Class 11 Geography Solutions Chapter 3(iv) भू-गर्भ जल के अनावृत्तिकरण कार्य

भू-गर्भ जल के अनावृत्तिकरण कार्य Textbook Questions and Answers

1. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर एक या दो शब्दों में दीजिए :

प्रश्न (क) फ्रांस में किस राज्य में पहले आरटेजीयन कुआँ लगाया गया ?
उत्तर-अरटोइस (Artois) राज्य में।

प्रश्न (ख) कुल्लू घाटी के गर्म चश्मों के नाम बताएँ।
उत्तर-मनीकरण, गर्म (तत्ता) पानी, ज्वालामुखी।

प्रश्न (ग) किस देश में पुराना गीज़र (Old Faithful Geyser) स्थित है ?
उत्तर-संयुक्त राज्य अमेरिका में Yellow Stone Park में।

प्रश्न (घ) ठंडे पानी के चश्मे भारत में किस स्थान पर मिलते हैं ?
उत्तर-हिमालय, पश्चिमी घाट और छोटा नागपुर पहाड़ियों में।

प्रश्न (ङ) 2014 में पंजाब की मानसून वर्षा की मात्रा क्या थी ?
उत्तर-600 मि०मी० की वार्षिक वर्षा।

2. निम्नलिखित के उत्तर विस्तार सहित दो :

प्रश्न 1. भू-गर्भ जल अनावृत्तिकरण का साधन है, कैसे ? विस्तार सहित लिखें।
उत्तर
भू-गर्भ जल का अपरदन कार्य (Erosional Work of Underground Water)-
भू-गर्भ जल द्वारा पर्वतीय ढलानों पर भू-स्खलन (Landslide) होते हैं, जिसके परिणामस्वरूप चट्टानें टूटती हैं। भूगर्भ जल का अपरदन कार्य मुख्य रूप में चूने वाले क्षेत्रों में होता है। इसका कारण यह है कि वर्षा जलवायु से कार्बनडाइऑक्साइड गैस लेकर चूने की चट्टानों को घुलनशील (Soluble) बना देती है, जिससे चूने के प्रदेशों में अलग-अलग प्रकार की भू-आकृतियों की रचना होती है। चूने के प्रदेशों को काट प्रदेश (Karst Region) कहते हैं। यह नाम यूगोस्लाविया देश के ऐडरीआटिक समुद्र (Adriatic sea) के किनारे पर स्थित कार्ट प्रदेश के नाम पर रखा है। कार्ट प्रदेश में उत्पन्न भू-आकृतियों को कार्ट धरातल (Karst Topography) कहते हैं। ऐसे प्रदेश संयुक्त राज्य अमेरिका में फ्लोरिडा, मैक्सिको और भारत में खासी और जबलपुर हैं।

अपरदन (Erosion)-भूमि के भीतरी पानी के कारण हुए भू-स्खलन द्वारा अपरदन का काम होता है। जब झुके हुए धरातल की भूमि पानी में संतृप्त हो जाती है, तो ऊँचे भागों से नीचे सरकने लगती है। इसे भू-स्खलन (Landslide) कहते हैं। पहाड़ी भागों में जब हिम पिघलती है, तो उस पानी के कारण चट्टानी भाग सरक के नीचे गिरते हैं। इन्हें हिमस्खलन (Avalanche) कहते हैं। इनसे पहाड़ी प्रदेशों में मार्ग बंद हो जाते हैं और बहुत नुकसान होता है।

अपरदन के रूप (Kinds of Erosion)-भूमि के भीतर के पानी द्वारा अपरदन के कई रूप हैं-

  1. घुलने की क्रिया (Solution)
  2. पानी दबाव क्रिया (Hydraulic action)
  3. अपघर्षण (Abrasion)

प्रश्न 2. भू-गर्भ जल का जमा करने का कार्य क्या है और इससे कौन-सी रूप-रेखाएँ अस्तित्व में आती हैं ? चित्र बनाकर उत्तर स्पष्ट करें।
उत्तर-
भू-गर्भ जल का निक्षेपण कार्य (Depositional Work of Underground Water)-

भू-गर्भ जल अपनी घुलनशक्ति द्वारा चूने को प्रभावित करता है। इस जल में जब चूने की मात्रा अधिक हो जाती है, तो उसकी परिवहन शक्ति नष्ट हो जाती है, फलस्वरूप चूने का निक्षेप होना आरंभ हो जाता है। भू-पटल की भीतरी उष्णता के कारण जल का वाष्पीकरण हो जाता है, जिसके कारण चूना बाकी रह जाता है।

