Class 11 Political Science Solutions Chapter 10 समाज, राज्य एवं राष्ट्र

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न-

प्रश्न 1. समाज की परिभाषा दीजिए। इसके आवश्यक तत्त्व कौन-से हैं ? इसके उद्देश्यों की भी व्याख्या करें।
(Define Society. What are its essential elements ? Discuss its aims also.)
उत्तर-मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है। समाज के बिना मनुष्य रह ही नहीं सकता। मनुष्य दूसरे मनुष्यों से मिले बिना नहीं रह सकता। मनुष्य स्वभाव से आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए समाज में रहता है।
समाज का अर्थ (Meaning of the Society)—साधारण शब्दों में समाज व्यक्तियों का समूह है जो अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए इकट्ठे हुए हैं और परस्पर मिल-जुल कर रहते हैं ताकि अपने साझे उद्देश्य की पूर्ति कर सकें। विभिन्न लेखकों ने समाज शब्द की विभिन्न परिभाषाएं दी हैं, जिनमें मुख्य इस प्रकार हैं :-

  • डॉ० जैक्स Jenks) के अनुसार, “मनुष्यों के मैत्रीपूर्ण या शान्तिमय सम्बन्धों का नाम ही समाज है।” (“The term society means harmonious or at least peaceful relationship.”‘) .
  • मैकाइवर (MacIver) के अनुसार, “मनुष्यों का एक-दूसरे के साथ ऐच्छिक सम्बन्ध ही समाज है।” (“Society includes every willed relationship of man to man.”)
  • प्लेटो (Plato) ने समाज की परिभाषा इस प्रकार दी है, “समाज मनुष्य का बृहद् रूप है।” (“Society is a writ large of man.”)
  • गिडिंग्ज़ (Giddings) ने समाज की परिभाषा करते हुए लिखा है, “समाज व्यक्तियों का एक समूह है जो एकदूसरे के साथ कुछ सामान्य आदर्शों की पूर्ति के लिए सहयोग करते हैं।”
  • जी० डी० एच० कोल (G.D.H. Cole) का कहना है कि, “समाज बिरादरी में संगठित समुदायों व संस्थाओं का संयुक्त संगठन है।” (“Society is the complex of associations and institutions within the community.”)
  • डॉ० लीकॉक (Leacock) का कहना है कि, “समाज केवल राजनीतिक सम्बन्धों को ही नहीं बतलाता जिनसे कि मनुष्य आपस में बन्धे हुए हैं बल्कि यह मनुष्य के सभी प्रकार के सम्बन्धों और अनेक सामूहिक गतिविधियों की जानकारी कराता है।”
  • मैकाइवर (MacIver) ने कहा है कि “समाज सभी सामाजिक सम्बन्धों का ताना-बाना है।” (“Society is the web of social relationship.”)
  • समर और केलर (Summer and Keller) के शब्दों में, “समाज ऐसे व्यक्तियों का समूह है जो आजीविका उपार्जित करने के लिए और मनुष्य जाति की स्थिरता के लिए एक-दूसरे के साथ मिलकर रहते हैं।”
    सरल भाषा में मनुष्यों के सभी प्रकार के सम्बन्धों, समुदायों और संस्थाओं को जिनके द्वारा वे अपनी सामान्य आवश्यकताओं और उद्देश्यों की पूर्ति, जीवन रक्षा और उसके विकास का प्रयत्न करते हैं, समाज कहा जाता है।

समाज के आवश्यक तत्त्व (Essential Elements of Society)-

अथवा

समाज की विशेषताएं (Characteristics of Society)-

समाज की उपर्युक्त परिभाषाओं के आधार पर हम कह सकते हैं कि समाज के आवश्यक तत्त्व इस प्रकार हैं :

1. जनसमूह (Collection of People)—समाज के निर्माण के लिए पहला आवश्यक तत्त्व लोगों का समूह है। जिस प्रकार पति और पत्नी के बिना परिवार नहीं बन सकता तथा विद्यार्थियों के बिना स्कूल नहीं बन सकता है, उसी प्रकार लोगों के समूह के बिना समाज का निर्माण नहीं हो सकता।

2. संगठन (Organisation) समाज के निर्माण के लिए व्यक्तियों में किसी किस्म का संगठन होना अनिवार्य है। मेले में इकट्ठे हुए लोगों को समाज नहीं कहा जा सकता क्योंकि उन लोगों में संगठन नहीं होता।

3. सामान्य उद्देश्य (Common Aims)-समाज के सदस्यों के उद्देश्य सामान्य होते हैं। समाज का निर्माण किसी एक विशेष उद्देश्य की पूर्ति के लिए नहीं होता बल्कि मानव-जीवन की सब समस्याओं की पूर्ति के लिए ही समाज प्रयत्न करता है।

4. शान्ति और सहयोग (Peace and Co-operation)-जन-समूह में शान्ति तथा सहयोग का होना आवश्यक है। समाज अपने उद्देश्यों की पूर्ति शान्तिमय वातावरण में ही कर सकता है। मनुष्यों में परस्पर सहयोग का होना भी आवश्यक है। बिना सहयोग के समाज अपना कार्य नहीं चला सकता।

