Class 12 Geography Solutions Chapter 8 चुनिन्दा परिप्रेक्ष्य (मुद्दों) तथा भौगोलिक दृष्टिकोण पर एक नज़र

चुनिन्दा परिप्रेक्ष्य (मुद्दों) तथा भौगोलिक दृष्टिकोण पर एक नज़र Textbook Questions and Answers

प्रश्न I. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर एक वाक्य में दें:

प्रश्न 1. पर्यावरण किसे कहते हैं ?
उत्तर-मनुष्य तथा जीव-जन्तुओं के आस-पास जो एक घेरा बना है जिसमें वह लगातार सहजीवी रिश्ते में रह रहा है, पर्यावरण कहलाता है।

प्रश्न 2. प्रदूषण की परिभाषा दो।
उत्तर-जब भौतिक पर्यावरण में कुछ जहरीले पदार्थ तथा रसायन अधिक मात्रा में जमा हो जाते हैं जो पानी, वायु तथा मिट्टी को जीवन भर के लिए अयोग्य बना देते हैं, प्रदूषण कहलाता है।

प्रश्न 3. भू-प्रदूषण से आपका क्या भाव है ?
उत्तर-मिट्टी में हानिकारक पदार्थों के जमा होने के साथ मिट्टी की भौतिक, रासायनिक तथा जैविक संरचना बुरी तरह तहस-नहस हो जाती है जिसके साथ मिट्टी की उपजाऊ शक्ति खत्म हो जाती है, इसको भू-प्रदूषण कहते हैं।

प्रश्न 4. यूट्रोफिकेशन (Eutrophication) किसे कहते हैं ?
उत्तर-यूट्रोफिकेशन कुपोषण प्रक्रिया तब घटती है जब अधिक मात्रा में रासायनिक खादों के रूप में प्रयोग किए जाने वाले नाइट्रेट फास्फेट जल के स्रोतों में मिल कर ऐलगी को खाने वाले बैक्टीरिया की मात्रा बढ़ा देते हैं जिसके साथ पानी में घुलने वाली आक्सीजन कम हो जाती है तथा पानी के जीव-जन्तु मर जाते हैं।

प्रश्न 5. जल-प्रदूषण के कोई दो बिन्दु स्रोतों (Point Sources) के नाम बताओ।
उत्तरः-जल प्रदूषण के बिन्दु स्रोत हैं-शहरी सीवरेज़, कारखानों से निकली पाइपें इत्यादि।

प्रश्न 6. जल दिवस (Water Day) कब मनाया जाता है ?
उत्तर-जल दिवस हर साल 22 मार्च को मनाया जाता है।

प्रश्न 7. ‘नमामि गंगा’ मिशन क्या है ?
उत्तर-भारत सरकार ने गंगा नदी को साफ रखने के लिए तथा इसको बचाने के लिए नमामि गंगा मिशन की शुरुआत की है।

प्रश्न 8. हवा-प्रदूषण क्या है ?
उत्तर-जब हवा में जहरीले तथा अनचाहे पदार्थ मिल कर वायु को दूषित कर देते हैं तथा यह वायु मनुष्य के स्वास्थ्य तथा पर्यावरण पर बुरा प्रभाव डालती है, तो उसे वायु प्रदूषण कहते हैं।

प्रश्न 9. वायु प्रदूषण के कोई दो प्राकृतिक स्रोत बताओ। किस आकार के धूल के कण सबसे ज्यादा खतरनाक होते हैं ?
(i) PM5 किलोमीटर
(ii) PM10 माइक्रोमीटर
(iii) PM 2.5 माइक्रोमीटर
(iv) PM 3 किलोमीटर।
उत्तर-(ii) PM 2.5 माइक्रोमीटर।

प्रश्न 10. धरती दिवस मनाया जाता है ?
(i) 5 जून
(ii) 23 मार्च
(ii) 22 अप्रैल
(iv) 17 सितंबर।
उत्तर-(ii) 22 अप्रैल।

प्रश्न 11. सिआचिन का शब्द अर्थ क्या है ?
उत्तर-सिआ (Sia) + चिन (Chen) का भाव है-बड़ी संख्या में गुलाब के फूल।

प्रश्न 12. LOAC से क्या भाव है ?
उत्तर-LOAC का अर्थ है-लाइन ऑफ ऐक्चुअल कंट्रोल। यह सिआचिन ग्लेशियर के क्षेत्र में एक विवादग्रस्त सीमा रेखा है।

प्रश्न 13. सिंध जल सन्धि में पूर्वी नहरें कौन-सी मानी गई हैं ?
उत्तर-सिंध जल सन्धि में पूर्वी नहरें सतलुज, ब्यास तथा रावी मानी गई हैं।

प्रश्न 14. पाक खाड़ी में 14वीं सदी दौरान कौन-से टापू प्रकट हुए ?
उत्तर-पाक खाड़ी में 14वीं सदी दौरान कच्चातिवु तथा रामेश्वरम् के टापू प्रकट हुए।

प्रश्न 15. पहाड़ी इलाकों में मिलते ‘LA’ का क्या हैं ?
उत्तर-उत्तरी भारतीय भाषा में ‘LA’ तथा दर्रा दोनों शब्दों को पहाड़ी नदियों को समझने के लिए एक-दूसरे की जगह पर प्रयोग किया जाता है।

प्रश्न 16. भारत में हाथ से काम करने के योग्य लोगों की संख्या कितनी है ?
उत्तर-भारत में हाथ से काम करने वाले लोगों की संख्या 48 करोड़ 60 लाख के लगभग है।

प्रश्न 17. संसद् में स्त्रियों के प्रतिनिधित्व के लिए संसार में कौन-सा देश सबसे आगे है ?
उत्तर-संसद् में स्त्रियों के प्रतिनिधित्व के लिए संसार में रवान्डा, देश है, जहां संसद् में स्त्रियों का प्रतिनिधित्व 64 प्रतिशत है।

प्रश्न 18. राष्ट्रीय स्तर पर प्रदूषण का कौन-सा मुद्दा सबसे जरूरी भौगोलिक अध्ययन मांगता है ?
उत्तर-राष्ट्रीय स्तर पर प्रदूषणों के मामले सबसे ज़रूरी भौगोलिक अध्ययन मांगते हैं।

प्रश्न 19. भारत में कुल कितना पशुधन है ?
उत्तर-भारत में कुल 19.1 प्रतिशत पशुधन है।

प्रश्न 20. कौन-से रसदार फलों के उत्पादन के लिए पंजाब देश में आगे है ?
उत्तर-किन्नू तथा अंगूर जैसे फलों के उत्पादन के लिए पंजाब देश में आगे है।

प्रश्न II. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर चार पंक्तियों में दें:

प्रश्न 1. भूमि प्रदूषण के क्या कारण हैं ? इसका कृषि पर क्या प्रभाव पड़ता है ?
उत्तर- भूमि प्रदूषण के मुख्य कारण हैं-

  1. कृषि के उत्पादन के लिए प्रयोग किए जाने वाले नदीननाशक, जहरीली दवाइयां इत्यादि के छिड़काव के कारण भूमि प्रदूषित होती है।
  2. बड़ी मात्रा में लगे कूड़े इत्यादि के ढेर भी भूमि को दूषित करते हैं।
  3. जंगलों के अंतर्गत कम क्षेत्र भी भूमि को दूषित करते हैं।
  4. शहरीकरण होने के कारण भी प्रदूषण में वृद्धि हो रही है।

कृषि पर प्रभाव-भूमि प्रदूषण के कारण कृषि पर पड़ने वाले प्रभाव हैं-

  1. इस कारण मिट्टी की उपजाऊ शक्ति कम हो जाती है।
  2. मिट्टी में नाइट्रोजन स्थिरता कम होती है; जिस कारण मिट्टी अधिक खुरती है। मिट्टी में मौजूद ज़रूरी उपजाऊ तत्त्व खत्म हो जाते हैं। मिट्टी में खारापन आ जाता है।

प्रश्न 2. चार R क्या है ?
उत्तर-प्राकृतिक स्रोतों के योग्य प्रयोग के लिये निम्नलिखित चार ‘R’ के बारे में ज्ञान आवश्यक है।

  • मना करना (Refuse) हमें अपने घरों में फालतू सामान नहीं रखना चाहिए सिर्फ ज़रूरत अनुसार सामान ही घरों में रखना चाहिए। पॉलीथीन में लिपटा सामान तथा पॉलीथीन के लिफाफे लेने से इन्कार कर देना चाहिए।
  • दोबारा उपयोग (Reuse) जो सामान दोबारा प्रयोग में लाया जा सकता है उसको दोबारा प्रयोग करना चाहिए जैसे कि लकड़ी, स्टील, कांच इत्यादि के सामान को दोबारा प्रयोग किया जा सकता है।
  • दोबारा प्रयोग योग्य बनाना (Recycle)—घर का न प्रयोग होने वाला सामान इकट्ठा करके कबाड़ी तक पहुँचा देना चाहिए, ताकि उसको पिघला कर दोबारा प्रयोग योग्य बनाया जा सके। बाज़ार जाते समय वस्त्र या पटसन का थैला लेकर जाओ। पॉलिथीन के लिफाफे में डालने से खाने-पीने का सामान, फल इत्यादि जहरीले हो सकते हैं।
  • कम करना (Reduce)-हमें प्लास्टिक तथा फालतू सामान के प्रयोग को कम करके अपनी ज़रूरतों को
    सीमित करने की आवश्यकता है।

प्रश्न 3. जल प्रदूषण क्या होता है ? अलग-अलग प्रकार के जल प्रदूषकों के नाम बताओ।
उत्तर-जल में भौतिक या रासायनिक परिवर्तन के कारण जब जल दूषित हो जाता है, उसे जल प्रदूषण कहते हैं।
जल प्रदूषणों के नाम- अलग-अलग जल प्रदूषणों के नाम निम्नलिखित हैं-

1. रासायनिक खादों के रूप में उपयोग किए जाने वाले नाइट्रेट व फास्फेट।
2. सीवरेज़।
3. कारखानों की पाइप के द्वारा निकाला पदार्थ।
4. कई तरह के तेज़ाब, ज़हरीले पदार्थ जैसे पोलीक्लोरीनेटड थाई फिनाइल, डी०डी०टी० इत्यादि तथा ज़हरीले
नमक, धातु इत्यादि भी पानी दूषित करते हैं।

प्रश्न 4. जल प्रदूषण रोकने के कोई चार तरीके बताओ।
उत्तर-जल प्रदूषण को रोकने के मुख्य तरीके निम्नलिखित हैं-

  • ताप बिजली घरों के गर्म पानी को नहरों में फेंकने से पहले पानी ठंडा कर लेना चाहिए।
  • घरों का सीवरेज कई बार पेयजल के स्रोतों में फेंका जाता है, इस पर पूरी तरह रोक लगानी चाहिए।
  • नदी के साथ-साथ उगे हुए पेड़-पौधों को राइपेरियन बफर कहा जाता है। इसके साथ नदी के पानी की रक्षा ‘होती है। इसलिए सरकार को इस राइपेरियन बफर को बढ़ाने के प्रयास करने चाहिए।
  • जल प्रदूषण की समस्या विकासशील देशों में काफी खतरनाक रूप धारण कर चुकी है। भारत के तकरीबन सारे राज्यों में सन् 1974 में बने कानून जल प्रीवेंशन एंड कंट्रोल ऑफ पोल्यूशन एक्ट लागू हो गया है। इस कानून के अनुसार सभी नगर पालिकाओं तथा उद्योग प्रयोग किए गए पानी को नदियोंमें फेंकने से पहले साफ करेंगे तथा ज़हरीले पदार्थों को बाहर निकालेंगे और फिर पानी नदी में छोड़ा जाएगा।

प्रश्न 5. वायु प्रदूषण करने वाले कोई चार कारकों के नाम बताओ। मानवीय स्वास्थ्य पर इसका क्या प्रभाव पड़ता है ?
उत्तर-ज़हरीले तथा अनचाहे पदार्थों द्वारा वायु को दूषित कर देने को, वायु प्रदूषण कहते हैं। मुख्य वायु प्रदूषण करने वाले कारक हैं :

  • ज्वालामुखी विस्फोट कारण निकली गैसें इत्यादि।
  • कार्बन तथा ऑक्साइड।
  • नाइट्रोजन तथा ऑक्साइड।
  • हवा में धूल कण।
  • धुआं, ओज़ोन, सल्फ्यूरिक अम्ल इत्यादि।

मानवीय स्वास्थ्य पर वायु प्रदूषण का प्रभाव-PM10 मोटे कण 10 माइक्रोमीटर तक ये कण फेफड़ों तक जाकर मनुष्य की मौत का कारण बन सकते हैं। वायु प्रदूषण के कारण 10 लाख लोग भारत में हर साल मर जाते हैं।

प्रश्न 6. भारत की दरपेश कोई चार मुश्किलों के नाम बताओ जो भौगोलिक अध्ययन मांगती हैं ?
उत्तर-भारत की दरपेश मुश्किलें जो भौगोलिक अध्ययन मांगती हैं इस प्रकार हैं-
प्रदूषण की समस्या, विश्व में रहते लोगों, समाज तथा देश में एक पक्ष सामान है, वह है-जीवन का आधार । पृथ्वी तथा पृथ्वी से जुड़े प्राकृतिक स्रोत का यह पक्ष भौगोलिक दृष्टिकोण को अध्ययन में लेकर आता है। विकासशील देशों में विकास का अर्थ लोगों की ज़रूरतों को पूरा करना तथा हर मनुष्य को सुरक्षा प्रदान करना है। भारत की दरपेश कुछ मुद्दों का अध्ययन करने की मांग है-

  • सिआचिन ग्लेशियर का मुद्दा- यह ग्लेशियर सिंध तथा नुबरा नदियों को जल प्रदान करता है तथा पाकिस्तानी हमलावरों को दक्षिण की तफ बढ़ने से रोकता है। इस क्षेत्र की सीमाबंदी की जानी अभी बाकी है। बल्कि तार इत्यादि लगाकर सीमा को स्पष्ट करना चाहिए तथा सीमा सम्बन्धी मामलों के बारे में राष्ट्रीय स्तर पर बातचीत करके मामला निपटा लेना चाहिए।
  • सरकरीक का मुद्दा-यह एक दलदली खाड़ी है। देश के विभाजन समय कच्छ का इलाका बोबे प्रैजीडैन्सी के अधीन था और पाकिस्तान का दावा है कि कच्छ के तत्कालीन बादशाह तथा सिंध की सरकार के बीच 1914 में हुए समझौते के अनुसार यह क्षेत्र पाकिस्तान का होना चाहिए। यह सीमा क्षेत्र दोनों देशों के मध्य एक मुद्दा है।
  • कच्चातिवु-कच्चातिवु श्रीलंका में पड़ता एक विवाद ग्रस्त टापू है।
  • सिंध जल संधि का मुद्दा।

