्वयं को भूलना पड़ता है। अर्थात् हउमै का त्याग करके अपने आपको उस परमपिता परमात्मा को समर्पित करना पड़ता है। सिख इतिहास में अनेक ऐसी उदाहरणे प्राप्त होती हैं जिनसे स्पष्ट होता है कि जिन्होंने सेवा की वह गुरु घर के मालिक बन गए। परंतु जो हउमै से ग्रसित हो गया वह कुछ प्राप्त नहीं कर सका।
मनुष्य की सेवा को ही उस परमपिता परमात्मा की सर्वोत्तम सेवा माना गया है। इस संबंध में भाई कन्हैया जी की उदाहरण दी जा सकती है। उसने गुरु गोबिंद सिंह जी के काल में हुई आनंदपुर साहिब की प्रथम लड़ाई में अपने तथा दुश्मनों के जख्मी सिपाहियों को बिना किसी भेदभाव के जल पिलाया और मरहम-पट्टी की। पूछने पर उसने उत्तर दिया कि उसे प्रत्येक जीव में गुरु गोबिंद सिंह जी के दर्शन होते थे। भाई कन्हैया द्वारा की गई सच्ची सेवा आज भी सिखों के लिए पथ-प्रदर्शन का कार्य करती है।
सिख धर्म के अनुसार सेवा सिख के जीवन का अभिन्न अंग है। यह एक दिन, दो दिन या कुछ समय के लिए नहीं अपितु उसकी अंतिम श्वासों तक चलती रहती है। सेवा वे ही मनुष्य कर सकते हैं जिन पर उस परमपिता परमात्मा का आशीर्वाद होता है। गुरु अर्जन साहिब जी फरमाते हैं,

सेवा करत होई निहकामी॥
तिस कउ होत परापति सुआमी॥

(ग) जात-पात (Caste)-गुरु नानक देव जी के समय हिंदू समाज न केवल चार मुख्य जातियों-ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र-बल्कि अनेक अन्य उपजातियों में विभाजित था। उच्च जाति के लोग अपनी जाति पर बहुत गर्व करते थे। वे निम्न जातियों से बहुत घृणा करते थे और उन पर बहुत अत्याचार करते थे। समाज में छुआछूत की भावना बहुत फैल गई थी। गुरु नानक देव जी ने जाति-पाति और छुआछूत की भावना का जोरदार शब्दों में खंडन किया। गुरु साहिब का कथन था कि ईश्वर के दरबार में किसी ने जाति नहीं पूछनी, केवल कर्मों से निपटारा होगा। गुरु साहिब ने ‘संगत’ और ‘पंगत’ संस्थाएँ चलाकर जाति प्रथा पर एक कड़ा प्रहार किया। इस प्रकार गुरु नानक साहिब ने परस्पर भ्रातृत्व का प्रचार किया। गुरु नानक साहिब के बाद हुए समस्त गुरु साहिबान ने भी जाति प्रथा का जोरदार शब्दों में खंडन किया। गुरु अर्जन साहिब द्वारा आदि ग्रंथ साहिब में निम्न जातियों के लोगों द्वारा रचित वाणी को सम्मिलित करके और गुरु गोबिंद सिंह जी द्वारा खालसा पंथ की स्थापना करके जाति प्रथा को समाप्त करने की दिशा में महत्त्वपूर्ण योगदान दिया।

प्रश्न 16 सिख धर्म में भाईचारा की अवधारणा’ के विषय में चर्चा कीजिए। (Discuss the Concept of ‘Brotherhood’ in Sikhism.)
उत्तर-उत्तर-संगत अथवा साध संगत को सिखी जीवन का थम्म माना जाता है। इस महत्त्वपूर्ण संस्था की नींव गुरु नानक देव जी ने करतारपुर में रखी। उन्होंने जहाँ-जहाँ भी चरण डाले वहाँ-वहाँ संगत की स्थापना होती चली गई। संगत से भाव है “गुरमुख प्यारों का वह इकट्ठ (एकत्रता) जहाँ उस परमात्मा की प्रशंसा की जाती हो।” संगत में प्रत्येक स्त्री अथवा पुरुष बिना किसी जाति, नस्ल, रंग, धर्म, अमीर, ग़रीब इत्यादि के मतभेद के सम्मिलित हो सकते हैं। संगत के लक्षण बताते हुए गुरु नानक साहिब फरमाते हैं,

सति संगत कैसी जाणिए। जिथै ऐकौ नाम वखाणिए॥
एकौ नाम हुक्म है नानक सतिगुरु दीया बुझाए जीउ॥

सिख धर्म में यह भावना काम करती है कि संगत में वह परमात्मा स्वयं उसमें निवास करता है। इस कारण संगत में जाने वाले मनुष्य की काया कल्प हो जाती है। उसके मन की सभी दुष्ट भावनाएँ दूर हो जाती हैं। काम, क्रोध, लोभ, मोह तथा अहंकार का नाश हो जाता है तथा सति, संतोष, दया, धर्म तथा सच्च इत्यादि दैवी गुणों का मनुष्य के मन में प्रवेश होता है। हउमै दूर हो जाती है तथा ज्ञान का प्रकाश होता है। संगत में जाकर बड़े से बड़े पापी के भी पाप धुल जाते हैं। गुरु रामदास जी का कथन है कि जैसे पारस की छोह के साथ मनूर सोना बन जाता है ठीक उसी प्रकार पापी व्यक्ति भी संगत में जाने से पवित्र हो जाता है। गुरु रामदास जी फरमाते हैं।

जिउ छूह पारस मनूर भये कंचन॥
तिउ पतित जन मिल संगति॥

संगत में ऐसी शक्ति है कि लंगड़े भी पहाड़ चढ़ सकने के योग्य हो जाते हैं। मूर्ख सूझवान बातें करने लगते हैं। अंधों को तीनों लोकों का ज्ञान हो जाता है। मनुष्य के मन की सारी मैल उतर जाती है। उसकी सभी मनोकामनाएँ पूर्ण हो जाती हैं तथा पूर्ण परमानंद की प्राप्ति होती है। उसे प्रत्येक जीव में उस ईश्वर की झलक दिखाई देती है। उसके लिए अपने-पराए का कोई भेद-भाव नहीं रहता तथा सबके साथ साँझ पैदा हो जाती है। गुरु अर्जन देव जी फरमाते हैं,

बिसरि गयी सब तातु परायी॥
जब ते साध संगत मोहि पायी ॥रहाउ॥
न को बैरी नाही बिगाना॥
सगल संग हम को बन आयी।

संगत के मिलने से मनुष्य इस भवसागर से पार हो जाता है। यमदूत निकट आने का साहस नहीं करते। मनुष्य के सभी भ्रम दूर हो जाते हैं। उसका हउमै जैसा दीर्घ रोग भी ठीक हो जाता है। संगत में बैठने से मन को उसी प्रकार शांति प्राप्त होती है जैसे ग्रीष्म ऋतु में एक घना वृक्ष शरीर को ठंडक पहुँचाता है। संगत में केवल वे मनुष्य ही जाते हैं जिन पर उस परमात्मा की नदरि (कृपा) हो । संगत का लाभ केवल उन मनुष्यों को ही मिलता है जिनका मन निर्मल हो। जो मनुष्य अहंकार के साथ संगत में जाते हैं उन्हें कुछ प्राप्त नहीं होता। इस संबंध में भक्त कबीर जी चंदन तथा बाँस की उदाहरण देते हैं। आपका कथन है कि जहाँ संपूर्ण वनस्पति चंदन से खुशबू प्राप्त करती है वहीं पास खड़ा हुआ बाँस अपनी ऊँचाई तथा अंदर से खोखला होने के कारण चंदन की खुशबू प्राप्त नहीं कर सकता।
जो मनुष्य संगत में नहीं जाता उसका इस संसार में जन्म लेना व्यर्थ है। उसे अनेक कष्ट सहन करने पड़ते हैं। वे कभी मुक्ति प्राप्त नहीं कर सकते तथा अनेक योनियों में भटकते रहते हैं। गुरु रामदास जी फरमाते हैं,

बिन भागां सति संग न लभे॥
बिन संगत मैल भरीजै जिउ॥

सिख पंथ के विकास में पंगत प्रथा का बहुत प्रशंसनीय योगदान है। पंगत से अभिप्राय है एक पंक्ति में बैठ कर लंगर छकना। गुरु नानक देव जी ने इस महत्त्वपूर्ण संस्था की नींव करतारपुर में रखी थी। पंगत में कोई भी स्त्री अथवा पुरुष किसी जाति, धर्म, नस्ल, ऊँच-नीच इत्यादि के मतभेद के बिना सम्मिलित हो सकता था। इसमें प्रत्येक को सेवा करने का बराबर अधिकार है।
पंगत की स्थापना गुरु नानक देव जी का एक क्रांतिकारी पग था। ऐसा करके उन्होंने ब्राह्मणों को शूद्रों के हाथों भोजन करवा दिया। इसका उद्देश्य भारतीय समाज में प्रचलित उस जाति प्रथा का अंत करना था जिसने इसे घुण की तरह खा कर भीतर से खोखला बना दिया था। ऐसा करके गुरु नानक देव जी ने समानता के सिद्धांत को व्यावहारिक रूप दिया। इस कारण सिखों में आपसी भाईचारे की भावना का विकास हुआ। इसने पिछड़ी हुई श्रेणियों को जो शताब्दियों से उच्च जाति के लोगों द्वारा शोषित की जा रही थीं को एक सम्मान दिया। लंगर के लिए सारा धन गुरु के सिख देते थे। इसलिए उन्हें वान देने की आदत पड़ी। पंगत प्रथा के कारण सिख धर्म की लोकप्रियता दूर-दूर तक फैली। पंगत के महत्त्व के संबंध में गुरु नानक देव जी फरमाते हैं,

घाल खाए कुछ हथों देइ॥
नानक राहु पछाणे सेइ॥

गुरु अंगद देव जी ने पंगत प्रथा का विकास किया। उनकी पत्नी बीबी खीवी जी खडूर साहिब में लंगर के संपूर्ण प्रबंध की देखभाल स्वयं करती थीं। गुरु अमरदास जी ने लंगर संस्था का विस्तार किया। उन्होंने यह घोषणा की कि जो कोई भी उनके दर्शन करना चाहता है उसे पहले पंगत में लंगर छकना पड़ेगा। ऐसा इसलिए किया गया कि सिखों में व्याप्त छुआछूत की भावना का सदैव के लिए अंत कर दिया जाए। मुग़ल बादशाह अकबर तथा हरीपुर के राजा ने भी गुरु जी से भेंट से पूर्व पंगत में बैठ कर लंगर छका था। गुरु अमरदास जी का कथन था कि भूखे को अन्न तथा नंगे को वस्त्र देना हज़ारों हवनों तथा यज्ञों से बेहतर है।।
गुरु रामदास जी ने रामदासपुर (अमृतसर) में पंगत संस्था को पूर्ण उत्साह के साथ जारी रखा। उन्होंने गुरु के लंगर तथा अन्य आवश्यक कार्यों के लिए सिखों से धन एकत्र करने के उद्देश्य से मसंद प्रथा की स्थापना की। गुरु अर्जन देव जी ने सिखों को दसवंद देने के लिए कहा। उनके समय उनकी पत्नी माता गंगा जी लंगर प्रबंध की देखभाल करती थीं। उनके समय मंडी, कुल्लू, सुकेत, हरीपुर तथा चंबा रियासतों के शासकों तथा मुग़ल बादशाह अकबर को लंगर छकने का सम्मान प्राप्त हुआ।
गुरु हरगोबिंद जी ने पंगत प्रथा को जारी रखा। उन्होंने सेना में भी गुरु का लंगर बाँटने की प्रथा आरंभ की। गुरु हरराय जी ने यह घोषणा की कि लंगर की मर्यादा तब ही सफल मानी जा सकती है यदि कोई यात्री देर से भी पहुँचे तो उसे तुरंत लंगर तैयार करके छकाया जाए। इसके अतिरिक्त आप जी ने यह भी कहा कि लंगर के आरंभ होने से पूर्व नगारा ज़रूर बजाया जाए ताकि लंगर के लिए न्यौते की सूचना सभी को मिल जाए। गुरु हरकृष्ण जी के समय, गुरु तेग़ बहादुर जी के समय तथा गुरु गोबिंद सिंह जी के समय पंगत प्रथा जारी रही। यह प्रथा उस समय की तरह आज भी न केवल भारत, अपितु विश्व में जहाँ कहीं भी सिख गुरुद्वारा है उसी श्रद्धा तथा उत्साह के साथ जारी है।

जात-पात (Caste)-गुरु नानक देव जी के समय हिंदू समाज न केवल चार मुख्य जातियों-ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र-बल्कि अनेक अन्य उपजातियों में विभाजित था। उच्च जाति के लोग अपनी जाति पर बहुत गर्व करते थे। वे निम्न जातियों से बहुत घृणा करते थे और उन पर बहुत अत्याचार करते थे। समाज में छुआछूत की भावना बहुत फैल गई थी। गुरु नानक देव जी ने जाति-पाति और छुआछूत की भावना का जोरदार शब्दों में खंडन किया। गुरु साहिब का कथन था कि ईश्वर के दरबार में किसी ने जाति नहीं पूछनी, केवल कर्मों से निपटारा होगा। गुरु साहिब ने ‘संगत’ और ‘पंगत’ संस्थाएँ चलाकर जाति प्रथा पर एक कड़ा प्रहार किया। इस प्रकार गुरु नानक साहिब ने परस्पर भ्रातृत्व का प्रचार किया। गुरु नानक साहिब के बाद हुए समस्त गुरु साहिबान ने भी जाति प्रथा का जोरदार शब्दों में खंडन किया। गुरु अर्जन साहिब द्वारा आदि ग्रंथ साहिब में निम्न जातियों के लोगों द्वारा रचित वाणी को सम्मिलित करके और गुरु गोबिंद सिंह जी द्वारा खालसा पंथ की स्थापना करके जाति प्रथा को समाप्त करने की दिशा में महत्त्वपूर्ण योगदान दिया।