5. ऐच्छिक सदस्यता (Voluntary Membership)—समाज की सदस्यता अनिवार्य नहीं बल्कि इसके सदस्य अपनी इच्छा द्वारा ही इसके सदस्य बनते हैं।

6. समान अधिकार (Equal Rights)-समाज के सभी सदस्य समान हैं और समाज से जो भी लाभ हो सकते हैं, सभी उनमें समानता के आधार पर भागीदार बन सकते हैं।

7. वफादारी (Loyalty) समाज के सदस्यों में समाज के प्रति वफादारी की भावना होना बहुत आवश्यक है। व्यक्ति को समाज के नियमों का ईमानदारी से पालन करना चाहिए।

समाज के उद्देश्य (Aims of Society)-
समाज के मुख्य उद्देश्य निम्नलिखित हैं-

  • सामाजिक भावना की पूर्ति (Fulfilment of Social Instinct)—मनुष्य के अन्दर सामाजिक भावना है अर्थात् यह मनुष्य का स्वभाव है कि वह दूसरों के साथ मिल-जुल कर रहना चाहता है। अकेला व्यक्ति उदास रहता है और ऐसे में वह न तो खुद ही आनन्द ले सकता है न ही दुःखों को सहन कर सकता है। मनुष्य की यह सामाजिक भावना समाज द्वारा ही पूरी की जा सकती है।
  • भौतिक आवश्यकताओं की पूर्ति (Fulfilment of Physical Wants)—समाज अपने सदस्यों की सभी आवश्यकताएं पूरी करने का प्रयत्न करता है ! अकेला व्यक्ति कुछ नहीं कर सकता। समाज का सहारा लेकर उसे किसी वस्तु का अभाव नहीं रहता। रोटी, पानी, कपड़े आदि के अतिरिक्त जीवन और सम्पत्ति की सुरक्षा की व्यवस्था करना समाज का उद्देश्य है।
  • व्यक्ति का पूर्ण विकास (Full Development of Individual)-समाज अपने सदस्यों की आवश्यकताओं की पूर्ति करने के साथ उनके जीवन का पूर्ण विकास करने का भी प्रयत्न करता है। समाज का यह कर्त्तव्य है कि वह ऐसा वातावरण उत्पन्न करे जिसमें प्रत्येक व्यक्ति अपने जीवन का हर पहलू से पूर्ण विकास कर सके।
  • समस्त मानव जाति का कल्याण (Welfare of Mankind)-समाज की कोई संख्या निश्चित नहीं है। एक समाज बढ़ कर समस्त संसार में फैल सकता है, इसीलिए प्रत्येक समाज का यह भी उद्देश्य है कि वह अपने सदस्यों में विश्व-बन्धुत्व तथा विश्व शान्ति की भावना उत्पन्न करे और ऐसे कार्य करे जिनसे समस्त मानव-जीवन का कल्याण हो। व्यक्ति जिएं और जीने दें।

प्रश्न 2. राज्य और समाज में अन्तर करो। (Distinguish between State and Society.)। (Textual Question) (P.B. Sept., 1988)
उत्तर-प्राचीनकाल में राज्य और समाज में कोई अन्तर नहीं किया जाता था। प्लेटो तथा अरस्तु ने राज्य और समाज में कोई अन्तर नहीं किया। आदर्शवादी लेखक हीगल, कांट, बोसांके इत्यादि ने भी राज्य और समाज में कोई अन्तर नहीं माना। फासिस्टों ने भी राज्य और समाज को एक माना था, परन्तु वास्तव में इन दोनों में अन्तर है।

समाज और राज्य में निम्नलिखित अन्तर पाए जाते हैं-

1. समाज की उत्पत्ति राज्य से पहले हुई-समाज की उत्पत्ति राज्य से पहले हुई। समाज का जन्म मनुष्य के जन्म के साथ हुआ। अरस्तु के अनुसार, मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है। समाज के बिना मनुष्य नहीं रह सकता। परन्तु राज्य की स्थापना उस समय हुई जब समाज में राजनीतिक संगठन की स्थापना हुई। राजनीतिक संगठन की स्थापना उस समय हुई जब मनुष्यों में राजनीतिक चेतना की उत्पत्ति हुई।

2. समाज का उद्देश्य राज्य के उद्देश्य से व्यापक है-समाज का उद्देश्य मनुष्य के जीवन के सभी पहलुओं की उन्नति करना है। इसमें मनुष्य का आर्थिक, सामाजिक, धार्मिक तथा राजनीतिक जीवन आ जाता है। परन्तु राज्य का उद्देश्य मनुष्य के राजनीतिक जीवन को उन्नत करना होता है। राज्य मनुष्य के दूसरे पहलुओं की उन्नति के लिए विशेष ध्यान नहीं देता। समाज व्यक्ति के हर प्रकार के सम्बन्धों में हस्तक्षेप कर सकता है, परन्तु राज्य व्यक्ति के सभी कार्यों में हस्तक्षेप नहीं कर सकता। राज्य व्यक्ति के उन्हीं कार्यों में हस्तक्षेप करता है जिनका दूसरे लोगों के साथ सम्बन्ध हो और जिन्हें राजनीतिक तौर पर नियमित किया गया हो।

