Class 12 History Solutions Chapter 20 महाराजा रणजीत सिंह का नागरिक एवं सैनिक प्रशासन

निबंधात्मक प्रश्न (Essay Type Questions)

महाराजा रणजीत सिंह का नागरिक प्रशासन (Civil Administration of Maharaja Ranjit Singh)

प्रश्न 1. महाराजा रणजीत सिंह के सिविल प्रबंध के बारे में विवरण दें।
(Give a brief account of the Civil Administration of Maharaja Ranjit Singh.)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह के सिविल प्रबंध का वर्णन करें। (Describe the Civil Administration of Maharaja Ranjit Singh.)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह के केंद्रीय तथा प्रांतीय शासन प्रबंध का विस्तार सहित वर्णन करो।
(Explain in detail the Central and Provincial Administration of Maharaja Ranjit Singh.)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह की केंद्रीय तथा प्रांतीय शासन का वर्णन कीजिए। (Describe the Central and Provincial Administration of Maharaja Ranjit Singh.)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह के प्रांतीय व स्थानीय शासन प्रबंध का विस्तृत ब्योरा दें।
(Give a detailed description of Maharaja Ranjit Singh’s Provincial and Local Administration.)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह के प्रांतीय शासन का विस्तारपूर्वक वर्णन करो। (Describe in detail the Provincial Administration of Maharaja Ranjit Singh.)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह न केवल एक महान् विजेता था अपितु एक उच्चकोटि का शासन प्रबंधक भी . था। उसके सिविल अथवा नागरिक प्रबंध की मुख्य विशेषताएँ निम्नलिखित थीं—
I. केंद्रीय शासन प्रबंध (Central Administration)
(क) महाराजा (The Maharaja)-महाराजा समूचे केंद्रीय प्रशासन का धुरा था। वह राज्य के मंत्रियों, उच्च सैनिक तथा गैर-सैनिक अधिकारियों की नियुक्तियाँ करता था। वह अपनी इच्छानुसार किसी को भी उसके पद से अलग कर सकता था। वह राज्य का मुख्य न्यायाधीश था। उसके मुख से निकला हुआ हर शब्द प्रजा के लिये कानून बन जाता था। कोई भी व्यक्ति उसके आदेश का उल्लंघन करने की हिम्मत नहीं कर सकता था। वह मुख्य सेनापति भी था तथा राज्य की सारी सेना उसके इशारे पर चलती थी। उसको युद्ध की घोषणा करने या संधि करने का अधिकार था। वह अपनी प्रजा पर नए कर लगा सकता था अथवा पुराने करों को कम या माफ कर सकता था। संक्षिप्त में महाराजा की शक्तियाँ किसी निरंकुश शासक से कम नहीं थीं परंतु महाराजा कभी भी इन शक्तियों का दुरुपयोग नहीं करता था।
(ख) मंत्री (Ministers)-प्रशासन प्रबंध की कुशलता के लिये महाराजा ने एक मंत्रिपरिषद् का गठन किया हुआ था। केवल योग्य एवं ईमानदार व्यक्तियों को ही मंत्री पद पर नियुक्त किया जाता था। इन मंत्रियों की नियुक्ति महाराजा स्वयं करता था। ये मंत्री अपने-अपने विभागों के संबंध में महाराजा को परामर्श देते थे। महाराजा के लिये उनके परामर्श को स्वीकार करना आवश्यक नहीं था। महाराजा के महत्त्वपूर्ण मंत्री निम्नलिखित थे

