Class 11 History Solutions Chapter 3 जैन धर्म और बौद्ध धर्म

अध्याय का विस्तृत अध्ययन

(विषय-सामग्री की पूर्ण जानकारी के लिए)

प्रश्न 1. जैन धर्म और बौद्ध धर्म का उदय किन राजनीतिक, सामाजिक व धार्मिक परिस्थितियों में हुआ ?
उत्तर-जैन धर्म और बौद्ध धर्म का उदय छठी शताब्दी ई० पू० में हुआ। इस समय तक देश के राजनीतिक, सामाजिक तथा धार्मिक क्षेत्रों में नए विचार उभर रहे थे। देश में कुछ बड़े-बड़े राज्य स्थापित हो चुके थे। इनमें शासक नवीन विचारों के पनपने का कोई विरोध नहीं कर रहे थे। इसी प्रकार सामाजिक एवं धार्मिक वातावरण भी नवीन धार्मिक आन्दोलनों के उदय के अनुकूल था। वैदिक धर्म में अनेक कुरीतियां आ गई थीं। व्यर्थ के रीति-रिवाजों, महंगे यज्ञों और ब्राह्मणों के झूठे प्रचार के कारण यह धर्म अपनी लोकप्रियता खो चुका था। इन सब कुरीतियों का अन्त करने के लिए देश में लगभग 63 नये धार्मिक आन्दोलन चले जिनका नेतृत्व विद्वान् हिन्दू कर रहे थे। परन्तु ये सभी धर्म लोकप्रिय न हो सके। केवल दो धर्मों को छोड़कर शेष सभी समाप्त हो गये। ये दो धर्म थे-जैन धर्म तथा बौद्ध धर्म । संक्षेप में जैन धर्म तथा बौद्ध धर्म का उदय निम्नलिखित राजनीतिक, सामाजिक एवं धार्मिक परिस्थितियों में हुआ:

I. राजनीतिक परिस्थितियां

1. राजतंत्रों तथा गणतंत्रों की स्थापना-छठी शताब्दी ई० पू० देश में कुछ बड़े-बड़े राजतन्त्र तथा गणराज्य स्थापित हो चुके थे। इनके शासक अपनी सत्ता के विस्तार के लिए आपसी संघर्ष में उलझे हुए थे। इसी वातावरण में नए विचारों का उद्भव हुआ। अतः किसी भी शासक ने इन विचारों का विरोध न किया। यही नवीन विचार अन्ततः जैन धर्म और बौद्ध धर्म के उदय में सहायक हुए।

2. धनी व्यापारियों की आकांक्षा-इस काल में व्यापार का महत्त्व बहुत बढ़ गया। फलस्वरूप अनेक धनी व्यापारी सामने आए। ये लोंग समाज में उचित स्थान पाना चाहते थे। परन्तु वर्ण-व्यवस्था के कारण उन्हें वैश्यों से उच्च नहीं समझा जाता था। फलस्वरूप वे किसी नवीन सामाजिक एवं धार्मिक संगठन की आकांक्षा करने लगे।

II. सामाजिक एवं धार्मिक परिस्थितियां

1. वैदिक धर्म में जटिलता – प्रारम्भा में वैदिक धर्म काफी सरल था | परन्तु छठी शताब्दी ई० पूo तक यह बहुत जटिल हो गया था। शास्त्रों के गहन विचार आम लोग नहीं समझ सकते थे। मोक्ष प्राप्त करने के लिए कर्म-मार्ग, तप-मार्ग तथा ज्ञानमार्ग का प्रचार किया जा रहा था। कुछ लोग कहते थे कि यज्ञ करने चाहिएं और वेद मन्त्र पढ़ने चाहिएं। कुछ शरीर को कष्ट देने तथा संन्यास पर जोर देते थे। कुछ का विचार था कि अधिक-से-अधिक ज्ञान प्राप्त करके मोक्ष प्राप्त हो सकता है। इसलिए आम लोग इस उलझन में थे कि उन्हें किस मार्ग पर चलना चाहिए। यह बड़ी जटिल समस्या थी। इसी का हल ढूंढ़ने के कारण नवीन धर्मों का उदय हुआ।

2. ब्राह्मणों का नैतिक पतन-आरम्भ में केवल पढ़े-लिखे तथा विद्वान् पुरुषों को ही ब्राह्मण माना जाता था। बाद में ब्राह्मणों की सन्तान भी अपने आप को ब्राह्मण कहलवाने लगी। अनेक ब्राह्मणों की सन्तान को न तो धार्मिक ग्रन्थों का वास्तविक ज्ञान था और न ही वे अपने पूर्वजों की भान्ति चरित्रवान् थे। वे सीधे-सादे लोगों से धन बटोरने में लगे हुए थे और उन्हें धर्म की गलत परिभाषा बताकर उल्लू बना रहे थे। वैसे भी कुछ ब्राह्मण स्वार्थी तथा कपटी बन चुके थे। उच्च परिवारों के विद्वान् क्षत्रिय इस भ्रष्टाचार को सहन न कर सके और उन्होंने इसे दूर करने के लिए धार्मिक आन्दोलन चलाएं।

3. जाति-प्रथा तथा छूत-छात-छठी शताब्दी ई० पू० तक जाति-बन्धन बहुत कठोर हो चुके थे। इसका सबसे बुरा प्रभाव शूद्र जाति के लोगों पर पड़ा। उन्हें न तो शिक्षा प्राप्त करने का अधिकार था और न ही लोग उनसे सामाजिक मेलजोल रखते थे। लोग शूद्रों को अपने कुओं से पानी भी नहीं भरने देते थे। इसके साथ-साथ ब्राह्मणों ने यह धारणा भी पैदा कर दी कि शूद्रों को अच्छे से अच्छे कर्म करने पर भी मोक्ष प्राप्त नहीं हो सकता। इसके विपरीत नीच से नीच कार्य करने वाले ब्राह्मण अपने आप को सर्वोच्च मानते थे। शूद्रों के प्रति यह घोर अन्याय था। इस अन्याय को समाप्त करने के लिए मुख्य रूप से महावीर स्वामी और महात्मा बुद्ध ने समाज को नई राह दिखाई।

4. महंगा वैदिक धर्म-वैदिक धर्म में यज्ञों का बड़ा महत्त्व था। आरम्भ में यज्ञ करना इतना सरल था कि इसे कोई भी व्यक्ति आसानी से कर सकता था। यज्ञ करने के लिए न तो पुरोहितों की आवश्यकता होती थी और न ही धन की। परन्तु छठी शताब्दी ईसा पूर्व तक यह धर्म काफ़ी महंगा हो गया। यज्ञ करना आवश्यक समझा जाने लगा और इसकी विधि काफ़ी जटिल हो गई। अब व्यक्ति स्वयं यज्ञ नहीं कर सकता था। इसके लिए अनेक पुरोहितों को बुलाना पड़ता था और सभी को भोज देना पड़ता था। यज्ञों में आहुति के लिए घी, दूध, फल तथा अन्य कई प्रकार की वस्तुओं की आवश्यकता पड़ती थी। विशेष अवसरों पर पशु-बलि भी दी जाने लगी थी। कई यज्ञ तो 12 वर्ष तक चलते रहते थे जिन पर अधिक व्यय होता था। इस प्रकार यज्ञ इतने महंगे हो गए कि साधारण जनता उनके बारे में सोच विचार भी नहीं कर सकती थी। अन्य धार्मिक रीति-रिवाजों को पूरा करने के लिए भी ब्राह्मण बुलाने पड़ते थे जो दक्षिणा के रूप में धन बटोरते थे। आखिर कुछ महापुरुषों ने इन खर्चीले रीतिरिवाजों का खण्डन किया और नये धर्मों को जन्म दिया।

5. कठिन संस्कृत भाषा-वैदिक धर्म के सिद्धान्तों में जहां जटिलता आ गई थी, वहां इस धर्म के सभी ग्रंथ वेद, उपनिषद्, ब्राह्मण-ग्रंथ, रामायण, महाभारत आदि, कठिन संस्कृत भाषा में लिखे हुए थे। इस भाषा को आम लोग नहीं समझ सकते थे। इसलिए लोग अपने धर्म का वास्तविक ज्ञान प्राप्त नहीं कर सकते थे। फलस्वरूप वे कोई ऐसा धर्म चाहते थे जिसके ग्रंथ सरल भाषा में लिखे हों और उन्हें ब्राह्मणों की सहायता के बिना पढ़ा जा सके।

6. महापुरुषों का जन्म-सौभाग्य से छठी शताब्दी ई० पू० में अनेक महापुरुषों का जन्म हुआ। ये सभी अपने-अपने ढंग से दुःखी तथा दलित जनता का उद्धार करते रहे। उन्होंने लोगों को जीवन का सरल तथा सच्चा मार्ग दिखाया। इन महापुरुषों में महावीर स्वामी तथा महात्मा बुद्ध अधिक लोकप्रिय हुए। इन्हीं सिद्धान्तों ने धीरे-धीरे जैन धर्म तथा बौद्ध धर्म का रूप ले लिया।

इस प्रकार हम देखते हैं कि बौद्ध धर्म तथा जैन धर्म की उत्पत्ति मुख्यतः वैदिक धर्म में आई गिरावट के कारण हुई। धर्म की जटिलता, ब्राह्मणों का नैतिक पतन, छुआछूत, महंगे यज्ञ, कठिन भाषा तथा महापुरुषों का जन्म-ये सभी ऐसी बातें थीं जिन्होंने नए धर्मों के उभरने के लिए वातावरण तैयार किया। इस विषय में डॉ० एन० एन० घोष ठीक ही कहते हैं, “महावीर तथा गौतम बुद्ध ने हिन्दू धर्म में आए भ्रष्टाचार के विरुद्ध आवाज़ उठाई।” उनकी यही आवाज़ धीरे-धीरे नए धर्मों में बदल गई जिन्हें बदले हुए राजनीतिक वातावरण ने संरक्षण प्रदान किया।

प्रश्न 2. समाज के लिए महत्त्व तथा देन के संदर्भ में जैन धर्म की शिक्षाओं तथा साम्प्रदायिक विकास की चर्चा करें।
उत्तर-जैन धर्म का उदय छठी शताब्दी ई० पू० में हुआ। इसके संस्थापक महावीर स्वामी थे। उन्होंने लोगों को अहिंसा तथा सदाचार का पाठ पढ़ाया। भले ही यह धर्म अत्यधिक लोकप्रिय न हो सका, तो भी भारतीय समाज, साहित्य तथा कला पर इसका गहरा प्रभाव पड़ा। आगे चलकर यह धर्म श्वेताम्बर तथा दिगम्बर नामक दो सम्प्रदायों में बंट गया। परन्तु इसमें मूल रूप में कोई महत्त्वपूर्ण परिवर्तन न आया। यह पहले की तरह की समाज में भाई-चारे, आपसी प्रेम तथा संयमित जीवन का प्रचार करता रहा। जैन धर्म की शिक्षाओं, उसके सामाजिक महत्त्व तथा इस धर्म के साम्प्रदायिक विकास का विस्तृत वर्णन इस प्रकार है

जैन धर्म की शिक्षाएं-

1. त्रिरत्न-जैन धर्म के अनुसार निर्वाण प्राप्त करना प्रत्येक मनुष्य के जीवन का लक्ष्य है। निर्वाण प्राप्ति के लिए मनुष्य को ‘त्रिरत्न’ (तीन सिद्धान्तों) पर चलना चाहिए। प्रथम सिद्धान्त के अनुसार मनुष्य को धर्म में दृढ़ विश्वास रखना चाहिए।। दूसरे, उसे व्यर्थ के आडम्बरों में समय नष्ट करने की बजाय सच्चा ज्ञान प्राप्त करना चाहिए। तीसरे, मनुष्य को सत्य, अहिंसा तथा ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए।
im 1

2. अहिंसा-जैन धर्म में अहिंसा पर बड़ा बल दिया गया है। इसके अनुसार संसार की प्रत्येक वस्तु में आत्मा (जीव) है। पशु, पक्षी, वृक्ष, वायु तथा अग्नि सभी में जीव है। अतः वे किसी भी जीव को कष्ट देना पाप समझते हैं। जीव-हत्या के डर से जैनी लोग आज भी पानी छान कर पीते हैं, नंगे पांव चलते हैं, मुंह पर पट्टी बांधते हैं और रात को भोजन नहीं करते। वे नहीं चाहते कि कोई कीड़ा-मकौड़ा उनके पांवों के नीचे आ जाए या कोई कीटाणु उसके शरीर में चला जाए। संक्षेप में, हम यही कहेंगे कि जैन धर्म में अहिंसा पर बहुत बल दिया गया है।

3. घोर तपस्या-‘घोर तपस्या करना भी जैन धर्म का प्रमुख सिद्धान्त है। महावीर स्वामी अपने शरीर को अधिक से अधिक कष्ट देने में विश्वास रखते थे। उनका मत है कि उपवास करके प्राण त्यागने से ही मनुष्य को मोक्ष प्राप्त होता है। स्वयं महावीर जी ने अपने शरीर को कष्ट पहुंचा कर ही निर्वाण प्राप्त किया था। अतः उन्होंने अपने अनुयायियों को संसार त्याग देने तथा घोर तपस्या करने का उपदेश दिया।

4. ईश्वर में अविश्वास-महावीर स्वामी ईश्वर के अस्तित्व में विश्वास रखते थे। वे हिन्दू धर्म के इस सिद्धान्त को नहीं मानते थे कि सृष्टि की रचना ईश्वर ने की है।

5. आत्मा में विश्वास–जैन धर्म में आत्मा में अस्तित्व को स्वीकार किया गया है। इसके अनुसार आत्मा अमर है। यह शक्तिशाली है, परन्तु हमारे बुरे कर्म इसको निर्बल कर देते हैं। आत्मा में ज्ञान अमर है और यह सुख-दुःख का अनुभव करता है। एक जैन मुनि ने ठीक ही कहा है–आत्मा शरीर में रहकर भी शरीर से भिन्न होती है।’

6. यज्ञ, बलि आदि में अविश्वास-जैन धर्म में यज्ञ, बलि आदि व्यर्थ के रीति-रिवाजों का कोई स्थान नहीं है। महावीर स्वामी ने अपने अनुयायियों को पशु-बलि की मनाही कर दी। उनके अनुसार पशु-बलि पाप है। मोक्ष प्राप्ति के लिए यज्ञ आदि की कोई आवश्यकता नहीं है।

7. वेदों तथा संस्कृत की पवित्रता में अविश्वास-जैन लोग वेदों को ईश्वरीय ज्ञान नहीं मानते। संस्कृत को भी वे पवित्र भाषा स्वीकार नहीं करते। उनके अनुसार वेद मन्त्रों का गायन आवश्यक नहीं है। अत: महावीर स्वामी ने स्वयं अपने सिद्धान्तों का प्रचार जन-साधारण की भाषा में किया।

8. जाति-पाति में अविश्वास-जैन धर्म के अनुयायी जाति-पाति में विश्वास नहीं रखते। उनके अनुसार सभी मनुष्य समान हैं। जाति के आधार पर कोई व्यक्ति छोटा-बड़ा नहीं है।

