Class 12 Sociology Solutions Chapter 6 लिंग असमानता

पाठ्य-पुस्तक के प्रश्न (TEXTUAL QUESTIONS)

I. वस्तुनिष्ठ प्रश्न-

A. बहुविकल्पीय प्रश्न

प्रश्न 1. लिंग वर्ग संबंध व्याख्या करता है-
(क) पुरुष व स्त्री में असमानता
(ख) पुरुष शक्ति व स्त्री शक्ति के मध्य संबंध
(ग) पुरुष शक्ति व स्त्री शक्ति पर प्रबलता
(घ) उपर्युक्त सभी।
उत्तर-(ख) पुरुष शक्ति व स्त्री शक्ति के मध्य संबंध।

प्रश्न 2. ट्रांसजेंडर का अर्थ है-
(क) पुरुष
(ख) स्त्री
(ग) तीसरा लिंग वर्ग
(घ) कोई भी नहीं।
उत्तर-(ग) तीसरा लिंग वर्ग।

प्रश्न 3. नारीवाद के सिद्धान्त दिए गए हैं-
(क) कार्ल मार्क्स द्वारा
(ख) अगस्त काम्टे द्वारा
(ग) वैबर द्वारा
(घ) इमाइल दुर्थीम द्वारा।
उत्तर-(क) कार्ल मार्क्स द्वारा।

प्रश्न 4. लिंग भेदभाव क्या है ?
(क) व्यावहारिक अधीनता
(ख) निष्कासन
(ग) अप्रतिभागिता
(घ) उपर्युक्त सभी।
उत्तर-(घ) उपर्युक्त सभी।

प्रश्न 5. लिंग अनुपात का अभिप्राय है
(क) 1000 पुरुषों पर स्त्रियों की संख्या
(ख) 1000 स्त्रियों पर पुरुषों की संख्या
(ग) 1000 स्त्रियों पर बच्चों की संख्या
(घ) स्त्रियों व पुरुषों की संख्या।
उत्तर-(क) 1000 पुरुषों पर स्त्रियों की संख्या।

B. रिक्त स्थान भरें-

1. …………. से भाव पुरुष प्रधान परिवार में पिता की अहम् भूमिका है।
2. ………….. स्त्रियों की अधीनता से जुड़ा हुआ मौलिक मुद्दा है।
3. ………. नारीवाद पितृवाद के सार्वभौमिक स्वभाव को केन्द्रीय मानते हैं।
4. …………. परिवार पैतृक प्रधान होते हैं।
5. भारत की जनगणना 2011 दर्शाती है कि 1000 पुरुषों पर …….. स्त्रियां हैं।
उत्तर-

  1. पितृपक्ष की प्रबलता
  2. नारीवाद
  3. प्रगतिशील
  4. पितृसत्तात्मक
  5. 943.

C. सही/ग़लत पर निशान लगाएं-

1. लिंग वर्ग समाजीकरण ने नारी अधीनता को संस्थागत किया है।
2. लिंग अनुपात का अर्थ है 1000 स्त्रियों पर पुरुषों की संख्या।
3. तीसरा लिंग का अर्थ उन व्यक्तियों से है जिनमें पुरुष व स्त्री दोनों प्रकार के लक्षण हों।
4. उदार नारीवाद विश्वास रखता है कि सभी व्यक्ति समान व महत्त्वपूर्ण हैं।
उत्तर-

  1. सही
  2. गलत
  3. सही
  4. सही।

D. निम्नलिखित शब्दों का मिलान करें-

कॉलम ‘ए’ — कॉलम ‘बी’
लिंग स्थिति — पिता की अहम् भूमिका
पैतृक प्रधानता — अपेक्षित दृष्टिकोण व व्यवहार
साइमन डे० व्योवर — जैविकीय श्रेणी
लिंग वर्ग भूमिका — विण्डीकेशन ऑफ द राइटस ऑफ वुमन
वाल्स्टोन क्राफ्ट– द सैकण्ड सैक्स
उत्तर-
कॉलम ‘ए’ — कॉलम ‘बी’
लिंग स्थिति — जैविकीय श्रेणी
पैतृक प्रधानता — पिता की अहम् भूमिका
साइमन डे० व्योवर — द सैकण्ड सैक्स
लिंग वर्ग भूमिका — अपेक्षित दृष्टिकोण व व्यवहार
वाल्स्टोन क्राफ्ट– विण्डीकेशन ऑफ द राइटस ऑफ वुमन

II. अति लघु उत्तरों वाले प्रश्न

प्रश्न 1. लिंग वर्ग सम्बन्ध से आपका क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-लिंग वर्ग सम्बन्ध का अर्थ है पुरुष व स्त्री के सम्बन्ध जो विचारधारा, सांस्कृतिक, राजनीतिक व आर्थिक मुद्दों पर आधारित है।

प्रश्न 2. लिंग स्थिति की परिभाषा दें।
उत्तर-लिंग स्थिति एक जैविक श्रेणी है जिसमें उन जैविक या मनोवैज्ञानिक विशेषताओं को शामिल किया गया है जिसमें स्त्रियों व पुरुषों के बीच अंतरों को दर्शाया गया है।

प्रश्न 3. 0-6 वर्ष के 1000 लड़कों के पीछे लड़कियों की संख्या क्या कहलाती है ?
उत्तर-इसे बाल लिंग अनुपात कहते हैं।

प्रश्न 4. 1000 पुरुषों पर स्त्रियों की संख्या क्या कहलाती है ?
उत्तर-इसे लिंग अनुपात कहते हैं।

प्रश्न 5. पुरुष प्रधान परिवारों को क्या कहते हैं ?
उत्तर- यह वह परिवार होते हैं जिनमें पिता की प्रधानता होती है तथा घर में पिता की सत्ता चलती है।

प्रश्न 6. लिंग वर्ग की परिभाषा दें।
उत्तर- शब्द लिंग वर्ग समाज की तरफ से बनाया गया है। इस शब्द का अर्थ है वह व्यवहार जो सामाजिक प्रथाओं से बनता है।

प्रश्न 7. लिंग वर्ग सम्बन्ध से आपका क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-देखें प्रश्न 1.

प्रश्न 8. पैतृक प्रधानता क्या है ?
उत्तर- यह वह सामाजिक व्यवस्था है जिसमें पिता की सत्ता चलती है, उसकी आज्ञा मानी जाती है तथा वंश का नाम भी पिता के नाम से ही चलता है।

III. लघु उत्तरों वाले प्रश्न मन

प्रश्न 1. लिंग (Sex) तथा लिंग वर्ग (Gender) भेदभाव में जाति की क्या भूमिका है ?
उत्तर-लिंग तथा लिंग वर्ग भेदभाव में जाति की बहुत बड़ी भूमिका है। जाति ने अपने प्रबल समय में स्त्रियों पर बहुत से प्रतिबन्ध लगा दिए। वह शिक्षा नहीं ले सकती थी, घर से बाहर नहीं जा सकती थी, सम्पत्ति नहीं रख सकती थी। इस प्रकार उनकी स्थिति निम्न हो गई तथा लिंग आधारित भेदभाव शुरू हो गया।

प्रश्न 2. लिंग वर्ग समानता से आप क्या समझते हैं ?
उत्तर-लिंग वर्ग समानता का अर्थ है समाज में लिंग आधारित भेदभाव न हो तथा सभी को समान अधिकार प्राप्त हों। स्त्रियों को भी वह अधिकार प्राप्त हों जो पुरुषों को प्राप्त होते हैं। चाहे संविधान ने सभी को समान अधिकार दिए हैं परन्तु आज भी स्त्रियां समान अधिकारों के लिए जूझ रही हैं।

प्रश्न 3. क्या लिंग वर्ग समाजीकरण लिंग भेदभाव का संकेत है ? संक्षेप में बताएं।
उत्तर-जी हां, लिंग वर्ग समाजीकरण वास्तव में भेदभाव का प्रतीक है क्योंकि बचपन से ही बच्चों को लिंग के अनुसार रहने की शिक्षा दी जाती है। उनसे यह आशा की जाती है कि वह अपने लिंग अनुसार स्थापित नियमों के अनुसार व्यवहार करें जिसमें साफ भेदभाव झलकता है।

प्रश्न 4. क्या पैतृक प्रधानता स्त्रियों के विरुद्ध हिंसा का कारण है ? संक्षेप में टिप्पणी करें।
उत्तर-हमारा समाज प्रकृति से ही पैतृक प्रधान है जिसमें पुरुषों की प्रधानता होती है तथा घर के महत्त्वपूर्ण निर्णय पुरुष ही करते हैं। इसमें लड़कियों को सिखाया जाता है कि वह लड़कों से कमज़ोर है जिसका फायदा पुरुष उठाते हैं तथा स्त्रियों के विरुद्ध हिंसा करते हैं।

IV. दीर्य उत्तरों वाले प्रश्न

प्रश्न 1. नारीवाद के सिद्धान्त से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-नारीवाद आन्दोलनों तथा विचारधाराओं का एक संग्रह है जिनका उद्देश्य स्त्रियों के लिए समान राजनीतिक, आर्थिक तथा सामाजिक अधिकारों को परिभाषित करना, उन्हें स्थापित तथा उनकी रक्षा करना है। इसमें शिक्षा तथा रोज़गार के क्षेत्र में स्त्रियों के लिए समान अवसरों की स्थापना करने की मांग करना शामिल है। नारीवादी सिद्धान्तों का उद्देश्य लिंग आधारित असमानता की प्रकृति तथा कारणों को समझना व इसके परिणामस्वरूप उत्पन्न होने वाले लिंग वर्ग भेदभाव की राजनीति तथा शक्ति संतुलन के सिद्धान्तों पर इसके प्रभाव की व्याख्या करना है।

प्रश्न 2. सार्वजनिक क्षेत्र में लिंग वर्ग भेदभाव के उदाहरण दें।
उत्तर-इसमें कोई शक नहीं है कि जनतक क्षेत्र में लिंग आधारित भेदभाव होता है। जनतक क्षेत्र का अर्थ है राजनीतिक। अगर हम देश की राजनीति में स्त्रियों की भागीदारी का प्रतिशत देखें तो यह काफ़ी कम है। देश की संसद् में चुनी जाने वाली स्त्रियों की संख्या कभी भी 15% से अधिक नहीं हुई है। 2009-14 वाली 15वीं लोकसभा में यह संख्या 10% थी जो 2014-19 वाली 16वीं लोकसभा में 12% ही रह गई। इससे हमें लैंगिक भेदभाव का पता चलता है। हमारी वैधानिक संस्थाओं में स्त्रियों के लिए 33% स्थान आरक्षित करने का बिल अभी तक पास नहीं हुआ है जिससे पता चलता है कि लैंगिक भेदभाव चल रहा है। स्थानीय स्वैः संस्थाओं में चाहे स्त्रियों के लिए 33% स्थान आरक्षित हैं परन्तु वास्तव में सारा कार्य उनके पति ही करते हैं जो जनतक क्षेत्र में लिंग वर्ग भेदभाव दर्शाता है।

प्रश्न 3. लिंग वर्ग भेदभाव में जाति की क्या भूमिका है ?
उत्तर-अगर हम भारतीय समाज के इतिहास को देखें तो हमें पता चलता है कि लिंग वर्ग भेदभाव का सबसे बड़ा कारण ही जाति प्रथा है। जब हमारे समाज में जाति नहीं थी, उस समय स्त्रियों को बहुत से अधिकार प्राप्त थे तथा समाज में उन्हें ऊँचा दर्जा प्राप्त था। परन्तु जाति प्रथा के आने के पश्चात् यह स्थिति निम्न होनी शुरू हो गई। जाति प्रथा में स्त्रियों को अपवित्र समझा जाता था जिस कारण उनके साथ कई निर्योग्यताएं जोड़ दी गईं। बाल विवाह, दहेज प्रथा जैसी बुराइयों ने स्थिति को और खराब कर दिया। मध्य काल में जाति प्रथा ने स्त्रियों पर और कठोर प्रतिबन्ध लगा दिए ताकि मुसलमान उनसे विवाह न कर पाएं। इससे स्थिति और खराब हो गई। सती प्रथा तथा बहुविवाह जैसी प्रथाओं ने आग में घी डालने का कार्य किया। इस प्रकार हम कह सकते हैं कि लिंग वर्ग भेदभाव में जाति प्रथा की काफ़ी बड़ी भूमिका है।

प्रश्न 4. लिंग वर्ग भेदभाव में धर्म की क्या भूमिका है ?
उत्तर-लिंग वर्ग भेदभाव में हम धर्म की भूमिका को नकार नहीं सकते। धर्म ने भी स्त्रियों के प्रति भेदभाव सामने लाने में काफ़ी बड़ी भूमिका अदा की है। धर्म तथा जाति के कारण स्त्रियों को अपवित्र कहा गया। महीने के कुछ दिनों में उनके मंदिर जाने तथा धार्मिक कार्य करने पर पाबंदी लगा दी गई। आज भी इन प्रथाओं का पालन किया जाता है। देश के कई मंदिरों में आज भी स्त्रियां नहीं जा सकती क्योंकि उन्हें अपवित्र समझा जाता है। जब भारत पर दूसरे धर्म के लोगों ने हमला किया तो अलग-अलग धर्मों ने स्त्रियों पर बहुत-सी पाबंदियां लगा दी। ये पाबंदियां आज भी जारी हैं। चाहे आजकल लोगों में पढ़ने-लिखने के कारण धर्म का प्रभाव कम हो गया है परन्तु फिर भी लोग धर्म के विरुद्ध कोई कार्य नहीं करते तथा धर्म भी लिंग वर्ग भेदभाव का एक कारण बन जाता है।