3. राज्य के पास निश्चित भू-भाग होता है, समाज के पास नहीं-राज्य के निर्माण के लिए निश्चित भू-भाग आवश्यक है। राज्य की सीमाएं निश्चित होती हैं। परन्तु समाज के निर्माण के लिए निश्चित भू-भाग आवश्यक नहीं है। समाज का क्षेत्र निश्चित नहीं होता। समाज का क्षेत्र दो-चार कुटुम्बों तक भी हो सकता है, एक राज्य तक भी हो सकता है, दो चार राज्यों तक भी हो सकता है।

4. राज्य संगठित होता है, समाज के लिए संगठन आवश्यक नहीं है-राज्य के निर्माण के लिए संगठन का होना आवश्यक है। इस संगठन को सरकार के नाम से जाना जाता है। सरकार राज्य का आवश्यक तत्त्व है। परन्तु समाज के निर्माण के लिए संगठन आवश्यक नहीं है। समाज संगठित भी हो सकता है और असंगठित भी अर्थात् समाज में संगठित और असंगठित दोनों तरह के समुदाय शामिल होते हैं।

5. राज्य समाज से छोटा है-समाज का क्षेत्र राज्य की अपेक्षा अधिक व्यापक होता है, समाज में सामाजिक भावना में बन्धे सभी सदस्य होते हैं, परन्तु राज्य में केवल वे ही व्यक्ति होते हैं जो राजनीतिक रूप से संगठित होते हैं।

6. राज्य के पास प्रभुसत्ता है, समाज के पास नहीं राज्य के पास सर्वोच्च शक्ति अर्थात् प्रभुसत्ता होती है। प्रभुसत्ता राज्य की आत्मा है। बिना प्रभुसत्ता के राज्य की स्थापना नहीं हो सकती। राज्य के नियमों को तोड़ने वाले को सज़ा दी जाती है। अतः राज्य अपने नियमों को शक्ति के ज़ोर पर लागू करता है, परन्तु दूसरी ओर समाज के पास प्रभुसत्ता नहीं होती। समाज के नियम तोड़ने वाले को कोई सजा नहीं मिलती। समाज के नियमों का पालन नैतिक शक्ति के आधार पर करवाया जाता है।

7. राज्य व्यक्ति के केवल बाहरी कार्यों को नियमित करता है जबकि समाज आन्तरिक कार्यों को भी राज्य केवल व्यक्तियों के बाहरी कार्यों को नियमित करता है। व्यक्ति क्या करता है, राज्य का इससे सम्बन्ध है। व्यक्ति क्या सोचता है, इससे राज्य का कोई सम्बन्ध नहीं है। परन्तु समाज का सम्बन्ध व्यक्ति के बाहरी और आन्तरिक दोनों प्रकार के कार्यों से है।

8. राज्य की सदस्यता अनिवार्य है, समाज की नहीं- प्रत्येक व्यक्ति किसी-न-किसी राज्य का नागरिक अवश्य होता है और नागरिक होने के कारण उसे भिन्न-भिन्न प्रकार के अधिकार और सुविधाएं प्राप्त होती हैं। राज्य की सदस्यता के बिना कोई भी व्यक्ति नहीं रह सकता। इसके विपरीत यद्यपि मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है तथापि वह समाज के बिना नहीं रह सकता, फिर भी उसके लिए समाज में रहना आवश्यक नहीं। वह समाज को छोड़ कर एकान्त में रह सकता है।

9. समाज मनुष्य की प्राकृतिक रुचियों का परिणाम है जबकि राज्य इसकी आवश्यकताओं का-समाज मनुष्य के लिए स्वाभाविक और प्राकृतिक है। मनुष्य की रुचियां उसको समाज में रहने की प्रेरणा देती हैं। परन्तु राज्य एक मानवीय संस्था है जो मनुष्य की आवश्यकताओं के कारण अस्तित्व में आई। ____ 10. राज्य कानूनों द्वारा तथा समाज रीति-रिवाज़ों द्वारा कार्य करता है-राज्य अपने सभी कार्य कानून की सहायता से करता है जबकि समाज अपने कार्यों को रीति-रिवाज़ों द्वारा करता है। राज्य के नियम और कानून स्पष्ट और सुनिश्चित होते हैं और इनको विधानमण्डल द्वारा बनाया जाता है। समाज के नियम, समाज के रीति-रिवाज, आदतें, प्रथाएं आदि हैं जोकि स्पष्ट और सुनिश्चित होते हैं।

