Class 11 History Solutions Chapter 10 सामाजिक-धार्मिक आन्दोलन

अध्याय का विस्तृत अध्ययन

(विषय-सामग्री की पूर्ण जानकारी के लिए)

प्रश्न 1. सामाजिक प्रबन्ध में परिवर्तन के सन्दर्भ में उलेमा लोगों तथा सूफियों के धार्मिक विश्वासों और व्यवहारों की चर्चा करो।
उत्तर-दिल्ली सल्तनत भारत के लिए एक नवीन अनुभव था। इस्लाम धर्म के आगमन से इस देश के पूरे समाज तथा सामाजिक परम्पराओं में परिवर्तन आ गया। शासक वर्ग में भी नवीन श्रेणियां देखने को मिलीं। इन सबका वर्णन इस प्रकार है

I. सामाजिक प्रबन्ध में परिवर्तन –

मुस्लिम समाज-सल्तनत काल में सामाजिक प्रबन्ध में शासक वर्ग का विशेष महत्त्व था। इस वर्ग में बड़ी संख्या में तुर्क और पठान या अफ़गान थे। उनके अतिरिक्त कई अरब और ईरानी लोग भी उत्तरी भारत में आकर बस गए। इन आवासियों का शासक वर्ग के साथ निकट सम्बन्ध था, परन्तु ये सभी सैनिक या प्रशासक नहीं थे। इनमें व्यापारी, लेखक, मुल्ला तथा सूफ़ी भी सम्मिलित थे। इन विदेशियों में से कइयों ने इस देश की स्त्रियों से विवाह कर लिया। दूसरे, नगरों में शिल्पकारों और गांवों में किसानों के कई समूहों ने इस्लाम धर्म स्वीकार कर लिया। इस प्रकार उत्तरी भारत में इस्लाम धर्म के अनुयायियों की संख्या बहुत अधिक हो गई।

गैर-मुस्लिम समाज-इन परिवर्तनों का प्रभाव समाज के देशी तत्त्वों पर भी पड़ा। विजयनगर साम्राज्य और राजस्थान के बाहर अब कहीं-कहीं, छोटे-छोटे इलाकों पर, पुराने शासकों के उत्तराधिकारियों का अधिकार रह गया था। इनमें कुछ शासक स्वतन्त्र थे। अधिकांश शासक सुल्तानों के सामन्त मात्र थे। सल्तनतों के सीधे प्रशासन क्षेत्र में भी देशी लोगों का काफ़ी प्रभाव था। वे प्रायः प्रशासन के निचले स्तरों पर छाए हुए थे। लगान प्रबन्ध का अधिकांश कार्य उनके हाथों में था। फिर भी उनका स्तर गौण था।

ब्राह्मण अब अपना पहले वाला गौरव खो बैठे थे। उनमें से कुछ अब भी स्वतन्त्र शासकों अथवा सामन्तों के पास राजज्योतिषी के रूप में या प्रशासन में विभिन्न पदों पर थे। परन्तु अधिकांश को नये संरक्षण और नये व्यवसायों की खोज करनी पड़ी। फिर भी समाज के धार्मिक कार्यों के कारण उनका महत्त्व बना रहा। ऐसा लगता था कि इस काल में व्यापारिक उन्नति के कारण व्यापारिक जातियां पहले से भी कहीं अधिक महत्त्वपूर्ण और प्रभावशाली हो गई थीं। वे कस्बों और शहरों के आर्थिक जीवन की रीढ़ की हड्डी बन गईं। अतः इस युग में वैश्य जाति का महत्त्व खूब बढ़ा।

II. उलेमा-

उलेमा अथवा मुल्ला लोग सुन्नी मर्यादा के संरक्षक माने जाते थे। वे कुरान तथा हदीस पर आधारित शतकियों से प्रचलित विश्वासों और रस्मों के बाहरी पालन पर बल देते थे। उनका मूल विश्वास था कि अल्लाह के अतिरिक्त कोई भगवान् नहीं तथा मुहम्मद उसके पैगम्बर हैं। मुसलमानों के लिए धार्मिक निष्ठा और नेक जीवन व्यतीत करने के लिए चार स्तम्भ थे। इनमें से एक था-रोज़ नमाज अदा करना। दूसरा रमज़ान के पवित्र महीने में रोज़ा अथवा प्रवास का
नाम जकात था। इसके अनुसार प्रत्येक मुसलमान के लिए अपनी वार्षिक आय का एक निश्चित भाग गरीब मुसलमानों के कल्याण के लिए देना आवश्यक था। चौथा हज अर्थात् मक्का की यात्रा करना था। इन सभी रस्मों में धार्मिक भावना की अपेक्षा मर्यादा के बाह्य पालन पर अधिक बल दिया गया था।

III. सूफी-

धार्मिक नेताओं की एक और श्रेणी थी। इन्हें सूफी कहा जाता था। सूफी लोग बाहरी मर्यादा के स्थान पर भावना के महत्त्व पर बल देते थे। वे शेख पीर के नाम से प्रसिद्ध थे। उनके अनुसार ईश्वर और मनुष्य के बीच बुनियादी नाता प्रेम का है। उनका यह भी विश्वास था कि पीर के नेतृत्व में एक विशेष प्रकार का जीवन व्यतीत करके ही ईश्वर में लीन होना सम्भव है। ईश्वर की प्राप्ति की आध्यात्मिक यात्रा के कई पड़ाव थे जिनमें एक ओर भावपूर्ण प्रचण्ड भक्ति थी और दूसरी ओर घोर त्याग तथा ‘कठिन संयम की आवश्यकता थी। मुल्ला लोग सूफियों को पसन्द नहीं करते थे।

सच तो यह है कि मुल्ला लोगों के विरोध के बावजूद, समाज में सूफी लोकप्रिय होते गए। उनका प्रभाव भी बढ़ता गया। उत्तरी भारत में सूफियों की कई परिपाटियां थीं। इनमें दो सबसे महत्त्वपर्ण भी-चिश्ती और सुहरानदी। उन्होंने इस्लाम को शान्तिपूर्ण ढंग से फैलाया। उनका उद्देश्य इस्लाम धर्म फैलाना नहीं था। परन्तु उनके व्यवहार से प्रभावित होकर कई लोगों ने इस्लाम धर्म स्वीकार कर लिया। मुसलमान लोगों में भी उनका बड़ा प्रभाव था। स्वयं सुल्तान उन्हें लगान मुक्त भूमि दिया करते थे।
वास्तविकता तो यह है कि इस्लाम के आगमन से पूरे भारतीय समाज का रूप ही बदल गया।

प्रश्न 2. सन्त कबीर के विशेष सन्दर्भ में सन्तों तथा वैष्णव भक्तों के विश्वासों एवं व्यवहारों की चर्चा करें।
उत्तर-मध्यकाल में भारत में एक महान् समाज एवं धर्म सुधार आन्दोलन चला जो भक्ति लहर के नाम से विख्यात है। सन्त लहर तथा वैष्णव भक्ति इसी आन्दोलन की दो शाखाएं थीं। भले ही इन दोनों शाखाओं के प्रचारकों के अनेक सिद्धान्त मेल खाते थे तो भी इनके विश्वासों एवं व्यवहारों में कुछ मूल अन्तर भी थे। इस दृष्टि से सन्तों की विचारधारा वैष्णव भक्ति की अपेक्षा अधिक विकसित थी। सन्त लहर को सबल बनाने वाले मुख्य सन्त कबीर जी थे। उनके सन्दर्भ में सन्तों एवं वैष्णव भक्तों के विश्वासों तथा व्यवहारों का विस्तृत वर्णन इस प्रकार है