प्रश्न 5. नगरीय भारत तथा ग्रामीण भारत में लिंग वर्ग के समाजीकरण पर टिप्पणी लिखें।
उत्तर-लिंग वर्ग समाजीकरण में बच्चों को यह सिखाया जाता है कि उन्होंने अपने लिंग के अनुसार किस प्रकार व्यवहार करना है। लड़कियों को ठीक कपड़े डालने के बारे में बताया जाता है, उन्हें ठीक ढंग से उठने-बैठने के बारे में कहा जाता है, उन्हें एक दायरे में रहना सिखाया जाता है तथा पारिवारिक प्रतिष्ठा का ध्यान रखने के लिए कहा जाता है। लिंग वर्ग समाजीकरण में ही लिंग वर्ग भेदभाव छुपा हुआ है। ग्रामीण भारत में तो यह काफ़ी अधिक होता है क्योंकि लोग कम पढ़े-लिखे होते हैं तथा पुरानी प्रथाओं से जुड़े होते हैं। चाहे नगरीय भारत की शिक्षा दर काफ़ी बढ़ गई है परन्तु फिर भी लड़कियों को एक विशेष ढंग से रहना सिखाया जाता है ताकि वे अपनी सीमा से बाहर न जाएं। यह सब कुछ लिंग वर्ग भेदभाव को ही बढ़ाता है।

V. अति दीर्घ उत्तरों वाले प्रश्न

प्रश्न 1. नारीवाद के महत्त्वपूर्ण सिद्धान्तों का वर्णन करें।
अथवा
मार्क्सवादी नारीवाद पर चर्चा कीजिए।
अथवा
नारीवाद के उदारवादी सिद्धान्त की व्याख्या कीजिए।
अथवा
प्रगतिशील नारीवाद और उदारवादी नारीवाद पर नोट लिखिए।
उत्तर-नारीवाद आंदोलन तथा विचारधाराओं का एक संग्रह है, जिनका उद्देश्य स्त्रियों के लिए समान राजनीतिक, आर्थिक तथा सामाजिक अधिकारों को परिभाषित करना, उनकी स्थापना व रक्षा करना है। इसमें शिक्षा तथा रोज़गार के क्षेत्र में स्त्रियों के लिए समान मौकों की स्थापना करने की मांग शामिल है। नारीवादी सिद्धान्तों का उद्देश्य लिंग वर्ग असमानता की प्रकृति तथा कारणों को समझना तथा इसके परिणामस्वरूप उत्पन्न होने वाले लिंग वर्ग भेदभाव की राजनीति व शक्ति संतुलन के सिद्धान्तों पर इसके प्रभाव की व्याख्या करना है।
नारीवाद एक विचारधारा है जिसमें कई प्रकार के विचारों को शामिल करते हैं जैसे कि मार्क्सवादी नारीवाद, प्रगतिशील नारीवाद, उदारवादी नारीवाद इत्यादि। यह सिद्धान्त वास्तव में पितृ सत्ता के विचार पर बल देते हुए स्त्रियों के आंदोलन के तर्क का निर्माण करते हैं। नारीवाद का मुख्य मुद्दा स्त्रियों की अधीनता से जुड़ा हुआ है। नारीवाद से संबंधित प्रमुख सिद्धान्तों का वर्णन इस प्रकार हैं-

1. मार्क्सवादी नारीवाद (Marxist Feminism)—यह सिद्धान्त कार्ल मार्क्स के समाजवादी सिद्धान्त में से निकला है। यह सिद्धान्त बताता है कि किस प्रकार स्त्रियों के शोषण को समाज की संरचना में योजनाबद्ध ढंग से बुना गया। उन्होंने पितृ सत्ता तथा पूँजीवाद के सम्बन्धों पर ध्यान केन्द्रित किया। उनके अनुसार स्त्रियों पर अत्याचार विचारधारक प्रभुत्व का परिणाम है जोकि आर्थिक क्रियाओं में से निकला है। फ्रेडरिक एंजल्स के अनुसार पूँजीवाद के विकास तथा व्यक्तिगत सम्पत्ति के सामने आने से समाज में स्त्रियों की स्थिति में काफ़ी परिवर्तन आया है। उनका मानना था कि स्त्रियों की क्रियाएं परिवार में ही सीमित थी जबकि बुर्जुआ परिवार पितृ सत्तात्मक तथा शोषण पर आधारित थे क्योंकि पुरुष हमेशा ध्यान रखते थे कि जायदाद उनके पुत्र के पास ही जाए। ___

2. प्रगतिशील नारीवाद (Radical Feminism)-उग्र नारीवाद पितृसत्ता की सर्वव्यापक प्रकृति पर ध्यान केंद्रित करता है तथा बताता है कि पुरुष स्त्रियों को दबाने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। Simonede Beauvoir ने एक पुस्तक लिखी ‘The Second Sex’ जिसमें उन्होंने कहा कि, “स्त्रियां पैदा नहीं हुई बल्कि बनाई गई हैं।” उनका कहना था कि गर्भपात अधिकार की मौजूदगी, प्रभावशाली जन्म दर पर नियन्त्रण तथा एक विवाह के खत्म होने से उन्हें अपने शरीर पर अधिक अधिकार होगा। इस विचारधारा के समर्थक विश्वास करते हैं कि स्त्रियों के शोषण का आधार उनका प्रजनन सामर्थ्य है जिस पर पुरुषों का नियन्त्रण होता है। उनका कहना था कि पितृसत्तात्मक प्राकृतिक अथवा आवश्यक नहीं है बल्कि इसकी जड़ें जैविकता से जुड़ी हैं। इससे परिवार में प्राकृतिक श्रम विभाजन हो गया तथा स्त्रियों की स्वतन्त्रता उस समय ही मुमकिन है जब लिंग वर्ग अंतरों को खत्म कर दिया जाए।

3. उदारवादी नारीवाद (Liberal Feminism)–उदारवादी नारीवाद के समर्थकों का विश्वास है कि सभी व्यक्ति महत्त्वपूर्ण हैं तथा सभी के साथ समानता वाला व्यवहार होना चाहिए। Mary Wollstone Craft ने 1972 में एक पुस्तक लिखी ‘Vindication of the Rights of Women’ । आधुनिक नारीवाद की यह प्रथम पुस्तक थी जिसने स्त्रियों के लिए वोट के अधिकार का समर्थन किया। उनका मानना था कि अगर स्त्रियों को प्राकृतिक अधिकारों के अनुसार शिक्षा प्राप्त हो जाए तो राजनीतिक व सामाजिक क्षेत्र में लिंग के अंतर का कोई महत्त्व ही नहीं रहेगा।

प्रश्न 2. ‘स्त्री पैदा नहीं हुई-बनाई गई है’ इस विषय पर अपने विचार विस्तार में दें।
उत्तर-अस्तित्ववादी कहते हैं कि व्यक्ति पैदा नहीं होता बल्कि वह हमारे विकल्पों का परिणाम है क्योंकि हम स्वयं को अपने साधनों तथा समाज की तरफ से दिए साधनों से बनाते हैं। Simonde Beauvoir ने एक पुस्तक लिखी The Second Sex’ जिसमें उन्होंने मानवीय स्वतन्त्रता की एक अस्पष्ट तस्वीर पेश की कि स्त्रियां अपने शरीर के कारण कौन-सी असुविधाओं के साथ जी रही हैं। इस पुस्तक में उन्होंने बताया कि किस प्रकार स्त्रियां अपने शरीर तथा समय के साथ उसमें आने वाले परिवर्तनों को देखती हैं। यहां वह स्त्री के शरीर को सुविधा व असुविधा के रूप में देखती है तथा स्त्री को स्वतन्त्र तथा दबे हुए व्यक्ति के रूप में देखती है। वास्तव में यह स्त्री पर निर्भर करता है कि वह किस हद तक स्वयं को स्वतन्त्र वस्तु के रूप में देखती है या समाज की तरफ से घूरे जाने वाली वस्तु के रूप में देखती है।

कुछ व्यक्तियों के अनुसार स्त्री एक घूरने वाली वस्तु है जिसकी परिभाषा हम लिखते हैं। De Beauvoir इस विचार को उठाती हैं तथा इसे पुरुषों के स्त्रियों के बारे में विचार पर लागू करती हैं। स्त्री के बारे में यह विचार एक पुरुषों द्वारा परिभाषित संकल्प है जिसमें स्त्री को वस्तु समझा जाता है तथा पुरुष स्वयं को एक Subject समझता है। इस प्रकार शब्द ‘स्त्री’ का वह अर्थ है जो पुरुषों द्वारा दिया गया है। De Beauvoir कहती हैं कि स्त्रियों की जैविक स्थिति उनके विरुद्ध नहीं है बल्कि वह स्थिति है जो सकारात्मक या नकारात्मक बन जाती है। स्त्रियों के जैविक अनुभव जैसे कि गर्भवती होना, माहवारी, शारीरिक अंगों का उभार इत्यादि का स्वयं में कोई अर्थ नहीं है परन्तु विरोधी समाज में इन्हें एक बोझ समझा जाता है तथा पितृ सत्तात्मक समाज में इन्हें स्त्रियों के लिए एक असुविधा के रूप में देखा जाता है।

इस प्रकार चाहे स्त्री प्राकृतिक रूप से पैदा होती है परन्तु उसके बारे में अलग-अलग प्रकार के विचार अलग-अलग समाजों में अलग-अलग ही बनते हैं। कई समाजों में स्त्रियों को उपभोग करने वाली वस्तु समझा जाता है तथा उन पर कई प्रकार के अत्याचार होते हैं जैसे कि बलात्कार, छेड़छाड़, मारना पीटना, घरेलू हिंसा, दहेज, हत्या इत्यादि। यह सब कुछ समाज की मानसिकता के कारण होता है जो स्त्रियों के प्रति बनी हुई है। इस कारण ही राजनीति में स्त्रियों की भागीदारी कम होती है। परन्तु कई समाज ऐसे भी हैं जहाँ स्त्रियों का काफ़ी सम्मान होता है तथा उनके विरुद्ध कोई अत्याचार नहीं किए जाते। वहां राजनीतिक क्षेत्र में उनकी भागीदारी काफ़ी अधिक होती है तथा वे समाज के प्रत्येक क्षेत्र में भाग लेती हैं।

इस प्रकार हम कह सकते हैं कि यह सब कुछ समाज पर निर्भर करता है कि वह स्त्री को किस रूप में देखता है। अगर उन्हें ऊँचा दर्जा नहीं दिया जाएगा तथा घूरने वाली वस्तु समझा जाएगा तो समाज कभी भी प्रगति नहीं कर पाएगा। इस प्रकार हम कह सकते हैं कि स्त्रियां पैदा नहीं होती बल्कि उन्हें बनाया जाता है।

प्रश्न 3. क्या लिंग वर्ग असमानता भारत के लोकतांत्रिक समाज में वाद-विवाद का विषय है ?
उत्तर-भारत एक लोकतांत्रिक देश है जहाँ देश के सभी नागरिकों को बिना किसी भेदभाव के बहुत से अधिकार समान रूप से दिए गए हैं। हमारा एक मूलभूत अधिकार है कि सम्पूर्ण देश में समानता मौजूद है अर्थात् व्यक्ति किसी भी जाति, लिंग, धर्म, रंग इत्यादि का हो, सब के साथ समान व्यवहार किया जाएगा। परन्तु अगर हम देश में वास्तविकता देखें तो समानता मौजूद नहीं है। बहुत से क्षेत्रों में स्त्रियों के साथ भेदभाव किया जाता है। हम अलग-अलग क्षेत्रों में लैंगिक असमानता की मौजूदगी देख सकते हैं तथा यह ही देश में लोकतांत्रिक समाज के होने पर प्रश्न खड़ा करती है। इसकी कई उदाहरणें हम दे सकते हैं जैसे कि-

(i) देश के निर्णय लेने की प्रक्रिया में स्त्रियों की भागीदारी अधिक नहीं है। ग्रामीण तथा नगरीय समाजों में स्त्रियों के पास अपनी इच्छा से कुछ करने की स्वतन्त्रता नहीं होती। उन्हें वह ही करना पड़ता है जो उनके परिवार की इच्छा होती है। परिवार की इच्छा के बिना वह कुछ नहीं कर सकती।

(ii) जब भी जाति, रिश्तेदारी या धर्म का सवाल होता है तो स्त्रियों को ही निशाना बनाया जाता है। अगर हम ध्यान से देखें तो हम कह सकते हैं कि स्त्रियां पितृसत्ता की कैदी हैं। उनकी जब भी पुरुषों से तुलना की जाती है तो हमेशा ही उनके साथ भेदभाव होता है जो लोकतन्त्र की आत्मा के विरुद्ध है।

(iii) स्त्रियां सरकारी नौकरियां कर रही हैं तथा प्राइवेट भी। चाहे सरकारी क्षेत्र में स्त्री तथा पुरुष को एक जैसे कार्य के लिए समान वेतन मिलता है परन्तु प्राइवेट क्षेत्र में ऐसा नहीं होता। वहां पर स्त्रियों को पुरुषों से कम वेतन मिलता है तथा उनका काफ़ी शोषण भी किया जाता है जो हमारे मूलभूत अधिकारों के विरुद्ध है।

(iv) कम होता लिंग अनुपात भी हमें लिंग वर्ग भेदभाव के बारे में बताता है। स्त्रियों को एक निशाने के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। राजनीतिक क्षेत्र में उनकी भागीदारी को कोई महत्त्व नहीं दिया जाता।

(v) संविधान ने स्त्रियों को समान अधिकार दिए हैं तथा कई कानूनों से उन्हें अपने पिता की सम्पत्ति में अपना हिस्सा लेने का अधिकार दिया गया है। परन्तु अगर वह अपने भाइयों से पिता की सम्पत्ति में हिस्सा मांगती हैं तो उनकी हमेशा आलोचना की जाती है तथा बात न्यायालय तक पहुँच जाती है।

(vi) इन उदाहरणों को देख कर हम कह सकते हैं कि भारतीय समाज के लोकतांत्रिक होने पर प्रश्न चिह्न खड़ा होता है। जब तक हम स्त्रियों की राजनीतिक, सामाजिक तथा आर्थिक क्षेत्र में समानता सुनिश्चित नहीं करते, उस समय तक हम अपने देश को सच्चे अर्थों में लोकतांत्रिक नहीं कह सकते।

