Class 12 History Solutions Chapter 15 अहमद शाह अब्दाली के आक्रमण एवं मुग़ल शासन का विखँडन

निबंधात्मक प्रश्न (Essay Type Questions)

अब्दाली के आक्रमणों के कारण (Causes of Abdali’s Invasions)

प्रश्न 1. अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के कारण बताएँ।
(Explain the causes of the invasions of Ahmad Shah ‘Abdali.)
अथवा
अहमद शाह अब्दाली द्वारा पंजाब पर किए गए हमलों के क्या कारण थे ?
(What were the causes of the invasions of Ahmad Shah Abdali on Punjab ?)
अथवा
अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के कारण बताएँ।
(Explain the causes of the invasions of Ahmad Shah Abdali.)
उत्तर-अहमद शाह अब्दाली अफ़गानिस्तान का शासक था। उसने 1747 ई० से 1767 ई० के समय के दौरान पंजाब पर आठ बार आक्रमण किये। इन आक्रमणों के लिए निम्नलिखित कारण उत्तरदायी थे—

  1. अब्दाली की महत्त्वाकाँक्षा (Ambition of Abdali)-अहमद शाह अब्दाली बहुत महत्त्वाकाँक्षी शासक था। वह अफ़गानिस्तान के साम्राज्य का विस्तार करना चाहता था। अत: वह पंजाब तथा भारत के अन्य प्रदेशों पर विजय प्राप्त कर अपने साम्राज्य का विस्तार करना चाहता था। अपनी इस साम्राज्यवादी महत्त्वाकाँक्षा की पूर्ति के लिए अब्दाली ने सर्वप्रथम पंजाब पर आक्रमण करने का निर्णय किया।
  2. भारत की अपार धन-दौलत (Enormous Wealth of India)-अहमद शाह अब्दाली के लिए एक शक्तिशाली साम्राज्य की स्थापना के लिए धन की बहुत आवश्यकता थी। यह धन उसे अपने साम्राज्य अफ़गानिस्तान से प्राप्त नहीं हो सकता था, क्योंकि यह प्रदेश आर्थिक दृष्टि से बहुत पिछड़ा हुआ था। दूसरी ओर उसे यह धन भारत-जो अपनी अपार धन-दौलत के लिए विश्व भर में प्रसिद्ध था-से मिल सकता था। 1739 ई० में जब वह नादिरशाह के साथ भारत आया था तो वह भारत की अपार धन-दौलत को देख कर चकित रह गया था। नादिरशाह भारत से लौटते समय अपने साथ असीम हीरे-जवाहरात, सोना-चाँदी इत्यादि ले गया था। अब्दाली पुनः भारत पर आक्रमण कर यहाँ की अपार धन-दौलत को लूटना चाहता था।
  3. अफ़गानिस्तान में अपनी स्थिति को सुदृढ़ करना (To consolidate his position in Afghanistan)अहमद शाह अब्दाली एक साधारण परिवार से संबंध रखता था। इसलिए 1747 ई० में नादिरशाह की हत्या के पश्चात् जब वह अफ़गानिस्तान का शासक बना तो वहाँ के अनेक सरदारों ने इस कारण उसका विरोध किया। अतः अहमद शाह अब्दाली अफ़गानिस्तान में अपनी स्थिति सुदृढ़ करने के उद्देश्य से विदेशी युद्ध करना चाहता था। इन युद्धों द्वारा वह अपनी प्रतिष्ठा में वृद्धि कर सकता था तथा अफ़गानों को अपने प्रति वफ़ादार बना सकता था।
  4. भारत की अनुकूल राजनीतिक दशा (Favourable Political Condition of India)-1707 ई० में औरंगजेब की मृत्यु के पश्चात् महान् मुग़ल साम्राज्य तीव्रता से पतन की ओर अग्रसर हो रहा था। 1719 ई० में मुहम्मद शाह के सिंहासन पर बैठने से स्थिति अधिक शोचनीय हो गयी। वह अपना अधिकतर समय सुरा-सुंदरी के संग व्यतीत करने लगा। अत: वह रंगीला के नाम से विख्यात हुआ। उसके शासन काल (1719-48 ई०) में शासन की वास्तविक बागडोर उसके मंत्रियों के हाथ में थी जो एक-दूसरे के विरुद्ध षड्यंत्र करते रहते थे। अतः साम्राज्य में चारों ओर अराजकता फैल गई। पंजाब में सिखों ने मुग़ल सूबेदारों की नाक में दम कर रखा था। इस स्थिति का लाभ उठा कर अहमद शाह अब्दाली ने पंजाब पर आक्रमण करने का निश्चय किया।
  5. अब्दाली का भारत में पूर्व अनुभव (Past experience of Abdali in India)—अहमद शाह अब्दाली 1739 ई० में नादिरशाह के आक्रमण के समय उसके सेनापति के रूप में भारत आया था। उसने पंजाब तथा दिल्ली की राजनीतिक स्थिति तथा यहाँ की सेना की लड़ने की क्षमता आदि का गहन अध्ययन किया था। उसने यह जान लिया था कि मुग़ल साम्राज्य एक रेत के महल की तरह है जो एक तेज़ आँधी के सामने नहीं ठहर सकता। अतः स्वतंत्र शासक बनने के पश्चात् अब्दाली ने इस स्थिति का लाभ उठाने का निर्णय किया।
  6. शाहनवाज़ खाँ द्वारा निमंत्रण (Invitation of Shahnawaz Khan)-1745 ई० में जकरिया खाँ की मृत्यु के बाद उसका बड़ा पुत्र याहिया खाँ लाहौर का नया सूबेदार बना। इस बात को उसका छोटा भाई शाहनवाज़ खाँ सहन न कर सका। वह काफ़ी समय से लाहौर की सूबेदारी प्राप्त करने का स्वप्न ले रहा था। उसने 1746 ई० के अंत में याहिया खाँ के विरुद्ध युद्ध की घोषणा कर दी। दोनों भाइयों में यह युद्ध चार मास तक चलता रहा। इसमें शाहनवाज़ खाँ की जीत हुई। उसने याहिया खाँ को बंदी बना लिया और स्वयं लाहौर का सूबेदार बन बैठा। दिल्ली का वज़ीर कमरुद्दीन जोकि याहिया खाँ का ससुर था, यह सहन न कर सका। उसके उकसाने से मुहम्मद शाह रंगीला ने शाहनवाज़ खाँ को लाहौर का सूबेदार मानने से इंकार कर दिया। ऐसी स्थिति में शाहनवाज़ खाँ ने अहमद शाह अब्दाली को भारत पर आक्रमण करने का निमंत्रण भेजा। अब्दाली ऐसे ही स्वर्ण अवसर की तलाश में था। अतः उसने भारत पर आक्रमण करने का निर्णय लिया।

अब्दाली के आक्रमण (Abdali’s Invasions)

प्रश्न 2. अहमद शाह अब्दाली के पंजाब पर आक्रमण का संक्षिप्त वर्णन कीजिए। (Give a brief account of Ahmad Shah Abdali’ invasions over Punjab.)
उत्तर-अहमद शाह अब्दाली अफ़गानिस्तान का शासक था। उसने 1747 ई० से 1767 ई० के समय के दौरान पंजाब पर आठ आक्रमण किये। इन आक्रमणों का संक्षिप्त विवरण निम्नलिखित अनुसार है—

  1. अब्दाली का पहला आक्रमण 1747-48 ई० (First Invasion of Abdali 1747-48 A.D.)—पंजाब के सूबेदार शाहनवाज़ खाँ के आमंत्रण पर अहमद शाह अब्दाली दिसंबर, 1747 ई० में भारत की ओर चल पड़ा। उसके लाहौर पहुँचने से पूर्व ही शाहनवाज खाँ ने दिल्ली के वज़ीर कमरुद्दीन के साथ समझौता कर लिया। इस बात पर अब्दाली को बहुत गुस्सा आया। उसने शाहनवाज को पराजित करके 10 जनवरी, 1748 ई० को लाहौर पर अधिकार कर लिया। इसके बाद वह दिल्ली की ओर बढ़ा। सरहिंद के निकट हुई लड़ाई में कमरुद्दीन मारा गया। मन्नुपुर में 11 मार्च, 1748 ई० को एक घमासान युद्ध में कमरुद्दीन के लड़के मुईन-उल-मुल्क ने अब्दाली को करारी हार दी। दूसरी ओर पंजाब में सिखों ने अहमद शाह अब्दाली की वापसी के समय उसका काफ़ी सामान लूट लिया।
    Class 12 History Solutions Chapter 15 अहमद शाह अब्दाली के आक्रमण एवं मुग़ल शासन का विखँडन 1
    BABA DEEP SINGH JI
  2. अब्दाली का दूसरा आक्रमण 1748-49 ई० (Second Invasion of Abdali 1748-49 A.D.)अहमद शाह अब्दाली अपने पहले आक्रमण के दौरान हुई अपनी पराजय का बदला लेना चाहता था। इस कारण अहमद शाह अब्दाली ने 1748 ई० के अंत में पंजाब पर दूसरी बार आक्रमण किया। दिल्ली से कोई सहायता न मिलने के कारण मीर मन्नू ने अब्दाली के साथ संधि कर ली। इस संधि के अनुसार मीर मन्नू ने पंजाब के चार महलों (जिलों) स्यालकोट, पसरूर, गुजरात और औरंगाबाद का 14 लाख रुपए वार्षिक लगान अब्दाली को देना मान लिया।
  3. अब्दाली का तीसरा आक्रमण 1751-52 ई० (Third Invasion of Abdali 1751-52 A.D.)—मीर मन्नू द्वारा वार्षिक लगान देने में किए गए विलंब के कारण अब्दाली ने नवंबर, 1751 ई० में पंजाब पर तीसरी बार आक्रमण किया। वह अपनी सेना सहित बड़ी तेजी के साथ लाहौर की ओर बढ़ा। लाहौर पहुँच कर अब्दाली ने 3 महीनों तक भारी लूटमार मचाई। 6 मार्च, 1752 ई० को लाहौर के निकट अहमद शाह अब्दाली और मीर मन्नू की सेनाओं के बीच बड़ी भयंकर लड़ाई हुई। इस लड़ाई में दीवान कौड़ा मल मारा गया और मीर मन्नू बंदी बना लिया गया। मीर मन्नू की वीरता देखकर अब्दाली ने न केवल मीर मन्नू को क्षमा कर दिया बल्कि अपनी तरफ से उसे पंजाब का सूबेदार नियुक्त कर दिया। इस प्रकार अब्दाली ने 1752 ई० में पंजाब को अपने साम्राज्य में सम्मिलित कर लिया।
  4. अब्दाली का चौथा आक्रमण 1756-57 ई० (Fourth Invasion of Abdali 1756-57 A.D.)1753 ई० में मीर मन्नू की मृत्यु के पश्चात् उसकी विधवा मुगलानी बेगम पंजाब की सूबेदारनी बनी। वह चरित्रहीन स्त्री थी। मुग़ल बादशाह आलमगीर द्वितीय के आदेश पर मुगलानी बेगम को जेल में डाल दिया गया। अदीना बेग पंजाब का नया सूबेदार बनाया गया। अब्दाली पंजाब पर किसी मुग़ल सूबेदार की नियुक्ति को कदाचित सहन नहीं कर सका। इसी कारण अब्दाली ने नवंबर, 1756 ई० में पंजाब पर चौथा आक्रमण किया। इस मध्य पंजाब में सिखों की शक्ति काफ़ी बढ़ चुकी थी। अब्दाली ने दिल्ली से वापसी समय सिखों से निपटने का फैसला किया।
    अहमद शाह अब्दाली जनवरी, 1757 ई० में दिल्ली पहुँचा और भारी लूटमार की। उसने मथुरा और वृंदावन को भी लूटा। पंजाब पहुंचने पर उसने अपने पुत्र तैमूर शाह को पंजाब का सूबेदार नियुक्त किया। अमृतसर के निकट सिखों और अफ़गानों में घमासान युद्ध हुआ। इस युद्ध में बाबा दीप सिंह जी का शीश कट गया था पर वह अपने शीश को हथेली पर रखकर शत्रुओं का मुकाबला करते रहे। बाबा दीप सिंह जी 11 नवंबर, 1757 ई० को शहीद हुए। बाबा दीप सिंह जी की शहीदी ने सिखों में एक नया जोश भरा। गुरबख्श सिंह के शब्दों में,
    “बाबा दीप सिंह एवं उसके साथियों की शहीदी ने समस्त सिख कौम को झकझोर दिया। उन्होंने इसका बदला लेने का प्रण लिया।”1
  5. अब्दाली का पाँचवां आक्रमण 1759-61 ई० (Fifth Invasion of Abdali 1759-61 A.D.)1758 ई० में सिखों ने मराठों से मिलकर पंजाब से तैमूर शाह को भगा दिया। इस कारण अहमद शाह अब्दाली ने 1759 ई० में पंजाब पर पाँचवां आक्रमण कर दिया। उसने अंबाला के निकट तरावड़ी में मराठों के एक प्रसिद्ध नेता दत्ता जी को हराया। शीघ्र ही अब्दाली ने दिल्ली पर अधिकार कर लिया। जब मराठों की पराजय का समाचार मराठों के पेशवा बाला जी बाजीराव तक पहुँचा तो उसने सदा शिवराव भाऊ के नेतृत्व में एक विशाल सेना अहमद शाह अब्दाली का मुकाबला करने हेतु भेजी। 14 जनवरी, 1761 ई० में पानीपत की तीसरी लड़ाई में अब्दाली ने मराठों की सेना में बड़ी तबाही मचाई। परंतु अहमद शाह अब्दाली सिखों का कुछ न बिगाड़ सका। सिख रात्रि के समय जब अब्दाली के सैनिक आराम कर रहे होते थे तो अचानक आक्रमण करके उनके खजाने को लूट लेते थे। जस्सा सिंह आहलूवालिया ने तो अचानक आक्रमण करके अब्दाली की कैद में से बहुत-सी औरतों को छुड़वा लिया। इस प्रकार जस्सा सिंह ने अपनी वीरता का प्रमाण दिया।
  6. अब्दाली का छठा आक्रमण 1762 ई० (Sixth Invasion of Abdali 1762 A.D.)-सिखों के बढ़ते हुए प्रभाव को रोकने के लिए अब्दाली ने 1762 ई० में आक्रमण किया। उसके सैनिकों ने मालेरकोटला के समीप गाँव कुप में अकस्मात् आक्रमण करके 25 से 30 हज़ार सिखों को शहीद तथा 10 हज़ार सिखों को घायल कर दिया। इनमें स्त्रियाँ तथा बच्चे भी थे। यह घटना सिख इतिहास में ‘बड़ा घल्लूघारा’ के नाम से प्रख्यात है। यह घल्लूघारा 5 फरवरी, 1762 ई० को हुआ। बड़ा घल्लूघारा में सिखों की यद्यपि बहुत क्षति हुई परंतु उन्होंने अपना साहस नहीं छोड़ा। सिखों ने सरहिंद पर 14 जनवरी, 1764 ई० को विजय प्राप्त की। इसके फ़ौजदार जैन खाँ की हत्या कर दी गई। सिखों ने लाहौर के सूबेदार काबली मल से व्यापक मुआवज़ा वसूल किया। इससे सिखों की बढ़ती हुई शक्ति की स्पष्ट झलक मिलती है।
  7. अब्दाली के अन्य आक्रमण 1764-67 ई० (Other Invasions of Abdali 1764-67 A.D.)अब्दाली ने पंजाब पर 1764-65 ई० तथा 1766-67 ई० में आक्रमण किए। उसके ये आक्रमण अधिक प्रख्यात नहीं हैं। वह सिखों की शक्ति को कुचलने में असफल रहा। सिखों ने इस समय के दौरान 1765 ई० में लाहौर पर अधिकार कर लिया। सिखों ने नये सिक्के चलाकर अपनी स्वतंत्रता की घोषणा कर दी।

1. “The martyrdom of Baba Deep Singh and his associates shocked the whole Sikh nation. They determined to retaliate with vengeance.” Gurbakhsh Singh, The Sikh Faith : A Universal Message (Amritsar : 1997) p. 95.