I. सन्त कबीर-

जीवन-कबीर जी उत्तर प्रदेश के रहने वाले थे। कहते हैं कि उनका जन्म बनारस में 1398 ई० में हुआ था। उनको नीरू नामक मुसलमान जुलाहे ने पाल-पोस कर बड़ा किया था। कबीर जी भी कपड़ा बुन कर बाज़ार में बेचते थे और अपने परिवार का पालन-पोषण करते थे। अपने समय के कई सन्तों के साथ उनका सम्पर्क था। सन्त कबीर ने हिन्दी में रामायणी, साखी तथा शब्द छन्दों में बहुत सुन्दर भक्ति साहित्य की रचना की। इनकी रचनाओं के एक संकलन को बीजक कहा जाता है। इनके शब्द गुरु ग्रन्थ साहिब में भी सम्मिलित हैं। सन्त कबीर की मृत्यु 1518 ई० में उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले के मघर नामक स्थान पर हुई। उनके अनुयायी कबीर पन्थी कहलाए। परन्तु सन्त कबीर ने अपने जीवन काल में किसी संगठित पंथ की नींव नहीं रखी थी। इसलिए इनकी मृत्यु के पश्चात् कबीर पंथ कई हिस्सों में बंट गया।

विचारधारा-सन्त कबीर ने उस समय में प्रचलित विश्वासों तथा रीति-रिवाजों की कड़े शब्दों में निन्दा की। उन्होंने मूर्ति पूजा, शुद्धि स्नान, व्रत तथा तीर्थ यात्राएं आदि परम्पराओं का घोर खण्डन किया। उनके विचारानुसार, मुल्ला तथा पण्डित दोनों ही सच्ची धार्मिक जिज्ञासा से भटक चुके थे। उन्होंने वेदों और कुरान दोनों को ही कोई महत्त्व नहीं दिया।

कबीर के अनुसार परमात्मा मनुष्य के मन में बसता है। वह एक ही है; चाहे उसे अल्लाह कहा जाए या हरि। अत: मानव को अपनी अन्तरात्मा की गहराई में झांकना चाहिए। परमात्मा को अपने भीतर ढूंढ़ना ही मुक्ति है। इसी अनुभव के द्वारा ही मानव आत्मा परमात्मा के साथ चिर मिलन प्राप्त करती है। परन्तु इस उद्देश्य की प्राप्ति सरल नहीं है। इसके लिए परमात्मा के प्रति पूर्ण प्रेम-भक्ति और समर्पण की आवश्यकता है। इसमें परमात्मा से विरह की पीड़ा भी है और मुक्ति के लिए निरन्तर यत्न की आवश्यकता भी। वास्तव में इसकी प्राप्ति परमात्मा की कृपा पर निर्भर है। कहने का अभिप्राय यह है कि सच्चा गुरु स्वयं परमात्मा है। वह विश्व के बाहर भी है और भीतर भी है। इसलिए वह मानव में भी विद्यमान है। सन्त कबीर के अनुसार मुक्ति का मार्ग सबके लिए खुला है। यद्यपि उस तक कोई विरला ही पहुंचता है। इस प्रकार कबीर भक्ति के विचार सूफियों और जोगियों के विचारों के साथ मिलकर एक मौलिक विचारधारा को जन्म देते हैं।

II. सन्तों के विश्वास एवं व्यवहार सन्त लहर के प्रचारक अवतारवाद में बिल्कुल विश्वास नहीं रखते थे। वे मूर्ति-पूजा के भी विरुद्ध थे। उनका विश्वास था कि ईश्वर एक है और वह मनुष्य के मन में निवास करता है। अतः परमात्मा को पाने के लिए मनुष्य को अपनी अन्तरात्मा की गहराइयों में डूब जाना चाहिए। अन्तरात्मा से परमात्मा को खोज निकालने का नाम ही मुक्ति है। इस अनुभव से मनुष्य की आत्मा पूर्ण रूप से परमात्मा में विलीन हो जाती है। सन्तों के अनुसार सच्चा गुरु परमात्मा तुल्य है। जिस किसी को भी सच्चा गुरु मिल जाता है, उसके लिए परमात्मा को पा लेना कठिन नहीं है। संत जाति-प्रथा के भेदभाव के विरुद्ध थे। कुछ प्रमुख सन्तों के नाम इस प्रकार हैं-कबीर, नामदेव, सधना, रविदास, धन्ना तथा सैन जी। श्री गुरु नानक देव जी भी अपने समय के महान् सन्त हुए हैं।

III. वैष्णव भक्तों के विश्वास एवं व्यवहार वैष्णव भक्ति शाखा के प्रचारक सीता-राम तथा राधा-कृष्ण को परमात्मा (विष्णु) का रूप मानते थे और उनकी पूजा पर बल देते थे। इस लहर के प्रचारक विष्णु को नारायण, हरि, गोबिन्द आदि के रूप में भी पूजते थे। इस लहर के प्रमुख प्रचारक रामानुज, निम्बार्क, वल्लभ, रामानन्द और चैतन्य महाप्रभु थे। रामानुज ने भक्ति मार्ग की महानता पर बल दिया। उन्होंने विष्णु को ईश्वर का रूप कहा। निम्बार्क ने कृष्ण तथा राधा की भक्ति का प्रचार किया। वल्लभ ने भी कृष्ण और राधा की भक्ति पर बल दिया। उनके शिष्य कृष्ण की पूजा भिन्न-भिन्न ढंगों से करते थे। रामानन्द 14वीं शताब्दी के महान् प्रचारक थे। भक्ति-मार्ग के लिए उन्होंने स्थान-स्थान पर भ्रमण किया। उन्होंने अपना प्रचार आम बोल-चाल की भाषा में किया। वह जातिपाति में विश्वास नहीं रखते थे। उनके शिष्यों में अनेक जातियों के लोग शामिल थे। रामानन्द ने राम और सीता की भक्ति पर अधिक बल दिया। चैतन्य महाप्रभु बंगाल के वैष्णव प्रचारक थे। वह काफ़ी समय तक बंगाल तथा उड़ीसा में भक्ति मार्ग का प्रचार करते रहे। उन्होंने कृष्ण तथा राधा का कीर्तन करने और उनकी स्तुति में गीत गाने पर विशेष बल दिया।

सच तो यह है कि सन्त लहर तथा वैष्णव भक्ति ‘भक्ति लहर’ का अंग होते हुए भी दो पृथक् विचारधाराएं हैं। इन दोनों विचारधाराओं में कई मूल अन्तर थे। वैष्णव भक्ति के प्रचारक राम अथवा कृष्ण को विष्णु का अवतार मान कर उनकी पूजा करते थे। परन्तु सन्तों ने वैष्णव भक्ति को स्वीकार न किया। इसके अतिरिक्त वैष्णव भक्ति के कुछ प्रचारक मूर्ति-पूजा में भी विश्वास रखते थे जबकि सन्त इसके घोर विरोधी थे। वास्तव में सन्त लहर की विचारधारा वैष्णव भक्ति की अपेक्षा सूफ़ियों की विचारधारा से अधिक मेल खाती है।