प्रश्न 4. भारत के राजनीतिक क्षेत्र में लिंग वर्ग भेदभाव की महत्त्वपूर्ण विशेषताओं का वर्णन करें। __उत्तर- अगर हम भारतीय राजनीति की तरफ देखें तो हमें कुछ ऐसे लक्षण मिल जाएंगे जो लिंग वर्ग भेदभाव को दर्शाते हैं। इनमें से कुछ का वर्णन इस प्रकार है
(i) भारत की राजनीति में स्त्रियों की भागीदारी काफ़ी कम है। अगर हम 1952 में गठित हुई प्रथम लोकसभा से लेकर 2014 में गठित हुई 16वीं लोकसभा की तरफ देखें तो हमें पता चलता है कि लोक सभा में उनकी भागीदारी काफ़ी कम है। प्रथम लोकसभा में केवल 22 स्त्रियां ही चुनकर आई थीं जो कि 5% के करीब बैठता है। परन्तु 2014 में बनी 16वीं लोकसभा में यह बढ़ कर 66 हो गया जो 12.2% बैठता है। इससे पता चलता है कि लोकसभा में उनकी भागीदारी कितनी कम है। यह सब कुछ नीचे दी गई सूची से स्पष्ट हो जाएगा :
im
इस सूची को देखकर पता चलता है कि इस क्षेत्र में कितनी लिंग वर्ग असमानता मौजूद है।

(ii) राजनीतिक दल भी अधिक स्त्रियों के राजनीतिक क्षेत्र में आने के पक्ष में नहीं हैं। शायद इसका कारण यह है कि हमारा समाज पितृ प्रधान है तथा पुरुष स्त्रियों की आज्ञा मानने को तैयार नहीं होते। हमारी संसद् में एक बिल पेश किया गया था जिसके अनुसार देश की सभी वैधानिक संस्थाओं में स्त्रियों के लिए 33% स्थान आरक्षित रखने का प्रावधान था परन्तु वह बिल कई वर्ष बाद भी पास नहीं हो पाया है। इससे हमें पता चलता है कि राजनीति में किस प्रकार लिंग वर्ग भेदभाव जारी है।

(iii) यह भी देखा गया है कि चाहे स्त्रियां किसी राजनीतिक दल के बड़े नेताओं में शामिल हो जाती हैं परन्तु दल के निर्णय लेने की प्रक्रिया में उनकी भूमिका काफ़ी कम होती है। अगर उन्हें अपनी योग्यता साबित करने का मौका दिया जाता है तो उन्हें दल की महिला विंग का प्रधान बना दिया जाता है ताकि वह स्त्रियों से संबंधित मुद्दों को संभाल सकें। इस प्रकार लिंग वर्ग भेदभाव राजनीतिक दलों में साफ झलकता है।

(iv) हमारे देश में तीन प्रकार की सरकारें मिलती हैं—केंद्र सरकार, राज्य सरकारें तथा स्थानीय स्वैः संस्थाएं। स्थानीय स्वैः संस्थाओं में गांवों तथा नगरों दोनों संस्थाओं में स्त्रियों के लिए एक तिहाई स्थान आरक्षित रखे गए हैं जहां से केवल स्त्रियां ही चुनाव लड़ेंगी। उस स्थान पर स्त्री के चुनाव जीतने के पश्चात् सारा कार्य उनके पति करते हैं वह नहीं। बहुत ही कम स्त्रियां हैं जो अपना कार्य स्वयं करती हैं तथा अपने क्षेत्र का विकास करती हैं। ___यहां आकर मुख्य मुद्दा सामने आता है कि राजनीतिक क्षेत्र तथा निर्णय लेने की प्रक्रिया में स्त्रियों की भागीदारी काफ़ी कम है। वह तो स्वयं को मुक्त रूप से प्रकट कर नहीं सकती हैं तथा विकास की प्रक्रिया से दूर हो जाती हैं।

प्रश्न 5. लिंग वर्ग भेदभाव किस प्रकार सर्वपक्षीय विकास में रुकावट है ? (P.S.E.B. 2017)
उत्तर-इसमें कोई शक नहीं है कि लिंग वर्ग भेदभाव सर्वपक्षीय विकास के रास्ते में एक रुकावट है। हमारा समाज दो लिंगों के आपसी सहयोग पर टिका हुआ है तथा वह हैं पुरुष तथा स्त्री। समाज को चलाने व आगे बढ़ाने के लिए भी दोनों के सहयोग की आवश्यकता होती है। एक के न होने की स्थिति में समाज न तो आगे बढ़ सकेगा व न ही चल सकेगा। लिंग वर्ग भेदभाव तथा सर्वपक्षीय विकास को हम कुछ प्रमुख बिंदुओं पर रख सकते हैं जिनका वर्णन इस प्रकार है

(i) पुराने समय में श्रम विभाजन लिंग के आधार पर होता था। पुरुष खाने का प्रबन्ध करते थे तथा स्त्रियां घर संभालती थीं व बच्चों का पालन-पोषण करती थीं। इस सहयोग के कारण ही समाज ठीक ढंग से आगे बढ़ सका है।

(ii) आजकल के समय में भी पुरुष व स्त्री का सहयोग सर्वपक्षीय विकास के लिए बहुत आवश्यक है क्योंकि अगर दोनों का सहयोग नहीं होगा तो एक घर का विकास नहीं हो सकता, समाज तो बहुत दूर की बात है।

(iii) यह कहा जाता है कि समाज की आधी जनसंख्या स्त्रियां ही हैं। अगर इस आधी जनसंख्या को विकास के क्षेत्र में भागीदार नहीं बनाया जाएगा तथा घर की चारदीवारी में बंद रखा जाएगा तो उस समाज की आय भी आधी ही रह जाएगी। वह आय आवश्यकताओं को ही मुश्किल से पूरा करेगी। परन्तु अगर वह आधी जनसंख्या आय बढ़ाने में भागीदार बनेगी तो परिवार, समाज तथा देश की प्रगति अवश्य हो जाएगी।

यहां हम एक उदाहरण ले सकते हैं भारतीय समाज व पश्चिमी समाजों की। भारतीय समाज में लिंग वर्ग भेदभाव काफ़ी अधिक है जिस कारण कई क्षेत्रों में स्त्रियां अपने मूलभूत अधिकारों का प्रयोग नहीं कर पाती हैं तथा उन्हें सम्पूर्ण जीवन ही घर की चारदीवारी में व्यतीत करना पड़ता है। वह आर्थिक, राजनीतिक क्षेत्र में भाग नहीं ले सकतीं जिस कारण देश का सर्वपक्षीय विकास नहीं हो सका है। इसके विपरीत अगर हम पश्चिमी देशों की तरफ देखें तो उनके आर्थिक तथा राजनीतिक क्षेत्र में स्त्रियों की भागीदारी काफ़ी अधिक है। वे पुरुषों के कंधे से कंधा मिलाकर कार्य करती हैं, पढ़ती हैं तथा पैसे कमाती हैं। इस कारण परिवार, समाज तथा देश का सर्वपक्षीय विकास हुआ है। दोनों समाजों की तुलना करके ही हमें अंतर पता चल जाता है। जहां पर लिंग वर्ग भेदभाव होता है, वहां विकास कम है तथा जहां लैंगिक भेदभाव नहीं होता वहां विकास ही विकास होता है। इस प्रकार हम कह सकते हैं कि लैंगिक भेदभाव समावेशी विकास के रास्ते में एक रुकावट है।

अन्य महत्त्वपूर्ण प्रश्न (OTHER IMPORTANT QUESTIONS)

I. वस्तुनिष्ठ प्रश्न-

A. बहुविकल्पीय प्रश्न

प्रश्न 1. लिंग के आधार पर समाज में कितने वर्ग मिलते हैं ?
(क) एक
(ख) दो
(ग) तीन
(घ) चार।
उत्तर-(ख) दो।

प्रश्न 2. लिंग शब्द एक ………. शब्द है।
(क) सामाजिक
(ख) जैविक
(ग) सामाजिक सांस्कृतिक
(घ) राजनीतिक।
उत्तर-(ख) जैविक।

प्रश्न 3. शब्द लिंग वर्ग कहां पर तैयार होता है ?
(क) घर
(ख) समाज
(ग) देश
(घ) संसार।
उत्तर-(ख) समाज।

प्रश्न 4. जब लिंग के आधार पर अंतर रखा जाता है तो उसे ……. कहते हैं।
(क) लिंग वर्ग समाजीकरण
(ख) लिंग वर्ग समानता
(ग) लिंग वर्ग भेदभाव
(घ) लिंग वर्ग संबंध।
उत्तर-(ग) लिंग वर्ग भेदभाव।

प्रश्न 5. Simone de Beauvoir ने कौन-सी पुस्तक लिखी थी ?
(क) The Second Sex
(ख) The Third Sex
(ग) The Second Job
(घ) The Third Job.
उत्तर-(क) The Second Sex.

प्रश्न 6. प्रगतिशील नारीवाद किस चीज़ पर बल देता है ?
(क) पितृसत्ता
(ख) मातृसत्ता
(ग) लोकतन्त्र
(घ) राजशाही।
उत्तर-(क) पितृसत्ता।

B. रिक्त स्थान भरें-

1. संसार में दो प्रकार के लिंग …… तथा ………. पाए जाते हैं।
2. लिंग वर्ग असमानता का मुख्य कारण ……………… है।
3. …………. का अर्थ है घर में पिता की सत्ता।
4. मार्क्सवादी नारीवाद पितृ सत्ता तथा …………. के बीच संबंधों पर ध्यान देते हैं।
5. ………… ने किताब The Second Sex लिखी थी।
6. ………… का अर्थ पुरुष प्रधान समाज में पिता का शासन है।
उत्तर-

  1. स्त्री, पुरुष
  2. पितृसत्ता
  3. पितृसत्ता
  4. पूँजीवाद
  5. Simone de Beauvoir
  6. पैतृकता।

C. सही/ग़लत पर निशान लगाएं-

1. प्रगतिशील नारीवाद कहता है कि सभी व्यक्ति महत्त्वपूर्ण है।
2. प्रगतिशील नारीवाद कहता है कि स्त्रियों को दबाने में पुरुषों की काफ़ी महत्त्वपूर्ण भूमिका होती है।
3. बच्चों को लिंग अनुसार शिक्षा देने को लिंग वर्ग समाजीकरण कहते हैं।
4. लिंग वर्ग समाजीकरण भेदभाव बढ़ाने वाली प्रक्रिया है।
5. 2011 में 1000 पुरुषों के पीछे 914 स्त्रियां (0-6 वर्ष) थीं।
उत्तर-

  1. सही
  2. सही
  3. सही
  4. सही
  5. सही।

II. एक शब्द/एक पंक्ति वाले प्रश्न उत्तर

प्रश्न 1. क्या समाज में स्त्रियों के साथ भेदभाव होता है ?
उत्तर-जी हां, समाज में स्त्रियों के साथ भेदभाव होता है।

प्रश्न 2. करवाचौथ क्या होता है ?
उत्तर-पत्नी अपने पति की लंबी आयु के लिए व्रत रखती है जिसे करवाचौथ कहते हैं।

प्रश्न 3. पितृसत्ता में किसकी आज्ञा मानी जाती है ?
उत्तर-पितृसत्ता में घर के पुरुषों की आज्ञा मानी जाती है।

प्रश्न 4. लिंग क्या है ?
उत्तर-लिंग एक जैविक शब्द है जो पुरुष तथा स्त्री के बीच शारीरिक अंतरों के बारे में बताता है।

प्रश्न 5. लिंग वर्ग क्या है ?
उत्तर-लिंग वर्ग समाज की तरफ से बनाया गया शब्द है जिसमें बहुत सारे हालात आ जाते हैं जिनमें पुरुष व स्त्री के संबंध चलते हैं।

प्रश्न 6. लिंग वर्ग संबंधों में हम किस वस्तु का अध्ययन करते हैं ?
उत्तर-लिंग वर्ग संबंधों में हम लिंग वर्ग अधीनता का अध्ययन करते हैं।

प्रश्न 7. लिंग वर्ग समाजीकरण की नींव किस पर टिकी हई है ?
उत्तर-लिंग वर्ग समाजीकरण की नींव क्या, क्यों तथा क्या नहीं करना है पर टिकी हुई है।

प्रश्न 8. लिंग वर्ग समाजीकरण क्या है ?
उत्तर-जब समाज अपने बच्चों को लिंग के अनुसार व्यवहार करना सिखाता है, उसे लिंग वर्ग समाजीकरण कहते हैं।

प्रश्न 9. लिंग वर्ग भेदभाव क्या है ?
उत्तर-जब समाज के अलग-अलग क्षेत्रों में लिंग के आधार पर भेदभाव किया जाता है तो उसे लिंग वर्ग भेदभाव कहते हैं।

प्रश्न 10. लिंग अनुपात क्या होता है ?
उत्तर-एक विशेष क्षेत्र में 1000 पुरुषों के पीछे स्त्रियों की संख्या को लिंग अनुपात कहते हैं।

प्रश्न 11. कम होते लिंग अनुपात का मुख्य कारण क्या है ?
उत्तर-कम होते लिंग अनुपात का मुख्य कारण है लिंग आधारित गर्भपात तथा लड़का प्राप्त करने की इच्छा।

III. अति लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1. जब हम लिंग वर्ग संबंधों की बात करते हैं तो किसके बारे में सोचते हैं ?
उत्तर-जब हम लिंग वर्ग संबंधों की बात करते हैं तो चार बातों के बारे में सोचते हैं-

  • पुरुष व स्त्री के बीच असमानताएं।
  • पुरुष शक्ति व स्त्री शक्ति के बीच संबंध।
  • पुरुष शक्ति का स्त्रियों पर प्रभुत्व का अध्ययन करना।
  • आर्थिक तथा राजनीतिक क्षेत्र में स्त्रियों की भागीदारी।