प्रश्न 17. निम्नलिखित पर नोट लिखो :
(1) हउमै
(2) गुरु
(3) जप
(4) सेवा।
[Write note on the following :
(1) Egoity
(2) Guru
(3) Jap
(4) Seva.]
उत्तर-हउमै (Haumai)-सिख दर्शन में हउमै (अहं) की व्याख्या बार-बार आती है। हउमै से तात्पर्य ‘अहंकार’ अथवा ‘मैं’ से है। यह एक ऐसी चारदीवारी है जो जीव आत्मा को उस सर्वव्यापक परमात्मा से पृथक् करती है। यदि हम हउमै को आदमी की मैं का एक मज़बूत किला कहें तो यह अतिश्योक्ति नहीं होगी। हउमै एक दीर्घ रोग है, जो कैंसर की तरह जब एक बार जड़ पकड़ लेता है तो उसका अंत करना मुश्किल होता है। यह पाँच मनो-विकारों काम, क्रोध, लोभ, मोह और अहंकार का जन्मदाता है। ऐसा मनुष्य कई प्रकार के झूठ बोलता है, पाखंड करता है और कई प्रकार के छलावे का सहारा लेता है। परिणामस्वरूप शैतानियत का जन्म होता है। यह इतना भयानक रूप ले लेती है कि जीवन नरक बन जाता है। हउमै से भरा जीव उस परमपिता परमात्मा से दूर हो जाता है और जन्म-मरन के चक्र से कभी छुटकारा नहीं पाता।
निस्संदेह हउमै एक दीर्घ रोग है पर उसे ला-ईलाज नहीं कहा जा सकता। हउमै से छुटकारा पाने के लिए सबसे पहले उसे समझना अति आवश्यक है। साध-संगत में जाना, जाप करना, आत्ममंथन करना, वैराग्य धारण करना, सेवाभाव, ईर्ष्या का त्याग तथा सत्य से प्यार आदि साधन हैं जिनपर चलकर हउमै से मुक्ति प्राप्त की जा सकती है। हउमै संबंधी गुरु अमरदास जी फरमाते हैं,

हउमै नावे नाल विरोध है दुइ न वसहि इक ठाहि॥

2. गुरु (Guru)-सिख दर्शन में गुरु को विशेष स्थान प्राप्त है। सिख गुरु साहिबान परमात्मा तक पहुंचने के लिए गुरु को अति महत्त्वपूर्ण साधन मानते हैं। उनके अनुसार गुरु मुक्ति तक ले जाने वाली वास्तविक सीढ़ी है। गुरु बिना मनुष्य को हर तरफ अंधकार ही अंधकार नज़र आता है। गुरु ही मनुष्य को अंधेरे (अज्ञानता) से प्रकाश (ज्ञान) की तरफ ले जाते हैं। गुरु ही माया के मोह तथा हउमै के रोग को दूर करते हैं। वह ही नाम और शब्द की आराधना द्वारा भक्ति के मार्ग पर चलने का ढंग बताते हैं। गुरु बिना भक्ति भाव और ज्ञान संभव नहीं होता। गुरु हर असंभव कार्य को संभव कर सकता है। इसलिए उसके मिलने के साथ ही मनुष्य की जीवनधारा बदल जाती है। सच्चे गुरु का मिलना कोई आसान काम नहीं होता। परमात्मा की कृपा के बगैर सच्चे गुरु की प्राप्ति नहीं हो सकती। यह बात यहाँ पर वर्णन योग्य है कि गुरु नानक देव जी जब गुरु की बात करते हैं तो उनका तात्पर्य किसी मनुष्य रूपी गुरु से नहीं है। सच्चा गुरु तो परमात्मा स्वयं है जो शब्द के माध्यम से शिक्षा देता है। गुरु नानक साहिब जी फरमाते हैं,

बिनु सतिगुरु किनै न पाइओ बिनु सतिगुर किनै न पाइआ।
सतिगुर विचि आपु रखिओनु करि परगटु आखि सुणाइआ॥
सतिगुर मिलिऐ सदा मुकतु है जिनि विचहु मोहु चुकाइआ॥
उतमु एह बीचारु है जिनि सचे सिउ चितु लाइआ॥
जग जीवनु दाता पाइआ॥

3. नाम जपना (Remembering Divine Name) सिख धर्म में नाम की आराधना अथवा सिमरन को ईश्वर की भक्ति का सर्वोच्च रूप समझा गया है। गुरु नानक देव जी का कथन था कि नाम की आराधना से जहाँ मन के पाप दूर हो जाते हैं वहीं वह निर्मल हो जाता है। इस कारण मनुष्य के सभी कष्ट खत्म हो जाते हैं। उसकी सभी शंकाएँ दूर हो जाती हैं। नाम की आराधना से मनुष्य के सभी कार्य सहजता से होते चले जाते हैं क्योंकि ईश्वर स्वयं उसके सभी कार्यों में सहायता करता है। नाम की आराधना करने वाले जीव की आत्मा सदैव एक कमल के फूल की तरह होती है। नाम की आराधना करने वाला जीव इस भवसागर से पार हो जाता है तथा उसका आवागमन का चक्र समाप्त हो जाता है। नाम के बिना मनुष्य का इस संसार में आना व्यर्थ है। ऐसा मनुष्य सभी प्रकार के पापों और आवागमन के चक्र में फंसा रहता है। ईश्वर के दरबार में वह उसी प्रकार ध्वस्त हो जाता है जैसे भयंकर तूफान आने पर एक रेत का महल। ईश्वर के नाम का जाप पावन मन और सच्ची श्रद्धा से करना चाहिए। उस परमात्मा के नाम का जाप केवल वह मनुष्य ही कर सकता है जिस पर उसकी नदरि हो। ऐसे मनुष्य परमात्मा के दरबार में उज्ज्वल मुख के साथ जाते हैं। गुरु नानक साहिब जी फरमाते हैं,

माउ तेरा निरंकारु है नाइं लइए नरकि न जाईए॥
गुरु तेग़ बहादुर जी फरमाते हैं,
गुन गोबिंद गाइओ नहीं जनमु अकारथ कीन॥
कहु नानक हरि भजु मना जिह बिधि जल कउ मीन॥
बिखिअन सिउ काहे रचिओ निमख न होहि उदासु॥
कहु नानक भजु हरि मना परै न जम की फास॥

4. सेवा (Seva)-सिख दर्शन में सेवा को विशेष महत्त्व प्रदान किया गया है। इसमें कोई संदेह नहीं कि सेवा की प्रत्येक धर्म में प्रशंसा की गई है परंतु जो स्थान इसे सिख धर्म में प्राप्त है वैसा किसी अन्य धर्म में प्राप्त नहीं है। सेवा वास्तव में एक अंयंत उच्च दर्जे की साधना है। यह तभी सफल होती है जब इसे निष्काम भाव से किया जाता है। जब तक मनुष्य हउमै की भावना को समाप्त नहीं करता तब तक उसे सेवा सम्मान प्राप्त नहीं होता। सेवा करने की रुचि प्रत्येक व्यक्ति के मन में उत्पन्न नहीं हो सकती। इस की प्राप्ति के लिए अत्यन्त ही उच्च आचरण की आवश्यकता होती है। इसके लिए मनुष्य को स्वयं को भूलना पड़ता है। अर्थात् हउमै का त्याग करके अपने आपको उस परमपिता परमात्मा को समर्पित करना पड़ता है। सिख इतिहास में अनेक ऐसी उदाहरणे प्राप्त होती हैं जिनसे स्पष्ट होता है कि जिन्होंने सेवा की वह गुरु घर के मालिक बन गए। परंतु जो हउमै से ग्रसित हो गया वह कुछ प्राप्त नहीं कर सका।
मनुष्य की सेवा को ही उस परमपिता परमात्मा की सर्वोत्तम सेवा माना गया है। इस संबंध में भाई कन्हैया जी की उदाहरण दी जा सकती है। उसने गुरु गोबिंद सिंह जी के काल में हुई आनंदपुर साहिब की प्रथम लड़ाई में अपने तथा दुश्मनों के जख्मी सिपाहियों को बिना किसी भेदभाव के जल पिलाया और मरहम-पट्टी की। पूछने पर उसने उत्तर दिया कि उसे प्रत्येक जीव में गुरु गोबिंद सिंह जी के दर्शन होते थे। भाई कन्हैया द्वारा की गई सच्ची सेवा आज भी सिखों के लिए पथ-प्रदर्शन का कार्य करती है।
सिख धर्म के अनुसार सेवा सिख के जीवन का अभिन्न अंग है। यह एक दिन, दो दिन या कुछ समय के लिए नहीं अपितु उसकी अंतिम श्वासों तक चलती रहती है। सेवा वे ही मनुष्य कर सकते हैं जिन पर उस परमपिता परमात्मा का आशीर्वाद होता है। गुरु अर्जन साहिब जी फरमाते हैं,

सेवा करत होई निहकामी॥
तिस कउ होत परापति सुआमी॥

प्रश्न 18. सिख धर्म के निम्न संकल्पों के बारे में जानकारी दें।
(क) हउमै
(ख) सेवा
(ग) गुरु
[Write about the following concepts.
(a) Haumai
(b) Sava (Service)
(c) Guru.]
उत्तर-(क) हउमै (Haumai)—सिख दर्शन में हउमै (अहं) की व्याख्या बार-बार आती है। हउमै से तात्पर्य ‘अहंकार’ अथवा ‘मैं’ से है। यह एक ऐसी चारदीवारी है जो जीव आत्मा को उस सर्वव्यापक परमात्मा से पृथक् करती है। यदि हम हउमै को आदमी की मैं का एक मज़बूत किला कहें तो यह अतिश्योक्ति नहीं होगी। हउमै एक दीर्घ रोग है, जो कैंसर की तरह जब एक बार जड़ पकड़ लेता है तो उसका अंत करना मुश्किल होता है। यह पाँच मनो-विकारों काम, क्रोध, लोभ, मोह और अहंकार का जन्मदाता है। ऐसा मनुष्य कई प्रकार के झूठ बोलता है, पाखंड करता है और कई प्रकार के छलावे का सहारा लेता है। परिणामस्वरूप शैतानियत का जन्म होता है। यह इतना भयानक रूप ले लेती है कि जीवन नरक बन जाता है। हउमै से भरा जीव उस परमपिता परमात्मा से दूर हो जाता है और जन्म-मरन के चक्र से कभी छुटकारा नहीं पाता।
निस्संदेह हउमै एक दीर्घ रोग है पर उसे ला-ईलाज नहीं कहा जा सकता। हउमै से छुटकारा पाने के लिए सबसे पहले उसे समझना अति आवश्यक है। साध-संगत में जाना, जाप करना, आत्ममंथन करना, वैराग्य धारण करना, सेवाभाव, ईर्ष्या का त्याग तथा सत्य से प्यार आदि साधन हैं जिनपर चलकर हउमै से मुक्ति प्राप्त की जा सकती है। हउमै संबंधी गुरु अमरदास जी फरमाते हैं,

हउमै नावे नाल विरोध है दुइ न वसहि इक ठाहि॥

(ख) सेवा (Seva)—सिख दर्शन में सेवा को विशेष महत्त्व प्रदान किया गया है। इसमें कोई संदेह नहीं कि सेवा की प्रत्येक धर्म में प्रशंसा की गई है परंतु जो स्थान इसे सिख धर्म में प्राप्त है वैसा किसी अन्य धर्म में प्राप्त नहीं है। सेवा वास्तव में एक अंयंत उच्च दर्जे की साधना है। यह तभी सफल होती है जब इसे निष्काम भाव से किया जाता है। जब तक मनुष्य हउमै की भावना को समाप्त नहीं करता तब तक उसे सेवा सम्मान प्राप्त नहीं होता। सेवा करने की रुचि प्रत्येक व्यक्ति के मन में उत्पन्न नहीं हो सकती। इस की प्राप्ति के लिए अत्यन्त ही उच्च आचरण की आवश्यकता होती है। इसके लिए मनुष्य को स्वयं को भूलना पड़ता है। अर्थात् हउमै का त्याग करके अपने आपको उस परमपिता परमात्मा को समर्पित करना पड़ता है। सिख इतिहास में अनेक ऐसी उदाहरणे प्राप्त होती हैं जिनसे स्पष्ट होता है कि जिन्होंने सेवा की वह गुरु घर के मालिक बन गए। परंतु जो हउमै से ग्रसित हो गया वह कुछ प्राप्त नहीं कर सका।
मनुष्य की सेवा को ही उस परमपिता परमात्मा की सर्वोत्तम सेवा माना गया है। इस संबंध में भाई कन्हैया जी की उदाहरण दी जा सकती है। उसने गुरु गोबिंद सिंह जी के काल में हुई आनंदपुर साहिब की प्रथम लड़ाई में अपने तथा दुश्मनों के जख्मी सिपाहियों को बिना किसी भेदभाव के जल पिलाया और मरहम-पट्टी की। पूछने पर उसने उत्तर दिया कि उसे प्रत्येक जीव में गुरु गोबिंद सिंह जी के दर्शन होते थे। भाई कन्हैया द्वारा की गई सच्ची सेवा आज भी सिखों के लिए पथ-प्रदर्शन का कार्य करती है।
सिख धर्म के अनुसार सेवा सिख के जीवन का अभिन्न अंग है। यह एक दिन, दो दिन या कुछ समय के लिए नहीं अपितु उसकी अंतिम श्वासों तक चलती रहती है। सेवा वे ही मनुष्य कर सकते हैं जिन पर उस परमपिता परमात्मा का आशीर्वाद होता है। गुरु अर्जन साहिब जी फरमाते हैं,

सेवा करत होई निहकामी॥
तिस कउ होत परापति सुआमी॥

(ग) गुरु (Guru)—सिख दर्शन में गुरु को विशेष स्थान प्राप्त है। सिख गुरु साहिबान परमात्मा तक पहुंचने के लिए गुरु को अति महत्त्वपूर्ण साधन मानते हैं। उनके अनुसार गुरु मुक्ति तक ले जाने वाली वास्तविक सीढ़ी है। गुरु बिना मनुष्य को हर तरफ अंधकार ही अंधकार नज़र आता है। गुरु ही मनुष्य को अंधेरे (अज्ञानता) से प्रकाश (ज्ञान) की तरफ ले जाते हैं। गुरु ही माया के मोह तथा हउमै के रोग को दूर करते हैं। वह ही नाम और शब्द की आराधना द्वारा भक्ति के मार्ग पर चलने का ढंग बताते हैं। गुरु बिना भक्ति भाव और ज्ञान संभव नहीं होता। गुरु हर असंभव कार्य को संभव कर सकता है। इसलिए उसके मिलने के साथ ही मनुष्य की जीवनधारा बदल जाती है। सच्चे गुरु का मिलना कोई आसान काम नहीं होता। परमात्मा की कृपा के बगैर सच्चे गुरु की प्राप्ति नहीं हो सकती। यह बात यहाँ पर वर्णन योग्य है कि गुरु नानक देव जी जब गुरु की बात करते हैं तो उनका तात्पर्य किसी मनुष्य रूपी गुरु से नहीं है। सच्चा गुरु तो परमात्मा स्वयं है जो शब्द के माध्यम से शिक्षा देता है। गुरु नानक साहिब जी फरमाते हैं,

बिनु सतिगुरु किनै न पाइओ बिनु सतिगुर किनै न पाइआ।
सतिगुर विचि आपु रखिओनु करि परगटु आखि सुणाइआ॥
सतिगुर मिलिऐ सदा मुकतु है जिनि विचहु मोहु चुकाइआ॥
उतमु एह बीचारु है जिनि सचे सिउ चितु लाइआ॥
जग जीवनु दाता पाइआ॥