महत्त्वपूर्ण परीक्षा-शैली प्रश्न

I. वस्तुनिष्ठ प्रश्न

1. उत्तर एक शब्द से एक वाक्य में

प्रश्न 1. बनारस से सम्बन्धित दो संतों के नाम बताइए।
उत्तर-भक्त कबीर तथा संत रविदास।

प्रश्न 2. सूफी संत किन दो नामों से प्रसिद्ध थे?
उत्तर-शेख और पीर।

प्रश्न 3. चिश्ती सिलसिले की नींव किसने रखी?
उत्तर-खवाजा मुइनुद्दीन चिश्ती।

प्रश्न 4. अलवार कौन थे?
उत्तर-दक्षिण के वैष्णव संत। प्रश्न 5. नयनार कौन थे?
उत्तर-दक्षिण के शैव संत।

2. रिक्त स्थानों की पूर्ति

(i) रामानंद ने अपने प्रचार के लिए………….भाषा का प्रयोग किया।
(ii) कीर्तन की प्रथा…………ने आरम्भ की।
(iii) संत…………..परमात्मा में विश्वास रखते थे।
(iv) निम्बार्क तथा माधव………..भक्ति के प्रतिपादक थे।
(v) रामानंद ने…………..भक्ति का प्रचार किया।
उत्तर-
(i) हिंदी
(ii) चैतन्य
(iii) निर्गुण
(iv) कृष्ण
(v) राम।

3. सही / ग़लत कथन

(i) मुलतान तथा लाहौर सुहरावर्दी (सूफी मत) सिलसिले के केंद्र थे। — (✓)
(ii) गुरु ग्रंथ साहिब में संत कबीर की वाणी शामिल नहीं है। — (✗)
(iii) गीतगोबिन्द की रचना जयदेव ने की थी। — (✓)
(iv) गोरखनाथियों का मूल उद्देश्य शिवास्था को प्राप्त करना था। — (✓)
(v) शेख फ़रीद एक वैष्णव संत थे। — (✗)

4. बहु-विकल्पीय प्रश्न

(i) चैतन्य महाप्रभु का सम्बन्ध था
(A) शैव भक्ति
(B) वैष्णव भक्ति
(C) सूफी संत
(D) नाथ पंथ।
उत्तर-(B) वैष्णव भक्ति

(ii) ‘पद्मावत’ का रचयिता था
(A) मलिक मुहम्मद जायसी
(B) जयदेव
(C) कल्हण
(D) सूरदास।
उत्तर-(A) मलिक मुहम्मद जायसी

(iii) ‘राजतरंगिणी’ का लेखक था
(A) चन्द्रबरदाई
(B) जयदेव
(C) कलहण
(D) रामानुज।
उत्तर-(C) कलहण

(iv) ‘उर्दू भाषा का जन्म किन दो भाषाओं के मेल से हुआ?
(A) हिन्दी तथा फ़ारसी
(B) अरबी तथा फ़ारसी
(C) तुर्की तथा फ़ारसी
(D) हिन्दी तथा अरबी।
उत्तर-(A) हिन्दी तथा फ़ारसी

II. अति छोटे उत्तर वाले प्रश्न

प्रश्न 1. भारत में आवासी मुसलमान किन चार श्रेणियों से थे ?
उत्तर-भारत में आवासी मुसलमान तुर्क, पठान, अरब और ईरानी श्रेणियों से थे।

प्रश्न 2. नगरों तथा गांवों में इस्लाम स्वीकार करने वाले दो वर्गों के नाम बताएं।
उत्तर-नगरों में शिल्पकारों और गांवों में किसानों ने इस्लाम स्वीकार किया।

प्रश्न 3. सल्तनत के प्रशासन में देशी लोग अधिकतर किस स्तर पर तथा शासन प्रबन्ध के किस क्षेत्र में कार्य करते थे ?
उत्तर-सल्तनत के प्रशासन में देशी लोग अधिकतर निचले स्तर पर कार्य करते थे। वे लगान प्रबन्ध के क्षेत्र में कार्य करते थे।

प्रश्न 4. सल्तनत काल में व्यापारिक जातियां कहां के आर्थिक जीवन का स्तम्भ थीं ?
उत्तर-व्यापारिक जातियां कस्बों और शहरों के आर्थिक जीवन का स्तम्भ थीं।

प्रश्न 5. भारत में इस्लाम धर्म के तीन सम्प्रदायों के नाम बताएं तथा इनमें से सबसे अधिक संख्या किस सम्प्रदाय की थी ?
उत्तर-भारत में इस्लाम के मुख्य तीन सम्प्रदाय ‘सुन्नी’, ‘शिया’ तथा ‘इस्माइली’ थे। इनमें से सबसे अधिक संख्या “सुन्नी’ सम्प्रदाय की थी।

प्रश्न 6. उलेमा लोग किन दो विषयों के विद्वान् थे ?
उत्तर-उलेमा लोग इस्लाम के धार्मिक सिद्धान्तों तथा कानून के विद्वान थे।

प्रश्न 7. उलेमा लोगों के विश्वास किन दो स्रोतों पर आधारित थे ?
उत्तर-उलेमा लोगों के विश्वास कुरान तथा हदीस पर आधारित थे।

प्रश्न 8. मुसलमानों के लिए धार्मिक निष्ठा के चार स्तम्भों के नाम बताएं।
उत्तर-मुसलमानों के लिए धार्मिक निष्ठा के चार स्तम्भ हैं-

  • रोज़ नमाज़ अदा करना
  • रमज़ान के पवित्र महीने में रोज़ा रखना
  • जकात, जिसके अनुसार प्रत्येक मुसलमान के लिए अपनी वार्षिक आय का निश्चित भाग ग़रीबों को देना आवश्यक है।
  • हज, अर्थात् मक्का की यात्रा करना।

प्रश्न 9. सूफी लोग बाहरी मर्यादा के स्थान पर किसे अधिक महत्त्व देते थे ?
उत्तर-सूफी लोग बाहरी मर्यादा के स्थान पर भावना को अधिक महत्त्व देते थे।

प्रश्न 10. सूफी लोग किन दो नामों से प्रसिद्ध थे तथा इनकी विचारधारा के लिए किस शब्द का प्रयोग किया जाता
उत्तर-सूफी लोग शेख और पीर के नाम से अधिक प्रसिद्ध थे। इनकी विचारधारा के लिए तसव्वुफ़ शब्द का प्रयोग किया जाता था।

प्रश्न 11. सूफियों में सिलसिले अथवा परिपाटी से क्या भाव था ?
उत्तर-सिलसिले से तात्पर्य एक सूफी शेख के मुरीदों अथवा उत्तराधिकारियों की परिपाटी से था।

प्रश्न 12. दिल्ली सल्तनत के समय में सूफियों की दो सबसे महत्त्वपूर्ण परिपाटियों अथवा सिलसिलों के नाम बताएं।
उत्तर-दिल्ली सल्तनत के समय में सूफियों की दो सबसे महत्त्वपूर्ण परिपाटियां ‘चिश्ती’ तथा ‘सुहरावर्दी’ थीं।