भू-गर्भ जल निक्षेपण द्वारा भू-आकृतियों की उत्पत्ति (Landforms Produced by Deposition of Underground Water)-
भू-गर्भ जल द्वारा किए गए निक्षेपण से नीचे लिखी भू-आकृतियाँ अस्तित्व में आती हैं-

1. स्टैलक्टाइट (Stalactite)-चूने के प्रदेशों में भूमिगत गुफाओं की छतों से चूना मिले जल की बूंदें टपकती रहती हैं। वाष्पीकरण के कारण इनका जल सूख जाता है, परंतु चूना छतों के साथ लटकता रहता है। इस चूने में अनेक बँदें आकर मिलती रहती हैं। इस क्रिया के निरंतर होते रहने से कुछ समय बाद छत से लटकते हुए नुकीले चूने के स्तंभ बन जाते हैं। इन्हें स्टैलक्टाइट कहते हैं। ये स्तंभ छत की ओर से पतले होते हैं।

Class 11 Geography Solutions Chapter 3(iv) भू-गर्भ जल के अनावृत्तिकरण कार्य 1

2. स्टैलगमाइट (Stalagmite)-चूना प्रदेशों में भूमिगत गुफाओं की छत से चूना मिला हुआ पानी तल पर
भी टपकता रहता है। जल के वाष्पीकरण के बाद गुफाओं के तल से ऊपर की ओर चूने के स्तंभ बन जाते हैं। इन्हें स्टैलगमाइट कहते हैं। ये स्तंभ तल की ओर से मोटे और ऊपर की ओर से पतले होते जाते हैं। कई बार स्टैलक्टाइट और स्टैलगमाइट मिलकर एक पूर्ण स्तंभ का रूप धारण कर लेते हैं। इन्हें गुफ़ा-स्तंभ (Cave Pillars) का नाम दिया जाता है।

3. निम्नलिखित में अन्तर स्पष्ट करो :

निम्नलिखित में अंतर स्पष्ट करें-
(i) लैपिज़ – डोलाइन
(ii) स्टैलक्टाइट – स्टैलगमाइट
(iii) युवाला – पोनार
(iv) साधारण कुआँ -आरटेजीयन कुआँ
(v) गीज़र – चश्मे।
उत्तर-
(i) लैपिज़ (Lapies)- चूने के प्रदेश में घुलनशील क्रिया से जोड़ चौड़े हो जाते हैं और लंबवर्ती दीवारें बन जाती हैं। इन्हें Karren भी कहते हैं।
डोलाइन (Doline)- जब जल के सुराख बहुत चौड़े हो जाते हैं, तो इन्हें डोलाइन कहते हैं। ये भूमि के नीचे धंस जाने के कारण बनते हैं।

(ii) स्टैलक्टाइट (Stalactite)-

  1. कार्ट प्रदेशों में गुफ़ाओं की छत से लटकते हुए चूने के निक्षेप से बने स्तंभों को स्टैलक्टाइट कहते हैं।
  2. ये पतले और नुकीले स्तंभ होते हैं।
  3. ये चूने से घुले पानी की टपकती बूंदों से बनते हैं।

स्टैलगमाइट (Stalegmite)-

  1. कार्ट प्रदेशों में गुफाओं के धरातल से ऊपर उठे हुए चूने के निक्षेप से बने स्तंभों को स्टैलगमाइट कहते हैं।
  2. ये मोटे और बेलनाकार स्तंभ होते हैं।
  3. ये चूने से घुले पानी के फ़र्श पर बने निक्षेप से बनते हैं।

(iii) यूवाला (Uvala)- कार्ट प्रदेश में सुरंग की छत नष्ट होने से कई कुंड आपस में मिल जाते हैं। इन्हें यूवाला कहते हैं।
पोनार (Ponar)- पोनार का अर्थ है-सुरंग। यह जल-कुंड को गुफ़ा के साथ मिलाती है। यह लंबवत् दिशा में होती है।

(iv) साधारण कुआँ (Ordinary Well)-

  1. भूतल पर खोदे गए किसी सुराख को कुआँ कहते हैं जिसमें से किसी शक्ति का प्रयोग कर पानी बाहर निकाला जाता है।
  2. इसे स्थायी भू-जल स्तर पानी प्रदान करता है।
  3. इसमें किसी शक्ति का प्रयोग करके पानी निकालना पड़ता है।
  4. भारत के उत्तरी मैदान में सबसे अधिक कुएँ मिलते हैं।