प्रश्न 19. अमृत संस्कार के बारे में विस्तृत जानकारी दीजिए। (Give a detail account of Amrit Ceremony.)
उत्तर-सिख पंथ में अमृत को सबसे महत्त्वपूर्ण माना जाता है। अमृत छकाने की रस्म शुरू गुरु नानक देव जी ने आरंभ की थी। इस प्रथा को चरनअमृत कहा जाता था। यह प्रथा गुरु तेग़ बहादुर जी के समय तक जारी रही।
गुरु गोबिंद सिंह जी ने इस प्रथा को बदल दिया तथा खंडे की पाहुल (अमृत) नामक प्रथा का प्रचलन किया। अमृतपान करना प्रत्येक सिख के लिए आवश्यक है। जो सिख अमृतपान नहीं करता वह सिख कहलाने के योग्य नहीं है। शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी, अमृतसर ने अमृत छकने के लिए निम्नलिखित विधि निर्धारत की है।
(क) अमृत संचार करने के लिए एक खास स्थान पर प्रबंध हो। वहां पर आम रास्ता न हो।
(ख) वहां पर श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी का प्रकाश हो। कम-से-कम छ: तैयार-बर-तैयार सिंह हाज़िर हों जिनमें से एक ताबिया (गुरु ग्रंथ साहिब की हजूरी) और बाकी पाँच अमृतपान करवाने के लिए हों! इनमें सिंहणियाँ भी हो सकती हैं। इन सब ने केश-स्नान किया हो।
(ग) इन पाँच प्यारों में कोई अंगहीन (अँधा, काना, लँगड़ा-लूला) या दीर्घ रोग वाला न हो। कोई तनखाहिया (दंडनीय) न हो। सारे तैयार-बर-तैयार दर्शनी सिंह हों।
(घ) हर देश, हर मज़हब व जाति के हर एक स्त्री-पुरुष को अमृतपान करने का अधिकार है, जो सिख धर्म ग्रहण करे व उसके असलों पर चलने का प्रण करे।
बहुत छोटी अवस्था न हो, होश सभाली हो, अमृतपान करते समय हर एक प्राणी ने केश स्नान किया हो और हर एक पाँच ककार (केश, कृपाण (गातरे वाली) कछैहिरा, कंघा, कड़ा) का धारणकर्ता हो। पराधर्म का कोई चिन्ह न हो। सिर नंगा या टोपी न हो। छेदक गहने कोई न हों। अदब से हाथ जोड़कर श्री गुरु जी के हजूर खड़े हों।
(ङ) यदि किसी ने कुरहित करने के कारण पुनः अमृतपान करना हो तो उसको अलग करके संगत में पाँच प्यारे तनखाह (दंड) लगा लें।
(च) अमृतपान करवाने वाले पाँच प्यारों में से कोई एक सज्जन अमृतपान के अभिलाषियों को सिख धर्म के असूल समझाए।
सिख धर्म में कृतम की पूजा त्याग कर एक करतार की प्रेमाभक्ति व उपासना बताई गई है। इसकी पूर्णता के लिए गुरबाणी का अभ्यास, साध-संगत तथा पंथ की सेवा, उपकार, नाम का प्रेम और अमृतपान करके रहित-बहित रखना मुख्य साधन हैं, आदि। क्या आप इस धर्म को खुशी से स्वीकार करते हो ?
(छ) ‘हाँ’ का उत्तर आने पर प्यारों में से एक सज्जन अमृत की तैयारी का अरदासा करके ‘हुक्म’ ले। पाँच प्यारे अमृत तैयार करने के लिए बाटे के पास आ बैठे।
(ज) बाटा सर्वलौह का हो और चौकी, सुनहिरे आदि किसी स्वच्छ वस्त्र पर रखे हों।
(झ) बाटे में स्वच्छ जल व पतासे डाले जायें और पाँच प्यारे बाटे के इर्द-गिर्द बीर आसन लगा कर बैठ जायें।
(ट) और इन बाणियों का पाठ करें : जपुजी साहिब, जापु साहिब, १० सवैये (स्त्रावग सुध वाले) बेनती चौपई (‘हमरी करो हाथ दै रछा’ से ले कर ‘दुष्ट दोख ते लेहु बचाई’ तक), अनंदु साहिब।
(ठ) हर एक बाणी पढ़ने वाला बाँया हाथ बाटे के किनारे पर रखें और दायें हाथ से खंडा जल में फेरते जाये। सुरति एकाग्र हो। अन्य के दोनों हाथ बाटे के किनारे पर और ध्यान अमृत की ओर टिके।
(ड) पाठ होने के बाद प्यारों में से कोई एक अरदास करे।
(ढ) जिस अभिलाषी में अमृत की तैयारी के समय सारे संस्कारों में हिस्सा लिया है, वही अमृतपान करने में शामिल हो सकता है। बीच में आने वाला शामिल नहीं हो सकता।
(ण) अब श्री कलगीधर दशमेश पिता का ध्यान कर के हर एक अमृतपान करने वाले को बीर आसन करवा कर उसके बाँयें हाथ पर दायाँ हाथ रख कर,
1. बीर आसन : दायाँ घुटना ज़मीन पर रख कर दाईं टाँग का भार पैर पर रख कर बैठना और बायाँ घुटना ऊँचा करके रखना।
पाँच चुल्ले अमृत के छकाये (सेवन) जायें और हर चुल्ले के साथ यह कहा जाये—

‘बोल वाहिगुरु जी का खालसा’ वाहिगुरू जी की फतेह।’

अमृत छकने वाला अमृत छक कर कहे ‘वाहिगुरु जी का खालसा, वाहिगुरु जी की फतेह’, फिर पाँच छींटे अमृत के नेत्रों पर किए जायें, फिर पाँच छींटे केशों में डाले जायें। हर एक छीटें के साथ छकने वाला छकाने वाले के पीछे ‘वाहिगुरु जी का खालसा वाहिगुरु जी की फतेह’ गजाता जाये। जो अमृत बाकी रहे, उसको सारे अमृत छकने वाले (सिख तथा सिखनियाँ) मिल कर छकें।
(प) उपरांत पाँचों प्यारे मिल कर, एक आवाज़ से अमृत पान करने वालों को ‘वाहिगुरु’ गुरमंत्र बताकर, मूल मंत्र सुनायें और उनसे इसका रटन करवायें।

१ओंकार सति नामु करता पुरखु निरभउ निरवैरु,
अकाल मूरति अजूनी सैभं गुर प्रसादि॥

(फ) फिर पाँच प्यारों में से कोई रहित बतावे-आज से आपने सतिगुर के जनमे गवनु मिटाइआ है और खालसा पंथ में शामिल हुए हो। तुम्हारा धार्मिक पिता श्री गुरु गोबिंद सिंह जी तथा धार्मिक माता साहिब कौर जी हैं। जन्म आपका केसगढ़ साहिब का है तथा वासी आनंदपुर साहिब की है। तुम एक पिता के पुत्र होने के नाते आपस में और अन्य सारे अमृतधारियों के धार्मिक भ्राता हो। तुम पिछली कुल, कर्म, धर्म का त्याग करके अर्थात् पिछली जात-पात, जन्म, देश, मज़हब का विचार तक छोड़कर, निरोल खालसा बन गये हो। एक अकालपुरुख के अतिरिक्त किसी देवी-देवता, अवतार, पैगंबर की उपासना नहीं करनी। दस गुरु साहिबान को तथा उनकी बाणी के बिना और किसी को अपना मुक्तिदाता नहीं मानना। आप गुरमुखी जानते हो (यदि नहीं जानते तो सीख लो) और हर रोज़ कम से कम इन नितनेम की बाणियों का पाठ करना या सुनना जपुजी साहिब, जापु साहिब, 10 सवैये (स्रावग सुद्य वाले) सोदर रहरासि तथा सोहिला श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी का पाठ करना या सुनना, पाँच ककारों-केश, कृपाण, कछैहरा, कंघा, कड़ा को हर समय अंग संग रखना।
ये चार कुरहितें (विवर्जन) नहीं करने :

  1. शों का अपमान
  2. कुट्ठा खाना।
  3. परस्त्री या परपुरुष का गमन (भोगना)।
  4. तम्बाकू का प्रयोग।

इनमें से कोई कुरहित हो जाये तो फिर अमृतपान करना होगा। अपनी इच्छा के विरुद्ध अभूल हुई कोई कुरहित हो जाये तो कोई दंड नहीं। सिरगम नडी मार (जो सिख होकर यह काम करें) का संग नहीं करना। पंथ सेवा और गुरुद्वारों की टहल सेवा में तत्पर रहना, अपनी कमाई में से गुरु का दसवां (दशांश) देना आदि सारे काम गुरमति अनुसार करने
हैं।
खालसा धर्म के नियमानुसार जत्थेबंदी में एकसूत्र पिरोये रहना, रहित में कोई भूल हो जाये तो खालसे के दीवान में हाज़र हो कर विनती करके तन्ह (दंड) माफ़ करवाना, भविष्य के लिए सावधान रहना।
तनखाहिये (दंड के भागी) ये हैं :

  1. मीणे मसंद, धीरमलिये, रामराइये आदि पंथ विरोधियों या नड़ीमार, कुड़ीमार, सिरगुंम के संग मेल-मिलाप करने वाला तनखाहिया (दंड का भागी) हो जाता है।
  2. गैर-अमृतिये या पतित का जूठा खाने वाला।
  3. दाहड़ा रंगने वाला।
  4. पुत्र या पुत्री का रिश्ता मोल लेकर/देकर करने वाला।
  5. कोई नशा (भाँग, अफ़ीम, शराब, पोस्त, कुकीन आदि) का प्रयोग करने वाला।
  6. गुरमति के विरुद्ध कोई संस्कार करने करवाने वाला।
  7. रहित में कोई भूल करने वाला।

यह शिक्षा देने के उपरांत पाँच प्यारों में सो कोई सज्जन अरदासा करे। फिर गुरु ग्रंथ साहिब की हजूरी बैठा सिंह “हुक्म” ले। जिन्होंने अमृतपान किया है, उनमें से यदि किसी का नाम पहले श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी से नहीं था रखा हुआ, उसका नाम अब बदल कर रखा जाये।
अंत में कड़ाह प्रसाद बाँटा जाये। जहाज़ चढ़े सारे सिंह व सिंहणियां एक ही बाटे में से कड़ाह प्रसाद मिलकर सेवन करें।

प्रश्न 20. सिख धर्म में अरदास का महत्त्व बयान करें।
[Explain the significance of the Ardaas (Prayer) in Sikhism.]
उत्तर-अरदास यद्यपि सभी धर्मों का अंग है किंतु सिख धर्म में इसे विशेष सम्मान प्राप्त है। अरदास फ़ारसी के शब्द अरज़ दाश्त से बना है जिसका भाव है किसी के समक्ष विनती करना। सिख धर्म में अरदास वह कुंजी है जिसके साथ उस परमात्मा के निवास का द्वार खुलता है।
सिख धर्म में अरदास की परम्परा, गुरु नानक देव जी के समय आरंभ हुई। गुरु अर्जन देव जी के समय अरदास आदि ग्रंथ साहिब के सम्मुख करने की प्रथा आरंभ हुई। गुरु गोबिंद सिंह जी ने संगत के रूप में की जाती अरदास का प्रारंभ किया। अरदास के लिए कोई समय निश्चित नहीं किया गया। यह हर समय हर कोई कर सकता है। सच्चे दिल से की गई अरदास ज़रूर सफल होती है। सिख इतिहास में इस संबंधी अनेकों उदाहरणें मिलती हैं। गुरु अर्जन साहिब जी फरमाते हैं,

जो मांगे ठाकुर अपने ते सोई सोई देवे॥
नानक दास मुख ते जो बोले इहा उहा सच होवे॥

अरदास करते समय यदि गुरु ग्रंथ साहिब का प्रकाश हो तो संपूर्ण संगत का मुख उस ओर होना चाहिए। यदि प्रकाश न हो तो किसी भी दिशा की ओर मुख करके अरदास की जा सकती है। अरदास करते समय मन की एकाग्रता का होना अति आवश्यक है। यदि हमारा ध्यान अरदास में नहीं तो चाहे हम हाथ जोड़ के खड़े हों उसका कोई लाभ नहीं। इसलिए अरदास में सम्मिलित होने वाली संगत को सावधान करने के लिए अरदास करने वाले भाई जी बार-बार यह कहते हैं “ध्यान करके बोलो जी वाहिगुरु'” संपूर्ण संगत उच्चे स्वर में “वाहिगुरु” का उच्चारण करती है। कीर्तन अथवा दीवान की समाप्ति के समय संपूर्ण संगत खड़ी होती है। यदि अरदास किसी विशेष उद्देश्य जैसे नामकरण, मंगनी एवं विवाह इत्यादि के लिए हो तो सम्पूर्ण संगत बैठी रहती है तथा संबंधित प्राणी ही खड़े होते हैं।
सिख धर्म में अरदास का आश्रय प्रत्येक सिख अवश्य लेता है। अरदास के मुख्य विषय यह हैं (1) उस परमात्मा के शुक्राने के तौर पर अरदास (2) नाम के लिए अरदास (3) वाणी की प्राप्ति के लिए अरदास (4) पापों का नाश करने के लिए अरदास (5) अपने पापों को बख्शाने के लिए अरदास (6) बच्चे के जन्म के शुक्राने के तौर पर की गई अरदास (7) बच्चे के नाम संस्कार के समय अरदास (8) बच्चे की शिक्षा आरंभ करते समय अरदास (9) मंगनी अथवा विवाह की अरदास (10) बच्चे की प्राप्ति के लिए अरदास (11) कुशल स्वास्थ्य के लिए अरदास (12) भाणा (हुक्म) मानने के लिए अरदास (13) यात्रा आरंभ करने के लिए अरदास (14) नया व्यवसाय आरंभ करते समय अरदास (15) नये घर में प्रवेश करते समय अरदास (16) नितनेम के पश्चात् अरदास (17) कीर्तन अथवा दीवान समाप्ति के पश्चात् अरदास (18) अमृतपान करवाते समय की गई अरदास (19) धर्म युद्ध आरंभ करते समय अरदास (20) परमात्मा से मिलन के लिए अरदास । गुरु रामदास जी फरमाते हैं।

कीता लोडीए कम सो हर पहि आखिए॥
कारज देहि सवारि सतगुरु सच साखिए॥

संक्षेप में जीवन के प्रत्येक मोड़ पर अरदास का आश्रय लिया जाता है। विद्यार्थियों की जानकारी के लिए यहां शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी द्वारा मान्यता प्राप्त अरदास का स्वरूप दिया जा रहा है :—
अरदास

१ओंकार वाहिगुरु जी की फतहि ॥
श्री भगौती जी सहाइ॥
वार श्री भगौती जी की पातशाही १०॥