प्रश्न 13. चिश्ती सिलसिले की नींव किस सूफी शेख ने रखी और वे कहां बस गए ?
उत्तर-चिश्ती सिलसिले की नींव अजमेर के ख्वाजा मुइनुद्दीन चिश्ती ने रखी थी और वे अजमेर में ही बस गए।

प्रश्न 14. चिश्ती सिलसिले से सम्बन्धित चार प्रमुख सूफी शेखों के नाम बताएं।
उत्तर-चिश्ती सिलसिले से सम्बन्धित सूफी शेखों के नाम हैं-

  • शेख कुतुबुद्दीन बख्तियार काकी
  • फरीद शकर गंज
  • निज़ामुद्दीन औलिया तथा
  • शेख नसीरूद्दीन।

प्रश्न 15. सुहरावर्दी सिलसिले की नींव किसने तथा कहां रखी ?
उत्तर-सुहरावर्दी सिलसिले की नींव मखदूम बहाऊद्दीन जकरिया ने मुल्तान में रखी।

प्रश्न 16. 15वीं सदी में भारत में आरम्भ होने वाली दो सूफी परिपाटियों तथा उनके संस्थापकों के नाम बताएं।
उत्तर-15वीं सदी में भारत में आरम्भ होने वाली दो सूफी परिपाटियां शत्तारी तथा कादरी थीं। इनके संस्थापक क्रमशः शाह अब्दुल्ला शत्तारी तथा सैय्यद गौस थे।

प्रश्न 17. चिश्ती सिलसिले के चार केन्द्रों के नाम बताएं।
उत्तर-चिश्ती सिलसिले के चार केन्द्र अजमेर, अजौधन, नारनौल तथा नागौर थे।

प्रश्न 18. सुहरावर्दी सिलसिले के दो केन्द्र कहां थे ?
उत्तर-सुहरावर्दी सिलसिले के दो केन्द्र मुल्तान तथा लाहौर थे।

प्रश्न 19. भारत के किन दो प्रदेशों में सूफियों का सबसे अधिक प्रभाव था ? किस सुल्तान के राज्यकाल में सूफी प्रभाव दक्षिण में भी पहुंचा ?
उत्तर-भारत में पंजाब और सिन्ध में सूफियों का प्रभाव सबसे अधिक था। मुहम्मद-बिन-तुग़लक के राज्यकाल में यह प्रभाव दक्षिण में भी पहुंचा।

प्रश्न 20. सूफियों द्वारा शातिपूर्वक ढंग से इस्लाम को फैलाने में कौन-सी दो बातें सहायक सिद्ध हुईं ?
उत्तर-सूफियों को इन दो बातों ने सहायता पहुंचाई-

  1. उनके द्वारा आम लोगों की बोली बोलना तथा
  2. खानकाह के द्वारा साधारण लोगों के साथ उनका सम्पर्क।

प्रश्न 21. जोगियों का आन्दोलन मुख्यतः किन दो बातों के विरुद्ध प्रतिक्रिया थी ? ।
उत्तर-जोगियों का आन्दोलन मुख्यतः ब्राह्मणीय संस्कार विधियों तथा जाति-पाति के भेदों के विरुद्ध प्रतिक्रिया थी।

प्रश्न 22. जोगियों के दो मुख्य पंथ कौन-कौन से थे और इनमें से उत्तर भारत में कौन-सा पंथ अधिक लोकप्रिय था ?
उत्तर-जोगियों के दो मुख्य पंथ अधोपंथी और नाथपंथी थे। इनमें से नाथपंथी पंथ उत्तर भारत में अधिक लोकप्रिय था।

प्रश्न 23. ‘कनफटे’ जोगी से क्या प्रभाव था ?
उत्तर-कनफटा जोगी उस संन्यासी को कहते थे, जिसके कान की पट्टियों में चाकू से सुराख कर दिया जाता था ताकि वह बड़े-बड़े कुण्डल पहन सके। कनफटे जोगियों का स्थान औघड़’ योगियों से ऊंचा समझा जाता था।

प्रश्न 24. पंजाब में गोरखनाथियों के कितने मठ थे तथा ये किसके निरीक्षण में संगठित थे ?
उत्तर-पंजाब में गोरखनाथियों के लगभग 12 मठ थे। ये सभी मठ ज़िला जेहलम में स्थित टिल्ल गोरखनाथ के मठाधीश अथवा ‘नाथ’ के निरीक्षण में संगठित थे।

प्रश्न 25. मध्यकाल में विष्णु के कौन-से दो अवतारों को सर्वोच्च स्थान प्राप्त हुआ ?
उत्तर-मध्यकाल में विष्णु के ‘कृष्ण तथा राम अवतारों’ को सर्वोच्च स्थान प्राप्त हुआ।

प्रश्न 26. कृष्ण भक्ति के दो प्रति-पादकों के नाम बताएं और ये दक्षिण के किन प्रदेशों से थे ?
उत्तर-कृष्ण भक्ति के दो प्रतिपादक निम्बार्क और माधव थे। निम्बार्क का सम्बन्ध तमिलनाडु से तथा माधव का सम्बन्ध मैसूर प्रदेश से था।

प्रश्न 27. राधा-कृष्ण की पूजा विधि किसने तथा कहां प्रचलित की ?
उत्तर-राधा-कृष्ण की पूजा विधि वल्लभाचार्य ने मथुरा के निकट गोवर्धन में प्रचलित की।

प्रश्न 28. चैतन्य पर कौन-से दो भक्ति रस के कवियों का प्रभाव था ?
उत्तर-चैतन्य पर जयदेव तथा चण्डीदास का प्रभाव था।

प्रश्न 29. कीर्तन की प्रथा किसने आरम्भ की और यह किस प्रकार किया जाता था ?
उत्तर-कीर्तन की प्रथा चैतन्य ने आरम्भ की। इसमें वाद्य-संगीत और नृत्य के साथ भजनों का गायन किया जाता था।

प्रश्न 30. चैतन्य के अनुसार मुक्ति का प्रयोजन क्या था ?
उत्तर-चैतन्य के अनुसार मुक्ति का प्रयोजन मृत्यु के पश्चात् ‘गोलोक’ में जाना था ताकि वहां राधा और कृष्ण की अनन्तकाल तक सेवा की जा सके।

प्रश्न 31. चैतन्य की मृत्यु कब हुई और उन्होंने कौन-से मन्दिर में अपने जीवन के अन्तिम वर्ष व्यतीत किए ?
उत्तर-चैतन्य की मृत्यु 1534 ई० में हुई। उन्होंने अपने जीवन के अन्तिम वर्ष उड़ीसा में जगन्नाथ पुरी के प्रसिद्ध मन्दिर में व्यतीत किए।

प्रश्न 32. राम भक्ति का प्रचार करने वाले कौन-से भक्त थे और ये किस नगर के रहने वाले थे ?
उत्तर-राम भक्ति का प्रचार करने वाले भक्त रामानन्द जी थे। वे प्रयाग नगर के रहने वाले थे।