प्रश्न 7. आर्थिक पक्ष से हम विश्व के देशों का विभाजन कैसे कर सकते हैं ?
उत्तर-आर्थिक पक्ष से हम विश्व के देशों का विभाजन इस प्रकार कर सकते हैं-आर्थिक पक्ष से हम विश्व को तीन भागों में बाँट सकते हैं-विकसित, विकासशील तथा अल्पविकसित देश। जब लोग गरीब देशों की बात करते हैं उनमें खास कर तीसरी श्रेणी में शामिल किया जाता है। जो देश अभी विकास कर रहे हैं उनको विकासशील देश कहते हैं तथा जिन देशों में काफी हद तक विकास हो चुका है, उन्हें विकसित देश कहते हैं। तीसरे हिस्से के देशों में पेनांग, जेनेवा, ताईवान इत्यादि। विकासशील देशों में भारत, चीन, इण्डोनेशिया इत्यादि विकसित देशों में यू०एस०ए० जापान, इटली, फ्रांस, जर्मनी इत्यादि को शामिल किया जाता है।

प्रश्न 8. सिंध जल संधि के मुताबिक पश्चिमी नदियों का जल कौन से कारणों के लिए भारत उपयोग कर सकता है ?
उत्तर-सिंध जल संधि जो सन् 1960 में हुई। इस संधि के अनुसार पश्चिमी नदियों के जल का प्रयोग करने के लिए भारत को पूरी तरह से आजादी है। वह इन नदियों पर 3.6 MAF मात्रा तक भंडारण कर सकता है पर भंडारण में 0.5 MAF पानी हर साल छोड़ कर एकत्र करना होगा। पश्चिमी नदियों (चिनाब, जेहलम तथा सिंध) का पानी पाकिस्तान बिना किसी रुकावट के प्रयोग कर सकता है तथा भारत की ज़िम्मेदारी है कि इन नदियों का सारा जल जाने दिया जाए, सिर्फ चार स्थितियों के बिना-

  1. घरेलू उपयोग के लिए
  2. किसी ऐसे उपयोग के लिए प्रयोग किए पानी को खत्म न करे।
  3. कृषि के लिए।
  4. पन बिजली उत्पादन के लिए।

प्रश्न 9. भौगोलिक सिरमौरता पक्ष से अध्ययन की कोई चार शाखाओं के नाम लिखो।
उत्तर-भौगोलिक सिरमौरता प्राकृतिक तथा मानवीय प्रक्रियाओं के स्थानीय विभाजन की प्रसन्नता जिसका उद्देश्य प्राप्तियों का एहसास, स्थानीय विभाजन करवाना होता है। इसकी मुख्य शाखाएं हैं-

  • भू-आकृति वैज्ञानिक पक्ष-इसमें जलवायु वैज्ञानिक सिरमौरता, महासागरीय देन तथा अलग पेड़-पौधे तथा जीव जन्तु इत्यादि आते हैं।
  • मानवीय साधनों की उत्तमता-इसमें कृषि क्षेत्र की उपज, बुनियादी ढांचे की सुंदरता, औद्योगिक प्राप्तियां शामिल हैं।
  • सांस्कृतिक विशेषताएं- इसके अंतर्गत राष्ट्रीय चिन्ह, कबाइली दौलत तथा धार्मिक सहवास शामिल हैं।
  • जन-आंकड़े-इसके अधीन ऐतिहासिक स्थान, यूनेस्को से संबंधित दौलत तथा सैलानी रुचि के स्थानों की शान शामिल हैं।

प्रश्न 10. समुद्र तल से ऊँचा जाने के साथ क्या बिमारी होती है तथा इससे कैसे बचा जा सकता है ?
उत्तर-समुद्र तल से ऊंचा जाने पर माऊंटेस सिकनैस नामक बिमारी हो जाती है तथा इस बिमारी से बचने के लिए ऐसे क्षेत्र में रहना चाहिए जहाँ पहले 2-3 दिन कम ऑक्सीजन वाले क्षेत्र में प्रवास के लिए अपने आप को ढालना बहुत ज़रूरी है।

प्रश्न III. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर 10-12 पंक्तियों में दें :

प्रश्न 1. वायु प्रदूषण रोकने पर एक नोट लिखो।
उत्तर-वायु प्रदूषण की रोकथाम निम्नलिखित प्रकार से की जा सकती है-ताप या उत्प्रेरक का असर कम करने के लिए आवश्यक है कि प्रदूषित कणों को रोका जाए। भारत में ब्यूरो ऑफ इण्डियन स्टेंडर्स ने वायु की गुणवत्ता का सूचकांक बनाया है जो कि 0 से 500 के करीब है। अगर सूचकांक बढ़ता है तो इसका अर्थ है, हवा के प्रदूषण में वृद्धि हो रही है। वायु के प्रदूषण को कम करने के लिए अपारंपरिक स्रोतों का प्रयोग, जैसे-सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा इत्यादि को बढ़ाना आवश्यक है। पेड़ों को काटने पर रोक लगानी चाहिए तथा अधिक से अधिक पेड़ लगाने चाहिए। फालतू सड़कों के बैरियर तथा चैक पोस्टों इत्यादि को कम करना चाहिए, ताकि प्रदूषण की समस्या को कम किया जा सके तथा तेल को बचाया जा सके। वायु की निगरानी के लिए उपकरण, वायु साफ करने वाले फिल्टर, रेडियो मीटर इत्यादि को महत्त्वपूर्ण स्तर पर लागू किया जाना चाहिए।

प्रश्न 2. लासैंट अध्ययन के मुताबिक कितने भारतीय वायु प्रदूषण से पीड़ित हैं ? इसका क्या असर हो रहा
उत्तर-मैडिकल मैगजीन द लासैंट के अध्ययन के मुताबिक भारत में जहरीली हवा या प्रदूषित वायु में लोग सांस ले रहे हैं। जिस कारण भारत में औसतन दो मौतें हर रोज़ हो रही हैं। ये मौतें इस जहरीली वायु के कारण ही हो रही हैं। दुनिया के प्रदूषित शहरों में कुछ शहर भारत में ही हैं। 2010 में किए एक अध्ययन के अनुसार विश्व में 2.7 से 3.4 करोड़ बच्चे वायु प्रदूषण के कारण निश्चित समय से पहले पैदा होते हैं तथा एशिया में यह दर 1.6 तक है।

प्रश्न 3. भारत के भू-जल में आर्सेनिक की समस्या के बारे में एक नोट लिखो।।
उत्तर-आर्सेनिक पूरे संसार में पृथ्वी के नीचे वाले पानी की बहुत गंभीर समस्या बनती जा रही है। खास कर ट्यूबवैल अधिक मात्रा वाले गंगा डेल्टा में, पश्चिमी बंगाल के क्षेत्र में बहुत सारे लोग इसका शिकार हो गए हैं। 2007 के साल में किए एक सर्वेक्षण के अनुसार दुनिया के 70 देशों में 1 करोड़ 37 लाख लोग आर्सेनिक जहर के शिकार हो चुके हैं। भारत की भूमि के नीचे वाला पानी में जो कि पीने योग्य पानी है कारखानों, नगरपालिका में से निकले दृषित जल के कारण दूषित हो गया है। मानवीय स्वास्थ्य के लिए खासकर नवजात बच्चों के लिए बहुत खतरनाक है। पृथ्वी के नीचे पीने योग्य पानी में क्लोराइड की मात्रा बढ़ने के कारण मांसपेशीय तथा दिमागी रोग हो रहे हैं, इसके अतिरिक्त आंतड़ियों के रोग, दांतों के रोग भी मानवीय स्वास्थ्य को खराब कर रहे हैं। इसी प्रकार आर्सेनिक दिमाग की बिमारियों, फेफड़ों की बिमारियों तथा चमड़ी के कैंसर की बिमारियों का मुख्य कारण बनती जा रही है। साल 2030 तक संसार में पानी की मांग अब के समय से 50% बढ़ने का एक अनुमान है। कहते हैं कि यह मांग शहरी क्षेत्र में अधिक बढ़ने का अनुमान है।

प्रश्न 4. ऑपरेशन मेघदूत क्या था ? जान-पहचान करवाओ।
उत्तर-युद्ध के समय सिआचिन (सैंची) ग्लेशियर का महत्त्व काफी है जिस पर पाकिस्तान अपना अधिकार जमाने की लगातार कोशिश कर रहा है। अप्रैल 1984 से भारतीय सेना को समुद्र तल से 6400 मीटर की ऊँचाई पर NH9842 पर इंदिरा कोल के मध्य आगे वाली चौकी पर तैनात रहने की इस सैनिक कार्रवाई को मेघदूत के नाम से जाना जाता है। सिआचिन (सैंची) ग्लेशियर पर कब्जे का मुद्दा सियासी तथा राजनीतिक दोनों स्तरों पर हल की मांग करता है जिस कारण पिछले कुछ सालों से यह क्षेत्र सैनिक कार्रवाई का एक आधार ही बन गया है। भारत ने सिआचिन ग्लेशियर पर अपने अस्तित्व का आरम्भिक ढांचा तैयार कर ही लिया है तथा यह दावा भी भारत कर रहा है कि दोनों चीन तथा पाकिस्तान के पक्ष से भारत अच्छी हालात में है। भारतीय सेना क्षेत्र की सुरक्षा कर रही है।

प्रश्न 5. सर करीक क्षेत्र का प्राकृतिक साधनों के पक्ष से क्या महत्त्व है ? लिखो।
उत्तर-सर करीक एक दलदली खाड़ी है जो कि भारत के गुजरात तथा पाकिस्तान के सिंध के प्रदेशों के मध्य का एक प्रांत है। लगभग 96 किलोमीटर लम्बी इस सागरीय सीमा दोनों देशों के मध्य एक मुद्दा है। इस क्षेत्र को बाण गंगा भी कहते हैं। सर करीक क्षेत्र के प्राकृतिक साधनों के कारण इसका महत्त्व और भी बढ़ जाता है।

  • खनिज तेल तथा प्राकृतिक गैस की अधिकता के कारण इस स्थान का आर्थिक महत्त्व काफ़ी बढ़ जाता है।
  • इसके तटीय क्षेत्र में भूमि पर तथा सागरीयं तल पर प्राकृतिक गैस के काफ़ी भंडार हैं।
  • यहाँ हाइड्रोकार्बन के अस्तित्व की भी काफ़ी संभावनाएं हैं।
  • मछुआरों की गतिविधियां काफी हैं।

प्रश्न 6. सिंध जल संधि जम्मू तथा कश्मीर के लिए नुकसानदायक सिद्ध हुई है। कैसे ?
उत्तर-सिंध जल संधि जम्मू तथा कश्मीर के लिए नुकसानदायक सिद्ध हुई है क्योंकि इस संधि में इलाके के लोगों की ज़रूरतों तथा इच्छा का ध्यान नहीं रखा गया। यह संधि लोग विरोधी तथा एक तरफ की संधि लगती है जिसको या तो रद्द किया जाना या फिर दुबारा उस पर विचार करना आवश्यक है। सन् 1960 के पानी की 159MAF मात्रा में कमी हो गई तथा कुल मात्रा 117MAF रह गई जिस कारण जम्मू-कश्मीर के लोग काफी चिंता में पड़ गए। एक अनुमान अनुसार 2050 तक सिंध के जलतंत्र की भारतीय नदियों में 17 प्रतिशत पानी कम होने की उम्मीद है तथा पाकिस्तान में पहुँचते पानी में भी 27 प्रतिशत कमी आने की उम्मीद है। सिंध जल संधि करते समय जम्मू तथा कश्मीर के लोगों के पक्ष को नज़र अंदाज किया गया। जम्मू तथा कश्मीर में रोक लगाई गई कि 9.7 लाख एकड़ से अधिक भूमि कृषि के उद्देश्य के लिए नहीं प्रयोग की जाएगी।

प्रश्न 7. पंजाब की भौगौलिक सिरमौरता वर्णन करते कोई आठ कारण लिखें।
उत्तर-पंजाब की भौगौलिक सिरमौरता वर्णन करते मुख्य कारण हैं-

  • पंजाब में देश के हर प्रांत के मुकाबले किन्नू का उत्पादन सबसे अधिक होता है।
  • पंजाब में अंगूर की प्रति हैक्टेयर उपज देश में सबसे अधिक होती है।
  • पंजाब हर साल 7.16 लाख मीट्रिक टन दूध का उत्पादन कर रहा है, जो देश के कुल उत्पादन का 10 प्रतिशत
  • प्रति व्यक्ति अंडों के उत्पादन में देश में पंजाब सबसे आगे हैं।
  • देश में पंजाब से संयुक्त राज्य अमेरिका को शहद निर्यात किया जाता है।
  • पंजाब देश की 22 प्रतिशत गेहूँ, 12 प्रतिशत चावल, 23 प्रतिशत कपास पैदा कर रहा है।
  • पंजाब में जंगलों अधीन क्षेत्र में 100 वर्ग कि०मी० क्षेत्र की वृद्धि हुई जो और किसी प्रांत में नहीं हुई।
  • पंजाब लैंड एक्ट 1900 के अनुसार रक्षित किए गए 55 हजार हैक्टेयर जंगली क्षेत्र को कंडी क्षेत्र के लोगों के लिए कृषि करने तथा रोजी-रोटी कमाने के लिए प्रयोग करने की स्वतन्त्रता दी गई।

प्रश्न IV. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर 20 पंक्तियों में दो :

प्रश्न 1. भारत श्रीलंका मध्य कच्चातीवू मसला क्या हैं ? यह भारत की तरफ खुद पैदा की मुश्किल है, कैसे ?
उत्तर- श्रीलंका में पड़ते कच्चातीवू का टापू विवादों से घिरा हुआ है। यह टापू 285.2 एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ है। इस टापू पर मनुष्य जनसंख्या नहीं है। 14वीं सदी में सागर तल पर घटी ज्वालामुखी कार्रवाई के कारण कच्चातीवू तथा रामेश्वरमू नामक टापू अस्तित्व में आए। ऐतिहासिक समय में कच्चातीवू टापू का प्रयोग भारतीय मछुआरे करते थे। इस टापू पर रामनद का राजा राज कर रहा था। बाद में मद्रास प्रेजीडेंसी का ही एक हिस्सा बन गया था। भारत मानता है कि कच्चातीवू टापू पर श्रीलंका का कब्जा होना चाहिए परन्तु इस कब्ज़े को कानूनी तौर पर मान्यता हासिल नहीं है। इसका कारण है कि तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी ने 1974 में संसद् की मन्जूरी के बिना ही टापू का मालिकाना श्रीलंका को दे दिया था। यह टापू (कच्चातीवू) सांस्कृतिक पक्ष से तमिल लोगों के लिए बहुत महत्त्वपूर्ण है तथा यह टापू मछलियां पकड़ने के रोज़गार के लिए भारत तथा श्रीलंका दोनों ही देशों के मछुआरों के द्वारा प्रयोग में लाया जा रहा है जबकि इस टापू पर पेयजल की कमी है।

राष्ट्रीय भाईचारे की तरफ से इस टापू को देश के अंग के तौर पर पहचाना गया है। श्रीलंका वाले. भाग से इस टापू पर मछलियां पकड़ने का काम अधिक किया जाता है। सारे क्षेत्र में सागरीय स्रोतों की बहुतायत है। श्रीलंकाई मछुआरों को तमिलनाडु के मछुआरों के मुकाबले मछली पकड़ने का काम करने में बहुत कठिनाइयां आ रही हैं। भारतीय मछुआरों के पास अच्छी तकनीक है पर भारतीय सागरीय फर्श को जाल से खींचने वाली नावों ने उजाड़ दिया है जिस कारण भारतीय जल क्षेत्र से श्रीलंका जल क्षेत्र मछलियां पकड़ने में आगे हैं। मछलियां पकड़ने के लिए लाइसेंस प्रबंध जो कि मछली पकड़ने के नियम बताता है जो नियम कानून बने हैं अगर उनका पालन किया जाए, तो तमिलनाडु की सरकार तथा भारत सरकार की सहायता से दोनों देशों के सागरीय मछुआरों सागरीय जीवों को जमा कर बहुत देर के लिए सम्भाल कर रखने, खराब होने से बचाने तथा ऐसी अन्य सुविधाएं लेकर अपनी रोजी रोटी का अच्छा आसान साधन बना सकते हैं।