प्रिथम भगौती सिमरि कै गुरु नानक लई धिआइ।
फिर अंगद गुर ते अमरदासु रामदासै होईं सहाइ।
अरजन हरगोबिंद नो सिमरौ श्री हरिराय।
श्री हरिक्रिशन धिआईऐ जिस डिठे सभि दुखि जाइ।
तेग़ बहादर सिमरिऐ घर नउ निधि आवै धाइ।
सभ थाईं होई सहाइ।
दसवें पातशाह श्री गुरु गोबिंद सिंह साहिब जी !
सब थाईं होई सहाइ। ,
दसां पातशाहीयां की ज्योति स्वरूप श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी के
पाठ दीदार का ध्यान धर कर बोलो जी वाहिगुरु!
पाँच प्यारों, चार साहिबजादों, चालीस मुक्तों,
हठियों, जपियों, तपियों जिन्होंने नाम जपा,
बांट खाया, देग चलाई, तेग वाही, देख कर अनडिठ किया,
तिनां प्यारियां सचिआरियां दी कमाई दा ध्यान धर कर
खालसा जी! बोलो जी वाहिगुरु !
जिन सिंह सिंहनियों ने धर्म हेतु सीस दिये,
अंग अंग कटवाए, खोपड़िआँ उतरवाईं, चर्खियों पर चढ़ाए गये,
आरों से तन चिरवाए,
गुरुद्वारों के सुधार और पवित्रता के निमित्त शहीद हुए, धर्म नहीं छोड़ा, सिख धर्म का केशों तथा
प्राणों सहित पालन किया,
उनकी कमाई का
ध्यान धर कर खालसा जी ! बोलो वाहिगुरु !
पाँचों तखतों, समूह गुरद्वारों का
ध्यान धर कर बोलो जी वाहिगुरु!
प्रथमे सरबत खालसा जी की अरदास है जी
सरबत खालसा जी को वाहिगुरु, वाहिगुरु,
वाहिगुरु चित आवे, चित आवन से
सर्व सुख हो, जहाँ जहाँ खालसा जी साहिब,
तहाँ तहाँ रक्षा रिआइत, देग तेग फतहि,
बिरद की लाज, पंथ की जीत, श्री साहिब जी सहाय,
खालसा जी का बोल बाले, बोलो जी वाहिगुरु!!!
सिखों को सिखी दान, केश दान, रहित दान,
विवेक दान, विसाह दान, भरोसा दान, दानों के सिर दान,
नाम दान, श्री अमृतसर जी के स्नान,
चोंकियाँ, झंडे, बुंगे जुगो जुग अट्टल, धर्म का जयकार
बोलो जी वाहिगुरु !!!
सिखों का मन नीवां, मति ऊची, मति का राखा आप
वाहिगुरु, हे अकाल पुरख! अपने पंथ
के सदा सहाई दातार जी! श्री ननकाणा साहिब तथा
और गुरुद्वारों, गुरधामों के, जिन से पंथ
को विछोड़ा गया है, खले दर्शन दीदार और
सेवा संभाल का दान खालसा जी को बख्शो।
हे नि:मानो के मान, निःताणो के ताण,
निःओटों की ओट, निरासरयों के आश्रय, सच्चे पिता वाहिगुरु !
आप की सेवा में …………… * की अरदास है।
अक्षर मात्रादि भूल चूक क्षमा करना,
सब दे कारज रास करने,
सेई प्यारे मेल, जिनां मिलियां,
तेरा नाम चित आवे।
नानक नाम चढ़दी कला॥
तेरे भाणे सरबत दा भला॥

अरदास का हमारे जीवन में बहुत महत्त्व है। इसे पढ़ कर व्यक्ति की आत्मा प्रसन्न हो जाती है। अरदास यद्यपि छोटी है पर इसका क्षेत्र बहुत व्यापक है। वास्तव में यह गागर में सागर भरने वाली बात है। इससे हमें उस परमात्मा की भक्ति, सेवा, कुर्बानी तथा मानवता की भलाई के लिए कार्य करने की प्रेरणा मिलती है। इससे मन शुद्ध होता है। मनुष्य की हउमै दूर होती है। उसके सभी दुःख एवं कष्ट दूर हो जाते हैं। मन पर पड़ी अनेक जन्मों की मैल दूर हो जाती है। मनुष्य इस भवसागर से पार हो जाता है। इस प्रकार अरदास उस परमात्मा से मिलन का एक संपूर्ण साधन है। गुरु अर्जन साहिब जी फरमाते हैं,

जा के वस खान सुलतान ॥
जा के वस हे सगल जहान ॥
जा का किया सब किछ होए ॥
तिस ते बाहर नाही कोए ॥
कहो बेनती अपने सतगुरु पास ॥
काज तुमारे देहि निभाए ॥ रहाउ॥

*यहां उस बाणी का नाम लें, जो पढ़ी है, अथवा जिस कार्य के लिए इकट्ठ या संगत एकत्र हुई हो, उसका उल्लेख उचित शब्दों में कीजिए।

SHORT ANSWER TYPE QUESTIONS

प्रश्न 1. सिख रहित मर्यादा की संक्षिप्त व्याख्या करें। (Explain in brief the Sikh Code of Conduct.)
अथवा
सिख जीवन जाच में दर्शाए गए संस्कारों के बारे में संक्षिप्त जानकारी दें। (Describe in brief Sanskaras as depicted in Sikh Way of-Life.)
उत्तर-

  1. एक अकाल पुरख (परमात्मा) के अतिरिक्त किसी अन्य देवी-देवता की उपासना नहीं करनी चाहिए।
  2. अपनी मुक्ति का दाता केवल दस गुरु साहिबान, गुरु ग्रंथ साहिब जी तथा उसमें अंकित वाणी को मानना चाहिए।
  3. जाति-पाति, छुआछूत, मंत्र, श्राद्ध, दीवा, एकादशी, पूरनमाशी आदि के व्रत, तिलक, मूर्ति पूजा इत्यादि में विश्वास नहीं रखना।
  4. गुरु घर के बिना किसी अन्य धर्म के तीर्थ अथवा धाम को नहीं मानना।

प्रश्न 2. मूलमंत्र की संक्षिप्त व्याख्या करें। (Explain the brief the Mul Mantra.)
उत्तर-गुरु नानक देव जी की वाणी जपुजी साहिब की प्रारंभिक पंक्तियों को मूल मंत्र कहा जाता है। यह पंक्तियाँ हैं-एक ओ अंकार सतिनामु करता पुरुखु निरभउ निरवैरु अकाल मूरति अजूनि सैभं गुर प्रसादि॥ जापु॥ इन्हें गुरु नानक देव जी की शिक्षाओं का सार कहा जा सकता है। इसमें अकाल पुरख (परमात्मा) के स्वरूप का वर्णन किया गया है। मूल मंत्र के अर्थ यह हैं-अकाल पुरुख केवल एक है। उसका नाम सच्चा है। वह सभी वस्तुओं का सृजनकर्ता है। वह सदैव रहने वाला है। वह जन्म एवं मृत्यु से मुक्त है। उसे केवल गुरु की कृपा द्वारा ही प्राप्त किया जा सकता है।

प्रश्न 3. सिख धर्म में अकाल पुरुख (परमात्मा) की कोई चार विशेषताओं का वर्णन कीजिए। [Describe any four features of Akal Purkh (God) in Sikhism.]
उत्तर-

  1. गुरु नानक देव जी एक ईश्वर में विश्वास रखते थे। उन्होंने ईश्वर की एकता पर बल दिया।
  2. ईश्वर ही संसार को रचने वाला, पालने वाला तथा नाश करने वाला है।
  3. ईश्वर के दो रूप हैं। वह निर्गुण भी है और सगुण भी।
  4. ईश्वर आवागमन के चक्र से मुक्त है।

प्रश्न 4. सिख धर्म में नाम जपने का क्या महत्त्व है ? (What is the importance of Remembering Divine Name in Sikhism ?)
उत्तर-सिख धर्म में नाम की आराधना अथवा सिमरन को ईश्वर की भक्ति का सर्वोच्च रूप समझा गया है। गुरु नानक देव जी का कथन था कि नाम की आराधना से जहाँ मन के पाप दूर हो जाते हैं वहीं वह निर्मल हो जाता है। इस कारण मनुष्य के सभी कष्ट खत्म हो जाते हैं। उसकी सभी शंकाएँ दूर हो जाती हैं। नाम की आराधना से मनुष्य के सभी कार्य सहजता से होते चले जाते हैं क्योंकि ईश्वर स्वयं उसके सभी कार्यों में सहायता करता है।

प्रश्न 5. किरत करने से क्या अभिप्राय है ? (What is the meaning of Honest Labour ?)
उत्तर-किरत से भाव है मेहनत एवं ईमानदारी की कमाई करना। किरत करना अत्यंत आवश्यक है। यह परमात्मा का हुक्म (आदेश) है। हम प्रतिदिन देखते हैं कि विश्व का प्रत्येक जीव-जंतु किरत करके अपना पेट पाल रहा है। इसलिए मानव के लिए किरत करने की आवश्यकता सबसे अधिक है क्योंकि वह सभी जीवों का सरदार है। शरीर जिसमें उस परमात्मा का निवास है को स्वास्थ्यपूर्ण रखने के लिए किरत करनी आवश्यक है। जो व्यक्ति किरत नहीं करता वह अपने शरीर को हृष्ट-पुष्ट नहीं रख सकता।

प्रश्न 6. सिख धर्म में संगत का क्या महत्त्व है ? (What is the importance of Sangat in Sikhism ?)
उत्तर-संगत अथवा साध संगत को सिखी जीवन का थम्म माना जाता है। इस महत्त्वपूर्ण संस्था की नींव गुरु नानक देव जी ने करतारपुर में रखी। उन्होंने जहाँ-जहाँ भी चरण डाले वहाँ-वहाँ संगत की स्थापना होती चली गई। संगत से भाव है “गुरमुख प्यारों का वह इकट्ठ (एकत्रता) जहाँ उस परमात्मा की प्रशंसा की जाती हो।” संग्रत में प्रत्येक स्त्री अथवा पुरुष बिना किसी जाति, नस्ल, रंग, धर्म, अमीर, ग़रीब इत्यादि के मतभेद के सम्मिलित हो सकते हैं।

प्रश्न 7. सिख धर्म में पंगत का क्या महत्त्व है ? चर्चा कीजिए। (What is the importance of Pangat in Sikh Way of life ?)
अथवा
पंगत पर एक संक्षिप्त नोट लिखें। (Write a short note on the Pangat.)
उत्तर-सिख पंथ के विकास में पंगत प्रथा का बहुत प्रशंसनीय योगदान है। पंगत से अभिप्राय है पंक्ति में बैठ कर लंगर छकना। गुरु नानक देव जी ने इस महत्त्वपूर्ण संस्था की नींव करतारपुर में रखी थी। पंगत में कोई भी स्त्री अथवा पुरुष किसी जाति, धर्म, नस्ल, ऊँच-नीच इत्यादि के मतभेद के बिना सम्मिलित हो सकता था। इसमें प्रत्येक को सेवा करने का बराबर अधिकार है। इस कारण सिखों में आपसी भाईचारे की भावना का विकास हुआ। पंगत प्रथा के कारण सिख धर्म की लोकप्रियता दूर-दूर तक फैली।

प्रश्न 8. सिख धर्म में संगत व पंगत का क्या महत्त्व है ? प्रकाश डालें। (What is the importance of Sangat and Pangat in Sikhism ? Elucidate.)
उत्तर-संगत अथवा साध संगत को सिखी जीवन का थम्म माना जाता है। इस महत्त्वपूर्ण संस्था की नींव गुरु नानक देव जी ने करतारपुर में रखी। उन्होंने जहाँ-जहाँ भी चरण डाले वहाँ-वहाँ संगत की स्थापना होती चली गई। संगत से भाव है “गुरमुख प्यारों का वह इकट्ठ (एकत्रता) जहाँ उस परमात्मा की प्रशंसा की जाती हो।” संग्रत में प्रत्येक स्त्री अथवा पुरुष बिना किसी जाति, नस्ल, रंग, धर्म, अमीर, ग़रीब इत्यादि के मतभेद के सम्मिलित हो सकते हैं।

सिख पंथ के विकास में पंगत प्रथा का बहुत प्रशंसनीय योगदान है। पंगत से अभिप्राय है पंक्ति में बैठ कर लंगर छकना। गुरु नानक देव जी ने इस महत्त्वपूर्ण संस्था की नींव करतारपुर में रखी थी। पंगत में कोई भी स्त्री अथवा पुरुष किसी जाति, धर्म, नस्ल, ऊँच-नीच इत्यादि के मतभेद के बिना सम्मिलित हो सकता था। इसमें प्रत्येक को सेवा करने का बराबर अधिकार है। इस कारण सिखों में आपसी भाईचारे की भावना का विकास हुआ। पंगत प्रथा के कारण सिख धर्म की लोकप्रियता दूर-दूर तक फैली।

प्रश्न 9. सिख धर्म में हुक्म का क्या महत्त्व है ? (What is the importance of the Hukam in Sikhism ?)
उत्तर-हुक्म सिख दर्शन का एक महत्त्वपूर्ण संकल्प है। ‘हुक्म’ अरबी भाषा का शब्द है जिसका अर्थ हैआज्ञा, फरमान तथा आदेश। गुरवाणी में अनेक स्थानों पर परमात्मा के हुक्म को मीठा करके मानने को कहा गया है। गुरु नानक देव जी ‘जपुजी’ में लिखते हैं कि सारे संसार की रचना उस परमात्मा के हुक्म से हुई है। हुक्म से ही जीव को प्रशंसा मिलती है तथा हुक्म से ही जीव दुःख-सुख प्राप्त करते हैं। हुक्म से ही वे पापों से मुक्त होते हैं अथवा वे आवागमन के चक्र में भटकते रहते हैं।

प्रश्न 10. सिख धर्म में हउमै से क्या अभिप्राय है ? (What is meant by Haumai in Sikhism ?)
उत्तर-सिख धर्म में हउमै (अहं) की व्याख्या बार-बार आती है। हउमै से तात्पर्य ‘अहंकार’ अथवा ‘मैं’ से है। यह एक ऐसी चारदीवारी है जो जीव आत्मा को उस सर्व-व्यापक परमात्मा से पृथक् करती है। अगर हम हउमै को आदमी की मैं का एक मज़बूत किला कहें तो यह अतिशयोक्ति नहीं होगी। हउमै के कारण मनुष्य अपने विचारों द्वारा अपने एक अलग संसार की रचना कर लेता है। इसमें उसका अपनत्व और मैं बहुत ही प्रबल होती है। परिणामस्वरूप वह अपने असली अस्तित्व को भूल जाता है।

प्रश्न 11. “हउमै एक दीर्घ रोग है।” कैसे ? (“Ego is deep rooted disease.” How ?)
उत्तर-हउमै एक दीर्घ रोग है, जो कैंसर की तरह जब एक बार जड़ पकड़ लेता है तो उसका अंत करना मुश्किल होता है। यह पाँच मनोविकारों-काम, क्रोध, लोभ, मोह और अहंकार का जन्मदाता है। ऐसा मनुष्य कई प्रकार के झूठ बोलता है, पाखंड करता है और कई प्रकार के छलावे का सहारा लेता है। यह इतना भयानक रूप ले लेती है कि जीवन नरक बन जाता है। हउमै से भरा जीव उस परम पिता परमात्मा से दूर हो जाता है और वह जीवन-मरण के चक्र से कभी छुटकारा नहीं पाता।