प्रश् 33. रामानन्द जी ने कौन-सी भाषा का प्रयोग किया तथा उनके मठों के साथ कौन-सी दो संस्थाएं सम्बन्धित थीं ?
उत्तर-रामानन्द जी ने हिन्दी भाषा का प्रयोग किया। उनके मठों के साथ सम्बन्धित दो संस्थाएं थीं-पाठशालाएं तथा गौशालाएं।

प्रश्न 34. गुरु ग्रन्थ साहिब में जिन भक्तों तथा सन्तों की रचनाएं सम्मिलित की गई हैं, उनमें से किन्हीं चार का नाम बताएं।
उत्तर-गुरु ग्रन्थ साहिब में जिन भक्तों तथा सन्तों की रचनाएं सम्मिलित की गई हैं, उनमें से चार के नाम हैं-भक्त कबीर, नामदेव जी, रामानन्द जी तथा धनानन्द जी।

प्रश्न 35. बनारस से सम्बन्धित दो सन्तों के नाम बताएं।
उत्तर-बनारस से सम्बन्धित दो सन्त थे-संत कबीर और संत रविदास।

प्रश्न 36. भक्तों तथा सन्तों के बीच दो मुख्य अन्तर कौन-से हैं ?
उत्तर-

  1. भक्त अवतारवाद तथा मूर्ति पूजा में विश्वास रखते थे, परन्तु सन्त निर्गुण परमात्मा को मानते थे।
  2. भक्त गुरु को अधिक महत्त्व नहीं देते थे परन्तु सन्तों के अनुसार गुरु को सर्वोच्च स्थान प्राप्त था।

प्रश्न 37. महाराष्ट्र से सम्बन्धित दो सन्तों के नाम बताएं।
उत्तर-नामदेव जी तथा त्रिलोचन जी महाराष्ट्र से सम्बन्धित दो प्रमुख सन्त थे। प्रश्न 38. राजस्थान से सम्बन्धित दो सन्तों के नाम बताएं। उत्तर-राजस्थान से सम्बन्धित दो सन्त थे-धन्ना जी तथा पीपा जी।

III. छोटे उत्तर वाले प्रश्न

प्रश्न 1. उलेमा लोगों के बुनियादी विश्वास क्या थे ?
उत्तर-उलेमा अथवा मुल्ला लोग सुन्नी मर्यादा के संरक्षक स्वीकार किए जाते थे। वे कुरान तथा हदीस पर आधारित सदियों से प्रचलित विश्वासों और रस्मों के बाहरी पालन पर बल देते थे। उनका मूल विश्वास था कि ‘अल्ला’ के अतिरिक्त कोई भगवान् नहीं और मुहम्मद उसके पैगम्बर हैं। वे ईश्वर की एकता पर बल देते थे। वे इस बात पर भी बल देते थे कि हज़रत मुहम्मद उनके अन्तिम पैगम्बर हैं। मुसलमानों के लिए धार्मिक निष्ठा और नेक जीवन के चार स्तम्भ थे। प्रतिदिन नमाज़ अदा करना, रमज़ान के पवित्र महीने में रोज़ा अथवा उपवास रखना, अपनी वार्षिक आय का एक निश्चित भाग ग़रीब मुसलमानों की भलाई के लिए दान में देना तथा मक्का की यात्रा करना। उलेमा लोग रस्मों के पालन पर बल देते थे।

प्रश्न 2. सूफियों के बुनियादी विश्वास क्या थे ?
उत्तर-धार्मिक नेताओं की एक श्रेणी, जिन्हें सूफी कहा जाता था, बाहरी मर्यादा के स्थान पर भावना के महत्त्व पर बल देती थी। वे शेख और पीर के नाम से अधिक प्रसिद्ध थे। उनके अनुसार ईश्वर और मनुष्य के मध्य बुनियादी रिश्ता प्रेम का है। इसके अतिरिक्त उनका विश्वास था कि पीर की अगुवाई में एक विशेष प्रकार के जीवन को व्यतीत करने से ईश्वर में लीन होना सम्भव था। ईश्वर की प्राप्ति की आध्यात्मिक यात्रा के कई पड़ाव थे, जिसमें एक ओर भावावेग से परिपूर्ण प्रचण्ड भक्ति
और दूसरी ओर घोर त्याग, संयम की आवश्यकता थी। मुल्ला लोग सूफियों को पसन्द नहीं करते थे। उनके सोचने के ढंग में आधारभूत अन्तर था।

प्रश्न 3. व्यावहारिक स्तर पर चिश्ती और सुहरावर्दी सिलसिलों में कौन-से अन्तर थे ?
उत्तर-उत्तरी भारत में सूफियों के दो सबसे महत्त्वपूर्ण सिलसिले थे-चिश्ती और सुहरावर्दी। चिश्ती परिपाटी की स्थापना
अजमेर के ख्वाजा मुइनुद्दीन ने की थी। पाकपटन (पश्चिमी पाकिस्तान) के शेख फरीद शकरगंज और दिल्ली के शेख निज़ामुद्दीन औलिया का सम्बन्ध भी इसी से था। भारत में सुहरावर्दी परिपाटी की स्थापना मुल्तान के मखदूम बहाऊद्दीन जकरिया ने की। यह दोनों परिपाटियां इस काल में बराबर विकसित होती रहीं। चिश्ती और सुहरावर्दी शेखों ने देश के कई भागों में खानकाहों (सूफ़ी शेखों के इकट्ठे मिलकर रहने के स्थान) की स्थापना की।

प्रश्न 4. गोरखनाथी जोगियों के बुनियादी विश्वास क्या थे ?
उत्तर-गोरखनाथियों का मूल उद्देश्य शिवावस्था को प्राप्त करना था। वे इसे ‘सहज’ अथवा ‘चिर आनन्द’ की अवस्था का नाम देते थे। इस अवस्था की प्राप्ति को जोगी जीवन मुक्ति कहते थे। जोगी नौ नाथों और चौरासी सिद्धों पर विश्वास रखते थे। उनका यह भी विश्वास था कि पर्वतों पर रहने वाली तथा हिमालय की चोटी की रक्षक देवात्माएं सिद्ध ही थे।

प्रश्न 5. गोरखनाथी जोगियों की प्रथाओं और व्यवहारों के बारे में बताएं।
उत्तर-गोरखनाथियों के मठ में दीक्षा गुरु द्वारा दी जाती थी। दीक्षा के अन्त में जोगी की कर्णपलियों में भैरवी चाकू से सुराख किया जाता था। उसके बाद वह बड़े-बड़े कुण्डल पहन लेता था। इस रस्म के पश्चात् जोगी ‘कनफटा’ कहलाता था। केवल कनफटे जोगी को ही अपने नाम के साथ ‘नाथ’ पद के प्रयोग की आज्ञा थी। जोगी अपने पास ‘सिंगी’ भी रखते थे जिसको वे फूंक कर बजाया करते थे। गोरखनाथियों के मठों में निरन्तर धूनी सुलगती रहती थी। अकेला जोगी भजन के लिए द्वार-द्वार पर जाकर भिक्षा मांग सकता था। किन्तु जो जोगी मठ में रहते थे। वे सांझे भण्डारे में भोजन करते थे।