आरटेजीयन कुआँ (Artesian Well)-

  1. जब भूमिगत जल एक सुराख से अपने-आप लगातार बाहर निकलता रहता है, तो उसे आरटेजीयन कुआँ कहते हैं।
  2. इसमें एक अप्रवेशी परत में पानी का भंडार होता है।
  3. इसमें एक सुराख में से पानी दबाव-शक्ति से बाहर निकलता है।
  4. ऑस्ट्रेलिया के क्वीनज़लैंड प्रदेश में सबसे अधिक आरटेज़ीयन कुएँ मिलते हैं।

(v) गीज़र (Geysers)-

  1. फव्वारे के समान उछलकर अपने-आप निकलने वाले गर्म पानी के चश्मे को गीज़र कहते हैं।
  2. गीज़र रुक-रुककर एक निश्चित समय के अंतर पर बाहर निकलता है।
  3. भाप के साथ उबलता हुआ पानी एक प्रकार की पाइप से बाहर निकलता है।
  4. यू०एस०ए० में ओल्ड फेथफुल प्रसिद्ध गीज़र है।

चश्मे (Springs)-

  1. जब भूमि का भीतरी पानी अपने-आप एक धारा के रूप में बाहर निकलता है, तो उसे गर्म पानी का चश्मा कहते हैं।
  2. यह जल लगातार बहता रहता है।
  3. यह धरातल की ढलान के अनुसार किसी प्राकृतिक सुराख से बाहर निकलता है।
  4. हिमाचल प्रदेश में मनीकरण में गर्म पानी के चश्मे हैं।

भू-गर्भ जल के अनावृत्तिकरण कार्य Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न (Objective Type Questions)

नीचे लिखे प्रश्नों के उत्तर 2-4 शब्दों में दें-

प्रश्न 1. भू-गर्भ जल या भूमिगत जल से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-जो जल मुसामदार चट्टानों के नीचे चला जाता है।

प्रश्न 2. भू-गर्भ जल का कार्य किन चट्टानों पर अधिक होता है ?
उत्तर-चूना पत्थर, चॉक, डोलोमाइट।

प्रश्न 3. जल के प्रयोग के कोई दो कार्य बताएँ।
उत्तर-कृषि, घरेलू ज़रूरतें।

प्रश्न 4. गर्म जल के चश्मे का एक उदाहरण दें।
उत्तर-मनीकरण।

प्रश्न 5. गीज़र क्या है ?
उत्तर-जब पानी भाप के फव्वारे के समान उछलता है।

प्रश्न 6. भारत में एक ताप-ऊर्जा के प्लांट का नाम बताएँ।
उत्तर-मनीकरण (हिमाचल प्रदेश)।

प्रश्न 7. Aonifer का क्या अर्थ है ?
उत्तर-जल प्रदान करना।

प्रश्न 8. सबसे अधिक आरटेजीयन कुएँ कहाँ हैं ?
उत्तर-ऑस्ट्रेलिया में Great Artesian Basin.

प्रश्न 9. भारत में गुफाओं के दो क्षेत्र बताएँ।
उत्तर-छत्तीसगढ़ और चेरापूंजी।

प्रश्न 10. पंजाब में कितने प्रतिशत भाग में भूमिगत जल से सिंचाई होती है ?
उत्तर-73%.

अति लघु उत्तरात्मक प्रश्न (Very Short Answer Type Questions)

नीचे लिखे प्रश्नों के उत्तर 2-3 वाक्यों में दें-

प्रश्न 1. भू-गर्भ जल से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-धरती के ठोस तल के नीचे चट्टानों और दरारों में मिलने वाले पानी को भू-गर्भ या भूमिगत जल कहते हैं।

प्रश्न 2. भू-गर्भ जल के दो मुख्य स्रोत बताएँ।
उत्तर-

  • आकाशीय जल
  • मैगमा से प्राप्त जल
  • खनिज पदार्थों से प्राप्त जल
  • हिम के पिघलने से प्राप्त जल।

प्रश्न 3. जल-चक्र से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-समुद्र, वायुमंडल और स्थल पर पानी के चक्र में घूमने की क्रिया को जल-चक्र कहते हैं।

प्रश्न 4. पारगामी और अपारगामी चट्टानों में क्या अंतर है ?
उत्तर-जिन चट्टानों में पानी प्रवेश कर जाता है, उन्हें पारगामी चट्टानें कहते हैं। जिन चट्टानों में पानी प्रवेश नहीं कर सकता, उन्हें अपारगामी चट्टानें कहते हैं।

प्रश्न 5. भू-जल स्तर किसे कहते हैं ?
उत्तर-भूमिगत जल की ऊपरी परत को भू-जल स्तर कहते हैं।

प्रश्न 6. भू-जल-स्तर किन तत्त्वों पर निर्भर करता है ?
उत्तर-

  • चट्टानों की पारगमता
  • वर्षा की मात्रा
  • चट्टानों की बनावट।

प्रश्न 7. आरटेज़ीयन कुआँ क्या होता है ?
उत्तर-यह एक विशेष प्रकार का कुआँ होता है, जिसमें पानी एक सुराख (Bore) के द्वारा अपने आप लगातार निकलता रहता है।

प्रश्न 8. ग्रेट आरटेज़ीयन बेसिन कहाँ स्थित है ?
उत्तर-ऑस्ट्रेलिया के पूर्वी क्षेत्र में।

प्रश्न 9. गीज़र से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-फव्वारे के समान उछलकर अपने आप निकलने वाले गर्म पानी के चश्मे को गीज़र कहते हैं।

प्रश्न 10. कार्ट प्रदेश से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-चूने के पत्थर की चट्टानों से बने प्रदेश को कार्ट प्रदेश कहते हैं।

प्रश्न 11. भू-गर्भ जल के अपरदन की क्रियाएँ बताएँ।
उत्तर-

  • घुलन क्रिया
  • अपघर्षण
  • जल-दबाव क्रिया।

प्रश्न 12. विश्व में सबसे प्रसिद्ध गीज़र कहाँ है ?
उत्तर-संयुक्त राज्य अमेरिका में Old faithful गीज़र।

प्रश्न 13. लैपीज़ किसे कहते हैं ?
उत्तर-कार्ट क्षेत्रों में समानांतर नुकीली पहाड़ियों को लैपीज़ कहते हैं।

प्रश्न 14. डोलाइन से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-वे चौड़े सुराख, जिनमें से नदियाँ नीचे चली जाती हैं, डोलाइन कहते हैं।

प्रश्न 15. भूमिगत गुफाएँ कैसे बनती हैं ?
उत्तर-चूने के पत्थर की चट्टानों के घुल जाने से गुफाएँ बन जाती हैं।

प्रश्न 16. स्टैलक्टाइट से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-कार्ट प्रदेशों में गुफ़ा की छत से लटकते, पतले, नुकीले चूने के स्तंभों को स्टैलक्टाइट कहते हैं।

प्रश्न 17. स्टैलगमाइट किसे कहते हैं ?
उत्तर-कार्ट क्षेत्रों में गुफा के फ़र्श से ऊपर की ओर जाते मोटे और बेलनाकार स्तंभों को स्टैलगमाइट कहते हैं।

लघु उत्तरात्मक प्रश्न (Short Answer Type Questions)

नीचे लिखे प्रश्नों के उत्तर 60-80 शब्दों में दें-

प्रश्न 1. जल-चक्र से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-जल-चक्र (Hydrologic Cycle)-समुद्र, वायुमंडल और स्थल पर पानी के चक्र में घूमने की क्रिया को जल-चक्र (Hydrologic Cycle) कहते हैं।
समुद्र का पानी वाष्प बनकर स्थल पर वर्षा का साधन बनता है। वर्षा के पानी का कुछ भाग वाष्प बनकर उड़ जाता है। कुछ भाग नदियों के रूप में बह (Run Off) जाता है
और कुछ भाग चट्टानों और दरारों में से होकर धरती के नीचे चला जाता है। इस प्रकार यह पानी नदियों, भूमिगत जल आदि साधनों द्वारा अंत में समुद्र में पहुँचता है। पानी का यह चक्र सदा चलता रहता है।

Class 11 Geography Solutions Chapter 3(iv) भू-गर्भ जल के अनावृत्तिकरण कार्य 2

प्रश्न 2. भू-जल स्तर की स्थिति किन तत्त्वों पर निर्भर करती है ?
उत्तर-भू-जल-स्तर की स्थिति (Position of Water Table)-अलग-अलग स्थानों पर जल स्तर की ऊँचाई भिन्न होती है।

  • नदियों और झीलों के किनारे पर जल-स्तर ऊँचा होता है।
  • मैदानों में जल-स्तर ऊँचा होता है।
  • मरुस्थलों में कम वर्षा के कारण, जल-स्तर सैंकड़ों मीटर नीचे होता है।
  • जल-स्तर वर्षा ऋतु में ऊँचा और शुष्क ऋतु में नीचे हो जाता है।
  • अधिक नमी वाले प्रदेशों में जल-स्तर ऊँचा होता है।

इस प्रकार भू-जल-स्तर की स्थिति नीचे लिखे तत्त्वों पर निर्भर करती है-

  1. चट्टानों की पारगमता
  2. वर्षा की मात्रा
  3. चट्टानों की मुसामदार रचना
  4. चट्टानों की बनावट।

प्रश्न 3. भूमि जल-स्तर से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर- भूमि जल स्तर अथवा संतृप्त तल (Water Table or Saturation Level)-भूमिगत जल के ऊपरी स्तर को भूमि जल-स्तर कहा जाता है। इसके नीचे चट्टानें जल-तृप्त रहती हैं। वर्षा ऋतु में भूमि जल-स्तर ऊँचा और शुष्क ऋतु में नीचे चला जाता है। भू-गर्भ भिन्नताओं और चट्टानों की पारगमता में परिवर्तन के कारण किसी भी क्षेत्र में अलग-अलग जल-स्तर पाए जाते हैं। एक स्थान पर पारगामी चट्टानों के नीचे यदि अपारगामी चट्टानें हों, तो जल का नीचे रिसना रुक जाता है और वहाँ एकत्र होकर जल-स्तर की रचना करता है। जल-स्तर के ऊंचा-नीचा होने को नीचे लिखे तत्त्व नियंत्रित करते हैं-

  1. चट्टानों की पारगमता (Permeability of Rocks)
  2. चट्टानों की मुसामदारी (Porosity of Rocks)
  3. चट्टानों की संरचना (Structure of the Rocks)
  4. चट्टान जोड़ (Rock Joints)
  5. वर्षा की मात्रा (Amount of Rainfall)

प्रश्न 4. चूने के पत्थर की चट्टानों के क्षेत्र में गुफाएँ किस प्रकार बनती हैं ?
उत्तर-गुफाएँ (Caves)-घुलनशील क्रिया से भूमि के निचले भाग खोखले हो जाते हैं। धरातल पर कठोर भाग छत के रूप में खड़े रहते हैं। इस प्रकार भूमि के अंदर ही कई मील लंबी गुफाएँ बन जाती हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका के केन्द्रीय प्रदेश की मैमथ गुफाएँ (Mammoth Caves) पूरे विश्व में प्रसिद्ध हैं, जोकि 48 कि०मी० लंबी हैं। भारत में मध्य प्रदेश के बस्तर जिले में कुटुमसर (Kutumsar) की गुफाएँ प्रसिद्ध हैं, जिसका बड़ा कक्ष (Chamber) 100 मीटर लंबा और 12 मीटर ऊँचा है।

प्रश्न 5. आरटेजीयन कुएँ किस प्रकार बनते हैं ?
उत्तर-आरटेज़ीयन कुएँ (Artesian Wells)-ये विशेष प्रकार के कुएँ होते हैं। इनमें पानी एक सुराख (Bore) के द्वारा अपने-आप ही लगातार बाहर निकलता रहता है। इस प्रकार के कुएँ सबसे पहले फ्रांस में अरटोइस (Artois) प्रदेश में खोदे गए, इसीलिए इन्हें आरटेजीयन कुएँ (Artesian Wells) कहते हैं।

Class 11 Geography Solutions Chapter 3(iv) भू-गर्भ जल के अनावृत्तिकरण कार्य 3

रचना (Formation)-आरटेजीयन कुओं की रचना नीचे लिखी परिस्थितियों में होती है-

  • दो अप्रवेशी चट्टानों (Impermeable Rocks) के बीच एक प्रवेशी चट्टान (Permeable Rock) हो।
  • प्रवेशी चट्टान पानी वाली होती है। इसे एक्वीफर (Aquifer) कहते हैं। इसके दोनों सिरे ऊँचे और खुले हों, जहाँ वर्षा अधिक हो।
  • इन चट्टानों का आकार एक तश्तरी (Saucer) के रूप में हो।
  • दोनों ढलानों से पानी नीचे वाले भाग में भर जाए।
  • अप्रवेशी चट्टानों में सुराख करके कुआँ खोदा जाता है।
  • पानी के दबाव की शक्ति (Hydraulic Pressure) से पानी तेज़ी से बाहर निकलता हो।

प्रदेश (Areas)-

  1. ऑस्ट्रेलिया के पूर्वी भाग में 172 लाख वर्ग कि०मी० क्षेत्र में लगभग 5 लाख आरटेजीयन कुएँ हैं।
  2. भारत में गुजरात राज्य, पांडिचेरी, तमिलनाडु के अरकाट क्षेत्र में और तराई क्षेत्रों में आरटेजीयन कुएँ मिलते हैं।

महत्त्व (Importance)-इन कुओं की शुष्क प्रदेशों और मरुस्थलों में पानी की प्राप्ति के लिए विशेष महानता है। ऑस्ट्रेलिया में इनकी महानता पशु-पालन के लिए है।

प्रश्न 6. गीज़र किस प्रकार बनते हैं ?
उत्तर-गीज़र (Geyser)-फव्वारे के समान उछलकर अपने आप निकलने वाले गर्म पानी के स्रोतों को गीज़र (Geyser) कहते हैं। (A Geyser means jumping water.)

रचना (Formation)-

  1. भूमि के नीचे अधिक ताप के कारण गर्म पानी का भंडार (Rescrvoir) होता है।
  2. गर्म पानी एक टेढ़ी-मेढ़ी नली (Pipe) के द्वारा ऊपर आता है।
  3. अधिक ताप के कारण पानी भाप बन जाता है।
  4. भाप के साथ उबलता हुआ पानी बाहर निकलता है।
  5. दुबारा पानी के उबलने में कुछ समय लगता है, इसलिए गीज़र रुक-रुककर पानी उछालते हैं।

प्रदेश (Areas)-

  1. गीज़र साधारण रूप में ज्वालामुखी प्रदेशों में होते हैं।
  2. प्रमुख गीज़र संयुक्त राज्य अमेरिका (U.S.A.) के Yellow Stone Park में, आइसलैंड (Iceland) और न्यूज़ीलैंड के उत्तरी द्वीप में मिलते हैं।
  3. संयुक्त राज्य अमेरिका (U.S.A.) में Old Faithful गीज़र कई सालों से प्रति 65 मिनट के अंतर से 100 मीटर ऊपर तक पानी फेंक रहा है।

प्रश्न 7. कार्ट भू-रचना से क्या अभिप्राय है ? ..
उत्तर-कार्ट प्रदेश (Karst Regions)-भूमि के निचले पानी का महत्त्वपूर्ण कार्य चूने के प्रदेश में होता है। भूमि के अंदर का पानी ऐसे विशेष प्रकार की भू-रचना का निर्माण करता है। ऐसे प्रदेश पत्थरों के रेगिस्तान, वनस्पति रहित और असमतल होते हैं। पानी को वायुमंडल से कार्बन-डाईऑक्साइड मिल जाती है। इसमें चूने का पत्थर घुल जाता है। ‘कार्ट’ शब्द यूगोस्लाविया के चूने की चट्टानों के प्रदेश से लिया गया है। इस प्रकार चूने की चट्टानों के प्रदेश की भू-रचना को काट भू-रचना कहते हैं। ऐसे प्रदेश फ्रांस, संयुक्त राज्य अमेरिका में फ्लोरिडा और केंटकी प्रदेश, मैक्सिको में यूकाटन प्रदेश और भारत में खासी और जबलपुर क्षेत्र हैं।

निबंधात्मक प्रश्न (Essay Type Questions)

नीचे लिखे प्रश्नों के उत्तर 150-250 शब्दों में दें-

प्रश्न 1. भू-गर्भ जल के अपरदनों का वर्णन करें।
उत्तर- भू-गर्भ जल के अपरदन को नियंत्रित करने वाले कारक (Factors Controlling the Erosion of Underground Water)-

चूना क्षेत्रों में चट्टानों में मुसाम और उनकी पारगमता के कारण नदियाँ भूमिगत होकर लुप्त हो जाती हैं। इन आकृतियों के विकास के लिए निम्नलिखित परिस्थितियाँ ज़रूरी हैं :

  1. असंगठित चूने के कणों के समतल प्रदेश ताकि जल जल्दी प्रवाहित न हो जाए।
  2. काफी मात्रा में वर्षा।
  3. चट्टानों में मुसाम और पारगमता।

प्रश्न 2. भू-गर्भ जल के अपरदन से कौन-सी आकृतियाँ बनती हैं ?
उत्तर-
भू-गर्भ जल के अपरदन द्वारा उत्पन्न भू-आकृतियाँ (Land forms Produced by Erosion of Underground Water)-

भू-गर्भ जल के अपरदन द्वारा नीचे लिखी भू-आकृतियाँ उत्पन्न होती हैं-

1. लैपीज़ (Lapies)—साधारण तौर पर चूने की चट्टानों में जोड़ होते हैं, जिनमें पानी प्रवेश कर जाता है और चूने को घोल देता है, जिसके फलस्वरूप ये जोड़ चौड़े हो जाते हैं। इनकी दीवारें लंबवर्ती और एक-दूसरे के समानांतर नुकीली हो जाती हैं। इन्हें फ्रांसीसी भाषा में लैपीज़ (Lapies) या जर्मन भाषा में केरन (Carren) या क्लिट (Clint) कहते हैं।

Class 11 Geography Solutions Chapter 3(iv) भू-गर्भ जल के अनावृत्तिकरण कार्य 4

2. गहरे सुराख (Sink Holes)—कार्बन-युक्त पानी जब अपनी घुलनशील क्रिया द्वारा लैपीज़ को बहुत अधिक चौड़ा कर देता है, तब बड़े-बड़े खड्डे बन जाते हैं जिन्हें गहरे सुराख कहते हैं।
3. बड़े सुराख (Swallow Holes)-धीरे-धीरे गहरे सुराख जल की घुलनशील क्रिया द्वारा चौड़े हो जाते हैं और नदियाँ इनमें प्रवेश करके भूमिगत हो जाती हैं और पानी अलोप हो जाता है। इन्हें बड़े सुराख कहते हैं।
4. पोनार (Ponar)-सर्बियन (Serbian) भाषा के इस शब्द पोनार (Ponar) का अर्थ है-सुरंग। वह सुरंग, जो बड़े सुराखों को भूमिगत केंद्रों से मिलाती है, सुरंग या पोनार कहलाती है। यह सुरंग आम तौर पर लंबवत् या थोड़ी झुकी होती है।

Class 11 Geography Solutions Chapter 3(iv) भू-गर्भ जल के अनावृत्तिकरण कार्य 5

5. डोलाइन (Doline)-घुलनशील क्रिया के कारण कभी-कभी बड़े सुराखों की भूमि अचानक नीचे फँस जाती है। इस प्रकार बड़े और गहरे सुराखों को डोलाइन कहते हैं।

6. युवाला (Uvalas)-कभी-कभी कार्ट प्रदेशों में सुरंगों की छत टूटकर नष्ट हो जाती है और कई कुंड आपस में मिल जाते हैं, जिसके फलस्वरूप विस्तृत खड्डे बन जाते हैं। इन्हें युवाला या कुंड-समूह कहते हैं।

7. भूमिगत गुफाएँ (Underground Caves)—वर्षा का पानी सुरंगों के द्वारा भूमिगत होता हुआ अप्रवेशी चट्टानों की परत तक पहुंच जाता है। धीरे-धीरे ऊपरी प्रवेशी चट्टानों को घोलकर लंबे मार्ग में ढलान के अनुसार जल-धारा बहने लगती है, फलस्वरूप अप्रवेशी चट्टान के ऊपर प्रवेशी चट्टान में भूमिगत जलधारा बहने लगती है। जल-धारा के क्षेत्र को भूमिगत गुफा कहते हैं। इन गुफाओं का अगला भाग जब टूटकर नष्ट हो जाता है, तो जल-धारा दोबारा प्रकट हो जाती है।

उदाहरण-(क) संयुक्त राज्य अमेरिका के केंटकी प्रदेश में मैमथ गुफाएँ (Mammoth Caves) बहुत प्रसिद्ध हैं।
(ख) भारत में छत्तीसगढ़ राज्य के कोतामसर (Kotamsar) की गुफाएँ प्रसिद्ध हैं।