प्रश्न 2. सिंध जल संधि की रक्षा के लिए भारत अपना आप गुप्त करके भी काम कर रहा है ? कैसे ?
उत्तर-सिंध जल संधि 1960 में भारत के प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू तथा पाकिस्तान के राष्ट्रपति फील्ड मार्शल मुहम्मद अयूब खान के मध्य में सिंध की नदियों के पानी के विभाजन को लेकर हुई। इस संधि के मुताबिक भारत की पूर्वी नदियों सतलुज, ब्यास तथा रावी के पानी को बिना किसी रोक-टोक के भारत प्रयोग कर सकता है तथा पश्चिमी नदियों का जल सिंध, चिनाब, जेहलम पाकिस्तान के हिस्से आएगा। भारत ने जल संधि को पूरी ईमानदारी के साथ निभाया है तथा तीन लड़ाइयां, उग्रवाद के समय में संधि के नियमों का पालन किया तथा कभी संधि भंग करने का कोई प्रयास नहीं किया। भारत ने सिंध जल संधि की रक्षा अपना आप गुप्त करके भी की है। निम्नलिखित बातों से यह बात स्पष्ट हो जाती हैं-

  • 80 प्रतिशत से अधिक जल इन नदियों का पाकिस्तान के हिस्से आ रहा है क्योंकि पश्चिमी नदियों में बह रहे जल की मात्रा पूर्वी नदियों से कहीं अधिक है।
  • जम्मू तथा कश्मीर में रोक लगाई गई है कि जम्मू तथा कश्मीर 9.7 लाख एकड़ से अधिक भूमि किसी भी कृषि कार्य में नहीं लगाएगा।
  • भारत तथा पाकिस्तान की इस संधि द्वारा भारत को सिंचाई के लिए तथा जल-ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए हमेशा पानी की कमी रही जो कभी पूरी नहीं हुई।
  • 1960 में हुई संधि के अनुसार भारत की तरफ से तैयार की जाती इलाकई योजना परखी जाती है तथा पश्चिम की नदियों के किनारों के पास लाई गई हर एक ईंट के बारे में भी प्रसिद्ध पर्यावरण विद् तथा राष्ट्रीय संस्थाओं की सलाह अनुसार आगे का काम किया जाता है।
  • जम्मू तथा कश्मीर के नागरिकों का पक्ष सिंध जल संधि करते समय नज़रअंदाज किया गया है। भारत तथा पाकिस्तान की सीमा के पास 54 स्थायी नदियां, नहरें इत्यादि हैं तथा भारत अपनी पूरी ज़िम्मेदारी की बारे में समझता है। कूटनीतियों द्वारा भारत का स्टैंड हिलाया नहीं जा सकता, इसके कई कारण हैं-
    • एक तो भारत की राष्ट्रीय भरोसे योग्यता में कमी आ सकती है। इस तरह भारत अपनी प्राप्त की स्थिति खो सकता है जो उसको संयुक्त राष्ट्र सलामति कौशल जैसी संस्थाओं को हासिल हैं।
    • भारतीय सीमाओं के पानी की साझ समय पड़ोसी देशों में भी भारत के लिए संदेह स्वभाव पैदा हो जाएगा।

प्रश्न 3. भारत की भौगोलिक सिरमौरता को प्रकट करते तथ्य से पहचान करवाओ।
उत्तर-भारत की भौगोलिक सिरमौरता को प्रकट करते तथ्य निम्नलिखित हैं-

  • भौगोलिक सिरमौरता हमें अभिमान महसूस करवाता है कि संसार की सबसे ऊँची चोटी माउंट एवरेस्ट जो एशिया महाद्वीप में है।
  • सुंदरवन डेल्टा जो विश्व का सबसे बड़ा डेल्टा है वह हमारे देश की बंगाल की खाड़ी में स्थित है।
  • भारतीय जनसंख्या में दो तिहाई भाग में 15 से 64 साल के लोग रहते हैं तथा 48 करोड़ 60 लाख के करीब हाथ से काम करने वाले लोग रहते हैं तथा भारत में मध्यम आयु 29 साल है।
  • भारत में 19.1 प्रतिशत पशु प्रधान हैं जिस कारण भारत दूध का सबसे बड़ा उत्पादक है।
  • भारत संसार के 17 भिन्न प्रकार के जानवर तथा पौधे इत्यादि की बड़ी गिनती वाले देशों में एक है।
  • भारत के उत्तर में 6.1 किलोमीटर की औसतन ऊँचाई वाला हिमालय पर्वत है जो कि उत्तरी ध्रुवीय पवनों के असरदायक होने पर रोक लगाता है।
  • भारत के पास कुल 9.6 प्रतिशत जल संसाधन हैं तथा 4 प्रतिशत जल का पुन: उपयोग किया जाता है।
  • 2016 के साल में भारत में बागाती उपज 28 करोड़ 34 लाख टन तक पहुँच गया था तथा इसका पूरा श्रेय भारतीय किसानों को जाता है।
  • भारत के पास संसार में दूसरे नंबर पर सबसे अधिक कृषि योग्य भूमि है तथा दूसरे नंबर पर सड़कों का जाल है।
  • हिमालय पर्वत माला भारत में संसार की सबसे ऊँची पर्वत माला है जो समुद्र तल से लगभग 6.1 किलोमीटर की ऊँचाई पर है।
  • भारतीय महाद्वीपों के नाम से पहचाने जाते पांच महाद्वीपों में भारत सबसे अधिक अलग पहचान रखता है।
  • भारत हिंद महासागर के 23 लाख वर्ग किलोमीटर में फैले जल पर अपना अधिकार जमा रहा है।
  • देश का 90 प्रतिशत तक का भाग 6° से 52°C तापमान के मध्य का क्षेत्र है, जिस कारण देश में पूरा साल कोई न कोई पेड़ पौधों को उगाने के हालात कहीं न कहीं आवश्यक होते हैं। किसान तीन प्रकार की फसलें एक साल में आसानी से उगा लेते हैं।

प्रश्न 4. भौगोलिक सिरमौरता क्या होती है ? भूगोल में इसके अध्ययन की क्या आवश्यकता है ?
उत्तर-भौगोलिक सिरमौरता-प्राकृतिक तथा मानवीय दोनों प्रकार की क्रियाएं जिनके स्थानीय विभाजन की प्रशंसा, जिसका उद्देश्य प्राप्तियों का एहसास करवाना होता है, भौगोलिक सिरमौरता कहलाती है। प्राकृतिक की तरफ मनुष्य को दिए गए प्राकृतिक स्रोतों का प्रयोग करके कोई प्रशंसा हासिल करना या प्रशंसा तक पहुँचने की मानवीय पहुँच ही भौगोलिक सिरमौरता कहलाती है। भौगोलिक सिरमौरता व्याख्यात्मक विषय है। भौगोलिक सिरमौरता ऐसा विषय है जो हर एक स्पष्ट तथा अस्पष्ट तथा हर किस्म के साधनों की व्याख्या करता है जो हमारी पृथ्वी, हमारे देश, शहर, कस्बे इत्यादि को बाकी कस्बों, शहरों इत्यादि से अलग बनाते हैं।

भौगोलिक सिरमौरता का अध्ययन हमें हर पक्ष से गर्व महसूस करवाता है तथा हमें संतुष्टि देता है कि हमारे सारे देश में यह चीज़ सबसे अधिक हैं जैसे कि भूगोल में इसके अध्ययन से हमें पता चलता है कि विश्व की सबसे ऊँची चोटी माऊंट एवरेस्ट हमारे महाद्वीप में है या सुंदरवन संसार का सबसे बड़ा डेल्टा हमारी बंगाल की खाड़ी में मौजूद है। इसके साथ हमें अपने देश की सिरमौरता के बारे में पता चलता है तथा हमें अपने देश पर गर्व महसूस होता है।

भूगोल में इसके अध्ययन की काफी आवश्यकता है। भौगोलिक सिरमौरता का उद्देश्य, भौगोलिक पक्ष से विकसित हो रहे मनों को इस ग्रह के हर देश में मिलने वाले स्रोतों की भौगोलिक दौलत से इस अध्ययन के द्वारा परिचित करवाया जाता है। भारत ने इस क्षेत्र के अध्ययन की तरफ काफी उन्नति की है। पर मीडिया सिर्फ लोगों के दुःख, तकलीफों तथा असफलताओं की गाथाएं ही सुनाता आ रहा है। उनकी ये बातें सच्ची हैं पर यदि सिर्फ नकारात्मक बातें ही लोगों तक पहुँचती रहीं तो लोगों की सोच की सीमाएं कुछ समय के बाद सीमित हो जाएंगी। वह देश को आने वाले संभावित खतरों तथा उन खतरों द्वारा आने वाली कमियों के बारे में नहीं सोच सकेंगे। जैसे कि एक उदाहरण है कि भारतीय कृषि के हालात कुल मिलाकर बहुत अच्छे नहीं हैं पर तथ्य यह है कि देश के 85 प्रतिशत किसान छोटे तथा मध्यम हैं उनके पास काम करने के लिए 21 प्रतिशत तक कृषि योग्य भूमि है तथा 79 प्रतिशत भूमि मध्यम दों के किसानों के पास हैं तथा फिर भी सहकारी तथा मिलकर की जाने वाली कृषि ही देश के प्रारंभिक कार्य को बचा रही है। भौगोलिक सिरमौरता का अध्ययन हमें गर्व महसूस करवाता है इसलिए भौगोलिक अध्ययन के क्षेत्र में इसकी बहुत आवश्यकता है।

चुनिन्दा परिप्रेक्ष्य (मुद्दों) तथा भौगोलिक दृष्टिकोण पर एक नज़र Important Questions and Answers

I. वस्तुनिष्ठ प्रश्नोत्तर (Objective Type Question Answers)

A. बहु-विकल्पी प्रश्न :

1. सिआचिन से क्या भाव है ?
(A) बड़ी संख्या में गुलाब के फूल
(B) बड़ी संख्या में झाड़ियां
(C) बड़ी संख्या में कमल के फूल
(D) बड़ी संख्या में जानवरों के झुंड।
उत्तर-(A) बड़ी संख्या में गुलाब के फूल

2. सिआचिन ग्लेशियर किस तरफ से आने वाले पाकिस्तानी हमलावरों को आगे बढ़ने से रोकता है ?
(A) उत्तर
(B) दक्षिण
(C) पूर्व
(D) पश्चिम।
उत्तर-(B) दक्षिण

3. माऊनटेन सिकनैस की बिमारी खास कर कहां होती है ?
(A) दलदली भूमि पर
(B) पठारी इलाकों में
(C) समुद्री तल से ऊँचे क्षेत्रों में
(D) तटीय क्षेत्रों के नज़दीक।
उत्तर-(C) समुद्री तल से ऊँचे क्षेत्रों में

4. सरकरीक की दलदली खाड़ी भारत तथा पाकिस्तान के कौन-से क्षेत्रों में स्थित है ?
(A) गुजरात तथा सिंध
(B) लायलपुर तथा पंजाब
(C) लाहौर तथा गुजरात
(D) आन्ध्र प्रदेश तथा रावलपिंडी।
उत्तर-(A) गुजरात तथा सिंध

5. सिंध जल संधि कब हुई ?
(A) 1960
(B) 1965
(C) 1959
(D) 1970.
उत्तर-(A) 1960

6. भारत को कौन-सी दिशा की नदियों का पानी प्रयोग करने की छूट है ?
(A) पश्चिमी
(B) पूर्वी
(C) दक्षिणी
(D) उत्तरी।
उत्तर-(A) पश्चिमी

7. पर्यावरण को मोटे तौर पर हम कितने भागों में विभाजित कर सकते हैं ?
(A) प्राकृतिक तथा भौतिक
(B) भौतिक तथा सांस्कृतिक
(C) सांस्कृतिक तथा प्राकृतिक
(D) भौतिक तथा रासायनिक।
उत्तर-(C) सांस्कृतिक तथा प्राकृतिक

8. प्रदूषण का प्रमुख स्रोत क्या है ?
(A) फसलें
(B) ठोस कूड़ा-कर्कट
(C) जंगल
(D) जानवर।
उत्तर-(B) ठोस कूड़ा-कर्कट

9. वायु प्रदूषण का प्राकृतिक स्रोत कौन-सा है ?
(A) मनुष्य
(B) कृषि
(C) पानी
(D) ज्वालामुखी।
उत्तर-(D) ज्वालामुखी।

10. गंगा की ढाल के साथ प्रदूषण का मुख्य स्त्रोत क्या है ?
(A) चमड़ा उद्योग
(B) कागज़ उद्योग
(C) गैसें
(D) फालतू नाले।
उत्तर-(A) चमड़ा उद्योग

11. पर्यावरण दिवस कब मनाया जाता है ?
(A) 22 अप्रैल
(B) 22 जून
(C) 22 मार्च
(D) 22 सितंबर।
उत्तर-(B) 22 जून

12. निम्नलिखित में से कौन-सा भू-प्रदूषण का कारक नहीं है ?
(A) तेज़ाब
(B) कीटनाशक
(C) तांबा
(D) मशीनें।
उत्तर-(D) मशीनें।

13. आर्सेनिक कौन-से पानी की गंभीर समस्या है ?
(A) पेयजल की
(B) पृथ्वी के नीचे वाले पानी की
(C) नहरों के पानी की
(D) समुद्र के पानी की।
उत्तर-(B) पृथ्वी के नीचे वाले पानी की

14. भारत सरकार ने गंगा नदी को साफ करने के लिए कौन-से मिशन का आगाज़ किया है ?
(A) नमामि गंगे
(B) बहु आयामी योजना
(C) स्वच्छ भारत अभियान
(D) गंगा साफ योजना।
उत्तर-(A) नमामि गंगे

15. भारत की औसत मध्यम आयु कितनी है ?
(A) 22 माल
(B) 29 साल
(C) 30 साल
(D) 25 साल।
उत्तर-(B) 29 साल

16. पंजाब का शहद किस क्षेत्र को निर्यात किया जाता है ?
(A) यू०एस०ए०
(B) ऑस्ट्रेलिया
(C) जापान
(D) चीन।
उत्तर-(A) यू०एस०ए०

17. भारत में सालाना दूध का कितना उत्पादन होता है ?
(A) 16 करोड़ टन
(B) 120 करोड़ टन
(C) 10,000 करोड़ टन
(D) 15 करोड़ टन।
उत्तर-(A) 16 करोड़ टन

18. वाहनों में से निकलता धुआं स्वास्थ्य पर क्या प्रभाव डालता है ?
(A) खून में ऑक्सीजन कम करता है
(B) सांस के रोग
(C) आँखों के गम्भीर रोग
(D) गले की सूजन।
उत्तर-(A) खून में ऑक्सीजन कम करता है

19. विश्व जल दिवस कब मनाया जाता है ?
(A) 22 मार्च
(B) 22 अप्रैल
(C) 22 जून
(D) 22 अक्तूबर।
उत्तर-(A) 22 मार्च