प्रश्न 6. वल्लभाचार्य जी द्वारा स्थापित वैष्णव भक्ति की पूजा विधि में नित्य नेम क्या था ?
उत्तर-वल्लभाचार्य जी द्वारा स्थापित कृष्ण भक्ति की पद्धति का सबसे महत्त्वपूर्ण भाग राधा-कृष्ण की पूजा की विधि था। पूजा के नित्य कर्म का आरम्भ मन्दिर में प्रभात के समय में घंटियां और शंख बजाकर किया जाता था। इसके बाद इष्ट देव को निद्रा से जगाते थे और उन्हें प्रसाद भेंट करते थे। इसके बाद वे थाल में दीये जलाकर उनकी आरती करते थे। आरती के पश्चात् वे भगवान् को स्नान करवाते थे तथा उन्हें नए वस्त्र पहना कर भोजन अर्पित करते थे। तत्पश्चात् गायों को चराने के लिए बाहर ले जाने की रस्म की जाती थी। इसके बाद भगवान् को दोपहर का भोजन करवा कर आरती की जाती थी। आरती के बाद पर्दा तान दिया जाता था ताकि भगवान् निर्विघ्न आराम कर सकें। भगवान् के रात के विश्राम से पूर्व भी भोजन कराने की रस्म की जाती थी।

प्रश्न 7. रामानन्दी बैरागियों के विश्वासों तथा व्यवहारों के बारे में बताएं।
उत्तर-रामानन्दी बैरागी जाति प्रथा में विश्वास नहीं रखते थे। उनके विचार उदार थे। वे एक साथ भोजन करते थे। उन्हें अपने मठों में नित्य कठोर नियम का पालन करना पड़ता था। वे बहुत सवेरे उठते थे और स्नान कर के पूजा-पाठ करते थे। तत्पश्चात् वे धार्मिक पुस्तकों का अध्ययन एवं मनन करते थे और मठ से सम्बन्धित कार्य करते थे। उनमें से अधिकांश दिन में केवल एक बार दोपहर के समय भोजन करते थे। उनमें से कुछ बैरागी स्थान-स्थान पर घूमते थे। वे विशेष प्रकार की पोशाक पहनते थे और माथे पर विलक्षण प्रकार के तिलक लगाते थे।।

प्रश्न 8. सन्त कबीर का बुनियादी धार्मिक दृष्टिकोण तथा बुनियादी विश्वास क्या थे ? (M. Imp.)
उत्तर-सन्त कबीर के बुनियादी दृष्टिकोण के अनुसार परमात्मा मानव के हृदय में बसता है। उसी को हम अल्लाह या हरि कहते हैं। अतः मनुष्य को अपनी अन्तरात्मा की गहराई में झांकना चाहिए। परमात्मा को अपने भीतर ढूंढ़ना ही मुक्ति है। इस अनुभव के द्वारा मनुष्य की आत्मा परमात्मा के साथ चिर मिलन प्राप्त करती है। किन्तु यह कार्य सरल नहीं है। इसके लिए परमात्मा के प्रति पूर्ण स्नेह और समर्पण की आवश्यकता है। इसमें परमात्मा से विरह की पीड़ा भी है और मुक्ति के लिए निरन्तर प्रयास की आवश्यकता भी है। वास्तव में इसकी प्राप्ति परमात्मा की कृपा पर निर्भर है। सन्त कबीर के अनुसार मुक्ति का मार्ग सबके लिए समान रूप से खुला है। फिर भी उस तक कोई विरला ही पहुंचता है।

प्रश्न 9. सन्त कौन थे ?
उत्तर-सन्त भक्ति-लहर के प्रचारक थे। उन्होंने 14वीं शताब्दी से 17वीं शताब्दी के मध्य भारत के भिन्न-भिन्न भागों में भक्ति लहर का प्रचार किया। लगभग सभी भक्ति प्रचारकों के सिद्धान्त काफ़ी सीमा तक एक समान थे। परन्तु कुछ एक प्रचारकों ने विष्णु अथवा शिव के अवतारों की पूजा को स्वीकार न किया। उन्होंने मूर्ति पूजा का भी खण्डन किया। उन्होंने वेद, कुरान, मुल्ला, पण्डित, तीर्थ स्थान आदि में से किसी को भी महत्त्व न दिया। वे निर्गुण ईश्वर में विश्वास रखते थे। उनका मानना था कि परमात्मा निराकार है। ऐसे सभी प्रचारकों को ही प्रायः सन्त कहा जाता है। वे प्रायः जनसाधारण की भाषा में अपने विचारों का प्रचार करते थे।

प्रश्न 10. क्या सन्त लहर को वैष्णव भक्ति के साथ जोड़ा जा सकता है ?
उत्तर-सन्त लहर को वैष्णव भक्ति के साथ कदापि नहीं जोड़ा जा सकता। इन दोनों विचारधाराओं में कई मूल अन्तर थे। वैष्णव भक्ति के प्रचारक राम अथवा कृष्ण को विष्णु का अवतार मानकर उसकी पूजा करते थे। परन्तु सन्तों ने वैष्णव भक्ति को स्वीकार न किया। इसके अतिरिक्त वैष्णव भक्ति के कुछ प्रचारक मूर्ति-पूजा में भी विश्वास रखते थे, जबकि सन्त इसके घोर विरोधी थे। वास्तव में सन्त लहर की विचारधारा वैष्णव भक्ति से दूर सूफियों की विचारधारा से अधिक मेल खाती

प्रश्न 11. भारत में इस्लाम धर्म के कौन-कौन से सम्प्रदाय थे ?
उत्तर-भारत में इस्लाम धर्म के अनेक सम्प्रदाय थे। इनमें से सुन्नी, शिया, इस्मायली आदि सम्प्रदाय प्रमुख थे। देश के अधिकतर सुल्तान सुन्नी सम्प्रदाय को मानते थे। अतः देश की अधिकतर मुस्लिम जनता का सम्बन्ध भी इसी सम्प्रदाय से था। परन्तु शिया तथा इस्मायली मुसलमानों की संख्या भी कम नहीं थी। इन सम्प्रदायों में आपसी तनाव भी रहता था। इसका कारण यह था कि सुन्नी अपने आपको परम्परागत इस्लाम के वास्तविक प्रतिनिधि समझते थे और अन्य सम्प्रदायों के मुसलमानों को घृणा तथा शत्रुता की दृष्टि से देखते थे। मुस्लिम सम्प्रदायों का यह आपसी तनाव कभी-कभी बहुत गम्भीर रूप धारण कर लेता था, जिसका सामाजिक जीवन तथा राजनीति पर बुरा प्रभाव पड़ता था।

प्रश्न 12. आप भारत में सूफ़ी शेखों के बारे में क्या जानते हैं ?
उत्तर-मध्य काल में इस्लाम धर्म में एक नई सहनशील धार्मिक श्रेणी का उदय हुआ, जो सूफ़ी के नाम से लोकप्रिय है। इस धर्म श्रेणी के नेता शेख कहलाये। इस श्रेणी का उदय मुल्लाओं द्वारा धार्मिक सिद्धान्तों के पालन के बाहरी दिखावे के विरुद्ध हुआ था। अतः सूफ़ी शेख बाहरी दिखावे के स्थान पर सच्चे मन से प्रभु भक्ति करने और मन को शुद्ध करने पर बल देते थे। उनके अनुसार ‘प्रेम’ बहुत बड़ी शक्ति है। यह अल्लाह और मनुष्यों के आपसी सम्बन्ध को दृढ़ करता है। उनका विश्वास था कि किसी धार्मिक नेता के अधीन रहकर एक विशेष प्रकार का धार्मिक जीवन व्यतीत करने से परमात्मा को प्राप्त करना सम्भव नहीं है। यह केवल प्रेम, त्याग, संयम तथा सच्ची भक्ति द्वारा ही सम्भव है।