प्रश्न 12. गुरु नानक साहिब की शिक्षाओं में गुरु का क्या महत्त्व है ? (What is the importance of Guru in the teachings of Guru Nanak Dev Ji ?)
अथवा
गुरु नानक देव जी के गुरु सम्बन्धी क्या विचार थे ? (What was the concept of ‘Guru’ of Guru Nanak Dev Ji ?) i
उत्तर-गुरु नानक साहिब परमात्मा तक पहुँचने के लिए गुरु को अति महत्त्वपूर्ण मानते हैं। उनके अनुसार गुरु मुक्ति तक ले जाने वाली वास्तविक सीढ़ी है। गुरु बिना मनुष्य को हर तरफ़ अंधकार ही अंधकार नज़र आता है। गुरु ही मनुष्य को अंधेरे (अज्ञानता) से प्रकाश (ज्ञान) की तरफ़ ले जाते हैं। गुरु ही माया के मोह तथा हउमै के रोग को दूर करते हैं। वे ही नाम और शबद की आराधना द्वारा भक्ति के मार्ग पर चलने का ढंग बताते हैं। गुरु हर असंभव कार्य को संभव कर सकता है। इसलिए उसके मिलने के साथ ही मनुष्य की जीवनधारा बदल जाती है।

प्रश्न 13. सिख धर्म में कीर्तन का क्या महत्त्व है ? (What is the importance of Kirtan in Sikhism ?)
अथवा
सिख जीवन जाच में कीर्तन का बहुत महत्त्व है। चर्चा कीजिए। (Kirtan is very important in Sikh Way of life. Explain.)
उत्तर-सिख धर्म में कीर्तन को प्रमुख स्थान प्राप्त है। इसे मनुष्य के आध्यात्मिक मार्ग का सर्वोच्च साधन माना जाता है। सिखों के लगभग सभी संस्कारों में कीर्तन किया जाता है। कीर्तन से भाव उस गायन से है जिसमें उस अकाल पुरुख भाव परमात्मा की प्रशंसा की जाए। गुरुवाणी को रागों में गायन को कीर्तन कहा जाता है। सिख धर्म में कीर्तन की प्रथा गुरु नानक देव जी ने आरंभ की थी। प्रेम भक्ति की भावना से किया गया कीर्तन मनुष्य की आत्मा की गहराई तक प्रभाव डालता है।

प्रश्न 14. सिख धर्म में सेवा के महत्त्व का वर्णन कीजिए। (Explain the importance of Seva in Sikhism.)
उत्तर-सिख दर्शन में सेवा को विशेष महत्त्व दिया गया है। इसमें कोई संदेह नहीं कि प्रत्येक धर्म में सेवा का गुणगान किया गया है किंतु जो महत्त्व इसे सिख धर्म में प्राप्त है वह किसी अन्य धर्म में नहीं है। सेवा से भाव केवल गुरुद्वारे जाकर जूते साफ़ करना, झाड़ देना, संगत पर पंखा करना, जल पिलाना, लंगर में सेवा आदि ही सम्मिलित नहीं। इस प्रकार की सेवा में हउमै की भावना उत्पन्न होती है। सेवा से भाव प्रत्येक उस कार्य से है जिसमें मानवता की किसी प्रकार भलाई होती हो।

प्रश्न 15. सिख गुरुओं के जाति बारे क्या विचार थे ? (What were the views of Sikh Gurus regarding caste ?)
अथवा
जाति प्रथा के बारे में गुरु नानक साहिब जी के विचार प्रकट करें। (Describe the views of Guru Nanak Sahib ji regarding caste system.)
उत्तर-गुरु नानक देव जी के समय हिंदू समाज न केवल चार मुख्य जातियों-ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र-बल्कि अनेक अन्य उपजातियों में विभाजित था। उच्च जाति के लोग अपनी जाति पर बहुत गर्व करते थे। वे निम्न जातियों से बहुत घृणा करते थे और उन पर बहुत अत्याचार करते थे। समाज में छुआछूत की भावना बहुत फैल गई थी। गुरु नानक देव जी ने जाति-जाति और छुआछूत की भावना का जोरदार शब्दों में खंडन किया। गुरु साहिब ने ‘संगत’ और ‘पंगत’ संस्थाएँ चलाकर जाति प्रथा पर एक कड़ा प्रहार किया।

प्रश्न 16. सिख धर्म में अरदास के महत्त्व का वर्णन कीजिए। [Explain the significance of Ardas (Prayer) in Sikhism.]
अथवा
सिख धर्म में अरदास का क्या महत्त्व है ? [What is the significance of Ardas (Prayer) in Sikhism ?]:
अथवा
सिख जीवन जाच में अरदास के महत्त्व के बारे में जानकारी दीजिए। (Describe the importance of Ardas in Sikh way of life.)
उत्तर-अरदास यद्यपि सभी धर्मों का अंग है किंतु सिख धर्म में इसे विशेष सम्मान प्राप्त है। अरदास फ़ारसी के शब्द अरज़ दाश्त से बना है जिसका भाव है किसी के समक्ष विनती करना। सिख धर्म में अरदास वह कुंजी है जिसके साथ उस परमात्मा के निवास का द्वार खुलता है। सिख धर्म में अरदास की परंपरा, गुरु नानक देव जी के समय आरंभ हुई। अरदास के लिए कोई समय निश्चित नहीं किया गया। यह हर समय हर कोई कर सकता है। सच्चे दिल से की गई अरदास ज़रूर सफल होती है।

प्रश्न 17. सिखों की धार्मिक जीवन पद्धति पर संक्षिप्त चर्चा कीजिए। (Discuss in brief the Religious Sikh Way of Life.)
अथवा
सिख जीवन जाच की विलक्षणता दर्शाइए।
(Describe the distinction of Sikh Way of Life.)
उत्तर-

  1. सिख अमृत समय जाग कर स्नान करे तथा एक अकाल पुरख (परमात्मा) का ध्यान करता हुआ ‘वाहिगुरु’ का नाम जपे।
  2. नितनेम का पाठ करे। नितनेम की वाणियाँ ये हैं-जपुजी साहिब, जापु साहिब, अनंदु साहिब, चौपई साहिब एवं 10 सवैये। ये वाणियाँ अमृत समय पढी जाती हैं।
    रहरासि साहिब-यह वाणी संध्या काल समय पढ़ी जाती है।
    सोहिला-यह वाणी रात को सोने से पूर्व पढी जाती है।
    अमृत समय तथा नितनेम के पश्चात् अरदास करनी आवश्यक है।
  3. गुरवाणी का प्रभाव साध-संगत में अधिक होता है। अतः सिख के लिए उचित है कि वह गुरुद्वारे के दर्शन करे तथा साध-संगत में बैठ कर गुरवाणी का लाभ उठाए।
  4. गुरुद्वारे में गुरु ग्रंथ साहिब जी का प्रकाश प्रतिदिन होना चाहिए। साधारणतया रहरासि साहिब के पाठ के पश्चात् सुख आसन किया जाना चाहिए।
  5. गुरु ग्रंथ साहिब जी को सम्मान के साथ प्रकाश, पढ़ना एवं संतोखना चाहिए। प्रकाश के लिए आवश्यक है कि स्थान पूर्णतः साफ़ हो तथा ऊपर चांदनी लगी हो। प्रकाश मंजी साहिब पर साफ़ वस्त्र बिछा कर किया जाना चाहिए। गुरु ग्रंथ साहिब जी के लिए गदेले आदि का प्रयोग किया जाए तथा ऊपर रुमाला दिया जाए। जिस समय पाठ न हो रहा हो तो ऊपर रुमाला पड़ा रहना चाहिए। प्रकाश समय चंवर किया जाना चाहिए।
  6. गुरुद्वारे में कोई मूर्ति पूजा अथवा गुरमत के विरुद्ध कोई रीति-संस्कार न हो।
  7. एक से दूसरे स्थान तक गुरु ग्रंथ साहिब जी को ले जाते समय अरदास की जानी चाहिए। जिस व्यक्ति ने सिर के ऊपर गुरु ग्रंथ साहिब उठाया हो, वह नंगे पाँव होना चाहिए।
  8. गुरु ग्रंथ साहिब जी का प्रकाश अरदास करके किया जाए। प्रकाश करते समय गुरु ग्रंथ साहिब जी में से एक शबद का वाक लिया जाए।
  9. जिस समय गुरु ग्रंथ साहिब जी की सवारी आए तो प्रत्येक सिख को उसके सम्मान के लिए खड़ा हो जाना चाहिए।

प्रश्न 18. सिख रहित मर्यादा की संक्षिप्त व्याख्या करें।
(Explain in brief the Sikh Code of Conduct.)
अथवा
सिख जीवन जाच में दर्शाए गए संस्कारों के बारे में संक्षिप्त जानकारी दें। (Describe in brief Sanskaras as depicted in Sikh Way of Life.)
उत्तर-

  1. एक अकाल पुरख (परमात्मा) के अतिरिक्त किसी अन्य देवी-देवता की उपासना नहीं करनी चाहिए।
  2. अपनी मुक्ति का दाता केवल दस गुरु साहिबान, गुरु ग्रंथ साहिब जी तथा उसमें अंकित वाणी को मानना
  3. जाति-पाति, छुआछूत, मंत्र, श्राद्ध, दीवा, एकादशी, पूरनमाशी आदि के व्रत, तिलक, मूर्ति पूजा इत्यादि में विश्वास नहीं रखना।
  4. गुरु घर के बिना किसी अन्य धर्म के तीर्थ अथवा धाम को नहीं मानना।
  5. प्रत्येक कार्य करने से पूर्व वाहिगुरु के आगे अरदास करना।
  6. संतान को गुरसिखी की शिक्षा देना प्रत्येक सिख का कर्तव्य है।
  7. सिख भाँग, अफीम, शराब, तंबाकू इत्यादि नशे का प्रयोग न करे।
  8. गुरु का सिख कन्या हत्या न करे। जो ऐसा करे उनके साथ संबंध न रखें।
  9. गुरु का सिख ईमानदारी की कमाई से अपना निर्वाह करे।
  10. चोरी, डाका एवं जुए आदि से दूर रहे।
  11. पराई बेटी को अपनी बेटी समझे, पराई स्त्री को अपनी माँ समझे।
  12. गुरु का सिख जन्म से लेकर देहाँत तक गुरु मर्यादा में रहे।
  13. सिख, सिख को मिलते समय ‘वाहिगुरु जी का खालसा, वाहिगुरु जी की फतेह’ कहे।
  14. सिख स्त्रियों के लिए पर्दा अथवा चूंघट निकालना उचित नहीं।
  15. सिख के घर बालक के जन्म के पश्चात् परिवार व अन्य संबंधी गुरुद्वारे जा कर अकालपुरख का शुक्राना करें।

प्रश्न 19. मूलमंत्र की संक्षिप्त व्याख्या करें। (Explain the brief the Mul Mantra.)
उत्तर-गुरु नानक देव जी की वाणी जपुजी साहिब की प्रारंभिक पंक्तियों को मूल मंत्र कहा जाता है। यह पंक्तियाँ हैं-एक ओ अंकार सतिनामु करता पुरुखु निरभउ निरवैरु अकाल मूरति अजूनि सैभं गुर प्रसादि॥ जापु॥ आदि सचु जुगादि सचु है भी सचु नानक होसी भी सचु। इन्हें गुरु नानक देव जी की शिक्षाओं का सार कहा जा सकता है। इसमें अकाल पुरख (परमात्मा) के स्वरूप का वर्णन किया गया है। मूल मंत्र के अर्थ यह हैं-अकाल पुरुख केवल एक है। उसका नाम सच्चा है। वह सभी वस्तुओं का सृजनकर्ता है। वह अपनी सृष्टि में मौजूद है। प्रत्येक वस्तु का अस्तित्व उसी पर निर्भर करता है, वह डर एवं ईर्ष्या से मुक्त है। उस पर काल का प्रभाव नहीं होता। वह सदैव रहने वाला है। वह जन्म एवं मृत्यु से मुक्त है। उसका प्रकाश अपने आपसे है। उसे केवल गुरु की कृपा द्वारा ही प्राप्त किया जा सकता है।

प्रश्न 20. सिख धर्म में अकाल पुरुख (परमात्मा) की कोई पाँच विशेषताओं का वर्णन कीजिए।
[Describe any five features of Akal Purkh (God) in Sikhism.]
अथवा
अकाल तख्त साहिब पर एक नोट लिखें।
(Write a note on the Akal Takhat.)
उत्तर-गुरवाणी में बार-बार इस बात पर बल दिया गया है कि ईश्वर एक है यद्यपि उसे अनेक नामों से स्मरण किया जाता है। सिख परंपरा के अनुसार मूल मंत्र के आरंभ में जो अक्षर ‘एक ओ अंकार’ है वह ईश्वर की एकता का प्रतीक है। वह ईश्वर ही संसार की रचना करता है, उसका पालन-पोषण करता है तथा उसका विनाश कर सकता है। इसी कारण कोई भी पीर, पैगंबर, अवतार, औलिया, ऋषि तथा मुनि इत्यादि उसका मुकाबला नहीं कर सकते। ईश्वर के दो रूप हैं। वह निर्गुण भी है तथा सर्गुण भी। सर्वप्रथम संसार में चारों ओर अंधकार था। उस समय कोई धरती अथवा आकाश जीव-जंतु इत्यादि नहीं थे। ईश्वर अपने आप में ही रहता था। यह ईश्वर का निर्गुण स्वरूप था। फिर जब उस ईश्वर के मन में आया तो उसके एक हुकम के साथ ही यह धरती, आकाश, चंद्रमा, सूर्य, पर्वत, दरिया, जंगल, मनुष्य, पशु-पक्षी तथा फूल इत्यादि अस्तित्व में आ गए। इस प्रकार ईश्वर ने अपना आप रूपमान (प्रकट) किया। इन सब में उसकी रोशनी देखी जा सकती है। यह ईश्वर का सर्गुण स्वरूप है। ईश्वर ही इस संसार का रचयिता, पालनकर्ता और उसका विनाश करने वाला है। संसार की रचना से पूर्व कोई धरती, आकाश नहीं थे तथा चारों ओर अंधेरा ही अंधेरा था। केवल ईश्वर का हुक्म (आदेश) चलता था। जब उस ईश्वर के मन में आया तो उसने इस संसार की रचना की। उसके हुक्म के अनुसार ही संपूर्ण विश्व चलता है।