20. भारत में संसार का कितना पशुधन है ?
(A) 19.1 फीसदी
(B) 10 फीसदी
(C) 50 फीसदी
(D) 51 फीसदी।
उत्तर-(A) 19.1 फीसदी

B. खाली स्थान भरें :

1. सन् 1972 में ………………… समझौते में 1949 के सीमा रेखा के संबंधी समझौते के बारे में कोई परिवर्तन नहीं किया गया।
2. कच्चातीवू टापू …………… एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ है।
3. भारत को सतलुज ………………… तथा ………………… पानी को बेरोक करने की स्वतन्त्रता है।
4. पर्यावरण ………………… तथा ………………… दो भागों में विभाजित किया जाता है।
5. कार्बन मोनोऑक्साइड खून में ………………. की मात्रा को कम कर देती है।
उत्तर-

  1. शिमला
  2. 285.2 एकड़
  3. ब्यास, रावी
  4. प्राकृतिक पर्यावरण, सांस्कृतिक पर्यावरण
  5. ऑक्सीजन।

C. निम्नलिखित कथन सही (√) हैं या गलत (x):

1. बारीक कण 2.5 माइक्रोमीटर के कण सबसे अधिक खतरनाक होते हैं।
2. सल्फर-डाइऑक्साइड (SO2) तेज़ाबी वर्षा का कारण बनती है।
3. भारतीय संसद् में स्त्रियों की प्रतिनिधिता 50 प्रतिशत है।
4. कई तेज़ाब भी पानी को प्रदूषित करते हैं।
5. 1975 में सिंध जल संधि भारत तथा पाकिस्तान के मध्य हुई।
उत्तर-

  1. सही
  2. सही
  3. गलत
  4. सही
  5. गलत।

II. एक शब्द/एक पंक्ति वाले प्रश्नोत्तर (One Word/Line Question Answers) :

प्रश्न 1. मानव भूगोल क्या है ?
उत्तर-मानव जीवन का भौगोलिक दृष्टिकोण मानव भूगोल कहलाता है।

प्रश्न 2. कंधी क्षेत्र में प्रमुख दर्रे कौन-से हैं ?
उत्तर-सिआला, बिलाफोंडला, गिओंग ला।

प्रश्न 3. सिआचिन ग्लेशियर के क्षेत्र में पड़ती विवादग्रस्त सीमाओं के नाम बताओ।
उत्तर-LOC तथा LOAC.

प्रश्न 4. सिआचिन कौन-सी नदियों को जल प्रदान करता है ?
उत्तर-सिंध तथा नूबरा।

प्रश्न 5. औरो पॉलिटिक्स से क्या भाव है ?
उत्तर-औरो पॉलिटिक्स से भाव सियासी मामलों के लिए पहाड़ी क्षेत्रों का नाजायज़ प्रयोग करने से है।

प्रश्न 6. सरकरीक क्या है ?
उत्तर-यह एक दलदली खाड़ी है जो भारत के गुजरात तथा पाकिस्तान के सिंध क्षेत्र के मध्य है।

प्रश्न 7. स्थल वेंग सिद्धान्त किन नहरों पर लागू है ?
उत्तर-जहाजरानी करने योग्य पर।

प्रश्न 8. कच्चातीवू टापू का प्रयोग इतिहास में कौन करते थे ?
उत्तर-भारतीय मछुआरे।

प्रश्न 9. कच्चातीवू टापू पर सबसे पहले किसका स्वामित्व था ?
उत्तर-रामनद के राजे का।

प्रश्न 10. सिंध जल संधि किन-किन के मध्य में हुई ?
उत्तर-यह संधि 1960 में भारत के प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू तथा पाकिस्तानी राष्ट्रपति मुहम्मद अयूब खान के मध्य में हुई।

प्रश्न 11. पश्चिमी नहरों के नाम बताओ जिसका जल पाकिस्तान प्रयोग करता है ?
उत्तर-चिनाब, जेहलम तथा सिंध।

प्रश्न 12. पर्यावरण को कौन-से हिस्सों में विभाजित किया जा सकता है ?
उत्तर-प्राकृतिक पर्यावरण तथा सांस्कृतिक पर्यावरण।

प्रश्न 13. प्रदूषण से आपका क्या भाव है ?
उत्तर-जब भौतिक पर्यावरण में कुछ ज़हरीले, अनचाहे पदार्थ तथा रसायन मिल जाते हैं उसको प्रदूषण कहते हैं।

प्रश्न 14. कौन-सा शहर वाहन कार्बन मोनोऑक्साइड छो है ?
उत्तर-दिल्ली।

प्रश्न 15. भू-प्रदूषण का कोई एक कारण बताओ।
उत्तर-जंगलों की लगातार कटाई।

प्रश्न 16. वायु प्रदूषण के कोई दो कारकों के नाम बताओ।
उत्तर-ज्वालामुखी तथा उद्योग।

प्रश्न 17. उस गैस का नाम बताओ जो ओज़ोन गैस को दूषित कर रही है ?
उत्तर-CFC क्लोरोफ्लोरो कार्बन।

प्रश्न 18. प्रदूषण के तीन मुख्य प्रकार बताओ।
उत्तर-

  1. वायु प्रदूषण
  2. जल प्रदूषण
  3. भूमि प्रदूषण ।

प्रश्न 19. भारत में सालाना कितना अनाज पैदा किया जाता है ?
उत्तर-25 करोड़, 70 लाख टन।

प्रश्न 20. भूमि प्रदूषण को हम किस प्रकार रोक सकते हैं ?
उत्तर-रासायनिक खादों तथा कीटनाशक दवाइयों का प्रयोग कम करके।

प्रश्न 21. छूत के रोग लगने वाले कीटाणु कौन-से हैं ?
उत्तर-बैक्टीरिया, प्रोटोजोआ, परजीवी तथा वाइरस इत्यादि।

प्रश्न 22. जल प्रदूषण के लिए ज़िम्मेदार अजीवी मिश्रण कौन-से हैं ?
उत्तर-तेज़ाब, ज़हरीले नमक, धातु इत्यादि।

प्रश्न 23. केन्द्र सरकार ने नमामि गंगा प्रोजैक्ट के लिए कितने रुपये जारी किए हैं ?
उत्तर-20,000 करोड़।

प्रश्न 24. वायु प्रदूषित कारक संसार की कितनी वायु को दूषित कर रहे हैं ?
उत्तर-85 प्रतिशत।

प्रश्न 25. ऐल्डीहाइड प्रदूषण के साथ स्वास्थ्य पर क्या प्रभाव पड़ता है ?
उत्तर-साँस के रोग हो जाते हैं।

प्रश्न 26. वायु में धूल के कण SPM कब पैदा होते हैं ?
उत्तर-उद्योग, खनन, पॉलिश, सूती वस्त्र उद्योग, खनिज तेल इत्यादि के जलने से।

प्रश्न 27. वायु प्रदूषण के कारण होने वाली भारतीय मौतों की संख्या कितनी है ?
उत्तर-10 लाख हर साल।

प्रश्न 28. भारत में सालाना दूध का कितना उत्पादन होता है ?
उत्तर-16 करोड़ टन।

प्रश्न 29. भारत में प्रति व्यक्ति दूध का कितना उपभोग होता है ?
उत्तर-1032 मि०मी० रोज़ाना।

प्रश्न 30. संसार की सबसे ऊंची पर्वत माला कौन-सी है ?
उत्तर-हिमालय पर्वतमाला।

प्रश्न 31. भारत में स्तनधारी जानवरों की संख्या कितनी है ?
उत्तर-86 प्रतिशत।

अति लघु उत्तरीय प्रश्न (Very Short Answer Type Questions)

प्रश्न 1. प्रदूषण और प्रदूषक में क्या भेद है ?
उत्तर-प्रदूषण से अभिप्राय वायु, भूमि तथा जल साधनों का अवनयन तथा हानिकारक बनाना है। प्रदूषक उन पदार्थों को कहते हैं जो पर्यावरण में प्रदूषण फैलाते हैं।

प्रश्न 2. माउनटेन सिकनैस क्या है ?
उत्तर-यह एक बिमारी है जो कि समुद्र तल से काफी ऊँचाई वाले क्षेत्रों में रहने वाले लोगों में होती है। इसलिए इससे बचने के लिए पहले 2-3 दिन कम ऑक्सीजन वाले क्षेत्रों में रहने के लिए अपने आपको उनके अनुसार ढालना ज़रूरी है।

प्रश्न 3. बाण गंगा का क्षेत्र कौन-सा है ?
उत्तर-सरकरीक एक दलदली खाड़ी है तथा लगभग 96 किलोमीटर लम्बी यह गुजरात तथा सिंध के मध्य में सागरीय सीमा है जिसका दोनों देशों के बीच एक मसला है। इस क्षेत्र को बाण गंगा भी कहते हैं।

प्रश्न 4. कच्चातीवू टापू का इतिहास क्या है ?
उत्तर-कच्चातीवू टापू का प्रयोग सबसे पहले मछुआरों द्वारा किया जाता था। इस टापू पर पहले रामनंद के राजा का राज्य होता था जो बाद में अंग्रेज़ों के अधीन आ गया। श्रीलंका का इस पर कब्जा आज के समय में भी है।

प्रश्न 5. सिंध जल संधि 1968 में नदियों के पानी का विभाजुन कैसे किया गया ?
उत्तर-सिंध जल संधि 1960 में पूर्वी तथा पश्चिमी नदियों का विभाजन कर दिया गया। पूर्वी नदियों के पानी (सतलुज, व्यास, रावी) पर भारत का तथा पश्चिमी नदियों के पानी (चिनाब, सिंध, जेहलम) पर पाकिस्तान का अधिकार हो गया।

प्रश्न 6. पर्यावरण से आपका क्या भाव है ?
उत्तर-मनुष्य तथा जीव-जन्तुओं के आस-पास फैले घेरे को जिसमें परस्पर मनुष्य विचरते हैं पर्यावरण कहते हैं। इसको मुख्य रूप में दो भागों में विभाजित किया जाता है-

  1. प्राकृतिक पर्यावरण (Natural Environment)
  2. सांस्कृतिक पर्यावरण (Cultural Environment)

प्रश्न 7. पर्यावरण प्रदूषण क्या है ?
उत्तर- भौतिक पर्यावरण (जल, वायु, मिट्टी) में जब कुछ ज़हरीले पदार्थ तथा रसायन अधिक मात्रा में इकट्ठे हो जाते हैं पर्यावरण प्रदूषण कहलाता है। यह मुख्य रूप में तीन प्रकार का होता है

  1. जल प्रदूषण
  2. वायु प्रदूषण
  3. मिट्टी प्रदूषण।

प्रश्न 8. भू/मिट्टी प्रदूषण के क्या कारण हैं ?
उत्तर- भू/मिट्टी प्रदूषण के मुख्य कारण हैं-

  • रासायनिक खादों, कीटनाशकों, नदीननाशकों तथा ज़हरीली दवाइयों का छिड़काव इत्यादि।
  • शहरों, कस्बों इत्यादि में कूड़े-कर्कट के ढेर।
  • जंगलों के अंतर्गत क्षेत्र का कम होना तथा जंगलों की कटाई।
  • शहरीकरण में वृद्धि।

प्रश्न 9. भूमि-प्रदूषण के कारण कृषि पर क्या प्रभाव पड़ता है ?
उत्तर-भूमि प्रदूषण के कारण कृषि पर होने वाले प्रभाव हैं-

  • इस द्वारा मिट्टी की उपजाऊ शक्ति कम हो जाती है।
  • मिट्टी में नाइट्रोजन की स्थिरता कम हो जाती है।
  • मिट्टी अधिक खुरने लगती है।
  • उपजाऊ शक्ति कम होने कारण फसलों का उत्पादन कम हो जाता है।
  • मिट्टी में प्रदूषण के कारण खारापन काफी बढ़ जाता है।

प्रश्न 10. पोषण-सुपोषण से आपका क्या भाव है ?
उत्तर-जब जल के दो स्रोतों में रासायनिक खादों के रूप में प्रयोग में लाए जा रहे नाइट्रेट फास्फेट मिलकर जल में खास कर एलगी की वृद्धि का एक कारण बन जाते हैं तथा जिस कारण एलगी को खाने वाले बैक्टीरिया की मात्रा में वृद्धि हो जाती है तथा पानी में मौजूद ऑक्सीजन कम हो जाती है जिस कारण मछलियां इत्यादि मरने लगती हैं इसको पोषण-सुपोषण कहते हैं।

प्रश्न 11. गंगा नदी को साफ करने के चरणों में से तुरन्त नज़र आने वाले प्रभाव कौन-से हैं ?
उत्तर-तुरन्त नज़र आने वाले प्रभाव हैं-

  1. गंगा नदी के पानी में तैरता कूड़ा-कर्कट हटाया जाएगा।
  2. लोगों को सफाई के लिए जागरूक करना।
  3. गंदे पानी का निकास गंगा नदी में जाने से रोकना।
  4. आधी जली लाशों को गंगा नदी में फेंके जाने पर पूरी तरह से पाबन्दी।
  5. गंगा घाट के दोबारा से निर्माण करने की योजना।

प्रश्न 12. वायु प्रदूषण के प्राकृतिक स्रोत कौन-से हैं ?
उत्तर-वायु प्रदूषण के मुख्य प्राकृतिक स्रोत हैं-

  1. ज्वालामुखी के विस्फोट कारण निकली जहरीली गैसें।
  2. वायु इत्यादि के साथ उड़ रही रेत।
  3. धूल, मिट्टी।
  4. जंगलों तथा फसलों को लगने वाली आग इत्यादि।

प्रश्न 13. नाइट्रोजन ऑक्साइड प्रदूषण के मुख्य स्रोत कौन-से हैं तथा स्वास्थ्य पर इसका क्या प्रभाव पड़ता
उत्तर-नाइट्रोजन ऑक्साइड प्रदूषण के मुख्य स्रोत कोयले तथा वाहनों में से निकला धुआं है तथा इसके कारण साँस के रोग, आँखों की बिमारियाँ, फेफड़ों पर बुरा प्रभाव पड़ता है।

प्रश्न 14. सल्फर-डाइऑक्साइड के पड़ते प्रभावों का वर्णन करो।
उत्तर-सल्फर-डाइऑक्साइड (SO.) की बढ़ती मात्रा तेज़ाबी वर्षा का एक कारण बन सकती है इसके साथ इमारतों तथा साथ ही जंगलों का काफी नुकसान हो जाता है। इसके द्वारा नदियों तथा झीलों का पानी भी तेज़ाबी हो जाता

प्रश्न 15. सफर को परिभाषित करो।
उत्तर-सफर-यह प्रकल्प भारत सरकार के पृथ्वी तथा विज्ञान मंत्रालय द्वारा शुरू किए गए हैं जिसमें (WMO) विश्व मौसम विभाग की संस्थाओं द्वारा भारत के महानगरों में प्रदूषण के स्तर को मापा जाता है तथा प्रदूषण के बारे में भविष्यवाणी की जाती है।

प्रश्न 16. पंजाब की भौगोलिक सिरमौरता के कोई दो पक्ष बताओ।
उत्तर-

  1. पंजाब में हर साल 7.16 लाख मीट्रिक टन दूध का उत्पादन होता है।
  2. पंजाब में प्रति व्यक्ति अंडों का उत्पादन अधिक होता है। भारत में इस पक्ष की औसतन संख्या 35 है जबकि पंजाब में यह संख्या 125 तक है।