  1. प्रधानमंत्री (Prime Minister) केंद्र में महाराजा के पश्चात् दूसरा महत्त्वपूर्ण स्थान प्रधानमंत्री का था। वह राज्य के सभी राजनीतिक मामलों में महाराजा को परामर्श देता था। वह राज्य के सभी महत्त्वपूर्ण विभागों की देखभाल करता था। वह महाराजा की अनुपस्थिति में उसका प्रतिनिधित्व करता था। वह अपनी अदालत लगाकर मुकद्दमों का निर्णय भी करता था। हर प्रकार के प्रार्थना-पत्र उसके द्वारा ही महाराजा तक पहुँचाये जाते थे। वह महाराजा के सभी आदेशों को लागू करवाता था। महाराजा रणजीत सिंह के समय इस पद पर अधिक देर तक राजा ध्यान सिंह रहा।
  2. विदेश मंत्री (Foreign Minister)-महाराजा रणजीत सिंह के समय विदेश मंत्री का पद भी बहुत महत्त्वपूर्ण था। वह विदेश नीति को तैयार करता था। वह महाराजा को दूसरी शक्तियों के साथ युद्ध एवं संधि के संबंध में परामर्श देता था। वह विदेशों से आने वाले पत्र महाराजा को पढ़कर सुनाता तथा महाराजा के आदेशानुसार उन पत्रों का जवाब भेजता था। महाराजा रणजीत सिंह के समय विदेश मंत्री के पद पर फकीर अजीजउद्दीन लगा हुआ था।
  3. वित्त मंत्री (Finance Minister)-वित्त मंत्री महाराजा के महत्त्वपूर्ण मंत्रियों में से एक था तथा उसको दीवान कहा जाता था। उसका मुख्य कार्य राज्य की आय तथा व्यय का ब्योरा रखना था। सभी विभागों के व्ययों आदि से संबंधित सभी कागज़ पहले दीवान के समक्ष प्रस्तुत किये जाते थे। महाराजा रणजीत सिंह के प्रसिद्ध वित्त मंत्री दीवान भवानी दास, दीवान गंगा राम तथा दीवान दीनानाथ थे।
  4. मुख्य सेनापति (Commander-in-Chief)-महाराजा रणजीत सिंह अपनी सेना का स्वयं ही मुख्य सेनापति था। विभिन्न अभियानों के समय महाराजा विभिन्न व्यक्तियों को सेनापति नियुक्त करता था। उनका मुख्य कार्य युद्ध के समय सेना का नेतृत्व करना तथा उनमें अनुशासन रखना था। दीवान मोहकम चंद, मिसर दीवान चंद तथा सरदार हरी सिंह नलवा महाराजा रणजीत सिंह के प्रख्यात सेनापति थे।
  5. डियोढ़ीवाला (Deorhiwala)—डियोढ़ीवाला शाही राजवंश तथा राज दरबार की देखभाल करता था। उसकी अनुमति के बिना कोई व्यक्ति महलों के अंदर नहीं जा सकता था। इसके अतिरिक्त वह महाराजा के महलों के लिये पहरेदारों का भी प्रबंध करता था। इसके अतिरिक्त वह जासूसों का भी उचित प्रबंध करता था। महाराजा रणजीत सिंह का प्रसिद्ध डियोढ़ीवाला जमादार खुशहाल सिंह था।

(ग) केंद्रीय विभाग या दफ्तर (Central Departments or Daftars)-महाराजा रणजीत सिंह ने प्रशासन की सुविधा के लिये केंद्रीय शासन प्रबंध को देखभाल के लिए विभिन्न विभागों या दफ्तरों में बाँटा हुआ था। इनकी संख्या के बारे में इतिहासकारों में विभिन्नता है। डॉ० जी० एल० चोपड़ा के अनुसार इनकी संख्या 15, डॉ० एन० के० सिन्हा के अनुसार 12 तथा डॉ० सीताराम कोहली के अनुसार 7 थी। इनमें से मुख्य दफ्तर निम्नलिखित थे—

  1. दफ्तर-ए-अबवाब-उल-माल (Daftar-i-Abwab-ul-Mal) यह दफ्तर राज्य के विभिन्न स्रोतों से होने वाली आय का ब्योरा रखता था।
  2. दफ्तर-ए-माल (Daftar-i-Mal)-यह दफ्तर विभिन्न परगनों से प्राप्त किये गये भूमि लगान का ब्योरा रखता था।
  3. दफ्तर-ए-वजुहात (Daftar-i-Wajuhat)-यह दफ्तर अदालतों के शुल्क, अफीम, भाँग तथा अन्य नशे वाली वस्तुओं पर लगे राजस्व से प्राप्त होने वाली आय का ब्योरा रखता था।,
  4. दफ्तर-ए-तोजिहात (Daftar-i-Taujihat)-यह दफ्तर शाही वंश की आय का ब्योरा रखता था।
  5. दफ्तर-ए-मवाजिब (Daftar-i-Mawajib) यह दफ्तर सैनिक तथा सिविल कर्मचारियों को दिये जाने वाले वेतनों का ब्योरा रखता था।
  6. दफ्तर-ए-रोजनामचा-इखराजात (Daftar-i-Roznamcha-i-Ikhrarat)—यह दफ्तर राज्य की दैनिक होने वाली आय का ब्योरा रखता था।

II. प्रांतीय प्रबंध (Provincial Administration)
महाराजा रणजीत सिंह ने शासन प्रबंध की कुशलता के लिए राज्य को चार बड़े सूबों में बाँटा हुआ था। इन सूबों के नाम ये थे—

  1. सूबा-ए-लाहौर,
  2. सूबा-ए-मुलतान,
  3. सूबा-ए-कश्मीर,
  4. सूबा-ए-पेशावर।

नाज़िम सूबे का मुख्य अधिकारी होता था। नाज़िम का मुख्य कार्य अपने अधीन प्रांत में शांति बनाये रखना था। वह प्रांत में महाराजा के आदेशों को लागू करवाता था। वह फ़ौजदारी तथा दीवानी मुकद्दमों के निर्णय करता था। वह प्रांत के अन्य कर्मचारियों के कार्यों पर नज़र रखता था। वह भूमि का लगान एकत्र करने में कर्मचारियों की सहायता करता था। वह जिलों के कारदारों के कार्यों पर नज़र रखता था। इस तरह नाज़िम के पास असंख्य अधिकार थे, परंतु वह उनका दुरुपयोग नहीं कर सकता था। महाराजा अपनी इच्छानुसार नाज़िम को स्थानांतरित कर सकता था। महाराजा रणजीत सिंह के समय–