प्रश्न 2. लिंग तथा लिंग वर्ग में क्या अंतर है ?
उत्तर-लिंग एक जैविक धारणा है जो पुरुष तथा स्त्री के बीच शारीरिक अंतरों को दर्शाता है जबकि लिंग वर्ग समाज द्वारा बनाई गई एक धारणा है जिसमें वे राजनीतिक, सांस्कृतिक, सामाजिक, मनोवैज्ञानिक तथा आर्थिक प्रस्थापनाएं होती हैं जिनमें स्त्री व पुरुष कार्य करते हैं।

प्रश्न 3. लिंग वर्ग संबंध का क्या अर्थ है ?
उत्तर-लिंग वर्ग संबंध का अर्थ है स्त्रियों व पुरुषों के वह संबंध जो विचारधारक, सांस्कृतिक, राजनीतिक तथा आर्थिक मुद्दों पर आधारित होते हैं। इसमें हम लिंग वर्ग प्रभुत्व, स्त्रियों की स्थिति को ऊँचा करने के मुद्दे तथा स्त्रियों से संबंधित समस्या को देखा जाता है।

प्रश्न 4. लिंग वर्ग संबंधों में हम किन मुद्दों की बात करते हैं ?
उत्तर-लिंग वर्ग संबंधों में हम कई मुद्दों की बात करते हैं जैसे कि विवाह तथा परिवार की संस्था, विवाह से पहले संबंध, वैवाहिक संबंध, विवाह के बाद बनने वाले संबंध, समलैंगिकता का मुद्दा, तीसरे लिंग का मुद्दा इत्यादि।

प्रश्न 5. अलग-अलग समाजों में स्त्रियों की अधीनता किस पर निर्भर करती है ?
उत्तर-अलग-अलग समाजों में स्त्रियों की अधीनता कई मुद्दों पर निर्भर करती है : जैसे कि वर्ग, जाति, धर्म, शिक्षा, सामाजिक-सांस्कृतिक पृष्ठभूमि जिस प्रकार की समाज की प्रकृति होगी उस प्रकार की स्त्रियों की अधीनता होगी।

प्रश्न 6. लिंग वर्ग समाजीकरण का क्या अर्थ है ?
उत्तर-लिंग वर्ग समाजीकरण का अर्थ है वह ढंग जिनसे समाज ध्यान रखता है कि बच्चे अपने लिंग से संबंधित ठीक व्यवहार सीखें। यह बच्चों को उनके लिंग अनुसार अलग-अलग समूहों में विभाजित कर देता है। इस प्रकार इससे समाज मानवीय व्यवहार को नियन्त्रित करता है।

प्रश्न 7. लिंग वर्ग भेदभाव का क्या अर्थ है ?
उत्तर-सम्पूर्ण जनसंख्या के बड़े हिस्से अर्थात् स्त्रियों से अधीनता, निष्काषन तथा गैर-भागीदारी वाला व्यवहार किया जाता है तथा उन्हें दरकिनार व नज़रअंदाज़ कर दिया जाता है। इस प्रकार के व्यवहार को लिंग वर्ग भेदभाव कहा जाता है।

प्रश्न 8. लिंग अनुपात का क्या अर्थ है ?
उत्तर-एक विशेष क्षेत्र में 1000 पुरुषों की तुलना में मौजूद स्त्रियों की संख्या को लिंग अनुपात का नाम दिया जाता है। 2011 की जनगणना के अनुसार भारत का लिंग अनुपात 1000 : 914 (0-6 वर्ष) था।

IV. लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1. अलग-अलग कालों में स्त्रियों की स्थिति।
उत्तर-वैदिक काल में स्त्रियों की स्थिति काफ़ी अच्छी तथा ऊंची थी। इस काल में स्त्री को धार्मिक तथा सामाजिक कार्यों को पूर्ण करने के लिए आवश्यक माना जाता है। उत्तर वैदिक काल में स्त्रियों का आदर सम्मान कम हो गया।

बाल-विवाह शुरू हो गए जिससे उसे शिक्षा प्राप्त करनी मुश्किल हो गई। स्मृति काल में स्त्री की स्थिति और निम्न हो गई। उसे हर समय निगरानी में रखा जाता था तथा उसका सम्मान केवल मां के रूप में ही रह गया था। मध्य काल में तो जाति प्रथा के कारण उसे कई प्रकार के प्रतिबन्धों के बीच रखा जाता था परन्तु आधुनिक काल में उसकी स्थिति को ऊंचा उठाने के लिए कई प्रकार की आवाजें उठीं तथा आज उसकी स्थिति मर्दो के समान हो गई है।

प्रश्न 2. स्त्रियों की निम्न स्थिति के कारण।
उत्तर-

  • संयुक्त परिवार प्रथा में स्त्री को घर की चारदीवारी तथा कई प्रकार के प्रतिबन्धों में रहना पड़ता था जिस कारण उसकी स्थिति निम्न हो गई।
  • समाज में मर्दो की प्रधानता तथा पितृ सत्तात्मक परिवार होने के कारण स्त्रियों की स्थिति काफ़ी निम्न हो गई।
  • बाल विवाह के कारण स्त्रियों को शिक्षा ग्रहण करने का मौका प्राप्त नहीं होता था जिससे उनकी स्थिति निम्न हो गई।
  • स्त्रियों के अनपढ़ होने के कारण वे अपने अधिकारों के प्रति जागरूक नहीं थीं तथा उनकी स्थिति निम्न ही रही।
  • स्त्रियां मर्दो पर आर्थिक तौर पर निर्भर होती थीं जिस कारण उन्हें अपनी निम्न स्थिति को स्वीकार करना पड़ता था।

प्रश्न 3. स्त्रियों की धार्मिक निर्योग्यताएं।
उत्तर-वैदिक काल में स्त्रियों को धार्मिक कर्म-काण्डों के लिए आवश्यक माना जाता था परन्तु बाल विवाह के शुरू होने से उनका धार्मिक ज्ञान ख़त्म होना शुरू हो गया जिस कारण उन्हें यज्ञों से दूर किया जाने लगा। शिक्षा प्राप्त न कर सकने के कारण उनका धर्म सम्बन्धी ज्ञान ख़त्म हो गया तथा वह यज्ञ तथा धार्मिक कर्मकाण्ड नहीं कर सकती थी। आदमी के प्रभुत्व के कारण स्त्रियों के धार्मिक कार्यों को बिल्कुल ही ख़त्म कर दिया गया। उसको मासिक धर्म के कारण अपवित्र समझा जाने लगा तथा धार्मिक कार्यों से दूर कर दिया गया।

प्रश्न 4. स्त्रियों की आर्थिक निर्योग्यताएं।
उत्तर-स्त्रियों को बहुत-सी आर्थिक निर्योग्यताओं का सामना करना पड़ता था। वैदिक काल में तो स्त्रियों को सम्पत्ति रखने का अधिकार प्राप्त था परन्तु समय के साथ-साथ यह अधिकार ख़त्म हो गया। मध्य काल में वह न तो सम्पत्ति रख सकती थी तथा न ही पिता की सम्पत्ति में से हिस्सा ले सकती थी। वह कोई कार्य नहीं कर सकती थी जिस कारण उसे पैसे के सम्बन्ध में स्वतन्त्रता हासिल नहीं थी। आर्थिक तौर पर वह पिता, पति तथा बेटों पर निर्भर थी।

प्रश्न 5. स्त्रियों की स्थिति में आ रहे परिवर्तन।
उत्तर-

  • पढ़ने-लिखने के कारण स्त्रियां पढ़-लिख रही हैं।
  • औद्योगिकीकरण के कारण स्त्रियां अब उद्योगों तथा दफ्तरों में कार्य कर रही हैं।
  • पश्चिमी संस्कृति के विकास के कारण उनकी मानसिकता बदल रही है तथा उन्हें अपने अधिकारों का पता चल रहा है।
  • भारत सरकार ने उन्हें ऊपर उठाने के लिए कई प्रकार के कानूनों का निर्माण किया है जिस कारण उनकी स्थिति ऊंची हो रही है।

प्रश्न 6. लिंग।
उत्तर-साधारणतया शब्द लिंग को पुरुष तथा स्त्री के बीच के शारीरिक तथा सामाजिक अंतरों को बताने के लिए प्रयोग किया जाता है। इसका अर्थ यह है कि मर्द तथा स्त्री में कौन-से शारीरिक अंतर है जोकि प्रकृति से ही प्राप्त होते हैं तथा कौन-से सामाजिक अंतर हैं जोकि दोनों को समाज में रहते हुए प्राप्त होते हैं। इन अंतरों को बताने के लिए शब्द लिंग का प्रयोग किया जाता है।

प्रश्न 7. लैंगिक भेदभाव।
उत्तर-साधारण शब्दों में पुरुष तथा स्त्री में मिलने वाले अंतरों को लैंगिक भेदभाव अथवा अंतर का नाम दिया जाता है। संसार में दो तरह के मनुष्य मर्द तथा स्त्री रहते हैं। किसी भी मनुष्य को उसके शारीरिक लक्षणों के आधार पर देख कर ही पहचाना जा सकता है कि वह पुरुष है अथवा स्त्री। प्रकृति ने भी इनमें कुछ अन्तर किया है। पुरुष तथा स्त्री के अपने-अपने अलग ही शारीरिक लक्षण हैं। इन लक्षणों के आधार पर मर्द तथा स्त्री में अंतर तथा भेदभाव किया जा सकता है। इस प्रकार पुरुष तथा स्त्री में जो अंतर पाया जाता है उसे ही लैंगिक अंतर अथवा भेदभाव का नाम दिया जाता है।

प्रश्न 8. लैंगिक अंतर का प्राकृतिक कारण।
उत्तर-लैंगिक अंतर की शुरुआत तो प्रकृति ने ही की है। मनुष्य को भी प्रकृति ने ही बनाया है। प्रकृति ने दो प्रकार के मनुष्यों-पुरुष तथा स्त्री को बनाया है। पुरुषों को प्रकृति ने दाढ़ी, मूंछे, शरीर पर बाल, कठोरता इत्यादि दिए हैं परन्तु स्त्रियों को सुन्दरता, कोमल स्वभाव, प्यार से भरपूर बनाया है। प्रकृति ने ही मनुष्यों को कठोर कार्य, पैसे तथा रोटी कमाने का कार्य दिया है जबकि स्त्रियों को आसान कार्य दिए हैं। इस प्रकार प्रकृति ने ही लैंगिक अंतर उत्पन्न किए हैं।

प्रश्न 9. लैंगिक भेदभाव का सामाजिक कारक।
उत्तर-प्रकृति ने तो लैंगिक अंतर उत्पन्न किए हैं परन्तु मनुष्य ने भी सामाजिक तौर पर अंतर उत्पन्न किए हैं। समाज में बहुत से ऐसे कार्य हैं जो पुरुषों के लिए रखे गए हैं स्त्रियों के लिए नहीं। प्राचीन समय से ही स्त्रियों से भेदभाव किया जाता रहा है तथा अंतर रखा जाता रहा है। स्त्रियों को प्राचीन समय से ही शिक्षा तथा सम्पत्ति से दूर रखा गया है। उन्हें केवल घर तक ही सीमित रखा गया है। स्त्रियों से सम्बन्धित निर्णय भी पुरुषों द्वारा लिए जाते हैं तथा उनका स्त्रियों पर पूर्ण नियन्त्रण होता है। चाहे आधुनिक समाजों में यह अंतर कम हो रहा है। परन्तु परम्परागत समाजों में यह अभी भी कायम है।

V. बड़े उत्तरो वाले प्रश्न-

प्रश्न 1. लिंग का क्या अर्थ है ? समाज का निर्माण करने के रूप में इस की व्याख्या करो।
अथवा
सामाजिक रचना के रूप में लिंग-रूप के ऊपर नोट लिखें।
उत्तर-साधारणतया शब्द लिंग को आदमी तथा औरत के बीच शारीरिक तथा सामाजिक अन्तर को बताने के लिए प्रयोग किया जाता है। इस का अर्थ यह है कि आदमी तथा औरत के बीच कौन-से शारीरिक अन्तर हैं जोकि प्रकृति से ही प्राप्त होते हैं तथा कौन से सामाजिक अन्तर हैं जोकि दोनों को समाज में रहते हुए प्राप्त होते हैं। इन अन्तरों को बताने के लिए शब्द लिंग का प्रयोग किया जाता है। यदि हम जैविक पक्ष से इसे देखें तो हमें पता चलता है कि आदमी तथा औरत में बहुत से जैविक अन्तर हैं जैसे कि कामुक अंग तथा और अंगों का उभार इत्यादि अथवा आदमी का औरत से अधिक परिश्रम वाले कार्य कर सकना।

इस तरह यदि हम सामाजिक रूप से देखेंगे हमें पता चलता है कि समाज में रहते हुए भी आदमी तथा औरत में बहुत से सामाजिक अन्तर होते हैं। उदाहरणतः पितृसत्तात्मक समाज तथा मातृसत्तात्मक समाज पितृसत्तात्मक समाज में पुरुष का हुक्म चलता है, सभी को पुरुष का कहना मानना पड़ता है, पिता पैसे कमाता है तथा औरत घर की देखभाल करती है पितृसत्तात्मक समाजों में स्त्री की स्थिति बहुत ही निम्न होती है। उस को बच्चों की मां या घर की नौकरानी से बढ़कर स्थिति प्राप्त नहीं होती है। इस तरह पितृसत्तात्मकता समाजों में पिता की स्थिति सबसे उच्च होती है, वही समाज का कर्ताधर्ता होता है तथा वंश भी उस के नाम पर ही चलता है। जायदाद भी पिता के बाद उसके पुत्र को ही प्राप्त होती है। दूसरी तरफ मातृसत्तात्मक समाजों में आदमी की स्थिति औरत से निम्न होती है। समाज तथा परिवार को औरतें चलाती हैं। औरतों को प्रत्येक प्रकार की शक्ति प्राप्त होती है। औरतें ही परिवार को कर्ता-धर्ता होती हैं। वंश मां के नाम पर चलता है। विवाह के बाद आदमी औरत के घर रहने जाता है तथा जायदाद मां के बाद बेटी को या भानजे को प्राप्त होती है।

इस उदाहरण से यह पता चलता है कि सिर्फ जैविक रूप से ही लैंगिक अन्तर नहीं होता बल्कि सामाजिक रूप से भी लिंग अन्तर देखने को मिलता है। हमें समाज में रहते हुए ऐसी बहुत सी उदाहरणें मिल जाएंगी जिनसे हमें लिंग अन्तर के बारे में पता चलेगा। परन्तु समाजशास्त्रियों के अनुसार लिंग का अर्थ कुछ अलग ही है। समाजशास्त्री इस शब्द की सम्पूर्ण व्याख्या करने के पक्ष में हैं तथा इस बात का पता लगाना चाहते हैं कि किस हद तक लैंगिक व्यवहार प्राकृतिक है, सामाजिक है या मनुष्यों द्वारा निर्मित है। समाजशास्त्री लिंग शब्द को दो अर्थों में लेते हैं-

(1) पहला अर्थ है आदमी तथा औरत के बीच कौन-से जैविक तथा शारीरिक अन्तर हैं। इस का अर्थ यह है कि कौन-से जैविक तथा शारीरिक अन्तरों के कारण हम आदमी तथा औरत को एक-दूसरे से अलग कर सकते हैं। यह अन्तर प्राकृतिक होते हैं तथा मनुष्य का इन पर कोई वश नहीं चलता है।

(2) लिंग शब्द का दूसरा अर्थ मनुष्य के व्यवहार तथा भूमिकाओं में सामाजिक तथा सांस्कृतिक अन्तर से है। इस का अर्थ यह है कि समाज में रहते हुए मनुष्यों के व्यवहार में कौन-सा अन्तर होता है जिस से हमें लैंगिक अन्तर (आदमी तथा औरत) का पता चलता है। यह अन्तर समाज में ही निर्मित होते हैं तथा मनुष्य इनका निर्माण करता है।

इस तरह समाजशास्त्री लिंग शब्द का अर्थ दो हिस्सों में लेते हैं। पहले हिस्से में जैविक अन्तर आते हैं जो प्रकृति पर निर्भर करते हैं। दूसरे हिस्से में सामाजिक तथा सांस्कृतिक अन्तर आते हैं जोकि मनुष्य द्वारा ही निर्मित होते हैं जैसे कि प्राचीन समय में स्त्री को उपनयान संस्कार नहीं करने दिया जाता था। परन्तु यहां महत्त्वपूर्ण प्रश्न यह आगे आता है कि समाज में रहते हुए आदमी तथा औरत का व्यवहार जैविक कारणों की तरफ से निर्धारित होता है या सामाजिक सांस्कृतिक कारणों से ? उन दोनों का व्यवहार कौन से कारणों से प्रभावित होता है ? क्या आदमी तथा औरत प्राकृतिक रूप से ही एक-दूसरे से अलग हैं या फिर उनके बीच के अन्तर समाज में ही निर्मित होते हैं ? क्या आदमी जन्म से ही तार्किक तथा तेज़ हैं और औरतें प्राकृतिक रूप से ही शांत तथा सहनशील है क्या सिर्फ आदमी ही घर से बाहर जाकर कार्य करेंगे तथा पैसा कमाएंगे तथा औरतें घर तथा बच्चों की देखभाल करेंगी। क्या औरतें घरों से बाहर जाकर पैसा नहीं कमा सकतीं तथा आदमी घर की देखभाल नहीं कर सकते ? इस तरह के प्रश्न बहुत ही गम्भीर हैं तथा इस प्रकार के प्रश्नों पर गौर करना बहुत ज़रूरी है । इस तरह के प्रश्नों को देखते हुए हमारे सामने इन प्रश्नों को हल करने के लिए दो विचार हमारे सामने आते हैं। पहला विचार प्रकृतिवादियों (Naturists) ने दिया है तथा दूसरा विचार समाजशास्त्रियों (Sociologists) ने दिया है। इन दोनों के विचारों का वर्णन इस प्रकार हैं

(1) प्रकृतिवादी यह विचार देते हैं कि समाज में दोनों ही लिंगों में जो भी सामाजिक सांस्कृतिक अन्तर हैं वह सिर्फ जैविक अन्तरों के कारण है। इसका अर्थ यह है कि दोनों लिंगों के बीच सामाजिक सांस्कृतिक अन्तरों का आधार सामाजिक नहीं बल्कि जैविक है। जो भी अन्तर प्रकृति ने मनुष्यों को दिए हैं उन के कारण ही सामाजिक सांस्कृतिक अन्तर पैदा होते हैं। आदमी को औरत से ज्यादा शक्तिशाली माना जाता है तथा होते भी हैं तथा इस कारण ही वह समाज की व्यवस्था रखते हैं। औरतों को प्रकृति ने बच्चे पैदा करने तथा पालने का कार्य दिया है क्योंकि उनको प्यार, सहनशीलता तथा ध्यान रखने के गुण जन्म से ही प्राप्त होते हैं। उनको सहनशीलता तथा प्यार करना सिखाना नहीं पड़ता बल्कि यह गुण तो प्रत्येक औरत में जन्मजात ही होते हैं। इस तरह आदमी तथा औरत में प्राचीन समाज से ही श्रम विभाजन की व्यवस्था चली आ रही है कि आदमी घर से बाहर जाकर कार्य करेगा या परिश्रम करेगा तथा औरतें घर की देखभाल करेंगी तथा बच्चों का पालन-पोषण करेंगी। इसका कारण यह है कि प्रत्येक मनुष्य को जन्म से ही कुछ कार्य करने के गुण प्राप्त हो जाते हैं तथा वह करता भी है।

प्रकृतिशास्त्रियों का यह विचार डार्विन के उद्विकास के सिद्धान्त का ही एक हिस्सा है। परन्तु यह विचार डार्विन के विचार से भी आगे निकल गया है। प्रकृतिशास्त्रियों का कहना है कि प्रत्येक प्राणी उद्विकास की प्रक्रिया से होकर निकलता है अर्थात् वह छोटे से बड़ा तथा साधारण से जटिल की तरफ बढ़ता है। उदाहरणतः आदमी तथा औरत के संभोग से भ्रूण पैदा होता है तथा उस से धीरे-धीरे वह भ्रूण एक बच्चा बन जाता है। इस तरह प्रत्येक प्राणी निम्न स्तर से शुरू होकर उच्च स्तर की तरफ बढ़ता है। प्राणिशास्त्रियों का कहना है कि जैविक स्तर पर स्त्री तथा पुरुष एक-दूसरे से अलग हैं तथा दोनों ही अलग-अलग प्रकार से जीवन जीते हैं। परन्तु आदमी औरत से अधिक शक्तिशाली हैं इस कारण समाज में उनकी उच्च स्थिति है, उनकी सत्ता चलती है तथा फैसले लेने में उनका सबसे बड़ा हाथ होता है।

परन्तु यहां आकार सामाजिक मानवशास्त्रियों का कहना है कि आदमी तथा औरत में शारीरिक अन्तर हैं परन्तु इन्होंने इन शारीरिक अन्तरों को सामाजिक भूमिकाओं के साथ जोड़ दिया है। मोंक के अनुसार आदमी तथा औरत के बीच शारीरिक अन्तर समाज में लैंगिक श्रम विभाजन का आधार है। इस का अर्थ यह है कि चाहे आदमी तथा औरत के बीच शारीरिक अन्तर हैं परन्तु यह शारीरिक अन्तर ही समाज में आदमी तथा औरत के बीच श्रम विभाजन का आधार भी हैं। इसका कहना था कि आदमी क्योंकि शक्तिशाली होते हैं तथा औरतें बच्चों को पालने में सामर्थ्य होती हैं इस कारण यह श्रम विभाजन ही लैंगिक भूमिकाओं को निर्धारित करता है। इसी तरह पारसंज़ के अनुसार औरतें ही आदमी को प्यार, हमदर्दी, भावनात्मक मज़बूती इत्यादि देती हैं क्योंकि यह गुण उन्हें जन्म से ही प्राप्त हो जाते हैं तथा यही गुण किसी भी बच्चे के समाजीकरण में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। आदमी बाहर के कार्य करते हैं तथा औरतें घर के कार्य करती हैं। उसके अनुसार समाज में आदमी तथा औरत के बीच साफ़ तथा स्पष्ट श्रम विभाजन होना चाहिए ताकि सामाजिक व्यवस्था ठीक प्रकार से कार्य कर सके।

परन्तु मर्डोक तथा पारसंज़ के विचारों की भी आलोचना हुई है। कई प्रकृतिशास्त्रियों ने इस विचार का खण्डन किया है कि सामाजिक भूमिका का निर्धारण जैविक अन्तरों के कारण होता है। उन का कहना है कि माता तथा पिता दोनों ही बच्चों का ध्यान रखते हैं तथा ज़रूरत पड़ने पर एक-दूसरे की भूमिका भी निभाते हैं। उनके अनुसार आजकल औरतें भी मर्दो के शक्ति के प्रयोग करने वाले कार्य करने लग गई हैं जैसे सेना में भर्ती होना, खदानों में तथा बड़ी-बड़ी इमारतों के निर्माण के कार्य करना इत्यादि। इस तरह उनका कहना है कि सामाजिक भूमिकाओं का निर्धारण जैविक अन्तरों के . कारण नहीं होता है तथा जैविक अन्तर ही लिंग भूमिका के निर्धारण में महत्त्वपूर्ण है।

(2) समाजशास्त्रीय विचार (Sociological view)—दूसरी तरफ समाजशास्त्रीय विचार प्रकृतिशास्त्रियों के विचार के बिल्कुल ही विपरीत है। वह प्रकृतिशास्त्रियों के इस विचार को बिल्कुल ही नकारते हैं कि जैविक अन्तर ही लिंग भूमिका का निर्धारण करते हैं। वह कहते हैं कि लैंगिक भूमिका जैविक कारणों का कारण निर्धारित नहीं होती बल्कि यह तो समाज में ही निर्मित होती है तथा संस्कृति द्वारा निर्धारित होती है। व्यक्ति को समाज में रहते हुए बहुत-सी भूमिकाएँ निभानी पड़ती हैं। चाहे कई बार यह भूमिका लिंग के आधार पर प्राप्त होती है जैसे कि माता या पिता। परन्तु बहुत-सी भूमिकाएं समाज की संस्कृति के अनुसार व्यक्ति को प्राप्त होती है। उनका कहना है कि हमारे अलग-अलग समाजों में बहुत-सी उदाहरणों से पता चलता है कि बच्चे पैदा करने को छोड़कर समाज में कोई भी कार्य औरतों के लिए आरक्षित नहीं है। इस का अर्थ यह है कि औरतें किसी भी कार्य को कर सकती हैं, उनके लिए कोई विशेष कार्य निर्धारित नहीं है। औरतों का लैंगिक आधार उन को किसी भी कार्य को करने से रोक नहीं सकता वह प्रत्येक प्रकार का कार्य कर सकती हैं। यहां तक कि मां की भूमिका भी समाज तथा संस्कृति द्वारा बनाई गई होती है। हमारे पास बहुतसी उदाहरणें मौजूद हैं जिन से पता चलता है कि जिन बच्चों की मां नहीं होती उन के पिता ही मां की भूमिका भी निभाते हैं। इस तरह समाजशास्त्रियों का विचार है कि लैंगिक भूमिका में निर्धारण में सामाजिक कारकों का बहुत बड़ा हाथ है।

समाज निर्माण में लिंग की भूमिका (Role of Gender in Social Construct)-

लैंगिक भूमिकाएँ जैविक कारणों के कारण नहीं सांस्कृतिक कारणों के कारण पैदा होती हैं। हम दूसरे शब्दों में कह सकते हैं कि मनुष्य समाज में रह कर ही आदमी तथा औरत की भूमिका निभाना सीखते हैं। उनको जन्म के बाद ही पता नहीं लग जाता कि वह लड़का है या लड़की। समाज में रहते-रहते, लोगों के व्यवहार करने के ढंगों से उसको अपने लिंग के बारे में पता चल जाता है। अब हम इसको समाजीकरण के रूप में देखेंगे। व्यक्ति को जंगली से इन्सान बनाने में समाजीकरण का बहुत बड़ा हाथ होता है। समाजीकरण करने में दोनों लिंगों का हिस्सा होता है। इस को लैंगिक समाजीकरण का नाम दिया जाता है। ___

समाजीकरण (Socialization)—समाजशास्त्र में एक बहुत ही महत्त्वपूर्ण संकल्प आता है समाजीकरण। समाजीकरण की प्रक्रिया वह प्रक्रिया है जिससे मनुष्य समाज में रहने के तौर-तरीके तथा व्यवहार करने के तरीके सीखता है। इस प्रक्रिया में व्यक्ति समाजिक भूमिकाओं को निभाना सीखता है। इस प्रकार से लैंगिक समाजीकरण वह प्रक्रिया है जिसमें आदमी तथा
औरत अपने लिंग के अनुसार व्यवहार करना सीखते हैं। यह वह प्रक्रिया है जो बच्चे के जन्म के बाद ही शुरू हो जाती है तथा व्यक्ति के मरने तक चलती रहती है। हमारी लैंगिक भूमिका बहुत ही जल्दी शुरू हो जाती है तथा बच्चे को ही अपने लिंग के अनुसार भूमिका निभाने का पता चल जाता है। इस प्रक्रिया के कई स्तर हैं तथा यह स्तर इस प्रकार हैं

(1) लिंग सम्बन्धी भूमिका का निर्धारण जन्म के कुछ समय बाद ही शुरू हो जाता है। 1-2 साल के बच्चे को भी इस बारे में पता चल जाता है क्योंकि परिवार के सदस्य उसके साथ उसके लिंग के अनुसार ही व्यवहार करते हैं तथा उसका सम्बोधन भी उसी के अनुसार ही होता है। लड़की के साथ लड़के की तुलना में कुछ कोमल व्यवहार होता है। लड़के को शक्तिशाली तथा लड़कियों से ज्यादा तेज़ समझा जाता है। मां-बाप भी बच्चे के लिंग के अनुसार उस से व्यवहार करते हैं चाहे व्यवहार में अन्तर बहुत कम होता है। दोनों लिंगों के बच्चों को अलग-अलग प्रकार के कपड़े पहनाए जाते हैं, अलग-अलग रंग के कपड़े पहनाए जाते हैं, उनके साथ बोलने का, सम्बोधन का, व्यवहार करने का तरीका भी अलग होता है। यहां तक कि यदि बच्चे को सज़ा देनी होती है तो वह भी उसके लिंग के अनुसार ही दी जाती है। इस तरह जन्म के कुछ समय बाद ही लैंगिक समाजीकरण शुरू हो जाता है तथा सारी उम्र चलता रहता है।

(2) लैंगिक समाजीकरण का दूसरा स्तर बचपन में शुरू हो जाता है जब बच्चा खेल समूह में तथा खेलों में भाग लेता है। बच्चा अपने लिंग के अनुसार ही खेल समूह में भाग लेता है। लड़की, लड़कियों के साथ खेलती है तथा लड़कालड़कों के साथ खेलता है। इस समय पर आकर दोनों लिंगों की खेलों में भी अन्तर आ जाता है। लड़के अधिक परिश्रम वाली खेलें खेलते हैं तथा लड़कियां कम परिश्रम वाली खेलें खेलती हैं। यहां तक कि लड़के को अधिक परिश्रम वाली खेल खेलने के लिए प्रेरित किया जाता है। लड़कों तथा लड़कियों के खेलने वाले खिलौनों में भी अन्तर होता है। लड़के को पिस्तौलैं, बसों, कारों, Outdoor sports की चीजें लेकर दी जाती हैं। इस तरह लड़के तथा लड़कियां अपने समूह के अनुसार व्यवहार करना सीखना शुरू कर देते हैं जिससे उनको समाज में रहने के तरीकों का पता चलना शुरू हो जाता है।

(3) लैंगिक समाजीकरण की प्रक्रिया का तीसरा स्तर है स्कूल जहां बच्चा जीवन के बहुत-से महत्त्वपूर्ण साल व्यतीत करता है। यही समय है जिस में बच्चा या तो बिगड़ जाता है या कुछ सीख जाता है। यह प्रक्रिया परिवार में ही नहीं चलती बल्कि स्कूल में भी पूरे जोर-शोर से चलती रहती है। जितना प्रभाव स्कूल का लैंगिक व्यवहार पर पड़ता है, और किसी भी साधन का नहीं पड़ता है। बच्चे अपने लिंग के अनुसार क्लास में बैठते हैं, एक-दूसरे से व्यवहार करते हैं। लड़कियां, लड़कों से दूर रहती हैं तथा उन से बात भी दूर से ही करती हैं क्योंकि उन को इस बारे में बताया जाता है। लड़के Female अध्यापकों से प्रभावित होते हैं तथा लड़कियां male अध्यापकों से प्रभावित होती हैं। यहां आकर दोनों के बिल्कुल ही अलग समूह बन जाते हैं जिससे समाज के निर्माण में बहुत मदद मिलती है। दोनों अपने लिंग के अनुसार कार्य करना सीख जाते हैं। लड़कों को घर से बाहर के कार्य करने भेजा जाता है तथा लड़कियों को घर के कार्य करने सिखाया जाता है। लड़कियों को साधारणतया Home Science जैसे विषय लेकर दिए जाते हैं तथा लड़कों को Science, Math, Commerce इत्यादि जैसे विषय लेकर दिए जाते हैं। इस तरह समाज निर्माण के मुख्य तत्त्वों का निर्माण इस स्तर पर आकर शुरू हो जाता है।

(4) लैंगिक समाजीकरण का अगला तथा अन्तिम स्तर होता है बालिग लैंगिक समाजीकरण जिस में लड़के तथा लड़कियां एक-दूसरे से बिल्कुल ही अलग हो जाते हैं। बालिग होने पर लड़के अधिक शक्तिशाली कार्य करते हैं तथा लड़कियां साधारणतया औरतों वाले कम परिश्रम वाले कार्य करना ही पसंद करती हैं जैसे पढ़ाना, क्लर्क के कार्य इत्यादि। औरतों को बहुत ही कम उच्च स्थितियां प्राप्त होती हैं, औरतों को कम वेतन तथा कम उन्नति मिलती है। औरतें जल्दी-जल्दी अपनी नौकरी बदलना पसन्द नहीं करती हैं।

इस प्रकार से लिंग के आधार पर दोनों समूह अलग-अलग कार्य करने लग जाते हैं जिससे समाज की व्यवस्था बनी रहती है तथा समाज सही प्रकार से कार्य करता है। यदि दोनों समूहों में कार्य के आधार पर अन्तर न हो तो दोनों लिंगों के कार्य एक-दूसरे में मिल जाएंगे तथा कोई अपना कार्य सही प्रकार से नहीं कर पाएगा। सामाजिक व्यवस्था तथा ढांचा बिल्कुल ही खत्म हो जाएगा। प्रत्येक व्यक्ति अपनी मर्जी के अनुसार कार्य करेगा तथा लैंगिक आधार पर श्रम विभाजन बिल्कुल ही खत्म हो जाएगा। आदमी तथा औरत अपनी ज़िम्मेदारियां तथा भूमिकाएं एक-दूसरे के ऊपर फेंक देंगे तथा कोई भी अपनी ज़िम्मेदारी लेने को तैयार नहीं होगा। इस तरह हम कह सकते हैं कि लिंग का समाज निर्माण के रूप में बहुत बड़ा हाथ है तथा समाज इसी कारण अच्छी प्रकार से कार्य कर रहा है।

प्रश्न 2. महिलाओं की निम्न स्थिति के क्या कारण हैं ?
उत्तर-विभिन्न युगों या कालों में स्त्रियों की स्थिति कभी अच्छी या कभी निम्न रही है। वैदिक काल में तो यह बहुत अच्छी थी पर धीरे-धीरे काफ़ी निम्न होती चली गई। वैदिक काल के बाद तो विशेषकर मध्यकाल से लेकर ब्रिटिश काल अर्थात् आज़ादी से पहले तक स्त्रियों की स्थिति निम्न रही है। स्त्रियों की निम्न स्थिति का सिर्फ कोई एक कारण नहीं है बल्कि अनेकों कारण हैं जिनका वर्णन निम्नलिखित है-

1. संयुक्त परिवार प्रणाली (Joint Family System) भारतीय समाज में संयुक्त परिवार प्रथा मिलती है। स्त्रियों की दयनीय स्थिति बनाने में इस प्रणाली की महत्त्वपूर्ण भूमिका है। इस प्रथा में स्त्रियों को सम्पत्ति रखने या किसी
और प्रकार के सामाजिक अधिकार नहीं होते हैं। स्त्रियों को घर की चारदीवारी में कैद रखना पारिवारिक सम्मान की बात समझी जाती थी। परिवार में बाल विवाह को तथा सती प्रथा को महत्त्व दिया जाता था जिस वजह से स्त्रियों की स्थिति काफ़ी निम्न होती थी।

2. पितृसत्तात्मक परिवार (Patriarchal Family) भारतीय समाज में ज्यादातर पितृसत्तात्मक परिवार देखने को मिल जाते हैं। इस प्रकार के परिवार में परिवार का प्रत्येक कार्य पिता की इच्छा के अनुसार ही होता है। बच्चों के नाम के साथ पिता के वंश का नाम जोड़ा जाता है। विवाह के बाद स्त्री को पति के घर जाकर रहना होता है। पारिवारिक मामलों तथा संपत्ति पर अधिकार पिता का ही होता है। इस प्रकार के परिवार में स्त्री की स्थिति काफ़ी निम्न होती है क्योंकि घर के किसी काम में स्त्री की सलाह नहीं ली जाती है।

3. कन्यादान का आदर्श (Ideal of Kanyadan)-पुराने समय से ही हिन्दू विवाह में कन्यादान का आदर्श प्रचलित रहा है। पिता अपनी इच्छानुसार अपनी लड़की के लिए अच्छा-सा वर ढूंढ़ता है तथा उसे अपनी लड़की दान के रूप में दे देता है। पिता द्वारा किया गया कन्या का यह दान इस बात का प्रतीक है कि पत्नी के ऊपर पति का पूरा अधिकार होता है। इस तरह दान के आदर्श के आधार पर भी स्त्रियों की स्थिति समाज में निम्न ही रही है।

4. बाल विवाह (Child Marriage) बाल विवाह की प्रथा के कारण भी स्त्रियों की स्थिति निम्न रही है। इस प्रथा के कारण छोटी उम्र में ही लड़कियों का विवाह हो जाता है जिस वजह से न तो वह शिक्षा ग्रहण कर पाती हैं तथा न ही उन्हें अपने अधिकारों का पता लगता है। पति भी उन पर आसानी से अपनी प्रभुता जमा लेते हैं जिस वजह से स्त्रियों को हमेशा पति के अधीन रहना पड़ता है।

5. कुलीन विवाह (Hypergamy)-कुलीन विवाह प्रथा के अन्तर्गत लड़की का विवाह या तो बराबर के कुल में या फिर अपने से ऊँचे कुल में करना होता है, जबकि लड़कों को अपने से नीचे कुलों में विवाह करने की छूट होती है। इसलिए लड़की के माता-पिता छोटी उम्र में ही लड़की का विवाह कर देते हैं ताकि किसी किस्म की उन्हें तथा लड़की को परेशानी न उठानी पड़े। इस वजह से स्त्रियों में अशिक्षा की समस्या हो जाती है तथा उनकी स्थिति निम्न ही रह जाती है।

6. स्त्रियों की अशिक्षा (Illiteracy) शिक्षा में अभाव के कारण भी हिन्दू स्त्री की स्थिति दयनीय रही है। बालविवाह के कारण शिक्षा न प्राप्त कर पाना जिसकी वजह से अपने अधिकारों के प्रति जागरूक न होना स्त्रियों की निम्न स्थिति का महत्त्वपूर्ण कारण रहा है। अज्ञान के कारण अनेक अन्धविश्वासों, कुरीतियों, कुसंस्कारों तथा सामाजिक परम्पराओं के बीच स्त्री इस प्रकार जकड़ती गई कि उनसे पीछा छुड़ाना एक समस्या बन गई। स्त्रियों को चारदीवारी के अन्दर रखकर पति को परमेश्वर मानने का उपदेश उसे बचपन से ही पढाया जाता था तथा पूर्ण जीवन सबके बीच में रहते हुए सबकी सेवा करते हुए बिता देना स्त्री का धर्म समझा जाता रहा है। इन सब चीज़ों के चलते स्त्री अपने अधिकारों के प्रति जागरूक नहीं हो पाई तथा उसका स्तर दिन-प्रतिदिन गिरता ही चला गया।

7. स्त्रियों की आर्थिक निर्भरता (Economic Dependency of Women)—पुराने समय से ही परिवार का कर्ता पिता या पुरुष रहा है। इसलिए परिवार के भरण-पोषण या पालन-पोषण का भार उसके कंधों पर ही होता है। स्त्रियों का घर से बाहर जाना परिवार के सम्मान के विरुद्ध समझा जाता था। इसलिए आर्थिक मामलों में हमेशा स्त्री को पुरुष के ऊपर निर्भर रहना पड़ता था। परिणामस्वरूप स्त्रियों की स्थिति निम्न से निम्नतम होती गई।

8. ब्राह्मणवाद (Brahmanism)-कुछ विचारकों का यह मानना है कि हिन्दू धर्म या ब्राह्मणवाद स्त्रियों की निम्न स्थिति का मुख्य कारण है क्योंकि ब्राह्मणों ने जो सामाजिक तथा धार्मिक नियम बनाए थे उनमें पुरुषों को उच्च स्थिति तथा स्त्रियों को निम्न स्थिति दी गई थी। मनु के अनुसार भी स्त्री का मुख्य धर्म पति की सेवा करना है। मुसलमानों ने जब भारत में अपना राज्य बनाया तो उनके पास स्त्रियों की कमी थी क्योंकि वह बाहर से आए थे तथा उन्हें हिन्दू स्त्रियों से विवाह पर कोई आपत्ति नहीं थी। इस वजह से हिंदू स्त्रियों को मुसलमानों से बचाने के लिए हिन्दुओं ने विवाह सम्बन्धी नियम और कठोर कर दिए। बाल विवाह को बढ़ावा दिया गया तथा विधवा पुनर्विवाह पर प्रतिबन्ध लगा दिए गए। सती प्रथा तथा पर्दा प्रथा को बढ़ावा दिया गया जिस वजह से स्त्रियों की स्थिति और निम्न होती चली गई।

प्रश्न 3. स्त्रियों को जीवन में कौन-सी निर्योग्यताओं का सामना करना पड़ता था ?
उत्तर-यह माना जाता है कि मर्दो तथा स्त्रियों की स्थिति और संख्या लगभग समान है तथा इस कारण वैदिक काल में दोनों को बराबर अधिकार प्राप्त थे। परन्तु समय के साथ-साथ युग बदलते गए तथा स्त्रियों की स्थिति में परिवर्तन आता गया। स्त्रियों की स्थिति निम्न होती गई तथा उन पर कई प्रकार के प्रतिबन्ध लगा कर कई प्रकार की निर्योग्यताएं थोप दी गईं। स्त्री का सम्मान केवल माता के रूप में ही रह गया। स्त्रियों से सम्बन्धित कुछ निर्योग्यताओं का वर्णन इस प्रकार है-

1. धार्मिक निर्योग्यताएं (Religious disabilities)-वैदिक काल में स्त्रियों की स्थिति बहुत ही अच्छी थी तथा उन्हें किसी भी प्रकार की निर्योग्यता का सामना नहीं करना पड़ता था। स्त्रियों को धार्मिक कार्य के लिए काफ़ी महत्त्वपूर्ण समझा जाता था क्योंकि यह माना जाता था कि धार्मिक यज्ञों तथा और कई प्रकार के कर्मकाण्डों को पूर्ण करने के लिए स्त्री आवश्यक है। स्त्रियों के बिना यज्ञ तथा और कर्मकाण्ड पूर्ण नहीं हो सकते। इसके साथ ही स्त्रियां शिक्षा प्राप्त करती थी तथा शिक्षा धर्म के आधार पर होती थी। इसलिए उन्हें धार्मिक ग्रन्थों का पूर्ण ज्ञान होता था।

परन्तु समय के साथ-साथ स्त्रियों की स्थिति में परिवर्तन आया तथा उनकी सामाजिक स्थिति निम्न होने लगी। बाल विवाह होने के कारण उनका धार्मिक ज्ञान खत्म होना शुरू हो गया जिस कारण उनको यज्ञ से दूर किया जाने लग गया। क्योंकि वह शिक्षा प्राप्त नहीं कर सकती थी इस कारण धर्म के सम्बन्ध में उनकी जानकारी खत्म हो गई। अब वह यज्ञ नहीं कर सकती थी तथा धार्मिक कर्मकाण्ड भी पूर्ण नहीं कर सकती थी। मर्द के प्रभुत्व के कारण स्त्रियों के धार्मिक कार्यों को बिल्कुल ही खत्म कर दिया गया। उसका धर्म केवल परिवार तथा पति की सेवा करना ही रह गया। इस प्रकार स्त्रियों को धार्मिक शिक्षा से भी अलग कर दिया गया क्योंकि उसको मासिक धर्म के कारण अपवित्र समझा जाने लग गया। इस ढंग से यह धार्मक निर्योग्यताएं स्त्रियों के ऊपर थोपी गईं। .

2. सामाजिक निर्योग्यताएं (Social disabilities) धार्मिक निर्योग्यताओं के साथ-साथ स्त्रियों के लिए सामाजिक निर्योग्यताओं की शुरुआत भी हुई। काफ़ी प्राचीन समय से स्त्रियों को बाल विवाह के कारण शिक्षा प्राप्त नहीं होती थी। शिक्षाप्राप्त न करने की स्थिति में वह किसी प्रकार की नौकरी भी नहीं कर सकती थी, क्योंकि नौकरी प्राप्त करने के लिए शिक्षा ज़रूरी समझी जाती है। बाल विवाह के कारण शिक्षा प्राप्त करने के समय तो लड़की का विवाह हो जाता था। इसलिए वह शिक्षा भी प्राप्त नहीं कर सकती थी।

समाज में स्त्रियों से सम्बन्धित कई प्रकार की सामाजिक कुरीतियां भी प्रचलित थीं। सबसे पहली कुरीति थी बाल विवाह । छोटी आयु में ही लड़की का विवाह कर दिया जाता था जिस कारण वह न तो पढ़ सकती थी तथा न ही बाहर के कार्य कर सकती थी। इस कारण वह घर की चारदीवारी में ही सिमट के रह गई थी।
बाल विवाह के साथ-साथ पर्दा प्रथा भी प्रचलित थी। स्त्रियां सभी मर्दो के सामने नहीं आ सकती थीं। यदि किसी कारण आना भी पड़ता था तो उसे लम्बा सा पर्दा करके आना पड़ता था। सती प्रथा तो काफ़ी प्राचीन समय से चली आ रही थी। यदि किसी स्त्री का पति मर जाता था तो उस स्त्री के लिए अकेले ही जीवन जीना नर्क समान समझा जाता था। इसलिए स्त्री अपने पति की चिता पर ही बैठ जाती थी तथा वह सती हो जाती थी। विधवा पुनर्विवाह वैदिक काल में तो होते थे परन्तु वह बाद में बन्द हो गए। विधवा होने के कारण स्त्रियों के लिए सती प्रथा भी 19वीं सदी तक चलती रही। मुसलमानों के भारत में राज्य करने के बाद उन्होंने हिन्दू स्त्रियों से विवाह करने शुरू कर दिए। हिन्दू स्त्रियों को मुसलमानों से बचाने के लिए ब्राह्मणों ने स्त्रियों पर कई प्रकार के प्रतिबन्ध लगा दिए। इस तरह स्त्रियों पर सामाजिक तौर पर कई प्रकार की निर्योग्यताएं थोप दी गई थीं।

3. पारिवारिक निर्योग्यताएं (Familial disabilities) स्त्रियों को परिवार से सम्बन्धित कई प्रकार की निर्योग्यताओं का सामना करना पड़ता था। चाहे अमीर परिवारों में तो स्त्रियों की स्थिति अच्छी थी परन्तु ग़रीब परिवार में तो स्त्रियों की स्थिति काफ़ी निम्न थी। विधवा स्त्री को परिवार के किसी भी उत्सव में भाग लेने नहीं दिया जाता था। पत्नी को दासी समझा जाता था। छोटी-सी गलती पर पत्नी को पीटा जाता था। पत्नी का धर्म पति तथा परिवार की सेवा करना होता था। सास तथा ससुर भी बह पर काफ़ी अत्याचार करते थे। स्त्री हमेशा ही पुरुष पर निर्भर करती थी। विवाह से पहले पिता पर, विवाह के बाद पति पर तथा बुढ़ापे के समय वह बच्चों पर निर्भर होती थी। परिवार पितृ प्रधान होते थे जिस कारण परिवार के किसी भी निर्णय में उसकी सलाह नहीं ली जाती थी। यहां तक कि उसके विवाह के निर्णय भी पिता ही लेता था। इस तरह औरत को दासी या पैर की जूती समझा जाता था।

4. आर्थिक निर्योग्यताएं (Economic disabilities)-स्त्रियों को बहुत-सी आर्थिक निर्योग्यताओं का भी सामना करना पड़ता था। वैदिक काल में तो स्त्रियों को सम्पत्ति रखने का अधिकार प्राप्त था परन्तु समय के साथ ही यह अधिकार खत्म हो गया। मध्य काल में तो वह न तो सम्पत्ति रख सकती थी तथा न ही पिता की सम्पत्ति में से हिस्सा ले सकती थी। संयुक्त परिवार में सम्पत्ति पर सभी मर्दो का अधिकार होता था। बँटवारे के समय स्त्रियों तथा लड़कियों को कोई हिस्सा नहीं दिया जाता था। वह कोई कार्य नहीं करती थी केवल परिवार में ही रहकर परिवार की देखभाल करती थी। इस कारण उसे पैसे से सम्बन्धित कोई स्वतन्त्रता नहीं थी। आर्थिक तौर पर वह पिता, पति तथा लड़कों पर ही निर्भर थी।

इस प्रकार हम देख सकते हैं कि स्त्रियों को समाज में कई प्रकार की निर्योग्यताओं का सामना करना पड़ता था चाहे वैदिक काल में स्त्रियों पर कोई निर्योग्यता नहीं थी तथा उसको बहुत-से अधिकार प्राप्त थे, परन्तु समय के साथ-साथ यह सभी अधिकार खत्म हो गए तथा अधिकारों की जगह उन पर निर्योग्यताएं थोप दी गई।

प्रश्न 4. स्वतन्त्रता के बाद स्त्रियों की स्थिति सुधारने के क्या प्रयास किए गए ?
उत्तर-देश की आधी जनसंख्या स्त्रियों की है। इसलिए देश के विकास के लिए यह भी ज़रूरी है कि उनकी स्थिति में सुधार लाया जाये। उनसे संबंधित कुप्रथाओं तथा अन्धविश्वासों को समाप्त किया जाए। स्वतन्त्रता के बाद भारत के संविधान में कई ऐसे प्रावधान किये गये जिनसे महिलाओं की स्थिति में सुधार हो। उनकी सामाजिक स्थिति बेहतर बनाने के लिए अलग-अलग कानून बनाए गए। आजादी के बाद देश की महिलाओं के उत्थान, कल्याण तथा स्थिति में सुधार के लिए निम्नलिखित प्रयास किए गए हैं-

1. संवैधानिक प्रावधान (Constitutional Provisions) महिलाओं की स्थिति सुधारने के लिए संविधान में निम्नलिखित प्रावधान है-

  • अनुच्छेद 14 के अनुसार कानून के सामने सभी समान हैं।
  • अनुच्छेद 15 (1) द्वारा धर्म, जाति, लिंग या जन्म स्थान के आधार पर किसी भारतीय से भेदभाव की मनाही है।
  • अनुच्छेद 15 (3) के अनुसार राज्य महिलाओं तथा बच्चों के लिए विशेष प्रावधान करें।
  • अनुच्छेद 16 के अनुसार राज्य रोजगार तथा नियुक्ति के मामलों में सभी भारतीयों को समान अवसर प्रदान करें।
  • अनुच्छेद 39 (A) के अनुसार राज्य पुरुषों तथा महिलाओं को आजीविका के समान अवसर उपलब्ध करवाए।
  • अनुच्छेद 39 (D) के अनुसार पुरुषों तथा महिलाओं को समान कार्य के लिए समान वेतन दिया जाए।
  • अनुच्छेद 42 के अनुसार राज्य कार्य की न्यायपूर्ण स्थिति उत्पन्न करें तथा अधिक-से-अधिक प्रसूति सहायता प्रदान करें।
  • अनुच्छेद 51 (A) (E) के अनुसार स्त्रियों के गौरव का अपमान करने वाली प्रथाओं का त्याग किया जाए।
  • अनुच्छेद 243 के अनुसार स्थानीय निकायों-पंचायतों तथा नगरपालिकाओं में एक तिहाई स्थानों को महिलाओं के लिए आरक्षित करने का प्रावधान है।

2. कानून (Legislations)-महिलाओं के हितों की सुरक्षा तथा उनकी सामाजिक स्थिति सुधारने के लिए कई कानूनों का निर्माण किया गया जिनका वर्णन निम्नलिखित है-

  • सती प्रथा निवारण अधिनियम, 1829, 1987 (The Sati Prohibition Act)
  • हिन्दू विधवा पुनर्विवाह अधिनियम 1856 (The Hindu Widow Remarriage Act)
  • बाल विवाह अवरोध अधिनियम (The Child Marriage Restraint Act)
  • हिन्दू स्त्रियों का सम्पत्ति पर अधिकार (The Hindu Women’s Right to Property Act) 1937.
  • विशेष विवाह अधिनियम (Special Marriage Act) 1954.
  • हिन्दू विवाह तथा विवाह विच्छेद अधिनियम (The Hindu Marriage and Divorce Act) 1955 & 1967.
  • हिन्दू उत्तराधिकार अधिनियम (The Hindu Succession Act) 1956.
  • दहेज प्रतिबन्ध अधिनियम (Dowry Prohibition Act) 1961, 1984, 1986.
  • मातृत्व हित लाभ अधिनियम (Maternity Relief Act) 1961, 1976.
  • मुस्लिम महिला तलाक के अधिकारों का संरक्षण अधिनियम (Muslim Women Protection of Rights of Divorce) 1986.

पीछे दिए कानूनों में से चाहे कुछ आज़ादी से पहले बनाए गए थे पर उनमें आज़ादी के बाद संशोधन कर लिए गए हैं। इन सभी विधानों से महिलाओं की सभी प्रकार की समस्याओं जैसे दहेज, बाल विवाह, सती प्रथा, सम्पत्ति का उत्तराधिकार इत्यादि का समाधान हो गया है तथा इनसे महिलाओं की स्थिति सुधारने में मदद मिली है।

3. महिला कल्याण कार्यक्रम (Women Welfare Programmes)-स्त्रियों के उत्थान के लिए आज़ादी के बाद कई कार्यक्रम चलाए गए जिनका वर्णन निम्नलिखित है-

  • 1975 में अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया तथा उनके कल्याण के कई कार्यक्रम चलाए गए।
  • 1982-83 में ग्रामीण महिलाओं को आर्थिक तौर पर मज़बूत करने के लिए डवाकरा कार्यक्रम चलाया जा रहा है।
  • 1986-87 में महिला विकास निगम की स्थापना की गई ताकि अधिक-से-अधिक महिलाओं को रोज़गार के अवसर प्राप्त हों।
  • 1992 में राष्ट्रीय महिला आयोग का पुनर्गठन किया गया ताकि महिलाओं के ऊपर बढ़ रहे अत्याचारों को रोका जा सके।

4. देश में महिला मंडलों की स्थापना की गई। यह महिलाओं के वे संगठन हैं जो ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं के कल्याण के लिए कार्यक्रम चलाते हैं। इन कार्यक्रमों पर होने वाले खर्च का 75% पैसा केन्द्रीय समाज कल्याण बोर्ड देता है।

5. शहरों में कामकाजी महिलाओं को समस्या न आए इसीलिए सही दर पर रहने की व्यवस्था की गई है। केन्द्रीय समाज कल्याण बोर्ड ने होस्टल स्थापित किए हैं ताकि कामकाजी महिलाएं उनमें रह सकें।

6. केन्द्रीय समाज कल्याण मण्डल ने सामाजिक आर्थिक कार्यक्रम देश में 1958 के बाद से चलाने शुरू किए ताकि ज़रूरतमंद, अनाथ तथा विकलांग महिलाओं को रोजगार उपलब्ध करवाया जा सके। इसमें डेयरी कार्यक्रम भी शामिल हैं।
इस तरह आजादी के पश्चात् बहुत सारे कार्यक्रम चलाए गए हैं ताकि महिलाओं की सामाजिक स्थिति को ऊपर उठाया जा सके। अब महिला सशक्तिकरण में चल रहे प्रयासों की वजह से भारतीय महिलाओं का बेहतर भविष्य दृष्टिगोचर होता है।