लघु उत्तरीय प्रश्न (Short Answer Type Questions)

प्रश्न 1. सिआचिन ग्लेशियर का महत्त्व बयान करो।
उत्तर-सिआचिन ग्लेशियर की महत्त्व निम्नलिखित है-

  1. इसके द्वारा नूबर तथा सिंध नदियों को जल प्रदान करवाया जाता है।
  2. पाकिस्तानी हमलावर दक्षिण की तरफ से भारत में दाखिल नहीं होते। यह हमलावरों को आगे बढ़ने से रोकता
  3. सिआचिन का उत्तर तरफ का क्षेत्र इंदिरा कोल, पाकिस्तान के द्वारा गैर-कानूनी तरीके से चीन को दिए गिलगिट, बालिस्तान के क्षेत्रों की सकीम घाटी पर नज़र बनाए रखने का स्थान है।
  4. चीन भी सिआचिन को हासिल करने की इच्छा रखता है, क्योंकि चीन तथा पाकिस्तान के आपसी गठजोड़ में यह अहम् भूमिका निभा सकता है।
  5. भारत तथा पाकिस्तान के बीच 1949 के कराची समझौते के आधार पर गोलाबंदी रेखा NJ9842 प्वाइंट से आगे है अर्थ है कि ग्लेशियरों के उत्तर दिशा में।
  6. यह ग्लेशियर पाकिस्तान के सैनिकों को सेल्टरों कंधी के पश्चिम की तरफ ऊंचाई का लाभ देता है। जो कि रणनीतिक लाभ है।

प्रश्न 2. सरकरीक की खाड़ी पर नोट लिखो।
उत्तर-सरकरीक एक दलदली खाड़ी है। यह खाड़ी गुजरात तथा सिंध क्षेत्रों के बीच स्थित है। स्वतन्त्रता से पहले गुजरात के क्षेत्र पर अंग्रेज़ों का राज्य था तथा पाकिस्तान का दावा है कि कच्छ का क्षेत्र-तत्कालीन बादशाह तथा सिंध की सरकार के बीच 1914 में हुए समझौते के मुताबिक पाकिस्तान का होना चाहिए। यह एक सागरीय सीमा है जिसकी लंबाई लगभग 96 किलोमीटर है। इस क्षेत्र को बाण गंगा भी कहते हैं। 1914 में हुए समझौते के अनुसार सरकरीक के पूर्वी किनारे को भारत सीमा मानते हैं।

प्रश्न 3. सरकरीक की खाड़ी की मुख्य विशेषता क्या है ?
अथवा सरकरीक की खाड़ी की आर्थिक महत्ता किन तत्त्वों से पता चलती है ?
उत्तर-सरकरीक की खाड़ी दलदली खाड़ी जो गुजरात तथा सिंध के क्षेत्रों के बीच स्थित है। इस खाड़ी की सैनिक महत्ता कम है पर आर्थिक महत्त्व काफी है। इसका महत्त्व निम्नलिखित है-

  • इस स्थान पर खनिज तेल तथा प्राकृतिक गैस के बड़े भंडार हैं।
  • हाइड्रोकार्बनों के अस्तित्व की बड़ी संभावना है।
  • मछुआरों की गतिविधियां काफ़ी तेज हैं। इस स्थान पर पाकिस्तान तथा भारत के मछुआरे मछलियां पकड़ने का काम करते हैं।
  • जब एक बार इसकी सीमा निर्धारित कर दी जाएगी तब यह समुद्री सीमा को निश्चित कर देंगी जिसके साथ
    आर्थिक क्षेत्र की सीमाएं भी सीमित हो जाएंगी तथा आर्थिक ज़ोन (EEZ) 200 नोटीकल मील (370 km) तक फैल जाएगा जिसके साथ वाणिज्य संबंधी उपयोग शुरू हो जाएगा।

प्रश्न 4. वायु प्रदूषण के मानवीय स्वास्थ्य पर पड़ते प्रभावों का वर्णन करो।
उत्तर-वायु प्रदूषण के कारण मानव स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभाव इस प्रकार हैं-

  1. वायुमंडल की ओजोन परत रासायनिक पदार्थों के कारण नष्ट होती जा रही है। क्लोरो-फ्लोरो कार्बन तथा हिमनदी के सिकुड़ने इत्यादि के कारण ओजोन परत नष्ट हो रही है।
  2. वायु प्रदूषण के कारण मानव को कई प्रकार की बिमारियों का सामना करना पड़ता है जैसे कि फेफड़ों की बिमारियां, गले की बिमारियां तथा चमड़ी की बिमारियां इत्यादि।
  3. काला धुआं इत्यादि के इकट्ठा करने के साथ जो मुख्य क्षेत्रों में तथा शहरों में हो रहा है इसका कारण जहरीली गैसें हैं जो वायुमंडल में प्रचलित हैं।
  4. वायु प्रदूषण तेज़ाबी वर्षा का कारण बनती है।

प्रश्न 5. भारत में वायु प्रदूषण के कोई चार स्रोतों का वर्णन करो।
उत्तर-वायु प्रदूषण के प्रमुख स्रोत हैं-

  1. प्राकृतिक स्रोत-जैसे-ज्वालामुखी विस्फोट, धूल, तूफान, अग्नि इत्यादि।
  2. उद्योग-उद्योगों से निकली गैसें, धूल कण इत्यादि।
  3. फैक्टरी-फैक्ट्रियों से निकला धुआं तथा राख इत्यादि।
  4. मोटर वाहनों से मोनोक्साइड और सीसा वायुमंडल में छोड़े जाते हैं। यही नहीं ओज़ोन की परत को पतला करने वाला क्लोरोफ्लोरो कार्बन भी वायुमंडल में छोड़ा जाता है।

प्रश्न 6. ऑपरेशन जिब्राल्टर (Operation Gibraltar) पर नोट लिखो।
उत्तर-ऑपरेशन जिब्राल्टर एक कोड नाम है जो पाकिस्तान की कूटनीति जो जम्मू तथा कश्मीर में प्रवेश करने की थी तथा प्रवेश करके वहाँ पर एक विद्रोह शुरू करना था। यदि यह विद्रोह शुरू हो जाता तो पाकिस्तान का अधिकार जम्मू-कश्मीर पर हो जाना निश्चित था। 1965 में पाकिस्तान की सेना आजाद कश्मीर रैगुलर फोर्स जम्मू तथा कश्मीर में दाखिल हुई। कश्मीरी मुसलमानों को अपने साथ मिलाने के लिए यह ऑपरेशन 1965 की भारत-पाकिस्तान की लड़ाई का एक कारण बना। वास्तव में 1950 से 1960 तक के वर्षों से ही पाकिस्तान सिआचिन पर अपना अधिकार करना चाहता था तथा सैनिक नफ़री को बढ़ाकर पाकिस्तान मसले को जीवित भी रख रहा था। 1984 तक भारत तथा पाकिस्तान के 2000 तक सैनिक अपनी जान खो चुके थे, क्योंकि पर्यावरण काफी कठोर था।

प्रश्न 7. कच्चातीवू के मसले को लेकर इंदिरा गांधी की एमरजैंसी पर नोट लिखो।
उत्तर-1974 में कच्चातीवू श्रीलंका को सौंपा गया था। प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के द्वारा यह इलाका इंडो-श्रीलंका मैरीटाइम ऐग्रीमैंट के अनुसार श्रीलंका के हिस्से कर दिया था। इस ऐग्रीमैंट के बाद तमिलनाडु के मुख्यमंत्री करुणानिधि ने मज़बूरन इंदिरा गांधी को लिखा था कि किसी समय यह धरती इतिहास में रामनद के अंतर्गत होती थी। भारत कच्चातीवू टापू पर श्रीलंका में कब्जे को मानता तो है पर इस कब्जे को कोई कानूनी मान्यता नहीं मिली क्योंकि तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने सन् 1974 में संसद् की मंजूरी के बिना टापू का मालिकाना श्रीलंका को दिया। कुछ समय के बाद फिर 1976 में एक ऐग्रीमैंट पास हुआ जिसमें दोनों ने तमिलनाडु तथा श्रीलंका के मछुआरों को एक-दूसरे के इलाके में जाने पर रोक लगा दी गई।

प्रश्न 8. भूमि प्रदूषण क्या है ? इसके पर्यावरण तथा शहरों पर पड़ते प्रभाव के बारे में बताओ।
उत्तर-भूमि में जैविक तथा अजैविक पदार्थों की एक पतली परत होती है। जब मिट्टी में जहरीले पदार्थ का जमाव हो जाता है तथा मिट्टी की रासायनिक, भौतिक संरचना बुरी तरह खराब हो जाती है। भूमि प्रदूषण कहलाता है। इसका पर्यावरण तथा शहरों पर पड़ने वाला प्रभाव निम्नलिखित है-

पर्यावरण पर प्रभाव-

  1. इस प्रदूषण के कारण वनस्पति की काफी कमी होती है।
  2. इस प्रदूषण के कारण पारिस्थितिक तंत्र भी नष्ट होता है।
  3. मिट्टी के आवश्यक जैविक-अजैविक बैक्टीरिया की कमी भी आ जाती है।

शहरों पर प्रभाव –

  1. सीवरेज कूड़े तथा मिट्टी के साथ भर जाता है।
  2. सीवरेज का प्रवाह थम जाता है।
  3. कूड़े के ढेर लग जाते हैं जिस कारण बदबूदार तथा ज़हरीली गैसें मिट्टी में मिलने लगती हैं।

प्रश्न 9. सिंध जल संधि का भारत के लिए होने वाले महत्त्व का वर्णन करो।
उत्तर-सिंध जल संधि 9 सितंबर, 1960 तक भारत के प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू तथा पाकिस्तान के राष्ट्रपति अयूब खान के बीच हुई थी।

  • सिंध जल संधि के कारण पिछले 58 सालों में भारत शांतिपूर्ण तरीके से सिंध नदियों का पानी प्रयोग कर रहा है।
  • इस संधि के प्रबंध अनुसार सिंध तथा इसकी सहायक नदियों का जल भारत तथा पाकिस्तान दोनों देशों के द्वारा प्रयोग किया जा रहा है, जबकि संधि के अनुसार व्यास, रावी तथा सतलुज भारतीय सरकार तथा सिंध, चिनाब तथा जेहलम के जल का अधिकार पाकिस्तान की सरकार के पास है।
  • इस संधि के अनुसार जहां सिंध नदी भारत में दाखिल होती है। भारत इसका 20 प्रतिशत पानी प्रयोग कर सकता है। यह जल सिंचाई, यातायात इत्यादि के लिए प्रयोग किया जाता है।
  • इस संधि के द्वारा मध्यम वाला रचनातन्त्र मिलता है जो बीच के झगड़ों का निपटारा भी करता है। इस तरह जैसे सिंध नदी तिब्बत (चीन) में शुरू होती है जिसने इस संधि को संभाला हुआ है। यदि चीन इसके जल को रोक ले तो यह भारत तथा पाकिस्तान दोनों देशों पर प्रभाव डालेगा।

प्रश्न 10. गंगा नदी के जल प्रदूषकों तथा प्रदूषण के प्रकार के बारे में बताओ।
उत्तर-गंगा नदी के मुख्य पानी प्रदूषकों हैं-

  1. कानपुर के नीचे का भाग।
  2. वाराणसी के नीचे।
  3. फरक्का बैरज़ से इलाहाबाद तक।

प्रदूषण के प्रकार-

  1. कानपुर जैसे नगरों में औद्योगिक प्रदूषण फैल रहा है।
  2. घरेलू अपशिष्ट पदार्थों के फैलाव के कारण जो मुख्य रूप में शहरी क्षेत्रों से अधिक आता है।
  3. पशु लाशों या मृत शरीरों को पानी में फेंकना जिस कारण गंगा नदी के जल में प्रदूषण की समस्या बढ़ती जा रही है।
  4. फैक्ट्री तथा उद्योगों इत्यादि का गंदा जल नदी में जा रहा है, जिस कारण नदी का पानी गंदा हो रहा है।

प्रश्न 11. वायु में मौजूद धूल के कण SPM पर नोट लिखो।
उत्तर-वायु में मौजूद धूल के कण (Suspended Particulate Matter) बहुत बारीक से लेकर बड़े-बड़े आकार के हो सकते हैं; ऐसे कण हमें खासकर उद्योगों से, खनन की प्रक्रिया से, सूती वस्त्र उद्योग से, खनिज तेल के ईंधन के साथ पैदा होते हैं। इनका आकार 2.5 माइक्रोमीटर से लेकर 10 मिलीमीटर तक हो सकता है। ठंडे तथा नमी वाले हालातों में संघनन की क्रिया में न्यूक्लियस का काम भी यह कण करते हैं तथा कुहरा घना दिखाई देता है। विशेष तौर पर SPM दो प्रकार के होते हैं। एक तो काफी बारीक कण जो 2.5 माइक्रोमीटर तक होते हैं तथा यह सबसे अधिक हानिकारक होते हैं तथा दूसरे मोटे कण जो 10 माइक्रोमीटर तक हैं। ये कण फेफड़ों तक पहुँच कर मनुष्य की मौत का कारण भी बन सकते हैं।

प्रश्न 12. भारत को सबसे अधिक गौरवान्वित पेश करते पक्ष बताओ।
उत्तर-भारत को सबसे अधिक गौरवान्वित पेश करते पक्ष हैं-

  • देश का 90% तक का हिस्सा 85°C से 52°C तापमान के बीच के औसत क्षेत्र में पड़ता है तथा देश में हर समय पौधों के उगने के हालात होते हैं जिसके कारण किसान फसलों की पैदावार सहज रूप में कर सकता है।
  • भारत में 19.1 प्रतिशत पशुधन हैं जिसके कारण भारत दूध का बड़ा उत्पादक है।
  • बड़ी संख्या में आर्थिक मध्य वर्ग भारत में प्रवास कर रहा है जो कि अपने जीवन का स्तर सुधारने के लिए खुल कर खर्चा करने तथा संसार के उत्पादकों को खरीदने की ताकत रखता है।
  • भारत में उत्पादन लागतें भी कम हैं।
  • भारत हर साल 25 करोड़ 70 लाख टन अनाज पैदा करता है।

निबंधात्मक प्रश्न (Essay Type Questions)

प्रश्न 1. भूमि प्रदूषण क्या है ? भूमि प्रदूषण के स्रोत, कारण, प्रभाव तथा रोकने के सुझाव बताओ।
अथवा भूमि (मिट्टी) प्रदूषण पर नोट लिखो।
उत्तर-भूमि (मिट्टी) प्रदूषण (Soil Pollution)-कंकरीट, इमारतों तथा सड़कों इत्यादि के उभार के कारण, एक धरती का हिस्सा जो पहले मिट्टी के साथ ढकी हुई थी। इसके अलग-अलग नाम हैं जैसे कि मिट्टी, गीली मिट्टी, कीचड़, भूमि इत्यादि तथा यह सारे हमारे लिए बहुत आवश्यक हैं जो पौधे हमें भोजन प्रदान करते हैं, मिट्टी में ही पैदा होते हैं तथा हमें स्वस्थ (तंदरुस्त) बनाते हैं। पर बाकी प्राकृतिक स्रोतों की तरह धरती का मिट्टी स्रोत भी गंदा हो रहा है। मिट्टी प्रदूषण का मुख्य कारण मनुष्य द्वारा फैलाई गंदगी है। जब मिट्टी में जहरीले पदार्थों के जमाव होने के कारण मिट्टी में मौजूद जैविक तथा अजैविक पदार्थों की पतली परत नष्ट होनी शुरू हो जाती है जिस कारण मिट्टी की उपजाऊ शक्ति कम होनी शुरू हो जाती है। इसको भूमि (मिट्टी) प्रदूषण कहते हैं।