9. कर्म सिद्धान्त में विश्वास-जैन धर्म के अनुयायी कर्म सिद्धान्त में बड़ा विश्वास रखते हैं। उनका मत है कि मनुष्य अपने पिछले जन्म में किए गए कर्मों के अनुसार जन्म लेता है और उसका अगला जन्म इस जन्म में किए गए कर्मों के अनुसार होगा। “कोई भी मनुष्य कर्मों के फल से नहीं बच सकता।”
(“There is no escape from the effect of one’s actions.”) अतः हमें अच्छे कर्म करने चाहिएं।

10. मोक्ष प्राप्ति-जैन धर्म के अनुसार आत्मा को कर्मों के बन्धन से छुटकारा दिलाने का नाम मोक्ष है। कर्म चक्र समाप्त होते ही जीव (आत्मा) को मुक्ति मिल जाती है। उसे पुनः किसी भी जन्म के चक्कर में नहीं फंसना पड़ता।

11. सदाचार पर बल-महावीर स्वामी ने अपने अनुयायियों को उच्च नैतिक जीवन व्यतीत करने की प्रेरणा दी। उन्होंने उपदेश दिया कि वे क्रोध, लोभ, ईर्ष्या, चोरी, निन्दा आदि अनैतिक कार्यों से बचें।

जैन धर्म की क्रियाओं का समाज के लिए महत्त्व एवं देन-

(1) जैन धर्म ने भारतीय जीवन के प्रत्येक क्षेत्र को प्रभावित किया। इसने जाति-प्रथा का घोर विरोध किया। इससे भारतीय समाज में लोगों का आपसी मेल-जोल बढ़ने लगा और समाज प्यार तथा भाईचारे की भावनाओं से ओत-प्रोत हो गया। जैन धर्म ने हमें समाज सेवा का उपदेश दिया। लोगों की भलाई के लिए जैनियों ने अनेक संस्थाएं स्थापित की।

(2) जैन धर्म के प्रचार के कारण हिन्दू धर्म में काफी सुधार हुए। जैन धर्म वालों ने हिन्दू धर्म में प्रचलित कुरीतियों तथा कर्म-काण्डों की घोर निन्दा की। इधर जैन धर्म के अपने सिद्धान्त बड़े साधारण थे जो लोगों को बड़े प्रिय लगे। जैन धर्म की बढ़ती हुई लोकप्रियता को देखकर ब्राह्मणों ने भी पशु-बलि, कर्म-काण्ड तथा अन्य कुरीतियों का त्याग करना शुरू कर दिया। इस प्रकार वैदिक धर्म काफ़ी सरल बन गया।

(3) जैन ऋषियों ने ही अहिंसा के महत्त्व को समझा तथा इसका प्रचार किया। अहिंसा के सिद्धान्त को अपनाकर लोग मांसाहारी से शाकाहारी बन गए।

(4) जैनियों ने अपने तीर्थंकरों की याद में विशाल मंदिर तथा मठ बनवाए। ये मंदिर अपने प्रवेश द्वारों तथा सुन्दर मूर्तियों के कारण प्रसिद्ध थे। दिलवाड़ा का जैन मन्दिर ताजमहल को लजाता है। कहते हैं कि मैसूर में बनी जैन धर्म की सुन्दर मूर्तियां दर्शकों को आश्चर्य में डाल देती हैं। इसी प्रकार आबू पर्वत का जैन-मन्दिर, एलोरा की गुफाएं तथा खुजराहो के जैन मन्दिर कला के उत्कृष्ट नमूने हैं। जैन धर्म में इस महान् योगदान की अपेक्षा नहीं की जा सकती। जैन धर्म के अनुयायियों ने लोक भाषाओं के प्रचार किया। उनका अधिकांश साहित्य संस्कृत की बजाय स्थानीय भाषाओं में लिखा गया। यही कारण है कि कन्नड़ साहित्य आज भी अपने उत्कृष्ट साहित्य के लिए जैन धर्म का अभारी है। इसके अतिरिक्त उन्होंने हिन्दी, गुजराती, मराठी आदि भाषाओं के साहित्य में खूब योगदान दिया।

साम्प्रदायिक विकास

जैन धर्म में साम्प्रदायिक विकास मौर्य काल में आरम्भ हुआ। उन दिनों देश में भीषण अकाल पड़ा। कुछ जैन भिक्षु भद्रबाहु की अध्यक्षता में दक्षिण चले गए। वहां उन्होंने नग्न रह कर महावीर स्वामी की भांति जीवन व्यतीत किया। समय बीतने के साथ-साथ जैन भिक्षुओं ने उत्तरी भारत में श्वेत वस्त्र धारण करने आरम्भ कर दिये। दक्षिण में रहने वाले भिक्षु दिगम्बर कहलाये तथा उत्तरी भारत के भिक्षु श्वेताम्बर कहलाए। दिगम्बर का अर्थ है ‘नग्न’ तथा श्वेताम्बर का अर्थ है ‘श्वेत वस्त्र’। समय बीतने के साथ-साथ दिगम्बर भिक्षुओं ने भी वस्त्र धारण करने आरम्भ कर दिए। परन्तु दोनों पक्षों में ऊपरी भेद आज भी बना हुआ है। यह भेद केवल मठों के आचार्यों तक ही सीमित है। मौर्य काल में हुई पाटलिपुत्र की एक सभा में जैन धर्म के सिद्धान्तों को 12 अंगों में विभाजित किया गया, परन्तु इन्हें दक्षिण के भिक्षुओं ने मानने से इन्कार कर दिया। अतः दोनों ने अपनी अलगअलग भाषा तथा टीकाएं लिखीं। ये ग्रन्थ प्राकृत तथा संस्कृत भाषा में लिखे गए। दोनों मतों में मूल रूप से कोई मतभेद नहीं

जैन धर्म की शिक्षाओं तथा उनके सामाजिक महत्त्व के अध्ययन से स्पष्ट है कि यह धर्म विश्व के महानतम धर्मों में से एक है। समाज में अहिंसा, प्रेम, कर्म तथा सेवा के भाव इस धर्म की मुख्य देन हैं। इस धर्म के कारण नवीन कला-कृतियां भी अस्तित्व में आईं जो आज भी भारतीय संस्कृति की समृद्धि का प्रतीक बनी हुई हैं।

प्रश्न 3. महात्मा बुद्ध की शिक्षाओं एवं संघ-व्यवस्था के संदर्भ से बौद्ध धर्म के विश्वास की चर्चा करें।
उत्तर-महात्मा बुद्ध छठी शताब्दी ई० पू० के एक महान् धर्म प्रवर्तक थे। जैन धर्म की भान्ति उन्होंने भी नवीन धार्मिक आदर्श प्रस्तुत किए। उन्होंने भी अहिंसा पर बल दिया और यज्ञ, बलि, जाति-पाति आदि बातों का घोर खण्डन किया। उन्होंने लोगों को मध्य-मार्ग पर चल कर जीवन व्यतीत करने का संदेश दिया। अपने धर्म को व्यवस्थित रूप देने के लिए उन्होंने मठ वासी जीवन अर्थात् संघ-व्यवस्था को बड़ा महत्त्व दिया। इन विशेषताओं के फलस्वरूप बौद्ध धर्म का विकास बड़ी तीव्र गति से हुआ। कुछ ही समय में यह धर्म एक विश्वव्यापी धर्म बन गया। इस धर्म की शिक्षाओं, संघ-व्यवस्था एवं विकास का विस्तृत वर्णन इस प्रकार है-

बौद्ध धर्म की शिक्षाएं अथवा भगवान् बुद्ध के उपदेश —

महात्मा बुद्ध की शिक्षाएं बड़ी सरल थीं। इन शिक्षाओं को साधारण जनता आसानी से अपना सकती थी, फलस्वरूप हज़ारों की संख्या में लोग उनके शिष्य बनने लगे। थोड़े ही समय में बौद्ध धर्म विश्व का एक महान् धर्म बन गया। बौद्ध धर्म की मुख्य शिक्षाओं का वर्णन इस प्रकार है-

1. चार महान् सत्य-महात्मा बुद्ध ने चार महान् सत्यों पर बल दिया। ये थे-

  • संसार दुःखों का घर है।
  • इन दुःखों का कारण मनुष्य की तृष्णा अथवा लालसा है।
  • अपनी लालसाओं का दमन करने पर ही मनुष्य दुःखों से छुटकारा पा सकता है और निर्वाण प्राप्त कर सकता है।
  • मनुष्य अपनी लालसाओं का दमन अष्ट-मार्ग पर चलकर ही कर सकता है।

2. अष्ट-मार्ग-महात्मा बुद्ध ने अष्ट-मार्ग में निम्नलिखित आठ बातें सम्मिलित हैं

  • शुद्ध दृष्टि
  • शुद्ध संकल्प
  • शुद्ध वचन
  • शुद्ध कर्म
  • शुद्ध कमाई
  • शुद्ध प्रयत्न
  • शुद्ध स्मृति
  • शुद्ध समाधि।

ये सभी सिद्धान्त एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं। उदाहरण के लिए शुद्ध कमाई केवल शुद्ध कर्म से ही हो सकती है। शुद्ध कर्म के लिए शुद्ध संकल्प तथा शुद्ध दृष्टि आवश्यक है। इस प्रकार अष्ट-मार्ग मनुष्य को पूर्ण रूप से सदाचारी बनाता है और उसे दुःखों से छुटकारा दिलाता है। इसे मध्य-मार्ग भी कहा जाता है।

3. अहिंसा-महात्मा बुद्ध के अनुसार मनुष्य को मन, वचन तथा कर्म से किसी भी जीव को कष्ट नहीं पहुंचाना चाहिए। यही अहिंसा है। इसके अनुसार जीव-हत्या तथा पशु-बलि पाप है। इसके विपरीत उन्होंने इस बात का प्रचार किया कि मनुष्य को सभी जीवों के साथ दया तथा प्रेम का व्यवहार करना चाहिए।

4. कर्म सिद्धान्त-बौद्ध धर्म में कर्म सिद्धान्त को पूर्ण रूप से स्वीकार किया गया है। इसके अनुसार मनुष्य को इस जन्म के कर्मों का फल अगले जन्म में अवश्य भोगना पड़ता है। अच्छे कर्मों का फल अच्छा और बुरे कर्मों का फल बुरा होता है। यज्ञ आदि करने से पापों से मुक्ति नहीं मिल सकती। अतः मनुष्यों को अपना भविष्य सुधारने के लिए अच्छे कर्म करने चाहिएं।

5. उच्च चरित्र तथा नैतिकता पर बल-महात्मा बुद्ध ने उच्च नैतिक तथा पवित्र जीवन पर बड़ा बल दिया। उनका कहना था कि केवल सदाचारी व्यक्ति सांसारिक दुःखों से छुटकारा पा सकता है। चरित्रवान् तथा सदाचारी बनने के लिए मनुष्य को इन नियमों का पालन करना चाहिए-(i) सदा सच बोलो। (ii) चोरी न करो। (iii) मादक पदार्थों का सेवन न करो। (iv) पराई स्त्रियों से दूर रहो। (v) ऐश्वर्य के जीवन से दूर रहो। (vi) नाच रंग में रुचि न रखो। (vii) धन से दूर रहो। (viii) सुगन्धित वस्तुओं का प्रयोग न करो। (ix) झूठ न बोलो। (x) किसी को कष्ट न दो।

6. निर्वाण-महात्मा बुद्ध के अनुसार मनुष्य जीवन का सबसे बड़ा लक्ष्य निर्वाण प्राप्ति है। हिन्दू धर्म की भान्ति वह मृत्यु के पश्चात् नरक-स्वर्ग के झगड़े में नहीं पड़ना चाहते थे। वे चाहते थे कि मनुष्य संसार में रहकर अपने इसी जीवन में निर्वाण प्राप्त करे। निर्वाण से उनका अभिप्राय सच्चे ज्ञान से था। उनका कहना था कि जो व्यक्ति निर्वाण प्राप्त कर लेते हैं, उन्हें जीवन-मरण के चक्कर से छुटकारा मिल जाता है।

7. ईश्वर के विषय में मौन-महात्मा बुद्ध परमात्मा तथा अन्य देवी-देवताओं की पूजा में विश्वास नहीं रखते थे। वह ईश्वर की सत्ता के विषय में सदा मौन रहे। फिर भी वे समझते थे कि कोई ऐसी शक्ति अवश्य है जो संसार को चला रही है। इस शक्ति को वे ईश्वर की बजाए धर्म मानते थे।

8. यज्ञ बलि का निषेध-महात्मा बुद्ध यज्ञ बलि को व्यर्थ के रीति-रिवाज समझते थे। वे हिन्दू धर्म के इस सिद्धान्त को नहीं मानते थे कि यज्ञ आदि करके मोक्ष प्राप्त किया जा सकता है। वे तो ऊंचे स्वर में मन्त्रों का उच्चारण करना भी व्यर्थ समझते थे। वे उस धर्म को सच्चा धर्म मानते थे जिसमें आडम्बर और व्यर्थ के रीति-रिवाज शामिल न हों।

9. वेदों तथा संस्कृत सम्बन्धी विचार-महात्मा बुद्ध के वेदों तथा संस्कृत के सम्बन्ध में विचार हिन्दू-धर्म से बिल्कुल भिन्न थे। हिन्दू धर्म के अनुसार वेद ईश्वरीय ज्ञान का भण्डार हैं। यह ज्ञान ऋषि-मुनियों को ईश्वर की ओर से प्राप्त हुआ था। हिन्दू धर्म वाले तो इस बात में भी विश्वास रखते थे कि वेदों का ज्ञान उन्हें संस्कृत भाषा पढ़ने से ही हो सकता है परन्तु महात्मा बुद्ध हिन्दू धर्म के इस सिद्धान्त से सहमत नहीं थे। उनके अनुसार सच्चा ज्ञान किसी भी भाषा में दिया जा सकता है। उन्होंने यह मानने से इन्कार कर दिया कि संस्कृत अन्य भाषाओं से अधिक पवित्र है। उन्होंने वेदों को भी अधिक महत्त्व नहीं दिया।

10. जाति-प्रथा में अविश्वास-महात्मा बुद्ध जाति-प्रथा के भेदभाव को नहीं मानते थे। उनके अनुसार सभी मनुष्य समान हैं और जाति के आधार पर कोई छोटा-बड़ा नहीं है। इसलिए उन्होंने सभी जातियों के लोगों को अपना शिष्य बनाया। उनका यह भी कहना था कि ज्ञान-प्राप्ति का मार्ग सभी जातियों के लिए समान रूप से खुला है। .

11. तपस्या का विरोध-महात्मा बुद्ध घोर तपस्या के पक्ष में नहीं थे। उनके अनुसार भूखा प्यासा रहकर शरीर को कष्ट देने से कुछ प्राप्त नहीं होता। उन्होंने स्वयं भी 6 वर्ष तक तपस्या का जीवन व्यतीत किया, परन्तु उन्हें कुछ प्राप्त न हुआ। वे समझते थे कि गृहस्थ जीवन व्यतीत करते हुए भी निर्वाण प्राप्त किया जा सकता है।

II. संघ-व्यवस्था

बौद्ध संघ बौद्ध भिक्षुओं के संगठन का नाम था। इन भिक्षुओं ने संसार का परित्याग कर दिया और बौद्ध धर्म का प्रसार करने में अपना जीवन लगा दिया। बौद्ध धर्म में दो प्रकार के अनुयायी थे-उपासक तथा भिक्षु । उपासक गृहस्थ जीवन व्यतीत करते थे तथा महात्मा बुद्ध द्वारा बताए गए साधारण नियमों का पालन करते थे। ये संघ के सदस्य नहीं होते थे। इसके विपरीत भिक्षु पूर्ण रूप से बौद्ध धर्म के सदस्य होते थे। उन्हें संघ के कठोर अनुशासन का पालन करना पड़ता था। संघ समस्त देश के लिए साझा नहीं होता था। प्रत्येक स्थान की अपनी अलग संस्था होती थी, जिसे संघ कहते थे। महात्मा बुद्ध ने अपने जीवनकाल में ही संघ प्रणाली का श्रीगणेश किया था। उन्होंने विस्तारपूर्वक संघ के नियम निश्चित कर दिए। इन नियमों की संख्या 227 से 360 तक मानी जाती है। इन नियमों का संग्रह ‘विनय पिटक’ में किया गया। सभी संघ इन नियमों का पालन करते हुए बौद्ध धर्म का प्रसार करते रहे।

सदस्यता-

  • 15 वर्ष से अधिक आयु वाले व्यक्ति ही संघ का सदस्य बन सकता था।
  • सदस्य बनने के लिए जातपात का ध्यान नहीं रखा जाता था।
  • सदस्य बनने के लिए गृह त्याग करना पड़ता था। इसके लिए घर वालों की आज्ञा लेना आवश्यक था।
  • सिपाही, दास, ऋणी, अपराधी, रोगी आदि व्यक्ति संघ के सदस्य नहीं बन सकते थे।
  • स्त्री सदस्यों को भिक्षुणी कहा जाता था। उन्हें न तो मत देने का अधिकार था और न ही उन्हें कोरम में गिना जाता था।
  • भिक्षु बनने के लिए एक व्यक्ति को पूरी दीक्षा दी जाती थी-उसे बाल मुंडवा कर पीले वस्त्र धारण करने पड़ते थे। उसे दस वर्ष तक किसी भिक्षु से शिक्षा लेनी पड़ती थी। उसे सदाचारी जीवन व्यतीत करने का प्रशिक्षण दिया जाता था। यदि वह नियमों पर पूरा उतरता था तथा अपना चरित्र ऊंचा रखता था तो उसे भिक्षु संघ में सम्मिलित कर लिया जाता था।

बौद्ध संघ में प्रवेश के समय उसे शपथ लेनी पड़ती थी। उसे ये शब्द दोहराने पड़ते थे : “मैं बुद्ध की शरण लेता हूँ, मैं धर्म की शरण लेता हूँ, मैं संघ की शरण लेता हूँ।”

दस आदेश-संघ के सदस्यों को अनुशासित जीवन व्यतीत करना पड़ता था। महात्मा बुद्ध ने उनके लिए दस आदेशों का पालन करना अनिवार्य बताया-

  • कभी झूठ न बोलो
  • दूसरों की सम्पत्ति पर आंख न रखो
  • जीव हत्या न करो
  • नशीली वस्तुओं का सेवन न करो
  • स्त्रियों के साथ मिलकर न रहो
  • वर्जित समय पर भोजन न करो
  • धन पास न रखो
  • फूलों, आभूषणों तथा सुगन्धित वस्तुओं का प्रयोग न करो
  • नाच-गाने में भाग न लो
  • नर्म गद्दे पर विश्राम न करो। संघ के सभी सदस्यों को इन नियमों का पालन करना पड़ता था।

संघ की बैठकें-संघ की सभाएं पन्द्रह दिन के पश्चात् होती थीं। संघ के सभी सदस्य इसमें भाग ले सकते थे। बैठक की कार्यवाही शुरू करने से पहले एक सभापति चुना जाता था। प्रायः वह कोई बौद्ध भिक्षु ही होता था। उसकी आज्ञा से कार्यवाही आरम्भ होती थी। प्रस्ताव पेश किए जाते थे और उन पर निर्णय लिए जाते थे। निर्णयों के लिए मतदान होता था।

इस प्रकार बौद्ध भिक्षु प्रजातन्त्र के सिद्धान्तों के अनुसार अपने मतभेदों को दूर करने और धर्म के प्रचार में लीन रहते थे। कुछ भी हो, बौद्ध धर्म संघ एक आदर्श संस्था थी। डॉ० आर० सी० मजूमदार के शब्दों में, “यह संघ विश्व में बने सभी

महान् संगठनों में से एक बन गया।” (“The Sangha became one of the greatest religious corporations, the world has ever seen.”) बौद्ध संघ के आदर्शों तथा बौद्ध की सरल शिक्षाओं ने इस धर्म के विकास की गति को काफ़ी तीव्र कर दिया।

प्रश्न 4. बौद्ध धर्म के साम्प्रदायिक विकास एवं पतन के कारणों की चर्चा करें।
उत्तर-बौद्ध धर्म का उदय छठी शताब्दी ई० पू० में हुआ था। अपनी सरल शिक्षाओं, महान् आदर्श तथा राजकीय संरक्षण के कारण यह धर्म शीघ्र ही लोकप्रिय हो गया। यहां तक कि अनेक विदेशी राजाओं ने भी इसे अपना लिया। परन्तु समय के साथ इसमें ऐसी अनेक त्रुटियां आ गईं जिनके कारण इसकी लोकप्रियता कम होने लगी। कनिष्क के काल में यह धर्म दो सम्प्रदायों में बंट गया। इन दो विरोधी धाराओं के कारण इसकी लोकप्रियता और भी कम होने लगी और अन्ततः इस धर्म का पतन हो गया। संक्षेप में बौद्ध धर्म के साम्प्रदायिक विकास एवं पतन के कारणों का वर्णन इस प्रकार है

I. साम्प्रदायिक विकास

बौद्ध धर्म के साम्प्रदायिक भेदभाव का आरम्भ महात्मा बुद्ध के देहान्त से लगभग 100 वर्ष बाद हुआ। सर्वप्रथम बौद्धों के आपसी मतभेद वैशाली की बौद्ध सभा में सामने आए। इस सभा में एक ओर रूढ़िवादी थे। वे चाहते थे कि संघ का प्रबन्ध पहले की भान्ति केवल वृद्ध भिक्षुओं के हाथ में ही रहे। दूसरी ओर युवा भिक्षु थे जो यह चाहते थे कि संघ के प्रबन्ध में सभी भिक्षु समान रूप से भाग लें। ये मतभेद वास्तव में साधारण थे। परन्तु इस सभा में रूढ़िवादियों का पक्ष भारी होने के कारण युवा भिक्षु अपने उद्देश्य की प्राप्ति के लिए और अधिक प्रयत्न करने लगे। महाराजा अशोक के शासनकाल में पाटलिपुत्र में एक और बौद्ध सभा हुई। इसी सभा में भी यही समस्या उठाई गई। परन्तु अशोक के समर्थन के कारण इस बार भी रूढ़िवादियों की ही विजय हुई। अनेक बौद्ध भिक्षुओं को मठों से भी निकाल दिया गया। इस पर भी युवा भिक्षुओं ने अपने विचार न छोड़े और अपने उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए प्रयत्नशील रहे।

कनिष्क के शासनकाल में कश्मीर में बौद्ध धर्म की एक महासभा बुलाई गई। इस सभा में ‘महाविभाष’ नामक एक ग्रन्थ का संकलन किया गया। इस ग्रन्थ में जिन सिद्धान्तों का संकलन किया गया, वे परम्परा-विरोधी थे। इन सिद्धान्तों पर आधारित सम्प्रदाय को ‘सर्वास्तिवादिन’ का नाम दिया गया। यह नया सम्प्रदाय पहली तथा दूसरी शताब्दी में कश्मीर के साथ-साथ मथुरा में भी विकसित हुआ। इस समय तक बौद्ध धर्म में कई अन्य भी ऐसे परम्परा विरोधी सम्प्रदायों का उदय हो चुका था। धीरेधीरे इन सभी परम्परा विरोधी सम्प्रदायों ने अपने आपको रूढ़िवादियों के विरुद्ध संगठित कर लिया। इसी नये संगठित सम्प्रदाय को ही ‘महायान’ का नाम दिया गया। महायान के भिक्षुओं ने रूढ़िवादियों को नीचा दिखाने के लिए उनके सम्प्रदाय को ही “हीनयान’ के नाम से पुकारना आरम्भ कर दिया।

II. बौद्ध धर्म के पतन के कारण

1. हिन्दू धर्म में सुधार-लोगों ने हिन्दू धर्म के व्यर्थ के रीति-रिवाजों से तंग आकर बौद्ध धर्म स्वीकार किया था। उनका … हिन्द धर्म के मुख्य सिद्धान्तों में कोई विरोध न था। समय अनुसार हिन्दू धर्म में अनेक सुधार किए गए। धर्म में आडम्बरों का महत्त्व समाप्त कर दिया गया। परिणामस्वरूप लोग पुनः हिन्दू धर्म को अपनाने लगे। इस प्रकार हिन्दू धर्म की लोकप्रियता बौद्ध धर्म के ह्रास का कारण बनी।

2. गुप्त राजाओं का हिन्दू धर्म में विश्वास-अशोक आदि राजाओं का सहयोग पाकर बौद्ध धर्म का विकास हुआ था। इसी प्रकार गुप्त राजाओं का संरक्षण पाकर हिन्दू धर्म पुनः बल पकड़ गया। गुप्त राजाओं का किसी धर्म के प्रति विरोध नहीं था, परन्तु वे व्यक्तिगत रूप से हिन्दू धर्म के अनुयायी थे। उनके शासन काल में हिन्दू देवी-देवताओं के मन्दिरों की स्थापना हुई। कृष्ण, विष्णु, शिव की उपासना आरम्भ हुई। संस्कृत भाषा को भी काफ़ी बल मिला। इस तरह हिन्दू धर्म में नवीन जागृति आई। लोग काफ़ी संख्या में हिन्दू धर्म में लौट आए। इससे बौद्ध धर्म को बहुत आघात पहुंचा। बौद्ध धर्म के लिए यह बहुत बड़ी चोट थी।

3. बौद्ध भिक्षुओं की चरित्रहीनता-बौद्ध भिक्षुओं के उच्च चरित्र तथा सदाचारी जीवन ने लोगों को बड़ा प्रभावित किया था, परन्तु समय की करवट ने बौद्ध संघ के अनुशासन को शिथिल कर दिया। स्त्रियों को भी संघ में शामिल कर लिया गया। बौद्ध भिक्षु महात्मा बुद्ध के दस आदेशों को भूल गए। वे विलासी जीवन व्यतीत करने लगे। ऐसे लोगों को जनता भला कबी क्षमा करने वाली थी। अतः भिक्षुओं का दूषित आचरण भारत में बौद्ध धर्म को ले डूबा।

4. राजकीय सहायता की समाप्ति-हर्ष की मृत्यु के पश्चात् बौद्ध धर्म राजकीय आश्रय खो बैठा। उसके बाद फिर किसी राजा ने बौद्ध धर्म की धन से सहायता नहीं की। इससे इस धर्म की प्रतिष्ठा को काफ़ी धक्का लगा। जिन लोगों ने शायद अपने राजा को प्रसन्न करने के लिए बौद्ध धर्म स्वीकार किया था, अब बौद्ध धर्म छोड़ दिया।

5. बौद्ध धर्म में मूर्ति पूजा-प्रथम शताब्दी के पश्चात् बौद्ध धर्म की महायान शाखा के अनुयायी बुद्ध को देवता मानने लगे। वे उसकी मूर्ति बनाकर पूजा करने लगे। मूर्ति पूजा के कारण ये लोग हिन्दू धर्म के अधिक निकट आ गए। आखिर महायान शाखा के बहुत से अनुयायी हिन्दू धर्म में आ गए।

6. बौद्ध धर्म में फूट-बौद्ध धर्म के अनुयायी कई शताब्दियों तक एकता के सूत्र में बन्धे रहे। वे मिलकर आपसी मतभेद दूर करते रहे और उन्होंने अपनी एकता को बनाए रखा। आखिर पहली शताब्दी तक ये भेदभाव विकट रूप से धारण कर गए। चौथी बौद्ध परिषद् के पश्चात् यह धर्म हीनयान तथा महायान नामक दो शाखाओं में बंट गया। इन दोनों शाखाओं में आपसी भेदभाव बढ़ते चले गए। इन भेदभावों का बौद्ध धर्म की लोकप्रियता पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ा।

7. अहिंसा का सिद्धान्त-बौद्ध धर्म में अहिंसा को परम धर्म माना जाता था। इसके प्रभाव में आकर अशोक ने युद्ध करना बन्द कर दिया था। देखने में तो यह एक महान् बात थी, परन्तु इसके कारण भारत में सैनिक दुर्बलता आ गई। अतः हम विदेशी आक्रमणकारियों के हाथों पिट गए। लोगों ने पराजय का मुख्य कारण बौद्ध धर्म के अहिंसा के सिद्धान्त को माना। अत: भारत में बौद्ध धर्म की लोकप्रियता का कम होना स्वाभाविक ही था।

8. हूणों के आक्रमण-हूणों के आक्रमणों के कारण भी बौद्ध धर्म को बड़ा आघात पहुंचा। वे बड़े निर्दयी तथा अत्याचारी लोग थे। उन्होंने भारत के उत्तर-पश्चिमी सीमान्त प्रान्त में अपना राज्य स्थापित कर लिया। मिहिरगुल उनका प्रसिद्ध राजा था जिसने बौद्ध धर्म के स्तूपों तथा मठों को नष्ट-भ्रष्ट करवा दिया। कहते हैं कि उसने अनेक बौद्धों को मरवा डाला। शेष बौद्ध लोग वहां से बच निकले। इस प्रकार भारत के उत्तर-पश्चिमी भाग में बौद्ध धर्म का पूर्णतया ह्रास हो गया।

9. हिन्दू प्रचारक-आठवीं तथा नौवीं शताब्दी में हिन्दू धर्म को दो महान् विभूतियों ने भारत में हिन्दू धर्म की जड़ें फिर से मजबूत करने में महान् योगदान दिया। ये थे-शंकराचार्य तथा कुमारिल भट्ट। उन्होंने हिन्दू धर्म के प्रचार के साथ-साथ बौद्ध मत का खण्डन भी किया। उन्होंने हिमालय से कन्याकुमारी तक भ्रमण किया तथा हिन्दू धर्म के सिद्धान्तों को पुनः स्थापित किया।

10. राजपूतों का विरोध-आठवीं शताब्दी से लेकर ग्यारहवीं शताब्दी तक समस्त उत्तरी भारत राजूपतों के प्रभुत्व में आ गया था। राजपूत वीर योद्धा थे जो अहिंसा की बजाए रक्तपात में विश्वास रखते थे। अतः राजपूत राजाओं की छत्रछाया में बौद्ध भिक्षुओं के लिए धर्म प्रचार कठिन हो गया। अनेक बौद्ध विद्वान् भारत छोड़कर विदेशों में चले गए। उचित प्रचार कार्यों के अभाव के कारण बौद्ध धर्म का लोप होने लगा।

11. मुसलमान आक्रमणकारी-11वीं तथा 12 शताब्दी में भारत पर मुसलमानों के आक्रमण आरम्भ हो गए। उन्होने भारत पर अपना राज्य स्थापित कर लिया। यह बात बौद्ध धर्म के लिए बड़ी हानिकारक सिद्ध हुई। मुसलमान शासकों ने बौद्ध भिक्षुओं पर बड़े अत्याचार किए तथा उनके मठ तथा मन्दिर भी नष्ट करवा दिए। परिणामस्वरूप बौद्ध धर्म का पतन हो गया।

12. महान् व्यक्तित्व का अभाव-महात्मा बुद्ध के पश्चात् बौद्ध धर्म ने कोई महान् व्यक्ति पैदा नहीं किया। यदि 8वीं शताब्दी के पश्चात् बौद्ध धर्म का नेतृत्व किसी महान् व्यक्ति के हाथ में होता तो शायद वह धर्म सुधार करके उसे सफल बना देता। वह शायद अहिंसा की परिभाषा ही बदल देता। एक उचित पग-प्रदर्शक के अभाव के कारण बौद्ध धर्म का अन्त हो गया।

प्रश्न 5. भारत तथा विदेशों में बौद्ध धर्म के शीघ्र प्रसार के क्या कारण थे ?
उत्तर-बुद्ध धर्म का विकास इतिहास की एक रोमांचकारी घटना है। महात्मा बुद्ध की आज्ञा पाकर बौद्ध भिक्षु धर्म प्रचार के लिए भारत की चारों दिशाओं में फैल गए। आरम्भ में प्रचार की गति बड़ी धीमी रही। परन्तु महात्मा बुद्ध की मृत्यु के पश्चात् बौद्ध धर्म जहां भारत में तीव्र गति से फैला, वहां उसने भारत की सीमाएं पार करके विदेशियों को भी अपनी ओर आकर्षित किया। इतिहास इस बात का साक्षी है कि चीन, जापान, लंका, मयनमार (बर्मा) आदि देशों के निवासियों ने प्रसन्नतापूर्वक इस धर्म को अपनाया और इसे अपने जीवन का अंग बना लिया। राजा तथा प्रजा दोनों ही बौद्ध धर्म के रंग में रंग गए। बौद्ध धर्म की इस अत्यधिक लोकप्रियता के अनेक कारण थे जिनका संक्षिप्त वर्णन इस प्रकार है-

1. महात्मा बुद्ध का महान् व्यक्तित्व-महात्मा बुद्ध का व्यक्तित्व महान् था। उन्होंने राजघराने में जन्म लेकर भी संन्यास 1 के दुःख झेले। वे सिंहासन ग्रहण कर सकते थे, परन्तु उन्होंने आसन ग्रहण किया। उन्होंने सत्य की खोज में अपना सब कुछ
न्योछावर कर दिया। त्याग, सच्चाई तथा परोपकार की तो वे साक्षात मूर्ति थे। उनका हृदय शुद्ध तथा पवित्र था। वे केवल उन्हीं बातों का प्रचार करते थे जिनको उन्होंने स्वयं अपना लिया था। वे जो कुछ चाहते थे स्वयं भी करते थे। अनेक लोग उनके महान् व्यक्तित्व से बड़े प्रभावित हुए और वे बौद्ध धर्म के अनुयायी बन गए। विलियम (William) ने बौद्ध धर्म के प्रसार में बुद्ध के व्यक्तित्व का वर्णन करते हुए ठीक कहा है, “The influence of the personal character of Buddha combined with extraordinary persuasiveness of his teachings was irreistible.”

2. अनुकूल परिस्थितियां-बौद्ध धर्म का उदय ऐसे वातावरण में हुआ जब लोगों को इस धर्म की बहुत आवश्यकता थी। लोग हिन्दू धर्म के व्यर्थ के कर्म-काण्डों, खर्चीले यज्ञों तथा अन्य रीति-रिवाजों से तंग आ चुके थे। उन्हें एक ऐसे सरल धर्म की आवश्यकता थी जो उन्हें इन व्यर्थ के आडम्बरों से छुटकारा दिला सकता। ऐसे समय में बौद्ध धर्म जैसे सरल धर्म ने लोगों को बहुत आकर्षित किया।

3. सरल शिक्षाएं-बौद्ध धर्म की शिक्षाएं बड़ी सरल थीं। उनमें गूढ-दर्शन की बातें न थीं जिन्हें जन-साधारण समझ न पाते। इसके अनुसार मनुष्य को नरक-स्वर्ग अथवा आत्मा-परमात्मा के वाद-विवाद में पढ़ने की आवश्यकता न थी। उसे सदाचारी जीवन व्यतीत करना चाहिए। अष्ट-मार्ग के सिद्धान्त, घोर तपस्या से कहीं अच्छे थे। ये सभी शिक्षाएं दुःखी मानवता के लिए मरहम थीं। अत: लोगों ने दिल खोलकर बौद्ध धर्म का स्वागत किया।

4. लोक भाषा में प्रचार-हिन्दू धर्म के सभी ग्रन्थ संस्कृत भाषा में थे। जन-साधारण के लिए इस कठिन भाषा को समझना आसान न था। उन्हें ब्राह्मणों द्वारा बताई हुई व्याख्या पर विश्वास करना पड़ता था। इसके विपरीत महात्मा बुद्ध तथा अन्य भिक्षुओं ने धर्म प्रचार पाली अथवा प्राकृत जैसी बोल-चाल की भाषा में किया। इस प्रकार लोग बिना कठिनाई के बौद्ध धर्म की शिक्षा को समझने लगे।

5. जाति-प्रथा में अविश्वास-बौद्ध धर्म में जाति प्रथा का कोई स्थान नहीं था। सभी जातियों के लोग बौद्ध धर्म में शामिल हो सकते थे। किसी भी जाति का व्यक्ति बौद्ध धर्म के सिद्धान्तों को अपना सकता है। बौद्ध धर्म के इस सिद्धान्त ने चमत्कारी प्रभाव दिखाया। निम्न वर्गों के लोगों को चाण्डाल समझा जाता था। भला ऐसे लोग बौद्ध धर्म का स्वागत क्यों नहीं करते ?

6. बौद्ध संघ-बौद्ध संघ ने बौद्ध धर्म के प्रचार में महत्त्वपूर्ण योगदान दिया। यह संघ भिक्षुओं तथा भिक्षुणियों को बौद्ध धर्म के सिद्धान्तों का प्रशिक्षण देता था। पूरी तरह दीक्षा लेने के पश्चात् भिक्षु प्रचार कार्य में लग जाते। ये लोग वर्ष में 8 मास प्रचार कार्य में लगे रहते। वर्षा के 4 मास वे मठों में व्यतीत करते। उस समय भी वे भविष्य में प्रचार का कार्यक्रम बनाते। भिक्षु लोगों के इस निरन्तर प्रचार के कारण बौद्ध धर्म का काफ़ी प्रसार हुआ। इस विषय में डॉ० वी० ए० स्मिथ ने सत्य ही कहा है, “भिक्षु तथा भिक्षुणियों का सुव्यवस्थित संघ इस धर्म के प्रसार में अत्यन्त प्रभावशाली बात सिद्ध हुई।”

7. बौद्ध भिक्षुओं का उच्च नैतिक चरित्र-बौद्ध भिक्षु चरित्रवान होते थे। वे झूठ नहीं बोलते थे। नशीली वस्तुओं तथा सुगन्धित पदार्थों का सेवन नहीं करते थे। वे धन, स्त्री, संगीत तथा अन्य ऐश्वर्य की वस्तुओं से दूर रहते थे। वे संसार को त्याग कर पीले वस्त्र धारण करते थे। इन उचित चरित्र वाले लोगों से साधारण जनता बड़ी प्रभावित हुई। अत: बौद्ध धर्म का उत्थान स्वाभाविक ही था।

8. राजकीय सहायता-बौद्ध धर्म एक अन्य दृष्टिकोण से भी भाग्यशाली था। उसे अशोक, कनिष्क तथा हर्ष जैसे प्रतापी राजाओं का सहयोग प्राप्त हुआ। इतिहास इस बात का साक्षी है कि अशोक ने इस धर्म के प्रचार के लिए स्वयं को, अपनी सन्तान को, सरकारी मशीनरी तथा खज़ाने को लगा दिया। संसार में किस धर्म को ऐसा सौभाग्य प्राप्त हुआ ? कनिष्क तथा हर्ष ने भी धन तथा व्यक्तिगत सेवाओं से बौद्ध धर्म को उन्नत किया। कनिष्क के प्रयत्नों के फलस्वरूप ही बौद्ध धर्म चीन, जापान तथा तिब्बत जैसे देशों में फैल गया। सच तो यह है कि राजकीय सहायता पाकर बौद्ध धर्म भारत में ही नहीं, अपितु उसकी सीमाओं के बाहर भी फैल गया।

9. बौद्ध धर्म में लचीलापन-आरम्भ में बौद्ध धर्म मूर्ति पूजा में विश्वास नहीं करता था। परन्तु पहली शताब्दी के पश्चात् बौद्ध धर्म की महायान शाखा ने बुद्ध को देवता के रूप में पूजना आरम्भ कर दिया। बद्ध की मूर्तियां बनाकर बौद्ध मन्दिरों में स्थापित की गईं। इस प्रकार बौद्ध धर्म के अनुयायियों ने समय-समय पर धर्म में परिवर्तन करके इसकी लोकप्रियता को बनाये रखा। भले ही आज बौद्ध धर्म भारत में लोकप्रिय नहीं है, परन्तु सुधारों के कारण यह आज भी विश्व के महान् धर्मों में गिना जाता है।

10. विश्वविद्यालयों का योगदान-बौद्ध धर्म को फैलाने में तक्षशिला, नालन्दा आदि विश्व-विद्यालयों का बड़ा योगदान रहा। यहां देश-विदेश से विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण करने आया करते थे। उन्हें बौद्ध धर्म के मुख्य सिद्धान्तों तथा विचारधारा से अवगत कराया जाता था। ये विद्यार्थी जहां जाते बौद्ध धर्म का प्रचार करते। चीन, तिब्बत, जापान, लंका, स्याम आदि देशों में बौद्ध धर्म का प्रचार इन्हीं विद्यार्थियों द्वारा किया गया।

11. प्रचारक धर्मों का अभाव-उन दिनों कोई धर्म ऐसा नहीं था जो अपने प्रचार में लगा हुआ हो। इस्लाम तथा ईसाई … धर्म तो बाद में आए। बौद्ध धर्म का मुकाबला केवल हिन्दू धर्म ही कर सकता था। परन्तु हिन्दू धर्म एक प्रचारक धर्म नहीं
था। उसके प्रचार के लिए साधुओं या संन्यासियों का गिरोह नहीं घूमता था। अत: बौद्ध धर्म के प्रचारक निर्विरोध अपना कार्य करते गए और इन्होंने इसे विश्वव्यापी धर्म बना दिया।

12. बौद्ध धर्म के सम्मेलन-समय-समय पर बौद्ध धर्म से सम्बन्धित भेदभावों को दूर करने के लिए परिषदें बुलाई गईं। ऐसी कुल चार परिषदें बुलाई गईं। इन परिषदों में बौद्ध भिक्षु आपसी भेदभाव को दूर करके बौद्ध धर्म को ठोस रूप प्रदान करते रहे।

इस प्रकार हम देखते हैं कि महात्मा बुद्ध का महान् व्यक्तित्व, पाली भाषा, बौद्ध संघ, भिक्षुओं के चरित्र, विश्वविद्यालयों, जाति-प्रथा में अविश्वास आदि अनेक बातों ने बौद्ध धर्म के प्रसार में काफ़ी योगदान दिया। इसके अतिरिक्त बौद्ध साहित्य, प्रजातन्त्रात्मक व्यवस्था तथा विदेशियों को अपनी ओर आकृष्ट करने की क्षमता ने भी इस धर्म के उत्थान में बड़ा योगदान दिया। शीघ्र ही यह धर्म विश्व धर्म बन गया। आज भी इसकी गणना संसार के प्रमुख धर्मों में की जाती है।

महत्त्वपूर्ण परीक्षा-शैली प्रश्न

I. वस्तुनिष्ठ प्रश्न

1. उत्तर एक शब्द से एक वाक्य तक-

प्रश्न 1. अजातशत्रु की मृत्यु कब हुई ?
उत्तर-अजातशत्रु की मृत्यु 461 ई० पू० में हुई।

प्रश्न 2. प्राकृत भाषा किस भाषा का परिवर्तित रूप थी ?
उत्तर-प्राकत भाषा संस्कृत भाषा का परिवर्तित रूप थी।

प्रश्न 3. छठी शताब्दी ई० पू० में जन्म लेने वाले दो प्रमुख धर्मों के नाम बताओ।
उत्तर-छठी शताब्दी ई० पू० में जन्म लेने वाले दो प्रमुख धर्म थे-जैन धर्म तथा बौद्ध धर्म।

प्रश्न 4. जैन धर्म के संस्थापक कौन थे ?
उत्तर-जैन धर्म के संस्थापक वर्द्धमान महावीर थे।

प्रश्न 5. महावीर स्वामी का जन्म कहाँ हुआ था ?
उत्तर-महावीर स्वामी का जन्म वैशाली में हुआ था।

प्रश्न 6. महावीर स्वामी का देहान्त कितने वर्ष की आयु में हुआ ?
उत्तर-महावीर स्वामी का देहान्त 72 वर्ष की आयु में हुआ।

प्रश्न 7. महावीर स्वामी का देहान्त कहाँ हुआ था ?
उत्तर- महावीर स्वामी का देहान्त पावाग्राम में हुआ था।

प्रश्न 8. महावीर स्वामी के पिता का नाम क्या था ?
उत्तर-महावीर स्वामी के पिता का नाम सिद्धार्थ था।

प्रश्न 9. महावीर स्वामी की पत्नी का नाम क्या था ?
उत्तर-महावीर स्वामी की पत्नी का नाम यशोधरा था।

प्रश्न 10. बौद्ध धर्म के संस्थापक कौन थे ?
उत्तर-बौद्ध धर्म के संस्थापक महात्मा बुद्ध थे।

प्रश्न 11. महात्मा बुद्ध को सच्चे ज्ञान की प्राप्ति कहाँ हुई ?
उत्तर-महात्मा बुद्ध को सच्चे ज्ञान की प्राप्ति गया नामक स्थान पर हुई।

प्रश्न 12. महात्मा बुद्ध ने अपना पहला उपदेश कहाँ दिया था ?
उत्तर-महात्मा बुद्ध ने अपना पहला उपदेश सारनाथ नामक स्थान पर दिया था।

प्रश्न 13. महात्मा बुद्ध के पिता का क्या नाम था ?
उत्तर-महात्मा बुद्ध के पिता का नाम शुद्धोधन था।

प्रश्न 14. जैन धर्म के तेइसवें तीर्थंकर कौन थे ?
उत्तर-जैन धर्म के तेइसवें तीर्थंकर पार्श्वनाथ थे।

प्रश्न 15. जैन धर्म के 24वें और सबसे महत्वपूर्ण तीर्थंकर का नाम बताओ।
उत्तर-जैन धर्म के 24वें और सबसे महत्त्वपूर्ण तीर्थंकर का नाम वर्धमान महावीर था।

प्रश्न 16. बौद्ध धर्म के दो सम्प्रदायों के नाम लिखो।
उत्तर-हीनयान और महायान।

2. रिक्त स्थानों की पूर्ति-

(i) …………… सबसे शक्तिशाली महाजनपद था।
(ii) छठी शताब्दी ई० पू० में व्यापारियों के संगठन को …………. कहा जाता था।
(iii) जैनियों के ………….. तीर्थंकर थे।
(iv) वर्द्धमान स्वामी का जन्म ………… ई० पू० में हुआ था।
(v) जैन धर्म के अनुसार …………… मुक्ति का मार्ग है।
उत्तर-
(i) मगध
(ii) श्रेणी
(iii) 24
(iv) 599
(v) त्रिरत्न।

3. सही/ग़लत कथन-

(i) गौतम बुद्ध के बचपन का नाम सिद्धार्थ था। — (√)
(ii) महात्मा बुद्ध को कुशीनारा (कुशीनगर) में सच्चा ज्ञान प्राप्त हुआ। — (×)
(iii) अष्टमार्ग बौद्ध धर्म का एक महत्त्वपूर्ण सिद्धान्त है। — (√)
(iv) बिम्बिसार का वध उसके पुत्र बृहद्रथ ने किया था। — (×)
(v) अजातशत्रु मगध के राजा बिम्बिसार का पुत्र था। — (√)

4. बहु-विकल्पीय प्रश्न-

(i) महाजनपद संख्या में कितने थे ?
(A) 8
(B) 12
(C) 16
(D) 20
उत्तर-
(C) 16

(ii) महावीर जैन की माता का नाम था-
(A) महामाया
(B) त्रिशला
(C) वैशाली
(D) गौतमी।
उत्तर-
(B) त्रिशला

(iii) जैनधर्म के पहले तीर्थंकर थे
(A) ऋषभदेव
(B) महावीर स्वामी
(C) सिद्धार्थ
(D) शंकरदेव।
उत्तर-
(A) ऋषभदेव

(iv) छठी शताब्दी ई० पू० में निम्न भाषा महत्त्वपूर्ण बनी-
(A) अवधी
(B) संस्कृत
(C) ब्रज
(D) प्राकृत।
उत्तर-
(D) प्राकृत।

(v) तीर्थंकर शब्द का अर्थ है
(A) मुक्ति दिलाने वाला
(B) धन में वृद्धि करने वाला
(C) तीर्थ यात्रा का फल देने वाला
(D) वंश वृद्धि करने वाला ।
उत्तर-
(A) मुक्ति दिलाने वाला

II. अति छोटे उत्तर वाले प्रश्न

प्रश्न 1. छठी सदी ई० पू० के चार मुख्य राजतन्त्र कौन-से थे ?
उत्तर-छठी सदी ई० पू० के चार मुख्य राजतंत्र ये थे-कौशल, काशी, मगध और अंग।

प्रश्न 2. अजातशत्रु किसका पुत्र था उसकी राजधानी का क्या नाम था ?
उत्तर-अजातशत्रु बिम्बिसार का पुत्र था और उसकी राजधानी का नाम ‘राजगृह’ था।

प्रश्न 3. छठी शताब्दी ई० पू० में प्रयोग में आने वाली नई भाषा का क्या नाम था और यह किन लोगों की भाषा थी ?
उत्तर-इस काल में प्रयोग में आने वाली नई भाषा का नाम ‘प्राकृत’ था। ‘प्राकृत’ जन-साधारण की भाषा थी। ।

प्रश्न 4. गोशाल मस्करि पुत्र से सम्बन्धित आन्दोलन का क्या नाम था और इसे किस शासन का संरक्षण प्राप्त था ?
उत्तर-गोशाल मस्करि पुत्र से सम्बन्धित आन्दोलन का नाम ‘आजीविक आन्दोलन’ था। इसे राजा अशोक का संरक्षण प्राप्त था।

प्रश्न 5. महावीर का आरम्भिक नाम क्या था और इसका सम्बन्ध कौन-से कबीले से था ?
उत्तर-महावीर का आरम्भिक नाम वर्धमान था। उसका सम्बन्ध ‘लिच्छवी’ कबीले से था।

प्रश्न 6. दक्षिणी तथा पश्चिमी भारत में जैन धर्म के बारे में लिखने वाले दो जैन विद्वानों के नाम क्या हैं ?
उत्तर-भद्रभाहु और हेम-चन्द्र।

प्रश्न 7. महावीर की संन्यास-पद्धति को आरम्भ में क्या नाम दिया गया तथा उसका शाब्दिक अर्थ क्या
उत्तर-महावीर की संन्यास-पद्धति को आरम्भ में ‘निर्ग्रन्थी’ का नाम दिया गया। निर्ग्रन्थी का अर्थ है, ‘बन्धनों से रहित’।

प्रश्न 8. जैन धर्म में निर्वाण से क्या भाव है ?
उत्तर-जैन धर्म में निर्वाण से भाव है-जन्म-मरण से मुक्त होना।

प्रश्न 9. पूर्वी भारत में जैन धर्म के सबसे बड़े संरक्षक शासक का क्या नाम था और यह वर्तमान के किस राज्य के इलाके का शासक था ?
उत्तर-पूर्वी भारत में जैन धर्म के सबसे बड़े संरक्षक शासक का नाम ‘खारवेल’ था। वह उड़ीसा का शासक था।

प्रश्न 10. गुजरात के कौन-से वंश के राजा ने 12वीं सदी में जैन मत को संरक्षण दिया ?
उत्तर-गुजरात के सोलंकी वंश के राजा ने 12वीं सदी में जैन मत को संरक्षण दिया।

प्रश्न 11. वर्तमान भारत के कौन-से तीन राज्यों में जैन धर्मावलम्बी बड़ी संख्या में हैं ?
उत्तर-जैन धर्मावलम्बी गुजरात, राजस्थान तथा कर्नाटक में बड़ी संख्या में विद्यमान हैं।

प्रश्न 12. सबसे अधिक प्रभावशाली जैन मन्दिर कौन-से दो स्थानों पर हैं ?
उत्तर-सबसे अधिक प्रभावशाली जैन मन्दिर राजस्थान में आबू पर्वत पर तथा मैसूर में श्रावणवेलगोला में हैं।

प्रश्न 13. त्रिपिटिकों के क्या नाम हैं ?
उत्तर-त्रिपिटिकों के नाम हैं-विनय-पिटक, सुत्त-पिटक तथा अभीधम्मपिटक।

प्रश्न 14. लंका में बौद्ध धर्म पर लिखी गई दो पुस्तकों के क्या नाम हैं ?
उत्तर-लंका में बौद्ध धर्म पर लिखी गई दो पुस्तकों के नाम दीपवंश तथा महावंश हैं।

प्रश्न 15. महात्मा बुद्ध का आरम्भिक नाम क्या था और वे कौन-से गणराज्य के राजकुमार थे ?
उत्तर-महात्मा बुद्ध का आरम्भिक नाम सिद्धार्थ था। वह शाक्य गणराज्य के राजकुमार थे।

प्रश्न 16. बुद्ध की पत्नी तथा पुत्र का नाम क्या था ?
उत्तर-बुद्ध की पत्नी का नाम ‘यशोधरा’ था। उनके पुत्र का नाम ‘राहुल’ था।

प्रश्न 17. ‘धर्मचक्र प्रवर्तन’ से क्या भाव है और यह किस स्थान पर हुआ ?
उत्तर-धर्मचक्र-प्रवर्तन से भाव बुद्ध के पहले प्रवचन से है। यह सारनाथ के स्थान पर हुआ।

प्रश्न 18. ‘महापरिनिर्वाण’ से क्या भाव है और यह किस स्थान पर हुआ ?
उत्तर-महापरिनिर्वाण से हमारा भाव बुद्ध के देहान्त की घटना से है। यह घटना कुशीनगर नामक स्थान पर घटित हुई।

प्रश्न 19. महात्मा बुद्ध के जन्म और मृत्यु से सम्बन्धित स्थानों के नाम बताएं।
उत्तर-महात्मा बुद्ध का जन्म कपिलवस्तु के निकट लुम्बिनी वाटिका में हुआ। उनकी मृत्यु कुशीनगर के स्थान पर हुई।

प्रश्न 20. बुद्ध की काल्पनिक जीवनियों का वृत्तान्त कौन-सी कथाओं से मिलता है और यह कौन-सी भाषा में है ?
उत्तर-बुद्ध की काल्पनिक जीवनियों का वृत्तान्त ‘जातक’ कथाओं में मिलता है। ये कथाएं ‘प्राकृत’ भाषा में हैं।

प्रश्न 21. बुद्ध को सत्य की प्राप्ति कौन-से स्थान पर हुई तथा उन्होंने अपना पहला प्रवचन कहां पर दिया ?
उत्तर-बुद्ध को सत्य की प्राप्ति ‘गया’ के स्थान पर हुई। उन्होंने अपना पहला प्रवचन सारनाथ की मृग वाटिका में दिया।

प्रश्न 22. स्तूप किस घटना का प्रतीक था तथा इसमें क्या रखा जाता था ?
उत्तर-स्तूप बुद्ध के परिनिर्वाण का प्रतीक था और उसमें बुद्ध के स्मृति-चिह्न रखे जाते थे।

प्रश्न 23. अमरावती, भारहुत तथा सांची के स्तूप आज के भारत के कौन-से दो राज्यों में हैं ?
उत्तर-अमरावती, भारहुत तथा सांची के स्तूप मध्य प्रदेश तथा तमिलनाडु में हैं।

प्रश्न 24. बुद्ध धर्म में परम्परा के समर्थक सम्प्रदाय का आरम्भिक तथा बाद का नाम क्या था ?
उत्तर-बुद्ध धर्म में परम्परा के समर्थक सम्प्रदाय का आरम्भिक नाम थेरावाद अथवा हीनयान तथा बाद का नाम महायान था।

प्रश्न 25. कनिष्क के काल में हुई बौद्ध धर्म की सभा में किस सम्प्रदाय से सम्बन्धित कौन-सा ग्रन्थ संकलित किया गया ?
उत्तर-कनिष्क के काल में हुई बौद्ध धर्म की सभा में ‘महाविभाष’ नामक ग्रन्थ को संकलित किया गया। इस ग्रन्थ में जिस सम्प्रदाय के सिद्धान्त थे, उसका नाम ‘सर्वास्तिवादिन’ था।

प्रश्न 26. कनिष्क से पहले बौद्ध धर्म की दो सभाएं कहां बुलाई गई थीं और अशोक इनमें से किसके साथ सम्बन्धित था ?
उत्तर-कनिष्क से पहले बौद्ध धर्म की दो सभाएं वैशाली तथा पाटलिपुत्र में बुलाई गई थीं। अशोक का सम्बन्ध पाटलिपुत्र की सभा के साथ था।

प्रश्न 27. ‘यान’ का शब्दिक अर्थ क्या था और बौद्ध धर्म में बोधिसत्व के विचार के साथ जुड़े हुए सम्प्रदाय का क्या नाम था ?
उत्तर-‘यान’ का शाब्दिक अर्थ था–मुक्ति प्राप्त करने का एक तरीका। बौद्ध धर्म में बोधिसत्व के विचार के साथ जुड़े हुए सम्प्रदाय का नाम ‘महायान’ था।

प्रश्न 28. जादू-टोने तथा मन्त्रों के साथ जुड़े हुए बौद्ध धर्म के सम्प्रदाय का क्या नाम था ? इसके अन्तर्गत उपासना-पद्धति को क्या कहा जाता था तथा इसका महत्त्वपूर्ण विहार कहां था ?
उत्तर-जादू-टोने तथा मन्त्रों के साथ जुड़े हुए बौद्ध धर्म सम्प्रदाय का नाम ‘वज्रयान’ था तथा इस सम्प्रदाय की उपासना पद्धति को ‘तान्त्रिक’ कहा जाता था। वज्रयान सम्प्रदाय का महत्त्वपूर्ण विहार विक्रमशिला के स्थान पर था।

प्रश्न 29. नागार्जुन अथवा नागसेन का सम्बन्ध कौन-से बौद्ध सम्प्रदाय से था और उसका किस यूनानी शासक के साथ बौद्ध धर्म पर संवाद हुआ था ?
उत्तर-नागार्जुन अथवा नागसेन का सम्बन्ध ‘महायान’ सम्प्रदाय से था। इसका संवाद यूनानी शासक मिनांडर से हुआ था।

प्रश्न 30. बौद्ध धर्म भारत से बाहर किन चार देशों में फैला ?
उत्तर-भारत से बाहर जिन देशों में बौद्ध धर्म फैला, उनके नाम हैं-चीन, जापान, श्री लंका तथा म्यनमार (बर्मा)।

III. छोटे उत्तर वाले प्रश्न

प्रश्न 1. अजातशत्रु के समय मगध राज्य की शक्ति के क्या कारण थे ?
उत्तर-अजातशत्रु के समय मगध राज्य काफ़ी शक्तिशाली बना। इसके कई कारण थे-

  • अजातशत्रु एक साहसी तथा शक्तिशाली शासक था। उसने अपने राज्य का खूब विस्तार किया।
  • कच्चा लोहा पास ही उपलब्ध होने के कारण मगध राज्य अपने विरोधियों की अपेक्षा अच्छे शस्त्र बनाने में सफल हुआ।
  • मगध की राजधानी की स्थिति ऐसी थी कि उसे जीतना बच्चों का खेल नहीं था।
  • मगध एक अत्यधिक उपजाऊ प्रदेश था और जहां अच्छी वर्षा होती थी। अतः यहां की कृषि बड़ी उन्नत थी।
  • मगध राज्य अपने पड़ोसी राज्यों के विरुद्ध हाथियों का प्रयोग कर सकता था। इस सैनिक सुविधा के कारण मगध राज्य के विकास में विशेष सहायता मिली।
  • मगध राज्य का व्यापार भी काफ़ी उन्नत था। व्यापार से होने वाली आय से राजा स्थायी सेना रख सकता था।

प्रश्न 2. महावीर स्वामी अथवा जैन धर्म की शिक्षाओं का वर्णन करो।
उत्तर-महावीर स्वामी ने लोगों को जीवन का सरल मार्ग दिखाया। उनके अनुसार मनुष्य को त्रिरत्न अथवा शुद्ध ज्ञान, शुद्ध चरित्र तथा शुद्ध दर्शन का पालन करना चाहिए। उन्होंने मोक्ष प्राप्ति के लिए लोगों को प्रेरित किया और इसके लिए घोर तपस्या का मार्ग ही सर्वोत्तम मार्ग स्वीकार किया। वह समझते थे कि पशु, पक्षी, वायु, अग्नि, वृक्ष आदि सभी वस्तुओं में आत्मा है और उन्हें कष्ट नहीं देना चाहिए। उनका वेदों, जाति-पाति, यज्ञ तथा बलि में कोई विश्वास नहीं था। उनका विचार था कि मनुष्य अपने अच्छे या बुरे कर्मों के कारण जन्म लेता है और आत्मा को पवित्र रखकर ही वह मोक्ष प्राप्त कर सकता है। . उन्होंने अपने अनुयायियों को बताया कि वे क्रोध, लोभ, ईर्ष्या, चोरी, निन्दा आदि अनैतिक कामों से दूर रहें और सदाचारी बनें।

प्रश्न 3. महात्मा बुद्ध अथवा बौद्ध धर्म की शिक्षाओं का वर्णन कीजिए।
उत्तर-महात्मा बुद्ध ने लोगों को जीवन का सरल मार्ग सिखाया। उन्होंने लोगों को बताया कि संसार दुःखों का घर है। दुःखों का कारण तृष्णा है। निर्वाण प्राप्त करके ही मनुष्य जन्म-मरण के चक्कर से छूट सकता है। निर्वाण-प्राप्ति के लिए महात्मा बुद्ध ने लोगों को अष्ट मार्ग पर चलने का उपदेश दिया। उन्होंने लोगों को अहिंसा, नेक काम तथा सदाचार पर चलने के लिए कहा। सच तो यह है कि बौद्ध धर्म ने व्यर्थ के रीति-रिवाजों यज्ञों तथा कर्मकाण्डों को त्यागने पर बल दिया।

प्रश्न 4. महावीर की शिक्षाओं का साधारण मनुष्य के जीवन के लिए क्या महत्त्व था ?
उत्तर-महावीर की शिक्षाओं का साधारण मनुष्य के जीवन में बड़ा महत्त्व था :

  • उन्होंने जाति-प्रथा का घोर विरोध किया। इससे भारतीय समाज में लोगों का आपसी मेल-जोल बढ़ने लगा। भेदभाव का स्थान सहकारिता ने ले लिया। ऊंच-नीच की भावना समाप्त होने लगी और समाज प्यार और भाईचारे की भावनाओं से ओत-प्रोत हो गया।
  • महावीर ने लोगों को समाज-सेवा का उपदेश दिया। अतः लोगों की भलाई के लिए जैनियों ने अनेक संस्थाएं स्थापित की। इससे न केवल जनता का ही भला हुआ बल्कि दूसरे धर्मों के अनुयायियों को भी समाज सेवा के कार्य करने का प्रोत्साहन मिला।
  • जैन धर्म की बढ़ती हुई लोकप्रियता को देखकर ब्राह्मणों ने भी पशु-बलि, कर्म-काण्ड तथा अन्य कुरीतियों का त्याग करना शुरू कर दिया। इस प्रकार वैदिक धर्म भी काफ़ी सरल बन गया।
  • इसके अतिरिक्त महावीर ने अहिंसा पर बल दिया। अहिंसा के सिद्धान्त को अपना कर लोग मांसाहारी से शाकाहारी बन गए। उनका जीवन सरल तथा संयमी बना।

प्रश्न 5. महात्मा बुद्ध के मध्य मार्ग से क्या भाव है ?
उत्तर-महात्मा बुद्ध के उपदेशों के मूल सिद्धान्त चार महान् सत्य थे-

  • संसार दुःखों का घर है।
  • इन दुःखों का कारण तृष्णा अथवा लालसा है।
  • अपनी लालसाओं का दमन करने पर ही दुःखों से छुटकारा मिलता है और मनुष्य निर्वाण प्राप्त कर सकता है।
  • तृष्णा के दमन के लिए मनुष्य को अष्ट मार्ग अथवा मध्य मार्ग पर चलना चाहिए।

महात्मा बुद्ध के अष्ट मार्ग में ये आठ बातें शामिल हैं-

  • शुद्ध दृष्टि
  • शुद्ध संकल्प
  • शुद्ध वचन
  • शुद्ध कर्म
  • शुद्ध कमाई
  • शुद्ध प्रयत्न
  • शुद्ध स्मृति
  • शुद्ध समाधि।

ये सभी सिद्धान्त एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं। उदाहरण के लिए शुद्ध कमाई केवल शुद्ध कर्म द्वारा ही सम्भव हो सकती है। शुद्ध कर्म के लिए शुद्ध संकल्प तथा शुद्ध दृष्टि आवश्यक है। अतः अष्ट मार्ग मनुष्य को पूर्ण रूप से सदाचारी बनाता है और उसे दुःखों से छुटकारा दिलाता है। इसे मध्य मार्ग इसलिए कहा जाता है क्योंकि यह घोर तपस्या तथा ऐश्वर्यमय जीवन के बीच का रास्ता है।

प्रश्न 6. बुद्ध द्वारा चलाई गई संघ व्यवस्था की क्या विशेषताएं थीं ?
उत्तर-बुद्ध द्वारा चलाई गई संघ व्यवस्था की मुख्य विशेषताएं ये थीं-

  • प्रत्येक स्त्री-पुरुष संघ का सदस्य बन सकता था। संघ में प्रवेश करने की रस्म बड़ी साधारण थी। इसमें तीन पीले वस्त्र धारण करना, मुण्डन संस्कार एवं तीन ‘रत्नों’ का उच्चारण शामिल था। ये तीन रत्नं थे : ‘बुद्धं शरणम् गच्छामि, ‘धर्मं शरणम् गच्छामि’, ‘संघ शरणम् गच्छामि।
  • नये भिक्षुओं को दस शील विरतियों के पालन का प्रण करना पड़ता था। मुख्य शील विरतियां थीं : जीवों को कष्ट न देना, किसी वस्तु को उसकी इच्छा के बिना न लेना, आवेग में दुर्व्यवहार न करना, झूठा न बोलना, नशे का सेवन न करना आदि।
  • भिक्षु के दैनिक जीवन की भी बहुत-सी क्रियाएं थीं। वह भिक्षा मांग कर दिन में केवल एक समय भोजन करता था। वह संघीय उपासना में भाग लेने के अतिरिक्त अपना समय अध्ययन एवं अष्टमार्ग के अनुसार धार्मिक अभ्यास में लगाता था। मठ को साफ़-सुथरा रखने के लिए श्रमदान भी करना पड़ता था।
  • मठीय जीवन का संचालन या विभिन्न मठवासियों की गतिविधियों को संयोजित करने के लिए केन्द्रीय संस्था नहीं थी। मठ का संचालन मुख्य भिक्षु के नेतृत्व में सभी वयोवृद्ध भिक्षु मिलकर करते थे।

प्रश्न 7. कला के दृष्टिकोण से स्तूप का क्या महत्त्व था ?
उत्तर-स्तूप महात्मा बुद्ध के परिनिर्वाण का प्रतीक थे। यह एक विशाल अर्द्ध गोलाकार गुम्बज होता था जिसके बीचोंबीच स्थित एक छोटे कमरे में बुद्ध के स्मृति-चिन्ह एक संदूकचे में रखे जाते थे। स्तूप पर लकड़ी या पत्थर का छत्र बना होता था। कला की दृष्टि से सर्वोत्तम स्तूपों के नमूने कृष्णा नदी की घाटी के निचले भाग में अमरावती में एवं मध्य प्रदेश में भरहुत और सांची में मिलते हैं। स्तूपों पर की गई नक्काशी की कला भी कम प्रभावशाली नहीं थी। लकड़ी पर नक्काशी के नमूने तो बहुत देर तक सुरक्षित न रह सके। परन्तु अमरावरती एवं सांची के स्तूपों के तोरणों (प्रवेश द्वार) पर पत्थर पर हुई सुन्दर नक्काशी आज भी देखी जा सकती है। इन पर चित्रित दृश्य मुख्यतः बुद्ध के जीवन से सम्बन्धित हैं। इनमें अधिकांश का सम्बन्ध बुद्ध के जन्म, गृह त्याग, ज्ञान-प्राप्ति, धर्मचक्र प्रवर्तन एवं उनके महा-परिनिर्वाण से है।

प्रश्न 8. बौद्ध धर्म के पतन के क्या कारण थे ?
उत्तर-बौद्ध धर्म के पतन के मुख्य कारण थे :

  • समय के अनुसार वैदिक धर्म में अनेक सुधार किये गये। अतः वे सभी लोग जो हिन्दू से बौद्ध बने थे, फिर वैदिक धर्म में शामिल हो गए।
  • बौद्ध धर्म धीरे-धीरे काफ़ी जटिल हो गया। इसमें अनेक कुरीतियां और व्यर्थ के रीति-रिवाज शामिल हो गए।
  • बौद्ध भिक्षु बड़ा विलासी जीवन व्यतीत करने लगे। इस बात का लोगों पर बुरा प्रभाव पड़ा।
  • हर्ष की मृत्यु के पश्चात् बौद्ध धर्म को राजकीय सहायता न मिल सकी। फलस्वरूप बौद्ध धर्म की लोकप्रियता कम होने लगी।
  • बौद्ध धर्म के ग्रन्थ संस्कृत भाषा में लिखे जाने लगे। लोग इस कठिन भाषा से पहले ही तंग थे।
  • महात्मा बुद्ध के पश्चात् बौद्ध धर्म में कोई भी उन जैसा महान् व्यक्ति पैदा न हुआ जो इस धर्म को लोकप्रिय बना सकता।

प्रश्न 9. छठी शताब्दी ई० पू० में कौन-सी नई भाषा महत्त्वपूर्ण बनी और क्यों ?
उत्तर-छठी शताब्दी ई० पू० में ‘प्राकृत’ भाषा महत्त्वपूर्ण बनी। प्राकृत भाषा का महत्त्व बढ़ने से पहले वैदिक संस्कृत भाषा को अधिक महत्त्व दिया जाता था। उस समय हिन्दुओं के सभी ग्रन्थ इसी भाषा में लिखे हुए थे और ब्राह्मण तथा कुलीन वर्ग के अन्य लोग इसी भाषा का प्रयोग करते थे। परन्तु यह भाषा बहुत ही कठिन थी और साधारण लोगों की समझ से बाहर थी। परिणामस्वरूप साधारण लोग न तो वैदिक ग्रन्थों को पढ़ सकते थे और न ही उनका अर्थ समझ पाते थे। इसी समय कुछ नये विचारकों का जन्म हुआ। वे अपने विचार प्रत्येक व्यक्ति तक पहुंचाना चाहते थे। यह तभी सम्भव था जब वे अपने प्रचार कार्य
आम जनता की बोलचाल की भाषा में करते। अतः उन्होंने ‘प्राकृत’ भाषा को अपनाया जिसके कारण यह भाषा काफ़ी महत्त्वपूर्ण बन गई।

प्रश्न 10. भारतीय जीवन पर जैन धर्म के क्या प्रभाव पड़े ?
उत्तर-भारतीय जीवन पर जैन धर्म के महत्त्वपूर्ण प्रभाव पड़े। जैन धर्म ने जाति-प्रथा का खण्डन किया। फलस्वरूप देश में जाति-प्रथा के बन्धन शिथिल पड़ गए। इस मत के सरल सिद्धान्तों की लोकप्रियता को देखकर ब्राह्मणों ने पशु-बलि, कर्मकाण्ड तथा अन्य कुरीतियों का त्याग कर दिया। फलस्वरूप वैदिक धर्म एक बार फिर सरल रूप धारण करने लगा। जैन धर्म में अहिंसा पर बड़ा बल दिया गया। इस सिद्धान्त को अपना कर लोगों ने मांस खाना छोड़ दिया और वे शाकाहारी बन गए। जैनियों ने अपने तीर्थंकरों की स्मृति में विशाल मन्दिर तथा मठ बनवाए। दिलवाड़ा का जैन मन्दिर, आबू पर्वत के जैन मन्दिर, एलोरा की गुफाएं तथा खजुराहो के जैन मन्दिर कला के सर्वोत्तम नमूने हैं। इस धर्म के कारण कन्नड़, हिन्दी, गुजराती, मराठी आदि भाषाओं के साहित्य ने भी बड़ी उन्नति की।

प्रश्न 11. जैन मत लोकप्रिय क्यों न हो सका ?
उत्तर-जैन मत भारत में अनेक कारणों से अधिक लोकप्रिय न हो सका :

  • इसमें घोर तपस्या पर बल दिया गया था जिसके अनुसार मनुष्य को कई दिन तक भूखा-प्यासा रहना पड़ता था। साधारण लोग इतना कठोर जीवन व्यतीत नहीं कर सकते थे।
  • जैन मत के अनुयायियों ने इस धर्म के प्रचार पर अधिक बल न दिया।
  • इस धर्म में अहिंसा के सिद्धान्त को अत्यन्त कठोर रूप में अपनाया गया था।
  • इसे बौद्ध धर्म की भान्ति अधिक राजकीय सहायता न मिल सकी।
  • बौद्ध धर्म के सिद्धान्त जैन मत की अपेक्षा अधिक सरल थे। अतः अधिक से अधिक लोग बौद्ध धर्म को अपनाने लगे और जैन धर्म अपनी लोकप्रियता खो बैठा।

प्रश्न 12. जैन धर्म के दो सम्प्रदायों अर्थात् दिगम्बर तथा श्वेताम्बर के विषय में आप क्या जानते हैं ?
उत्तर-जैन धर्म के दो सम्प्रदाय हैं-दिगम्बर तथा श्वेताम्बर। दोनों सम्प्रदायों में मूल रूप से कोई अन्तर नहीं। दोनों महावीर की शिक्षाओं में विश्वास रखते हैं और उनके दर्शन को स्वीकार करते हैं। इन दोनों सम्प्रदायों में भिन्नता मौर्य काल में आरम्भ हुई। उन दिनों देश में भीषण अकाल पड़ा। कुछ जैन भिक्षु भद्रबाहु की अध्यक्षता में दक्षिण चले गए। वहां उन्होंने नग्न रह कर महावीर स्वामी की भान्ति जीवन व्यतीत किया। समय बीतने के साथ-साथ जैन भिक्षुओं ने उत्तरी भारत में श्वेत वस्त्र धारण करने आरम्भ कर दिये। दक्षिण में रहने वाले भिक्षु दिगम्बर कहलाए तथा उत्तरी भारत में भिक्षु श्वेताम्बर कहलाए। दिगम्बर का अर्थ है ‘नग्न’ तथा श्वेताम्बर का अर्थ है ‘श्वेत-वस्त्र धारण करने वाले।’ समय बीतने के साथ-साथ दिगम्बर भिक्षुओं ने भी वस्त्र धारण करने आरम्भ कर दिए। परन्तु दोनों पक्षों में ऊपरी भेद आज भी बना हुआ है।

प्रश्न 13. बौद्ध मत लोकप्रिय क्यों हुआ ?
उत्तर-भारत में बौद्ध मत की लोकप्रियता के मुख्य कारण थे :

  • यह एक सरल धर्म था। लोग इसके नियमों को आसानी से समझ सकते थे और उन्हें अपना सकते थे।
  • महात्मा बुद्ध ने अपना उपदेश भी साधारण बोल-चाल की भाषा में दिया। परिणामस्वरूप इस धर्म ने जन-साधारण को बड़ा प्रभावित किया।
  • महात्मा बुद्ध ने जाति-प्रथा का भी घोर खण्डन किया और भाईचारे की भावना पर बल दिया। परिणामस्वरूप निम्न जातियों के अनेक लोग समाज में आदर पाने के लिए धर्म के अनुयायी बन गए।
  • बौद्ध धर्म की उन्नति का एक अन्य बड़ा कारण हिन्दू धर्म की कुरीतियां थीं। अतः अनेक लोग हिन्दू धर्म छोड़कर बौद्ध धर्म के अनुयायी बन गए।
  • अशोक, कनिष्क, हर्ष आदि अनेक राजाओं ने भी बौद्ध धर्म ग्रहण किया। इन सभी राजाओं के प्रयत्नों में यह धर्म केवल भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी लोकप्रिय हो गया।

प्रश्न 14. बौद्ध धर्म की क्या देन है ?
उत्तर-बौद्ध धर्म की देन वास्तुकला, मूर्तिकला एवं चित्रकला के सुन्दर नमूनों में देखी जा सकती है। भारतीय धर्मों एवं दर्शनों पर तो बौद्ध धर्म का प्रभाव अत्यन्त गहरा है। पन्द्रह सौ वर्षों तक बौद्ध धर्म ने भारत में करोड़ों लोगों के जीवन को प्रभावित किया। यही नहीं, चीन, जापान, लंका, म्यनमार (बर्मा) एवं दक्षिण-पूर्वी एशिया के कई देशों में और तिब्बत में वहां की कला एवं वास्तुकला बौद्ध धर्म के प्रभाव को दर्शाती है। इन देशों का अपना बौद्ध धार्मिक एवं दार्शनिक साहित्य भी इनकी अत्यन्त मूल्यवान सांस्कृतिक पूंजी है। एशिया के करोड़ों लोग भारत को आज तक भी बुद्ध की धरती के रूप में जानते हैं।

IV. निबन्धात्मक प्रश्न-

प्रश्न 1. जैन धर्म तथा बौद्ध धर्म के उदय के कारणों की व्याख्या कीजिए।
उत्तर-जैन धर्म तथा बौद्ध धर्म का जन्म छठी शताब्दी ई० पू० में हुआ। इन धर्मों का जन्म ऐसे समय पर हुआ जब समाज पर ब्राह्मणों का प्रभुत्व छाया हुआ था। यज्ञ बड़े महंगे और आवश्यक थे। धर्म अपना सरल रूप खो चुका था। ठीक इसी समय महावीर स्वामी तथा महात्मा बुद्ध ने मानवता को धर्म की सही राह दिखाई। संक्षेप में, जैन तथा बौद्ध धर्म का जन्म निम्नलिखित कारणों से हुआ

  • हिन्दू धर्म में जटिलता-ऋग्वैदिक काल में आर्यों का धर्म बड़ा सरल था और इसके सिद्धान्तों को आसानी से अपनाया जा सकता था, परन्तु धीरे-धीरे वैदिक (आर्य) धर्म जटिल होता चला गया। व्यर्थ के कर्म-काण्ड धर्म का अंग बन गए। लोगों के लिए इस धर्म के सिद्धान्तों को अपनाना मुश्किल हो गया। परिणामस्वरूप वे किसी सरल धर्म की इच्छा करने लगे।
  • जाति-प्रथा तथा छुआछूत-छठी शताब्दी ई० पू० तक जाति बन्धन बहुत कठोर हो चुके थे। लोगों में छुआछूत की भावना इतनी बढ़ गई कि वे शूद्रों को छूना भी पाप समझने लगे। अतः शूद्र लोग किसी ऐसे धर्म की इच्छा करने लगे जिसमें उन्हें उचित स्थान मिल सके।
  • ब्राह्मणों की स्वार्थ भावना-धर्म का कार्य ब्राह्मणों को सौंपा गया था। आरम्भ में वे बिना किसी लोभ लालच के अपना कार्य करते थे, परन्तु धीरे-धीरे वे स्वार्थी बन गए। वे धर्म की व्याख्या अपने ही ढंग से करने लगे। परिणामस्वरूप साधारण जनता ब्राह्मणों से बचने का कोई उपाय सोचने लगी।
  • कठिन भाषा-उस समय वैदिक धर्म के सभी ग्रन्थ संस्कृत भाषा में लिखे गए थे। कठिन होने के कारण साधारण लोग इस भाषा को नहीं समझ सकते थे। इसलिए वे किसी ऐसे धर्म की खोज में रहने लगे जिस धर्म के ग्रन्थ लोगों की बोलचाल की भाषा में लिखे गए हों।
  • महंगे यज्ञ-ऋग्वैदिक काल तक आर्य बड़े ही सरल ढंग से यज्ञ किया करते थे, परन्तु धीरे-धीरे यज्ञ काफ़ी महंगे होते चले गए। यज्ञ में अनेक ब्राह्मणों को भोज देना पड़ता था। साधारण जनता के लिए ऐसे यज्ञ करना असम्भव हो गया। अत: लोग किसी सरल धर्म की इच्छा करने लगे।
  • तन्त्र-मन्त्र में विश्वास-छठी शताब्दी में लोग अन्धविश्वासी हो चुके थे। वे वेद मन्त्रों की बजाए तन्त्र-मन्त्र में . विश्वास रखने लगे। यहां तक कि रोगों का इलाज भी जादू-टोनों के द्वारा किया जाने लगा। इस अन्धविश्वास को समाप्त करने के लिए किसी नए धर्म की आवश्यकता थी।
  • महापुरुषों का जन्म-छठी शताब्दी ई० पू० में भारत में दो महापुरुषों ने जन्म लिया जिनके नाम थे-महावीर स्वामी तथा महात्मा बुद्ध । उन्होंने हिन्दू धर्म में सुधार करके उसे नए रूप में प्रस्तुत किया, परन्तु उनके उपदेशों ने क्रमशः दो नए धर्मों का रूप धारण कर लिया। ये नवीन धर्म जैन मत और बौद्ध मत के नाम से प्रसिद्ध हुए।

सच तो यह है कि बौद्ध धर्म तथा जैन धर्म का उदय वैदिक धर्म में गिरावट के कारण हुआ। धर्म में जटिलता, ब्राह्मणों का नैतिक पतन, छुआछूत, महंगे यज्ञ, कठिन भाषा-यें सभी बातें थीं जिनके कारण बौद्ध धर्म तथा जैन धर्म का उदय हुआ। इस विषय में डॉ० राधाकृष्णन ठीक ही लिखते हैं, “महावीर अथवा गौतम ने किसी नए तथा स्वतन्त्र धर्म का आरम्भ नहीं किया। उन्होंने तो अपने प्राचीन वैदिक धर्म पर आधारित एक नया दृष्टिकोण प्रस्तुत किया।”

प्रश्न 2. जैन धर्म के मुख्य उपदेश (सिद्धान्त) क्या-क्या हैं ?
अथवा
‘त्रिरत्न’ तथा ‘अहिंसा’ का विशेष रूप से वर्णन करते जैन धर्म के किन्हीं पांच सिद्धान्तों का वर्णन कीजिए।
उत्तर-जैन धर्म अथवा महावीर स्वामी की शिक्षाएं (उपदेश) बड़ी सरल थीं। उनकी मुख्य शिक्षाओं का वर्णन इस प्रकार है-

  • त्रिरत्न-जैन धर्म के अनुसार प्रत्येक मनुष्य के जीवन का उद्देश्य निर्वाण प्राप्त करना है। निर्वाण प्राप्त करने के लिए तीन साधन बताए गए हैं–शुद्ध ज्ञान, शुद्ध चरित्र तथा शुद्ध दर्शन। जैन धर्म को मानने वाले इन तीन सिद्धान्तों को ‘त्रिरत्न’ कहते हैं।
  • घोर तपस्या में विश्वास-जैन धर्म के अनुयायी घोर तपस्या करने तथा अपने शरीर को अधिक-से-अधिक कष्ट देने में विश्वास रखते हैं। उनके अनुसार शरीर को कष्ट देने से जल्दी मोक्ष प्राप्त होता है।
  • अहिंसा-जैन धर्म में अहिंसा पर बहुत बल दिया गया है। इस धर्म के अनुयायियों का विश्वास है कि संसार की सभी वस्तुओं में जीव (आत्मा) है। इसलिए वे किसी भी जीव को कष्ट देना पाप समझते हैं।
  • ईश्वर में विश्वास-जैन धर्म को मानने वाले ईश्वर को नहीं मानते। वे ईश्वर के स्थान पर अपने तीर्थंकरों की पूजा करते हैं।
  • वेदों में अविश्वास-जैन धर्म को मानने वाले वेदों को ईश्वरीय ज्ञान नहीं मानते। वे वेदों से मुक्ति के लिए बताए गए मुक्ति के साधनों-यज्ञ, हवन, आदि को व्यर्थ समझते हैं।
  • आत्मा में विश्वास-जैन धर्म को मानने वाले आत्मा के अस्तित्व को स्वीकार करते हैं। उनके अनुसार आत्मा अमर है। यह शरीर में रह कर भी शरीर से भिन्न होती है।
  • जाति-पाति में अविश्वास-जैन धर्म के अनुयायी जाति-पाति में विश्वास नहीं रखते। उनके अनुसार सभी मनुष्य समान हैं। जाति के आधार पर कोई व्यक्ति छोटा-बड़ा नहीं है।
  • कर्म सिद्धान्त में विश्वास-जैन धर्म के अनुसार मनुष्य अपने पिछले जन्म में किए गए कर्मों के अनुसार जन्म लेता है और उसका अगला जन्म इस जन्म में किए गए कर्मों के अनुसार होगा। अतः हमें अच्छे कर्म करने चाहिएं।
  • मोक्ष-प्राप्ति-जैन धर्म के अनुसार आत्मा को कर्मों के बन्धन से छुटकारा दिलाने का नाम मोक्ष है। कर्म-चक्र समाप्त होते ही जीव (आत्मा) को मुक्ति मिल जाती है।
  • सदाचार पर बल-महावीर स्वामी ने अपने अनुयायियों को उच्च नैतिक जीवन व्यतीत करने की प्रेरणा दी। उन्होंने आदेश दिया कि वे क्रोध, लोभ, ईर्ष्या, चोरी, निन्दा आदि अनैतिक कार्यों से बचें।

प्रश्न 3. (क) बौद्ध धर्म के मुख्य उपदेशों का वर्णन करें।
(ख) भारतीय समाज पर बौद्ध धर्म का क्या प्रभाव पड़ा ?
उत्तर-(क) बौद्ध धर्म की प्रमुख शिक्षाएं-

  • बौद्ध धर्म के अनुसार निर्वाण प्राप्ति के लिए मध्यम मार्ग ही सबसे अच्छा मार्ग है। निर्वाण न तो भोग-विलास से मिल सकता है और न ही कठोर तपस्या से।
  • संसार दुःखों का घर है। तृष्णा इन दुःखों का कारण है। इसी तृष्णा के कारण मनुष्य जन्म-मरण के चक्कर में फंसा रहता है। तृष्णा और वासना का त्याग ही इन दुःखों से छुटकारा दिला सकता है।
  • महात्मा बुद्ध के अनुसार मनुष्य को अष्ट मार्ग पर चल कर ही दुःखों से मुक्ति मिल सकती है। अष्ट मार्ग में ये आठ बातें सम्मिलित हैं- (i) सम्यक् दृष्टि (ii) सम्यक् संकल्प, (iii) सम्यक् वचन, (iv) सम्यक् ध्यान, (v) सम्यक् प्रयत्न, (vi) सम्यक् विचार, (vii) सम्यक् आजीविका।
  • महात्मा बुद्ध पुनर्जन्म के सिद्धान्त को मानते हैं। उनका कहना था कि मनुष्य को अपने कर्मों का फल अवश्य भुगतना पड़ता है। यज्ञ और घोर तपस्या आदि द्वारा यह कर्मों के फल से नहीं बच सकता।
  • बौद्ध धर्म वेदों की प्रमाणिकता में विश्वास नहीं रखता। इसके अनुसार हवन, यज्ञ, बलि आदि भी व्यर्थ हैं।
  • महात्मा बुद्ध ने ईश्वर के सम्बन्ध में कुछ नहीं कहा है। इस विषय में सदा मौन रहे।
  • बौद्ध धर्म में जाति-पाति के भेद-भाव को व्यर्थ समझा जाता है।
  • बौद्ध धर्म में अहिंसा पर बड़ा बल दिया गया है। इसके अनुसार किसी भी जीव को कष्ट देना पाप है।
  • बौद्ध धर्म में शुद्ध आचरण को बहुत महत्त्व दिया गया है। इसमें चोरी करना, झूठ बोलना आदि बातों को पाप माना गया है।
  • बौद्ध धर्म के अनुसार मनुष्य का सबसे बड़ा लक्ष्य निर्वाण प्राप्त करना है। निर्वाण से ही मनुष्य जन्म-मरण के चक्कर से बच सकता है।

(ख) भारतीय समाज पर बौद्ध धर्म का प्रभाव-

  • बौद्ध धर्म के कारण लोग सदाचारी बने। उन्होंने झूठ बोलना, चोरी करना, किसी की निन्दा करना आदि सभी बुरे कर्म छोड़ दिए।
  • बौद्ध धर्म के कारण लोगों के खान-पान में आश्चर्यजनक परिवर्तन आया। अहिंसा का सिद्धान्त अपनाकर लोगों ने मांस खाना छोड़ दिया और वे शाकाहारी बन गए।
  • बौद्ध धर्म के कारण भारत में अनेक स्तूप, मठ और विहार बने। ये सभी कला के उत्तम नमूने हैं।
  • महात्मा बुद्ध की शिक्षाओं तथा उनके जीवन से सम्बन्धित अनेक ग्रन्थ लिखे गए। परिणामस्वरूप भारतीय साहित्य का विकास हआ।
  • बौद्ध धर्म ने अनेक राजाओं की राज्य-नीति को भी प्रभावित किया। उदाहरण के लिए अशोक ने बौद्ध धर्म के प्रभाव में आकर जन-कल्याण को अपने जीवन का लक्ष्य बना लिया। इसी प्रकार कनिष्क और हर्ष ने भी प्रजा-हित के लिए अनेक कार्य किए।

प्रश्न 4. बौद्ध धर्म की शीघ्र उन्नति के कारण बताओ।
अथवा
बौद्ध धर्म बड़ी शीघ्रता से फैला। इसके लिए उत्तरदायी कोई पांच कारण बताएं।
उत्तर-भारत में बौद्ध धर्म बड़ी शीघ्रता से फैला। यहां तक कि अनेक राजा भी इस धर्म के अनुयायी बन गए और उन्होंने इसको विश्व धर्म बना दिया। इस धर्म की शीघ्र उन्नति के कारण निम्नलिखित थे-

  • सरल धर्म-बौद्ध धर्म एक सरल धर्म था। लोग इसके नियमों को आसानी से समझ सकते थे और इन्हें अपना सकते थे। इसलिए यह धर्म शीघ्र ही लोकप्रिय हो गया।
  • बोलचाल की भाषा-महात्मा बुद्ध ने अपना उपदेश साधारण बोलचाल की भाषा में दिया। परिणामस्वरूप इस धर्म ने जन-साधारण को बड़ा प्रभावित किया।
  • अनुकूल वातावरण-बौद्ध धर्म के उदय के समय भारत में कोई ऐसा धर्म नहीं था जो इस धर्म का सामना कर सकता। हिन्दू धर्म में अनेक दोष आ चुके थे। जैन धर्म भी अपने जटिल नियमों के कारण अधिक लोकप्रिय न हो सका। ऐसे वातावरण में बौद्ध धर्म की उन्नति स्वाभाविक ही थी।
  • जाति-प्रथा का विरोध-महात्मा बुद्ध ने जाति-प्रथा का घोर खण्डन किया और भाई-चारे की भावना पर बल दिया। परिणामस्वरूप निम्न जातियों के अनेक लोग समाज में आदर पाने के लिए बौद्ध धर्म के अनुयायी बन गए।
  • हिन्दू धर्म की कुरीतियां-बौद्ध धर्म की उन्नति का सबसे बड़ा कारण हिन्दू धर्म की कुरीतियां थीं। हिन्दू धर्म में यज्ञों और पशु बलि पर अधिक बल दिया जाने लगा था। यज्ञ इतने महंगे थे कि साधारण लोगों के लिए यज्ञ कराना असम्भव था। अतः अनेक लोग हिन्दू धर्म को छोड़कर बौद्ध धर्म के अनुयायी बन गए।
  • महात्मा बुद्ध का महान् व्यक्तित्व-महात्मा बुद्ध का अपना जीवन बड़ा आकर्षक तथा प्रभावशाली था। वह जिन नियमों का लोगों को उपदेश देते थे, स्वयं भी उनका पालन करते थे। उनकी वाणी भी बड़ी मधुर थी। उनके इस महान् व्यक्तित्व से प्रभावित होकर अनेक लोग उनके अनुयायी बन गए।
  • बौद्ध भिक्षुओं का उच्च चरित्र-बौद्ध भिक्षुओं का चरित्र बड़ा ऊंचा था। उनके चरित्र से अनेक लोग प्रभावित हुए और वे बौद्ध धर्म के अनुयायी बन गए।
  • राजकीय सहायता-अशोक, कनिष्क, हर्ष आदि अनेक राजाओं ने भी बौद्ध धर्म ग्रहण किया। इन सभी राजाओं ने बौद्ध धर्म के प्रसार के लिए अनेक प्रयत्न किए। उनके प्रयत्नों से यह धर्म केवल भारत में ही नहीं, बल्कि विदेशों में भी लोकप्रिय हो गया।

प्रश्न 5. भारत में बौद्ध धर्म का तो पतन हो गया पर जैन धर्म कुछ भागों में जमा रहा। इसके कारणों की समीक्षा करें।
उत्तर-भारत में बौद्ध धर्म जितनी तीव्रता से फैला, उसी तीव्रता से इस धर्म का पतन भी हो गया। परन्तु जैन धर्म का देश के कुछ भागों में अस्तित्व बना रहा। इसके कुछ विशेष कारण थे जिनका वर्णन इस प्रकार है :
बौद्ध धर्म के पतन के कारण-

  • धर्म में जटिलता-बौद्ध धर्म धीरे-धीरे काफ़ी जटिल हो गया। अनेक व्यर्थ के रीति-रिवाज इस धर्म का अंग बन गये। परिणामस्वरूप लोगों का इस धर्म में विश्वास उठने लगा।
  • संस्कृत भाषा-बौद्ध धर्म के अनुयायियों ने बुद्ध के उपदेशों को संस्कृत में लिपिबद्ध करना आरम्भ कर दिया। यह भाषा साधारण लोगों की समझ से बाहर थी। परिणामस्वरूप बौद्ध धर्म की लोकप्रियता कम हो गयी।
  • भिक्षुओं का दूषित चरित्र-बौद्ध भिक्षुओं का चरित्र आरम्भ से बड़ा ऊंचा था, परन्तु धीरे-धीरे उनके चरित्र में अनेक दोष आ गये। अत: लोगों को उनसे घृणा होने लगी। इस बात का बौद्ध धर्म पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ा।
  • हिन्दू धर्म में सधार-हिन्दू धर्म में समय के अनुसार अनेक आवश्यक सुधार किये गये। परिणामस्वरूप अनेक लोग, जिन्होंने हिन्दू धर्म को छोड़कर बौद्ध धर्म ग्रहण कर लिया था, फिर से हिन्दू धर्म में शामिल हो गये।
  • राजकीय सहायता का अभाव-राजा कनिष्क की मृत्यु के पश्चात् बौद्ध धर्म को राजकीय सहायता न मिल सकी। यह बात भी बौद्ध धर्म की उन्नति के मार्ग में बाधा बनी। .
  • बौद्ध धर्म का विभाजन-कनिष्क के काल में बौद्ध धर्म महायान और हीनयान नामक दो शाखाओं में बंट गया। महायान और हिन्दू धर्म के नियमों में विशेष अन्तर नहीं था। परिणामस्वरूप महायान के अनेक अनुयायी हिन्दू धर्म में शामिल हो गये।
  • राजाओं का अत्याचार-मौर्य वंश के पश्चात् पुष्यमित्र शुंग ने बौद्धों पर अनेक अत्याचार किये। उसने अनेक बौद्धों की हत्या करवा दी। उसके अत्याचार से डरकर अनेक लोगों ने बौद्ध धर्म छोड़ दिया।
  • विदेशी आक्रमण-विदेशी आक्रमणकारियों ने बौद्धो के अनेक मठ और विहार तोड़ डाले। उन्होंने इन मठों और विहारों में रहने वाले बौद्ध भिक्षुओं का भी वध कर दिया। इस प्रकार धीरे-धीरे भारत में बौद्ध धर्म पूरी तरह लुप्त हो गया।

जैन धर्म के जमे रहने के कारण-

  • भारत में जैन धर्म को उतना राजाश्रय नहीं मिला था जितना कि बौद्ध धर्म को। इसलिए राजाश्रय समाप्त होने पर भी इस धर्म को अधिक क्षति न पहुंची।
  • जैन धर्म का प्रसार मुख्यत: व्यवहार और वाणिज्य में लगे लोगों में हुआ था। इन लोगों पर बदलती हुई परिस्थितियों का अधिक प्रभाव नहीं पड़ा। इसलिए भारत में जैन धर्म आज भी किसी न किसी रूप में अपना अस्तित्व बनाये हुए है।

प्रश्न 6. बौद्ध धर्म का भारतीय समाज और संस्कृति पर क्या प्रभाव पड़ा ?
अथवा
भारतीय समाज के निम्नलिखित पक्षों पर बौद्ध धर्म के प्रभाव की व्याख्या कीजिए :
(क) सामाजिक जीवन तथा धार्मिक जीवन
(ख) राजनीतिक जीवन तथा कला एवं साहित्य।
उत्तर-प्रत्येक धार्मिक आन्दोलन का समाज पर गहरा प्रभाव पड़ता है। बौद्ध धर्म ने भी पूर्ण रूप से भारतीय जीवन को प्रभावित किया। हमारे सामाजिक जीवन, कलाओं, साहित्य तथा अन्य क्षेत्रों में क्रान्तिकारी परिवर्तन हुए जिनका वर्णन इस प्रकार है

सामाजिक जीवन पर प्रभाव-

  • बौद्ध धर्म में अहिंसा के सिद्धान्त पर बड़ा बल दिया गया था। इस सिद्धान्त के कारण लोगों ने मांस खाना छोड़ दिया और वे शाकाहारी बन गए।
  • बौद्ध धर्म के कारण समाज में जाति-प्रथा की कठोरता कम हो गई। सभी जातियों के लोग अब मिल-जुल कर रहने लगे।
  • महात्मा बुद्ध ने लोगों में ऐसे सिद्धान्तों का प्रचार किया था जिससे कि लोगों का चरित्र ऊंचा हो सके। इन नियमों का पालन करके लोग सदाचारी बन गए।
  • बौद्ध धर्म के कारण समाज-सेवा की भावना को बड़ा बल मिला।
  • इस धर्म के कारण देश में तर्क की प्रधानता बढ़ी और अन्धविश्वास कम हो गए। परिणामस्वरूप भारतीय समाज एक आदर्श समाज बन गया।
  • बौद्ध धर्म के कारण भारत में भीख मांगने की कुप्रथा आरम्भ हो गई। बौद्ध भिक्षुओं को लोग दिल खोलकर भिक्षा देते थे, परन्तु धीरे-धीरे कुछ कामचोर लोगों ने भीख मांगना अपना व्यवसाय बना लिया।

धार्मिक जीवन पर प्रभाव-

  • बौद्ध धर्म की लोकप्रियता को देखकर हिन्दू धर्म के शुभचिन्तकों ने भी अपने धर्म को फिर से सरल बनाने का प्रयास किया। फलस्वरूप हिन्दू धर्म में अनेक आवश्यक सुधार किए गए।
  • इस धर्म के कारण देश में मूर्ति-पूजा आरम्भ हुई। महात्मा बुद्ध की अनेक मूर्तियां बनाई गईं। उनकी देखा-देखी हिन्दुओं ने भी अपने देवी-देवाताओं की मूर्तियां बनाकर उनकी पूजा करनी आरम्भ कर दी।
  • बौद्ध धर्म के परिणामस्वरूप भारत में मन्दिरों की स्थापना हुई।
  • बौद्ध धर्म की लोकप्रियता को देखते हुए धर्म में प्रचारकों का महत्त्व बढ़ गया।

राजनीतिक जीवन पर प्रभाव-

  • बौद्ध धर्म लगभग सारे भारत में लोकप्रिय हुआ। एक ही धर्म के अनुयायी होने के कारण भारतीयों में मेल-जोल बढ़ा। परिणामस्वरूप देश में राजनीतिक एकता को बल मिला।
  • बौद्ध धर्म ने लोगों को मानव-प्रेम का सन्देश दिया। जिन राजाओं ने भी इसे अपनाया, उन्होंने मानव-कल्याण के लिए अनेक कार्य किए। अशोक, कनिष्क तथा हर्ष इस बात का बहुत बड़ा प्रमाण हैं।
  • बौद्ध धर्म के कारण भारत में सैनिक दुर्बलता आ गई। उदाहरण के लिए अहिंसा के सिद्धान्त को अपनाकर अशोक ने युद्ध करने बन्द कर दिए। परिणाम यह हुआ कि भारतीय सैनिक दुर्बल और विलासी बन गए।

कला एवं साहित्य पर प्रभाव-

  • बौद्ध धर्म के कारण देश में अनेक स्तूप, मठ तथा विहार बने। ये सभी भवन-निर्माण कला की दृष्टि से बड़ा महत्त्व रखते
  • बौद्ध धर्म के कारण भारत में मूर्ति-कला में विशेष निखार आया। अनेक नई कला शैलियों का भी जन्म हुआ। गान्धार कला-शैली में महात्मा बुद्ध की अनेक सुन्दर मूर्तियां बनाई गईं।
  • बौद्ध धर्म के कारण भारतीय साहित्य का काफ़ी विकास हुआ। महात्मा बुद्ध के अनुयायियों ने बुद्ध के जीवन और उनकी शिक्षाओं से सम्बन्धित अनेक ग्रन्थ लिखे।

संक्षेप में, इतना कहना ही काफ़ी है कि बौद्ध धर्म ने भारतीय जीवन के हर पहलू पर गहरा प्रभाव डाला। भारत पर इसके प्रभावों का वर्णन करते हुए श्री ई० वी० हैवेल ने ठीक ही कहा है, “बौद्ध धर्म ने भारत को एक राष्ट्र बनाने में उसी प्रकार सहायता की जिस प्रकार ईसाई धर्म ने ऐंग्लो-सैक्सन काल में इंग्लैण्ड में की थी।”

प्रश्न 7. बौद्ध धर्म तथा जैन धर्म की तुलना कीजिए।
अथवा
(क) जैन धर्म तथा बौद्ध धर्म में क्या समानताएं थीं ?
(ख) जैन धर्म तथा बौद्ध धर्म के बीच असमानताओं का वर्णन कीजिए।
उत्तर-जैन धर्म तथा बौद्ध धर्म छठी शताब्दी ईसा पूर्व की देन है। दोनों धर्मों का जन्म समान परिस्थितियों में हुआ। इसलिए दोनों में कुछ समानताएं होना स्वाभाविक है। समानताओं के साथ-साथ इनमें कुछ असमानताएं भी पाई जाती हैं। आओ, इन दोनों धर्मों की तुलनात्मक समीक्षा करें।

(क) समानताएं-

  • दोनों धर्मों के संस्थापक क्षत्रिय राजकुमार थे। इन दोनों ने ही घोर तपस्या के पश्चात् सच्चा ज्ञान प्राप्त किया।
  • दोनों धर्मों का जन्म हिन्दू धर्म की प्रतिक्रिया के रूप में हुआ।
  • दोनों धर्मों के सिद्धान्त आरम्भ में बड़े सरल थे। अहिंसा तथा मोक्ष दोनों धर्मों के मूल सिद्धान्त हैं।
  • दोनों धर्म कर्म सिद्धान्त को स्वीकार करते हैं। इनके अनुसार प्रत्येक व्यक्ति को अपने कर्मों का फल अगले जन्म में मिलता है।
  • दोनों धर्मों ने ही जाति प्रथा का घोर विरोध किया।
  • दोनों धर्मों ने ही ब्राह्मणों के प्रभुत्व को स्वीकार नहीं किया।
  • दोनों धर्मों ने ही यज्ञों तथा पशु-बलि का विरोध किया।
  • दोनों धर्मों ने सदाचार और पवित्रता का सन्देश दिया।

(ख) असमानताएं-

  • दोनों धर्मों में अहिंसा को अपनाने का मार्ग भिन्न है। बौद्ध धर्म के अनुसार किसी भी प्राणी को मन, वचन तथा कर्म में कष्ट नहीं देना चाहिए। यही अंहिसा है। इसके विपरीत जैन धर्म वाले प्रत्येक वस्तु में आत्मा मानते हैं। उनके अनुसार किसी जीव या निर्जीव को कष्ट पहुंचाना अहिंसा के सिद्धान्त के विरुद्ध है।
  • दोनों धर्म मोक्ष-प्राप्ति को जीवन का लक्ष्य मानते हैं, परन्तु दोनों धर्मों के मोक्ष प्राप्ति के साधन भिन्न-भिन्न हैं।
    बौद्ध धर्म में मोक्ष-प्राप्ति के लिए “अष्ट-मार्ग” बताया गया है, जबकि जैन धर्म के अनुयायी ‘त्रिरत्न’ का पालन करके मोक्ष प्राप्त करने में विश्वास रखते हैं।
  • दोनों धर्मों ने ही धर्म प्रचार संघ स्थापित किए, परन्तु बौद्ध संघ के भिक्षु जहां स्थान-स्थान पर घूम कर अपने धर्म का प्रचार करते थे, वहां जैन संघ के संन्यासी घोर तपस्या में लीन रहते थे।
  • जैन धर्म की दिगम्बर शाखा के अनुयायी बिल्कुल नंगे रहते हैं, परन्तु बौद्ध धर्म की किसी शाखा में यह बात नहीं पाई जाती।
  • दोनों धर्मों के पूजनीय व्यक्ति भिन्न हैं। जैन धर्म वाले तीर्थंकरों की पूजा करते हैं, जबकि बौद्ध धर्म वाले बौधिसत्वों की पूजा करते हैं।
  • दोनों धर्मों के धार्मिक ग्रन्थ अलग-अलग हैं। बौद्ध धर्म के प्रसिद्ध ग्रन्थ ‘जातक’ और ‘त्रिपिटक’ हैं। दूसरी ओर जैन धर्म के प्रमुख ग्रन्थ “अंग” और “उपांग” हैं।
  • बौद्ध धर्म विदेशों में भी खूब लोकप्रिय हुआ। इसके विपरीत जैन धर्म केवल भारत तक ही सीमित रहा।
  • बौद्ध धर्म का आज भारत में पूरी तरह पतन हो चुका है। इसके विपरीत जैन धर्म के आज भी भारत में अनेक अनुयायी मिलते हैं।