पानीपत की तीसरी लड़ाई 1761 ई० (The Third Battle of Panipat 1761 A.D.):

प्रश्न 3. पानीपात की तीसरी लड़ाई के कारणों, घटनाओं और परिणामों का वर्णन करें।
(Discuss the causes, events and results of the Third Battle of Panipat.)
अथवा
पानीपत की तीसरी लड़ाई के क्या कारण थे ? इस लड़ाई के क्या परिणाम निकले ? संक्षेप में वर्णन कीजिए।
(What were the causes of the Third Battle of Panipat ? Briefly describe the consequences of this battle.)
अथवा
पानीपत के तीसरे युद्ध के कारणों तथा परिणामों का वर्णन करें। (Describe the causes and consequences of the Third Battle of Panipat.)
अथवा
पानीपत की तीसरी लड़ाई के कारण एवं घटनाओं की चर्चा करें। (Discuss the causes and events of the Third Battle of Panipat.)
उत्तर-14 जनवरी, 1761 ई० को मराठों एवं अहमद शाह अब्दाली के मध्य पानीपत की तीसरी लड़ाई हुई। इस लड़ाई में मराठों को कड़ी पराजय का सामना करना पड़ा। इस लड़ाई के परिणामस्वरूप पंजाब में सिखों की शक्ति का तीव्र गति से उत्थान होने लगा। इस लड़ाई के कारणों और परिणामों का संक्षिप्त वर्णन इस प्रकार है
(क) कारण (Causes)-पानीपत की तीसरी लड़ाई के लिए निम्नलिखित मुख्य कारण उत्तरदायी थे—

  1. मराठों द्वारा रुहेलखंड की लूटमार (Plunder of Ruhelkhand by the Marathas)-रुहेलखंड पर रुहेलों का राज्य था। मराठों ने उन्हें पराजित कर दिया। रुहेले अफ़गान होने के नाते अहमद शाह अब्दाली के सजातीय थे। अतः उन्होंने अब्दाली को इस अपमान का बदला लेने के लिए निमंत्रण दिया।
  2. मराठों की हिंदू राज्य स्थापित करने की नीति (Policy of establishing Hindu Kingdom by the Marathas)-मराठे निरंतर अपनी शक्ति में वृद्धि करते चले आ रहे थे। इससे प्रोत्साहित होकर पेशवाओं ने भारत में हिंदू साम्राज्य स्थापित करने की घोषणा की। इससे मुस्लिम राज्यों के लिए एक गंभीर खतरा उत्पन्न हो गया। अतः इन राज्यों ने अपनी सुरक्षा के लिए अब्दाली को मराठों का दमन करने के लिए प्रेरित किया।
  3. हिंदुओं में एकता का अभाव (Lack of Unity among the Hindus)-मराठों की बढ़ती हुई शक्ति के कारण भारत में जाट एवं राजपूत मराठों से ईर्ष्या करने लगे। इसका प्रमुख कारण यह था कि वे स्वयं भारत में अपना राज्य स्थापित करना चाहते थे। हिंदुओं की इस आपसी फूट को अब्दाली ने भारत पर आक्रमण करने का एक स्वर्ण अवसर समझा।
  4. मराठों का दिल्ली एवं पंजाब पर अधिकार (Occupation of Delhi and Punjab by Marathas)अहमद शाह अब्दाली ने 1752 ई० में पंजाब तथा 1756 ई० में दिल्ली पर आधिपत्य कर लिया था। उसने पंजाब में अपने बेटे तैमूर शाह तथा दिल्ली के रुहेला नेता नजीब-उद-दौला को अपना प्रतिनिधि नियुक्त किया। मराठों ने 1757 ई० में दिल्ली तथा 1758 ई० में पंजाब पर अधिकार कर लिया। मराठों की ये दोनों विजयें अहमद शाह अब्दाली की शक्ति को एक चुनौती थीं। इसलिए उसने मराठों तथा सिखों को सबक सिखाने का निर्णय किया।

(ख) घटनाएँ (Events)-1759 ई० के अंत में अहमद शाह अब्दाली ने सर्वप्रथम पंजाब पर आक्रमण किया। इस आक्रमण का समाचार सुन कर पंजाब का मराठा सूबेदार शम्भा जी लाहौर छोड़ कर भाग गया। इसके पश्चात् वह दिल्ली की ओर बढ़ा। रास्ते में उसे मराठों ने रोकने का प्रयत्न किया परंतु उन्हें सफलता प्राप्त न हुई। जब बालाजी बाजीराव को इन घटनाओं संबंधी सूचना मिली तो उसने अब्दाली का सामना करने के लिए एक विशाल सेना उत्तरी भारत की तरफ भेजी। इस सेना की वास्तविक कमान सदाशिव राव भाऊ के हाथों में थी। उसकी सहायता के लिए पेशवा ने अपने पुत्र विश्वास राव को भी भेजा। मराठों द्वारा अपनाई गई अनुचित नीतियों के फलस्वरूप राजपूत तथा पंजाब के सिख पहले से उनसे नाराज़ थे। इसलिए इस संकट के समय में उन्होंने मराठों को अपना सहयोग प्रदान नहीं किया। जाट नेता सूरजमल ने सदाशिव राव भाऊ को अब्दाली के विरुद्ध छापामार ढंग की लड़ाई अपनाने का परामर्श दिया परंतु अहंकार के कारण उसने इस योग्य परामर्श को न माना। इस कारण उसने अपने दस हज़ार सैनिकों सहित मराठों का साथ छोड़ दिया। इस प्रकार मराठों के पास अब शेष 45,000 सैनिक रह गये। दूसरी तरफ अहमद शाह अब्दाली के अधीन 60,000 सैनिक थे। इनमें लगभग आधे सैनिक अवध के नवाब शुजाऊद्दौला तथा रुहेला सरदार नज़ीबउद्दौला द्वारा अब्दाली की सहायतार्थ भेजे गये थे। ये दोनों सेनाएँ पानीपत के क्षेत्र में नवंबर, 1760 ई० में पहँच गईं। लगभग अढाई महीनों तक उनमें से किसी ने भी एक-दूसरे पर आक्रमण करने का साहस न किया।
14 जनवरी, 1761 ई० को मराठों ने अब्दाली की सेना पर आक्रमण कर दिया। यह बहुत घमासान युद्ध था। इस युद्ध के आरंभ में मराठों का पलड़ा भारी रहा। परंतु अनायास जब विश्वास राव की गोली लगने से मृत्यु हो गई तो युद्ध की स्थिति ही पलट गयी। सदाशिव राव भाऊ शोक मनाने के लिए हाथी से नीचे उतरा। जब मराठा सैनिकों ने उसके हाथी की पालकी खाली देखी तो उन्होंने समझा कि वह भी युद्ध में मारा गया है। परिणामस्वरूप मराठा सैनिकों में भगदड़ फैल गई। इस तरह पानीपत की तीसरी लड़ाई में अब्दाली को शानदार विजय प्राप्त हुई।
(ग) परिणाम (Consequences)—पानीपत की तीसरी लड़ाई भारतीय इतिहास की निर्णायक लड़ाइयों में से एक थी। इस लड़ाई के दूरगामी परिणामों का संक्षिप्त विवरण निम्नलिखित अनुसार है—

  1. मराठों का घोर विनाश (Great Tragedy for the Marathas)-पानीपत की तीसरी लड़ाई मराठों के लिए घोर विनाशकारी सिद्ध हुई। इस लड़ाई में 28,000 मराठा सैनिक मारे गए तथा बड़ी संख्या में जख्मी हुए। कहा जाता है कि महाराष्ट्र के प्रत्येक परिवार का कोई-न-कोई सदस्य इस लड़ाई में मरा था।
  2. मराठों की शक्ति एवं सम्मान को गहरा धक्का (Severe blow to Maratha Power and Prestige)—इस लड़ाई में पराजय से मराठों की शक्ति एवं सम्मान को गहरा धक्का लगा। परिणामस्वरूप भारत में हिंदू साम्राज्य स्थापित करने का मराठों का स्वप्न धराशायी हो गया।
  3. मराठों की एकता का समाप्त होना (End of Maratha Unity)-पानीपत की तीसरी लड़ाई में मराठों की प्रतिष्ठा को भारी आघात पहुँचने से मराठा संघ की एकता समाप्त हो गई। वे आपसी मतभेदों एवं झगड़ों में उलझ गए। परिणामस्वरूप रघोबा जैसे स्वार्थी मराठा नेता को राजनीति में आने का अवसर प्राप्त हुआ।
  4. पंजाब में सिखों की शक्ति का उत्थान (Rise of the Sikh Power in Punjab)—पानीपत की तीसरी लड़ाई से पंजाब मराठों के हाथों से सदा के लिए जाता रहा। अब पंजाब में प्रभुत्व स्थापित करने के लिए केवल दो ही शक्तियाँ-अफ़गान एवं सिख रह गईं। इस प्रकार सिखों के उत्थान का कार्य काफी सुगम हो गया। उन्होंने अफ़गानों को पराजित करके पंजाब में अपना शासन स्थापित कर लिया।
  5. भारत में अंग्रेजों की शक्ति का उत्थान (Rise of British Power in India)-भारत में अंग्रेजों को अपने साम्राज्य विस्तार के मार्ग में सबसे अधिक चुनौती मराठों की थी। मराठों की ज़बरदस्त पराजय ने अंग्रेज़ों को अपनी सत्ता स्थापित करने का मार्ग प्रशस्त कर दिया। प्रसिद्ध इतिहासकारों पी० एन० चोपड़ा, टी० के० रविंद्रन तथा एन० सुब्रहमनीयन का कथन है कि,
    “पानीपत की तीसरी लड़ाई मराठों के लिए बहुत विनाशकारी सिद्ध हुई।”2

2. “The third battle of Panipat proved disastrous to the Marathas.” P.N. Chopra, T.K. Ravindran and N. Subrahmanian, History of South India (Delhi : 1979) Vol. 2, p. 170.

मराठों की असफलता के कारण (Causes of the Maratha’s Defeat)

प्रश्न 4. पानीपत की तीसरी लड़ाई में मराठों की असफलता के क्या कारण थे ?
(What were the reasons of failure of the Marathas in the Third Battle of Panipat ?)
उत्तर–पानीपत की तीसरी लड़ाई में मराठों को घोर पराजय का सामना करना पड़ा। इस लड़ाई में मराठों की पराजय के लिए अनेक कारण उत्तरदायी थे। इन कारणों का संक्षिप्त विवरण निम्नलिखित अनुसार है—

  1. अफ़गानों की शक्तिशाली सेना (Powerful army of the Afghans)—पानीपत की तीसरी लड़ाई में मराठों की पराजय का एक मुख्य कारण अफ़गानों की शक्तिशाली सेना थी। यह सेना मराठा सेना की तुलना में कहीं अधिक प्रशिक्षित, अनुशासित एवं संगठित थी। इसके अतिरिक्त उनका तोपखाना भी बहुत शक्तिशाली था। अत: मराठा सेना उनका सामना न कर सकी।
  2. अहमदशाह अब्दाली का योग्य नेतृत्व (Able Leadership of Ahmad Shah Abdali)-अहमद शाह अब्दाली एक बहुत ही अनुभवी सेनापति था। उसकी गणना एशिया के प्रसिद्ध सेनापतियों में की जाती थी। दूसरी ओर मराठा सेनापतियों सदाशिव राव भाऊ तथा विश्वास राव को युद्ध संचालन का कोई अनुभव न था। ऐसी सेना की पराजय निश्चित थी।
  3. मराठों की लूटमार की नीति (Policy of Plunder of the Marathas)-मराठों की पराजय का एक अन्य महत्त्वपूर्ण कारण यह था कि वे विजित किए क्षेत्रों में भयंकर लूटमार करते थे। उनकी इस नीति के कारण राजपूताना, हैदराबाद, अवध, रुहेलखंड तथा मैसूर की रियासतें मराठों के विरुद्ध हो गईं। अतः उन्होंने मराठों को इस संकट के समय कोई सहायता न दी। परिणामस्वरूप मराठों की पराजय को टाला नहीं जा सकता था।
  4. छापामार युद्ध प्रणाली का परित्याग (Renounced the Guerilla Method of Warfare)-मराठों का मूल प्रदेश पहाड़ी एवं जंगली था। इस प्रदेश की भौगोलिक स्थिति के कारण मराठे छापामार युद्ध प्रणाली में निपुण थे। इस कारण उन्होंने अनेक आश्चर्यजनक सफलताएँ प्राप्त की थीं। परंतु पानीपत की तीसरी लड़ाई में उन्होंने छापामार युद्ध प्रणाली को त्याग कर सीधे मैदानी लड़ाई में अब्दाली के साथ मुकाबला करने की भयंकर भूल की। परिणामस्वरूप मराठों की पराजय हुई।
  5. मुस्लिम रियासतों द्वारा अब्दाली को सहयोग (Cooperation of Muslim States to Abdali)पानीपत की तीसरी लड़ाई में अहमद शाह अब्दाली की विजय का प्रमुख कारण यह था कि उसे भारत की अनेक मुस्लिम रियासतों का सहयोग प्राप्त हुआ। इससे अब्दाली का प्रोत्साहन बढ़ गया। परिणामस्वरूप वह मराठों को पराजित कर सका।
  6. मराठों की आर्थिक कठिनाइयाँ (Economic difficulties of the Marathas)-मराठों की पराजय का एक अन्य महत्त्वपूर्ण कारण उनकी आर्थिक कठिनाइयाँ थीं। धन के अभाव के कारण मराठे न तो अपने सैनिकों के लिए युद्ध सामग्री ही जुटा सके तथा न ही आवश्यक भोजन। ऐसी सेना की पराजय को कौन रोक सकता था ?
  7. सदाशिव राव भाऊ की भयंकर भूल (Blunder of Sada Shiv Rao Bhau)-जिस समय पानीपत की तीसरी लड़ाई चल रही थी तो उस समय पेशवा का बेटा विश्वास राव मारा गया था। जब यह सूचना सदाशिव राव भाऊ को मिली तो वह श्रद्धांजलि अर्पित करने के उद्देश्य से अपने हाथी से नीचे उतर गया। उसके हाथी का हौदा खाली देख मराठा सैनिकों ने समझा कि सदाशिव राव भाऊ भी युद्ध क्षेत्र में मारा गया है। अतः उनमें भगदड़ मच गई तथा देखते-ही-देखते मैदान साफ़ हो गया।

प्रश्न 5. पानीपत की तीसरी लड़ाई के कारणों, इसके परिणामों तथा इसमें मराठों की हार के कारणों का वर्णन कीजिए।
(Describe the causes, results and causes of failure of Marathas in the Third Battle of Panipat.)
उत्तर–कारण (Causes)-पानीपत की तीसरी लड़ाई के लिए निम्नलिखित मुख्य कारण उत्तरदायी थे—

  1. मराठों द्वारा रुहेलखंड की लूटमार (Plunder of Ruhelkhand by the Marathas)-रुहेलखंड पर रुहेलों का राज्य था। मराठों ने उन्हें पराजित कर दिया। रुहेले अफ़गान होने के नाते अहमद शाह अब्दाली के सजातीय थे। अतः उन्होंने अब्दाली को इस अपमान का बदला लेने के लिए निमंत्रण दिया।
  2. मराठों की हिंदू राज्य स्थापित करने की नीति (Policy of establishing Hindu Kingdom by the Marathas)-मराठे निरंतर अपनी शक्ति में वृद्धि करते चले आ रहे थे। इससे प्रोत्साहित होकर पेशवाओं ने भारत में हिंदू साम्राज्य स्थापित करने की घोषणा की। इससे मुस्लिम राज्यों के लिए एक गंभीर खतरा उत्पन्न हो गया। अतः इन राज्यों ने अपनी सुरक्षा के लिए अब्दाली को मराठों का दमन करने के लिए प्रेरित किया।
  3. हिंदुओं में एकता का अभाव (Lack of Unity among the Hindus)-मराठों की बढ़ती हुई शक्ति के कारण भारत में जाट एवं राजपूत मराठों से ईर्ष्या करने लगे। इसका प्रमुख कारण यह था कि वे स्वयं भारत में अपना राज्य स्थापित करना चाहते थे। हिंदुओं की इस आपसी फूट को अब्दाली ने भारत पर आक्रमण करने का एक स्वर्ण अवसर समझा।
  4. मराठों का दिल्ली एवं पंजाब पर अधिकार (Occupation of Delhi and Punjab by Marathas)अहमद शाह अब्दाली ने 1752 ई० में पंजाब तथा 1756 ई० में दिल्ली पर आधिपत्य कर लिया था। उसने पंजाब में अपने बेटे तैमूर शाह तथा दिल्ली के रुहेला नेता नजीब-उद-दौला को अपना प्रतिनिधि नियुक्त किया। मराठों ने 1757 ई० में दिल्ली तथा 1758 ई० में पंजाब पर अधिकार कर लिया। मराठों की ये दोनों विजयें अहमद शाह अब्दाली की शक्ति को एक चुनौती थीं। इसलिए उसने मराठों तथा सिखों को सबक सिखाने का निर्णय किया।

पानीपत की तीसरी लड़ाई में मराठों को घोर पराजय का सामना करना पड़ा। इस लड़ाई में मराठों की पराजय के लिए अनेक कारण उत्तरदायी थे। इन कारणों का संक्षिप्त विवरण निम्नलिखित अनुसार है—

  1. अफ़गानों की शक्तिशाली सेना (Powerful army of the Afghans)—पानीपत की तीसरी लड़ाई में मराठों की पराजय का एक मुख्य कारण अफ़गानों की शक्तिशाली सेना थी। यह सेना मराठा सेना की तुलना में कहीं अधिक प्रशिक्षित, अनुशासित एवं संगठित थी। इसके अतिरिक्त उनका तोपखाना भी बहुत शक्तिशाली था। अत: मराठा सेना उनका सामना न कर सकी।
  2. अहमदशाह अब्दाली का योग्य नेतृत्व (Able Leadership of Ahmad Shah Abdali)-अहमद शाह अब्दाली एक बहुत ही अनुभवी सेनापति था। उसकी गणना एशिया के प्रसिद्ध सेनापतियों में की जाती थी। दूसरी ओर मराठा सेनापतियों सदाशिव राव भाऊ तथा विश्वास राव को युद्ध संचालन का कोई अनुभव न था। ऐसी सेना की पराजय निश्चित थी।
  3. मराठों की लूटमार की नीति (Policy of Plunder of the Marathas)-मराठों की पराजय का एक अन्य महत्त्वपूर्ण कारण यह था कि वे विजित किए क्षेत्रों में भयंकर लूटमार करते थे। उनकी इस नीति के कारण राजपूताना, हैदराबाद, अवध, रुहेलखंड तथा मैसूर की रियासतें मराठों के विरुद्ध हो गईं। अतः उन्होंने मराठों को इस संकट के समय कोई सहायता न दी। परिणामस्वरूप मराठों की पराजय को टाला नहीं जा सकता था।
  4. छापामार युद्ध प्रणाली का परित्याग (Renounced the Guerilla Method of Warfare)-मराठों का मूल प्रदेश पहाड़ी एवं जंगली था। इस प्रदेश की भौगोलिक स्थिति के कारण मराठे छापामार युद्ध प्रणाली में निपुण थे। इस कारण उन्होंने अनेक आश्चर्यजनक सफलताएँ प्राप्त की थीं। परंतु पानीपत की तीसरी लड़ाई में उन्होंने छापामार युद्ध प्रणाली को त्याग कर सीधे मैदानी लड़ाई में अब्दाली के साथ मुकाबला करने की भयंकर भूल की। परिणामस्वरूप मराठों की पराजय हुई।
  5. मुस्लिम रियासतों द्वारा अब्दाली को सहयोग (Cooperation of Muslim States to Abdali)पानीपत की तीसरी लड़ाई में अहमद शाह अब्दाली की विजय का प्रमुख कारण यह था कि उसे भारत की अनेक मुस्लिम रियासतों का सहयोग प्राप्त हुआ। इससे अब्दाली का प्रोत्साहन बढ़ गया। परिणामस्वरूप वह मराठों को पराजित कर सका।
  6. मराठों की आर्थिक कठिनाइयाँ (Economic difficulties of the Marathas)-मराठों की पराजय का एक अन्य महत्त्वपूर्ण कारण उनकी आर्थिक कठिनाइयाँ थीं। धन के अभाव के कारण मराठे न तो अपने सैनिकों के लिए युद्ध सामग्री ही जुटा सके तथा न ही आवश्यक भोजन। ऐसी सेना की पराजय को कौन रोक सकता था ?
  7. सदाशिव राव भाऊ की भयंकर भूल (Blunder of Sada Shiv Rao Bhau)-जिस समय पानीपत की तीसरी लड़ाई चल रही थी तो उस समय पेशवा का बेटा विश्वास राव मारा गया था। जब यह सूचना सदाशिव राव भाऊ को मिली तो वह श्रद्धांजलि अर्पित करने के उद्देश्य से अपने हाथी से नीचे उतर गया। उसके हाथी का हौदा खाली देख मराठा सैनिकों ने समझा कि सदाशिव राव भाऊ भी युद्ध क्षेत्र में मारा गया है। अतः उनमें भगदड़ मच गई तथा देखते-ही-देखते मैदान साफ़ हो गया।

अहमद शाह अब्दाली की असफलता के कारण (Causes of the Failure of Ahmad Shah Abdali)

प्रश्न 6. सिखों के विरुद्ध संघर्ष में अहमद शाह अब्दाली की असफलता के क्या कारण थे ?
(What were the causes of failure of Ahmad Shah Abdali in his struggle against the Sikhs ?)
अथवा
अहमद शाह अब्दाली की सिखों के विरुद्ध असफलता के क्या कारण थे ?
(What were the reasons of failure of Ahmad Shah Abdali against the Sikhs ?)
अथवा
उन कारणों की ध्यानपूर्वक चर्चा कीजिए जिस कारण अहमद शाह अब्दाली अंतिम रूप में सिखों की शक्ति को कुचलने में असफल रहा।
(Examine carefully the causes of Ahmad Shah Abdali’s ultimate failure to suppress the Sikh power.)
अथवा
अहमद शाह अब्दाली के विरुद्ध सिखों की सफलता के महत्त्वपूर्ण कारणों की व्याख्या करें।
(Explain the important causes of the success of the Sikhs against Ahmad Shah Abdali.)
उत्तर-अहमद शाह अब्दाली एक महान् योद्धा और वीर सेनापति था। उसने बहुत से क्षेत्रों पर अधिकार करके उसे अपने साम्राज्य में सम्मिलित किया। उसने भारत की दो महान् शक्तियों मुग़लों तथा मराठों को कड़ी पराजय दी थी। इसके बावजूद अब्दाली सिखों की शक्ति को कुचलने में असफल रहा। उसकी असफलता या सिखों की जीत के निम्नलिखित कारण हैं—

  1. सिखों का दृढ़ निश्चय (Tenacity of the Sikhs) अहमद शाह अब्दाली की असफलता का एक मुख्य कारण सिखों का दृढ़ निश्चय था। अब्दाली ने उन पर भारी अत्याचार किए, परंतु उनका हौसला बुलंद रहा। वे चट्टान की तरह अडिग रहे। बड़े घल्लूघारे में 25,000 से 30,000 सिख मारे गए परंतु सिखों के हौंसले बुलंद रहे। ऐसी कौम को हराना कोई आसान कार्य न था।
  2. गुरिल्ला युद्ध नीति (Guerilla tactics of War)-सिखों द्वारा अपनाई गई गुरिल्ला युद्ध नीति अहमद शाह अब्दाली की असफलता का एक मुख्य कारण बनी। जब भी अब्दाली सिखों के विरुद्ध कूच करता, सिख तुरंत जंगलों व पहाड़ों में जा शरण लेते। वे अवसर देखकर अब्दाली की सेनाओं पर आक्रमण करते और लुटमार करके फिर वापस जंगलों में चले जाते । इन छापामार युद्धों ने अब्दाली की नींद हराम कर दी थी। प्रसिद्ध लेखक खुशवंत सिंह के अनुसार,
    “सिखों के साथ लड़ना इस तरह व्यर्थ था जिस तरह हवा को बाँधने का यत्न करना।”3
  3. अब्दाली द्वारा कम सैनिकों की तैनाती (Abdali left insufficient Soldiers)-अहमद शाह अब्दाली की असफलता का एक मुख्य कारण यह था कि वह सिखों की शक्ति को कुचलने के लिए अधिक सैनिकों की तैनाती न कर सका। परिणामस्वरूप वह सिखों की शक्ति न कुचल सका।
  4. अब्दाली के अयोग्य प्रतिनिधि (Incapable representatives of Abdali)-अहमद शाह अब्दाली की हार का महत्त्वपूर्ण कारण यह था कि पंजाब में उस द्वारा नियुक्त किए गए प्रतिनिधि अयोग्य थे। उसका पुत्र तैमूरशाह एक बहुत ही निकम्मा शासक सिद्ध हुआ। इसी प्रकार लाहौर का सूबेदार ख्वाजा उबैद खाँ भी अपने पद के लिए अयोग्य था। अतः पंजाब में सिख शक्तिशाली होने लगे।
  5. पंजाब के लोगों का असहयोग (Non-Cooperation of the People of the Punjab)-अहमद शाह अब्दाली की पराजय का एक प्रमुख कारण यह था कि उसको पंजाब के नागरिकों का सहयोग प्राप्त न हो सका। उसने अपने बार-बार आक्रमणों के दौरान न केवल लोगों की धन-संपत्ति को ही लूटा, अपितु हज़ारों निर्दोष लोगों का कत्ल भी किया। परिणामस्वरूप पंजाब के लोगों की उसके साथ किसी प्रकार की कोई सहानुभूति नहीं थी। ऐसी स्थिति में अहमद शाह अब्दाली द्वारा पंजाब पर विजय प्राप्त करना एक स्वप्न समान था।
  6. ज़मींदारों का सहयोग (Zamindars’ Cooperation)-सिख-अफ़गान संघर्ष में पंजाब के ज़मींदारों ने सिखों को हर प्रकार का सहयोग दिया। वे जानते थे कि अब्दाली ने पुनः अफ़गानिस्तान चले जाना है और सिखों के साथ उनका संबंध सदैव रहना है। वे सिखों के विरुद्ध कोई कार्यवाई करके उन्हें अपना शत्रु नहीं बनाना चाहते थे। ज़मींदारों का सहयोग सिख शक्ति के विकास के लिए अत्यंत लाभकारी सिद्ध हुआ।
  7. सिखों का चरित्र (Character of the Sikhs)-सिखों का चरित्र अहमद शाह अब्दाली की असफलता का एक अन्य कारण बना। सिख प्रत्येक स्थिति में प्रसन्न रहते थे। वे युद्ध के मैदान में किसी भी निहत्थे पर वार नहीं करते थे। वे स्त्रियों एवं बच्चों का पूर्ण सम्मान करते थे चाहे उनका संबंध शत्रु के साथ क्यों न हो। इन गुणों के परिणामस्वरूप सिख पंजाबियों में अत्यंत लोकप्रिय हो गए थे। इसलिए अब्दाली के विरुद्ध उनका सफल होना कोई आश्चर्य वाली बात नहीं है।
  8. सिखों के योग्य नेता (Capable Leaders of the Sikhs)-अहमद शाह अब्दाली के विरुद्ध सिखों की जीत का एक और महत्त्वपूर्ण कारण उनके योग्य नेता थे। इन नेताओं ने बड़ी योग्यता और समझदारी से सिखों को नेतृत्व प्रदान किया। इन नेताओं में प्रमुख नवाब कपूर सिंह, जस्सा सिंह आहलूवालिया, जस्सा सिंह रामगढ़िया तथा आला सिंह थे।
  9. अमृतसर का योगदान (Contribution of Amritsar) सिख अमृतसर को अपना मक्का समझते थे। 18वीं सदी में सिख अपने शत्रुओं पर आक्रमण करने से पूर्व हरिमंदिर साहिब में एकत्रित होते और पवित्र सरोवर में स्नान करते। वे अकाल तख्त साहिब में अपने गुरमत्ते पास करते जिसका पालन करना प्रत्येक सिख अपना धार्मिक कर्त्तव्य समझता था। अमृतसर सिखों की एकता और स्वतंत्रता का प्रतीकं बन गया था। अहमद शाह अब्दाली ने हरिमंदिर साहिब पर आक्रमण करके सिखों की शक्ति का अंत करने का प्रयास किया, परंतु उसे सफलता प्राप्त न हुई।
  10. अफ़गानिस्तान में विद्रोह (Revolts in Afghanistan)-अहमद शाह अब्दाली का साम्राज्य काफ़ी विशाल था। जब कभी भी अब्दाली ने पंजाब पर आक्रमण किया तो अफ़गानिस्तान में किसी-न-किसी ने विद्रोह का झंडा खड़ा कर दिया। इन विद्रोहों के कारण अब्दाली पंजाब की ओर पूरा ध्यान न दे सका। सिखों ने इस स्थिति का पूर्ण लाभ उठाया और वे अब्दाली द्वारा जीते हुए प्रदेशों पर पुनः अपना अधिकार जमा लेते। परिणामस्वरूप अब्दाली सिखों की शक्ति को कुचलने में असफल रहा।

3. “Fighting the Sikhs was like trying to catch the wind in a net.” Khushwant Singh, History of the Sikhs (New Delhi : 1981) p. 276.

अब्दाली के आक्रमणों के पंजाब पर प्रभाव (Effects of Abdali’s Invasions on the Punjab)

प्रश्न 7. अहमद शाह अब्दाली द्वारा पंजाब पर किए गए हमलों के प्रभाव लिखिए।
(Narrate the effects of the invasions of Ahmad Shah Abdali on the Punjab.)
अथवा
अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के पंजाब पर राजनीतिक, सामाजिक तथा आर्थिक प्रभावों का वर्णन करें।
(Study the political, social and economic effects of Ahmad Shah Abdali’s invasions on the Punjab.)
अथवा
अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के विभिन्न परिणामों का सर्वेक्षण करें। (Examine the various effects of the invasions of Ahmad Shah Abdali.)
अथवा
पंजाब के इतिहास पर अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के क्या प्रभाव पड़े ?
(What were the effects of Ahmad Shah Abdali’s invasions on the Punjab History ?)
अथवा
अहमद शाह अब्दाली के हमलों के पंजाब के ऊपर क्या प्रभाव पड़े ? विस्तार के साथ बताएँ।
(What were the effects of Ahmad Shah Abdali on Punjab ? Discuss in detail.)
उत्तर-अहमद शाह अब्दाली ने 1747 ई० से लेकर 1767 ई० तक पंजाब पर आठ बार आक्रमण किए। उसके इन आक्रमणों ने पंजाब के विभिन्न क्षेत्रों को प्रभावित किया। इन प्रभावों का संक्षेप में वर्णन निम्नलिखित प्रकार है—
(क) राजनीतिक प्रभाव
(Political Effects)

  1. पंजाब में मुग़ल काल का अंत (End of the Mughal Rule in the Punjab)-अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों का पंजाब के इतिहास पर पहला महत्त्वपूर्ण प्रभाव यह पड़ा कि पंजाब में मुग़ल शासन का अंत हो गया। मीर मन्नू पंजाब में मुग़लों का अंतिम सूबेदार था। अब्दाली ने मीर मन्नू को ही अपनी तरफ से पंजाब का सूबेदार नियुक्त कर दिया। मुग़लों ने पुनः पंजाब पर अधिकार करने का प्रयत्न किया पर अब्दाली ने इन प्रयत्नों को सफल न होने दिया। अतः पंजाब में मुग़लों के शासन का अंत हो गया।
  2. पंजाब में मराठा शक्ति का अंत (End of Maratha Power in the Punjab)-अदीना बेग के निमंत्रण पर 1758 ई० में मराठों ने तैमूर शाह को हराकर पंजाब पर अपना अधिकार कर लिया। उन्होंने अदीना बेग को पंजाब का सूबेदार नियुक्त कर दिया, परंतु उसकी शीघ्र ही मृत्यु हो गई। उसके बाद मराठों ने सांभा जी को पंजाब का सूबेदार नियुक्त किया। अब्दाली ने 14 जनवरी, 1761 ई० को पानीपत की तीसरी लड़ाई में मराठों को कड़ी पराजय दी। इस पराजय के फलस्वरूप पंजाब से मराठों की शक्ति का सदा के लिए अंत हो गया।
  3. सिख शक्ति का उदय (Rise of the Sikh Power)-अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के परिणामस्वरूप पंजाब से मुग़ल और मराठा शक्ति का अंत हो गया। पंजाब पर कब्जा करने के लिए अब यह संघर्ष केवल दो शक्तियों अफ़गान और सिखों के मध्य ही रह गया था। सिखों ने अपने छापामार युद्धों के द्वारा अब्दाली की रातों की नींद हराम कर दी। अब्दाली ने 1762 ई० में बड़े घल्लूघारे में कई हज़ारों सिखों को शहीद किया, परंतु उनके हौंसले बुलंद रहे। उन्होंने 1764 ई० में सरहिंद और 1765 ई० में लाहौर पर कब्जा कर लिया था। सिखों ने अपने सिक्के चला कर अपनी स्वतंत्रता की घोषणा कर दी।
  4. पंजाब में अराजकता (Anarchy in the Punjab)-1747 ई० से 1767 ई० के दौरान अहमद शाह अब्दाली के हमलों के परिणामस्वरूप पंजाब में अशांति तथा अराजकता फैल गई। सरकारी कर्मचारियों ने लोगों को लूटना शुरू कर दिया। न्याय नाम की कोई चीज़ नहीं रही थी। ऐसी स्थिति में पंजाब के लोगों के कष्टों में बहत बढ़ौतरी हुई।

(ख) सामाजिक प्रभाव
(Social Effects)

  1. सामाजिक बुराइयों में बढ़ौतरी (Increase in the Social Evils)-अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के कारण पंजाब में सामाजिक बुराइयों में बहुत बढ़ौतरी हुई। लोग बहुत स्वार्थी और चरित्रहीन हो गए थे। चोरी, डाके, कत्ल, लूटमार, धोखेबाज़ी और रिश्वतखोरी का समाज में बोलबाला था। इन बुराइयों के कारण लोगों का नैतिक स्तर बहुत गिर गया था।
  2. पंजाब के लोगों का बहादुर होना (People of Punjab became Brave)-अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों ने पंजाबी लोगों को बहुत बहादुर और निडर बना दिया था। इसका कारण यह था कि अब्दाली के आक्रमणों से रक्षा के लिए यहाँ के लोगों को शस्त्र उठाने पड़े। उन्होंने अफ़गानों के साथ हुए युद्धों में बहादुरी की शानदार मिसालें कायम की। 7. पंजाबियों का खर्चीला स्वभाव (Punjabis became Spendthrift)-अहमद शाह अब्दाली के हमलों के कारण पंजाब के लोगों में एक महत्त्वपूर्ण परिवर्तन आया। अब वे अधिक धन व्यय करने लगे। वे खानेपीने तथा मौज उड़ाने में विश्वास करने लगे। उस समय यह कहावत प्रसिद्ध हो गई थी “खादा पीता लाहे दा रहंदा अहमद शाहे दा।”
  3. सिखों और मुसलमानों की शत्रुता में वृद्धि (Enmity between the Sikhs and Muslims Increased)-अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के कारण सिखों और मुसलमानों में आपसी शत्रुता और बढ़ गई। इसका कारण यह था कि अफ़गानों ने इस्लाम के नाम पर सिखों पर बहुत अत्याचार किए। दूसरा, अब्दाली ने सिखों के सबसे पवित्र धार्मिक स्थान हरिमंदिर साहिब को ध्वस्त करके सिखों को अपना कट्टर शत्रु बना लिया। अतः सिखों और अफ़गानों के बीच शत्रुता दिनों-दिन बढ़ती चली गई।

(ग) आर्थिक तथा साँस्कृतिक प्रभाव .
(Economic and Cultural Effects)

  1. पंजाब की आर्थिक हानि (Economic Loss of the Punjab)-अहमद शाह अब्दाली अपने प्रत्येक आक्रमण में पंजाब से भारी मात्रा में लूट का माल साथ ले जाता था। अफ़गानी सेनाएँ कूच करते समय खेतों का विनाश कर देती थीं। पंजाब में नियुक्त भ्रष्ट कर्मचारी भी लोगों को प्रत्येक पक्ष से लूटने में कोई प्रयास शेष न छोड़ते थे। परिणामस्वरूप अराजकता और लूटमार के इस वातावरण में पंजाब के व्यापार को बहुत भारी हानि हुई। इस कारण पंजाब की समृद्धि पंख लगा कर उड़ गई।
  2. कला और साहित्य को भारी धक्का (Great Blow to Art and Literature)-अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के दौरान बहुत-से सुंदर भवनों, गुरुद्वारों और मंदिरों इत्यादि को ध्वस्त कर दिया गया। कई वर्षों तक पंजाब युद्धों का अखाड़ा बना रहा। अशांति और अराजकता का यह वातावरण नई कला कृतियों और साहित्य रचनाओं के लिए भी अनुकूल नहीं था। अत: अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों ने पंजाब में कला और साहित्य के विकास को गहरा धक्का लगाया। अंत में हम प्रसिद्ध इतिहासकार एस० एस० गाँधी के इन शब्दों से सहमत हैं,
    “अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों ने जीवन के प्रत्येक पक्ष पर बहुमुखी प्रभाव डाले।”4

4. “The invasions of Ahmad Shah Abdali exercised manyfold effects, covering almost all aspects of life.” S.S. Gandhi, op. cit., p. 257.

संक्षिप्त उत्तरों वाले प्रश्न (Short Answer Type Questions)

प्रश्न 1. अहमद शाह अब्दाली कौन था ? उसके पंजाब पर आक्रमणों के क्या कारण थे ?
(Who was Ahmad Shah Abdali ? What were the reasons of his Punjab invasions ?)
अथवा
पंजाब पर अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के मुख्य कारण लिखिए। (Write the causes of the attacks of Ahmad Shah Abdali on the Punjab.)
अथवा
अहमद शाह अब्दाली के आक्रमण के कोई तीन कारण बताएँ। (Write any three causes of the invasions of Ahmad Shah Abdali on Punjab.).
उत्तर-अहमद शाह अब्दाली अफ़गानिस्तान का शासक था। उसके पंजाब पर आक्रमणों के कई कारण थे। पहला, अहमद शाह अब्दाली अपने साम्राज्य का विस्तार करना चाहता था। दूसरे, वह पंजाब से धन प्राप्त करके अपनी स्थिति सुदृढ़ करना चाहता था। तीसरा, वह पंजाब पर अधिकार कर अपनी प्रतिष्ठा में वृद्धि करना चाहता था। चौथा, उस समय मुग़ल बादशाह मुहम्मद शाह रंगीला की नीतियों के कारण भारत में अस्थिरता फैली हुई थी। अहमद शाह अब्दाली इस अवसर का लाभ उठाना चाहता था।

प्रश्न 2. अहमद शाह अब्दाली के प्रथम आक्रमण के संबंध में आप क्या जानते हैं ? (What do you know about the first invasion of Ahmad Shah Abdali ?)
अथवा
पंजाब पर अब्दाली के प्रथम आक्रमण पर एक संक्षिप्त नोट लिखें। (Write a short note on the Abdali’s first invasion on Punjab.)
उत्तर-अहमद शाह अब्दाली अफ़गानिस्तान का बादशाह था। उसने पंजाब के सूबेदार शाहनवाज़ खाँ के निमंत्रण पर भारत पर आक्रमण करने का निर्णय किया। उसने शाहनवाज़ खाँ को पराजित करके 10 जनवरी, 1748 ई० को लाहौर पर अधिकार कर लिया। इसके बाद वह दिल्ली की ओर बढ़ा। मन्नूपुर में 11 मार्च, 1748 ई० को एक घमासान युद्ध में मुइन-उल-मुल्क ने अब्दाली को करारी हार दी। मुइन-उल-मुल्क की इस वीरता से प्रभावित होकर मुहम्मद शाह ने उसे लाहौर का सूबेदार नियुक्त कर दिया। वह मीर मन्नू के नाम से प्रसिद्ध हुआ। इस प्रकार अब्दाली का प्रथम आक्रमण असफल रहा।

प्रश्न 3. अहमद शाह अब्दाली के पंजाब पर दूसरे आक्रमण का संक्षिप्त विवरण दीजिए।
(Briefly explain the second invasion of Ahmad Shah Abdali on Punjab.)
अथवा
अहमद शाह अब्दाली के दूसरे आक्रमण का संक्षेप में वर्णन करें। (Give a brief account of the second invasion of Ahmad Shah Abdali.)
उत्तर-अहमद शाह अब्दाली को अपने पहले आक्रमण के दौरान पराजय का सामना करना पड़ा। वह इसका बदला लेना चाहता था। दूसरा, वह जानता था कि दिल्ली का नया वज़ीर सफदर जंग मीर मन्नू के साथ ईर्ष्या करता है। इस कारण मीर मन्नू की स्थिति डावाँडोल थी। परिणामस्वरूप अहमद शाह अब्दाली ने 1748 ई० के अंत में पंजाब पर दूसरी बार आक्रमण किया। दिल्ली से कोई सहायता न मिलने के कारण मीर मन्नू ने अब्दाली के साथ संधि कर ली। इस संधि के अनुसार मीर मन्न ने पंजाब के चार महलों (जिलों) स्यालकोट, पसरूर, गुजरात और औरंगाबाद का वार्षिक लगान अब्दाली को देना मान लिया।

प्रश्न 4. अहमद शाह अब्दाली के पंजाब के तीसरे आक्रमण पर प्रकाश डालें (Throw light on the third invasion of Ahmad Shah Abdali on Punjab.)
उत्तर-अब्दाली ने नवंबर, 1751 ई० में पंजाब पर तीसरी बार आक्रमण किया। लाहौर पहुँच कर अब्दाली ने 3 महीनों तक भयंकर लूटमार मचाई। 6 मार्च, 1752 ई० को लाहौर के निकट अहमद शाह अब्दाली और मीर मन्नू की सेनाओं के बीच भीषण लड़ाई हुई। इस लड़ाई में मीर मन्नू पराजित हुआ तथा उसे बंदी बना लिया गया। अब्दाली मीर मन्नू की निर्भीकता एवं साहस से इतना प्रभावित हुआ कि उसने उसे अपनी ओर से पंजाब का सूबेदार नियुक्त कर दिया।

प्रश्न 5. अहमद शाह अब्दाली के पंजाब के चौथे आक्रमण का वर्णन करें। (Explain the fourth invasion of Ahmad Shah Abdali on Punjab.)
उत्तर-अहमद शाह अब्दाली ने नवंबर, 1756 ई० में पंजाब पर चौथी बार आक्रमण किया । इस आक्रमण का समाचार सुन कर पंजाब का सूबेदार अदीना बेग़ बिना मुकाबला किए दिल्ली भाग गया। अब्दाली ने अपने पुत्र तैमूर शाह को पंजाब का सूबेदार नियुक्त किया। अमृतसर के निकट सिखों एवं अफ़गानों में हुए एक घमासान युद्ध में बाबा दीप सिंह जी ने 11 नवंबर, 1757 ई० को शहीदी प्राप्त की। सिखों ने इस शहीदी का बदला लेने का निश्चय किया।

प्रश्न 6. तैमूर शाह कौन था ?
(Who was Timur Shah ?)
उत्तर-तैमूर शाह अफ़गानिस्तान के बादशाह अहमद शाह अब्दाली का पुत्र एवं उसका उत्तराधिकारी था। अहमद शाह अब्दाली ने उसे 1757 ई० में पंजाब का सूबेदार नियुक्त किया। अपने पिता की तरह तैमूर शाह सिखों का कट्टर दुश्मन था। उसने सिखों के प्रसिद्ध दुर्ग रामरौणी को नष्ट कर दिया था। इसके अतिरिक्त उसने हरिमंदिर साहिब, अमृतसर के पवित्र सरोवर को भी गंदगी से भरवा दिया था। परिणामस्वरूप 1758 ई० में सिखों ने मराठों एवं अदीना बेग के साथ मिलकर तैमूर शाह को पंजाब से भागने पर बाध्य कर दिया।

प्रश्न 7. पानीपत की तीसरी लड़ाई के तीन कारण बताएँ। (Write the main three causes of the Third Battle of Panipat.)
अथवा
पानीपत की तीसरी लड़ाई के कोई तीन कारण बताएँ।
(Write any three causes of the Third Battle of Panipat.)
उत्तर-

  1. मराठों द्वारा रुहेलखंड में की गई लूटमार के कारण रुहेल मराठों के विरुद्ध हो गए।
  2. मराठे भारत में हिंदू शासन को स्थापित करना चाहते थे। इसलिए मुस्लमान उनके विरुद्ध हो गए।
  3. मराठों ने दिल्ली और पंजाब पर अधिकार कर लिया था। इसे अब्दाली सहन नहीं कर सकता था।
  4. भारत में मराठों की बढ़ती हुई शक्ति के कारण जाट और राजपूत उनसे ईर्ष्या करने लग गए थे।

प्रश्न 8. पानीपत की तीसरी लड़ाई पर संक्षिप्त नोट लिखें। (Write a brief note on Third Battle of Panipat.)
उत्तर–पानीपत की तीसरी लड़ाई का पंजाब तथा भारत के इतिहास में विशेष स्थान है। यह लड़ाई 14 जनवरी, 1761 ई० को मराठों और अहमद शाह अब्दाली के मध्य हुई। पानीपत के मैदान में अब्दाली तथा मराठों के मध्य एक घमासान युद्ध हुआ। इस युद्ध में मराठा सेना का नेतृत्व सदाशिव राव भाऊ कर रहा था। इस लड़ाई में मराठों को ज़बरदस्त पराजय का सामना करना पड़ा। उनके बड़ी संख्या में सैनिक मारे गए। परिणामस्वरूप मराठों की शक्ति को एक गहरा धक्का पहुँचा। पानीपत की तीसरी लड़ाई का वास्तविक लाभ सिखों को मिला तथा उनकी शक्ति में पर्याप्त वृद्धि हो गई।

प्रश्न 9. पानीपत की तीसरी लड़ाई के क्या परिणाम निकले ? (What were the results of the Third Battle of Panipat ?)
अथवा
पानीपत की तीसरी लड़ाई के कोई तीन नतीजे लिखिए।
(Write down any three results of the Third Battle of Panipat.)
उत्तर-पानीपत की तीसरी लडाई के दूरगामी परिणाम निकले। इस लड़ाई में मराठों की भारी जान और माल की क्षति हुई। पेशवा बालाजी बाजी राव इस अपमानजनक पराजय का शोक सहन न कर सका एवं वह शीघ्र ही इस दुनिया को अलविदा कह गया। इस लड़ाई में उनकी पराजय से मराठों की शक्ति एवं सम्मान को गहरा धक्का लगा। परिणामस्वरूप भारत में हिंदू साम्राज्य स्थापित करने का मराठों का स्वप्न धराशायी हो गया। इस लड़ाई में पराजय के कारण मराठे आपसी झगड़ों में उलझ गए। इस कारण उनकी आपस में एकता समाप्त हो गई।

प्रश्न 10. बड़ा घल्लूघारा (दूसरा खूनी हत्याकांड) पर संक्षिप्त नोट लिखिए।
[Write a short note on Wadda Ghallughara (Second Bloody Carnage).]
अथवा
दूसरे बड़े घल्लूघारे पर संक्षेप नोट लिखें। (Write a short note on Second Big Ghallughara.)
अथवा
बड़ा घल्लूघारा (अहमद शाह अब्दाली का छठा हमला) पर एक संक्षिप्त नोट लिखो।
[Write a brief note on Wadda Ghallughara (Sixth invasion of Ahmad Shah Abdali.)]
अथवा
दूसरे अथवा बड़े घल्लूघारे पर संक्षेप नोट लिखो। .
(Write a short note on Second or Wadda Ghallughara.)
उत्तर-अहमद शाह अब्दाली सिखों के इस बढ़ते हुए प्रभाव को कुचलना चाहता था। उसने 5 फरवरी, 1762 ई० को सिखों को मालेरकोटला के निकट गाँव कुप में घेर लिया। इस घेराव में 25 से 30 हज़ार सिखों की हत्या कर दी गई। सिख इतिहास में यह घटना बड़ा घल्लूघारा के नाम से जानी जाती है। इस घल्लूघारे में सिखों की भारी प्राण हानि से अब्दाली को विश्वास था कि इससे सिखों की शक्ति को गहरा आघात लगेगा जो गलत प्रमाणित हुआ।

प्रश्न 11. अफ़गानों के विरुद्ध लड़ाई में सिखों ने अपनी शक्ति किस प्रकार संगठित की? (How did the Sikhs organise their power in their struggle against the Afghans ?).
उत्तर-

  1. अफग़ानों के विरुद्ध लड़ाई में सिखों ने अपने आपको जत्थों में संगठित कर लिया।
  2. श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी की उपस्थिति में सरबत खालसा द्वारा प्रस्ताव पास किए जाते थे। गुरमता का सभी सिख पालन करते थे।
  3. अहमद शाह अब्दाली कई वर्षों तक अफ़गानिस्तान में होने वाले विद्रोहों के कारण सिखों की ओर ध्यान नहीं दे सका था।
  4. पंजाब के लोगों एवं ज़मींदारों ने भी सिख-अफ़गान संघर्ष में सिखों को पूर्ण सहयोग दिया।

प्रश्न 12. सिखों की शक्ति को कुचलने में अहमद शाह अब्दाली असफल क्यों रहा ?
What were the causes of failure of Ahmad Shah Abdali against the Sikhs ?)
अथवा
अहमद शाह अब्दाली की सिखों के विरुद्ध असफलता के क्या कारण थे ?
(What were the causes of failure of Ahmad Shah Abdali against the Sikhs ?)
अथवा
अहमद शाह अब्दाली के सिखों के विरुद्ध असफलता के कारण लिखें। (Write causes of the failure of Ahmad Shah Abdali against the Sikhs.)
उत्तर-

  1. सिखों की जीत का सबसे बड़ा कारण उनका दृढ़ निश्चय और आत्म-विश्वास था। उन्होंने अब्दाली के घोर अत्याचारों के बावजूद भी उत्साह न छोड़ा।
  2. सिखों ने छापामार युद्ध नीति अपनाई। परिणामस्वरूप वे अब्दाली को मात देने में सफल रहे।
  3. अफ़गानिस्तान में बार-बार विद्रोह हो जाने के कारण अब्दाली के सैनिक परेशान हो चुके थे।
  4. सिखों के नेता भी बड़े योग्य थे। वे शत्रुओं के विरुद्ध एकजुट होकर लड़े।

प्रश्न 13. अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों ने पंजाब पर क्या राजनीतिक प्रभाव डाला ?
(What were the political effects of Ahmad Shah Abdali’s invasions over Punjab ?)
उत्तर-

  1. अहमद शाह अब्दाली ने 1752 ई० में पंजाब को अफ़गानिस्तान में शामिल कर लिया।
  2. अब्दाली ने 1761 ई० में पानीपत की तीसरी लड़ाई के परिणामस्वरूप पंजाब में मराठों की शक्ति का अंत कर दिया।
  3. अहमद शाह अब्दाली के लगातार आक्रमणों के कारण पंजाब में अराजकता फैल गई।
  4. पंजाब में सिखों को अपनी शक्ति बढ़ाने का अवसर मिला।

प्रश्न 14. अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के कारण पंजाब पर पड़े महत्त्वपूर्ण प्रभावों का वर्णन करो।
(Describe important effects of Ahmad Shah Abdali’s invasions over Punjab.)
उत्तर-

  1. पंजाब को 1752 ई० में अफ़गानिस्तान में सम्मिलित कर लिया गया। परिणामस्वरूप पंजाब से सदैव के लिए मुग़ल शक्ति का अंत हो गया।
  2. अब्दाली के आक्रमणों के कारण पंजाब को भारी आर्थिक हानि का सामना करना पड़ा।
  3. अब्दाली ने आक्रमणों के दौरान अनेक ऐतिहासिक इमारतों और साहित्य को नष्ट कर दिया था।
  4. अब्दाली के इन आक्रमणों के कारण पंजाबियों ने धन को जोड़ने की अपेक्षा उसे खुला खर्च करना आरंभ कर दिया।
  5. इन हमलों के कारण पंजाबी निडर और बहादुर बन गए।

प्रश्न 15. अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के क्या सामाजिक प्रभाव पड़े ?
(What were the social effects of the invasions of Ahmad Shah Abdali ?)
उत्तर-

  1. पंजाबियों के चरित्र में एक महत्त्वपूर्ण परिवर्तन आया। अब वे अधिक धन व्यय करने लगे।
  2. अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के कारण पंजाब में अनाचार को बढ़ावा मिला।
  3. लोग बहुत स्वार्थी हो गए थे। वे कोई पाप करने से नहीं डरते थे।
  4. अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के परिणामस्वरूप पंजाब के लोग बहादुर और निडर बन गए।
  5. अब्दाली के आक्रमणों के दौरान लूटमार के कारण सिखों एवं मुसलमानों में आपसी शत्रुता बढ़ गई।

प्रश्न 16. अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के क्या आर्थिक परिणाम निकले ?
(What were the economic consequences of the invasions of Ahmad Shah Abdali ?)
उत्तर-

  1. अहमद शाह अब्दाली अपने प्रत्येक आक्रमण के समय भारी संपत्ति लूट कर अपने साथ ले जाता था। इसने पंजाब को कंगाल बना दिया।
  2. अफ़गान सेनाएँ कूच करते समय रास्ते में आने वाले खेतों को उजाड़ देती थीं। इस कारण कृषि का काफी नुकसान हो जाता था।
  3. पंजाब में नियुक्त भ्रष्ट कर्मचारियों ने भी लोगों को प्रत्येक पक्ष से लूटने के लिए कोई प्रयास शेष न छोड़ा।
  4. अराजकता के वातावरण में पंजाब के व्यापार को गहरा आघात लगा।

वस्तुनिष्ठ प्रश्न (Objective Type Questions)

(i) एक शब्द से एक पंक्ति तक के उत्तर (Answer in One Word to One Sentence)

प्रश्न 1. अहमद शाह अब्दाली कौन था ?
उत्तर-अफ़गानिस्तान का शासक।

प्रश्न 2. अहमद शाह अब्दाली कहाँ का शासक था?
उत्तर- अफ़गानिस्तान।

प्रश्न 3. अहमद शाह अब्दाली ने भारत पर कितनी बार आक्रमण किए ?
उत्तर-8.

प्रश्न 4. अहमद शाह अब्दाली के पंजाब पर आक्रमणों का एक कारण बताएँ। .
अथवा
अहमद शाह अब्दाली के भारत पर बार-बार आक्रमण करने का कोई एक कारण बताएँ।
उत्तर-अहमद शाह अब्दाली अपने साम्राज्य का विस्तार करना चाहता था।

प्रश्न 5. अहमद शाह अब्दाली ने किस समय के दौरान पंजाब पर आक्रमण किए ?
उत्तर-1747 ई० से 1767 ई० के

प्रश्न 6. अहमद शाह अब्दाली ने पंजाब पर प्रथम आक्रमण कब किया ?
उत्तर-1747-48 ई०।

प्रश्न 7. अहमद शाह अब्दाली ने पंजाब के ऊपर दूसरा आक्रमण कब किया ?
उत्तर-1748-1749 ई०।

प्रश्न 8. मीर मन्नू लाहौर का सूबेदार कब बना ?
उत्तर-1748 ई०।

प्रश्न 9. अहमद शाह अब्दाली ने पंजाब पर कब अधिकार कर लिया था ?
अथवा
पंजाब में मुग़ल राज का अंत कब हुआ ?
उत्तर-1752 ई०।

प्रश्न 10. अहमद शाह अब्दाली ने पंजाब का पहला सूबेदार किसे नियुक्त किया था ?
उत्तर-मीर मन्नू को।

प्रश्न 11. अहमद शाह अब्दाली ने मीर मन्नू को किस उपाधि से सम्मानित किया था ?
उत्तर-फरजंद खाँ बहादुर रुस्तम-ए-हिंद।

प्रश्न 12. अहमद शाह अब्दाली ने अपने चौथे आक्रमण के दौरान किसे पंजाब का सूबेदार नियुक्त किया था ?
उत्तर-तैमूर शाह।

प्रश्न 13. तैमूर शाह कौन था ?
उत्तर-अहमद शाह अब्दाली का पुत्र।

प्रश्न 14. बाबा दीप सिंह जी कौन थे ?
उत्तर-शहीद मिसल के प्रसिद्ध नेता।

प्रश्न 15. बाबा दीप सिंह ने कब तथा कहाँ लड़ते हुए शहीदी प्राप्त की थी ?
उत्तर-11 नवंबर, 1757 ई० को अमृतसर में।

प्रश्न 16. मराठों ने पंजाब पर कब अधिकार कर लिया था ?
उत्तर-1758 ई०।

प्रश्न 17. मराठों ने किसे पंजाब का प्रथम सूबेदार नियुक्त किया था ?
उत्तर-अदीना बेग़ को।

प्रश्न 18. पानीपत की तीसरी लड़ाई कब हुई ?
उत्तर-14 जनवरी, 1761 ई०

प्रश्न 19. पानीपत की तीसरी लड़ाई किनके मध्य हुई?
उत्तर-मराठों एवं अहमद शाह अब्दाली।

प्रश्न 20. ‘बड़ा घल्लूघारा’ कब हुआ ?
अथवा
दूसरा बड़ा घल्लूघारा कब हुआ ?
उत्तर-5 फरवरी, 1762 ई०। ।

प्रश्न 21. दूसरा घल्लूघारा अथवा बड़ा घल्लूघारा कहाँ हुआ ?
उत्तर-कुप में।

प्रश्न 22. बड़ा घल्लूघारा कब और कहाँ हुआ ?
उत्तर-1762 ई० कुप में।

प्रश्न 23. बड़े घल्लूघारे के लिए कौन जिम्मेवार था ?
उत्तर-अहमद शाह अब्दाली।

प्रश्न 24. सिखों ने सरहिंद पर कब अधिकार किया था ?
उत्तर-14 जनवरी, 1764 ई०।

प्रश्न 25. जैन खाँ कौन था?
उत्तर-1764 ई० में सरहिंद का सूबेदार।

प्रश्न 26. सिखों ने लाहौर पर कब कब्जा किया ?
उत्तर-1765 ई०।

प्रश्न 27. अब्दाली के विरुद्ध सिखों की सफलता का कोई एक मुख्य कारण बताएँ।
उत्तर-सिखों द्वारा अपनाई गई गुरिल्ला-युद्ध नीति।

प्रश्न 28. अहमद शाह अब्दाली के हमलों का कोई एक प्रभाव लिखें।
उत्तर-अब्दाली ने 1752 ई० में पंजाब पर अधिकार कर लिया था।

प्रश्न 29. अहमद शाह अब्दाली के पंजाब पर आक्रमणों का कोई एक मुख्य आर्थिक प्रभाव बताएँ।
उत्तर-पंजाब को भारी आर्थिक विनाश का सामना करना पड़ा।

(ii) रिक्त स्थान भरें (Fill in the Blanks)

प्रश्न 1. अहमद शाह अब्दाली…………….का शासक था।
उत्तर-(अफ़गानिस्तान)

प्रश्न 2. अहमद शाह अब्दाली 1747 ई० में………..का शासक बना।
उत्तर-(अफ़गानिस्तान)

प्रश्न 3. नादर शाह की हत्या के बाद अफ़गानिस्तान का बादशाह ………… बना।
उत्तर-(अहमद शाह अब्दाली)

प्रश्न 4. अहमद शाह अब्दाली ने पंजाब के ऊपर कुल ……………. हमले किये।
उत्तर-(आठ)

प्रश्न 5. अहमद शाह अब्दाली ने भारत पर प्रथम बार…………में आक्रमण किया।
उत्तर-(1747-48 ई०)

प्रश्न 6. अहमद शाह अब्दाली ने…………में पंजाब पर कब्जा कर लिया।
उत्तर-(1752 ई०)

प्रश्न 7. 1752 ई० में अहमद शाह अब्दाली ने………….को पंजाब का सूबेदार नियुक्त किया।
उत्तर-(मीर मन्नू)

प्रश्न 8. अहमद शाह अब्दाली ने 1757 ई० में…………….को पंजाब का सूबेदार नियुक्त किया।
उत्तर-(तैमूर शाह)

प्रश्न 9. बाबा दीप सिंह जी ने………………को शहीदी प्राप्त की।
उत्तर-(11 नवंबर, 1757 ई०)

प्रश्न 10. पानीपत की तीसरी लड़ाई……………………में हुई।
उत्तर-(14 जनवरी, 1761 ई०)

प्रश्न 11. पानीपत की तीसरी लड़ाई के समय मराठों का पेशवा………………था।
उत्तर-(बालाजी बाजीराव)

प्रश्न 12. पानीपत की तीसरी लड़ाई के समय मराठा सेना का नेतृत्व…………………ने किया था।
उत्तर-(सदाशिव राव भाऊ)

प्रश्न 13. पानीपत की तीसरी लड़ाई में…………………की हार हुई।।
उत्तर-(मराठों)

प्रश्न 14. बड़ा घल्लूघारा या दूसरा घल्लूघारा………………..में हुआ।
उत्तर-(1762 ई०)

प्रश्न 15. बड़ा घल्लूघारा………………….में हुआ।
उत्तर-(कुप)

प्रश्न 16. 1764 ई० में बाबा आला सिंह ने सरहिंद के सूबेदार…………….को कड़ी पराजय दी।
उत्तर-(जैन खाँ)

प्रश्न 17. अहमद शाह अब्दाली ने पंजाब पर कुल………………..आक्रमण किए।
उत्तर-(आठ)

प्रश्न 18. अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के परिणामस्वरूप पंजाब में……………… राज का अंत हुआ।
उत्तर-(मुग़ल)

प्रश्न 19. अहमद शाह अब्दाली की सिखों के हाथों हुई पराजय का एक मुख्य कारण सिखों की………………युद्ध नीति थी।
उत्तर-(गुरिल्ला)

(iii) ठीक अथवा गलत (True or False)

नोट-निम्नलिखित में से ठीक अथवा गलत चुनें—

प्रश्न 1. अहमद शाह अब्दाली अफ़गानिस्तान का शासक था।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 2. अहमद शाह अब्दाली 1747. ई० में अफ़गानिस्तान का शासक बना।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 3. अहमद शाह अब्दाली ने पंजाब पर प्रथम बार 1749 ई० में आक्रमण किया।
उत्तर-गलत

प्रश्न 4. अहमद शाह अब्दाली के भारत आक्रमण का प्रमुख उद्देश्य यहाँ से धन प्राप्त करना था।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 5. अहमद शाह अब्दाली ने भारत पर कुल छः आक्रमण किए।
उत्तर-गलत

प्रश्न 6. मीर मन्नू ने 1748 ई० में मन्नूपुर की लड़ाई में अहमद शाह अब्दाली को एक कड़ी पराजय दी।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 7. अहमद शाह अब्दाली ने 1751 ई० में पंजाब पर कब्जा कर लिया था।
उत्तर-गलत

प्रश्न 8. तैमूर शाह बाबर का पुत्र था।
उत्तर-गलत

प्रश्न 9. बाबा दीप सिंह जी ने 10 नवंबर, 1757 ई० को शहीदी प्राप्त की थी।
उत्तर-गलत

प्रश्न 10. अहमद शाह अब्दाली और मराठों के मध्य पानीपत की तीसरी लड़ाई 14 जनवरी, 1761 ई० को हुई।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 11. बालाजी बाजीराव के पुत्र का नाम विश्वास राव था।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 12. सिखों ने 1761 ई० में लाहौर पर कब्जा कर लिया था।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 13. 1761 ई० में लाहौर पर अधिकार करने के कारण जस्सा सिंह आहलूवालिया को सुल्तान-उल-कौम की उपाधि से सम्मानित किया गया।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 14. अहमद शाह अब्दाली के छठे आक्रमण के समय बड़ा घल्लूघारा हुआ।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 15. बड़ा घल्लूघारा 1762 ई० में हुआ।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 16. बड़ा घल्लूघारा काहनूवान के स्थान पर हुआ था।
उत्तर-गलत

प्रश्न 17. सिखों ने सरहिंद पर 1764 ई० में आक्रमण किया।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 18. सिखों ने 1765 ई० में लाहौर पर कब्जा करके अपनी स्वतंत्रता की घोषणा की थी।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 19. अहमद शाह अब्दाली की मृत्यु के बाद नादिर शाह अफ़ग़ानिस्तान का शासक बना था।
उत्तर-गलत

(iv) बहु-विकल्पीय प्रश्न (Multiple Choice Questions)

नोट-निम्नलिखित में से ठीक उत्तर का चयन कीजिए—

प्रश्न 1. अहमद शाह अब्दाली कौन था ?
(i) अफ़गानिस्तान का शासक
(ii) ईरान का शासक
(iii) चीन का शासक
(iv) भारत का शासक।
उत्तर-(i)

प्रश्न 2. अहमद शाह अब्दाली ने पंजाब पर कितने आक्रमण किये ?
(i) सात
(ii) पाँच
(iii) सत्रह
(iv) आठ।
उत्तर-(iv)

प्रश्न 3. अहमद शाह अब्दाली ने पंजाब पर प्रथम आक्रमण कब किया ?
(i) 1745 ई० में
(ii) 1746 ई० में
(iii) 1747 ई० में
(iv) 1752 ई० में।
उत्तर-(iii)

प्रश्न 4. अहमद शाह अब्दाली ने अपने कौन-से आक्रमण के बाद पंजाब पर कब्जा कर लिया था ?
(i) पहले
(ii) दूसरे
(iii) तीसरे
(iv) चौथे।
उत्तर-(iii)

प्रश्न 5. अहमद शाह अब्दाली ने पंजाब पर कब्जा कब किया ?
अथवा
पंजाब पर मुगल साम्राज्य का अंत कब हुआ ?
(i) 1748 ई० में
(ii) 1751 ई० में
(iii) 1752 ई० में
(iv) 1761 ई० में।
उत्तर-(iii)

प्रश्न 6. तैमूर शाह पंजाब का सूबेदार कब बना ?
(i) 1751 ई० में
(ii) 1752 ई० में
(iii) 1757 ई० में
(iv) 1759 ई० में।
उत्तर-(iii)

प्रश्न 7. बाबा दीप सिंह जी ने कब शहीदी प्राप्त की ?
(i) 1752 ई० में
(ii) 1755 ई० में
(iii) 1756 ई० में
(iv) 1757 ई० में।
उत्तर-(iv)

प्रश्न 8. पानीपत की तीसरी लड़ाई कब हुई ?
(i) 1758 ई० में
(ii) 1759 ई० में
(iii) 1760 ई० में
(iv) 1761 ई० में।
उत्तर-(iv)

प्रश्न 9. पानीपत की तीसरी लड़ाई में मराठों को किसने पराजित किया था ?
(i) जस्सा सिंह आहलूवालिया ने
(ii) जस्सा सिंह रामगढ़िया ने
(iii) अहमद शाह अब्दाली ने
(iv) मीर मन्नू ने।
उत्तर-(iii)

प्रश्न 10. बड़ा घल्लूघारा कब हुआ ?
(i) 1746 ई० में
(ii) 1748 ई० में
(iii) 1761 ई० में
(iv) 1762 ई० में।
उत्तर-(iv)

प्रश्न 11. बड़ा घल्लूघारा कहाँ हुआ ?
(i) काहनूवान में
(ii) कुप में
(iii) करतारपुर में
(iv) जालंधर में।
उत्तर-(ii)

प्रश्न 12. सिखों ने सरहिंद पर कब अधिकार कर लिया ?
(i) 1761 ई० में
(ii) 1762 ई० में
(iii) 1763 ई० में
(iv) 1764 ई० में।
उत्तर-(iv)

प्रश्न 13. सिखों ने लाहौर पर कब अधिकार किया ?
अथवा
सिखों ने अपना पहला सिक्का कब जारी किया ?
(i) 1761 ई० में
(ii) 1762 ई० में
(iii) 1764 ई० में
(iv) 1765 ई० में।
उत्तर-(iv)

Long Answer Type Question

प्रश्न 1. अहमद शाह अब्दाली कौन था ? उसके पंजाब पर आक्रमणों के क्या कारण थे ? (Who was Ahmad Shah Abdali ? What were the reasons of his Punjab invasions ?)
अथवा
अहमद शाह अब्दाली के पंजाब पर आक्रमणों के क्या कारण थे ? (What were the causes of the attacks of Ahmad Shah Abdali on Punjab ?)
अथवा
अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के कारणों का संक्षिप्त वर्णन कीजिए। (Give a brief account of the causes of Ahmad Shah Abdali’s invasions.)
उत्तर-

  1. अहमद शाह अब्दाली कौन था ?-अहमद शाह अब्दाली अफगानिस्तान का शासक था। उसने 1747 ई० से 1772 ई० तक शासन किया।
  2. अब्दाली के आक्रमणों के मुख्य कारण-अहमद शाह अब्दाली के पंजाब पर आक्रमणों के मुख्य कारण निम्नलिखित थे
    • अब्दाली की महत्त्वाकाँक्षा-अहमद शाह अब्दाली बहुत महत्त्वाकाँक्षी शासक था। वह अफ़गानिस्तान के अपने छोटे-से साम्राज्य से संतुष्ट नहीं था। अत: वह पंजाब तथा भारत के अन्य प्रदेशों पर विजय प्राप्त कर अपने साम्राज्य का विस्तार करना चाहता था।
    • भारत की अपार धन-दौलत-अहमद शाह, अब्दाली के लिए एक शक्तिशाली साम्राज्य की स्थापना के लिए धन की बहुत आवश्यकता थी। यह धन उसे अपने साम्राज्य अफ़गानिस्तान से प्राप्त नहीं हो सकता था, क्योंकि यह प्रदेश आर्थिक दृष्टि से बहुत पिछड़ा हुआ था। दूसरी ओर उसे यह धन भारत-जो अपनी अपार धन-दौलत के लिए विश्व भर में प्रसिद्ध था-से मिल सकता था।
    • अफ़गानिस्तान में अपनी स्थिति को सुदृढ़ करना-अहमद शाह अब्दाली एक साधारण परिवार से संबंध रखता था। इसलिए 1747 ई० में नादिरशाह की हत्या के पश्चात् जब वह अफ़गानिस्तान का शासक बना तो वहाँ के अनेक सरदारों ने इस कारण उसका विरोध किया। अतः अहमद शाह अब्दाली अफ़गानिस्तान में अपनी स्थिति सुदृढ़ करने के उद्देश्य से विदेशी युद्ध करना चाहता था।
    • भारत की अनुकूल राजनीतिक दशा-1707 ई० में औरंगज़ेब की मृत्यु के पश्चात् महान् मुग़ल साम्राज्य तीव्रता से पतन की ओर अग्रसर हो रहा था। औरंगज़ेब के उत्तराधिकारी अयोग्य निकले। वे अपना अधिकाँश समय सुरा एवं सुंदरी संग व्यतीत करते थे। अतः साम्राज्य में चारों ओर अराजकता फैल गई। इस स्थिति का लाभ उठा कर अहमद शाह अब्दाली ने पंजाब पर आक्रमण करने का निश्चय किया।
    • शाहनवाज़ खाँ द्वारा निमंत्रण-1745 ई० में जकरिया खाँ की मृत्यु के बाद उसका बड़ा पुत्र याहिया खाँ लाहौर का नया सूबेदार बना। इस बात को उसका छोटा भाई शाहनवाज़ खाँ सहन न कर सका। वह काफ़ी समय से लाहौर की सूबेदारी प्राप्त करने का स्वप्न ले रहा था। ऐसी स्थिति में शाहनवाज़ खाँ ने अहमद शाह अब्दाली को भारत पर आक्रमण करने का निमंत्रण भेजा। अब्दाली ऐसे ही स्वर्ण अवसर की तलाश में था। अतः उसने भारत पर आक्रमण करने का निर्णय लिया।

प्रश्न 2. अहमद शाह अब्दाली ने पंजाब पर कब और कितने आक्रमण किए ? उसके मुख्य आक्रमणों की संक्षिप्त जानकारी दें।
(When and how many times did Ahmad Shah Abdali invade Punjab ? Give a brief account of his main invasions.) .
उत्तर-अहमद शाह अब्दाली ने पंजाब पर 1747 ई० से 1767 ई० के मध्य 8 बार आक्रमण किए। लाहौर के सूबेदार शाहनवाज़ खाँ के निमंत्रण पर अहमद शाह अब्दाली ने दिसंबर, 1747 ई० में भारत पर पहली बार आक्रमण किया। जब वह पंजाब पहुँचा तो शाहनवाज़ खाँ ने अब्दाली को सहयोग देने से इंकार कर दिया। अब्दाली ने शाहनवाज़ खाँ को हरा दिया और वह दिल्ली की ओर भाग गया। मन्नूपुर में हुई लड़ाई में मुईन-उल-मुल्क (मीर मन्नू) ने अब्दाली को कड़ी पराजय दी। इससे प्रसन्न होकर मुग़ल बादशाह ने मीर मन्नू को लाहौर का सूबेदार नियुक्त कर दिया। अब्दाली ने अपनी पराजय का बदला लेने के लिए 1748 ई० के अंत में पंजाब पर दूसरी बार आक्रमण किया। इस आक्रमण में दिल्ली से पूरी सहायता न मिलने के कारण मीर मन्नू की पराजय हुई और उसने अब्दाली के साथ संधि कर ली। इस संधि के अनुसार मीर मन्नू अब्दाली को समय पर लगान नहीं भेज़ सका था। इसलिए अब्दाली ने 1751-52 ई० में पंजाब पर तीसरी बार आक्रमण किया। इस आक्रमण के दौरान अब्दाली ने पंजाब पर अधिकार कर लिया। अब्दाली ने 1759-61 ई० के मध्य पंजाब पर अपना पाँचवां आक्रमण किया। इस आक्रमण के दौरान 14 जनवरी, 1761 ई० को पानीपत की तीसरी लड़ाई हुई। इस लड़ाई में अब्दाली ने मराठों को कड़ी पराजय दी। 1761-62 ई० में अब्दाली द्वारा पंजाब पर किया गया छठा आक्रमण सबसे प्रसिद्ध है। इस आक्रमण के दौरान 5 फरवरी, 1762 ई० को अब्दाली ने मालेरकोटला के निकट गाँव कुप में 25,000 से 30,000 सिखों का कत्ल कर दिया था। यह घटना इतिहास में बड़ा घल्लूघारा के नाम से भी जानी जाती है।

प्रश्न 3. अहमद शाह अब्दाली के प्रथम आक्रमण के संबंध में आप क्या जानते हैं ? (What do you know about the first invasion of Ahmad Shah Abdali ?)
अथवा
पंजाब पर अब्दाली के प्रथम आक्रमण पर एक संक्षिप्त नोट लिखें। (Write a short note on the Abdali’s first invasion over Punjab.)
उत्तर-अहमद शाह अब्दाली अफ़गानिस्तान का बादशाह था। उसने पंजाब के सूबेदार शाहनवाज़ खाँ के निमंत्रण पर 1747 ई० में भारत पर आक्रमण करने का निर्णय किया। वह बिना किसी विरोध के जनवरी, 1748 ई० को लाहौर के निकट शाहदरा पहुँच गया। इसी मध्य कमरुद्दीन ने शाहनवाज़ खाँ के साथ समझौता कर लिया। परिणामस्वरूप शाहनवाज़ खाँ ने अब्दाली का साथ देने से इन्कार कर दिया। इस बात पर अब्दाली को बहुत गुस्सा आया। उसने शाहनवाज़ खाँ को पराजित करके 10 जनवरी, 1748 ई० को लाहौर पर अधिकार कर लिया। शाहनवाज़ खाँ दिल्ली की तरफ भाग गया। लाहौर पर अधिकार करने के बाद अब्दाली ने वहाँ भारी लूटपाट की। इसके बाद वह दिल्ली की ओर बढ़ा। वज़ीर कमरुद्दीन उसका मुकाबला करने के लिए अपनी सेना समेत आगे बढ़ा। सरहिंद के निकट हुई लड़ाई में कमरुद्दीन मारा गया। मन्नूपुर में 11 मार्च, 1748 ई० को एक घमासान युद्ध में कमरुद्दीन के लड़के मुइन-उल-मुल्क ने अब्दाली को करारी हार दी। मुइन-उल-मुल्क की इस वीरता से प्रभावित होकर मुहम्मद शाह ने उसे लाहौर का सूबेदार नियुक्त कर दिया। वह मीर मन्नू के नाम से प्रसिद्ध हुआ। इस प्रकार अब्दाली का प्रथम आक्रमण असफल रहा।

प्रश्न 4. अहमद शाह अब्दाली के पंजाब पर दूसरे आक्रमण का संक्षिप्त विवरण दीजिए। (Briefly explain the second invasion of Ahmad Shah Abdali on Punjab.)
अथवा
अहमद शाह अब्दाली के दूसरे आक्रमण का संक्षेप में वर्णन करें। (Give a brief account of the second invasion of Ahmad Shah Abdali.)
उत्तर-अहमद शाह अब्दाली अपने पहले आक्रमण के दौरान हुई अपनी पराजय का बदला लेना चाहता था। दूसरे, वह इस बात को जानता था कि दिल्ली का नया वज़ीर सफदर जंग मीर मन्नू के साथ बड़ी ईर्ष्या करता है। इस कारण मीर मन्नू की स्थिति बड़ी डावाँडोल थी। इन्हीं कारणों से अहमद शाह अब्दाली ने 1748 ई० के अंत में पंजाब पर दूसरी बार आक्रमण किया। मीर मन्नू भी अब्दाली का सामना करने के लिए आगे बढ़ा। दिल्ली से कोई सहायता न मिलने के कारण मीर मन्नू को अपनी पराजय निश्चित दिखाई दे रही थी। इसलिए उसने अब्दाली के साथ संधि कर ली। इस संधि के अनुसार मीर मन्नू ने पंजाब के चार महलों (जिलों) स्यालकोट, पसरूर, गुजरात और औरंगाबाद का वार्षिक लगान अब्दाली को देना मान लिया। इनका वार्षिक लगान 14 लाख रुपए बनता था। जब मीर मन्नू अहमद शाह अब्दाली के साथ उलझा हुआ था तब सिखों ने जस्सा सिंह आहलूवालिया के नेतृत्व में लाहौर में लूटमार की।

प्रश्न 5. अहमद शाह अब्दाली के पंजाब के तीसरे आक्रमण पर प्रकाश डालें। (Throw light on the third invasion of Ahmad Shah Abdali on Punjab.)
उत्तर-पंजाब में सिखों की लूटमार और मीर मन्नू के विरुद्ध नासिर खाँ के विद्रोह के कारण अराजकता फैल गई थी। परिणामस्वरूप मीर मन्नू अहमद शाह अब्दाली को दिए जाने वाले 14 लाख रुपए न भेज सका। इस कारण अब्दाली ने नवंबर, 1751 ई० में पंजाब पर तीसरी बार आक्रमण किया। वह अपनी सेना सहित बड़ी तेजी के साथ लाहौर की ओर बढ़ रहा था। जब इस आक्रमण का समाचार लाहौर के लोगों को मिला तो उनमें से बहुत अब्दाली की भयंकर लूटमार की आशंका से घबरा कर लाहौर छोड़ कर भाग गए। लाहौर पहुँच कर अब्दाली ने 3 महीनों तक भारी लूटमार मचाई। मीर मन्नू इस मध्य दिल्ली से कोई सहायता मिलने की प्रतीक्षा करता रहा। 6 मार्च, 1752 ई० को लाहौर के निकट अहमद शाह अब्दाली और मीर मन्नू की सेनाओं के बीच भयंकर लड़ाई हुई। इस लड़ाई में मीर मन्नू पराजित हुआ तथा उसे बंदी बना लिया गया। अब्दाली मीर मन्नू की निर्भीकता एवं साहस से इतना प्रभावित हुआ कि उसने उसे अपनी ओर से पंजाब का सूबेदार नियुक्त कर दिया।

प्रश्न 6. अहमद शाह अब्दाली के पंजाब के चौथे आक्रमण का वर्णन करें। (Explain the fourth invasion of Ahmad Shah Abdali on Punjab.)
उत्तर-1753 ई० में मीर मन्नू की मृत्यु के पश्चात् उसकी विधवा मुगलानी बेग़म पंजाब की सूबेदार बनी। वह एक चरित्रहीन स्त्री थी। इस कारण सारे पंजाब में अराजकता फैल गई। नए मुग़ल बादशाह आलमगीर दूसरे के आदेश पर मुगलानी बेग़म को जेल में डाल दिया गया। अदीना बेग़ को पंजाब का नया सूबेदार बनाया गया। जेल से मुगलानी बेग़म ने पत्रों द्वारा बहुत-से महत्त्वपूर्ण रहस्य अहमद शाह अब्दाली को बताए। इसके अतिरिक्त अब्दाली पंजाब पर किसी मुग़ल सूबेदार की नियुक्ति को कदाचित सहन नहीं करता था। इन्हीं कारणों से अब्दाली ने नवंबर, 1756 ई० में पंजाब पर चौथी बार आक्रमण किया। इस आक्रमण का समाचार सुन कर अदीना बेग़ बिना मुकाबला किए दिल्ली भाग गया। अब्दाली ने अपने पुत्र तैमूर शाह को पंजाब का सूबेदार नियुक्त किया। अमृतसर के निकट सिखों एवं अफ़गानों में हुए एक घमासान युद्ध में बाबा दीप सिंह जी ने शहीदी प्राप्त की। सिखों ने इस शहीदी का बदला लेने के उद्देश्य से लाहौर में भयंकर लूटमार की।

प्रश्न 7. पानीपत की तीसरी लड़ाई पर एक नोट लिखें।
उत्तर–पानीपत की तीसरी लड़ाई 14 जनवरी, 1761 ई० को मराठों एवं अहमदशाह अब्दाली के मध्य हुई। इस लड़ाई का मुख्य कारण यह था कि दोनों शक्तियाँ उत्तरी भारत में अपनी-अपनी शक्ति की स्थापना करना चाहती थीं। 1758 ई० में मराठों ने तैमूर शाह जो कि अहमदशाह अब्दाली का पुत्र तथा पंजाब का सूबेदार था, को पराजित करके पंजाब पर अधिकार कर लिया था। यह अहमदशाह अब्दाली की शक्ति के लिए एक चुनौती थी। अतः उसने 1759 ई० में पंजाब पर आक्रमण करके उस पर कब्जा कर लिया। इसके बाद उसने दिल्ली की ओर कदम बढ़ाए। पानीपत के मैदान में अब्दाली,तथा मराठों के मध्य एक घमासान युद्ध हुआ। इस युद्ध में मराठा सेना का नेतृत्व सदाशिव राव भाऊ कर रहा था। इस लड़ाई में मराठों को ज़बरदस्त पराजय का सामना करना पड़ा।

पानीपत की तीसरी लड़ाई के दूरगामी परिणाम निकले। इस लड़ाई में मराठों की भारी जान-माल की हानि हुई। पेशवा बालाजी बाजी राव इस विनाशकारी पराजय को सहन न कर सका तथा शीघ्र ही चल बसा। इस लड़ाई से पूर्व मराठों की गणना भारत की प्रमुख शक्तियों में की जाती थी। इस लड़ाई में पराजय के कारण उनकी शक्ति तथा गौरव को गहरी चोट पहुँची। परिणामस्वरूप भारत में हिंदू साम्राज्य को स्थापित करने का मराठों का स्वप्न मिट्टी में मिल गया। इस लड़ाई में पराजय के कारण मराठे परस्पर झगड़ों में उलझ गए। इस कारण उनकी आपसी एकता समाप्त हो गई। इस लड़ाई के पश्चात् पंजाब में सिखों को अपनी शक्ति संगठित करने का अवसर मिला। इस लड़ाई के पश्चात् भारत में अंग्रेजों को अपनी शक्ति स्थापित करने का मार्ग प्रशस्त हो गया।

प्रश्न 8. पानीपत की तीसरी लड़ाई के क्या परिणाम निकले ? (What were the results of the third battle of Panipat ?)
उत्तर–पानीपत की तीसरी लड़ाई भारतीय इतिहास की निर्णायक लड़ाइयों में से एक थी। इस लड़ाई के दूरगामी परिणामों का संक्षिप्त विवरण निम्नलिखित अनुसार है—

  1. मराठों का घोर विनाश-पानीपत की तीसरी लड़ाई मराठों के लिए घोर विनाशकारी सिद्ध हुई। इस लड़ाई में 28,000 मराठा सैनिक मारे गए तथा बड़ी संख्या में जख्मी हुए। कहा जाता है कि महाराष्ट्र के प्रत्येक परिवार का कोई-न-कोई सदस्य इस लड़ाई में मरा था।
  2. मराठों की शक्ति एवं सम्मान को गहरा धक्का —इस लड़ाई में पराजय से मराठों की शक्ति एवं सम्मान को गहरा धक्का लगा। परिणामस्वरूप भारत में हिंदू साम्राज्य स्थापित करने का मराठों का स्वप्न धराशायी हो गया।
  3. मराठों की एकता का समाप्त होना–पानीपत की तीसरी लड़ाई में मराठों की प्रतिष्ठा को भारी आघात पहँचने से मराठा संघ की एकता समाप्त हो गई। वे आपसी मतभेदों एवं झगड़ों में उलझ गए। परिणामस्वरूप रघोबा जैसे स्वार्थी मराठा नेता को राजनीति में आने का अवसर प्राप्त हुआ।
  4. पंजाब में सिखों की शक्ति का उत्थान-पानीपत की तीसरी लड़ाई से पंजाब मराठों के हाथों से सदा के लिए जाता रहा। अब पंजाब में प्रभुत्व स्थापित करने के लिए केवल दो ही शक्तियाँ —अफ़गान एवं सिख रह गईं। इस प्रकार सिखों के उत्थान का कार्य काफी सुगम हो गया। उन्होंने अफ़गानों को पराजित करके पंजाब में अपना शासन स्थापित कर लिया।
  5. भारत में अंग्रेजों की शक्ति का उत्थान भारत में अंग्रेजों को अपने साम्राज्य विस्तार के मार्ग में सबसे अधिक चुनौती मराठों की थी। मराठों की जबरदस्त पराजय ने अंग्रेजों को अपनी सत्ता स्थापित करने का मार्ग प्रशस्त कर दिया।

प्रश्न 9. बड़ा घल्लूघारा (दूसरा खूनी हत्याकाँड) पर संक्षिप्त नोट लिखिए। [Write a short note on Wada Ghallughara (Second Bloody Carnage).]
अथवा
अहमद शाह अब्दाली के छठे हमले का वर्णन कीजिए।
(Explain the sixth invasion of Ahmad Shah Abdali.)
उत्तर-बड़ा घल्लूघारा सिख इतिहास की एक बहुत दुःखदायी घटना थी। सिखों ने 1761 ई० में पंजाब के अनेक क्षेत्रों को अपनी अधीन कर लिया और उन्होंने बहुत सारे अन्य क्षेत्रों में भारी लूटपाट मचाई। सिखों ने अहमद शाह अब्दाली द्वारा नियुक्त पंजाब के सूबेदार ख्वाजा उबेद खाँ को भी पराजित कर दिया। अहमद शाह अब्दाली सिखों के इस बढ़ते हुए प्रभाव को कभी सहन नहीं कर सकता था। इसलिए अब्दाली ने सन् 1761 ई० के अंत में पंजाब पर छठी बार आक्रमण किया। उसने लाहौर पर बड़ी आसानी से अधिकार कर लिया। इसके पश्चात् अहमद शाह अब्दाली ने 5 फरवरी, 1762 ई० को अचानक सिखों को मालेरकोटला के निकट गाँव कुप में घेर लिया। इस अचानक आक्रमण के कारण 25 से 30 हजार तक सिख मारे गए। सिख इतिहास में यह घटना बड़ा घल्लूघारा के नाम से जानी जाती है। बड़े घल्लूघारे में सिखों की भारी प्राण हानि से अब्दाली अति प्रसन्न हुआ। उसका विश्वास था कि इससे सिखों की शक्ति को गहरा आघात लगा होगा पर उसका यह अनुमान गलत निकला। सिखों ने इस घटना से नया उत्साह प्राप्त किया। उन्होंने पूर्ण उत्साह से अब्दाली की सेना पर आक्रमण प्रारंभ कर दिए। सिखों ने 1764 ई० में सरहिंद और 1765 ई० में लाहौर पर अधिकार करके अपनी स्वतंत्रता की घोषणा कर दी।

प्रश्न 10. अफ़गानों के विरुद्ध लड़ाई में सिखों ने अपनी शक्ति किस प्रकार संगठित की ? (How did the Sikhs organise their power in their struggle against the Afghans ?)
उत्तर-अफ़गानों के विरुद्ध लड़ाई में सिखों ने अपने आपको जत्थों में संगठित कर लिया। गुरु ग्रंथ साहिब और सिख पंथ पर विश्वास के कारण उनमें एकता हुई। गुरु ग्रंथ साहिब जी की उपस्थिति में सरबत खालसा द्वारा प्रस्ताव पास किए जाते थे। इस गुरमता का सभी सिख पालन करते थे। गुरमता के द्वारा सारे जत्थों का एक कमांडर नियत किया जाता था और सभी सिख उसके अधीन एकत्रित होकर शत्रु का मुकाबला करते थे। ‘राज करेगा खालसा’ अब प्रत्येक सिख का विश्वास बन चुका था। अहमद शाह अब्दाली कई वर्षों तक अफ़गानिस्तान में होने वाले विद्रोहों के कारण सिखों की ओर ध्यान नहीं दे सका था। उसके द्वारा पंजाब में नियुक्त किए गवर्नर भी सिखों पर नियंत्रण न पा सके। पंजाब के लोगों एवं ज़मींदारों ने भी सिख-अफ़गान संघर्ष में सिखों को पूर्ण सहयोग दिया। सिखों के नेताओं ने भी अफ़गानों के विरुद्ध सिखों को संगठित करने एवं उनमें एक नई स्फूर्ति उत्पन्न करने में प्रशंसनीय योगदान दिया। इस प्रकार सिखों ने अफ़गानों के विरुद्ध अपनी शक्ति को संगठित किया।

प्रश्न 11. अहमद शाह अब्दाली सिखों के विरुद्ध असफल क्यों रहा ? कोई छः कारण बताएँ।
(What were the causes of failure of Ahmad Shah Abdali against the Sikhs ? Write any six reasons.)
अथवा
सिखों की शक्ति को कुचलने में अहमद शाह अब्दाली असफल क्यों रहा ? (What were the causes of failure of Ahmad Shah Abdali against the Sikhs ?)
अथवा
अहमद शाह अब्दाली की सिखों के विरुद्ध असफलता के छः क्या कारण थे ?
(What were the six causes of failure of Ahmad Shah Abdali against the Sikhs ?)
उत्तर-अहमद शाह अब्दाली की असफलता या सिखों की जीत के निम्नलिखित कारण हैं—

  1. सिखों का दृढ़ निश्चय-अहमद शाह अब्दाली की असफलता का एक मुख्य कारण सिखों का दृढ़ निश्चय था। अब्दाली ने उन पर भारी अत्याचार किए, परंतु उनका हौसला बुलंद रहा। वे चट्टान की तरह अडिग रहे। बड़े घल्लूघारे में 25,000 से 30,000 सिख मारे गए परंतु सिखों के हौसले बुलंद रहे। ऐसी कौम को हराना कोई आसान कार्य न था।
  2. गुरिल्ला युद्ध नीति-सिखों द्वारा अपनाई गई गुरिल्ला युद्ध नीति अहमद शाह अब्दाली की असफलता का एक मुख्य कारण बनी। जब भी अब्दाली सिखों के विरुद्ध कूच करता, सिख तुरंत जंगलों व पहाड़ों में जा शरण लेते। वे अवसर देखकर अब्दाली की सेनाओं पर आक्रमण करते और लूटमार करके फिर वापस जंगलों में चले जाते। इन छापामार युद्धों ने अब्दाली की नींद हराम कर दी थी।
  3. पंजाब के लोगों का असहयोग-अहमद शाह अब्दाली की पराजय का एक प्रमुख कारण यह था कि उसको पंजाब के नागरिकों का सहयोग प्राप्त न हो सका। उसने अपने बार-बार आक्रमणों के दौरान न केवल लोगों की धन-संपत्ति को ही लटा, अपित हज़ारों निर्दोष लोगों का कत्ल भी किया। परिणामस्वरूप पंजाब के लोगों की उसके साथ किसी प्रकार की कोई सहानुभूति नहीं थी। ऐसी स्थिति में अहमद शाह अब्दाली द्वारा पंजाब पर विजय प्राप्त करना एक स्वप्न समान था।
  4. सिखों का चरित्र ‘सिखों का चरित्र अहमद शाह अब्दाली की असफलता का एक अन्य कारण बना। सिख प्रत्येक स्थिति में प्रसन्न रहते थे। वे युद्ध के मैदान में किसी भी निहत्थे पर वार नहीं करते थे। वे स्त्रियों एवं बच्चों का पूर्ण सम्मान करते थे चाहे उनका संबंध शत्रु के साथ क्यों न हो। इन गुणों के परिणामस्वरूप सिख पंजाबियों में अत्यंत लोकप्रिय हो गए थे।
  5. सिखों के योग्य नेता-अहमद शाह अब्दाली के विरुद्ध सिखों की जीत का एक और महत्त्वपूर्ण कारण उनके योग्य नेता थे। इन नेताओं ने बड़ी योग्यता और समझदारी से सिखों को नेतृत्व प्रदान किया। इन नेताओं में प्रमुख नवाब कपूर सिंह, जस्सा सिंह आहलूवालिया, जस्सा सिंह रामगढ़िया तथा आला सिंह थे। ‘
  6. अब्दाली के अयोग्य प्रतिनिधि-अहमद शाह अब्दाली की असफलता का प्रमुख कारण पंजाब में उसके अयोग्य प्रतिनिधि थे। उनमें प्रशासनिक योग्यता की कमी थी। इस कारण पंजाब के लोग उनके विरुद्ध होते चले गए।

प्रश्न 12. अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के कारण पंजाब पर पड़े किन्हीं छः महत्त्वपूर्ण प्रभावों का वर्णन करो। (Describe any six important effects of Ahmad Shah Abdali’s invasions over Punjab.)
अथवा
अहमद शाह अब्दाली के पंजाब पर आक्रमणों के क्या प्रभाव पड़े ? (What were the effects of Ahmad Shah Abdali’s invasions over Punjab ?)
उत्तर- अहमदशाह अब्दाली ने 1747 ई० से लेकर 1767 ई० तक पंजाब पर आठ बार आक्रमण किए। उसके इन आक्रमणों ने पंजाब के विभिन्न क्षेत्रों को प्रभावित किया। इन प्रभावों का संक्षेप में वर्णन निम्नलिखित प्रकार है—

  1. पंजाब में मुग़ल शासन का अंत-अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों का पंजाब के इतिहास पर पहला महत्त्वपूर्ण प्रभाव यह पड़ा कि पंजाब में मुग़ल शासन का अंत हो गया। मीर मन्नू पंजाब में मुग़लों का अंतिम सूबेदार था। अब्दाली ने मीर मन्नू को ही अपनी तरफ से पंजाब का सूबेदार नियुक्त कर दिया। मुग़लों ने पुनः पंजाब पर अधिकार करने का प्रयत्न कियां पर अब्दाली ने इन प्रयत्नों को सफल न होने दिया।
  2. सिख शक्ति का उदय-अहमदशाह अब्दाली के आक्रमणों के परिणामस्वरूप पंजाब से मुग़ल और मराठा शक्ति का अंत हो गया। पंजाब पर कब्जा करने के लिए अब यह संघर्ष केवल दो शक्तियों-अफ़गान और सिखों के मध्य ही रह गया था। अब्दाली ने 1762 ई० में बड़ा घल्लूघारा में कई हज़ारों सिखों को शहीद किया, परंतु उनके हौंसले बुलंद रहे। उन्होंने 1764 ई० में सरहिंद और 1765 ई० में लाहौर पर कब्जा कर लिया था। सिखों ने अपने सिक्के चला कर अपनी स्वतंत्रता की घोषणा कर दी।
  3. पंजाब के लोगों का बहादुर होना-अहमदशाह अब्दाली के आक्रमणों ने पंजाबी लोगों को बहुत बहादुर और निडर बना दिया था। इसका कारण यह था कि अब्दाली के आक्रमणों से रक्षा के लिए यहां के लोगों को शस्त्र उठाने पड़े। उन्होंने अफ़गानों के साथ हुए युद्धों में बहादुरी की शानदार मिसालें कायम की।
  4. सिखों और मुसलमानों की शत्रुता में वृद्धि-अहमदशाह अब्दाली के आक्रमणों के कारण सिखों और मुसलमानों में आपसी शत्रुता और बढ़ गई। इसका कारण यह था कि अफ़गानों ने इस्लाम के नाम पर सिखों पर बहुत अत्याचार किए। दूसरा, अब्दाली ने सिखों के सबसे पवित्र धार्मिक स्थान हरिमंदिर सहिब को ध्वस्त करके सिखों को अपना कट्टर शत्रु बना लिया। अतः सिखों और अफ़गानों के बीच शत्रुता दिनों-दिन बढ़ती चली गई।
  5. पंजाब की आर्थिक हानि-अहमदशाह अब्दाली अपने प्रत्येक आक्रमण में पंजाब से भारी मात्रा में लूट का माल साथ ले जाता था। अफ़गानी सेनाएँ कूच करते समय खेतों का विनाश कर देती थीं। पंजाब में नियुक्तं भ्रष्ट कर्मचारी भी लोगों को प्रत्येक पक्ष से लूटने में कोई प्रयास शेष न छोड़ते थे। परिणामस्वरूप अराजकता और लूटमार के इस वातावरण से पंजाब के व्यापार को बहुत भारी हानि हुई।
  6. पंजाबियों का खर्चीला स्वभाव-अहमद शाह अब्दाली के हमलों के परिणामस्वरूप उनके चरित्र में एक महत्त्वपूर्ण परिवर्तन आया। क्योंकि अब्दाली अपने आक्रमणों के दौरान लोगों से धन लूटकर अफ़गानिस्तान ले जाता था। इसलिए लोगों ने धन एकत्रित करने की अपेक्षा उसे खाने-पीने तथा मौज उड़ाने पर व्यय करना आरंभ कर दिया था।

प्रश्न 13. अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों ने पंजाब पर क्या राजनीतिक प्रभाव डाला ? (What were the political effects of Ahmad Shah Abdali’s invasions over Punjab ?)
उत्तर-अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के कारण पंजाब पर बड़े गहरे राजनीतिक प्रभाव पड़े। सबसे पहले पंजाब से मुग़ल शासन का अंत हो गया। अब्दाली ने 1752 ई० में पंजाब को अफ़गानिस्तान में शामिल कर लिया। दूसरे, अब्दाली ने 1761 ई० में पानीपत की तीसरी लड़ाई में मराठों को बड़ी करारी पराजय दी जिसके परिणामस्वरूप पंजाब में मराठों की शक्ति का सदैव के लिए अंत हो गया। तीसरे, अहमद शाह अब्दाली के लगातार आक्रमणों के कारण पंजाब में अराजकता फैल गई। लोगों की जान माल सुरक्षित न रहे। सरकारी कर्मचारियों ने लोगों को लूटना शुरू कर दिया था। न्याय नाम की कोई चीज़ नहीं रही। चौथे, पंजाब में मुग़लों और मराठों की शक्ति का अंत होने के कारण सिखों को अपनी शक्ति बढ़ाने का अवसर मिला। उन्होंने अपने छापामार युद्धों से अब्दाली की सेना को कई स्थानों पर हराया। 1765 ई० में सिखों ने लाहौर पर अधिकार करके अपनी स्वतंत्रता की घोषणा कर दी।

प्रश्न 14. अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के क्या सामाजिक प्रभाव पड़े ?
(What were the social effects of the invasions of Ahmad Shah Abdali ?)
उत्तर-अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के परिणामस्वरूप लोगों के चरित्र में एक महत्त्वपूर्ण परिवर्तन आया। अब वे अधिक धन व्यय करने लगे। इसका कारण यह है कि अब्दाली अपने आक्रमणों के दौरान लोगों से धन लूट कर अफ़गानिस्तान ले जाता था। इसलिए लोगों ने धन एकत्रित करने की अपेक्षा उसे खाने-पीने तथा मौज उड़ाने पर व्यय करना आरंभ कर दिया था। अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के कारण पंजाब में अनेक बुराइयों को उत्साह मिला। लोग बहुत स्वार्थी और आचरणहीन हो गए थे। वे कोई पाप या अपराध करने से नहीं डरते थे। चोरी, डाके, कत्ल, लूटमार, धोखेबाज़ी और रिश्वतखोरी का समाज में बोलबाला था। इन बुराइयों ने पंजाब के समाज को दीमक की तरह खाकर खोखला कर दिया था। अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के परिणामस्वरूप पंजाब के लोग बहादुर और निडर बन गए। इसका कारण यह था कि अब्दाली के आक्रमणों और उसके द्वारा की जा रही लूटमार से रक्षा के लिए यहाँ के लोगों को शस्त्र उठाने पड़े। उन्होंने अफ़गानों के साथ चलने वाले लंबे संघर्ष में बहादुरी की शानदार मिसालें कायम की। इस संघर्ष के अंत में सिख विजेता रहे।

प्रश्न 15. अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के क्या आर्थिक परिणाम निकले ? (What were the economic consequences of the invasions of Ahmad Shah Abdali ?)
उत्तर-अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के विनाशकारी आर्थिक परिणाम निकले। वह अपने प्रत्येक आक्रमण के समय भारी संपत्ति लूट कर अपने साथ ले जाता था। इसने पंजाब को कंगाल बना दिया। दूसरा, अफ़गान सेनाएं कूच करते समय रास्ते में आने वाले खेतों को उजाड़ देती थीं। इस कारण कृषि का काफ़ी नुक्सान हो जाता था। तीसरा, पंजाब में नियुक्त भ्रष्ट कर्मचारियों ने भी लोगों को प्रत्येक पक्ष से लूटने के लिए कोई प्रयास शेष न छोड़ा। चौथा, पंजाब में सिख भी सरकार की नींद हराम करने के उद्देश्य से अक्सर लूटमार करते थे। इन कारणों से पंजाब में अव्यवस्था फैली। ऐसे वातावरण में पंजाब के व्यापार को गहरा आघात लगा। परिणामस्वरूप पंजाब को घोर आर्थिक संकट का सामना करना पड़ा। ऐसा लगता था जैसे पंजाब की समृद्धि ने सदैव के लिए अपना मुख मोड़ लिया हो। निस्संदेह यह अत्यंत दुःखद संकेत था।

Source Based Questions

नोट-निम्नलिखित अनुच्छेदों को ध्यानपूर्वक पढ़िए और उनके अंत में पूछे गए प्रश्नों का उत्तर दीजिए।
1
अहमद शाह अब्दाली अफ़गानिस्तान का शासक था। उसने 1747 ई० से 1772 ई० तक शासन किया। उसने 1747 ई० से 1767 ई० के मध्य पंजाब पर आठ आक्रमण किए। उसने 1752 ई० में मुग़ल सूबेदार मीर मन्न को हराकर पंजाब को अफ़गानिस्तान साम्राज्य में सम्मिलित कर लिया था। अहमद शाह अब्दाली और उसके द्वारा पंजाब में नियुक्त किए गए सूबेदारों ने सिखों पर अनगिनत अत्याचार किए। सन् 1762 ई० में बड़े घल्लूघारे में अब्दाली ने बड़ी संख्या में सिखों को शहीद कर दिया था। इतना सब कुछ होने पर भी सिख चट्टान की भाँति अडिग रहे। उन्होंने अपने छापामार युद्धों से अब्दाली की नींद हराम कर रखी थी। सिखों ने 1765 ई० में लाहौर पर अधिकार करके अपनी स्वतंत्रता की घोषणा कर दी थी। अब्दाली अपने सारे प्रयासों के बावजूद सिखों की शक्ति को न कुचल सका। वास्तव में उसकी असफलता के कई एक कारण थे। अहमद शाह अब्दाली के इन आक्रमणों से पंजाब के इतिहास पर बड़े गहरे राजनीतिक, आर्थिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक प्रभाव पड़े।

  1. अहमद शाह अब्दाली कौन था ?
  2. अहमद शाह अब्दाली अफ़गानिस्तान का शासक कब बना था ?
    • 1747 ई०
    • 1748 ई
    • 1752 ई०
    • 1767 ई०
  3. अहमद शाह अब्दाली ने पंजाब पर कितनी बार आक्रमण किए ?
  4. बड़ा घल्लूघारा कब हुआ ?
  5. अहमद शाह अब्दाली सिखों के विरुद्ध क्यों असफल रहा ? कोई एक कारण लिखें।

उत्तर-

  1. अहमद शाह अब्दाली अफ़गानिस्तान का शासक था।
  2. 1747 ई०।
  3. अहमद शाह अब्दाली ने पंजाब पर 8 बार आक्रमण किए।
  4. बड़ा घल्लूघारा 1762 ई० में हुआ।
  5. सिखों के इरादे बहुत मज़बूत थे।

2
अहमद शाह अब्दाली जनवरी, 1757 ई० में दिल्ली पहुँचा। दिल्ली पहुंचने पर अब्दाली का किसी ने भी विरोध न किया। दिल्ली में अब्दाली ने भारी लूटमार की। इसके पश्चात् उसने मथुरा और वृंदावन को भी लूटा। इसके पश्चात् वह आगरा की ओर बढ़ा पर सेना में हैज़े की बीमारी फैलने के कारण उसने वापस काबुल जाने का निर्णय ले लिया। पंजाब पहुँचने पर उसने अपने पुत्र तैमूर शाह को पंजाब का सूबेदार नियुक्त किया। अब्दाली ने तैमूर शाह को यह आदेश भी दिया कि सिखों को उनकी कार्यवाइयों के लिए अच्छा सबक सिखाए। तैमूर शाह ने सिखों की शक्ति को कुचलने के लिए जहान खाँ के नेतृत्व में कुछ सेना अमृतसर की ओर भेजी। अमृतसर के निकट सिखों और अफ़गानों में घमासान युद्ध हुआ। इस युद्ध में सिखों के नेता बाबा दीप सिंह जी का शीश कट गया था पर वह अपने शीश को हथेली पर रखकर शत्रुओं का मुकाबला करते रहे। उन्होंने हरिमंदिर साहिब पहुँच कर अपने प्राणों की आहुति दी। इस प्रकार बाबा दीप सिंह जी 11 नवंबर, 1757 ई० को शहीद हुए। बाबा दीप सिंह जी की इस शहीदी ने सिखों में एक नया जोश भरा।

  1. अहमद शाह अब्दाली ने 1757 ई० में भारत के कौन-से शहरों में लूटमार की ?
  2. अहमद शाह अब्दाली आगरे से वापस क्यों मुड़ गया था ?
  3. तैमूर शाह कौन था ?
  4. बाबा दीप सिंह जी कब तथा कहाँ शहीद हुए ?
  5. बाबा दीप सिंह जी की इस शहीदी ने सिखों में एक नया …………….. भरा।

उत्तर-

  1. अहमद शाह अब्दाली ने 1757 ई० में भारत के दिल्ली, मथुरा, वृंदावन तथा पंजाब के शहरों में लूटमार की।
  2. अहमद शाह अब्दाला आगरे से वापिस इसलिए पीछे मुड़ गया था क्योंकि उस समय वहाँ हैजा फैला हुआ था।
  3. तैमूर शाह अहमद शाह अब्दाली का पुत्र था।
  4. बाबा दीप सिंह जी की शहीदी 1757 ई० में अमृतसर में हुई थी।
  5. जोश।

3
14 जनवरी, 1761 ई० को मराठों ने अब्दाली की सेना पर आक्रमण कर दिया। यह बहुत घमासान युद्ध था। इस युद्ध के आरंभ में मराठों का पलड़ा भारी रहा। परंतु अनायास जब विश्वास राव की गोली लगने से मृत्यु हो गई तो युद्ध की स्थिति ही पलट गयी। सदाशिव राव भाऊ शोक मनाने के लिए हाथी से नीचे उतरा। जब मराठा सैनिकों ने उसके हाथी की पालकी खाली देखी तो उन्होंने समझा कि वह भी युद्ध में मारा गया है। परिणामस्वरूप मराठा सैनिकों में भगदड़ फैल गई। अब्दाली के सैनिकों ने यह स्वर्ण अवसर देख कर उनका पीछा किया और भारी तबाही मचाई। इस युद्ध में लगभग समस्त प्रसिद्ध मराठा नेता और 28,000 मराठा सैनिक मृत्यु को प्राप्त हुए। कई हज़ार मराठा सैनिक युद्ध में जख्मी हो गये और अन्य कई हज़ार को गिरफ्तार कर लिया गया।

  1. पानीपत की तीसरी लड़ाई कब हुई ?
  2. पानीपत की तीसरी लड़ाई किनके मध्य हुई ?
    • सिखों तथा मराठों
    • मराठों तथा अब्दाली
    • सिखों तथा अब्दाली |
    • उपरोक्त में से कोई नहीं।
  3. विश्वास राव कौन था ?
  4. सदाशिव राव भाऊ कौन था ?
  5. पानीपत की तीसरी लड़ाई का कोई एक परिणाम लिखें।

उत्तर-

  1. पानीपत की तीसरी लड़ाई 14 जनवरी, 1761 ई० को हुई।
  2. मराठों तथा अब्दाली।
  3. विश्वास राव पेशवा बालाजी बाजी राव का पुत्र था।
  4. सदाशिव राव भाऊ पानीपत की तीसरी लड़ाई के समय मराठों का सेनापति था।
  5. इस लड़ाई में मराठों का भारी जान-माल का नुकसान हुआ।

4
अहमद शाह अब्दाली ने बिना किसी रुकावट के लाहौर पर अधिकार कर लिया। इसके पश्चात् वह जंडियाला की ओर बढ़ा। वहाँ पहुँचकर उसे समाचार मिला कि सिख वहाँ से जा चुके हैं और इस समय वे मलेरकोटला के निकट स्थित गाँव कूप में एकत्रित हैं। इसलिए वह बड़ी तेजी से मलेरकोटला की तरफ बढ़ा। उसने सरहिंद के सूबेदार जैन खाँ को अपनी फ़ौजों सहित वहाँ पहुँचने का आदेश दिया। इस संयुक्त फ़ौज ने 5 फरवरी, 1762 ई० को गाँव कूप में अचानक सिखों पर आक्रमण कर दिया। सिख उस समय अपने परिवारों को सुरक्षित स्थानों पर ले जा रहे थे। उस समय उनके शस्त्र तथा भोजन सामग्री गरमा गाँव जो वहाँ से 6 किलोमीटर दूर था, वहाँ पड़ी हुई थी। सिखों ने अपनी स्त्रियों और बच्चों को चारों ओर से सुरक्षा घेरे में लेकर अब्दाली के सैनिकों से मुकाबला करना शुरू किया, परंतु सिखों के पास शस्त्रों की कमी होने के कारण वे अधिक समय तक उसका मुकाबला न कर सके । इस युद्ध में सिखों की भारी जन हानि हुई। इस युद्ध में 25,000 से 30,000 सिख शहीद हो गए जिसमें स्त्रियाँ, बच्चे और वृद्ध शामिल थे।

  1. बड़ा घल्लूघारा कब तथा कहाँ घटित हुआ ?
  2. बड़े घल्लूघारा के लिए कौन जिम्मेवार था ?
  3. बड़े घल्लूघारा के समय सरहिंद का सूबेदार कौन था ?
  4. बड़े घल्लूघारा में सिखों के अत्यधिक नुकसान का क्या कारण था ?
  5. बड़े घल्लूघारे में सिखों की भारी ……….. हानि हुई।

उत्तर-

  1. बड़ा घल्लूघारा 5 फरवरी, 1762 ई० को कूप गाँव में घटित हुआ।
  2. बड़े घल्लूघारा के लिए अहमद शाह अब्दाली जिम्मेवार था।
  3. बड़े घल्लूघारा के समय सरहिंद का सूबेदार जैन खाँ था।
  4. सिखों के पास शस्त्रों की बहुत कमी थी।
  5. जन।

अहमद शाह अब्दाली के आक्रमण एवं मुग़ल शासन का विखँडन Notes

  • अहमद शाह अब्दाली के आक्रमणों के कारण (Causes of Ahmad Shah Abdali’s Invasions)-अहमद शाह अब्दाली अफ़गानिस्तान का शासक था-वह पंजाब तथा भारत के अन्य प्रदेशों पर विजय प्राप्त कर अपने साम्राज्य का विस्तार करना चाहता था-वह भारत की अपार धनदौलत को लूटना चाहता था- भारत की डावाँडोल राजनीतिक स्थिति भी उसे निमंत्रण दे रही थी—पंजाब के सूबेदार शाहनवाज़ खाँ ने अब्दाली को भारत आक्रमण का निमंत्रण भेजा था।
  • अब्दाली के आक्रमण (Invasions of Abdali) अब्दाली का पहला आक्रमण 1747-48 ई० में हुआ-इसमें मुईन-उल-मुल्क अथवा मीर मन्नू के हाथों उसे हार का सामना करना पड़ा-174849 ई० में अपने दूसरे आक्रमणों के दौरान अब्दाली ने मुईन-उल-मुल्क को पराजित किया-1752 ई० में अपने तीसरे आक्रमण के दौरान उसने समस्त पंजाब को अपने साम्राज्य में सम्मिलित कर लियाअब्दाली ने 1756 ई० में चौथे आक्रमण के दौरान पंजाब में सिखों के विरुद्ध कड़ी कारवाई की-1757 ई० में अफ़गानों से लड़ते हुए बाबा दीप सिंह जी शहीद हो गए-अपने पाँचवें आक्रमण के दौरान अब्दाली ने मराठों को पानीपत की तीसरी लड़ाई में कड़ी पराजय दी-यह लड़ाई 14 जनवरी, 1761 ई० को हुई-अब्दाली के छठे आक्रमण के दौरान 5 फरवरी, 1762 ई० को बड़ा घल्लूघारा की घटना घटीइसमें 25,000 से 30,000 सिख मारे गए-सिखों की शक्ति को कुचलने के लिए अब्दाली ने दो और आक्रमण किए परंतु असफल रहा।
  • अब्दाली की असफलता के कारण (Causes of the Failure of Abdali)-सिखों का निश्चय बड़ा दृढ़ था—सिख गुरिल्ला युद्ध नीति से लड़ते थे-अब्दाली द्वारा पंजाब में नियुक्त किए प्रतिनिधि अयोग्य थे-पंजाब में लोगों ने सिखों को हर प्रकार का सहयोग दिया-सिखों का नेतृत्व करने वाले नेता बड़े योग्य थे–अब्दाली को पंजाब में अधिक रुचि न थी-अफ़गानिस्तान में बार-बार होने वाले विद्रोह भी उसकी असफलता का कारण बने।
  • अब्दाली के आक्रमणों के पंजाब पर प्रभाव (Effects of Abdali’s Invasions on the Punjab)—पंजाब में मुग़ल शासन का अंत हो गया…पानीपत की लड़ाई में हुई पराजय से पंजाब में मराठा शक्ति का अंत हो गया—सिख शक्ति का उदय होना आरंभ हो गया—पंजाब में चारों ओर अराजकता और अशांति फैल गई—पंजाब के लोगों के चरित्र में परिवर्तन आ गया तथा वे अधिक निडर और खर्चीले स्वभाव के हो गए—पंजाब के व्यापार को भारी हानि हुई पंजाबी कला और साहित्य के विकास को गहरा धक्का लगा।