स्रोत (Sources)-मिट्टी को प्रदूषित करने वाले जहरीले पदार्थ हैं-पारा, तेज़ाब, सीसा, तांबा, जिंक, कैडमियम, खार, साइनाइड, करोमेट, कीटनाशक, रासायनिक खादें तथा रेडियोधर्मी पदार्थ, फैक्ट्रियाँ तथा उद्योगों में से निकला फालतू पदार्थ।

मिट्टी प्रदूषण के मुख्य कारण (Main Causes of Soil Pollution)-

  • औद्योगिक क्रियाओं का योगदान (Role of Industrial Activities)-यह पिछली सदी से काफ़ी अधिक बढ़ गया है। खासकर जब से निर्माण उद्योग तथा खनन की गतिविधियाँ बढ़ गई हैं। अधिकतर उद्योगों के लिए कच्चा माल खानों से धरती की खुदाई करके निकाला जाता है। इस प्रकार औद्योगिक विकास के कारण धरती पर मिट्टी प्रदूषित हो रही है।
  • कृषि क्रियाएं (Agricultural Activities) रासायनिक खादों, कीटनाशकों इत्यादि का प्रयोग फसल की पैदावार को बढ़ाने के लिए किया जाता है। इस प्रकार कई रसायनों का मेल होता है जो कि प्राकृतिक तौर पर नष्ट नहीं किए जा सकते। इस प्रकार यह रसायन धीरे-धीरे मिट्टी की उपजाऊ शक्ति को कम करते हैं। कई रसायन मिट्टी की बनावट को भी खराब करते हैं।
  • कूड़ा-कर्कट का निष्कासन (Disposal of Garbage/Wastage) अधिकतर हम कई बार अपने घर के कूड़े-कर्कट का निष्कासन करते हैं। औद्योगिक फालतू पदार्थों के अतिरिक्त मनुष्य अपने गंदे सामान का निष्कासन करता है जिस कारण कई बार सीवरेज़ के पानी के साथ मिलने के कारण गंदगी फैलती है।
  • तेल का छलकाव (Oil Spill)-कई बार पाइप द्वारा जब तेल को एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुँचाया जाता है। तब उस समय कई बार तेल लीक हो जाता है जिस कारण यह तेल मिट्टी में मिल जाता है तथा मिट्टी प्रदूषित हो जाती है।
  • तेजाबी वर्षा (Acid Rain)-एसिड तेजाबी वर्षा तब होती है जब प्रदूषिक मौजूद वायु में मिल जाते हैं तथा वर्षा के साथ धरती पर गिरते हैं तथा यह गंदा पानी मिट्टी के साथ मिल कर मिट्टी को भी गंदा कर देते हैं।
  • बड़ी मात्रा में शहरों तथा गाँवों में लगे कूड़े के ढेर भी प्रदूषण का कारण बनते हैं।
  • शहरीकरण के कारण भी मिट्टी प्रदूषण में लगातार वृद्धि हो रही है।
  • जंगलों की हो रही अंधा-धुंध कटाई भी मिट्टी प्रदूषण का एक बड़ा कारण सिद्ध हो रही है।
  • गहन कृषि भी प्रदूषण की समस्या को बढ़ा रही है।
  • सड़कों का मलबा इत्यादि।

मिट्टी प्रदूषण के प्रभाव (Effects of Soil Pollution)-

1. मानव के स्वास्थ्य पर प्रभाव (Effect on Human Health)—पहले इस पक्ष पर ध्यान देना चाहिए कि मिट्टी एक कारण है जो हमारी ज़िन्दगी को संभाल रही है। इसमें प्रदूषण की मात्रा की वृद्धि का मनुष्य के स्वास्थ्य पर गहरा प्रभाव पड़ता है। पौधे तथा फसलें जो इस प्रदूषित मिट्टी में उग रहे हैं अपने अंदर ये प्रदूषिक तत्त्व समा लेते हैं जो हमारे तक पहुंच जाते हैं। इस प्रकार मनुष्य को कैंसर जैसी बीमारियां हो जाती हैं। इसके बिना जैव ईजाफा (Eutrophication) हो जाता है। पृथ्वी पर पड़े बड़े कूड़े के ढेरों से जहरीली गैसें मिट्टी में मिल जाती हैं जो मनुष्य की प्रजनन शक्ति को कम कर देती हैं। कैंसर या मन मितलाने जैसे खतरनाक रोग मनुष्य को लग जाते हैं। इसके बिना भोजन पर होने वाले इसके प्रभाव के कारण मनुष्य अंदर जैसे भोजन के खाने के बाद फूड प्वाइजनिंग जैसी बीमारियां हो जाने की संभावना बढ़ जाती हैं।

2. पेड़-पौधों पर प्रभाव (Effect on Growth of Plants)-पर्यावरण व्यवस्था पर प्रभाव पड़ता है जब मिट्टी
लगातार प्रदूषित होती जाती है। जब कम समय में ही मिट्टी तेजी के साथ बदलती है तब पौधों तथा मिट्टी की रसायन प्रक्रिया पूरी तरह बदल जाती है। फंगी तथा बैक्टीरिया की मिट्टी में मात्रा कम होनी शुरू हो जाती है जिस कारण मिट्टी प्रदूषित होने लगती है। धीरे-धीरे मिट्टी की उपजाऊ शक्ति कम हो जाती है। मिट्टी में नाइट्रोजन स्थिरता भी कम हो जाती है। मिट्टी अपरदन अधिक है, जिस कारण पेड़-पौधों तथा फसलों के उत्पादन में कमी आ जाती है।

3. जहरीली धूल (Toxic Dust)-कूड़ा-कर्कट में कई तरह की जहरीली गैसें निकलती हैं जो पर्यावरण को गंदा करती हैं तथा मनुष्य के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव डालती हैं। इस धूल की बदबू मनुष्य को कठिनाइयों में डाल देती है।

4. पर्यावरण पर प्रभाव (Effects on Environment)-इस द्वारा वनस्पति कम हो जाती है तथा पारिस्थितिक तंत्र भी तहस-नहस होता है।

5. शहरों का प्रभाव (Effects m Cities)-नालियां कूड़ा इत्यादि तथा मिट्टी से भर जाती हैं तथा पानी के सीवरेज प्रवाह में मुश्किलें पैदा हो जाती हैं।

मिट्टी प्रदूषण को रोकने के लिए सुझाव (Control Measures for Soil Pollution)-

  • मिट्टी प्रदूषण को रोकने के लिए हमें फालतू सामान तथा प्लास्टिक का प्रयोग कम करना चाहिए तथा उपयोग किए गए फालतू सामान को इकट्ठा करके कबाड़ी तक पहुंचाना चाहिए ताकि इसको दोबारा प्रयोग योग्य बनाया जा सके।
  • रासायनिक खादों पैस्टीसाइड, फर्टीलाइजर इत्यादि का प्रयोग कृषक गतिविधियों को कम करना चाहिए।
  • लोगों को चार R से परिचित करवाना चाहिए। यह चार R हैं Refuse मतलब कि पॉलिथीन लिफाफे इत्यादि लेने से मना कर देना, Reuse द्वारा प्रयोग, Recycle द्वारा उत्पादन तथा Reduce कम करना इत्यादि।
  • पैकट चीजें खरीदने से परहेज़ करो बाद में यह पैकट ही कूड़े के ढेर बन जाते हैं, धरती पर कूड़े के ढेर लगाने नहीं चाहिए।
  • ध्यान रखो कि फालतू गंदगी या कूड़ा-कर्कट न फैलाओ।
  • हमेशा स्वाभाविक तरीके से सड़नशील पदार्थ खरीदो।
  • हमेशा जैविक कृषि करो तथा जैव भोजन खाओ तथा रासायनिक दवाइयों का प्रयोग कम करो।
  • हमें ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाने चाहिए।
  • कूड़े के पड़े ढेरों पर बिजली बनाने का काम लिया जाना चाहिए।
  • निर्माण के कामों पर सामान की बर्बादी को कम करना चाहिए।

प्रश्न 2. जल प्रदूषण क्या है ? इसके कारण, प्रभाव तथा सुझाव के बारे चर्चा करो।
अथवा जल प्रदूषण पर नोट लिखो।
उत्तर-जल प्रदूषण (Water Pollution)-जल प्रदूषण की समस्या विश्वव्यापी समस्या है। जल के स्रोतों (नदियों, झरने, समुद्र तथा नीचे वाले पानी) इत्यादि के प्रदूषण को जल प्रदूषण कहते हैं। यह पर्यावरण में औद्योगिक प्रदूषकों के द्वारा होता है जो सीधे या असीधे तौर पर पानी में विसर्जित होते हैं। बिना किसी शोधन से जब कई कारखानों का या घरों का गंदगी पानी में घुल जाता है तब वह पानी को प्रदूषित बनाता है।

जल प्रदूषण के स्त्रोत (Sources of Water Pollution)-जल प्रदूषण के मुख्य स्रोत हैं : –

1. बिन्दु स्रोत (Point Resources)—जो प्रदूषिक पानी में किसी एक खास स्रोत से आ रहे हो जैसे कि सीवरेज पाइपों या कारखानों में पाइपों के द्वारा गंदे पदार्थ का बहाव जब नदियों, झीलों तथा अन्य साफ जल के स्रोतों के साथ मिल जाता है तब जल प्रदूषित हो जाता है।

2. गैर-बिन्दु स्रोत (Non-Point Sources) गैर-बिन्दु स्रोत बिखरे हुए बेकार पदार्थों के कारण पैदा होते हैं।
यह किसी एक खास स्रोत से नहीं आते। इनके मुख्य स्रोत हैं-कृषि वाले क्षेत्र, जंगल, गाँव तथा शहर, सड़कों पर बहने वाला जल जब साफ जल से मिल जाता है। इस प्रकार पानी दूषित हो जाता है। गैर-बिन्दु स्रोतों के कारण जो प्रदूषण फैलता है। इसको कंट्रोल करना काफ़ी मुश्किल है।

जल प्रदूषण के कारण तथा प्रभाव (Causes and Effects of Water Pollution)-

  • प्राकृतिक कारण (Natural Causes) वर्षा के जल में वायु में गैसें तथा धूल कण इत्यादि मिल जाने के कारण यह जल जहाँ पर भी जमा होता है वहां जल को प्रदूषित कर देता है। इसके अतिरिक्त ज्वालामुखी इत्यादि भी इसके महत्त्वपूर्ण कारण हैं।
  • रोग लगाने वाले कीटाणु (Pathogens)—यह प्रदूषण कई रोगों का जनक भी है। इस कारण बैक्टीरिया, जीवाणु, परजीवी, वाइरस इत्यादि होते हैं। यह मुख्य रूप में जल के एक स्थान इकट्ठे रहने के कारण आते हैं। इसके अतिरिक्त यह सड़े-गले पदार्थों में भी पैदा होते हैं।
  • दूषित पदार्थ (Polluted Substances)-इसमें कार्बनिक तथा अकार्बनिक हर प्रकार के पदार्थ जो नदियों में नहीं होने चाहिए, इस श्रेणी में आते हैं। वस्त्रों की धुलाई या बर्तनों को साफ करना, मनुष्य या जानवरों का साबुन का प्रयोग करना। इसके साथ साबुन पानी में मिल जाता है। खाद्य पदार्थ इत्यादि अन्य पदार्थों के जल में मिलने से भी जल प्रदूषित हो जाता है। पेट्रोल इत्यादि पदार्थों के रिसाव से समुद्री जल प्रदूषित हो जाता है। पेट्रोल का आयात-निर्यात समुद्रों द्वारा किया जाता है। इन जहाज़ों में कई बार रिसाव होने के कारण जहाज़ किसी दुर्घटना के शिकार हो जाते हैं। उसके डूबने से तेल समुद्र में फैल जाता है तथा जल प्रदूषित हो जाता है।
  • अजीवी मिश्रण (Toxic Substances)-कई प्रकार के तेज़ाब, ज़हरीले नमक, धातु इत्यादि भी पानी को प्रदूषित बनाते हैं तथा जल को अयोग्य बना देते हैं।
  • कई स्थानों पर जहां लोग नदी के किनारे जाकर रहने लगे हैं। वे लोग किसी व्यक्ति की मौत के बाद उनकी लाशों को जलाने की बजाए नदी में बहा देते हैं। जैसे-जैसे लाश सड़कर गलने लगती है वैसे ही जल में कीटाणुओं की संख्या बढ़ने लगती है जिसके साथ पानी प्रदूषित होता है।
  • अक्सर किसी त्योहार पर मूर्तियों की पूजा करके मूर्तियों का विसर्जन समुद्र, नदी या फिर तालाबों में किया जाता है। यह भी जल को प्रदूषित करती है। हमें चाहिए कि त्योहार समय ऐसी मूर्तियों का प्रयोग करना चाहिए जिसमें प्राकृतिक रंगों का प्रयोग किया गया हो ताकि प्रदूषण कम हो।
  • जब नदी या तालाब के जल में Nuclear Test किया जाता है तब वह टैस्ट के दौरान जल में न्यूक्लियर के कुछ पार्टीकल रह जाते हैं जिससे जल दूषित हो जाता है।
  • किसानों द्वारा कृषि में प्रयोग किए गए रसायन भी जल में मिल जाते हैं जिसके साथ ही जल प्रदूषित हो जाता है।

जल प्रदूषण को रोकने का सुझाव (Measures to Control Water Pollution) हम सभी जानते हैं कि जल ही जीवन है तथा यदि इस जल प्रदूषण को समय रहते ठीक न किया गया तब वह दिन दूर नहीं जब एक देश दूसरे देश के साथ जल की प्राप्ति के लिए लड़ेगा। इस प्रदूषण को रोकने के कुछ सुझाव हैं-