निष्कर्ष (Conclusion)-राज्य और समाज में आपसी भिन्नता के बावजूद आपसी घनिष्ठता भी है। यह दोनों व्यक्ति के जीवन-निर्वाह और जीवन विकास के लिए अपने-अपने ढंग से परिस्थितियों व साधनों को जुटाते हैं। राज्य का क्षेत्र भले ही समाज के क्षेत्र से सीमित है, परन्तु समाज को बनाए रखने में राज्य का महत्त्वपूर्ण कार्य है। राज्य के बिना, समाज का अस्तित्व कठिन ही नहीं बल्कि असम्भव है।

प्रश्न 3. राज्य और राष्ट्र के अन्तर पर लेख लिखें। (Write a note on the distinction between State and Nation.) (Textual Question)
उत्तर-साधारणत: राज्य और राष्ट्र में कोई अन्तर नहीं माना जाता। राष्ट्र राज्य के बहुत ही समीप है, इसमें भी कोई शक नहीं। राज्यों के संघों को प्रायः राष्ट्रों का संघ ही कहा जाता है जैसे कि राष्ट्र संघ (League of Nations), संयुक्त राष्ट्र संघ (United Nations Organisation) । आधुनिक युग में राष्ट्र राज्य (Nation States) ही प्रायः मिलते हैं जो एक राष्ट्र एक राज्य अलग-अलग हैं और इनमें निश्चित रूप से भेद हैं। वैसे यदि ध्यान से सोचा जाए तो One Nation, One State का सिद्धान्त भी इन दोनों में आपसी अन्तर की ओर संकेत करता है।

राष्ट्र और राज्य में निम्नलिखित भेद पाए जाते हैं-

1. राज्य के चार अनिवार्य तत्त्व हैं, राष्ट्र के अनेक तत्त्व हैं-राज्य के चार आवश्यक तत्त्व हैं-जनसंख्या, निश्चित भू-भाग, सरकार तथा प्रभुसत्ता। इनके मिलने से ही राज्य का निर्माण होता है। इनमें से यदि एक भी तत्त्व का अभाव हो तो राज्य नहीं बन सकता, परन्तु राष्ट्र के निर्माण के लिए कोई तत्त्व अनिवार्य नहीं है। राष्ट्र तो सांस्कृतिक और आध्यात्मिक भावनाओं द्वारा संगठित समुदाय है। राष्ट्र का निर्माण लोगों में एकता की चेतना से ही होता है। एकता की यह चेतना कई तत्त्वों के आधार पर पैदा होती है जैसे कि समान भाषा, समान धर्म, समान इतिहास, समान रीतिरिवाज़ और परम्पराएं आदि। किसी राष्ट्र में एक तत्त्व प्रबल है तो किसी राष्ट्र में दूसरा।

2. राष्ट्र के लिए लोगों में एकता की भावना का होना आवश्यक है, राज्य के लिए नहीं-राष्ट्र उस जनसमुदाय को ही कहा जा सकता है जिसमें एकता या ऐक्य की भावना हो। परन्तु राज्य के लोगों में एकता की भावना का होना आवश्यक नहीं। राज्य के लिए लोगों का राजनीतिक दृष्टि से संगठित होना ही आवश्यक है।

3. राज्य के लिए एक निश्चित भू-भाग आवश्यक है, राष्ट्र के लिए नहीं-राज्य एक प्रादेशिक संस्था है, जिसका प्रभाव एक निश्चित भू-भाग तक ही रहता है, परन्तु राष्ट्र के लिए निश्चित भू-भाग का होना आवश्यक नहीं। राष्ट्र का सम्बन्ध लोगों में उत्पन्न एकता की भावना से है, किसी निश्चित प्रदेश से नहीं।

एक राज्य में कई राष्ट्र और एक राष्ट्र में कई राज्य हो सकते हैं-यह आवश्यक नहीं कि एक राज्य में एक राष्ट्र हो या एक राष्ट्र में एक राज्य की प्रभुसत्ता लागू होती हो। एक राज्य की प्रभुसत्ता दो या इससे भी अधिक राष्ट्रों पर लागू हो सकती है, जैसे कि ऑस्ट्रिया और हंगरी से मिला कर एक बार एक राज्य स्थापित कर लिया गया था, फिर भी उसके दो अलग-अलग राष्ट्र रहे। ऐसे ही दिसम्बर 1971 से पूर्व पाकिस्तान में दो राष्ट्र विद्यमान थे, एक पश्चिमी पाकिस्तान और दूसरा पूर्वी पाकिस्तान (बांग्ला देश)। इसके विपरीत एक राष्ट्र दो राज्यों में फैला हो सकता है जैसे कि जर्मन राष्ट्र तो एक है, परन्तु वह अक्तूबर, 1990 से पूर्व दो अलग-अलग राज्यों पूर्वी जर्मनी तथा पश्चिमी जर्मनी में फैला हुआ था। कोरिया राष्ट्र तो एक है परन्तु वह दो अलग-अलग राज्यों उत्तरी कोरिया व दक्षिणी कोरिया में फैला हुआ है।