प्रश्न 21. सिख धर्म में नाम जपने का क्या महत्त्व है ?
(What is the importance of Remembering Divine Name in Sikhism ?)
उत्तर-सिख धर्म में नाम की आराधना अथवा सिमरन को ईश्वर की भक्ति का सर्वोच्च रूप समझा गया है। गुरु नानक देव जी का कथन था कि नाम की आराधना से जहाँ मन के पाप दूर हो जाते हैं वहीं वह निर्मल हो जाता है। इस कारण मनुष्य के सभी कष्ट खत्म हो जाते हैं। उसकी सभी शंकाएँ दूर हो जाती हैं। नाम की आराधना से मनुष्य के सभी कार्य सहजता से होते चले जाते हैं क्योंकि ईश्वर स्वयं उसके सभी कार्यों में सहायता करता है। नाम की आराधना करने वाले जीव की आत्मा सदैव एक कमल के फूल की तरह होती है। नाम की आराधना करने वाला जीव इस भवसागर से पार हो जाता है तथा उसका आवागमन का चक्र समाप्त हो जाता है। नाम के बिना मनुष्य का इस संसार में आना व्यर्थ है। ऐसा मनुष्य सभी प्रकार के पापों और आवागमन के चक्र में फंसा रहता है। ईश्वर के दरबार में वह उसी प्रकार ध्वस्त हो जाता है जैसे भयंकर तूफान आने पर एक रेत का महल। ईश्वर के नाम का जाप पावन मन और सच्ची श्रद्धा से करना चाहिए। उस परमात्मा के नाम का जाप केवल वह मनुष्य ही कर सकता है जिस पर उसकी नदरि हो। ऐसे मनुष्य परमात्मा के दरबार में उज्ज्वल मुख के साथ जाते हैं।

प्रश्न 22. किरत करने से क्या अभिप्राय है ?
(What is the meaning of Honest Labour ?) ।
उत्तर-किरत से भाव है मेहनत एवं ईमानदारी की कमाई करना। किरत करना अत्यंत आवश्यक है। यह परमात्मा का हुक्म (आदेश) है। हम प्रतिदिन देखते हैं कि विश्व का प्रत्येक जीव-जंतु किरत करके अपना पेट पाल रहा है। इसलिए मानव के लिए किरत करने की आवश्यकता सबसे अधिक है क्योंकि वह सभी जीवों का सरदार है। शरीर जिसमें उस परमात्मा का निवास है को स्वास्थ्यपूर्ण रखने के लिए किरत करनी आवश्यक है। जो व्यक्ति किरत नहीं करता वह अपने शरीर को हृष्ट-पुष्ट नहीं रख सकता। ऐसा व्यक्ति वास्तव में उस परमात्मा के विरुद्ध गुनाह करता है। गुरु नानक देव जी स्वयं कृषि का कार्य करके अपनी किरत करते थे। उन्होंने सैदपुर में मलिंक भागो का ब्रह्म भोज छकने की अपेक्षा भाई लालो की सूखी रोटी को खुशी-खुशी स्वीकार किया। इसका कारण यह था कि भाई लालो एक सच्चा किरती था। सिखों के लिए कोई भी व्यवसाय करने पर प्रतिबंध नहीं। वह कृषि, व्यापार, दस्तकारी, सेवा, नौकरी इत्यादि किसी भी व्यवसाय को अपना सकता है। किंतु उसके लिए चोरी, ठगी, डाका, धोखा, रिश्वत तथा पाप की कमाई करना सख्त मना है।

प्रश्न 23. सिख धर्म में संगत का क्या महत्त्व है ?
(What is the importance of Sangat in Sikhism ?)
उत्तर-संगत अथवा साध संगत को सिखी जीवन का थम्म माना जाता है। इस महत्त्वपूर्ण संस्था की नींव गुरु नानक देव जी ने करतारपुर में रखी। उन्होंने जहाँ-जहाँ भी चरण डाले वहाँ-वहाँ संगत की स्थापना होती चली गई। संगत से भाव है “गुरमुख प्यारों का वह इकट्ठ (एकत्रता) जहाँ उस परमात्मा की प्रशंसा की जाती हो।” संगत में प्रत्येक स्त्री अथवा पुरुष बिना किसी जाति, नस्ल, रंग, धर्म, अमीर, ग़रीब इत्यादि के मतभेद के सम्मिलित हो सकते हैं। संगत के लक्षण बताते हुए गुरु नानक साहिब फरमाते हैं,

सति संगत कैसी जाणिए। जिथै ऐकौ नाम वखाणिए॥
एकौ नाम हुक्म है नानक सतिगुरु दीया बुझाए जीउ॥

सिख धर्म में यह भावना काम करती है कि संगत में वह परमात्मा स्वयं उसमें निवास करता है। इस कारण संगत में जाने वाले मनुष्य की काया कल्प हो जाती है। उसके मन की सभी दुष्ट भावनाएँ दूर हो जाती हैं। काम, क्रोध, लोभ, मोह तथा अहंकार का नाश हो जाता है तथा सति, संतोष, दया, धर्म तथा सच्च इत्यादि दैवी गुणों का मनुष्य के मन में प्रवेश होता है। हउमै दूर हो जाती है तथा ज्ञान का प्रकाश होता है। संगत में जाकर बड़े से बड़े पापी के भी पाप धुल जाते हैं। गुरु रामदास जी का कथन है कि जैसे पारस की छोह के साथ मनूर सोना बन जाता है ठीक उसी प्रकार पापी व्यक्ति भी संगत में जाने से पवित्र हो जाता है।
संगत में ऐसी शक्ति है कि लंगड़े भी पहाड़ चढ़ सकने के योग्य हो जाते हैं। मूर्ख सूझवान बातें करने लगते हैं। अंधों को तीनों लोकों का ज्ञान हो जाता है। मनुष्य के मन की सारी मैल उतर जाती है। उसकी सभी मनोकामनाएँ पूर्ण हो जाती हैं तथा पूर्ण परमानंद की प्राप्ति होती है। उसे प्रत्येक जीव में उस ईश्वर की झलक दिखाई देती है। उसके लिए अपने-पराए का कोई भेदभाव नहीं रहता तथा सबके साथ साँझ पैदा हो जाती है। यह संस्था आज भी जारी है।

प्रश्न 24. सिख धर्म में पंगत का क्या महत्त्व है ? चर्चा कीजिए।
(What is the importance of Pangat in Sikh Way of life ?)
अथवा
पंगत पर एक संक्षिप्त नोट लिखें।
(Write a short note on the Pangat.)
उत्तर-सिख पंथ के विकास में पंगत प्रथा का बहुत प्रशंसनीय योगदान है। पंगत से अभिप्राय है एक पंक्ति में बैठ कर लंगर छकना। गुरु नानक देव जी ने इस महत्त्वपूर्ण संस्था की नींव करतारपुर में रखी थी। पंगत में कोई भी स्त्री अथवा पुरुष किसी जाति, धर्म, नस्ल, ऊँच-नीच इत्यादि के मतभेद के बिना सम्मिलित हो सकता था। इसमें प्रत्येक को सेवा करने का बराबर अधिकार है।
पंगत की स्थापना गुरु नानक देव जी का एक क्रांतिकारी पग था। ऐसा करके उन्होंने ब्राह्मणों को शूद्रों के हाथों भोजन करवा दिया। इसका उद्देश्य भारतीय समाज में प्रचलित उस जाति प्रथा का अंत करना था जिसने इसे घुण की तरह खा कर भीतर से खोखला बना दिया था। ऐसा करके गुरु नानक देव जी ने समानता के सिद्धांत को व्यावहारिक रूप दिया। इस कारण सिखों में आपसी भाईचारे की भावना का विकास हुआ। इसने पिछड़ी हुई श्रेणियों को जो शताब्दियों से उच्च जाति के लोगों द्वारा शोषित की जा रही थीं, को एक सम्मान दिया। लंगर के लिए सारा धन गुरु के सिख देते थे। इसलिए उन्हें दान देने की आदत पड़ी। पंगत प्रथा के कारण सिख धर्म की लोकप्रियता दूर-दूर तक फैली। पंगत के महत्त्व के संबंध में गुरु नानक देव जी फरमाते हैं,

घाल खाए कुछ हथीं देइ॥
नानक राहु पछाणे सेइ॥

गुरु अंगद देव जी ने पंगत प्रथा का विकास किया। उनकी पत्नी बीबी खीवी जी खडूर साहिब में लंगर के संपूर्ण प्रबंध की देखभाल स्वयं करती थीं। गुरु अमरदास जी ने लंगर संस्था का विस्तार किया। उन्होंने यह घोषणा की कि जो कोई भी उनके दर्शन करना चाहता है उसे पहले पंगत में लंगर छकना पड़ेगा। ऐसा इसलिए किया गया कि सिखों में व्याप्त छुआछूत की भावना का सदैव के लिए अंत कर दिया जाए। मुग़ल बादशाह अकबर तथा हरीपुर के राजा ने भी गुरु जी से भेंट से पूर्व पंगत में बैठ कर लंगर छका था। गुरु अमरदास जी का कथन था कि भूखे को अन्न तथा नंगे को वस्त्र देना हज़ारों हवनों तथा यज्ञों से बेहतर है। यह संस्था आज भी जारी है।

प्रश्न 25. सिख धर्म में संगत व पंगत का क्या महत्त्व है ? प्रकाश डालें। (What is the importance of Sangat and Pangat in Sikhism ? Elucidate.)
उत्तर-संगत अथवा साध संगत को सिखी जीवन का थम्म माना जाता है। इस महत्त्वपूर्ण संस्था की नींव गुरु नानक देव जी ने करतारपुर में रखी। उन्होंने जहाँ-जहाँ भी चरण डाले वहाँ-वहाँ संगत की स्थापना होती चली गई। संगत से भाव है “गुरमुख प्यारों का वह इकट्ठ (एकत्रता) जहाँ उस परमात्मा की प्रशंसा की जाती हो।” संगत में प्रत्येक स्त्री अथवा पुरुष बिना किसी जाति, नस्ल, रंग, धर्म, अमीर, ग़रीब इत्यादि के मतभेद के सम्मिलित हो सकते हैं। संगत के लक्षण बताते हुए गुरु नानक साहिब फरमाते हैं,

सति संगत कैसी जाणिए। जिथै ऐकौ नाम वखाणिए॥
एकौ नाम हुक्म है नानक सतिगुरु दीया बुझाए जीउ॥

सिख धर्म में यह भावना काम करती है कि संगत में वह परमात्मा स्वयं उसमें निवास करता है। इस कारण संगत में जाने वाले मनुष्य की काया कल्प हो जाती है। उसके मन की सभी दुष्ट भावनाएँ दूर हो जाती हैं। काम, क्रोध, लोभ, मोह तथा अहंकार का नाश हो जाता है तथा सति, संतोष, दया, धर्म तथा सच्च इत्यादि दैवी गुणों का मनुष्य के मन में प्रवेश होता है। हउमै दूर हो जाती है तथा ज्ञान का प्रकाश होता है। संगत में जाकर बड़े से बड़े पापी के भी पाप धुल जाते हैं। गुरु रामदास जी का कथन है कि जैसे पारस की छोह के साथ मनूर सोना बन जाता है ठीक उसी प्रकार पापी व्यक्ति भी संगत में जाने से पवित्र हो जाता है।
संगत में ऐसी शक्ति है कि लंगड़े भी पहाड़ चढ़ सकने के योग्य हो जाते हैं। मूर्ख सूझवान बातें करने लगते हैं। अंधों को तीनों लोकों का ज्ञान हो जाता है। मनुष्य के मन की सारी मैल उतर जाती है। उसकी सभी मनोकामनाएँ पूर्ण हो जाती हैं तथा पूर्ण परमानंद की प्राप्ति होती है। उसे प्रत्येक जीव में उस ईश्वर की झलक दिखाई देती है। उसके लिए अपने-पराए का कोई भेदभाव नहीं रहता तथा सबके साथ साँझ पैदा हो जाती है। यह संस्था आज भी जारी है।
सिख पंथ के विकास में पंगत प्रथा का बहुत प्रशंसनीय योगदान है। पंगत से अभिप्राय है एक पंक्ति में बैठ कर लंगर छकना। गुरु नानक देव जी ने इस महत्त्वपूर्ण संस्था की नींव करतारपुर में रखी थी। पंगत में कोई भी स्त्री अथवा पुरुष किसी जाति, धर्म, नस्ल, ऊँच-नीच इत्यादि के मतभेद के बिना सम्मिलित हो सकता था। इसमें प्रत्येक को सेवा करने का बराबर अधिकार है।
पंगत की स्थापना गुरु नानक देव जी का एक क्रांतिकारी पग था। ऐसा करके उन्होंने ब्राह्मणों को शूद्रों के हाथों भोजन करवा दिया। इसका उद्देश्य भारतीय समाज में प्रचलित उस जाति प्रथा का अंत करना था जिसने इसे घुण की तरह खा कर भीतर से खोखला बना दिया था। ऐसा करके गुरु नानक देव जी ने समानता के सिद्धांत को व्यावहारिक रूप दिया। इस कारण सिखों में आपसी भाईचारे की भावना का विकास हुआ। इसने पिछड़ी हुई श्रेणियों को जो शताब्दियों से उच्च जाति के लोगों द्वारा शोषित की जा रही थीं, को एक सम्मान दिया। लंगर के लिए सारा धन गुरु के सिख देते थे। इसलिए उन्हें दान देने की आदत पड़ी। पंगत प्रथा के कारण सिख धर्म की लोकप्रियता दूर-दूर तक फैली। पंगत के महत्त्व के संबंध में गुरु नानक देव जी फरमाते हैं,

घाल खाए कुछ हथीं देइ॥
नानक राहु पछाणे सेइ॥

गुरु अंगद देव जी ने पंगत प्रथा का विकास किया। उनकी पत्नी बीबी खीवी जी खडूर साहिब में लंगर के संपूर्ण प्रबंध की देखभाल स्वयं करती थीं। गुरु अमरदास जी ने लंगर संस्था का विस्तार किया। उन्होंने यह घोषणा की कि जो कोई भी उनके दर्शन करना चाहता है उसे पहले पंगत में लंगर छकना पड़ेगा। ऐसा इसलिए किया गया कि सिखों में व्याप्त छुआछूत की भावना का सदैव के लिए अंत कर दिया जाए। मुग़ल बादशाह अकबर तथा हरीपुर के राजा ने भी गुरु जी से भेंट से पूर्व पंगत में बैठ कर लंगर छका था। गुरु अमरदास जी का कथन था कि भूखे को अन्न तथा नंगे को वस्त्र देना हज़ारों हवनों तथा यज्ञों से बेहतर है। यह संस्था आज भी जारी है।

प्रश्न 26. सिख धर्म में हउमै से क्या अभिप्राय है ? (What is meant by Haumai in Sikhism ?)
उत्तर-सिख धर्म में हउमै (अहं) की व्याख्या बार-बार आती है। हउमै से तात्पर्य ‘अहंकार’ अथवा ‘मैं से है। यह एक ऐसी चारदीवारी है जो जीव आत्मा को उस सर्व-व्यापक परमात्मा से पृथक् करती है। अगर हम हउमै को आदमी की मैं का एक मज़बूत किला कहें तो यह अतिशयोक्ति नहीं होगी। हउमै के कारण मनुष्य अपने विचारों द्वारा अपने एक अलग संसार की रचना कर लेता है। इसमें उसका अपनत्व और मैं बहुत ही प्रबल होती है। इस प्रकार उसका संसार बेटे, बेटियों, भाइयों, भतीजों, बहनों-बहनोइयों, माता-पिता, सास-ससुर, जवाई, पति-पत्नी आदि के साथ संबंधित पास अथवा दूर की रिश्तेदारियों तक ही सीमित रहता है। अगर थोड़ी-सी अपनत्व की डोर लंबी कर ली जाए तो इस निजी संसार में सज्जन-मित्र भी शामिल कर लिए जाते हैं। परंतु आखिर में इस संसार की सीमा निजी जान-पहचान तक पहुँच कर समाप्त हो जाती है। इस निजी संसार की रचना के कारण मनुष्य में हउमै की भावना उत्पन्न होती है और वह अपने आपको इस आडंबर का मालिक समझने लगता है। परिणामस्वरूप वह अपने असली अस्तित्व को भूल जाता है।