  • तालाब या नदी में कपड़े या बर्तन न धोएं जाएं। अक्सर देखा गया है कि धोबी या आस-पास रहने वाले लोग कपड़े तथा बर्तन तालाब में धोते हैं। इस प्रकार जल में रहने वाले जीव-जन्तु तथा जल को हानि पहुँचती है इसलिए इसको बंद किया जाना चाहिए।
  • जानवरों को तालाबों में न नहाने दिया जाए क्योंकि तालाब का जल स्थिर रहता है तथा जानवरों के नहाने के साथ जल धीरे-धीरे गंदा हो जाता है तथा बाद में किसी भी चीज़ के लिए उपयोगी नहीं रहता।
  • राइप्रेयन बफ़र नदी के साथ-साथ उगने वाले वृक्षों तथा पेड़-पौधों की कतारें होती हैं, जो कि आस-पास के क्षेत्रों के नहर इत्यादि के जल की रक्षा करती हैं तथा जैव भिन्नता में वृद्धि भी करती हैं। आम लोगों तथा सरकारों को इस बफ़र में वृद्धि करनी चाहिए तथा वृक्षों को काटने पर रोक लगानी चाहिए।
  • हमें जल प्रदूषण को रोकने के लिए बनाए गए सारे कानूनों का पालन करना चाहिए। भारत के लगभग सारे राज्यों में 1947 में कानून बना था। यह कानून इस बात को आवश्यक करता है कि सारे परिषद् के उद्योग प्रयोग किए गए गंदे पानी को नदियों इत्यादि में फेंकने से पहले उसको साफ करें तथा फिर नदी में छोड़ें।
  • उद्योगों तथा औद्योगिक संसाधनों को अधिक ज़िम्मेदारी के साथ व्यवहार करना चाहिए।
  • जहरीले कचरे का उचित निपटारा करना चाहिए। जिन फैक्ट्रियों में पेंट, साफ सफाई तथा दाग मिटाने वाले रसायनों का प्रयोग किया जाता है जहां से निकलने वाले पानी की उचित सफाई शौध होनी आवश्यक है। कार या अन्य मशीनों से होने वाले तेल के रिसाव पर भी पूरी तरह से रोक लगनी आवश्यक है।
  • जल में उपजने वाले पौधे जो पानी को साफ रखते हैं। हमें अधिक-से-अधिक ऐसे पौधे लगाने चाहिए।
  • मृतक शरीरों को नदियों में नहीं फेंकना चाहिए। हर शहर तथा कस्बे में सीवरेज की पूरी सुविधा होनी चाहिए।
  • हमें मल-मूत्र तथा सीवरेज के जल को शहरों तथा कस्बों में रहने वाले जल से मिलने से रोकना चाहिए। उनको खड्डों में प्रवाहित करना चाहिए। ऐसा करने के साथ वह खाद में बदल जाएंगे तथा कृषि के लिए इस्तेमाल किए जा सकेंगे।
  • जल में बैक्टीरिया को खत्म करने के लिए इसमें ब्लीचिंग पाऊडर या अन्य रसायनों का प्रयोग किया जा सकता है।
  • अंधाधुंध कीटनाशकों के प्रयोग को कम करना चाहिए।
  • प्राकृतिक कृषि करने के लिए किसानों को उत्साहित करना चाहिए तथा पशुओं के गोबर का प्रयोग खाद के तौर पर किया जाना चाहिए।
  • समुद्र इत्यादि जल स्रोतों के जल में मिले हुए तेल को साफ करने के लिए कागज़ उद्योग के एक बचे हुए उत्पाद – बीगोली का प्रयोग किया जा सकता है।

प्रश्न 3. वायु प्रदूषण पर नोट लिखो।
उत्तर-वायु प्रदूषण (Air Pollution)-वायुमंडल पर्यावरण का एक महत्त्वपूर्ण हिस्सा है। मानव जीवन के लिए वायु का होना बहुत आवश्यक है। वायु के बिना मानवीय जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती क्योंकि मानव वायु के बिना 5-6 मिनट से अधिक नहीं रह सकता। एक मनुष्य दिनभर में औसतन 20 हजार बार सांस लेते हैं। इसके दौरान मानवं 35 पौंड वायु का प्रयोग करता है। अगर यह प्राण देने वाली वायु शुद्ध नहीं होगी तो यह प्राण देने के बजाए प्राण ले लेगी। वायुमंडल में नाइट्रोजन, ऑक्सीजन, कार्बन-डाइऑक्साइड, कार्बन मोनोआक्साइड इत्यादि गैसें एक निश्चित अनुपात में होती हैं जब इनके संतुलन में परिवर्तन आता है तब वायुमंडल अशुद्ध हो जाता है। वायु में जब ज़हरीले तथा अनचाहे पदार्थ घुलकर वायु को दूषित कर देते हैं तब वह हवा मनुष्य स्वास्थ्य तथा पर्यावरण पर बुरा प्रभाव डालती है।

वायु प्रदूषण के स्रोत (Sources of Air Pollution)-

1. प्राकृतिक स्रोत (Natural Sources) ज्वालामुखी विस्फोट के कारण निकली गैसों तथा साथ उड़ रही धूल, रेत, जंगलों को लगी आग इत्यादि।

2. मानव द्वारा पैदा किये स्रोत (Man Made Sources)-औद्योगिक क्रियाओं द्वारा निकलने वाले धुएं, मनुष्य द्वारा लगाए गए कूड़े के ढेर, खाना इत्यादि बनाने के लिए लगाई आग, वाहनों के प्रयोग से निकला धुआं इत्यादि। हमारी 85% वायु को कार्बन के ऑक्साइड, नाइट्रोजन के ऑक्साइड, सल्फर के ऑक्साइड, वायु में मौजूद धूल कण, कार्बन के यौगिक, इत्यादि दूषित कर रहे हैं।

हवा प्रदूषण के कारण (Causes of Air Pollution)—विश्व की बढ़ती जनसंख्या ने प्राकृतिक साधनों का अधिक प्रयोग किया है। औद्योगीकरण के कारण बड़े-बड़े बंजर बनते जा रहे हैं। इन शहरों तथा नगरों में जनसंख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। इसके साथ शहरों, नगरों में रहने के लिए स्थान की समस्या आ रही है। इस समस्या को सुलझाने के लिए लोगों ने बस्तियों का निर्माण किया तथा वहाँ जलनिकासी नालियां इत्यादि का अच्छी बंदोबस्त न होने के कारण गंदी बस्ती में वायु प्रदूषण बढ़ रहा है। उद्योगों में से निकलने वाला धुआं, किसानों द्वारा रसायनों का प्रयोग से वायु के प्रदूषण में वृद्धि हो रही है।

उद्योगों में जीवाश्म ईंधन (Use of Fossil Fuels in Industries) अधिकतर वायु प्रदूषक औद्योगिक क्रियाओं कारण पैदा होते हैं। इनसे कुछ उद्योगों में जीवाश्म ईंधन की प्रक्रिया के कारण ओज़ोन तथा नाइट्रोजन ऑक्साइड इत्यादि गैसें निकलती हैं जो वायु को दूषित करती हैं।

घरों को गर्म रखने के लिए कई प्रकार के ईंधन (Fossil Fuels) का प्रयोग जैसे तेल, गैस, कोयला इत्यादि किया जाता है। इनके ईंधन का अर्थ है कि महत्त्वपूर्ण प्रदूषक सल्फर डाइऑक्साइड का पैदा होना। यदि घरों को गर्मी देने के लिए बिजली का प्रयोग किया जाता है तो जो बिजली पैदा करने वाले प्लांट हैं उनको चलाने के लिए भी इन जीवाश्म ईंधनों का ही प्रयोग किया जाता है जिसके साथ वायु प्रदूषित हो जाती है।

ज्वालामुखी इत्यादि के फटने के साथ वायु में कई जहरीली गैसें मिल जाती हैं। सल्फर डाइऑक्साइड इनमें ही एक गैस है जो ज्वालामुखी के फटने से निकलती है। इसके अतिरिक्त जंगलों को लगी आग के कारण कई प्रदूषक वायु में मिल जाते हैं जिसके साथ वायु दूषित हो जाती है।

वायु प्रदूषण के प्रभाव (Effects of Air Pollution)-

  • जब वायुमंडल में लगातार कार्बन-डाइऑक्साइड, कार्बन मोनोऑक्साइड, नाइट्रोजन ऑक्साइड, हाइड्रोकार्बन इत्यादि मिलते रहते हैं तब स्वाभाविक ही है कि ऐसे प्रदूषित पर्यावरण में साँस लेने के साथ साँस से संबंधित बिमारियां होने लगती हैं। इसके साथ ही घुटने, सिरदर्द, आँखों का दर्द, आँखों में जलने इत्यादि बिमारियों का सामना मनुष्य को करना पड़ता है।
  • वाहनों तथा कारखानों से निकलते धुएं में सल्फर डाइऑक्साइड की मात्रा होती है जो कि पहले सल्फाइड तथा बाद में सल्फ्यूरिक अम्ल में बदल जाती है तथा फिर वायु में बूंदों के रूप में रहती है। वर्षा के दिनों में यह वर्षा के जल के साथ धरती पर गिरती है जिसके साथ भूमि की उत्पादन शक्ति कम हो जाती है साथ ही सल्फर डाइऑक्साइड के कारण दमा इत्यादि रोग हो जाते हैं।
  • कुछ रासायनिक गैसें वायुमंडल में पहुंच कर वायु में ओज़ोन मंडल के साथ क्रिया करके उसकी मात्रा को कम कर देती है। ओजोन मंडल ब्रह्मांड से आने वाले हानिकारक विकिरणों को रोकती है। हमारे लिए ओज़ोन मंडल एक ढाल का काम करती है। पर जब ओज़ोन मंडल की कमी होगी तब स्किन कैंसर जैसे भयानक रोग भी हो सकते हैं।
  • वायु प्रदूषण का असर भवनों, स्मारकों इत्यादि पर भी होता है जैसे कि ताजमहल को खतरा मथुरा तेल शोधन कारखाने से हुआ है।
  • वायुमंडल में ऑक्सीजन का स्तर कम होना भी प्राणियों के लिए खतरनाक है क्योंकि ऑक्सीजन भी प्राणियों के लिए आवश्यक है।
  • उद्योगों, खनन, पॉलिश, सूती वस्त्र उद्योग इत्यादि से निकलने वाले धूलकण भी वायु का प्रदूषण फैलाते हैं।

वायु प्रदूषण को रोकने के सुझाव (Measures to Control Air Pollution)-

  • कारखानों को शहरी क्षेत्रों से दूर स्थापित करना चाहिए। साथ ही ऐसी तकनीक का प्रयोग करना चाहिए जिसके साथ धुएं का अधिकतर भाग बाहर न निकले तथा फालतू पदार्थ तथा अधिक गैसों की मात्रा वायु में न मिल सके।
  • जनसंख्या शिक्षा के उचित प्रबंध भी किए जाने चाहिए ताकि जनसंख्या की वृद्धि को रोका जा सके।
  • शहरीकरण की प्रक्रिया को रोकने के लिए गाँव तथा कस्बों में रोज़गार के अच्छे उद्योगों तथा अन्य सुविधाओं की उपलब्धि करवानी चाहिए।
  • वाहनों में से निकलते धुएं को इस तरह समायोजित करना चाहिए कि कम से कम धुआं बाहर निकले।
  • सौर ऊर्जा की तकनीक को प्रोत्साहित करना चाहिए।
  • इस प्रकार के ईंधन का प्रयोग करने का सुझाव देना चाहिए जिसके प्रयोग करने के साथ उसका पूरा ऑक्सीकरण हो जाए तथा धुआं कम से कम निकले।
  • जंगलों की हो रही अंधा-धुंध कटाई को रोका जाना चाहिए। इस काम के लिए सरकार के साथ-साथ स्वयं सेवी संस्थाओं तथा हर एक मानव को आगे आना चाहिए तथा जंगलों की कटाई को रोकना चाहिए।
  • शहरों तथा नगरों में फालतू पदार्थों के निकास के लिए सीवरेज हर स्थान पर होने चाहिए।
  • बच्चों के पाठ्यक्रम में इस विषय प्रति चेतना जागृति करनी बहत आवश्यक है इसकी जानकारी इस कारण होने वाली हानियों के प्रति मानव समाज को सचेत करने के लिए दूरदर्शन, रेडियो, अखबारों इत्यादि के माध्यम द्वारा देनी चाहिए।
  • ताप या उत्प्रेरक ईंधन के साथ प्रदूषित कणों को रोकना चाहिए ताकि उनका नुकसान कम हो।

प्रश्न 4. सिआचिन का शाब्दिकार्थ क्या है ? इसका महत्त्व तथा भारत के पक्ष के बारे में वर्णन करो।
उत्तर-बलोचिस्तान के पास पड़ते क्षेत्र में बलती भाषा में ‘सिआ’ का अर्थ है कि एक प्रकार का जंगली गुलाब तथा ‘चिन’ का अर्थ है ‘बहुतांत’। इस तरह सिआचिन का अर्थ है बड़ी मात्रा में ‘गुलाब के फूल’। सिआचिन ग्लेशियर हिमालय की पूर्वी कराकोरम पर्वतमाला में भारत-पाक नियंत्रण रेखा के पास लगभग स्थिति एक (हिमानी) ग्लेशियर है। यह कराकोरम के पांच ग्लेशियरों में सबसे बड़ा ग्लेशियर है। इसकी समुद्र तल से ऊंचाई इसके स्रोत इंदिरा कोल पर लगभग 5,753 मीटर है तथा सिआचिन ग्लेशियर पर 1984 से भारत का नियंत्रण है तथा भारत जहाँ अपने जम्मू तथा कश्मीर राज्य के लद्दाख खंड के लेह जिले के अधीन प्रशासन करता है। पाकिस्तान ने इस क्षेत्र पर भारत के नियंत्रण का अंत करने के लिए असफल यत्न किए हैं पर वर्तमान में भी सिआचिन विवाद जारी रहा है। भारत तथा पाकिस्तान दोनों ही जहाँ अपने अधिकार का दावा करते हैं। सिआचिन ग्लेशियर का इलाका असल में भारत की दो विवादग्रस्त सीमाओं लाइन ऑफ कंट्रोल (LOC) तथा लाइन ऑफ ऐक्चूअल कंट्रोल (LOAC) की भूमि है।

सिआचिन ग्लेशियर की महत्ता (Importance of Siachan Glacier)-

  • यह ग्लेशियर प्रसिद्ध नूबरा तथा सिंध नदियों को जल प्रदान करने वाला एक बड़ा स्रोत है।
  • सिआचिन ग्लेशियर एक ऐसा स्रोत है जिससे भारतीय उपमहाद्वीप को ताजा जल मिलता है। यह वह स्थान है · जहां नूबर नदी निकलनी शुरू होती है तथा सिंध नदी जो पंजाब के कई क्षेत्रों को कृषि की सिंचाई के लिए जल प्रदान करती है या यहाँ जल लेती है।
  • सिआचिन ग्लेशियर का धुर उत्तरी इंदिरा कोल का क्षेत्र पाकिस्तान की तरफ से गैर-कानूनी ढंग से चीन को दिए गिलगिट-वालिस्तान का क्षेत्र की सरगर्म घाटी पर नज़र रखने के लिए अच्छा स्थान है।
  • चीन की दिलचस्पी भी सिआचिन को हासिल करने की है, क्योंकि चीन पाकिस्तान गठजोड़ में अच्छी भूमिका अदा कर सकता है।
  • यह ग्लेशियर पाकिस्तानी सैनिकों को भी सैल्टरी कंधों की ऊंचाई वाले पश्चिमी हिस्से का रणनीतिक लाभ भी देता है तथा साथ ही लद्दाख की सीओंक घाटी में घुसपैठ को रोकता है।
  • सिआचिन पर कब्जा होने की कोई अवस्था अक्साइचिन तथा अरुणाचल प्रदेश के मुद्दों पर भी प्रभाव डाल सकता है।
  • सिआचिन पर अधिकार होने का मुख्य आधार जम्मू तथा कश्मीर के लद्दाख क्षेत्र के ज़िले पर भारतीय क्षेत्र कारण है।
  • सन् 1949 में हुआ कराची का समझौता (भारत + पाक) जिसके अनुसार ‘गोलाबन्दी रेखा’ को आगे भाव ग्लेशियरों के उत्तर में NJ9842 प्वाईंट।
  • 1972 में हुए शिमला समझौते में 1949 की कंट्रोल रेखा के संबंध पर कोई बदलाव नहीं किया गया।

भारत का पक्ष (India’s Concern)-सिआचिन ग्लेशियर भारत का क्षेत्र है इसमें कोई शक नहीं है। इस क्षेत्र की सीमाबंदी की जानी अभी बाकी है। इस ग्लेशियर पर कब्जे के लिए सैनिकों की जिंदगी तथा अन्य स्रोतों के नुकसान हमेशा सवाल खड़ा करते रहे हैं पर ऐसी कठिनाइयों के बाद भी भारत सरकार तथा भारतीय फौज के फैसलों तथा ज़ज्बे
की अन्य कोई मिसाल ढूंढनी मुश्किल है। सिआचिन के देख-रेख के लिए, इस प्राकृतिक स्रोत के स्थान की सुरक्षा के लिए सैनिकों की तथा पर्वतीय देख-रेख दलों की आवश्यकता तो हमेशा ही रहेगी क्योंकि भारत तथा पाकिस्तान दोनों ही इस क्षेत्र पर अपना अधिकार जमा रहे हैं। 1970, 1980 से लगातार एक लाइन NJ9842 करोकोरम दरों से दिखाई दे रही है जिसके बारे में भारत का विचार था कि यह एक कारटोग्राफिक नुक्स है तथा शिमला समझौते के विरोध का कारण बनी है। 1984 ई० में भारत ने ऑपरेशन मेघदूत चलाया जो कि एक सैनिक ऑपरेशन था जो भारत का सिआचिन ग्लेशियर पर उसको उसका कब्जा दिया है।

1984 से 1999 तक भारत और पाकिस्तान के बीच काफी मुठभेड़ हुए। भारत के सैनिकों की तरफ से सिआचिन ग्लेशियर पर हर समय लगे रहने की सैनिक कारवाई को ऑपरेशन मेघदूत का नाम दिया जाता है। सिआचिन ग्लेशियर पर कब्जे का मामला सियासी भी था तथा राजनीतिक स्तर पर भी हल मांग रहा है पर पिछले कुछ सालों में यह मुद्दा तथा क्षेत्र सिर्फ एक सैनिक कार्रवाई का आधार बन गया है। भारत ने सिआचिन पर अपनी अस्तित्व की प्रारंभिक संरचना पूरी तरह तैयार कर ली है तथा यह दावा करने वाले दोनों पक्षों भाव चीन तथा पाकिस्तान से अधिक अच्छा स्थिति में पहुंच गया है। भारतीय सेना क्षेत्र के प्राकृतिक स्रोतों के साथ किसी भी प्रकार की छेड़खानी करने को छोड़कर उनकी रक्षा कर रही है।

प्रश्न 5. 1960 की सिंध जल संधि पर एक नोट लिखो।
उत्तर-सिंध जल संधि जल के वितरण को लेकर भारत तथा पाकिस्तान के बीच हुई थी। इस संधि पर कराची में 19 सितंबर, 1960 को भारत के प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू तथा पाकिस्तान के राष्ट्रपति अयूब खान ने हस्ताक्षर किए थे। इस समझौते के अनुसार तीन पूर्वी नदियों-व्यास, रावी, तथा सतलुज का नियन्त्रण भारत के पास तथा पश्चिमी नदियों-सिंध, चिनाब तथा जेहलम का नियंत्रण पाकिस्तान को दिया गया। पर इनके बीच विवादग्रस्त प्रावधान था जिसके अनुसार जल का वितरण किस प्रकार किया जाएगा यह अभी निश्चित होना है, क्योंकि पाकिस्तान के नियंत्रण वाली नदियों का प्रवाह पहले भारत से होकर आता है। संधि के अनुसार भारत को उनका उपभोग सिंचाई के लिए तथा बिजली के उत्पादन के लिए किए जाने की मन्जूरी दे दी गई। सिंध जल संधि के बाद सिंध नदियों के जलतंत्र के जल की पूरी तथा विश्वसनीय प्रयोग करने के लिए आपसी नेक नीति तथा दोस्ताना जज्बे के साथ हदबंदी पर विभाजन हो सके। एकदूसरे के हक तथा ज़िम्मेदारी को ध्यान में रखा गया तथा आपसी सहयोग के साथ इन नदियों के जल का प्रयोग किया जा सके।

सिंध नदी सिस्टम में तीन पश्चिमी नदियां सिंध, जेहलम तथा चिनाब तथा तीन पूर्वी नदियां सतलुज, ब्यास तथा रावी शामिल हैं। इस संधि के अनुसार रावी, ब्यास तथा सतलुज पूर्वी नदियां पाकिस्तान के प्रवेश करने से पूर्व इन नदियों का जल बेरोक-टोक भारत को प्रयोग की मन्जूरी मिल गई। भारत ने 1960 से 1970 तक के दशक में तथा 1973 तक नहर प्रबंध को पूरी तरह से निर्माण कर लेने तक पूर्वी नदियों के पानी को छुआ तक भी नहीं था। पूर्वी नदियों का जल पाकिस्तान के क्षेत्र में दाखिल हो जाने के बाद पाकिस्तान को उनके प्रयोग की खुली स्वतन्त्रता का हक मिल गया। धारा-III जो कि पाकिस्तान के पश्चिमी नदियों के बारे में है। इसके अनुसार इनके जल के बेरोक प्रयोग का हक पाकिस्तान को है। पर भारत की ज़िम्मेदारी है कि इन नदियों का सारा जल बहने दिया जाए।

सिर्फ 4 स्थितियों के अतिरिक्त बिना घरेलू प्रयोग के, किसी ऐसे उपयोग के लिए प्रयोग जिससे पानी खत्म न हो, कृषि के लिए, बिजली के उत्पादन के लिए। पाकिस्तान की तरह भारत को आजादी है कि वह पश्चिमी नदियों के जल पर पानी की 3.6 MAF मात्रा तक भंडारण कर सकता है पर ऐसे भंडारण में 0.5 MAF जल हर साल छोड़ कर और इकट्ठा करना होगा। सिंध जल संधि, नदियों के बेसिन के विभाजन के पक्ष से पक्षीय विभाजन का एक नमूना है. जो कि दो देशों के इंजीनियरों तथा इंजीनियरी विभाजन का ही एक दस्तावेज है। संधि वास्तव में नदियों के पानी के दोहरे प्रबंध के लिए होनी चाहिए थी पर आपसी झगड़े विभाजन की कड़वाहट ने दोनों ही पक्षों को एक-दूसरे पर शक करने वाला बना बना दिया था। जिस कारण संधि की शर्तों में अधिकार कम तथा प्रतिबन्ध अधिक लिखे गए थे। जिस कारण जम्मू तथा कश्मीर में इस संधि के खिलाफ निराशा फैल गई क्योंकि इस संधि में लोगों की इच्छाओं को नज़रअंदाज किया गया था। यह संधि लोग विरोधी तथा एक तरफ की संधि थी। जिस पर दुबारा से विचार करना बहुत आवश्यक था।

सन् 1960 के बाद पानी की 159 MAF तक की मात्रा में कमी आ गई थी तथा 17MAF रह गई। जिस कारण जम्मू तथा कश्मीर के लोगों को चिंता हो गई। एक अनुमान के अनुसार सन् 2050 तक सिंध का जलतंत्र तथा भारतीय ‘नदियों के पानी की मात्रा में 17 प्रतिशत तक की कटौती का अनुमान लगाया गया तथा पाकिस्तान में पहुँच रहे जल में 27% तक की कमी के अनुमान लगाये गए। मौसमी परिवर्तन के कारण जैसे कि बर्फ का कम टिकना इत्यादि के कारण राष्ट्रीय स्वामित्व तथा प्रबंध सिंध बेसिन की प्राकृतिक सामूहिक एकता बनाने के लिए तथा प्राकृतिक सामूहिक एकता बनाने के प्रयास किए जाने की मांग बढ़ गई।

दक्षिणी एशिया के क्षेत्रों में रोज़ाना बदल रहे मौसम के नज़रिए के कारण, बाँध तथा सिंचाई योजनाओं निर्माण की ज़रूरत में वृद्धि हो गई पर यह कार्रवाई हर पक्ष से पूर्ण होनी ज़रूरी है। भारत ने जल संधि को पूरी ईमानदारी के साथ निभाया है तथा तीन लड़ाइयां, आतंकवाद तथा अन्य युद्ध तथा ठंडे संबंधों के बाद भी भारत ने इस संधि की शर्तों को भंग नहीं किया। भारत ने अपना आप खोकर भी इस संधि की रक्षा की तथा सारी शर्तों की पालना की, क्योंकि-

  • पाकिस्तान के क्षेत्र में पड़ने वाली पश्चिमी नदियों का जल अधिक है तथा पाकिस्तान का 80 प्रतिशत जल पर अधिकार है तथा इस जल की मात्रा कहीं कम है।
  • 9.7 लाख एकड़ भूमि पर जम्मू तथा कश्मीर के क्षेत्र पर पाबंदी भी लगाई गई कि वह इस भूमि को कृषि के लिए प्रयोग नहीं करेंगे।
  • भारत को इस संधि के द्वारा सिंचाई तथा बिजली उत्पादन के लिए जितना भी जल मिला उसके साथ भारत की जरूरतें कभी पूरी नहीं हुईं।
  • भारत में बनाई गई कोई भी क्षेत्रीय योजना का 1960 की संधि के अनुसार परीक्षण किया जाएगा तथा पश्चिमी नदियों के किनारों के नज़दीक लाई गई हर एक ईंट के बारे में भी प्रसिद्ध पर्यावरण विदों तथा राष्ट्रीय संस्थाओं की सलाह (परामर्श) अनुसार कार्रवाई की गई है।

चुनिन्दा परिप्रेक्ष्य (मुद्दों) तथा भौगोलिक दृष्टिकोण पर एक नज़र Notes:

  • मानवीय जीवन के भौगोलिक दृष्टिकोण से किए अध्ययन को मानव भूगोल कहते हैं। सारे विश्व में मानवीय जीवन एक जैसा नहीं होता।
  • सिआचिन ग्लेशियर 35°5′ अक्षांश से 76°9′ पूर्वी देशांतर पर स्थित है। यहां सर्दियों में 35 फुट के करीब बर्फवारी होती है तथा तापमान 50°C तक पहुँच जाता है। इस ग्लेशियर का ज्यादातर हिस्सा भारत तथा पाकिस्तान के मध्य कंट्रोल रेखा के अंतर्गत आता है।
  • 1972 के शिमला समझौते के अनुसार 1949 में कंट्रोल रेखा से संबंधित समझौते के बारे में कोई परिवर्तन नहीं किया जाता।
  • गुजरात तथा पाकिस्तान के सिंध के प्रांतों में एक दलदली खाड़ी सरकरीक है। 1914 के समझौते के अनुसार सरकरीक का सारा इलाका पाकिस्तान का होना चाहिए। यह सीमान्त दोनों देशों के मध्य एक गंभीर मसला है।
  • पर्यावरण प्रदूषण मुख्य रूप में तीन प्रकार का होता है-भूमि प्रदूषण, जल प्रदूषण तथा वायु प्रदूषण।
  • पृथ्वी पर भौतिक पर्यावरण में जब कुछ ज़हरीले पदार्थ तथा रसायनों की मात्रा बढ़ जाती है तथा ये पदार्थ भूमि, हवा, जल को अयोग्य बना देते हैं तो इसे प्रदूषण कहते हैं।
  • भूमि प्रदूषण का मुख्य कारण, जंगलों की अंधा-धुंध कटाई, कीटनाशकों का अधिक प्रयोग, शहरीकरण इत्यादि। हम 22 अप्रैल को राष्ट्रीय पृथ्वी दिवस मनाते हैं।
  • जल में रसायनों के मिलने के कारण पानी दूषित हो जाता है, इसको जल प्रदूषण कहते हैं।
  • कई तरह के तेज़ाब, ज़हरीले नमक, धातु इत्यादि भी पानी को प्रदूषित करते हैं तथा पानी पीने योग्य नहीं रहता।
  • भारत सरकार ने गंगा नदी को साफ़ रखने के लिए ‘नमामि गंगा’ नामक मिशन का आगाज़ किया है।
  • वायु में जहरीले पदार्थों तथा अनचाहे पदार्थों के मिलने से वायु दूषित हो जाती है। इसके प्रमुख स्रोत हैंरेत, जंगलों को लगी आग, कार्बन के आक्साइड, हवा में धूलकण, धूल, धुआं, ओज़ोन, सल्फ्यूरिक एसिड इत्यादि।
  • पृथ्वी पर विज्ञान मंत्रालय भारत सरकार ने सफर प्रकल्प शुरू किया जो विश्व मौसम विभाग की संस्थाओं भारत के महानगरों का स्तर आंकते हैं।
  • प्राकृतिक तथा मानवीय प्रक्रियाओं के स्थानीय विभाजन की प्रशंसा जिसका उद्देश्य प्राप्तियों का एहसास, सार्थक ढंग से करवाना भौगोलिक सर्वोच्चता कहलाती है।
  • मानव भूगोल-मानवीय जीवन के भौगोलिक दृष्टिकोण से किए जाने वाले अध्ययन को मानवीय भूगोल , कहते हैं।
  • सिआचिन ग्लेशियर-सिआदिन का अर्थ है-बड़ी संख्या में ‘गुलाब के फूल’। सिआचिन ध्रुवीय इलाकों के अतिरिक्त दूसरे नंबर का सबसे बड़ा ग्लेशियर है। यह हिमालय पर्वतों की पूर्वी कराकुरम श्रृंखला में 35°5′ उत्तरी अक्षांश तथा 76°9’ पूर्वी देशांतर पर स्थित है।
  • कच्चातिवु—कच्चातिवु श्रीलंका में पड़ने वाला एक विवादों में घिरा वह टापू है जो कि 285.2 एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ है।
  • प्रदूषण–भौतिक पर्यावरण में जब कुछ ज़हरीले पदार्थों तथा रसायनों में वृद्धि होती है जो कि जल, वायु तथा मिट्टी को अयोग्य बना जाते हैं, इसको प्रदूषण कहते हैं।
  • भू-प्रदूषण के स्रोत-कारखानों से निकले जहरीले पदार्थ-पारा, सीसा, तांबा, जिंक, साइनाइड, तेज़ाब, कीटनाशक इत्यादि।
  • चार R-Refuse, Reuse, Recycle and Reduce
  • जल प्रदूषण-जब जल में कुछ रसायन तथा घरेलू कचरा इत्यादि पदार्थ मिल जाते हैं तब पानी दूषित हो जाता है जिसको जल प्रदूषण कहते हैं।
  • वायु प्रदूषण के प्राकृतिक स्रोत-ज्वालामुखी विस्फोट के कारण निकले पदार्थ-रेल, धूल तथा जंगलों को – लगने वाली आग इत्यादि कारणों के कारण हवा दूषित हो जाती है।
  • PM10 मोटे कण 10 माइक्रोमीटर तक ये कण फेफड़ों तक जाकर मनुष्य की मौत का कारण बन सकते हैं।
  • भारत की औसत मध्यम आयु 29 साल है जबकि जापान में 49 साल तथा यू०एस०ए० में मध्यम आयु करीब 38 साल है।
  • भारत के पास विश्व का 9.6 प्रतिशत जल संसाधन है।
  • पंजाब के हर शहर, गाँव तथा बस्ती में एक महिला स्वास्थ्य संघ स्थापित है।