5. राज्य के लिए प्रभुसत्ता का होना अनिवार्य है, राष्ट्र के लिए नहीं-राज्य के पास प्रभुसत्ता होती है और इसका होना उसके अस्तित्व के लिए अनिवार्य है। इसके बिना राज्य का निर्माण हो ही नहीं सकता, परन्तु राष्ट्र के पास कोई प्रभुसत्ता नहीं होती। राष्ट्र स्वतन्त्रता प्राप्त करने का प्रयत्न करता है और स्वतन्त्रता प्राप्त होने पर प्रभुसत्ता की भी प्राप्ति हो जाती है, परन्तु इसके साथ ही राज्य बन सकता है जो इस प्रभुसत्ता का प्रयोग करता है।

6. राज्य न तो राष्ट्र को उन्नत कर सकता है और न ही उसे समाप्त कर सकता है-राज्य के पास प्रभुसत्ता होने के कारण अपने भू-भाग में स्थित सब व्यक्तियों तथा व्यक्तियों की संस्थाओं पर उसका पूरा नियन्त्रण रहता है, परन्तु राष्ट्र को बनाने वाली एकता की भावना को न तो वह उन्नत कर सकता है और न ही उसे समाप्त कर सकता है। इसका उदाहरण अपने ही देश से दिया जा सकता है। अंग्रेज़ी शासकों के भारतीयों पर और पाकिस्तानी शासकों के बंगला देशियों पर हर प्रकार के सम्भव अत्याचारों के बावजूद भी वे शासक इसके राष्ट्र निर्माण में बाधक न बन सके। लोगों में राष्ट्रीय भावना अपने आप उत्पन्न होती है जिसके कई आधार हो सकते हैं।

अन्ततः इन दोनों में इतनी भिन्नता होते हुए यह कहना अत्युक्ति नहीं होगा कि ज्यों-ज्यों ‘एक राष्ट्र, एक राज्य’ के सिद्धान्त को व्यावहारिक रूप में स्वीकृति मिलती जाएगी और राष्ट्र राज्य स्थापित होते जाएंगे, राष्ट्र और राज्य में भिन्नता की अपेक्षा समीपता अधिक आती जाएगी।

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1. समाज का अर्थ एवं परिभाषा का वर्णन करें।
उत्तर-साधारण शब्दों में समाज व्यक्तियों का समूह है जो अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए इकट्ठे हुए हैं और परस्पर मिल-जुल कर रहते हैं ताकि अपने सांझे उद्देश्य की पूर्ति कर सकें। विभिन्न लेखकों ने समाज की परिभाषाएं विभिन्न प्रकार दी हैं जो इस प्रकार हैं-

  • डॉ० जैक्स के अनुसार, “मनुष्यों के मैत्रीपूर्ण या शान्तिमय सम्बन्धों का नाम ही समाज है।”
  • मैकाइवर के अनुसार, “मनुष्यों का एक-दूसरे के साथ ऐच्छिक सम्बन्ध ही समाज है।”
  • कोल का कहना है कि, “समाज बिरादरी में संगठित समुदायों व संस्थाओं का संयुक्त संगठन है।”

प्रश्न 2. समाज के चार आवश्यक तत्त्व बताइये।
उत्तर-समाज के मुख्य तत्त्व निम्नलिखित हैं-

  • जनसमूह-समाज के निर्माण के लिए पहला आवश्यक तत्त्व जनसमूह है। जिस प्रकार पति, पत्नी के बिना परिवार नहीं बन सकता तथा विद्यार्थियों के बिना स्कूल नहीं बन सकता, उसी प्रकार लोगों के समूह के बिना समाज का निर्माण नहीं हो सकता।
  • संगठन–समाज के निर्माण के लिए व्यक्तियों में किसी भी प्रकार के संगठन का होना आवश्यक है। मेले में इकट्ठे हुए लोगों के समूह को समाज नहीं कहा जा सकता क्योंकि उनमें संगठन नहीं होता।
  • सामान्य उद्देश्य-समाज के सदस्यों के उद्देश्य सामान्य होते हैं। समाज का निर्माण किसी एक विशेष उद्देश्य की पूर्ति के लिए नहीं होता बल्कि समाज के द्वारा तो मानव जीवन की सब समस्याओं की पूर्ति के लिए प्रयत्न किया जाता है।
  • शान्ति और सहयोग-जन-समूह में शान्ति और सहयोग का होना आवश्यक है।

प्रश्न 3. राष्ट्र क्या है ?
उत्तर- राष्ट्र’ की विभिन्न विद्वानों ने भिन्न-भिन्न परिभाषाएं दी हैं। बर्गेस के अनुसार, “राष्ट्र वह जनसंख्या है जो जातीय एकता के सूत्र में बंधी हो और भौगोलिक एकता वाले प्रदेशों में बसी हो।” __होज़र के अनुसार, “राष्ट्र का निर्माण जाति या भाषा के आधार पर नहीं बल्कि लोगों के इकट्ठे रहने की भावना के आधार पर होता है।”
गिलक्राइस्ट के अनुसार, “राष्ट्र = राज्य + राष्ट्रीयता” है।