प्रश्न 27. “हउमै एक दीर्घ रोग है।” कैसे ? (“Ego is deep rooted disease.” How ?)
उत्तर-हउमै एक दीर्घ रोग है, जो कैंसर की तरह जब एक बार जड़ पकड़ लेता है तो उसका अंत करना मुश्किल होता है। यह पाँच मनोविकारों-काम, क्रोध, लोभ, मोह और अहंकार का जन्मदाता है। ऐसा मनुष्य कई प्रकार के झूठ बोलता है, पाखंड करता है और कई प्रकार के छलावे का सहारा लेता है। परिणामस्वरूप शैतानियत का जन्म होता है। यह इतना भयानक रूप ले लेती है कि जीवन नरक बन जाता है। हउमै से भरा जीव उस परम पिता परमात्मा से दूर हो जाता है और वह जीवन-मरण के चक्र से कभी छुटकारा नहीं पाता। हउमै के प्रभाव में जीव क्या-क्या करता है ? इसका उत्तर गुरु नानक देव जी देते हैं कि जीव के सारे कार्य हऊमै के बंधन में बंधे होते हैं। वह हउमै में जन्म लेता है, मरता है, देता है,लेता है, कमाता है, गंवाता है, कभी सच बोलता है और कभी झूठ, पाप-पुण्य, स्वर्ग-नरक का हिसाब करता है, समझदारी और मूर्खता भी हउमै के तराजू में तौलता है। हउमै के कारण ही वह मुक्ति के सार को नहीं जान पाता। अगर वह हऊमै को जान ले तो उसे परमात्मा के दरबार के दर्शन हो सकते हैं। अज्ञानता के कारण मनुष्य झगड़ता है। कर्म के अनुसार ही लेख लिखे जाते हैं। जो जैसा कर्म करता है उसे वैसा ही फल मिलता है।

प्रश्न 28. गुरु नानक साहिब की शिक्षाओं में गुरु का क्या महत्त्व है ?’ (What is the importance of Guru in the teachings of Guru Nanak Dev Ji ?)
उत्तर-गुरु नानक साहिब परमात्मा तक पहुँचने के लिए गुरु को अति महत्त्वपूर्ण मानते हैं। उनके अनुसार गुरु मुक्ति तक ले जाने वाली वास्तविक सीढ़ी है। गुरु बिना मनुष्य को हर तरफ़ अंधकार ही अंधकार नज़र आता है। गुरु ही मनुष्य को अंधेरे (अज्ञानता) से प्रकाश (ज्ञान) की तरफ़ ले जाते हैं। गुरु ही माया के मोह तथा हउमै के ‘ रोग को दूर करते हैं। वे ही नाम और शबद की आराधना द्वारा भक्ति के मार्ग पर चलने का ढंग बताते हैं। गुरु बिना भक्ति भाव और ज्ञान संभव नहीं होता। गुरु हर असंभव कार्य को संभव कर सकता है। इसलिए उसके मिलने के साथ ही मनुष्य की जीवनधारा बदल जाती है। सच्चे गुरु का मिलना कोई आसान काम नहीं होता। परमात्मा की कृपा के बगैर सच्चे गुरु की प्राप्ति नहीं हो सकती। यह बात यहाँ पर वर्णन योग्य है कि गुरु नानक देव जी जब गुरु की बात करते हैं तो उनका तात्पर्य किसी मनुष्य रूपी गुरु से नहीं है। सच्चा गुरु तो परमात्मा स्वयं है जो शब्द के माध्यम से शिक्षा देता है।

प्रश्न 29. सिख धर्म में कीर्तन का क्या महत्त्व है ? (What is the importance of Kirtan in Sikhism ?)
अथवा
सिख जीवन जाच में कीर्तन का बहुत महत्त्व है। चर्चा कीजिए।
(Kirtan is very important in Sikh Way of life. Explain.)
उत्तर-सिख धर्म में कीर्तन को प्रमुख स्थान प्राप्त है। इसे मनुष्य के आध्यात्मिक मार्ग का सर्वोच्च साधन माना जाता है। सिखों के लगभग सभी संस्कारों में कीर्तन किया जाता है। कीर्तन से भाव उस गायन से है जिसमें उस अकाल पुरुख भाव परमात्मा की प्रशंसा की जाए। गुरुवाणी को रागों में गायन को कीर्तन कहा जाता है।
सिख धर्म में कीर्तन की प्रथा गुरु नानक देव जी ने आरंभ की थी। उन्होंने अपनी यात्राओं के समय भाई मर्दाना जी को साथ रखा जो कीर्तन के समय रबाब बजाता था। गुरु नानक देव जी कीर्तन करते हुए अपने श्रद्धालुओं के मनों पर जादई प्रभाव डालते थे। परिणामस्वरूप न केवल सामान्यजन अपितु सज्जन ठग, कोड्डा राक्षस, नूरशाही जादूगरनी, हमजा गौंस तथा वली कंधारी जैसे कठोर स्वभाव के व्यक्ति भी प्रभावित हुए बिना न रह सके एवं आपके शिष्य बन गए। कीर्तन की इस प्रथा को शेष 9 गुरुओं ने भी जारी रखा। गुरु हरगोबिंद साहिब ने कीर्तन में वीर रस उत्पन्न करने के उद्देश्य से ढाडी प्रथा को प्रचलित किया।
प्रेम भक्ति की भावना से किया गया कीर्तन मनुष्य की आत्मा की गहराई तक प्रभाव डालता है। इससे मनुष्य का सोया हुआ मन जाग उठता है, उसके दुःख एवं कष्ट दूर हो जाते हैं एवं कई जन्मों की मैल दूर हो जाती है। वह हरि नाम में लीन हो जाता है। मानव का मन निर्मल हो जाता है। उसकी आत्मा प्रसन्न हो उठती है तथा उसका लोक-परलोक सफल हो जाता है। इस कारण कीर्तन को निरमोलक (अमूल्य) हीरा कहा जाता है।

प्रश्न 30. सिख धर्म में सेवा के महत्त्व का वर्णन कीजिए। (Explain the importance of Seva in Sikhism.)
उत्तर-सिख दर्शन में सेवा को विशेष महत्त्व दिया गया है। इसमें कोई संदेह नहीं कि प्रत्येक धर्म में सेवा का गुणगान किया गया है किंतु जो महत्त्व इसे सिख धर्म में प्राप्त है वह किसी अन्य धर्म में नहीं है।
सेवा से भाव केवल गुरुद्वारे जाकर जूते साफ़ करना, झाड़ देना, संगत पर पंखा करना, जल पिलाना, लंगर आदि ही सम्मिलित नहीं। इस प्रकार की सेवा में हउमै की भावना उत्पन्न होती है। सेवा से भाव प्रत्येक उस कार्य से है जिसमें मानवता की किसी प्रकार भलाई होती हो।
सेवा वास्तव में बहुत उच्च साधना है। यह केवल उसी समय सफल हो सकती है जब यह निष्काम हो। जब तक मनुष्य हउमै की भावना को खत्म नहीं करता तब तक उसे सेवा का सम्मान प्राप्त नहीं हो सकता। सेवा करने की रुचि प्रत्येक व्यक्ति के मन में उत्पन्न नहीं हो सकती। इसकी प्राप्ति के लिए उच्च आचरण की आवश्यकता है। इसमें मनुष्य को गुरुमत्त के अनुसार सेवा सिख जीवन का एक निरन्तर भाग है। यह एक दिन अथवा कुछ समय के लिए नहीं अपितु उसके अंतिम सांस तक जारी रहनी चाहिए। सेवा, वे ही मनुष्य कर सकते हैं जिन पर उस परमात्मा की मिहर हो तथा जिनके अंदर सच्चे नाम का वास हो। जिनके अन्दर -झूठ, कपट अथवा पाप हो वह सेवा नहीं कर सकते। सच्ची सेवा को सभी सुखों का स्रोत कहा जाता है। ऐसी सेवा करने वाला मनुष्य न केवल इस लोक अपितु परलोक में भी प्रशंसा प्राप्त करता है।

प्रश्न 31. सिख गुरुओं के जाति बारे क्या विचार थे ? (What were the views of Sikh Gurus regarding caste ?)
अथवा
जाति प्रथा के बारे में गुरु नानक साहिब जी के विचार प्रकट करें। (Describe the views of Guru Nanak Sahib ji regarding caste system.)
उत्तर-गुरु नानक देव जी के समय हिंदू समाज न केवल चार मुख्य जातियों-ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र-बल्कि अनेक अन्य उपजातियों में विभाजित था। उच्च जाति के लोग अपनी जाति पर बहुत गर्व करते थे। वे निम्न जातियों से बहुत घृणा करते थे और उन पर बहुत अत्याचार करते थे। समाज में छुआछूत की भावना बहुत फैल गई थी। गुरु नानक देव जी ने जाति-जाति और छुआछूत की भावना का जोरदार शब्दों में खंडन किया। गुरु साहिब का कथन था कि ईश्वर के दरबार में किसी ने जाति नहीं पूछनी, केवल कर्मों से निपटारा होगा। गुरु साहिब ने ‘संगत’ और ‘पंगत’ संस्थाएँ चलाकर जाति प्रथा पर एक कड़ा प्रहार किया। इस प्रकार गुरु नानक साहिब ने परस्पर भ्रातृत्व का प्रचार किया। गुरु नानक साहिब के बाद हुए समस्त गुरु साहिबान ने भी जाति प्रथा का जोरदार शब्दों में खंडन किया। गुरु अर्जन साहिब द्वारा आदि ग्रंथ साहिब में निम्न जातियों के लोगों द्वारा रचित वाणी को सम्मिलित करके और गुरु गोबिंद सिंह जी द्वारा खालसा पंथ की स्थापना करके जाति प्रथा को समाप्त करने की दिशा में महत्त्वपूर्ण योगदान दिया।

प्रश्न 32. सिख धर्म में अरदास के महत्त्व का वर्णन कीजिए।
[Explain the significance of Ardas (Prayer) in Sikhism.]
अथवा
सिख धर्म में अरदास का क्या महत्त्व है ?
[What is the significance of Ardas (Prayer) in Sikhism ?]
उसर-अरदास यद्यपि सभी धर्मों का अंग है किंतु सिख धर्म में इसे विशेष सम्मान प्राप्त है। अरदास फ़ारसी के शब्द अरज़ दाश्त से बना है जिसका भाव है किसी के समक्ष विनती करना। सिख धर्म में अरदास वह कुंजी है जिसके साथ उस परमात्मा के निवास का द्वार खुलता है।
सिख धर्म में अरदास की परंपरा, गुरु नानक देव जी के समय आरंभ हुई। गुरु अर्जन देव जी के समय अरदास आदि ग्रंथ साहिब के सम्मुख करने की प्रथा आरंभ हुई। गुरु गोबिंद सिंह जी ने संगत के रूप में की जाती अरदास का प्रारंभ किया। अरदास के लिए कोई समय निश्चित नहीं किया गया। यह हर समय हर कोई कर सकता है। सच्चे दिल से की गई अरदास ज़रूर सफल होती है। सिख इतिहास में इस संबंधी अनेक उदाहरणे मिलती हैं।
सिख धर्म में अरदास का आश्रय प्रत्येक सिख अवश्य लेता है। अरदास के मुख्य विषय यह हैं—

  1. उस परमात्मा के शुक्राने के तौर पर अरदास
  2. नाम के लिए अरदास
  3. वाणी की प्राप्ति के लिए अरदास
  4. पापों का नाश करने के लिए अरदास
  5. अपने पापों को बख्शाने के लिए अरदास
  6. बच्चे के जन्म के शुक्राने के तौर पर की गई अरदास
  7. बच्चे के नाम संस्कार के समय अरदास
  8. बच्चे की शिक्षा आरंभ करते समय अरदास
  9. मंगनी अथवा विवाह की अरदास
  10. बच्चे की प्राप्ति के लिए अरदास
  11. कुशल स्वास्थ्य के लिए अरदास
  12. भाणा (हुक्म) मानने के लिए अरदास
  13. यात्रा आरंभ करने के लिए अरदास
  14. नया व्यवसाय आरंभ करते समय अरदास
  15. नये घर में प्रवेश करते समय अरदास
  16. नितनेम के पश्चात् अरदास।

OBJECTIVE TYPE QUESTIONS

प्रश्न 1. सिख कौन है ?
उत्तर-एक परमात्मा, दस गुरु साहिबान तथा गुरु ग्रंथ साहिब जी में विश्वास रखने वाला।

प्रश्न 2. प्रत्येक सिख को अपना जीवन किसके अनुसार व्यतीत करना चाहिए ?
उत्तर-गुरमति के अनुसार।

प्रश्न 3. सिख जीवन में नितनेम की कितनी वाणियां सम्मिलित हैं ?
अथवा
नितनेम की वाणियों के नाम लिखें।
उत्तर-जपुजी साहिब, जापु साहिब, अनंदु साहिब, चौपाई साहिब, 10 सवैया, रहरासि साहिब और सोहिला।

प्रश्न 4. नितनेम में सम्मिलित किन्हीं दो वाणियों के नाम लिखें।
अथवा
प्रातःकाल में पढ़ी जाने वाली कोई दो वाणियाँ बताएँ।
अथवा
अमृत समय पढ़ी जाने वाली वाणियों के नाम लिखो।
उत्तर-

  1. जपुजी साहिब
  2. जापु साहिब।

प्रश्न 5. किस वाणी को सायंकाल में पढ़ना चाहिए ?
उत्तर-रहरासि साहिब।

प्रश्न 6. सिख जीवन में रात को सोते समय कौन-सी वाणी पढ़ी जाती है ?
अथवा
सिख धर्म के अनुसार रात को सोते समय कौन-सी वाणी पढ़ी जाती है ?
उत्तर-सिख जीवन में रात को सोते समय सोहिला नामक वाणी पढी जाती है।

प्रश्न 7. गुरु ग्रंथ साहिब जी के प्रकाश के समय किस बात का ख्याल रखा जाना चाहिए ?
उत्तर-गुरु ग्रंथ साहिब जी के प्रकाश के समय ऊपर चाँदनी होनी चाहिए।

प्रश्न 8. गुरुद्वारे के अंदर प्रत्येक सिख के लिए कौन सी बातें वर्जित की गई हैं ? कोई एक बताएँ।
उत्तर-वह अपने जूते बाहर उतार कर आए।