प्रश्न 13. बाबा फ़रीद के जीवन के विषय में बताओ। उन्होंने पंजाब में सूफी मत के लिए क्या कुछ किया ?
उत्तर-शेख फ़रीद का जन्म ज़िला मुल्तान के एक गांव खोतवाल में हुआ था। वे बचपन से ही पक्के नमाज़ी थे। उनके मन में धार्मिक भावना उत्पन्न करने में उनकी माता जी का बहुत बड़ा हाथ था। वह दिल्ली के ख्वाजा बख्तियार काकी के शिष्य थे। वह हांसी, सिरसा तथा अजमेर में भी रहे। इनके नाम पर ही मोकल नगर का नाम फ़रीदकोट पड़ा। बख्तियार काकी की मृत्यु के पश्चात् वह चिश्ती गद्दी के स्वामी बने। उन्होंने अपनी आयु के अन्तिम दिन अयोधन में व्यतीत किए। दूर-दूर से लोग इनके दर्शनों के लिए यहां आते थे। फ़रीद के प्रयत्नों से चिश्ती सम्प्रदाय ने बड़ी उन्नति की। दिल्ली के चिश्ती गद्दी के सूफ़ी सन्त समय-समय पर पंजाब में भी आते रहे। बाबा फ़रीद ने पंजाब में सूफी मत का दूर-दूर तक प्रचार किया। उन्होंने अनेक श्लोकों की रचना की। उनके कुछ श्लोक गुरु ग्रन्थ साहिब में भी अंकित हैं।

प्रश्न 14. वैष्णव भक्ति के भावुक पक्ष को किसने विकसित किया ? इस परिपाटी की सबसे महत्त्वपूर्ण प्रथा कया थी ?
उत्तर-वैष्णव भक्ति के भावुक पक्ष का सबसे अधिक विकास बंगाल में चैतन्य महाप्रभु ने किया। इस भावपूर्ण परम्परा . का आरम्भ 13वीं शताब्दी में जयदेव की रचना ‘गीत-गोबिन्द’ से हुआ था। चैतन्य ने कविता के इसी संग्रह को अपना आधार बना कर राधा-कृष्ण भक्ति का प्रचार किया। उसने चण्डीदास के भजनों से भी प्रेरणा ली। चैतन्य जी कृष्ण भक्ति में कभीकभी इतना लीन हो जाते थे कि उन्हें यह भी पता नहीं चलता था कि उनके आस-पास क्या हो रहा है। वैष्णव भक्ति के भावुक पक्ष की सबसे महत्त्वपूर्ण प्रथा कीर्तन थी। इसमें भजनों को बड़ी लय के साथ गाया जाता था और साथ में कुछ वाद्य-यन्त्र भी बजाए जाते थे। कभी-कभी लोग मग्न होकर नृत्य भी करने लगते थे। इस प्रकार भक्तजन भक्ति के प्रति और भी अधिक भावुक हो उठते थे। इस भक्ति का सबसे बड़ा आदर्श मुक्ति प्राप्त करके राधा और कृष्ण के पास पहुंचना था ताकि उनकी सच्ची सेवा की जा सके।

IV. निबन्धात्मक प्रश्न-

प्रश्न 1. भक्ति आन्दोलन से क्या अभिप्राय है ? इसके उदय के कारणों तथा मुख्य विशेषताओं का वर्णन करो।
अथवा
भक्ति आन्दोलन के भारतीय समाज पर क्या प्रभाव पड़े ?
उत्तर-12वीं शताब्दी में भारत में मुसलमानों का राज्य स्थापित हो चुका था। मुस्लिम शासक हिन्दुओं को मुसलमान बनाने के लिए उन पर बहुत अत्याचार करते थे। इससे हिन्दुओं और मुसलमानों में द्वेष बढ़ गया था। समाज में अनेक कुरीतियों ने भी घर कर लिया था। ऐसे समय में आपसी द्वेषभाव और सामाजिक बुराइयों को दूर करने के लिए कुछ धार्मिक सन्त आगे आये। उन्होंने जो प्रचार किया वह भक्ति आन्दोलन के नाम से जाना जाता है। .
कारण-

  • हिन्दू धर्म में कई आडम्बरों का समावेश हो गया था। लोग अन्धविश्वासी हो चुके थे। वे जादू-टोनों में विश्वास करने लगे थे। इन सभी कुप्रथाओं का अन्त करने के लिए भक्ति-आन्दोलन का जन्म हुआ।
  • हिन्दू-धर्म में जातिपाति के बन्धन कड़े हो गये थे। निम्न जाति के लोगों को घृणा की दृष्टि से देखा जाता था। अत: निम्न जातियों के हिन्दू मुसलमान बनने लगे, जिससे हिन्दू धर्म खतरे में पड़ गया। हिन्दू-धर्म को इस खतरे से बचाने के लिए किसी धार्मिक आन्दोलन की आवश्यकता थी।
  • मुसलमानों ने हिन्दुओं को बलात् मुसलमान बनाना आरम्भ कर दिया था। अतः उनका आपसी द्वेष बढ़ गया। इस आपसी भेदभाव को मिटाने के लिए भक्ति आन्दोलन का जन्म हुआ।
  • इसी समय सूफी-धर्म का प्रसार आरम्भ हो गया। इस धर्म ने ईश्वर-प्रेम पर बहुत बल दिया। बाबा फरीद और मुइनुद्दीन चिश्ती जैसे महान् सूफी-सन्तों के उपदेशों ने भक्ति आन्दोलन का रूप धारण कर लिया।

भक्ति आन्दोलन की विशेषताएं –

भक्ति आन्दोलन की विशेषताएं निम्नलिखित थीं-

  • ईश्वर की एकता-भक्ति-आन्दोलन के प्रचारकों ने ईश्वर की एकता का प्रचार किया। उन्होंने लोगों को अनेक देवीदेवताओं के स्थान पर एक ही ईश्वर की उपासना करने का उपदेश दिया।
  • ईश्वर का महत्त्व-भक्त प्रचारकों के अनुसार ईश्वर सर्वशक्तिमान तथा सर्वव्यापक है। वह कण-कण में विद्यमान्
  • जाति-प्रथा में विश्वास-भक्ति मार्ग के लगभग सभी प्रचारक जाति-प्रथा के विरुद्ध थे। उनके अनुसार ईश्वर के लिए न तो कोई छोटा है न कोई बड़ा।
  • गुरु की महिमा-सन्त प्रचारकों ने गुरु का स्थान सर्वोच्च बताया है। उनका कहना था कि सच्चे गुरु के बिना ईश्वर को प्राप्त नहीं किया जा सकता।
  • मूर्ति-पूजा का विरोध-भक्ति-मार्ग के प्रचारकों ने मूर्ति-पूजा का कड़ा विरोध किया। इस कार्य में कबीर और नामदेव आदि धार्मिक सन्तों ने बहुत योगदान दिया।
  • निरर्थक रीति-रिवाजों में अविश्वास-भक्ति आन्दोलन के प्रचारकों ने समाज में झूठे रीति-रिवाजों का भी खण्डन किया। उनके अनुसार सच्ची ईश्वर भक्ति के लिए मन को निर्मल बनाना आवश्यक है।

प्रश्न 2. भक्ति आन्दोलन के समाज पर क्या प्रभाव पड़े ? इस आन्दोलन के मुख्य नेताओं के नाम भी लिखो।
उत्तर-भक्ति आन्दोलन ने मध्यकालीन भारतीय समाज के हर पहलू को प्रभावित किया। समाज का कोई भी क्षेत्र तथा वर्ग इसके प्रभाव से अछूता नहीं रह सका।

भक्ति आन्दोलन का प्रभाव-

  • हिन्दू धर्म का पुनरुत्थान-भक्ति आन्दोलन के कारण हिन्दू धर्म में सुधार हुआ। भक्ति-सुधारकों ने धर्म के व्यर्थ के रीति-रिवाजों तथा जाति-पाति का खण्डन किया। इससे हिन्दू धर्म की लोकप्रियता बढ़ गई।
  • इस्लाम के विकास में बाधा-इस्लाम धर्म भ्रातृभाव, समानता और एक ईश्वर के सिद्धान्त के कारण काफी लोकप्रिय हुआ था। कबीर, गुरु नानक देव जी आदि ने भी इन्हीं विचारों का प्रचार किया। इससे इस्लाम का आकर्षण समाप्त होने लगा।
  • बौद्ध धर्म का पतन-भक्ति आन्दोलन के प्रभाव में आकर अनेक बौद्धों ने हिन्दू धर्म को ग्रहण कर लिया। इससे बौद्ध धर्म का तेजी से पतन आरम्भ हो गया।
  • सिक्ख धर्म का जन्म-पंजाब में गुरु नानक देव जी तथा अन्य नौ गुरु साहिबानों के प्रचार ने सिक्ख धर्म का रूप ले लिया।
  • अन्धविश्वासों का अन्त-भक्त प्रचारकों ने झूठे रीति-रिवाजों तथा अन्धविश्वासों का ज़ोरदार खण्डन किया। फलतः अन्धविश्वासों का प्रचलन कम हो गया।
  • हिन्दू-मुस्लिम एकता-भक्ति आन्दोलन के कारण हिन्दुओं और मुसलमान दोनों को एक-दूसरे को समझने का अवसर मिला। फलस्वरूप देश में हिन्दू-मुस्लिम एकता स्थापित हुई।
  • साहित्यिक उन्नति-भक्ति आन्दोलन के फलस्वरूप देश में साहित्यिक उन्नति हुई। भक्ति प्रचारकों ने हमें ‘सूरसागर’, ‘रामचरितमानस’ तथा ‘गीतगोविन्द’ जैसे उत्कृष्ट साहित्यिक ग्रन्थ दिए।

मुख्य नेता-भक्ति आन्दोलन के मुख्य नेता शंकराचार्य, रामानन्द, कबीर, गुरु नानक देव जी, चैतन्य महाप्रभु आदि थे।
सच तो यह है कि भक्त प्रचारकों ने भारतीय समाज की अनेक कुरीतियों को दूर करके इसका रूप निखारा। उन्होंने लोगों को सच्चे ज्ञान और भक्ति का मार्ग दिखाया और हिन्दू धर्म को नष्ट होने से बचाया। संक्षेप में, “भक्ति आन्दोलन ने भारतीय जन-जीवन के प्रत्येक अंग को प्रभावित किया।”

प्रश्न 3. भारत में सूफी मत के प्रसार और मुख्य विशेषताओं पर प्रकाश डालिए।
अथवा
भारत में सूफ़ी मत का प्रसार कैसे हुआ ? सूफ़ी मत की किन्हीं पांच शिक्षाओं का वर्णन भी कीजिए।
उत्तर-भारत में सूफी मत का प्रसार-सूफी मत का उदय सबसे पहले ईरान में हुआ था। भारत में इसका आरम्भ मुसलमानों के आगमन के साथ हुआ। महमूद गज़नवी और मुहम्मद गौरी के साथ कई एक सूफी सन्त भारत में आए और यहीं रहने लगे। इनमें से ख्वाजा मुईनुद्दीन चिश्ती का नाम बड़ा प्रसिद्ध है। वे 1197 ई० में मुहम्मद गौरी के साथ भारत आए और अजमेर में रहने लगे। उनके उच्च चरित्र तथा सरल उपदेशों के कारण हिन्दू और मुसलमान दोनों ही उनका बड़ा आदर करते थे। बाबा फरीद, कुतुबुद्दीन, निजामुद्दीन औलिया, सलीम चिश्ती, शेख नुरुद्दीन आदि सूफी मत के अन्य प्रसिद्ध प्रचारक थे। शिक्षाएं-सूफी मत की शिक्षाएं इस प्रकार थीं

  • ईश्वर की एकता-सूफी सन्तों ने लोगों को बताया कि ईश्वर एक है और आत्मा ईश्वर का ही रूप है। ईश्वर सर्वव्यापी है। वह मनुष्य के मन में भी निवास करता है।
  • ईश्वर भक्ति-उनका विश्वास था कि ईश्वर को सच्ची भक्ति द्वारा प्राप्त किया जा सकता है।
  • ईश्वर की प्राप्ति-सूफी सन्तों का कहना है कि ईश्वर की प्राप्ति मनुष्य जीवन का अन्तिम उद्देश्य है। उसे पाने के लिए मनुष्य का मन पवित्र होना चाहिए।
  • आत्मसंयम-ईश्वर को पाने के लिए मनुष्य को आत्मसंयम रखना चाहिए। उसका जीवन बहुत ही सादा होना चाहिए। उसे कम खाना चाहिए, कम बोलना चाहिए।
  • प्रेम-ईश्वर को पाने के लिए हमें एक-दूसरे से प्रेम करना चाहिए। प्रेम द्वारा ईश्वर को भी प्राप्त किया जा सकता है।
  • अहंकार का नाश-मनुष्य को चाहिए कि वह अहंकार को मिटा दे। जब तक मनुष्य अहंकार में रहता है, वह ईश्वर को प्राप्त नहीं कर सकता। .
  • सहनशीलता-मनुष्य को सहनशील होना चाहिए और उसे सभी धर्मों का आदर करना चाहिए। कोई धर्म बुरा नहीं है, क्योंकि सभी का उद्देश्य ईश्वर को प्राप्त करना है।
  • गुरु में विश्वास-सूफी सन्तों का विश्वास था कि ईश्वर को प्राप्त करने के लिए गुरु का होना आवश्यक है।
  • जाति-पाति में अविश्वास-सूफी सन्तों ने जाति-पाति का घोर विरोध किया। उनका कहना था कि सभी मनुष्य समान हैं। कोई भी छोटा-बड़ा नहीं है।
  • हिन्दू-मुस्लिम एकता-सूफी सन्त हिन्दू-मुस्लिम एकता पर बड़ा बल देते थे। अतः उन्होंने हिन्दुओं तथा मुसलमानों को आपसी भेदभाव मिटाने का उपदेश दिया।