  1. सरदार लहना सिंह मजीठिया,
  2. मिसर रूप लाल,
  3. दीवान सावन मल,
  4. करनैल मीहा सिंह,
  5. अवीताबिल नाज़िम थे।

III. स्थानीय प्रबंध (Local Administration)

  1. परगनों का शासन प्रबंध (Administration of the Parganas)-प्रत्येक प्रांत को आगे कई परगनों में बाँटा गया था। परगने का मुख्य अधिकारी कारदार होता था। कारदार का लोगों के साथ प्रत्यक्ष संबंध था। उसकी स्थिति आजकल के डिप्टी कमिश्नर की तरह थी। उसको असंख्य कर्त्तव्य निभाने पड़ते थे। कारदार के मुख्य कार्य परगने में शाँति स्थापित करना, महाराजा के आदेशों की पालना करवाना, लगान एकत्र करना, लोगों के हितों का ध्यान रखना तथा दीवानी एवं फ़ौजदारी मुकद्दमों को सुनना था। कारदार की सहायता के लिए कानूनगो तथा मुकद्दम नामक कर्मचारी नियुक्त किए जाते थे।
  2. गाँव का प्रबंध (Village Administration)-प्रशासन की सबसे छोटी इकाई गाँव थी। इसे उस समय मौजा कहते थे। गाँवों का प्रबंध पंचायत चलाती थी। पंचायत ग्रामीणों की देखभाल करती थी तथा उनके झगड़ों का समाधान करती थी। लोग पंचायतों को भगवान् का रूप समझते थे तथा उनके निर्णयों को स्वीकार करते थे। पटवारी गाँव की भूमि का रिकॉर्ड रखता था। चौधरी लगान वसूल करने में सरकार की सहायता करता था। मुकद्दम गाँव का मुखिया होता था। वह सरकार एवं लोगों के मध्य एक कड़ी का काम करता था। महाराजा गाँव के कार्यों में हस्तक्षेप नहीं करता था।
  3. लाहौर शहर का प्रबंध (Administration of the City of Lahore)-महाराजा रणजीत सिंह के समय लाहौर शहर का प्रबंध अन्य शहरों से अलग ढंग से किया जाता था। लाहौर शहर का प्रमुख अधिकारी ‘कोतवाल’ होता था। महाराजा रणजीत सिंह के समय इस पद पर इमाम बख्श नियुक्त था। कोतवाल के मुख्य कार्य महाराजा के आदेशों को वास्तविक रूप देना, शहर में शांति एवं व्यवस्था बनाये रखना, मुहल्लेदारों के कार्यों की देखभाल करना, व्यापार एवं उद्योग का ध्यान रखना, नाप-तोल की वस्तुओं पर नज़र रखना आदि थे। सारे शहर को मुहल्लों में बाँटा गया था। प्रत्येक मुहल्ला एक मुहल्लेदार के अधीन होता था। मुहल्लेदार अपने मुहल्ले में शांति एवं व्यवस्था बनाए रखता था तथा सफ़ाई का प्रबंध करता था।

IV. लगान प्रबंध (Land Revenue Administration)
महाराजा रणजीत सिंह के समय राज्य की आय का मुख्य स्रोत भूमि का लगान था। इसलिए महाराजा रणजीत सिंह ने इस ओर अपना विशेष ध्यान दिया। लगान एकत्र करने की निम्नलिखित प्रणालियाँ प्रचलित थीं—

  1. बटाई प्रणाली (Batai System)-इस प्रणाली के अंतर्गत सरकार फसल काटने के उपरांत अपना लगान निश्चित करती थी। यह प्रणाली बहुत व्ययपूर्ण थी। दूसरा, सरकार को अपनी आमदन का पहले कुछ अनुमान नहीं लग पाता था।
  2. कनकूत प्रणाली (Kankut System)-1824 ई० में महाराजा ने राज्य के अधिकाँश भागों में कनकूत प्रणाली को लागू किया। इसके अंतर्गत लगान खड़ी फ़सल को देखकर निश्चित किया जाता था। निश्चित लगान नकदी के रूप में लिया जाता था।
  3. बोली देने की प्रणाली (Bidding System)—इस प्रणाली के अंतर्गत अधिक बोली देने वाले को 3 से 6 वर्षों तक किसी विशेष स्थान पर लगान एकत्र करने की अनुमति सरकार की ओर से दी जाती थी।
  4. बीघा प्रणाली (Bigha System)—इस प्रणाली के अंतर्गत एक बीघा की उपज के आधार पर लगान निश्चित किया जाता था।
  5. हल प्रणाली (Plough System)-इस प्रणाली के अंतर्गत बैलों की एक जोड़ी द्वारा जितनी भूमि पर हल चलाया जा सकता था उसको एक इकाई मानकर लगान निश्चित किया जाता था।
  6. कुआँ प्रणाली (Well System)—इस प्रणाली के अनुसार एक कुआँ जितनी भूमि को पानी दे सकता था उस भूमि की उपज को एक इकाई मानकर भूमि का लगान निश्चित किया जाता था।

भू-लगान वर्ष में दो बार एकत्र किया जाता था। लगान अनाज अथवा नकदी दोनों रूपों में लिया जाता था। लगान प्रबंध से संबंधित मुख्य अधिकारी कारदार, मुकद्दम, पटवारी, कानूनगो तथा चौधरी थे। लगान की दर विभिन्न स्थानों पर भिन्न-भिन्न थी। जिन स्थानों पर फसलों की उपज सबसे अधिक थी वहाँ लगान 50% था। जिन स्थानों पर उपज कम होती थी वहाँ भूमि का लगान 2/5 से 1/3 तक होता था। महाराजा रणजीत सिंह ने कृषि को उत्साहित करने के लिए कृषकों को पर्याप्त सुविधाएँ दी हुई थीं।

v. न्याय प्रबंध (Judicial Administration)
महाराजा रणजीत सिंह का न्याय प्रबंध बहुत साधारण था। कानून लिखित नहीं थे। न्याय उस समय की परंपराओं तथा धार्मिक ग्रंथों के अनुसार किया जाता था। न्याय के संबंध में अंतिम निर्णय महाराजा का होता था। लोगों को न्याय देने के लिए महाराजा रणजीत सिंह ने राज्य भर में कई अदालतें स्थापित की थीं।
महाराजा के उपरांत राज्य की सर्वोच्च अदालत का नाम अदालते-आला था। यह नाज़िम तथा परगनों में कारदार की अदालतें दीवानी तथा फ़ौजदारी मुकद्दमों को सुनती थीं। न्याय के लिए महाराजा रणजीत सिंह ने विशेष अधिकारी भी नियुक्त किए थे जिनको अदालती कहा जाता था। अधिकाँश शहरों तथा कस्बों में काज़ी की अदालत भी कायम थी। यहाँ न्याय के लिए मुसलमान तथा गैर-मुसलमान लोग जा सकते थे। गाँवों में पंचायतें झगड़ों का निर्णय स्थानीय परंपराओं के अनुसार करती थीं। महाराजा रणजीत सिंह के समय दंड कठोर नहीं थे। मृत्यु दंड किसी को भी नहीं दिया जाता था। अधिकतर अपराधियों से जुर्माना वसूल किया जाता था। परंतु बार-बार अपराध करने वालों के हाथ, पैर, नाक आदि काट दिए जाते थे। महाराजा रणजीत सिंह का न्याय प्रबंध उस समय के अनुकूल था।

महाराजा रणजीत सिंह की वित्तीय व्यवस्था (Financial Adminisration of Maharaja Ranjit Singh)

प्रश्न 2. महाराजा रणजीत सिंह के वित्तीय प्रबंध की मुख्य विशेषताएँ बताएँ। (Discuss the salient features of Maharaja Ranjit Singh’s Financial Adminisration.)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह की आर्थिक व्यवस्था का विस्तार सहित वर्णन करें। (Describe the Financial System of Maharaja Ranjit Singh in detail.)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह की भू-राजस्व प्रणाली की चर्चा करें। (Discuss the Land Revenue System of Maharaja Ranjit Singh.)
उत्तर–प्रत्येक राज्य को अपना शासन-प्रबंध चलाने के लिए धन की आवश्यकता होती है। ऐसा धन एक योजनाबद्ध वित्तीय प्रणाली द्वारा एकत्रित किया जाता है। आरंभ में रणजीत सिंह ने खजाने की कोई नियमित व्यवस्था नहीं की हुई थी। 1808 ई० में महाराजा रणजीत सिंह ने वित्तीय संरचना में सुधार लाने के लिए दीवान भवानी दास को अपना वित्त मंत्री नियुक्त किया। महाराजा रणजीत सिंह के काल की वित्तीय व्यवस्था का वर्णन इस प्रकार है—
I. लगान प्रबंध (Land Revenue Administration)—महाराजा रणजीत सिंह के समय राज्य की आय का मुख्य स्रोत भूमि का लगान था। राज्य की कुल वार्षिक होने वाली तीन करोड़ रुपए की आय में से लगभग दो करोड़ रुपये भूमि लगान के होते थे। उस समय लगान एकत्र करने की निम्नलिखित प्रणालियाँ प्रचलित थीं

  1. बटाई प्रणाली (Batai System)—इस प्रणाली के अंतर्गत फसल काटने के उपरांत सरकार अपना लगान निश्चित करती थी। यह प्रणाली बहुत व्ययपूर्ण थी। दूसरा, सरकार को अपनी आमदन का पहले कुछ अनुमान नहीं लग पाता था।
  2. कनकूत प्रणाली (Kankut System)-1824 ई० में महाराजा ने राज्य के अधिकाँश भागों में कनकूत प्रणाली को विकसित किया। इसके अंतर्गत लगान खड़ी फसल को देखकर निश्चित किया जाता था। निश्चित लगान नकदी के रूप में लिया जाता था।
  3. बोली देने की प्रणाली (Bidding System)-इस प्रणाली के अंतर्गत सरकार की ओर से अधिक बोली देने वाले को 3 से 6 वर्षों तक किसी विशेष स्थान पर लगान एकत्र करने की अनुमति सरकार की ओर से दी जाती थी।
  4. हल प्रणाली (Plough System)—इस प्रणाली के अंतर्गत बैलों की एक जोड़ी द्वारा जितनी भूमि पर हल चलाया जा सकता था उसको एक इकाई मानकर लगान निश्चित किया जाता था।
  5. कुआँ प्रणाली (Well System)—इस प्रणाली के अनुसार एक कुआँ जितनी भूमि को पानी दे सकता था उस भूमि की उपज को एक इकाई मानकर भूमि का लगान निश्चित किया जाता था। – भू-लगान वर्ष में दो बार एकत्र किया जाता था। लगान अनाज अथवा नकदी दोनों रूपों में लिया जाता था। लगान प्रबंध से संबंधित मुख्य अधिकारी कारदार, मुकद्दम, पटवारी, कानूनगो तथा चौधरी थे। लगान की दर विभिन्न स्थानों पर भिन्न-भिन्न थी। जिन स्थानों पर फ़सलों की उपज सबसे अधिक थी वहाँ लगान 50% था। जिन स्थानों पर उपज कम होती थी वहाँ भूमि का लगान 2/5 से 1/3 तक होता था। महाराजा रणजीत सिंह ने कृषि को उत्साहित करने के लिए कृषकों को पर्याप्त सुविधाएँ दी हुई थीं। हम डॉक्टर बी० जे० हसरत के विचार से सहमत हैं,

“रणजीत सिंह का लगान प्रबंध न तो अधिक दयापूर्ण था तथा न ही दयाहीन परंतु यह व्यावहारिक और उस समय के अनुकूल था।”1

1. “Neither unduly benevolent nor exceedingly oppressive, the land revenue system of Ranjit Singh was highly practical and suited to the requirements of the time.” Dr. B.J. Hasrat, Life and Times of Maharaja Ranjit Singh (Hoshiarpur : 1968). p.306.

2. सरकार की आय के अन्य साधन (Other Sources of Government Income)-महाराजा रणजीत सिंह के समय भूमि लगान के अतिरिक्त निम्नलिखित स्रोतों से भी आय होती थी—

  1. चुंगी कर (Custom Duties)-राज्य की आय का दूसरा स्रोत चुंगी कर था। प्रत्येक वस्तु पर चुंगी लगाई जाती थी, जिससे 17 लाख रुपय वार्षिक आय होती थी।
  2. नज़राना (Nazrana)-नज़राना भी राज्य की आय का मुख्य स्रोत था। यह राज्य के उच्चाधिकारी तथा अन्य लोग, महाराजा को विभिन्न अवसरों पर देते थे।
  3. ज़ब्ती (Zabti)-ज़ब्ती से राज्य को काफ़ी आय प्राप्त होती थी। महाराजा रणजीत सिंह अपराधियों की संपत्ति जब्त कर लेता था। इसके अतिरिक्त जागीरदारों की मृत्यु के बाद उनकी जागीरें भी जब्त कर ली जाती थीं।
  4. अदालतों से आय (Income from Judiciary)-अदालती आय भी राज्य की आय का एक अच्छा साधन था। दोषियों से सरकार जुर्माना लेती थी और निर्दोष प्रमाणित होने वाले व्यक्तियों से शुक्राना प्राप्त करती थी।
  5. आबकारी (Excise)-आबकारी कर अफ़ीम, भाँग, शराब तथा अन्य मादक पदार्थों पर लगाया जाता था। (च) नमक से आय (Income from Salt)—केवल सरकार को खानों से नमक निकालने तथा बेचने का अधिकार था। इससे भी सरकार को कुछ आय होती थी।
  6. अबवाब (Abwabs) अबवाब वे कर थे, जो भूमि लगान के साथ-साथ उगाहे जाते थे। ये प्रायः भूमि लगान का 5% से 15% भाग होते थे।
  7. व्यवसाय कर (Professional Tax)-महाराजा रणजीत सिंह की सरकार ने विभिन्न व्यवसायों के लोगों पर व्यवसाय कर लगाया था। यह कर व्यापारियों पर एक रुपए से दो रुपए प्रति व्यापारी होता था।

व्यय (Expenditure)—महाराजा रणजीत सिंह के समय सरकार अपनी आय शासन संचालन, युद्ध-सामग्री तैयार करने, अधिकारियों को वेतन देने, कृषि को उन्नत करने, सरकारी योजनाओं, धर्मार्थ कार्यों तथा पुरस्कार आदि पर व्यय करती थी।

महाराजा रणजीत सिंह की जागीरदारी प्रथा (Jagirdari System of Maharaja Ranjit Singh)

प्रश्न 3. महाराजा रणजीत सिंह की जागीरदारी प्रथा पर चर्चा करें। (Discuss about the Jagirdari System of Maharaja Ranjit Singh.)
उत्तर-जागीरदारी प्रथा महाराजा रणजीत सिंह से पहले भी सिख मिसलों में प्रचलित थी, परंतु महाराजा ने इस प्रथा को नया रूप दिया। महाराजा रणजीत सिंह की जागीरदारी प्रथा की मुख्य विशेषताएँ निम्नलिखित थीं—

जागीरों की किस्में (Kinds of Jagirs)
महाराजा रणजीत सिंह के समय निम्नलिखित प्रकार की जागीरें प्रचलित थीं—

  1. सेवा जागीरें (Service Jagirs)-महाराजा रणजीत सिंह के समय जागीरदारों को दी जाने वाली जागीरों में सेवा जागीरें सब से महत्त्वपूर्ण थीं और इनकी संख्या भी सर्वाधिक थी। सभी सेवा जागीरें चाहे वह सैनिक हों अथवा असैनिक महाराजा की प्रसन्नता पर्यंत रहने तक रखी जा सकती थीं। इन जागीरों को घटाया अथवा बढ़ाया अथवा जब्त किया जा सकता था। सेवा जागीरें सैनिकों तथा असैनिक अधिकारियों को दी जाती थीं। इन जागीरों का वर्णन निम्नलिखित अनुसार है—
    • सैनिक जागीरें (Military Jagirs)—सैनिक जागीरें वे जागीरें थीं जिसमें जागीरदारों को राज्य की सेवा के लिए कुछ निश्चित घुड़सवार रखने पड़ते थे। इन जागीरदारों को अपनी निजी सेवाओं के बदले मिलने वाले वेतन तथा घुड़सवारों पर किए जाने वाले व्यय के बदले राज्य की ओर से जागीरें दी जाती थीं। महाराजा रणजीत सिंह इस बात का विशेष ध्यान रखता था कि प्रत्येक सैनिक जागीरदार अपने अधीन सरकार की ओर से निश्चित
      की गई संख्या में घुड़सवार अवश्य रखे। इसके लिए समय-समय पर जागीरदारों के घुड़सवारों का निरीक्षण किया जाता था। जिन जागीरदारों ने कम घुड़सवार रखे होते थे, उन्हें दंड दिया जाता था। 1830 ई० में महाराजा रणजीत सिंह ने घोड़ों को दागने का काम भी आरंभ कर दिया था।
    • सिविल जागीरें (Civil Jagirs)–सिविल जागीरें राज्य के सिविल अधिकारियों को उन्हें मिलने वाले वेतन के स्थान पर दी जाती थीं। इन जागीरों से उन्हें लगान एकत्र करने का अधिकार प्राप्त था। सिविल जागीरदारों को अपने अधीन कोई निश्चित घुड़सवार नहीं रखने पड़ते थे। सिविल जागीरों की संख्या बहुत अधिक थी।
  2. ईनाम जागीरें (Inam Jagirs)-ईनाम जागीरें वे जागीरें थीं, जोकि महाराजा रणजीत सिंह लोगों को उनकी विशेष सेवाओं के बदले अथवा विशेष कार्यों के बदले पुरस्कार के रूप में प्रदान करता था। ईनाम जागीरें । प्राय: स्थायी होती थीं।
  3. गुजारा जागीरें (Subsistence Jagirs)—गुज़ारा जागीरें वे जागीरें थीं जो कि महाराजा लोगों को गुज़ारे अथवा आजीविका के लिए देता था। ऐसी जागीरों के लिए महाराजा किसी सेवा की आशा नहीं रखता था। ये जागीरें प्रायः महाराजा के संबंधियों, पराजित शासकों व उनके आश्रितों तथा जागीरदारों के आश्रितों को गुज़ारे के लिए दी जाती थीं। गुज़ारा जागीरें भी प्रायः ईनाम जागीरों की भाँति पैतृक अथवा स्थायी होती थीं।
  4. वतन जागीरें (Watan Jagirs) वतन जागीरों को पट्टीदार जागीरें भी कहा जाता था। ये वे जागीरें होती थीं जो कि किसी जागीरदार को उसके अपने गाँव में दी जाती थीं। ये जागीरें सिख मिसलों के समय से चली आ रही थीं। ये जागीरें पैतृक (Hereditary) होती थीं। महाराजा रणजीत सिंह ने इन वतन जागीरों को जारी रखा. परंतु उसने कुछ वतन जागीरदारों को राज्य की सेवा के लिए कुछ घुड़सवार रखने का आदेश दिया था।
  5. धर्मार्थ जागीरें (Dharmarth Jagirs) धर्मार्थ जागीरें वे जागीरें थीं जो धार्मिक संस्थाओं तथा गुरुद्वारों, मंदिरों और मस्जिदों अथवा धार्मिक व्यक्तियों को दी जाती थीं। धार्मिक संस्थाओं को दी गई धर्मार्थ जागीरों की आय यात्रियों के आवास, उनके लिए भोजन तथा पवित्र स्थानों के रख-रखाव पर व्यय की जाती थी। धर्मार्थ जागीरें स्थायी रूप से दी जाती थीं।

जागीरदारी प्रणाली की अन्य विशेषताएँ (Other Features of the Jagirdari System)

  1. जागीरों का आकार (Size of the Jagirs) सभी जागीरों चाहे वे किसी भी वर्ग से संबंधित थीं, के आकार में बहुत अंतर था, परंतु यह अंतर सर्वाधिक सेवा जागीरों में था। सेवा जागीर एक गाँव के बराबर अथवा उसका कोई भाग या कुछ एकड़ से लेकर सारे जिले के समान बड़ी हो सकती थीं।
  2. जागीरों का प्रबंध (Administration of the Jagirs)-जागीरों का प्रबंध प्रत्यक्ष रूप से या तो जागीरदार स्वयं या अप्रत्यक्ष रूप से अपने एजेंटों के द्वारा करते थे। छोटी-छोटी जागीरों का प्रबंध तो जागीरदार स्वयं अथवा उनकी अनुपस्थिति में उनके परिवार के सदस्य करते थे, परंतु बहुत बड़ी जागीरें, जो कई क्षेत्रों में फैली होती थीं, उनका प्रबंध जागीरदार स्वयं अकेला नहीं कर सकता था, इसलिए जागीरों के प्रबंध की देख-रेख के लिए वह मुख्तारों की नियुक्ति करता था। जागीरदार अथवा उनके एजेंट सरकार द्वारा निश्चित किया गया लगान अपनी जागीरों . से एकत्र करते थे। जागीरदारों को इस बात का ध्यान रखना होता था कि उनके अधीन कार्यरत किसान अथवा श्रमिक उनसे रुष्ट न हों।
  3. जागीरदारों के कर्त्तव्य (Duties of Jagirdars)-महाराजा रणजीत सिंह के समय जागीरदार न केवल अपने अधीन जागीर में से लगान एकत्रित करने का कार्य करते थे, बल्कि उस जागीर में निवास करने वाले लोगों के न्याय संबंधी मामलों का निर्णय भी करते थे। कई बार महाराजा इन जागीरदारों में से वीर जागीरदारों को छोटेमोटे सैनिक अभियानों का नेतृत्व भी सौंप देता था। कई बार महाराजा अपने अंतर्गत क्षेत्रों से शेष लगान एकत्रित करने की ज़िम्मेदारी जागीरदारों को सौंप देता था। कुछ जागीरदारों को कूटनीतिक मिशनों के लिए भेजा जाता था तथा कुछ अन्य को बाहर से आने वाले महत्त्वपूर्ण व्यक्तियों के स्वागत की ज़िम्मेदारी सौंपी जाती थी। इस प्रकार हम देखते हैं कि महाराजा रणजीत सिंह के समय जागीरदारों को बहुत-सी शक्तियाँ प्राप्त थीं।

जागीरदारी प्रणाली के गुण (Merits of the Jagirdari System)

  1. लगान एकत्रित करने के झमेले से मुक्त (Free from the burden of Collecting Revenue)महाराजा रणजीत सिंह के समय राज्य के बहुत-से सिविल व सैनिक कर्मचारियों को जागीरें दी गई थीं। इन जागीरदारों को अपने अंतर्गत जागीर से भूमि का लगान एकत्रित करने का अधिकार दिया जाता था। इसलिए सरकार इन क्षेत्रों से लगान एकत्रित करने के झमेले से मुक्त हो जाती थी।
  2. विशाल सेना का तैयार होना (A large force was prepared)-महाराजा रणजीत सिंह के समय जिन जागीरदारों को सैनिक जागीरें दी गई थीं, उन्हें राज्य की सेवा के लिए सैनिक रखने पड़ते थे। महाराजा समय-समय पर इन सैनिकों का निरीक्षण भी करता था। जागीरदार आवश्यकता पड़ने पर अपने सैनिकों को महाराजा की सहायता के लिए भेजते थे। जागीरदारों के सैनिकों के कारण महाराजा रणजीत सिंह की एक विशाल सेना तैयार हो गई थी।
  3. शासन व्यवस्था में सहायता (Help in the Administration)-महाराजा रणजीत सिंह के समय जागीरदार न केवल लगान एकत्रित करने का ही कार्य करते थे, बल्कि अपने अधीन जागीर में वे सभी न्यायिक मामलों का भी निपटारा करते थे। इन जागीरदारों को नज़राना एकत्रित करने अथवा महाराजा के अधीन क्षेत्रों में शेष रहता लगान एकत्रित करने का अधिकार भी दिया जाता था। राज्य में शांति बनाए रखने के लिए वे छोटे-छोटे सैनिक अभियानों का नेतृत्व भी करते थे। इस प्रकार ये जागीरदार महाराजा रणजीत सिंह की राज्य व्यवस्था चलाने में सहायक सिद्ध होते थे।
  4. रणजीत सिंह की निरंकुशता पर अंकुश (Restriction on the despotism of Ranjit Singh)जागीरदारी प्रथा ने महाराजा रणजीत सिंह की असीमित शक्तियों पर अंकुश लगाने का भी कार्य किया था। क्योंकि महाराजा अपनी राज्य-व्यवस्था चलाने के लिये जागीरदारों की सहायता प्राप्त करता था, इसलिए वह स्वेच्छा से शासन नहीं कर सकता था। उसे जागीरदारों की प्रसन्नता का ध्यान रखना पड़ता था।