प्रश्न 9. गुरुद्वारे में निशान साहिब कहाँ लगा होना चाहिए ?
उत्तर-किसी ऊँचे स्थान पर।।

प्रश्न 10. गुरमति जीवन का कोई एक सिद्धाँत बताएँ।
उत्तर- प्रत्येक सिख प्रतिदिन अपना कार्य आरंभ करने से पूर्व अरदास करेगा।

प्रश्न 11. प्रत्येक सिख के लिए कौन-से पाँच कक्कार धारण करने अनिवार्य हैं ?
अथवा
सिख जीवन जाच अनुसार सिखों के पांच ककार लिखें।
उत्तर-केश, कंघा, कड़ा, कच्छहरा तथा कृपाण।

प्रश्न 12. किन्हीं दो कुरीतियों के नाम लिखें जिन पर प्रत्येक सिख के लिए प्रतिबंध लगाया गया है ?
उत्तर-

  1. केशों को काटना
  2. तंबाकू का प्रयोग करना।

प्रश्न 13. गुश्मत्ता से क्या अभिप्राय है?
उत्तर-गुरमत्ता गुरु ग्रंथ साहिब जी की उपस्थिति में सरबत खालसा द्वारा जो निर्णय स्वीकार किए जाते हैं, उन्हें गुरमत्ता कहा जाता है।

प्रश्न 14. गुरमत्ता किन प्रश्नों पर हो सकता है ?
उत्तर-गुरमत्ता केवल सिख धर्म के मूल सिद्धांतों की पुष्टि के लिए हो सकता है।

प्रश्न 15. सिख दर्शन में किसे सर्वोच्च माना गया है ?
उत्तर-अकाल पुरुख को।

प्रश्न 16. अकाल पुरुख का कोई एक लक्षण बताएँ।
उत्तर-वह सर्वशक्तिमान है।

प्रश्न 17. गुरवाणी के अनुसार व्यक्ति और परमात्मा के मिलाप सीढ़ी का कार्य कौन करता है ?
उत्तर-गुरु स्वयं।

प्रश्न 18. सिख धर्म में गुरु से क्या भाव है ?
उत्तर-सिख धर्म में सच्चा गुरु परमात्मा स्वयं है।

प्रश्न 19. सिख धर्म में गुरु का क्या महत्त्व है ?
उत्तर-वह मुक्ति तक ले जाए वाली वास्तविक सीढ़ी है।

प्रश्न 20. संगत एवं पंगत की स्थापना कौन-से गुरु ने कहाँ की ?
अथवा
संगत व पंगत संस्था किस गुरु ने स्थापित की ?
उत्तर-संगत एवं पंगत की स्थापना गुरु नानक देव जी ने करतारपुर में की।

प्रश्न 21. संगत से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-संगत से भाव है गुरमुख प्यारों की वह एकत्रता जहाँ परमात्मा की प्रशंसा की जाती है।

प्रश्न 22. संगत की स्थापना किसने की ?
उत्तर-संगत की स्थापना गुरु नानक देव जी ने की।

प्रश्न 23. सिख धर्म में संगत का क्या महत्त्व है ?
उत्तर-संगत में जाने वाला व्यक्ति इस भवसागर से पार हो जाता है।

प्रश्न 24. पंगत से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-पंगत से अभिप्राय है एक पंक्ति में बैठकर लंगर छकना।

प्रश्न 25. पंगत की स्थापना किसने की ?
उत्तर-गुरु नानक देव जी ने।

प्रश्न 26. पंगत क्या होती है और यह किस गुरु साहिब के समय आरंभ हुई ?
उत्तर-

  1. पंगत से भाव है पंगत में बैठकर लंगर खाना।
  2. यह गुरु नानक साहिब के समय से आरंभ हुई।

प्रश्न 27. सिख धर्म में पंगत का क्या महत्त्व है ?
उत्तर-इससे सिख धर्म के प्रचार को प्रोत्साहन मिला।

प्रश्न 28. सिख धर्म में हुक्म से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-हुक्म से अभिप्राय है आज्ञा अथवा आदेश।

प्रश्न 29. सिख धर्म में हुक्म का क्या महत्त्व है ?
उत्तर-हुक्म मानने वाला व्यक्ति पर परमात्मा मेहरबान होता है।

प्रश्न 30. हुक्म न मानने वाले व्यक्ति के साथ क्या होता है ?
उत्तर-हुक्म न मानने वाला व्यक्ति आवागमन के चक्कर में फंसा रहता है।

प्रश्न 31. हउमै से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-अभिमान करना।

प्रश्न 32. हउमै किस प्रकार का रोग है ?
अथवा
सिख जीवन जाच में हउमै किस प्रकार का रोग है ?
उत्तर-हउमै एक दीर्घ रोग है।

प्रश्न 33. हउमै को किस प्रकार दूर किया जा सकता है ?
उत्तर-नाम जप कर।

प्रश्न 34. मनुष्य के कितने मनोविकार हैं ?
उत्तर-पाँच।

प्रश्न 35. मनुष्य के कोई दो मनोविकार बताएँ।
उत्तर-

  1. काम
  2. क्रोध।

प्रश्न 36. सिख को कौन-से विकारों से सावधान रहने के लिए कहा गया है ?
अथवा
सिख के जीवन में पांच मनो विकार कौन-से माने जाते हैं ?
उत्तर-सिख को काम, क्रोध, लोभ, मोह एवं अहंकार से सावधान रहने को कहा गया है।

प्रश्न 37. सेवा से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-सेवा से अभिप्राय उस कार्य से है जिससे मानवता की भलाई हो।

प्रश्न 38. सिख धर्म में कौन-मा मनुष्य सेवा कर सकता है ?
उत्तर-सिख धर्म में वह मनुष्य सेवा कर सकता है जिस पर परमात्मा मेहरबान हो।

प्रश्न 39. सिख धर्म में परमात्मा को प्राप्त करने का सबसे बढ़िया साधन कौन-सा है ?
उत्तर-सिमरनि।

प्रश्न 40. सिख धर्म में सिमरनि का क्या महत्त्व है ?
उत्तर-सिमरनि करने वाले व्यक्ति के मनोविकार दूर हो जाते हैं।

प्रश्न 41. सिख धर्म में किन तीन सिद्धांतों की पालना करना प्रत्येक सिख के लिए अनिवार्य है ?
उत्तर-किरत करना, नाम जपना तथा बाँट कर छकना।

प्रश्न 42. नाम जपना, किरत करना और बांट कर छकना किस धर्म के नियम हैं ?
उत्तर-सिख धर्म के।

प्रश्न 43. किरत से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-किरत से अभिप्राय है मेहनत तथा ईमानदारी की कमाई करना।

प्रश्न 44. कीर्तन से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-कीर्तन से अभिप्राय उस गायन से है जो परमात्मा की प्रशंसा में गाया जाता है।

प्रश्न 45. सिख धर्म में कीर्तन की प्रथा को किसने आरंभ किया ?
उत्तर-सिख धर्म में कीर्तन की प्रथा को गुरु नानक देव जी ने आरंभ किया।

प्रश्न 46. सिख धर्म में कीर्तन का क्या महत्त्व है ?
उत्तर-कीर्तन करने एवं सुनने वाला व्यक्ति इस भवसागर से पार हो जाता है।

प्रश्न 47. अरदास से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर- अरदास से अभिप्राय परमात्मा के सम्मुख प्रार्थना अथवा विनती करने से है।।

प्रश्न 48. क्या सिख धर्म में अरदास के लिए कोई समय निश्चित किया गया है ?
उत्तर- नहीं।

प्रश्न 49. सिख धर्म में अरदास का क्या महत्त्व है, ?
उत्तर-अरदास करने वाले व्यक्ति की हउमै दूर हो जाती है।

नोट-रिक्त स्थानों की पूर्ति करें—

प्रश्न 1. जपुजी साहिब की बाणी ………… समय पढ़ी जाती है।
उत्तर-अमृत

प्रश्न 2. ………… की बाणी शाम सूरज अस्त के पश्चात् पढ़ी जाती है। .
उत्तर-रहरासि साहिब

प्रश्न 3. मूल मंत्र ………. के आरंभ में दिया गया है।
उत्तर-जपुजी साहिब

प्रश्न 4. सिख धर्म के अनुसार अकाल पुरख ………… है।
उत्तर-एक

प्रश्न 5. सिख धर्म के अनुसार अकाल पुरख के ……….. रूप हैं।
उत्तर-दो

प्रश्न 6. सिख धर्म के अनुसार …………. सर्वशक्तिमान है।
उत्तर-अकाल पुरख

प्रश्न 7. सिख धर्म के बुनियादी सिद्धांत ………. हैं।
उत्तर-तीन

प्रश्न 8. सिख धर्म में पहला बुनियादी सिद्धांत ……….. है।
उत्तर-नाम जपना

प्रश्न 9. सिख धर्म के अनुसार किरत से भाव है……… की कमाई करना।
उत्तर-ईमानदारी

प्रश्न 10. संगत प्रथा की स्थापना ………… ने की थी।
उत्तर-गुरु नानक देव जी

प्रश्न 11. कतार में बैठकर लंगर छकने को ………. कहा जाता है।
उत्तर-पंगत

प्रश्न 12. हुक्म से भाव है ………. का आदेश।
उत्तर-परमात्मा

प्रश्न 13. हउमै ……….. रोग है।
उत्तर-दीर्घ

प्रश्न 14. सिख धर्म में कीर्तन की प्रथा ……… ने चलाई।
उत्तर-गुरु नानक देव जी

प्रश्न 15. सिख धर्म में ………. को विशेष महत्त्व दिया गया है।
उत्तर-सेवा

प्रश्न 16. सिख धर्म ………… का संदेश देता है।
उत्तर-सांझीवालता

प्रश्न 17. सिख धर्म में अमृत ग्रहण करवाने के लिए ………… प्यारों का होना अनिवार्य है।
उत्तर–पाँच

प्रश्न 18. सिख धर्म में परमात्मा के सम्मुख की जाने वाली प्रार्थना को ……… कहा जाता है।
उत्तर-अरदास

नोट-निम्नलिखित में से ठीक अथवा ग़लत चुनें—

प्रश्न 1. जपुजी साहिब का आरंभ मूलमंत्र से होता है।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 2. जापु साहिब को प्रातःकाल में पढ़ा जाता है।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 3. सिख धर्म में नशों के प्रयोग पर प्रतिबंध लगाया गया है।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 4. गुरुबाणी के अनुसार जगत की रचना नाशवान् नहीं है।
उत्तर-ग़लत

प्रश्न 5. गुरुबाणी के अनुसार अकाल पुरुष एक है।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 6. सिख धर्म में नाम सिमरन को विशेष महत्त्व नहीं दिया गया।
उत्तर-ग़लत

प्रश्न 7. सिख धर्म में संगत और पंगत की स्थापना गुरु अमरदास जी ने की थी।
उत्तर-ग़लत

प्रश्न 8. सिख धर्म के अनुसार हुक्म से भाव परमात्मा के आदेश से है।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 9. सिख धर्म के अनुसार हऊमै दीर्घ रोग है।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 10. सिख धर्म में कीर्तन की प्रथा गुरु नानक देव जी ने आरंभ की थी।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 11. सिख धर्म में अमृत पान के लिए पाँच प्यारों का होना अनिवार्य है।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 12. सिख धर्म में अरदास किसी भी समय की जा सकती है।
उत्तर-ठीक

नोट-निम्नलिखित में से ठीक उत्तर चुनें—

प्रश्न 1. निम्नलिखित में से किस बाणी को अमृत समय नहीं पढ़ा जाता है ?
(i) जापुजी साहिब
(ii) जापु साहिब
(iii) रहरासि साहिब
(iv) अनंदु साहिब।
उत्तर-(ii)

प्रश्न 2. निम्नलिखित में से किस बाणी को रात को सोते समय पढ़ा जाता है ?
(i) चौपाई साहिब
(ii) अनंदु साहिब
(iii) रहरासि साहिब
(iv) सोहिला)
उत्तर-(iv)

प्रश्न 3. निम्नलिखित में से कौन-सा तथ्य ग़लत है
(i) गुरसिख देवी-देवताओं की उपासना कर सकते हैं ।
(ii) प्रत्येक गुरसिख के लिए अनिवार्य है कि वह अपना कोई भी कार्य आरंभ करने से पहले वाहिगुरु के सम्मुख अरदास करे।
(iii) प्रत्येक गुरसिख के लिए नशों के सेवन के लिए पाबंदी है।
(iv) वाहेगुरु जी का खालसा श्री वाहेगुरु जी की फ़तेह।
उत्तर-(i)

प्रश्न 4. निम्नलिखित में से किस बाणी में मूल मंत्र का वर्णन किया गया है ?
(i) जापु साहिब
(ii) जापुजी साहिब
(iii) अनंदु साहिब
(iv) रहरासि साहिब।
उत्तर-(ii)

प्रश्न 5. सिख धर्म के अनुसार अकाल पुरुष संबंधी निम्नलिखित में से कौन-सा तथ्य ग़लत है ?
(i) अकाल पुरुष अनेक हैं
(ii) वह निर्गुणहार है
(iii) वह सर्वव्यापक है
(iv) वह सबसे महान् है।
उत्तर-(i)

प्रश्न 6. सिख धर्म के आरंभिक नियम कितने हैं ?
(i) 2
(ii) 3
(iii) 4
(iv) 5.
उत्तर-(ii)

प्रश्न 7. सिख धर्म का प्रथम नियम क्या है ?
(i) नाम जपना
(ii) किरत करनी
(iii) बाँट छकना
(iv) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-(i)

प्रश्न 8. संगत और पंगत संस्थाओं की स्थापना किसने की थी ?
(i) गुरु नानक देव जी
(ii) गुरु अंगद देव जी
(iii) गुरु अमरदास जी
(iv) गुरु राम दास जी।
उत्तर-(i)

प्रश्न 9. लंगर प्रथा की नींव किसने रखी ?
(i) गुरु अमरदास जी
(ii) गुरु हरगोबिंद जी
(iii) गुरु अर्जन देव जी
(iv) गुरु नानक देव जी।
उत्तर-(iv)

प्रश्न 10. सिख धर्म में कीर्तन का आरंभ किसने किया था ?
(i) गुरु हर राय जी ने
(ii) गुरु हरकृष्ण जी ने
(iii) गुरु नानक देव जी ने
(iv) गुरु गोबिंद सिंह जी ने।
उत्तर-(iii)

प्रश्न 11. अमृत ग्रहण के लिए कम-से-कम कितने प्यारों का उपस्थित होना अनिवार्य है ?
(i) 2
(ii) 3
(iii) 4
(iv) 5
उत्तर-(iv)

प्रश्न 12. सिख धर्म में अरदास कब की जा सकती है ?
(i) केवल अमृत समय
(ii) सायं समय
(iii) रात को सोने से पूर्व
(iv) किसी भी समय।
उत्तर-(iv)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *