Class 11 Geography Solutions Chapter 4 प्रमुख भू-आकार

प्रमुख भू-आकार Textbook Questions and Answers

1. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर एक-दो शब्दों में दें:

प्रश्न (क) भारत में अंदरूनी (आंतरिक) पर्वतों का सबसे बड़ा उदाहरण कौन-सा है ?
उत्तर-हिमालय पर्वत।

प्रश्न (ख) पूर्व कैंबरीअन काल कितने वर्ष पुराने समय को माना जाता है ?
उत्तर-4.6 बिलियन (अरब) वर्ष।

प्रश्न (ग) महाद्वीपों के खिसकने से पहले के सुपर महाद्वीप का नाम क्या था ?
उत्तर-पैंजीआ।

प्रश्न (घ) पृथ्वी की ऊपरी प्लेट के दो भाग कौन-कौन से होते हैं ?
उत्तर-क्रस्ट और मैंटल।

प्रश्न (ङ) एशिया का दिल’ किस प्रकार की भू-आकृति को कहते हैं ?
उत्तर-पठार।

प्रश्न (च) गुंबद पठार का विश्व प्रसिद्ध उदाहरण कौन-सा है ?
उत्तर-ओज़ारक पठार।

प्रश्न (छ) अफ्रीका की कौन-सी नदी ‘बाड़ के मैदान’ बनाती है ?
उत्तर-नील नदी।

प्रश्न (ज) ऑस्ट्रेलिया में नदियों के मैदानों को क्या नाम दिया जाता है ?
उत्तर-मरे-डार्लिंग मैदान।

प्रश्न (झ) परेरी, पंपाज़ और कैंटरबरी क्या हैं ?
उत्तर-घास के मैदान।

प्रश्न (ब) पृथ्वी पर ऊँचाई कहाँ से नापी जाती है ?
उत्तर-समुद्र तल से।

2. प्रश्नों के उत्तर एक-दो वाक्यों में दें

प्रश्न (क) धरातलीय स्वरूपों को कौन-कौन से भागों में बाँटा जा सकता है ?
उत्तर-

  1. पहली श्रेणी के स्थल रूप
  2. दूसरी श्रेणी के स्थल रूप
  3. तीसरी श्रेणी के स्थल रूप।

प्रश्न (ख) आकार के आधार पर पर्वतों को वर्गीकृत करें।
उत्तर-

  1. बलदार पर्वत
  2. ब्लॉक पर्वत
  3. गुंबददार पर्वत
  4. संग्रह पर्वत।

प्रश्न (ग) बलदार या वलन पर्वत की परिभाषा दें।
उत्तर-पर्वत भू-पटल की परतों में बल पड़ने के कारण इन्हें बलदार पर्वत कहा जाता है। तलछट में मोड़ पड़ने के कारण ऊँचे उठे भाग को Anticline और नीचे धंसे भाग को Syncline कहा जाता है।

प्रश्न (घ) अलफ्रेड वैगनर ने कब और कौन-सी पुस्तक में महाद्वीपीय विस्थापन सिद्धान्त पेश किया था ?
उत्तर-अल्फ्रेड वैगनर ने 1915 में अपनी पुस्तक ओरिज़न ऑफ कौन्टीनैंट एंड ओशंस (Origin of Continents and Oceans) में महाद्वीपीय विस्थापन का सिद्धान्त पेश किया था।

प्रश्न (ङ) लुरेशिया में कौन-सा क्षेत्र सम्मिलित था ?
उत्तर-उत्तरी अमेरिका, ग्रीनलैंड, यूरोप, रूस और चीन लुरेशिया में शामिल थे। इसे अंगारा लैंड भी कहा जाता है।

प्रश्न (च) सीमावर्तीय पठार कौन-से होते हैं ?
उत्तर-पुरानी पर्वत श्रेणियों के साथ लगते पठारों को सीमावर्तीय पठार कहते हैं। ये पर्वतों के दामन में स्थित होते हैं।

प्रश्न (छ) मैदान निर्माण के लिए जानी जाती रूस व चीन की नदियाँ कौन-सी हैं ?
उत्तर-रूस में उब, येनसी, लीना और बोलगा नदियाँ और चीन में ह्वांग-हो, यांग-सी-कियांग नदियाँ मैदानों का निर्माण करती हैं।

3. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर 60 से 80 शब्दों में दें

प्रश्न (क) ब्लॉक पर्वतों की परिभाषा दें।
उत्तर-तनाव के कारण धरातल पर दरारें पड़ जाती हैं। कुछ भाग नीचे की ओर धंस जाते हैं और कुछ भाग बीच में ही खड़े रह जाते हैं। इन ऊँचे भागों को ब्लॉक पर्वत कहा जाता है। ये पर्वत खड़ी ढलान वाले होते हैं और ऊपरी तल समतल होता है, जैसे जर्मनी में हारझुट पर्वत, भारत में विंध्याचल पर्वत।

प्रश्न (ख) आप अगर कृषि, सिंचाई तथा यातायात की सुविधाओं वाले क्षेत्रों में रह रहे हों, तो भौगोलिक पक्ष से ये कौन-से क्षेत्र होंगे ? विश्व-भर के ऐसे क्षेत्रों के नाम लिखें।
उत्तर-मैदानों में कृषि की सुविधाएँ होती हैं। यहाँ नदियाँ और नहरें जल सिंचाई प्रदान करती हैं। यहाँ परिवहन के आसान साधन होते हैं। यहाँ सड़कों और रेलों के निर्माण की सुविधा होती है। ये सब क्षेत्र मैदान होते हैं। जैसे-अमेरिका में परेरी, यूरोप में स्टैपे, ऑस्ट्रेलिया में मरे-डार्लिंग, दक्षिण अमेरिका में पंपास, भारत में गंगा-ब्रह्मपुत्र, चीन में ह्वांग-हो और यांग-सी-कियांग।

प्रश्न (ग) भौगोलिक पक्ष से खनिज पदार्थों की बहुतायत कौन-से धरातलीय क्षेत्रों में होती है ? विश्वभर से उदाहरण देकर स्पष्ट करें।
उत्तर-विश्व में बहुत-से खनिज पठारों से मिलते हैं। पठार आग्नेय चट्टानों से बनते हैं। इनमें बहुमूल्य खनिज मिलते हैं। पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया में सोना, अफ्रीका के पठार में हीरा, सोना और तांबा, ब्राजील के पठार में लोहा और मैंगनीज़, दक्षिणी भारत में सोना, अभ्रक, मैंगनीज़ और छोटा नागपुर के पठार में लोहा, तांबा, अभ्रक और मैंगनीज़ के भंडार हैं।

प्रश्न (घ) प्लेट टैक्टौनिक का सिद्धान्त विस्तार से समझाएँ।
उत्तर-स्थलमंडल भू-प्लेटों में बंटा हुआ है। इसमें 6 मुख्य प्लेटें और 14 छोटे आकार की प्लेटें हैं। ये भू-प्लेटें खिसकती रहती हैं। परिणामस्वरूप महाद्वीप भी खिसकते रहते हैं। संपीड़न क्रिया प्लेटों की गति के कारण होती है। इससे महाद्वीप खिसकते हैं और पर्वत-निर्माण क्रिया होती है।

प्रश्न (ङ) ताज़ा झरने, कीमती लकड़ी और घने जंगल पृथ्वी के कौन-से धरातलीय भाग में मिलते हैं ? विश्व-भर से उदाहरण देते हुए संक्षेप में चर्चा करें।
उत्तर-

  1. पर्वत धरती पर नदियों और झरनों के स्रोत हैं। ये पूरा वर्ष जल-सिंचाई प्रदान करते हैं। गंगा का मैदान हिमालय पर्वत का वरदान है।
  2. पर्वत घने जंगलों से ढके रहते हैं। यहाँ स्वास्थ्यवर्धक स्थान भी पाए जाते हैं।
  3. पर्वत बहुमूल्य लकड़ी के भंडार हैं। इन पर कई उद्योग निर्भर करते हैं। कनाडा, स्वीडन, नॉर्वे, फिनलैंड आदि देशों का आर्थिक विकास जंगलों के कारण ही है। नॉर्वे, इटली, स्विट्ज़रलैंड में अनेकों जल-झरने मिलते हैं, जो पनबिजली पैदा करते हैं।

प्रश्न (च) पर्वत-निर्माण शक्तियाँ या ओरोजैनी से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-धरती पर भू-अभिनीतियों में करोड़ों वर्षों से तलछट जमा हो रहे हैं। इन्हें भू-अभिनीति कहते हैं। तलछट में मोड़ पड़ने पर बलदार पर्वतों का निर्माण हुआ। उदाहरण के लिए हिमालय का निर्माण टेथिस भू-अभिनीति के तलछट में बल पड़ने के कारण हुआ। भू-अभिनीतियों में संपीड़न शक्तियों के कारण बलदार पर्वत बने हैं। इसे ओरोजैनी क्रिया कहते हैं।

4. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर 150 से 250 शब्दों में दें-

प्रश्न (क) पर्वतों के वर्गीकरण के आधार क्या-क्या हो सकते हैं ? उत्पत्ति के आधार पर वर्गीकरण का वर्णन करें।
उत्तर-पर्वत (Mountains)-पर्वत प्रकृति की रहस्यमयी रचनाओं में से एक हैं। इन्होंने धरती का 12 प्रतिशत भाग घेरा हुआ है। _ ‘पर्वत ऐसे ऊँचे उठे हुए भू-खंड को कहते हैं, जो आस-पास के प्रदेश से कम-से-कम 900 मीटर अधिक ऊँचा हो। उसके तल का आधे से अधिक भाग तीखी ढलान वाला हो।’ __पर्वतों का आधार-क्षेत्र बड़ा होता है, पर ऊँचाई के साथ-साथ विस्तार कम होता जाता है, इसीलिए पर्वतों की चोटियों के क्षेत्र छोटे होते हैं। पर्वत और पहाड़ी में केवल ऊँचाई का अंतर होता है। पहाड़ी की ऊँचाई 900 मीटर से कम होती है।

पर्वत की प्रमुख विशेषताएँ (Main Features of Mountains)-

  1. आस-पास के क्षेत्रों से अधिक ऊँचाई (Highland Area)
  2. शिखर पर कम विस्तार (Small Summit)
  3. तीखी ढलान (Steep Slope)
  4. ऊँची-नीची भूमि (Rugged Land)
  5. आधार-क्षेत्र का बड़ा होना (Large Base)

पर्वतों के प्रकार (Types of Mountains)-धरातल पर पाए जाने वाले पर्वतों में बहुत भिन्नताएँ हैं। “किन्हीं भी दो पर्वतों में पूर्ण समानता नहीं होती है।” (“No two mountains are exactly alike)” ऊँचाई की दृष्टि से पर्वतों में बहुत अंतर होता है। ऊँचाई के अनुसार पर्वतों को तीन भागों में बाँटा जा सकता है-

1. ऊँचाई के अनुसार (According to height)

  • छोटे पर्वत (Low Mountains)—जो पर्वत 3000 मीटर तक ऊँचे होते हैं।
  • कम ऊँचाई के पर्वत (Rugged Mountains)—जो पर्वत 3000 मीटर से 6000 मीटर तक ऊँचे होते हैं।
  • ऊँचे पर्वत (High Mountains)—जो पर्वत 6000 मीटर से अधिक ऊँचे होते हैं।

2. रचना के अनुसार (According to Formation)-

  • बलदार पर्वत (Folded Mountains)
  • ब्लॉक या अवरोधी पर्वत (Block Mountains)
  • अवशेषी पर्वत (Residual Mountains)
  • ज्वालामुखी पर्वत (Volcanic Mountains)
  • गुंबददार पर्वत (Dome Mountains)

(i) बलदार पर्वत (Folded Mountain)-बलदार पर्वतों का निर्माण भू-गर्भ के संपीड़न (Contraction) की दबाव (Compression) शक्तियों के कारण धरातल की परतों में बल पड़ने या मोड़ पड़ने के कारण होता है। पृथ्वी की अंदरूनी हलचल के कारण धरातल में मोड़ (Folds) पड़ जाते हैं। इस हलचल के कारण धरातल का एक भाग ऊपर उठ जाता है और दूसरा भाग नीचे धंस जाता है। ऊपर उठे हुए भाग को Anticline और नीचे धंसे हुए भाग को Syncline कहते हैं। बलदार पर्वत विश्व में सबसे नवीन, सबसे ऊँचे और अधिक विस्तार वाले हैं। सृजन और आयु के आधार पर ये पर्वत दो तरह के हैं-

Class 11 Geography Solutions Chapter 4 प्रमुख भू-आकार 1

(क) नवीन बलदार पर्वत (Young Fold Mountains)—जिस प्रकार भारत में हिमालय, यूरोप में अल्पस (Alps), उत्तरी अमेरिका में रॉकी (Rocky) और दक्षिणी अमेरिका में एंडीज़ (Andes) पर्वत हैं। .
(ख) प्राचीन बलदार पर्वत (Old Fold Mountains)-जिस प्रकार उत्तरी अमेरिका में अपैलशियन (Appalachian) पर्वत और नॉर्वे के पर्वत।

(ii) ब्लॉक पर्वत या अवरोधी या भू-खंडीय पर्वत (Block Mountains) ब्लॉक पर्वत आमतौर पर समानांतर दरारों के बीच स्थित होते हैं, जिनका आकार मेज़ के समान होता है। ये पर्वत तनाव की क्रिया (Expansion) से बनते हैं। तनाव के कारण धरातल पर दरारें (Faults) पड़ जाती हैं। दरारों के कारण धरातल का एक बड़ा भाग ब्लॉक (Block) के रूप में ऊपर या नीचे सरक जाता है। इस प्रकार ऊपर उठे हुए भाग को होरस्ट (Horst) कहते हैं और नीचे धंसे भाग को गरैबन्स (Grabens) कहते हैं। इस प्रकार धरती की लंबवर्ती हलचलों (Vertical Movements) के कारण ब्लॉक पर्वत बनते हैं। ब्लॉक पर्वतों का ऊपरी भाग पठार के समान साफ होता है, परंतु चित्र-ब्लॉक पर्वत इसके किनारे तीखी ढलान वाले होते हैं। दरारों के द्वारा निर्माण के कारण इन्हें Fault Mountains भी कहते हैं।

उदाहरण (Examples)-जर्मनी में वॉसजिज़ (Vosges) और ब्लैक फॉरेस्ट (Black Forest), पाकिस्तान में नमक के पहाड़ (Salt Range) और भारत में विंध्याचल पर्वत। रिफ्ट घाटी (Rift Valley)—इसी प्रकार जब दो समानांतर दरारों (Faults) के बीच का भाग नीचे की ओर सरक जाता है और आस-पास के हिस्से ऊँचे उठे हुए दिखाई देते हैं, तो नीचे को सरका हुआ भाग रिफ्ट घाटी कहलाता है। उदाहरण (Examples)-यूरोप में राइन घाटी (RhineValley) और अमेरिका (U.S.A.) में कैलीफोर्निया घाटी (California Valley), एशिया में मृत सागर (Dead Sea), भारत में नर्मदा घाटी।

Class 11 Geography Solutions Chapter 4 प्रमुख भू-आकार 2

(ii) अवशेषी पर्वत (Residual Mountains)-ये पर्वत बाहरी साधनों नदी, बर्फ, वायु आदि के खुरचने के कारण बनते हैं। बहुत समय तक लगातार अपरदन होने के कारण पर्वतों की ऊँचाई बहुत कम हो जाती है। ये पर्वत घिस-घिसकर नीची पहाड़ियों के रूप में बदल जाते हैं। इस प्रकार के पर्वत पुराने पर्वतों के बचेखुचे भाग होते हैं। इसलिए इन्हें Relict Mountains भी कहते हैं। कहीं-कहीं कठोर चट्टानों से बने भू-भाग ऊँचे क्षेत्रों के रूप में खड़े रहते हैं। ऐसे ऊँचे क्षेत्रों को अवशेषी पर्वत कहते हैं। अपरदन के साधनों से बने होने के कारण इन्हें अपरदित पर्वत (Mountains of Denudation) भी कहते हैं।

Class 11 Geography Solutions Chapter 4 प्रमुख भू-आकार 3

उदाहरण (Examples) भारत में अरावली पर्वत (Aravali Mountains) और पूर्वी घाट, अमेरिका (U.S.A.) में ओज़ार्क (Ozark) पर्वत।

(iv) ज्वालामुखी पर्वत (Valcanic Moun tains) ज्वालामुखी पर्वत धरती के नीचे से निकलने वाला लावा (Lava) राख (Ash) आदि ठोस पदार्थों के जमाव के कारण बनते हैं। ज्वालामुखी के मुँह से निकला हुआ यह पदार्थ उसके मुख या गर्त के चारों तरफ एक परत के ऊपर दूसरी परत के रूप में लगातार जमता जाता है। इस प्रकार एक शंकु (Cone) का निर्माण हो जाता है। गाढ़े लावे के ऊँचे पर्वत बनते हैं। ऐसे पर्वतों को ज्वालामुखी पर्वत कहते हैं।

उदाहरण (Examples)-जापान में फ्यूज़ीयामा (Fujiyama) पर्वत, चिली में ऐकनकेगुआ (Aconcagua),
इटली में वेसुवियस (Vesuvious) पर्वत और अफ्रीका में किलीमंजारो (Kilimanjaro) पर्वत।

(v) गुंबददार पर्वत (Dome Mountains)-भीतरी हलचल के कारण गर्म लावा बाहर आने का यत्न करता है।
नीचे की ओर दबाव के कारण धरातल पर एक उभार पैदा हो जाता है। जब धरातल एक चाप (Arch) के आकार में ऊपर उठ जाता है, तो गुंबद के आकार के पर्वत बनते हैं। गुंबद का ऊपरी भाग गोलाकार होता है। लावा के इस उभार से लोकोलिथ (Loccolith) और बैथोलिथ (Batholith) नाम के पर्वत बनते हैं।

उदाहरण (Examples)-

  • हवाई द्वीप में मोना लोआ (Maunaloa)
  • संयुक्त राज्य अमेरिका में हैनरी पर्वत (Henry Mountains)

प्रश्न (ख) पठारों का वर्गीकरण करें और प्रत्येक किस्म की संक्षेप में व्याख्या करें।
उत्तर-पठार (Plateau)—पठार एक महत्त्वपूर्ण प्राकृतिक इकाई है। धरती का एक बड़ा भाग (33%) पठारों से घिरा हुआ है। “पठार वह प्रदेश होता है, जो आमतौर पर समुद्र तल से एक समान ऊँचाई वाला हो, इर्द-गिर्द के धरातल से एकदम ऊँचा और तीखी ढलान वाला हो।” (A Plateau is a highland with broad, flat summits.”) पठार आमतौर से समुद्र तल से 300 से 1000 मीटर तक ऊँचे होते हैं, पर पठार की ऊँचाई कुछ भी हो सकती है; जैसे अमेरिका (U.S.A.) में पीडमांट पठार (Piedmont Plateau) केवल 600 मीटर ऊँचा है, पर पामीर का पठार कई ऊँचे पर्वतों से भी ऊँचा है और उसे ‘संसार की छत’ (Roof of the world) कहते हैं।

पठारों की प्रमुख विशेषताएँ (Main Features of Plateau)-

  1. सपाट और विशाल शिखर।
  2. किनारों से तीखी ढलान।
  3. मेज के समान चौकोर ऊपरी सतह।
  4. पास के क्षेत्रों से एकदम ऊँचा होना।
  5. मैदानों की तुलना में अधिक ऊँचाई।

Class 11 Geography Solutions Chapter 4 प्रमुख भू-आकार 4

पठार पठारों की किस्में (Types of Plateaus) –

1. अंतर-पर्वतीय पठार (Intermonteue Plateaus) 2. गिरीपद पठार (Piedmont Plateaus) 3. महाद्वीपीय पठार (Continental Plateaus) 4. ज्वालामुखी पठार (Volcanic Plateaus) 5. अपरदित पठार (Dissected Plateaus) 6. लोएस पठार (Loess Plateaus)

1. अंतर-पर्वतीय पठार (Intermonteue Plateaus) ये पठार चारों तरफ से ऊँचे पर्वतों से घिरे होते हैं।
(Such Plateaus have a mountain rim around them.”) ये पठार आस-पास के पर्वतों के निर्माण के साथ-साथ बनते रहते हैं, पर इन पठारों में मोड़ नहीं पड़ते और ये समतल रह जाते हैं। इन पठारों में नदियाँ किसी झील में गिरती हैं और अंतरवर्ती जल-प्रवाह (Inland Drainage) होता है। संसार के सबसे ऊँचे पठार इसी प्रकार के हैं।

उदाहरण (Examples) –

  • तिब्बत का पठार (Tibet Plateau) हिमाचल और कुनलुन (Kunlun) पर्वतों के बीच में स्थित है, जो कि 3600 मीटर ऊँचा है।
  • दक्षिणी अमेरिका में एंडीज़ (Andes) पर्वतों से घिरा हुआ है-बोलीविया (Bolivia) का पठार।

2. गिरीपद पठार (Piedmont Plateaus)—ये पठार पर्वतों के आधार पर बने होते हैं। इनके एक तरफ ऊँचे पर्वत और दूसरी तरफ मैदान या समुद्र होता है। मैदान की तरफ तीखी ढलान (Escarpment) होती है। इनका क्षेत्रफल बहुत नहीं होता।

उदाहरण (Examples)-

  • दक्षिण अमेरिका में एंडीज़ (Andes) पर्वत और अटलांटिक महासागर (Atlantic Ocean) के बीच स्थित पेटेगोनिया (Patagonia) का पठार।
  • अमेरिका (U.S.A.) में एपलेशीयन (Appalachian) पर्वत के निकट पीडमांट पठार।

Class 11 Geography Solutions Chapter 4 प्रमुख भू-आकार 5

3. महाद्वीपीय पठार (Continental Plateaus)—ये पठार ऐसे विशाल पठार हैं, जो किसी महाद्वीप या देश के काफ़ी बड़े क्षेत्र में फैले होते हैं। ये पठार मैदान या समुद्र के निकट एकदम ऊपर उठ जाते हैं। धरातल के सपाट क्षेत्रों में उभार (Uplift) के कारण ये पठार बनते हैं।

उदाहरण (Examples)-

  • सारा अफ्रीका महाद्वीप एक विशाल महाद्वीपीय पठार है।
  • स्पेन, अरब और ग्रीनलैंड के पठार।

4. ज्वालामुखी पठार (Volcanic Plateaus)—ये पठार धरातल पर लावा (Lava) के प्रवाह से बनते हैं। ज्वालामुखी विस्फोट के समय लावा चारों तरफ दूर-दूर तक फैल जाता है। इस प्रकार ये प्रदेश आस-पास के क्षेत्रों से दिखाई देते हैं। इन्हें ज्वालामुखी पठार कहते हैं। उदाहरण (Examples)-भारत का दक्षिणी पठार लगभग 7 लाख वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है। अमेरिका (U.S.A.) में कोलंबिया पठार।

5. अपरदित पठार (Dissected Plateaus)—ये पठार नदियों के द्वारा अपरदित होते हैं। नदियाँ पठारों को काटकर कई इकाइयों (Platforms) में बाँट देती हैं। नमी वाले प्रदेशों में ढलान वाली ज़मीन पर अधिक कटाव होता है और कई तंग घाटियाँ (Ravines) बन जाती हैं। ऐसे ऊँचे-नीचे धरातल वाले पठार को अपरदित (Dissected) पठार कहते हैं।

उदाहरण (Examples)-

  • भारत में छोटा नागपुर का पठार।
  • स्कॉटलैंड (Scotland) का पठार।

6. लोएस पठार (Loess Plateaus)—वायु द्वारा बने पठार को लोएस पठार (Loess Plateau) कहते हैं। हवा अपने साथ मरुस्थलों से काफी मात्रा में बारीक मिट्टी उड़ाकर लाती है। यह मिट्टी एक परत पर दूसरी परत के रूप में जमा होती रहती है और पठार का रूप धारण कर लेती है।

उदाहरण (Examples)-(i) एशिया (Asia) के गोबी (Gobi) मरुस्थल से आने वाली हवाओं के कारण उत्तर-पश्चिमी चीन में लोएस (Loess) का पठार बन गया है। ये पठार पीली मिट्टी के जमाव के कारण बना है।

प्रश्न (ग) मैदानी क्षेत्र में रहने वाले व्यक्तियों को पहाड़ों में रहने वाले लोगों के मुकाबले क्या आसानी होती है और क्या परेशानी होती है ? चर्चा करें।
उत्तर-मैदानों का महत्त्व (Importance of Plains)—मैदानों में कृषि, उद्योग, व्यापार और मानवीय विकास की सभी सुविधाएँ होती हैं।

1. निवास की सुविधाएँ (Settlement of Population)—मैदानों में सपाट ज़मीन पर बस्तियों का विकास – संभव है। मैदानों में संसार की 75% आबादी निवास करती है।

Class 11 Geography Solutions Chapter 4 प्रमुख भू-आकार 6

2. कृषि की सुविधाएँ (Agriculture Facilities)—समतल भूमि और उपजाऊ मिट्टी के कारण, मैदान कृषि योग्य उत्तम क्षेत्र होते हैं।
3. अन्न के भंडार (Storehouse of Grains)-मैदानों में सिंचाई की सुविधाएँ, उपजाऊ मिट्टी और मशीनों के प्रयोग के कारण अन्न का उत्पादन अधिक होता है। संसार की सभी व्यापारिक फसलें गेहूँ, गन्ना, कपास और पटसन आदि मुख्य तौर पर मैदानों में ही होती हैं।
4. सभ्यता (Civilization) संसार की सभी प्राचीन सभ्यताओं का विकास मैदानों में ही हुआ है। चीन और मिस्र की सभ्यता ने नदी घाटियों में ही जन्म लिया।
5. आसान परिवहन (Easy Transport)—मैदानों में सपाट भूमि के कारण चौड़ी और लंबी सड़कों (Highways), रेलमार्गों (Railways), जलमार्गों (Waterways) और हवाई अड्डों (Aerodromes) को बनाना आसान होता है। नदियों के द्वारा भी आवाजाही आसान होती है। नदियों की धीमी चाल के कारण इनमें नाव और जहाज़ चलाए जा सकते हैं।
6. उद्योग (Industries)—मैदान आर्थिक जीवन की धुरी होते हैं। सभी सुविधाएँ उपलब्ध होने के कारण, संसार के सभी बड़े उद्योग मैदानों में स्थित होते हैं। इसका कारण यह है कि सबसे पहले, मैदानों में कच्चा माल (Raw Material) आसानी से मिल जाता है। दूसरे, परिवहन और संचार के साधन प्राप्त होने के कारण माल एक स्थान से दूसरे स्थान तक आसानी से लाया व ले जाया जा सकता है। तीसरे, जनसंख्या अधिक होने के कारण मज़दूरी सस्ती होती है। व्यापार का विकास होता है।
7. नगर (Towns)-आर्थिक और सामाजिक सुविधाएँ उपलब्ध होने के कारण संसार के प्रमुख नगर मैदानों में ही स्थित हैं।

प्रश्न (घ) उत्पत्ति के आधार पर मैदानों की भिन्न-भिन्न किस्मों का वर्णन करें।
उत्तर-मैदान (Plains)-प्रमुख भू-आकारों (Major Landforms) में मैदान सबसे अधिक स्पष्ट और सरल हैं। स्थल के बहुत बड़े भाग (41%) पर इनका विस्तार है। मैदान धरती के निचले और समतल (सपाट) क्षेत्र होते हैं। “मैदान स्थल के वे सपाट भाग हैं, जो समुद्र तल से 150 मीटर से कम ऊँचाई पर हों और उनकी ढलान सपाट, मध्यम और साधारण हो।” (Plains are low lands of low relief and horizontal structure.”) मैदान सागर तल से ऊँचे या नीचे हो सकते हैं, परंतु अपने आस-पास के पठार या पर्वत से कभी भी ऊँचे नहीं हो सकते।

मैदानों के लक्षण (Features of Plains)-

  1. एक तरह की चट्टानें
  2. कम ढलान
  3. नीचा धरातल
  4. सपाट और एक समान सतह।

सभी मैदान समुद्र तल से एक समान ऊँचाई के नहीं होते। कई मैदान समुद्र तल से बहुत ऊँचे होते हैं, जैसे अमेरिका के महान मैदान (Great Plains of U.S.A.) 6000 फुट ऊँचे हैं, पर हॉलैंड (Holland) का तट समुद्र तल से भी नीचा है। धरातल के अनुसार मैदान चार तरह के हैं-

  1. सपाट मैदान (Flat Plains)
  2. ऊँचे-नीचे मैदान (Undulating Plains)
  3. लहरदार मैदान (Rolling Plains)
  4. अपरदित मैदान (Dissected Plains)

मैदान की रचना (Formation of Plains)-
मैदान तीन तरह से बनते हैं-

  1. अपरदन (Erosion) से।
  2. निक्षेप (Deposition) से।
  3. धरती की हलचल (Earth Movements) से।

मैदानों की किस्में (Types of Plains)-
रचना के अनुसार मैदानों की निम्नलिखित किस्में हैं-

  1. जलोढ़ मैदान (Alluvial Plains)
  2. अपरदन के मैदान (Pene Plains)
  3. हिमानी मैदान (Glaciated Plains)
  4. सरोवर से निर्मित मैदान (Lacustrine Plains)
  5. ज्वालामुखी मैदान (Volcanic Plains)
  6. तट के मैदान (Coastal Plains)
  7. चूनेदार मैदान (Karst Plains)
  8. लोएस मैदान (Loess Plains)

1. जलोढ़ मैदान (Alluvial Plains)-नदियों के द्वारा बहाकर लाई गई मिट्टी के जमाव से विशाल जलोढ़ मैदान बनते हैं। नदियों का उद्देश्य थल भाग को काटकर समुद्र तक ले जाना होता है। (Rivers Carry land to sea.) केवल उत्तरी अमेरिका की नदियाँ ही 80 करोड़ टन मिट्टी हर वर्ष समुद्र में जमा करती हैं। पर्वतों से निकलकर नदियाँ भाबर के मैदान (Bhabar Plains) बनाती हैं। निचली घाटी में बाढ़ के समय बारीक मिट्टी के जमाव के कारण बाढ़ के मैदान (Flood Plains) बनते हैं। सागर में गिरने से पहले एक समतल तिकोने आकार का एक मैदान बनता है, जिसे डेल्टा (Delta) कहते हैं। नदियों द्वारा बने मैदान बहुत उपजाऊ होते हैं।

उदाहरण (Examples)-

  • भारत में गंगा-सतलुज का विशाल मैदान।
  • चीन में ह्वांग-हो (Hwang Ho) नदी का मैदान।
  • अमेरिका (U.S.A.) में मिसीसीपी (Missisipi) का मैदान।

2. अपरदन के मैदान (Pene Plains)-‘Pene Plains’ शब्द दो शब्दों ‘Pene’ और ‘Plain’ के जोड़ से बना है। ‘Pene’ शब्द का अर्थ है-‘लगभग’ या आम तौर पर (Almost) और ‘Plain’ का अर्थ है-मैदान। इस प्रकार ‘Pene Plains’ का अर्थ है-लगभग मैदान या आम तौर पर समभूमि। एक लंबे समय तक बाहरी साधन बर्फ, जल, हवा आदि के लगातार कटाव के कारण, पर्वत या पठार घिसकर नीचे हो जाते हैं और मैदान का रूप धारण कर लेते हैं। ये मैदान पूरी तरह से सपाट नहीं होते। इन मैदानों की ढलान अत्यंत हल्की होती है। इनमें कठोर चट्टानों के रूप में ऊँचे टीले मिलते हैं। ऐसे मैदानों में कठोर चट्टानों के टीले नष्ट नहीं होते
और बचे रहते हैं। इन्हें मोनैडनॉक (Monadnocks) कहते हैं। संसार में इस तरह के पूर्व सम-मैदान (Perfect Plains) बहुत कम मिलते हैं।

उदाहरण (Examples)-

  • फिनलैंड और साइबेरिया का मैदान।
  • भारत में अरावली प्रदेश।

3. हिमानी मैदान (Glaciated Plains)—ये मैदान हिम नदी या ग्लेशियर के कारण बनते हैं। ग्लेशियर कटाव द्वारा ऊँचे भागों को काट-छाँट कर सपाट मैदान बनाते हैं। इनमें झीलें, झरने, ऊँचे-नीचे और दलदली क्षेत्र मिलते हैं। जब बर्फ पिघलती है, तो अपने साथ बहाकर लाई हुई मिट्टी, बजरी, कंकर आदि निचले स्थानों और खड्डों में भर देती है। इससे सपाट मैदान बन जाता है। इन मैदानों में हिमोढ़ (Moraines) के जमाव से बने मैदान को ड्रिफ्ट मैदान (Drift Plains) भी कहते हैं। हिम नदी के अपरदन से भी मैदान बनते हैं, जिसमें छोटेछोटे टीले इधर-उधर बिखरे होते हैं।

उदाहरण (Examples)-हिम युग (Great Ice age) में उत्तरी अमेरिका और यूरोप बर्फ से ढके हुए थे। बर्फ के पिघलने से वहाँ हिमानी मैदान बन गए।

4. सरोवरी मैदान (Lacustrine Plains)-झीलों के भर जाने या सूख जाने से उन स्थानों पर सरोवरी मैदान बन जाते हैं। झीलों में गिरने वाली नदियाँ अपने साथ लाई हुई मिट्टी आदि झील में जमा करती रहती हैं, जिससे झील का तल (Bed) ऊँचा हो जाता है, गहराई कम हो जाती है और धीरे-धीरे झील पूरी तरह भरकर एक सपाट मैदान बन जाती है। धरती की अंदरूनी हलचल के कारण झील का तल ऊपर उठ जाने से भी ऐसे मैदान बनते हैं।

उदाहरण (Examples)-

  • उत्तरी अमेरिका की परेरीज़ (Prairies) का हरा मैदान प्राचीन काल की अगासीज़ (Agassiz) झील के भर जाने के कारण बना है।
  • कैस्पीयन सागर (Caspian Sea) का उत्तरी भाग सूख जाने के कारण मैदान बन गया है।

5. ज्वालामुखी मैदान (Volcanic Plains)-ज्वालामुखी के मुख से निकला पिघला लावा (Basic Lava) कई
किलोमीटर दूर तक फैल कर जम जाता है। लावा एक पतली चादर के रूप में, परतों में निचले क्षेत्र में जमा हो जाता है। इस प्रकार एक सपाट मैदान बनता है।

उदाहरण (Examples)-

  • इटली में नेपल्स (Naples) नगर के निकट वैसुवियस (Vesuvious) का मैदान।
  • अमेरिका (U.S.A.) के स्नेक (Snake) नदी का क्षेत्र।

6. तट के मैदान (Coastal Plains)-तट के मैदान आम तौर पर समुद्र के किनारे पर स्थित होते हैं। तट के जो भाग, पानी में डूब जाते हैं। वे भाग रेत और मिट्टी बिछ जाने के कारण तट के मैदान बनते हैं। समुद्र के पीछे हटने से भी थल भाग सूखकर मैदान बन जाते हैं। धरती की हलचल के कारण, तट के निकट कम गहरा समुद्र ऊँचा उठ जाता है, जिससे तट के मैदान बनते हैं। आम तौर पर तट के मैदानों की ढलान समुद्र की ओर कम होती है। इनका महत्त्व बंदरगाहों और समुद्री व्यापार के कारण होता है।

उदाहरण (Examples)-

  • अमेरिका (U.S.A.) में खाड़ी के तट का मैदान (Gulf Coast Plain)।
  • भारत के पूर्वी तट का मैदान।।

7. चूनेदार मैदान (Karst Plains)-चूने के क्षेत्रों में भूमिगत पानी के एक विशेष प्रकार के धरातल पर जल प्रवाह नहीं होता। चूने का पत्थर जल में घुल जाता है। सारे प्रदेश में चूने के ढेर और टीले दिखाई देते हैं।

उदाहरण (Examples)-

  • यूगोस्लाविया में कार्ट प्रदेश
  • भारत में जबलपुर क्षेत्र।

8. लोएस का मैदान (Loess Plains)—हवा द्वारा बने मैदानों को रेगिस्तानी या लोएस का मैदान कहते हैं। हवा रेत को उड़ाकर दूर-दूर के स्थानों पर जमा करती है। ऐसे मैदानों में रेत के टीले (Sand Dunes) अधिक होते हैं।

उदाहरण (Examples)-

  • उत्तर-पश्चिमी चीन में शैंसी और शांसी प्रदेशों में लोएस के मैदान मिलते हैं।
  • पंजाब और हरियाणा की सीमा पर लोएस के मैदान मिलते हैं।

प्रश्न (ङ) भारत के छोटे नागपुर क्षेत्र के लोग, केरल व हिमाचल प्रदेश के लोगों से किन मुद्दों पर भिन्न हो सकते हैं ? चर्चा करें।
उत्तर-छोटा नागपुर का पठार एक अपरदित पठार है। बहता हुआ जल ऊँचे पर्वत को क्षीण कर पठार का आकार देता है। हिमाचल प्रदेश एक मोड़दार पर्वत है और केरल एक तटीय मैदान है। इन प्रदेशों के लोगों का जीवन और क्रियाएँ एक-दूसरे से भिन्न हैं। हिमाचल प्रदेश एक पर्वतीय प्रदेश है और यहाँ कृषि की कमी है। पहाड़ी ढलानों पर सीढ़ीनुमा खेती होती है। ठंडी जलवायु के कारण गेहूँ की खेती सीमित होती है। यहाँ फलों की खेती महत्त्वपूर्ण है। हिमाचल के सेबों के बाग विश्व-भर में प्रसिद्ध हैं। यहाँ परिवहन के साधन सीमित हैं।

छोटा नागपुर एक अपरदित पठार है। यहाँ वर्षा की अधिक मात्रा के कारण मिट्टी का कटाव अधिक है। यहाँ खनिज । पदार्थ बहुत मिलते हैं। यहाँ लोहे और कोयले के भंडार हैं। खानें खोदना लोगों का कार्यक्षेत्र है। वनों का घनत्व बहुत अधिक है। आदिवासी लोग जंगलों में रहते हैं और पेड़ काटना भी एक रोज़गार है।

केरल के तटीय मैदानों में वर्षा बहुत अधिक होती है। यहाँ चावल की कृषि होती है। लोगों का मुख्य भोजन चावल है। यहाँ साक्षरता की ऊँची दर है, इसलिए लोग तकनीकी रूप से विकसित हैं। औद्योगिक विकास बहुत अधिक है। जनसंख्या का घनत्व भी अधिक है। मछली पकड़ना लोगों का एक रोज़गार है।

प्रमुख भू-आकार Important Questions and Answers

नीचे लिखे प्रश्नों के उत्तर 2-4 शब्दों में दें-

प्रश्न 1. पर्वतों की औसत ऊँचाई कितनी होती है ?
उत्तर-900 मीटर से अधिक।

प्रश्न 2. मोड़दार पर्वतों की रचना में कौन-सी शक्ति काम करती है ?
उत्तर-संपीड़न क्रिया।

प्रश्न 3. पर्वत के ऊँचे-ऊँचे भागों को क्या कहते हैं ?
उत्तर-Anticline.

प्रश्न 4. पर्वतीय भाग में नीचे धंसे भागों को क्या कहते हैं ?
उत्तर-Syncline.

प्रश्न 5. नवीन मोड़दार पर्वतों का एक उदाहरण बताएँ।
उत्तर-हिमालय पर्वत।

प्रश्न 6. ब्लॉक पर्वतों में ऊँचे उठे भाग को क्या कहते हैं ?
उत्तर-होरस्ट।

प्रश्न 7. दो समानांतर दरारों के बीच धंसे भाग को क्या कहते हैं ?
उत्तर-रिफ्ट घाटी।

प्रश्न 8. रिफ्ट घाटी का एक उदाहरण बताएँ।
उत्तर-राइन घाटी।

प्रश्न 9. भारत में बचे-खुचे पर्वतों के उदाहरण दें।
उत्तर- अरावली पर्वत।

प्रश्न 10. अंतर-पर्वतीय पठार का एक उदाहरण दें।
उत्तर-तिब्बत पठार।

प्रश्न 11. मैदानों की औसत ऊँचाई बताएँ।
उत्तर-150 मीटर।

प्रश्न 12. लोएस पठार कहाँ स्थित है ?
उत्तर-उत्तर-पश्चिमी चीन में।

बहुविकल्पीय प्रश्न

नोट-सही उत्तर चुनकर लिखें-

1. किसी पर्वत की कम-से-कम ऊँचाई होती है।
(क) 500 मीटर
(ख) 600 मीटर
(ग) 900 मीटर
(घ) 1000 मीटर।
उत्तर-900 मीटर।

2. नीचे लिखे में से कौन-सा मोड़दार पर्वत है ?
(क) ब्लॉक पर्वत
(ख) हिमालय
(ग) ओज़ारन
(घ) स्कॉटलैंड।
उत्तर-हिमालय।

3. नीचे लिखे में से अंतर-पर्वतीय पठार बताएँ।
(क) पैट्रोलियम
(ख) तिब्बत
(ग) लोएस
(घ) छोटा नागपुर।
उत्तर-तिब्बत।

अति लघु उत्तरात्मक प्रश्न : (Very Short Answer Type Questions)

नीचे लिखे प्रश्नों के उत्तर 2-3 वाक्यों में दें-

प्रश्न 1. भू-तल पर प्रमुख भू-आकार बताएँ।
उत्तर-

  1. पर्वत
  2. मैदान
  3. पठार।

प्रश्न 2. पर्वत किसे कहते हैं ?
उत्तर-पर्वत ऐसे ऊँचे उठे हुए भू-खंड को कहते हैं, जो आस-पास के प्रदेश से कम-से-कम 900 मीटर अधिक ऊँचा हो। उसके तल का आधे से अधिक भाग तीखी ढलान वाला हो।

प्रश्न 3. पर्वत और पहाड़ी में अंतर बताएँ।
उत्तर-900 मीटर से कम ऊँचे प्रदेश को पहाड़ी कहते हैं, जबकि 900 मीटर से अधिक ऊँचे प्रदेश को पर्वत कहते हैं।

प्रश्न 4. Anticline और Syncline में क्या अंतर है ? ।
उत्तर-किसी वलण या बलदार पर्वत (Folded Mountains) के शिखर को Anticline और नीचे से हुए भाग को Syncline कहते हैं।

प्रश्न 5. युवा या नवीन बलदार पर्वत किसे कहते हैं ?
उत्तर-टरशरी युग (5 करोड़ वर्ष) के बाद बनने वाले पर्वतों को युवा पर्वत कहते हैं, जैसे-हिमालय, अल्पस पर्वत।

प्रश्न 6. प्राचीन बलदार पर्वत किसे कहते हैं ?
उत्तर-टरशरी युग से पहले बने पर्वतों को प्राचीन बलदार पर्वत कहते हैं, जैसे-युराल पर्वत और अरावली पर्वत. भारत के सबसे प्राचीन बलदार पर्वत हैं।

प्रश्न 7. होरस्ट से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-दरारों के कारण कुछ भाग नीचे धंस जाते हैं। जो बीच वाला भाग ऊपर उठा होता है, तो उसे होरस्ट कहते हैं।

प्रश्न 8. दरार घाटी किसे कहते हैं ?
उत्तर-दो दरारों के बीच वाले भाग के नीचे फँस जाने से दरार घाटी की रचना होती है।

प्रश्न 9. दरार घाटी के चार उदाहरण दें।
उत्तर-

  1. राइन घाटी
  2. नर्मदा घाटी
  3. मृत सागर
  4. लाल सागर।

प्रश्न 10. ज्वालामुखी पर्वतों के तीन उदाहरण दें।
उत्तर-

  1. फ्यूज़ीयामा पर्वत
  2. वैसुवीयस पर्वत
  3. कोटोपैक्सी पर्वत।

प्रश्न 11. पठार की परिभाषा दें।
उत्तर-पठार वह प्रदेश होता है, जो समुद्र तल से एक जैसी ऊँचाई वाला हो और इर्द-गिर्द से एकदम ऊँचा और तीखी ढलान वाला हो।

प्रश्न 12. अंतर-पर्वतीय पठार क्या होता है ?
उत्तर-चारों तरफ से ऊँची पर्वत श्रृंखलाओं से घिरे प्रदेश को अंतर-पर्वतीय पठार कहते हैं, जैसे-तिब्बत का पठार।

प्रश्न 13. पीडमांट पठार क्या है ?
उत्तर-पर्वतों की निचली ढलानों पर स्थित पठार को पीडमांट पठार कहते हैं, जैसे-पैंटागोनिया पठार।

प्रश्न 14. संसार के प्राचीन पठारों के उदाहरण दें।
उत्तर-

  1. ब्राज़ील पठार
  2. कनाडा का पठार
  3. गोंडवाना पठार।

प्रश्न 15. पृथ्वी के तल पर थल और जल का विभाजन क्या है ?
उत्तर-थल 29.2% और जल 70.8% ।

प्रश्न 16. क्या महाद्वीप और महासागर स्थायी हैं ?
उत्तर-नहीं।

प्रश्न 17. महाद्वीप विस्थापन सिद्धांत किसने पेश किया ?
उत्तर-सन् 1915 में अल्फ्रेड वैगनर ने।

प्रश्न 18. पैंजीया से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-आदिकाल में जब सारे महाद्वीप इकट्ठे थे, तो उसे पैंजीया कहते थे।

प्रश्न 19. पैंजीया के मध्यवर्ती भाग में कौन-सा सागर था ?
उत्तर-टैथीज़ सागर।

प्रश्न 20. गोंडवाना लैंड में कौन-से महाद्वीप शामिल थे ?
उत्तर–ऑस्ट्रेलिया, अंटार्कटिका, अफ्रीका और दक्षिणी अमेरिका।

प्रश्न 21. अंगारालैंड की क्या स्थिति थी ?
उत्तर-टैथीज़ सागर के उत्तर में यूरेशिया महाद्वीप को अंगारालैंड कहते थे।

प्रश्न 22. वैगनर के अनुसार अमेरिका के पश्चिम की ओर खिसकने का क्या कारण था ?
उत्तर-ज्वारीय शक्ति।

प्रश्न 23. Jig-Saw-Fit से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-अंध महासागर के पूर्वी और पश्चिमी तटों को यदि जोड़ा जाए, तो ये एक आरे के ब्लेडों के समान एकदूसरे में फिट हो जाते हैं जैसे कि ये दोनों कभी इकट्ठे थे।

प्रश्न 24. प्लेट-टैक्टौनिक से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-पृथ्वी की पपड़ी और महासागरीय भू-पटल 6 कठोर भू-प्लेटों पर टिका हुआ है। ये प्लेटें खिसकती रहती हैं। इस क्रिया को Plate-Tectonics कहते हैं।

लघु उत्तरात्मक प्रश्न : (Short Answer Type Questions)

नीचे लिखे प्रश्नों के उत्तर 60-80 शब्दों में दें-

प्रश्न 1. पर्वत क्या होते हैं ? इनकी तीन प्रमुख विशेषताएँ लिखें।
उत्तर-पर्वत (Mountains)-पर्वत प्रकृति की रहस्यमयी रचनाओं में एक हैं। इन्होंने धरती का 12 प्रतिशत भाग घेरा हुआ है।
“पर्वत ऐसे उठे हुए भू-खंडों को कहते हैं, जो अपने आस-पास के प्रदेश से कम-से-कम 900 मीटर अधिक ऊँचा हो। उसके तल का आधे से अधिक भाग तीखी ढलान वाला हो।”
पर्वतों का आधार-क्षेत्र बड़ा होता है, पर ऊंचाई के साथ-साथ इनका विस्तार कम होता जाता है, इसलिए पर्वतों की चोटियों के क्षेत्र छोटे होते हैं। पर्वत और पहाड़ी में केवल ऊँचाई का अंतर होता है। पहाड़ी की ऊँचाई 900 मीटर से कम होती है।

पर्वतों की प्रमुख विशेषताएँ (Main Features of Mountains)-

  1. आस-पास के क्षेत्रों से अधिक ऊँचाई (High level area)
  2. शिखर का कम विस्तार (Small Summit)
  3. तीखी ढलान (Steep slope)

प्रश्न 2. अवशेषी पर्वत कैसे बनते हैं ?
उत्तर-अवशेषी पर्वत (Residual Mountains)-ये पर्वत बाहरी साधनों नदी, बर्फ, वायु आदि के अपरदन के कारण बनते हैं। बहुत समय तक लगातार अपरदन होने के कारण पर्वतों की ऊँचाई बहुत कम हो जाती है। ये पर्वत घिसघिस कर नीची पहाड़ियों के रूप में बदल जाते हैं। इस तरह के पर्वत पुराने पर्वतों के बचे-खुचे भाग होते हैं, इसलिए इन्हें Relict Mountains भी कहते हैं। कहीं-कहीं कठोर चट्टानों के बने भू-भाग ऊँचे क्षेत्रों के रूप में बंधे खड़े रहते हैं। ऐसे ऊँचे क्षेत्रों को अवशेषी पर्वत कहते हैं। अपरदन के साधनों से बने होने के कारण इन्हें अपरदन के पर्वत (Mountains of Denudation) भी कहते हैं।

उदाहरण (Examples)—भारत में अरावली पर्वत (Aravali Mountains) और पूर्वी घाट, अमेरिका (U.S.A.) में ओज़ारक (Ozark) पर्वत।

प्रश्न 3. पठार क्या होते हैं ? पठारों की प्रमुख विशेषताएँ बताएँ।
उत्तर-पठार (Plateau)—पठार एक महत्त्वपूर्ण प्राकृतिक इकाई है। धरती का एक बड़ा भाग (33%) पठारों से घिरा हुआ है। “पठार वह प्रदेश होता है, जो आमतौर पर समुद्र तल से एक समान ऊँचाई वाला हो। इर्द-गिर्द के धरातल से एकदम ऊँची और तीखी ढलान वाला हो।”
(“A Plateau is a highland with broad and flat summits”)
पठार आमतौर पर समुद्र तल से 300 से 1000 मीटर तक ऊँचे होते हैं, पर पठार की ऊँचाई कुछ भी हो सकती है, जैसे अमेरिका (U.S.A.) में पीडमांट पठार (Piedmont Plateau) केवल 600 मीटर ऊँचा है, पर पामीर का पठार कई ऊँचे पर्वतों से ऊँचा है और उसे ‘संसार की छत’ (Roof of the world) कहते हैं।

पठार की प्रमुख विशेषताएँ (Main features of Plateau)-

  1. सपाट और विशाल शिखर
  2. किनारों से तीखी ढलान।
  3. मेज के समान चौकोर ऊपरी सतह।
  4. निकट के क्षेत्रों से एकदम ऊँचा होना।

प्रश्न 4. मैदान क्या होते हैं ?
उत्तर-मैदान (Plains)—प्रमुख भू-आकारों (Major Land forms) में मैदान सबसे अधिक स्पष्ट और सरल होते हैं। थल के अधिकांश भाग (41%) पर इनका विस्तार है। मैदान धरती के निचले और समतल (सपाट) क्षेत्र होते हैं। “मैदान थल के वे सपाट भाग होते हैं, जो समुद्र तल से 150 मीटर से कम ऊँचाई पर होते हैं और जिनकी ढलान सपाट, मध्यम और साधारण होती है।” (“Plains are Lowlands of Low relief and horizontal structure”) मैदान सागर-तल से ऊँचे या नीचे हो सकते हैं, परन्तु अपने इर्द-गिर्द के पठार या पर्वत से कभी भी ऊँचे नहीं हो सकते।

प्रश्न 5. अपरदन के मैदान कैसे बनते हैं ?
उत्तर-अपरदन के मैदान (Pene Plains)—’Pene Plains’ शब्द दो शब्दों Pene और Plain के जोड़ से बना है। ‘Pene’ शब्द के अर्थ हैं ‘लगभग’ या आमतौर पर ‘Almost’ और ‘Plain’ का अर्थ है-मैदान। इस प्रकार ‘Pene Plain’ का अर्थ है-लगभग मैदान या आमतौर पर ‘समभूमि। एक लंबे समय तक बाहरी साधनों बर्फ, जल, हवा आदि के लगातार कटाव के कारण पर्वत या पठार घिसकर नीचे हो जाते हैं और मैदान का रूप धारण कर लेते हैं। ये मैदान पूरी तरह से सपाट नहीं होते। इन मैदानों की ढलान अत्यंत हल्की होती है। इनके बीच कठोर चट्टानों के रूप में ऊँचे टीले मिलते हैं। ऐसे मैदानों में कठोर चट्टानों के टीले नष्ट नहीं होते और बचे रहते हैं। इन्हें मोनैडनाक (Monadnaks) कहते हैं। विश्व में इस प्रकार के पूर्ण सम-मैदान (Perfected Pene Plains) बहुत कम मिलते हैं।

उदाहरण (Examples)–

  • फिनलैंड और साइबेरिया के मैदान
  • भारत में अरावली प्रदेश।

प्रश्न 6. ‘पठार खनिज पदार्थों के भंडार होते हैं।’ व्याख्या करें।
उत्तर-बहुत-से पठारों से लाभदायक खनिज मिलते हैं। कई पठार ज्वालामुखी की प्रक्रिया के कारण खनिज पदार्थों के लिए प्रसिद्ध हैं। भारत के दक्षिणी पठार में कोयला, लोहा, मैंगनीज़ आदि मिलता है। पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया और दक्षिणी अफ्रीका के पठार चूने की खानों के लिए प्रसिद्ध हैं। कनाडा के पठारों में तांबा और ब्राज़ील में लोहा मिलता है।

प्रश्न 7. मैदानों में संसार की सबसे घनी जनसंख्या होने के क्या कारण हैं ?
उत्तर-विश्व की 80% जनसंख्या मैदानों में निवास करती है। मैदानों की सपाट ज़मीन पर बस्तियों का विकास होता है। सपाट भूमि और उपजाऊ भूमि के कारण ये मैदान कृषि योग्य प्रदेश होते हैं। मैदानों में रेलों, सड़कों और हवाई अड्डों का निर्माण आसान होता है। मैदान आर्थिक पक्ष से भी बड़े लाभदायक होते हैं, इसीलिए विश्व की अधिक जनसंख्या मैदानों में मिलती है।

प्रश्न 8. मैदानों को विश्व का ‘अन्न भंडार’ क्यों कहा जाता है ?
उत्तर-मैदान सपाट और उपजाऊ धरती के क्षेत्र हैं। गहरी मिट्टी और ऊँचे जल-स्तर के कारण यहाँ जल-सिंचाई के साधन मिलते हैं। मशीनों के प्रयोग के कारण अधिक अनाज उत्पन्न होता है। संसार की प्रमुख फसलें-कपास, गेहूँ, गन्ना, चावल आदि मैदानों में ही उगाई जाती हैं, इसीलिए मैदानों को संसार का ‘अन्न भंडार’ कहा जाता है।

प्रश्न 9. पर्वतों से प्राप्त होने वाली संपत्तियों के बारे में बताएँ।
उत्तर-पर्वतों से मनुष्यों को अनेक लाभदायक वस्तुएँ प्राप्त होती हैं-

  1. पर्वत खनिज संपत्ति के भंडार हैं, जैसे-कोयला, सोना, ताँबा, मैंगनीज आदि।
  2. पर्वतों से इमारती लकड़ी प्राप्त होती है। नर्म लकड़ी के कई उद्योग पर्वतों पर निर्भर करते हैं।
  3. पर्वत पन बिजली के स्रोत हैं।
  4. पर्वतों पर कई किस्म की फसलें उगाई जा सकती हैं; जैसे–चाय।

प्रश्न 10. मैदानों पर मनुष्य का अधिकार सबसे पुराना है। क्यों ?
उत्तर-प्राचीन काल से ही मैदान मानवीय सभ्यता के केन्द्र रहे हैं। आज भी मैदानों में संसार की 75% जनसंख्या निवास करती है।
नदी घाटियों और जलोढ़ मैदानों पर निवास स्थान, कृषि और आवाजाही की सुविधाएँ उपलब्ध होती हैं। इन्हीं सुविधाओं के कारण ही प्राचीन सभ्यताओं का जन्म नदी घाटियों में ही हुआ था। रोम, मिस्र और सिंधु घाटी की सभ्यताओं के उदाहरण दिए जा सकते हैं। नदी घाटियों को सभ्यताओं का पालना (Cradle of Civilizations) भी कहा जाता है। यही कारण है कि मैदानों पर मनुष्य का अधिकार सबसे पुराना है।

प्रश्न 11. अंतर-पर्वतीय पठारों और पर्वत-प्रांतीय पठारों में अंतर बताएँ।
उत्तर –
अंतर-पर्वतीय पठार (Piedmont Plateau) –

  1. ये पठार चारों तरफ से ऊँचे पर्वतों से घिरे होते हैं।
  2. इन पठारों में अंदरूनी जल-प्रवाह होता है।
  3. इनका विस्तार अधिक होता है।
  4. तिब्बत का पठार एक अंतर-पर्वतीय पठार है।

पर्वत-प्रांतीय पठार (Intermont Plateau) –

  1. ये पठार पर्वतों के आधार पर बने होते हैं।
  2. इनके एक तरफ समुद्र या मैदान स्थित होते
  3. इनका क्षेत्रफल सीमित होता है।
  4. पैंटोगोनीया का पठार एक पर्वत-प्रांतीय पठार है।

प्रश्न 12. ब्लॉक पर्वतों और बलदार पर्वतों में अंतर बताएँ।
उत्तर
ब्लॉक पर्वत (Fold Mountains)-

  1. ये पर्वत धरती की परतों में दरारें पड़ने से बनते हैं।
  2. इनका निर्माण सिकुड़ने और दबाव की शक्तियों से होता है।
  3. इनका शिखर मेज के समान चौकोर और समतल होता है।
  4. ऊँचे उठे हुए पर्वत को होरस्ट (Horst) और नीचे धंसे हुए पर्वत को दरार घाटी कहते हैं।
  5. विंध्याचल और वासजिस इसके उदाहरण हैं।

बलदार पर्वत (Block Mountains)-

  1. ये पर्वत चट्टानों की परतों में बल पड़ने से बनते हैं।
  2. इनका निर्माण तनाव और खिंचाव की शक्तियों से होता है।
  3. इसका शिखर ऊँचा-नीचा होता है।
  4. ऊपर उठे हुए भाग को Anticline और नीचे फँसे हुए भाग को Syncline कहते हैं।
  5. हिमालय और एल्पस पर्वत इसके उदाहरण हैं।

प्रश्न 13. ब्लॉक पर्वत और रिफ्ट घाटी में अंतर बताएँ।
उत्तर-
ब्लॉक पर्वत (Block Mountains)-

  1. दो दरारों के बीच ऊपर उठे हुए भू-खंड को ब्लॉक पर्वत कहते हैं।
  2. इसे होरस्ट पर्वत भी कहते हैं।
  3. इसका निर्माण ऊपर उठने की क्रिया से होता है।
  4. विंध्याचल एक ब्लॉक पर्वत है।

रिफ्ट घाटी (Rift Valley)-

  1. दो दरारों के बीच नीचे धंसे हुए भू-भाग को दरार घाटी कहते हैं।
  2. इसे रिफ्ट घाटी भी कहते हैं।
  3. इसका निर्माण नीचे धंसने की क्रिया से होता है।
  4. राइन घाटी एक रिफ्ट घाटी है।

निबंधात्मक प्रश्न (Essay Type Questions)

नीचे लिखे प्रश्नों के उत्तर 150-250 शब्दों में दें-

प्रश्न 1. मैदानों का महत्त्व बताएँ।
उत्तर-मैदानों का महत्त्व (Importance of Plains)-मैदानों में कृषि, उद्योग, ढुलाई, व्यापार और मानवीय विकास की सभी सुविधाएँ होती हैं।

  1. निवास की सुविधाएँ (Settlement of Population) मैदानों में सपाट ज़मीन पर बस्तियों का विकास संभव है। मैदानों में संसार की 75% जनसंख्या निवास करती है।
  2. कृषि की सुविधाएँ (Agriculture facilities)-समतल भूमि, गहरी और उपजाऊ मिट्टी के कारण मैदान कृषि-योग्य उत्तम क्षेत्र होते हैं।
  3. अन्न के भंडार (Store house of foodgrains)—मैदानों में सिंचाई की सुविधाएँ, उपजाऊ मिट्टी और मशीनों के प्रयोग के कारण अधिक अनाज उत्पन्न होता है। संसार की सभी व्यापारिक फसलें गेहूँ, गन्ना, कपास और पटसन आदि मुख्य रूप से मैदानों में होती हैं।
  4. सभ्यताएँ (Civilizations)—संसार की सभी प्राचीन सभ्यताओं का विकास मैदानों में ही हुआ था। चीन और मिस्र की सभ्यताओं ने नदी घाटियों में ही जन्म लिया था।
  5. आसान आवाजाही (Easy Transport)-मैदानों में सपाट भूमि के कारण चौड़ी और लंबी सड़कों (Highways), रेलमार्गों (Railways), जलमार्गों (Waterways) और हवाई अड्डों (Aerodromes) का निर्माण आसान होता है। नदियों द्वारा भी आवाजाही में आसानी होती है। नदियों की धीमी चाल के कारण इनमें नावें और जहाज़ चलाए जा सकते हैं।
  6. उद्योग (Industries)-मैदान आर्थिक जीवन की धुरी होते हैं। सभी सुविधाएँ उपलब्ध होने के कारण संसार के सभी बड़े उद्योग मैदानों में स्थित हैं। इसका कारण यह है कि सबसे पहले, मैदानों में कच्चा माल (Raw materials) आसानी से मिल जाता है। दूसरे, आवाजाही और संचार के साधन उपलब्ध होने के कारण माल एक स्थान से दूसरे स्थान तक आसानी से लाया व ले जाया जा सकता है। तीसरे, जनसंख्या अधिक होने के कारण मज़दूरी सस्ती होती है। व्यापार का विकास होता है।
  7. नगर (Towns/Cities)-आर्थिक और सामाजिक सुविधाएँ उपलब्ध होने के कारण संसार के प्रमुख नगर मैदानों में ही स्थित हैं।

प्रश्न 2. पठारों का महत्त्व बताएँ।
उत्तर-पठारों का महत्त्व (Importance of Plateaus)-

  • ठंडी जलवायु (Cool Climate)-पठार मैदानों की तुलना में ठंडे होते हैं। यही कारण है कि ऑस्ट्रेलिया और पूर्वी अफ्रीका के पठारों में यूरोप के निवासी जा बसे हैं और जनसंख्या अधिक है।
  • भेड़ें पालना (Sheep rearing)—पठारों में चरागाहों की सुविधा होती है। यहाँ भेड़-बकरियाँ पाली जाती हैं और ऊन प्राप्त होती है।
  • डेयरी फार्मिंग (Dairy Farming)-पठारों में घास के मैदानों में पशु पाले जाते हैं। यही कारण है कि अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया में डेयरी फार्मिंग (Dairy Farming) का अधिक विकास हुआ है।
  • खनिज पदार्थों के भंडार (Storehouse of Minerals)-बहुत से पठार लाभदायक धातुओं और खनिज पदार्थों के भंडार हैं, जिनके आधार पर अलग-अलग उद्योगों का विकास हुआ है, जैसे-ऑस्ट्रेलिया और कनाडा में ताँबा और सोना, अफ्रीका में हीरा, भारत में लोहा और मैंगनीज़।
  • उपजाऊ मिट्टी (Fertile Land) ज्वालामुखी पठार लावे की मिट्टी के कारण लाभदायक होते हैं; जैसे दक्षिण का पठार काली मिट्टी के कारण कपास की खेती के लिए लाभदायक है।
  • पन-बिजली (Water Power)—पठार की नदियाँ झरने बनाती हैं, जिनसे पन-बिजली प्राप्त होती है। अफ्रीका और भारत के दक्षिणी पठार में पन-बिजली की अधिक संभावनाएँ हैं।

दोष (Demerits)-
नीचे लिखे पठार मनुष्यों के निवास के योग्य नहीं होते-

  1. जहाँ जलवायु प्रतिकूल हो।
  2. जहाँ की भूमि उपजाऊ न हो।
  3. जिनमें कटाव आदि अधिक हो।
  4. जो बहुत ऊँचे और ठंडे हों।

प्रश्न 3. पर्वतों के क्या लाभ हैं ?
उत्तर-पर्वत आर्थिक दृष्टि से सहायक हैं और रुकावट भी। इन प्रदेशों में सपाट भूमि की कमी, कम गहरी मिट्टी और पथरीली बनावट के कारण ज़मीन खेती के लिए महत्त्वपूर्ण नहीं होती है। आवाजाही के साधनों की कमी, प्रतिकूल जलवायु और निवास स्थानों की कमी के कारण जनसंख्या भी बहुत कम होती है। फिर भी पर्वत अनेक प्रकार से लाभदायक हैं1.

1. खनिज संपत्ति के स्त्रोत (Sources of Mineral Wealth)—पर्वत लाभदायक धातुओं और खनिजों के भंडार होते हैं। इन प्रदेशों में खानों के खनन का व्यवसाय विकास कर जाता है। रूस के यूराल पर्वतों में लोहा और मैंगनीज़, दक्षिणी अमेरिका के ऐंडीज़ में सोना, चाँदी, ताँबा, और संयुक्त राज्य अमेरिका (U.S.A.) के एपलेशियन पर्वत में कोयला मिलता है।

2. जंगलों का घर (Home of Forests)-पर्वत अलग-अलग प्रकार की इमारती लकड़ी से ढके होते हैं, जैसे हिमालय पर्वत पर साल और सागवान के जंगल मिलते हैं। कई तरह के उद्योग जंगलों पर आधारित होते हैं। इन जंगलों से ईंधन, कागज़, रेशम, दियासलाई आदि बनाने के लिए लकड़ी प्राप्त होती है। कई पहाड़ी देशों, जैसे स्वीडन और नॉर्वे की उन्नति इन जंगलों पर ही आधारित है।

3. स्वास्थ्यवर्धक स्थान (Health Resorts)-पर्वत मैदानों में रहने वाले लोगों को सदा अपनी ओर आकर्षित करते हैं। पर्वतों का निम्न तापमान, स्वास्थ्यवर्धक, सुहावनी जलवायु और आकर्षक दृश्य गर्मियों की ऋतु में आकर्षण का केंद्र बन जाते हैं। जिस प्रकार कश्मीर और स्विट्ज़रलैंड में लाखों पर्यटक मन बहलाने के लिए विदेशों से घूमने-फिरने के लिए आते हैं, जिससे पर्यटन उद्योग (Tourist Industry) की आमदनी बढ़ जाती है। लोग अनेक पहाड़ी ढलानों पर स्कींग (Skiing) आदि खेल भी खेलते हैं।

4. सुरक्षा (Defence) सुरक्षा की दृष्टि से भी पर्वत लाभदायक हैं। भारत की उत्तरी सीमा पर हिमालय पर्वत देश की रक्षा का काम करता है। परंतु आज के वैज्ञानिक युग में पर्वत भी देश को आक्रमण से नहीं बचा सकते, जैसे-1962 में चीन ने हिमालय पर्वत के तिब्बत की ओर से भारत पर आक्रमण किया था।

5. प्राकृतिक सीमाएँ (Natural Boundaries)—ऊँचे पर्वत अलग-अलग देशों के बीच प्राकृतिक और राजनीतिक सीमाएँ बनाते हैं, जिस प्रकार भारत और चीन के बीच हिमालय पर्वत एक प्राकृतिक सीमा है। पर्वतीय स्थिति वाले बहुत-से छोटे-छोटे देश सदा स्वतंत्र रहते हैं, जैसे-नेपाल, स्विट्ज़रलैंड आदि। परंतु पर्वतीय सीमाएँ सही ढंग से निर्धारित नहीं होती हैं।

6. जलवायु (Climate)-पर्वतों की स्थिति और दिशा, वर्षा और तापमान पर प्रभाव डालती हैं। पर्वत नमी से भरपूर पवनों को रोककर वर्षा करते हैं। जैसे हिमालय पर्वत मानसून पवनों को रोककर भारत में काफी वर्षा करते हैं। पर्वत स्थिति के अनुसार गर्म और ठंडी वायु को एक देश से दूसरे देश में प्रवेश करने से रोकते हैं। हिमालय पर्वत मध्य एशिया की ठंडी हवाओं को रोक लेता है, नहीं तो उत्तरी भारत में सर्दियों की ऋतु चीन के समान अत्यंत कठोर होती। यदि हिमालय पर्वत न होता, तो गंगा का मैदान एक मरुस्थल होता।

7. चरागाह (Pastures)-पर्वतीय ढलानों पर चरागाहों की सुविधा होती है, जहाँ भेड़-बकरियाँ चराई जाती हैं पहाड़ी प्रदेशों में मौसमी पशु चारण (Transhumance) भी होता है।

8. नदियों के स्त्रोत (Sources of Rivers)-ऊँचे पर्वतों से अनेक नदियाँ निकलती हैं। ऊँचे बर्फीले पर्वतों से निकलने वाली नदियों से पूरा साल जल प्राप्त होता रहता है और सिंचाई के लिए स्थायी नहरें निकाली जाती हैं। गंगा का मैदान हिमालय पर्वत से निकलने वाली नदियों के कारण ही बना है।

9. पन-बिजली (Water Power)-पर्वतीय प्रदेशों में नदियों के मार्ग में अनेक झरने बनते हैं, जो पन-बिजली के विकास के लिए आदर्श स्थान होते हैं। जापान, इटली और स्वीडन जैसे पहाड़ी प्रदेशों में पन-बिजली के कारण ही औद्योगिक विकास हुआ है।

10. विशेष पैदावार (Special Crops)-पर्वतीय ढलानें कुछ विशेष उपजों के लिए अनुकूल क्षेत्र होती हैं, जैसे-चाय और कहवा/कॉफी आदि। भारत में असम की पहाड़ी ढलानों पर चाय के बाग़ (Tea Estates) मिलते हैं।

प्रश्न 4. पर्वत निर्माणकारी परिकल्पना भू-अभिनीति का वर्णन करें।
उत्तर-
पर्वत निर्माणकारी परिकल्पना भ-अभिनीति (Mountain Building Theory-Geosynclines)-
पर्वत पृथ्वी के रहस्यमय भू-आकार हैं। इनकी रचना बहुत जटिल है। पर्वत-निर्माण एक निरंतर क्रिया नहीं है और कुछ युगों तक सीमित है। पर्वतीय सिलसिले बहुत जटिल हैं। इनके अध्ययन से इनकी विशेषताओं का पता चलता है-

1. तलछटी चट्टानें (Sedimentary Rocks) विश्व के सभी पर्वत परतदार चट्टानों से बने हैं। इन चट्टानों का जन्म समुद्र में होता है। पर्वतों के मोड़ों में उपलब्ध जीवाश्म भी प्रकट करते हैं कि पर्वत समुद्री फर्श से ही ऊपर उठे हैं। (Mountains have arisen out of sea.)

2. चाप आकार (Arc Shape)-संसार के बड़े-बड़े पर्वतों की स्थिति समुद्री तटों के समानांतर एक चाप के आकार की है, जैसे रॉकी एंडीज़ और हिमालय पर्वत । इनकी रचना धरातल की समानांतर दिशा पर दबाव पड़ने से हुई है इसीलिए इनका आकार बाहर की ओर चाप के समान है। एक खोज से पता चला है कि पर्वतीय क्षेत्रों की लंबाई अधिक है और चौड़ाई कम है। तलछटी चट्टानों की बहुत अधिक मोटाई का कारण खोजना बहुत कठिन है। इतनी अधिक मोटाई में तलछट के एकत्र होने का कारण भू-अभिनीति (Geosyncline) ही संभव है। भू-अभिनीति धरातल पर एक लंबा, तंग और कम गहरा भाग है, जिसमें नदियों के द्वारा जमा किए गए तलछट इकट्ठे होते हैं और उनके भार के नीचे दबकर वह नीचे को धंसता रहता है। (Geosynclines are long but narrow and shallow depressions in which sedimentation and subsidence take place simultaneously.) 1873 में एक वैज्ञानिक डैना ने इस प्रकार के निर्माण को भू-अभिनीति का नाम दिया। इसके आधार पर पर्वत-निर्माण में तीन चरण ज़रूरी हैं-

Class 11 Geography Solutions Chapter 4 प्रमुख भू-आकार 7

(i) भू-अभिनीति चरण (Geosyncline Stage)-पर्वत निर्माण में यह पहला चरण है, जबकि एक कम गहरे स्थान पर तलछट जमा होते हैं जिससे यह स्थान भर जाते हैं, इन्हें भू-अभिनीति कहते हैं। इस अवस्था में भू-अभिनीति की उत्पत्ति, तलछट का जमाव, तल का नीचे धंसना आदि क्रियाएँ होती हैं। इनके लिए कुछ दशाओं का होना ज़रूरी होता है

(क) भू-अभिनीति का समुद्र से नीचे मौजूद होना।
(ख) यह भू-अभिनीति लंबी, तंग और एक गर्त (Trough) के आकार के समान हो।
(ग) भू-अभिनीति के निकट कोई-न-कोई ऊँचा प्रदेश हो, जहाँ से नदियाँ मलबे को बहाकर ला सकें और भू-अभिनीति धीरे-धीरे मलबे से भर जाए।

(ii) पर्वत निर्माण का चरण (Orogenic Stage)-जब भू-अभिनीति पूरी हो जाती है, तो जमा हुई तलछट की मोटाई हज़ारों फुट तक पहुँच जाती है। तनाव और संपीड़न के कारण वलन क्रिया होती है, जिससे पर्वत बनते हैं। इसलिए भू-अभिनीतियों को पर्वतों का झूला (Cradle of Mountains) कहा जाता है।

प्रश्न 5. वैगनर के महाद्वीपीय विस्थापन सिद्धांत का वर्णन करें। इसके पक्ष में प्रमाण दें।
उत्तर-वैगनर की महाद्वीपीय विस्थापन परिकल्पना (Wegner’s Continental Drift Hypothesis). महाद्वीपों के विस्थापन की कल्पना सबसे पहले फ्रांसीसी विद्वान् एंटोनीयो स्नाइडर ने सन् 1858 में की थी। इसके बाद एफ० जी० टेलर (F.G. Taylor) ने भी ऐसा ही विचार पेश किया था। परंतु ये दोनों विद्वान् अपने विचारों को स्पष्ट रूप देने में असमर्थ रहे, इसीलिए उन्हें मान्यता नहीं मिली। सन् 1912 में जर्मन वैज्ञानिक अल्फ्रेड वैगनर (Alfred Wegner) ने कुछ तथ्यों को सामने रखकर महाद्वीपीय विस्थापन की परिकल्पना प्रस्तुत की। सन् 1929 में वैगनर ने इसमें कुछ शोध करके इसे फिर से पेश किया। वैगनर वास्तव में एक मौसम वैज्ञानिक था, जो ऋतु-परिवर्तन (Variation of climate) की समस्याओं का समाधान खोजने में जुटा हुआ था।

थल-मंडल में अनेक क्षेत्रों में उष्ण-कटिबंधीय (Tropical), भू-मध्य-रेखीय (Equatorial) और ध्रुवीय (Polar) जलवायु अपनी वर्तमान स्थिति से दूर के स्थानों में पाई जाती है। इसके दो ही कारण हो सकते हैं-

  1. एक तो यह कि जलवायु में समय-समय पर परिवर्तन होता रहा है।
  2. फिर महाद्वीप खिसककर एक जलवायु खंड से दूसरे जलवायु खंड में आते रहते हैं। वैगनर ने उपरोक्त दूसरे कारण के आधार पर अपनी परिकल्पना पेश की।

Class 11 Geography Solutions Chapter 4 प्रमुख भू-आकार 8

वैगनर के सिद्धांत की रूपरेखा (Outline of Wegner’s Hypothesis)-

1. वैगनर ने सियाल (SIAL) के बने हुए महाद्वीपों को बसाल्ट की सीमा पर तैरते हुए माना। वैगनर के अनुसार आदिकाल पुरातन जीवी महाकल्प (Late Palezoic Period-2700 years ago) में सभी महाद्वीप किसी विशाल महाद्वीप का अंग थे। इस विशाल महाद्वीप को उसने पैंजीया का नाम दिया। पैंजीया चारों तरफ से एक विशाल महासागर से घिरा हुआ था जिसे वैगनर ने पैंथालामा (Panthalamma) कहा है।

2. अंगारालैंड और गोंडवानालैंड-जीया के मध्य में पूर्व-पश्चिम दिशा में एक विस्तृत पर कम गहरा सागर था, जिसे टेथीज़ (Tetheys) का नाम दिया जाता है। टेथीज़ सागर के उत्तर के विस्तृत भाग को लुरेशिया (Laurasia) या अंगारालैंड (Angaraland) और सागर के दक्षिण के विस्तृत महाद्वीप को गोंडवानालैंड का नाम दिया गया है।

3. भूमध्यरेखा की ओर विस्थापन-वैगनर के अनुसार यह पैंजीया टूटकर भूमध्य रेखा और पश्चिम दिशा में स्थित हो गया। भूमध्य रेखा की ओर स्थित होने के कारण गुरुत्वाकर्षण में अंतर था।

4. पश्चिम की ओर विस्थापन-पैंजीया के खंडों का पश्चिम की ओर विस्थापन चंद्रमा की ज्वारीय शक्ति (Tide force) के कारण था। भूमध्य रेखा की ओर विस्थापन से मुख्य रूप में यूरोप और अफ्रीका प्रभावित हुए। पश्चिम की ओर विस्थापन से उत्तरी और दक्षिणी अमेरिका प्रभावित हुए।

5. इसके बाद अलग-अलग युगों में टरशियरी युग (Tertiary Period-60 Lakh years ago) में अलग-अलग महाद्वीप और महासागर बने।

परिकल्पना के पक्ष में प्रमाण (Evidences in favour of the Hypothesis)-इस परिकल्पना के पक्ष में अनेक प्रमाण प्रस्तुत किए गए हैं, जो नीचे लिखे हैं-

1. भौगोलिक प्रमाण (Geographical Proofs)-अंध महासागर के पूर्वी और पश्चिमी तटों में समानता पाई गई है। ये दोनों तट एक आरे के समान तथा एक-दूसरे में फिट होने की स्थिति में होते हैं। पूर्वी ब्राज़ील का . उभार (Bulge) पश्चिमी अफ्रीका और गिनी तट में आसानी से फिट हो जाता है। इसे Jig-saw fit कहते हैं। अंध महासागर की मध्यवर्ती कटक (Mid-Atlantic Ridge) के एक तरफ अमेरिका और दूसरी तरफ अफ्रीका जुड़ जाते हैं। .

2. भू-गर्भीय प्रमाण (Geological Proofs)-अंध महासागर के दोनों तटों पर स्थित पर्वत श्रेणियों की दिशा और चट्टानों की ओर रेखाओं में समानता देखी गई है। अंध महासागर के पूर्वी और पश्चिमी तट किसो समय एक थे।

3. चट्टानों के प्रमाण (Proofs of Rocks)-अंध महासागर के दोनों तटों पर पाई जाने वाली शैलों में समानता देखी गई है। ब्राज़ील का पठार, दक्षिण अफ्रीका, भारत का प्रायद्वीप पठार और ऑस्ट्रेलिया पठार की चट्टानें लगभग एक जैसी हैं।

4. जैविक प्रमाण (Biological Proofs)-उत्तर-पश्चिमी यूरोप और पूर्वी अमेरिका के भागों में वनस्पति और जीवों के अवशेषों में समानता पाई जाती है।

5. सर्वेक्षण के प्रमाण (Geodesy’s Proofs)—ऐसा प्रतीत होता है कि ग्रीनलैंड 32 मीटर प्रति वर्ष की गति से उत्तरी अमेरिका की ओर खिसक रहा है। यह तथ्य 1832, 1870, और 1917 के माप पर आधारित है।
इस तथ्य से वैगनर के महाद्वीप खिसकने के विचार की पुष्टि होती है।

6. नवीन और आधुनिक प्रमाण प्लेट टैक्टौनिक का सिद्धांत (Plate Tectonic Theory) आधुनिक सर्वेक्षण में प्लेट टैक्टौनिक के सिद्धांत ने वैगनर के सिद्धांत की पुष्टि की है। जब इन भू-प्लेटों की सीमाओं पर संवहन धाराओं (Convection _Currents) की क्रिया होती है, तब भू-प्लेटें खिसकती हैं और महाद्वीप भी खिसकते हैं।

प्रश्न 6. भू-प्लेट टैक्टौनिक सिद्धान्त की व्याख्या करें।
उत्तर-भू-प्लेट टैक्टौनिकस (Plate-tectonics)-आधुनिक परीक्षणों और खोज से पता चलता है कि स्थल मंडल और मैंटल भू-प्लेटों में विभाजित हैं। ये भू-प्लेटें खिसकती रहती हैं। भू-प्लेटों की सीमाओं पर अंदरूनी हलचल होती रहती है। परिणामस्वरूप भू-प्लेटों के साथ-साथ महाद्वीप भी खिसकते रहते हैं और कई क्रियाएँ और भू-आकार जन्म लेते हैं।

भू-प्लेटों के प्रकार (Types of Plates)-स्थल मंडल भू-प्लेटों का समूह है, जिसमें 6 मुख्य भू-प्लेटें और 14 छोटे आकार की प्लेटें हैं। इन भू-प्लेटों की औसत मोटाई 100 कि० मी० है और ये प्लेटें कई हज़ार कि०मी० चौड़ी हैं। भू-प्लेटें मुख्य रूप से दो प्रकार की हैं-

1. महाद्वीपीय भू-प्लेटें (Continental Plates)—इन प्लेटों में अधिक भाग महाद्वीपीय थल मंडल का होता
2. महासागरीय प्लेटें (Oceanic Plates)—इन प्लेटों का विस्तार महासागर के तल पर होता है। सारी पृथ्वी
को 6 मुख्य भू-प्लेटों में बाँटा गया है।

  • प्रशांत महासागरीय प्लेट
  • एशियाई प्लेट
  • अमेरिकी प्लेट
  • भारतीय प्लेट
  • अफ्रीकी प्लेट
  • अंटार्कटिक प्लेट

भू-प्लेटों के खिसकने के कारण-

1. तापीय संवहन-सन् 1928 में आर्थर होमज़ (Arthur Holmes) ने यह सिद्धान्त पेश किया कि मैगमा की संवहन तरंगों (Convection currents) के द्वारा महाद्वीपों का खिसकना होता है। उस समय इस सिद्धान्त को पूरी मान्यता नहीं मिली थी। आधुनिक समय में चुंबकीय सर्वे, रेडियो एक्टिव पदार्थों की खोज, मध्यसागरीय कटकों और सागरीय तल के फैलने (Ocean spreading) की खोज ने सिद्ध कर दिया है कि पृथ्वी के मैटल भाग में मैगमा की संवहन धाराएँ चलती हैं। इस प्रकार यह मैगमा ऊपर उठता है। इसके प्रवाह से भू-प्लेटें खिसकती हैं। परिणामस्वरूप महाद्वीपीय विस्थापन होता है। इस प्रकार पृथ्वी के केंद्रीय भाग में अणु-ऊर्जा के कारण संवहन धाराएं चलती हैं। ये भू-प्लेटें एक-दूसरे से महासागरीय कटकों और ट्रैचों के द्वारा अलग-अलग होती हैं।

2. संचालन क्रिया-गर्म धाराएँ ऊपर की ओर उठती हैं और फ़िर नीचे की ओर जाकर ठंडी हो जाती हैं। ये धाराएँ भू-प्लेटों को गतिशील बना देती हैं।

3. ज्वालामुखी क्रिया-भूतल के नीचे ज्वालामुखी के केंद्र संवहन धाराओं को जन्म देते हैं। इन्हें गर्म स्थल (Hot Spot) कहते हैं। ये भू-प्लेटों को गतिशील करते हैं।

भू-प्लेटों की कार्यविधि-भू-प्लेटों की तीन प्रकार की सीमाएँ बनती हैं-

  • निर्माणकारी प्लेट सीमा निर्माणकारी क्षेत्र वे सीमाएँ हैं, जहाँ प्लेटें एक-दूसरे से अलग होती हैं और मैगमा बाहर आता है। ऐसी सीमाओं पर ज्वालामुखी क्रिया और भूचाल आते हैं।
  • विनाशकारी प्लेट सीमा-ये वे सीमाएँ हैं, जहाँ एक प्लेट का सिरा दूसरी प्लेट के ऊपर चढ़ जाता है।
  • रूपांतर प्लेट सीमा-यहाँ भू-प्लेटें एक-दूसरे की विपरीत दिशा में साथ-साथ खिसकती हैं।

प्रभाव (Effects)-

1. महाद्वीपों का खिसकना (Continental Drift)-भू-प्लेटों के खिसकने का महाद्वीपों पर प्रभाव पड़ता है। महाद्वीप भू-प्लेटों के अंदर स्थापित हैं, इसीलिए वे प्लेटों के साथ गति करते हैं। इस खिसकाव से रिफ्ट घाटी, सागर और महासागर की रचना होती है।

2. पर्वत निर्माणकारी क्रिया (Mountain Building)-भू-प्लेटें अपनी सीमाओं पर सागरीय कटकों के द्वारा अलग-अलग होती हैं। इन सीमाओं पर भू-प्लेटें खिसकती हैं या टकराती हैं। कई स्थानों पर नीचे सरकने से भू-अभिनीति (Geosyncline) की रचना होती है। इसमें करोड़ों वर्षों तक तलछट जमा होते रहते हैं। इनके उठाव (uplift) के कारण मोड़दार पर्वत बनते हैं। गोंडवाना प्लेट के उत्तर की ओर खिसकने के कारण टैथीज़ सागर में हिमालय पर्वत का निर्माण हुआ है। उत्तरी अमेरिका की भू-प्लेट के पश्चिम की ओर खिसकने से रॉकी और एंडीज़ पर्वतों का निर्माण हुआ है। इस प्रकार इस आधुनिक परिकल्पना ने भू-विज्ञान में एक नई क्रांति पैदा की है। इस सिद्धान्त से वैगनर के विस्थापन सिद्धान्त की पुष्टि होती है।

Class 11 Geography Solutions Chapter 4 प्रमुख भू-आकार 9