परन्तु ये सभी परिभाषाएं ठीक नहीं हैं और राष्ट्र शब्द की परिभाषा किसी एक दृष्टिकोण के आधार पर नहीं की जा सकती। वास्तव में राष्ट्र ऐसे लोगों के समूह को कहते हैं जो जाति, धर्म, भाषा, संस्कृति, ऐतिहासिक या किसी और बात या बातों की समानता के आधार पर अपने आपको आत्मिक या मानसिक तौर पर एक समझें और इकट्ठे रहने में ही अपने जीवन और अपनी संस्कृति आदि को सुरक्षित महसूस करें।

प्रश्न 4. राज्य और समाज में चार अन्तर लिखें।
उत्तर-समाज और राज्य में निम्नलिखित मुख्य अन्तर पाए जाते हैं-

  • समाज की उत्पत्ति राज्य से पहले हुई-समाज का जन्म मनुष्य के जन्म के साथ हुआ। अरस्तु के अनुसार मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है। समाज के बिना मनुष्य रह नहीं सकता परन्तु राज्य की स्थापना उस समय हुई जब मनुष्य में राजनीतिक चेतना जागृत हुई और उसे राजनीतिक संगठन की आवश्यकता महसूस हुई।
  • समाज का उद्देश्य राज्य के उद्देश्य से व्यापक है-समाज का उद्देश्य मानव जीवन के सभी धार्मिक, आर्थिक, सामाजिक, राजनीतिक पहलुओं को उन्नत करना है जबकि राज्य का उद्देश्य मनुष्य के केवल राजनीतिक पहलू को विकसित करना है। इस प्रकार समाज का उद्देश्य, राज्य के उद्देश्य से व्यापक है।
  • राज्य के पास निश्चित भू-भाग होता है समाज के पास नहीं-राज्य के निर्माण के लिए निश्चित भू-भाग का होना आवश्यक है। राज्य की सीमाएं निश्चित होती हैं। परन्तु समाज के निर्माण के लिए निश्चित भू-भाग आवश्यक नहीं है। समाज का क्षेत्र निश्चित नहीं होता।
  • राज्य समाज से छोटा है-समाज का क्षेत्र राज्य की अपेक्षा अधिक व्यापक होता है।

प्रश्न 5. राज्य और राष्ट्र में चार अन्तर बताओ।
उत्तर-राज्य और राष्ट्र में निम्नलिखित भेद पाए जाते हैं-

  • राज्य के चार अनिवार्य तत्त्व हैं, राष्ट्र के अनेक तत्त्व हैं-राज्य के चार आवश्यक तत्त्व हैं-जनसंख्या, निश्चित भू-भाग, सरकार तथा प्रभुसत्ता। राज्य के निर्माण के लिए ये चारों तत्त्व अनिवार्य हैं परन्तु राष्ट्र के निर्माण के लिए कोई तत्त्व अनिवार्य नहीं है। राष्ट्र तो सांस्कृतिक और आध्यात्मिक भावनाओं द्वारा संगठित समूह है। राष्ट्र का निर्माण लोगों में एकता की चेतना की भावना से होता है।
  • राष्ट्र के लिए लोगों में एकता की भावना होना आवश्यक है, राज्य के लिए नहीं-राष्ट्र उस जन-समुदाय को ही कहा जा सकता है जिसमें एकता की भावना हो। परन्तु राज्य में लोगों में एकता की भावना का होना आवश्यक नहीं है। राज्य के लिए लोगों का राजनीतिक दृष्टि से संगठित होना ही आवश्यक है।
  • राज्य के लिए एक निश्चित भू-भाग आवश्यक है, राष्ट्र के लिए नहीं-राज्य एक प्रादेशिक संस्था है, जिसका प्रभाव एक निश्चित भू-भाग तक रहता है। परन्तु राष्ट्र के लिए निश्चित भू-भाग का होना अनिवार्य नहीं है।
  • राज्य के लिए प्रभुसत्ता का होना अनिवार्य है, राष्ट्र के लिए नहीं-राज्य के पास प्रभुसत्ता होती है और इसका होना राज्य के अस्तित्व के लिए अनिवार्य है। परन्तु राष्ट्र के पास कोई प्रभुसत्ता नहीं होती।

प्रश्न 6. राष्ट्र के निर्माण में सहायक तत्त्वों की व्याख्या करें।
उत्तर- किसी भी राष्ट्र के निर्माण के लिए लोगों में भावनात्मक एकता होना ज़रूरी है और इस भावनात्मक एकता के विकास के तत्त्व निम्नलिखित हैं-

  1. जातीय एकता-जिन लोगों के बीच अपनी जाति के प्रति लगाव होता है, उस जाति के लोग स्वाभाविक रूप से ही अपने आप को एक महसूस करते हैं।
  2. भाषा-समान भाषा के द्वारा विभिन्न जातियों व धर्मों में विश्वास रखने वाले लोग आपस में जुड़ते हैं। समान भाषा विभिन्न क्षेत्र में रहने वाले लोगों में भावनात्मक एकता पैदा करती है।
  3. एक धर्म-एक धर्म में विश्वास रखने वाले लोग ही भावनात्मक रूप से एक-दूसरे के साथ जुड़े होते हैं।
  4. समान उद्देश्य-राष्ट्रीय एकता और समान उद्देश्यों में गहरा सम्बन्ध है। जिन लोगों के उद्देश्य समान होते हैं वह आपस में इकट्ठे हो जाते हैं।

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1. राज्य और समाज में दो अन्तर लिखें।
उत्तर-

  • समाज की उत्पत्ति राज्य से पहले हुई-समाज का जन्म मनुष्य के जन्म के साथ हुआ। अरस्तु के अनुसार मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है। समाज के बिना मनुष्य रह नहीं सकता परन्तु राज्य की स्थापना उस समय हुई जब मनुष्य में राजनीतिक चेतना जागृत हुई और उसे राजनीतिक संगठन की आवश्यकता महसूस हुई।
  • समाज का उद्देश्य राज्य के उद्देश्य से व्यापक है-समाज का उद्देश्य मानव जीवन के सभी धार्मिक, आर्थिक, सामाजिक, राजनीतिक पहलुओं को उन्नत करना है जबकि राज्य का उद्देश्य मनुष्य के केवल राजनीतिक पहलू को विकसित करना है। इस प्रकार समाज का उद्देश्य, राज्य के उद्देश्य से व्यापक है।

प्रश्न 2. राज्य और राष्ट्र में दो अन्तर बताओ।
उत्तर-

  • राज्य के चार अनिवार्य तत्त्व हैं, राष्ट्र के अनेक तत्त्व हैं-राज्य के चार आवश्यक तत्त्व हैंजनसंख्या, निश्चित भू-भाग, सरकार तथा प्रभुसत्ता। राज्य के निर्माण के लिए ये चारों तत्त्व अनिवार्य हैं परन्तु राष्ट्र के निर्माण के लिए कोई तत्त्व अनिवार्य नहीं है। राष्ट्र का निर्माण लोगों में एकता की चेतना की भावना से होता है।
  • राष्ट्र के लिए लोगों में एकता की भावना होना आवश्यक है, राज्य के लिए नहीं-राष्ट्र उस जन-समुदाय को ही कहा जा सकता है जिसमें एकता की भावना हो। परन्तु राज्य में लोगों में एकता की भावना का होना आवश्यक नहीं है। राज्य के लिए लोगों का राजनीतिक दृष्टि से संगठित होना ही आवश्यक है।

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

प्रश्न I. एक शब्द/वाक्य वाले प्रश्न-उत्तर-

प्रश्न 1. समाज किसे कहते हैं ?
उत्तर-समाज व्यक्तियों का समूह है जो अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए एकत्र हुए हैं और परस्पर मिलजुल कर रहते हैं, ताकि अपने साझे उद्देश्य की पूर्ति कर सकें।”

प्रश्न 2. समाज की कोई एक परिभाषा लिखें।
उत्तर-डॉ० जैक्स के अनुसार, “मनुष्यों के मैत्रीपूर्ण या शान्तिमय सम्बन्धों का नाम ही समाज है।”

प्रश्न 3. समाज का कोई एक आवश्यक तत्त्व लिखें।
उत्तर-समाज के निर्माण के लिए पहला आवश्यक तत्त्व लोगों का समूह है।

प्रश्न 4. समाज का कोई एक उद्देश्य लिखें।
उत्तर-समाज मनुष्यों की सामाजिक भावना की पूर्ति करता है।

प्रश्न 5. राज्य और समाज में कोई एक अन्तर बताएं।
उत्तर-समाज की उत्पत्ति राज्य से पहले हुई।

प्रश्न 6. राष्ट्र की कोई एक परिभाषा दीजिए।
उत्तर-बर्गेस के अनुसार, “राष्ट्र वह जनसंख्या है जो जातीय एकता के सूत्र में बन्धी हो और भौगोलिक एकता वाले प्रदेश में बसी हो।”

प्रश्न 7. राज्य और राष्ट्र में एक अन्तर बताइए।
उत्तर-राज्य के चार अनिवार्य तत्त्व हैं, राष्ट्र के अनेक तत्त्व हैं।

प्रश्न 8. राष्ट्रवाद की भावना को प्रोत्साहित करने वाले किन्हीं चार कारकों के नाम लिखें।
उत्तर-(1) सामान्य मातृभूमि (2) वंश की समानता (3) सामान्य भाषा (4) सामान्य धर्म।

प्रश्न 9. समाज राज्य से पहले है। व्याख्या करें।
उत्तर-राजनीतिक संगठन की स्थापना उस समय हुई, जब मनुष्यों में राजनीतिक चेतना की उत्पत्ति हुई। इसलिए समाज राज्य से पहले है।

प्रश्न 10. राज्य के सप्तांग सिद्धान्त के बारे में आप क्या जानते हैं ?
उत्तर-कौटिल्य ने राज्य के सात अंग बताए हैं। राज्य के सात अंगों के कारण ही राज्य की प्रकृति के सम्बन्ध में कौटिल्य ने इस सिद्धान्त को राज्य का सप्तांग सिद्धान्त कहा है।

प्रश्न 11. कौटिल्य के अनुसार राज्य के सात अंग लिखो।
उत्तर-(1) स्वामी, (2) आमात्य, (3) जनपद, (4) दुर्ग, (5) कोष, (6) दण्ड, (7) मित्र ।

प्रश्न 12. “समाज सामाजिक सम्बन्धों का ताना-बाना है।” किसका कथन है?
उत्तर-यह कथन मैकाइवर का है।

प्रश्न 13. “किसी समूह के अन्दर संगठित समुदायों और संस्थाओं का योग ही समाज है।” किसका कथन है?
उत्तर-यह कथन जी० डी० एच० कोल का है।

प्रश्न 14. “समाज मनुष्य का वृहत्त रूप है।” किसका कथन है?
उत्तर-यह कथन प्लेटो का है।

प्रश्न 15. “समाज व्यक्तियों का एक समूह है जो एक-दूसरे के साथ कुछ सामान्य आदर्शों की पूर्ति के लिए सहयोग करते हैं। किसका कथन है?”
उत्तर-यह कथन गिडिंग्ज का है।

प्रश्न 16. समाज का कोई एक उद्देश्य लिखें।
उत्तर-समाज सामाजिक भावना की पूर्ति करता है।

प्रश्न 17. राष्ट्र को अंग्रेज़ी में क्या कहते हैं?
उत्तर-राष्ट्र को अंग्रेजी में नेशन (Nation) कहते हैं।

प्रश्न 18. ‘नेशन’ शब्द किस भाषा से लिया गया है?
उत्तर-‘नेशन’ शब्द लैटिन भाषा से लिया गया है।

प्रश्न 19. ‘नेशन’ शब्द किन दो शब्दों से मिलकर बना है?
उत्तर-नेशन शब्द नेशिया और नेट्स से मिलकर बना है।

प्रश्न 20. ‘नेशियो’ (Natio) शब्द का क्या अर्थ है ?
उत्तर-नेशियो शब्द का अर्थ जन्म या नस्ल है।

प्रश्न 21. ‘नेट्स’ (Natus) शब्द का अर्थ क्या है?
उत्तर-नेट्स शब्द का अर्थ पैदा हुआ है।

प्रश्न II. खाली स्थान भरें-

1. ………….. के पास निश्चित भू-भाग होता है, समाज के पास नहीं।
2. राज्य संगठित होता है, ……………… के लिए संगठन अवश्यक नहीं है।
3. राष्ट्र शब्द को अंग्रेज़ी में ……….. कहा जाता है।
4. ………….. के अनुसार “राष्ट्र से अभिप्राय एक जाति अथवा वंश वाला संगठन है।”
5. हैयज़ के अनुसार एक राष्ट्रीयता एकता और प्रभु-सम्पन्न स्वतन्त्रता प्राप्त करने से ………….. बन जाता है।
उत्तर-

  1. राज्य
  2. समाज
  3. नेशन (Nation)
  4. लीकॉक
  5. राष्ट्र ।

प्रश्न III. निम्नलिखित में से सही एवं ग़लत का चुनाव करें-

1. राज्य के चार अनिवार्य तत्त्व हैं, राष्ट्र के अनेक तत्त्व हैं।
2. राष्ट्र के लिए एक निश्चित भू-भाग होना आवश्यक है, राज्य के लिए नहीं।
3. राष्ट्र के लिए लोगों में एकता की भावना होना आवश्यक है, राज्य के लिए नहीं।
4. राष्ट्र के लिए प्रभुसत्ता का होना आवश्यक है, जबकि राज्य के लिए नहीं।
5. राज्य न तो राष्ट्र को उन्नत कर सकता है और न ही उसे समाप्त कर सकता है।
उत्तर-

  1. सही
  2. ग़लत
  3. सही
  4. ग़लत
  5. सही।

प्रश्न IV. बहुविकल्पीय प्रश्न-

प्रश्न 1. ‘नेशन’ शब्द किस भाषा से लिया गया है ?
(क) लैटिन
(ख) यूनानी
(ग) हिब्रू
(घ) फ़ारसी।
उत्तर-(क) लैटिन

प्रश्न 2. ‘नेशन’ शब्द किन दो शब्दों से मिलकर बना है ?
(क) डिमोस और क्रेटिया
(ख) नेशियो और नेट्स
(ग) स्टेट और स्टेट्स
(घ) कोई नहीं।
उत्तर-(ख) नेशियो और नेट्स

प्रश्न 3. ‘नेशयो’ (Natio) शब्द का अर्थ है-
(क) जन्म या नस्ल
(ख) भाषा
(ग) क्षेत्र
(घ) उपरोक्त सभी।
उत्तर-(क) जन्म या नस्ल।

प्रश्न 4. नेट्स (Natus) शब्द का अर्थ है-
(क) जन्म या नस्ल
(ख) क्षेत्र
(ग) पैदा हुआ
(घ) भाषा।
उत्तर-(ग) पैदा हुआ।