8. प्राकृतिक पुल (Natural Bridge)-भूमिगत गुफाओं की छत अपने-आप कहीं-न-कहीं से टूटती रहती है। बीच का भाग पुल के समान खड़ा रहता है। इसे प्राकृतिक पुल कहते हैं।

9. राजकुंड और चूरनकूट (Poljes and Hums)-चूने के प्रदेश की छतें धीरे-धीरे टूटकर नष्ट होती रहती हैं। इसके फलस्वरूप यह प्रदेश मैदानी रूप में विशाल गर्त का रूप धारण कर लेता है। इसे राजकुंड कहते हैं। गुफाओं की छतों की चट्टानें राजकुंड के तल पर गिरकर ढेरों के रूप में एकत्र हो जाती हैं। इन ढेरों को चूरनकूट कहते हैं।

Class 11 Geography Solutions Chapter 3(iv) भू-गर्भ जल के अनावृत्तिकरण कार्य 6

प्रश्न 3. चश्मे की रचना, प्रकार और प्रदेशों के बारे में बताएँ।
उत्तर-
चश्मे (Springs)-
कई बार प्रवेशी चट्टानों की परतों के नीचे अप्रवेशी चट्टानें होती हैं। वर्षा का जल प्रवेशी चट्टानों को संतृप्त कर देता है और अप्रवेशी चट्टानों तक पहुंच जाता है और फिर अप्रवेशी चट्टानों की ढलान की दिशा में धीरे-धीरे बहता हुआ किसी दरार आदि से बाहर प्रकट हो जाता है। इसे जल का रिसना (Seepage) कहते हैं। यदि जल की मात्रा अधिक हो और जल तेज़ी से बाहर आए, तो उसे स्रोत या चश्मा कहा जाता है। आम तौर पर ये स्रोत दो प्रकार के होते हैं। एक स्थायी और दूसरा अस्थायी। जिनमें जल कभी नहीं सूखता, उन्हें स्थायी और जिनमें कुछ समय के लिए जल प्रकट होता है, उन्हें अस्थायी कहते हैं। रिसने की क्रिया से बनी झीलें कभी-कभी नदियों का स्रोत बन जाती हैं। कश्मीर घाटी में वैरीनाग (Verinag) इसी प्रकार की झील झेलम नदी का स्रोत है।

Class 11 Geography Solutions Chapter 3(iv) भू-गर्भ जल के अनावृत्तिकरण कार्य 7

चश्मे के प्रकार (Types of Springs)-

  1. साधारण चश्मे (Simple Springs)—इनमें साफ़ और मीठा पानी होता है।
  2. गर्म पानी के चश्मे (Hot Springs)-इनमें अधिक गहराई में गर्म पानी होता है।
  3. खनिज चश्मे (Mineral Springs)—इनमें गंधक, नमक आदि खनिज होते हैं।

भारत में पानी के चश्मों का वितरण (Distribution of Springs in India)-

  1. कुल्लू घाटी में – मनीकरण (Manikaran)
  2. कांगड़ा में – calciat (Jawalamukhi) .
  3. पटना में – राजगिरि (Raigiri)
  4. मुंघेर में – सीताकुंड (Sitakund)
  5. उत्तर प्रदेश में – गंगोत्री और यमुनोत्री (Gangotri and Yamunotri)

गीज़र (Geyser)—फव्वारे के समान उछलकर अपने आप निकलने वाले गर्म पानी के स्रोत को गीज़र (Geyser) कहते हैं। (A Geyser means jumping water.)
रचना (Formation)-

  1. भूमि के नीचे अधिक ताप के कारण गर्म पानी का भंडार होता है।
  2. गर्म पानी एक टेढ़ी-मेढ़ी नली (Pipe) के द्वारा ऊपर आता है।
  3. अधिक ताप के कारण पानी भाप बन जाता है।
  4. भाप के साथ उबलता हुआ पानी बाहर निकलता है।
  5. पानी को दोबारा उबलने में कुछ समय लगता है, इसलिए गीज़र रुक-रुककर पानी को उछालते हैं।

प्रदेश (Areas)-

  1. गीज़र आमतौर पर ज्वालामुखी प्रदेशों में होते हैं।
  2. प्रमुख गीज़र संयुक्त राज्य अमेरिका, न्यूज़ीलैंड और आइसलैंड में हैं।
  3. संयुक्त राज्य अमेरिका में Old Faithful कई वर्षों से प्रति 65 मिनट के अंतर से 100 मीटर पानी उछालता है।