प्रश्न 5. भारतीय स्त्रियों की स्थिति में आए परिवर्तनों के कारणों तथा स्त्रियों की वर्तमान स्थिति का वर्णन करो।
अथवा
क्या आधुनिक समयों में औरत की स्थिति में कुछ सुधार हुआ है ?
उत्तर-आज के समय में भारतीय महिलाओं की स्थिति में काफ़ी परिवर्तन आए हैं। महिलाओं की जो स्थिति आज से 50 साल पहले थी उसमें तथा आज की महिला की स्थिति में काफ़ी फर्क है। आज महिलाएं घर की चारदीवारी से बाहर निकल कर बाहर दफ्तरों में काम कर रही हैं। पर यह परिवर्तन किसी एक कारण की वजह से नहीं आया है। इसके कई कारण हैं जिनका वर्णन निम्नलिखित है-

1. स्त्रियों की साक्षरता दर में वृद्धि (Improvement in the literacy rate of women)-आज़ादी से पहले स्त्रियों की शिक्षा की तरफ कोई ध्यान नहीं देता था पर आज़ादी के पश्चात् भारत सरकार की तरफ से स्त्रियों की शिक्षा के स्तर को बढ़ाने के लिए कई उपाय किए गए जिस वजह से स्त्रियों की शिक्षा के स्तर में काफ़ी वृद्धि हुई। सरकार ने लड़कियों को पढ़ाने के लिए मुफ्त शिक्षा, छात्रवृत्तियां प्रदान की, मुफ़्त किताबों का प्रबन्ध किया ताकि लोग अपनी लड़कियों को स्कूल भेजें। इस तरह धीरे-धीरे स्त्रियों में शिक्षा का प्रसार हुआ तथा उनका शिक्षा स्तर बढ़ने लगा। आजकल हर क्षेत्र में लड़कियाँ उच्च शिक्षा प्राप्त कर रही हैं। शिक्षा की वजह से उनके विवाह भी देर से होने लगे जिस वजह से उनका जीवन स्तर ऊंचा उठने लगा। आज लड़कियां भी लड़कों की तरह बढ़-चढ़ कर शिक्षा ग्रहण करती हैं। इस तरह स्त्रियों की स्थिति में परिवर्तन का सबसे बड़ा कारण उनमें शिक्षा का प्रसार है।

2. औद्योगीकरण (Industrialization)-आज़ादी के बाद औद्योगीकरण का बहुत तेज़ी से विकास हुआ। शिक्षा प्राप्त करने की वजह से औरतें भी घर की चारदीवारी से बाहर निकल कर नौकरियां करने लगीं जिस वजह से उनके ऊपर से पाबंदियां हटने लगीं। औरतें दफ्तरों में और पुरुषों के साथ मिलकर काम करने लगीं जिस वजह से जाति प्रथा की पाबंदियां खत्म होनी शुरू हो गईं। औरों के साथ मेल-जोल से प्रेम विवाह के प्रचलन बढ़ने लगे। दफ्तरों में काम करने की वजह से उनकी पुरुषों पर से आर्थिक निर्भरता कम हो गई जिस वजह से स्त्रियों की स्थिति में काफ़ी सुधार हुआ। इस तरह औरतों की स्थिति सुधारने में औद्योगीकरण की भी महत्त्वपूर्ण भूमिका है।

3. पश्चिमी संस्कृति (Western Culture)-आजादी के बाद भारत पश्चिमी देशों के संपर्क में आया जिस वजह से वहां के विचार, वहां की संस्कृति हमारे देश में भी आयी। महिलाओं को उनके अधिकारों, उनकी आजादी के बारे में पता चला जिस वजह से उनकी विचारधारा में परिवर्तन आना शुरू हो गया। इस संस्कृति की वजह से अब महिलाएं पुरुषों के साथ कंधे-से-कंधा मिला कर खड़ी होनी शुरू हो गईं। दफ्तरों में काम करने की वजह से औरतें आर्थिक तौर पर आत्मनिर्भर हो गईं तथा उनमें मर्दो के साथ समानता का भाव आने लगा। कुछ महिला आन्दोलन भी चले जिस वजह से महिलाओं में जागरूकता आ गई तथा उनकी स्थिति में परिवर्तन आना शुरू हो गया।

4. अंतर्जातीय विवाह (Inter Caste Marriage)-आज़ादी के बाद 1955 में हिन्दू विवाह कानून पास हुआ जिससे अन्तर्जातीय विवाह को कानूनी मंजूरी मिल गई। शिक्षा के प्रसार की वजह से औरतें दफ्तरों में काम करने लग गईं, घर से बाहर निकलीं जिस वजह से वह और जातियों के संपर्क में आईं। प्रेम विवाह, अन्तर्जातीय विवाह होने लगे जिस वजह से लोगों की विचारधारा में परिवर्तन आने लग गए। इस वजह से अब लोगों की नजरों में औरतों की स्थिति ऊँची होनी शुरू हो गई। औरतों की आत्मनिर्भरता की वजह से उन्हें और सम्मान मिलने लगा। इस तरह अन्तर्जातीय विवाह की वजह से दहेज प्रथा या वर मूल्य में कमी होनी शुरू हो गई तथा स्त्रियों की स्थिति में परिवर्तन आना शुरू हो गया।

5. संचार तथा यातायात के साधनों का विकास (Development in the means of communication and transport)-आजादी के बाद यातायात तथा संचार के साधनों में विकास होना शुरू हुआ। लोग एक-दूसरे के सम्पर्क में आने शुरू हो गए। लोग गांव छोड़कर दूर-दूर शहरों में जाकर रहने लगे जिस वजह से वे और जातियों के सम्पर्क में आए। इसके साथ ही कुछ नारी आन्दोलन चले तथा सरकारी कानून भी बने ताकि महिलाओं का शोषण न हो सके। इन साधनों के विकास की वजह से स्त्रियां पढ़ने लगीं, नौकरियां करने लगी तथा लोगों की विचारधारा में धीरे-धीरे परिवर्तन होने शुरू हो गए।

6. विधानों का निर्माण (Formation of Laws)-चाहे आजादी से पहले भी महिलाओं के उत्थान के लिए कई कानूनों का निर्माण हुआ था पर वह पूरी तरह लागू नहीं हुए थे क्योंकि हमारे देश में विदेशी सरकार थी। पर 1947 के पश्चात् भारत सरकार ने इन कानूनों में संशोधन किए तथा उन्हें सख्ती से लागू किया। इसके अलावा कुछ और नए कानून भी बने जैसे कि हिन्दू विवाह कानून, हिन्दू उत्तराधिकार कानून, दहेज प्रतिबन्ध कानून इत्यादि ताकि स्त्रियों का शोषण होने से रोका जा सके। इन कानूनों की वजह से स्त्रियों का शोषण कम होना शुरू हो गया तथा स्त्रियां अपने आपको सुरक्षित महसूस करने लग गईं। अब कोई भी स्त्रियों का शोषण करने से पहले दस बार सोचता है क्योंकि अब कानून स्त्रियों के साथ है। इस तरह कानूनों की वजह से भी स्त्रियों की स्थिति में काफ़ी परिवर्तन आए हैं।

7. संयुक्त परिवार का विघटन (Disintegration of Joint Family) यातायात तथा संचार के साधनों के विकास, शिक्षा, नौकरी, दफ्तरों में काम, अपने घर या गांव या शहर से दूर काम मिलना तथा औद्योगीकरण की वजह से संयुक्त परिवारों में विघटन आने शुरू हो गए। पहले संयुक्त परिवारों में स्त्री घर में ही घुट-घुट कर मर जाती थी पर शिक्षा के प्रसार तथा दफ्तरों में नौकरी करने की वजह से हर कोई संयुक्त परिवार छोड़कर अपना केन्द्रीय परिवार बसाने लगा जो कि समानता पर आधारित होता है। संयुक्त परिवार में स्त्री को पैर की जूती समझा जाता है पर केंद्रीय परिवारों में स्त्री की स्थिति पुरुषों के समान होती है जहां स्त्री आर्थिक या हर किसी क्षेत्र में पुरुषों के साथ कंधे-से-कंधा मिलाकर खड़ी होती है। इस तरह संयुक्त परिवारों के विघटन ने भी स्त्रियों की स्थिति में परिवर्तन करने में महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा की है।

लिंग असमानता Notes

  • हम सभी समाज, परिवार व सम्बन्धों में रहते हैं तथा हमने परिवार में रहते हुए पुरुषों को स्त्रियों से बातें करते हुए सुना होगा। इस बातचीत में शायद हमें कभी लगा होगा कि घर की स्त्रियों के साथ भेदभाव हो रहा है। यह लिंग आधारित भेदभाव ही लैंगिक भेदभाव है।
  • शब्द लिंग वर्ग (Gender) समाज की तरफ से बनाया गया है तथा यह संस्कृति का योगदान है। लिंग वर्ग एक समाजशास्त्रीय शब्द है जिसमें राजनीतिक, सांस्कृतिक, सामाजिक, मनोवैज्ञानिक तथा आर्थिक रूप से स्त्री तथा पुरुष के बीच रिश्तों की नींव रखी जाती है। इसका अर्थ है कि जब हम सामाजिक सांस्कृतिक रूप से पुरुष स्त्री के संबंधों की बात करते हैं तो लिंग वर्ग शब्द सामने आता है।
  • लिंग तथा लिंग वर्ग शब्दों में अंतर होता है। शब्द लिंग एक जैविक शब्द है जो बताता है कि कौन पुरुष है या कौन स्त्री। परन्तु लिंग अंतर वह व्यवहार है जो सामाजिक प्रथाओं से बनता है।
  • जब हम लिंग संबंधों की बात करते हैं इसका अर्थ है स्त्री-पुरुष के वह रिश्ते जो विचारधारा, संस्कृति, राजनीतिक तथा आर्थिक मुद्दों पर आधारित होते हैं। लिंग संबंधों में हम लिंग अधीनता का अध्ययन करते हैं कि कौन-सा लिंग दूसरे पर हावी होता है।
  • हमारा समाज पुरुष प्रधान समाज है जिसमें स्त्रियों के साथ कई प्रकार से भेदभाव किया जाता है। चाहे हमारे संविधान ने हमें समानता का अधिकार दिया है परन्तु आज भी बहुत से अधिकार हैं जो स्त्रियों को नहीं दिए जाते।
  • पितृप्रधान परिवार वह परिवार होता है जिसमें पिता की प्रधानता होती है तथा उसकी ही आज्ञा चलती है। परिवार
    के सभी निर्णय पिता लेता है तथा पुरुषों को स्त्रियों से ऊँचा समझा जाता है।
  • लिंग वर्ग समाजीकरण का वह तरीका है जिसमें समाज यह ध्यान रखता है कि बच्चे अपने लिंग के अनुसार सही व्यवहार करना सीख जाएं। यह बच्चों को भी अलग-अलग वर्गों में विभाजित करते हैं कि वह लड़का है या लड़की। इस प्रकार समाज लिंग वर्ग समाजीकरण के साथ व्यक्ति के व्यवहार को नियन्त्रित करता है।
  • लिंग वर्ग भेदभाव हमारे समाज के लिए कोई नई बात नहीं है। यह सदियों से चलता आ रहा है। स्त्रियों के साथ कई ढंगों से भेदभाव किया जाता है जिससे स्त्रियों को काफ़ी कुछ सहना पड़ता है। अगर बच्चों के लिंग अनुपात (0-6 वर्ष) की बात करें तो 2011 में यह 1000 : 914 था अर्थात् 1000 लड़कों के पीछे 914 लड़कियां थीं।
  • यह भेदभाव हम शिक्षा के क्षेत्र में भी देख सकते हैं। 2011 में देश की साक्षरता दर 74% थी जिसमें 82% पुरुष तथा 65% स्त्रियां शिक्षित थीं। आज भी देश के अंदरूनी भागों में लोग लड़कियों को पढ़ने के लिए स्कूल नहीं भेजते।
  • हमारे देश में स्त्रियों को बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। बलात्कार, अपहरण, वेश्यावृत्ति, बेच देना, छेड़छाड़, घरेलू हिंसा, दहेज, तंग करना इत्यादि कुछ ऐसी समस्याएं हैं जिनसे स्त्रियों को रोजाना दो-चार होना पड़ता है।
  • लिंग वर्ग भूमिका (Gender Role) लिंग वर्ग भूमिका का अर्थ है वह व्यवहार जो प्रत्येक समाज में लिंग ‘ वर्ग से संबंधित होता है।
  • लिंग वर्ग भेदभाव (Gender Discrimination)-जनसंख्या के एक हिस्से से अधीनता, निष्कासन तथा भाग न लेने वाला व्यवहार विशेषतया स्त्रियां तथा उन्हें दरकिनार एवं नज़रअंदाज़ कर दिया जाता है।
  • ट्रांसजेंडर (Transgender)-व्यक्तियों का वह वर्ग जिनमें पुरुषों व स्त्रियों दोनों के गुण मौजूद होते हैं।
  • समाजीकरण (Socialization) तमाम आयु चलने वाली व सीखने वाली वह प्रक्रिया जिसमें व्यक्ति समाज में जीवन जीने के तरीके, संस्कृति इत्यादि सीखते हैं तथा उन्हें अगली पीढ़ी को सौंप देते हैं।
  • पितृपक्ष की प्रबलता (Patriarchy) समाज का वह प्रकार जिसमें पुरुषों के हाथों में सत्ता होती है तथा स्त्रियों को इससे बाहर रखा जाता है। घर के सबसे बड़े पुरुष के हाथों में सत्ता होती है तथा परिवार का वंश
    सत्ता के नाम से चलता है।
  • शिशु लिंग अनुपात (Child Sex Ratio)-इसका अर्थ है 1000 लड़कों (0-6 वर्ष) के पीछे लड़कियों (0-6 वर्ष) की संख्या । 2011 में यह 1000 : 914 था।
  • लिंग अनुपात (Sex Ratio)- इसका अर्थ है 1000 पुरुषों के पीछे स्त्रियों की संख्या। 2011 में यह 1000 : 943 था।