जागीरदारी प्रणाली के अवगुण (Demerits of the Jagirdari System)

  1. सेना में एकता का अभाव (Lack of unity in the Army)-महाराजा रणजीत सिंह के समय जागीरदारों के पास अपनी सेना होती थी। इस सेना में जागीरदार अपनी इच्छानुसार भर्ती करते थे। प्रत्येक जागीरदार के अंतर्गत इन सैनिकों को दिया जाने वाला प्रशिक्षण एक जैसा नहीं होता था जिस कारण उनमें परस्पर तालमेल नहीं होता था। इसके अतिरिक्त ये सैनिक महाराजा की बजाए अपने जागीरदारों के प्रति अधिक वफ़ादार होते थे।
  2. कृषकों का शोषण (Exploitation of Peasants)-जागीरदारों को अपने अधीन जागीर में से भूमि का लगान एकत्रित करने का अधिकार होता था। ये जागीरदार कृषकों से अधिक-से-अधिक लगान एकत्रित करने का प्रयास करते थे। बड़े जागीरदार प्रायः ठेकेदारों से निश्चित राशि लेकर उन्हें लगान एकत्रित करने की आज्ञा दे देते थे। ये ठेकेदार अधिक-से-अधिक लाभ कमाने के लिए कृषकों का बहुत शोषण करते थे।
  3. जागीरदार ऐश्वर्यपूर्ण जीवन व्यतीत करते थे (Jagirdars used to lead a Luxurious Life) क्योंकि बड़े-बड़े जागीरदार बहुत धनवान् होते थे, इसलिए वे ऐश्वर्यपूर्ण जीवन व्यतीत करते थे। वे अपने महलों में रंगरलियाँ तथा जश्न मनाते रहते थे। इसका एक कारण यह भी था कि इन जागीरदारों को मालूम था कि उनकी मृत्यु के पश्चात् उनकी जागीर ज़ब्त की जा सकती थी। इस प्रकार राज्य के बहुमूल्य धन को व्यर्थ ही गँवा दिया जाता था।
  4. जागीरदारी प्रथा रणजीत सिंह के उत्तराधिकारियों के लिए हानिप्रद सिद्ध हुई (Jagirdari System proved harmful to the successors of Ranjit Singh)-महाराजा रणजीत सिंह ने जागीरदारों को बहुतसी शक्तियाँ सौंपी हुई थीं। अपने जीवित रहते हुए तो महाराजा ने उन्हें अपने नियंत्रण में रखा, किंतु उसकी मृत्यु के पश्चात् उसके दुर्बल उत्तराधिकारियों के अंतर्गत वे नियंत्रण में न रहे। उन्होंने राज्य के विरुद्ध षड्यंत्रों में भाग लेना आरंभ कर दिया। यह बात सिख साम्राज्य के लिए बहुत हानिप्रद सिद्ध हुई।

यद्यपि जागीरदारी प्रथा में कुछ दोष थे, तथापि यह महाराजा रणजीत सिंह के समय बहुत सफल रही।

महाराजा रणजीत सिंह की न्याय व्यवस्था (Judicial Administration of Maharaja Ranjit Singh)

प्रश्न 4. महाराजा रणजीत सिंह की न्याय प्रणाली का मूल्यांकन करें। (Make an assessment of the Judicial system of Maharaja Ranjit Singh.)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह की न्याय प्रणाली के बारे में आप क्या जानते हैं ? विस्तारपूर्वक लिखें।
(What do you know about the Judicial Administration of Ranjit Singh ? Explain in detail.)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह की न्याय प्रणाली का वर्णन करो।”
(Explain the Judicial system of Maharaja Ranjit Singh.)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह की न्याय प्रणाली बहुत साधारण थी। उस समय कानून लिखित नहीं थे। निर्णय प्रचलित प्रथाओं व धार्मिक विश्वासों के आधार पर किए जाते थे। रणजीत सिंह की न्याय प्रणाली की मुख्य विशेषताएँ निम्नलिखित थीं—
1. न्यायालय (Courts)-महाराजा रणजीत सिंह ने अपनी प्रजा को न्याय देने के लिए अपने साम्राज्य में निम्नलिखित न्यायालय स्थापित किए थे—

  1. पंचायत (Panchayat)-महाराजा रणजीत सिंह के समय पंचायत सबसे लघु किंतु सबसे महत्त्वपूर्ण न्यायालय थी। पंचायत में प्राय: पाँच सदस्य होते थे। गाँव के लगभग सभी दीवानी तथा फ़ौजदारी मामलों की सुनवाई पंचायत द्वारा की जाती थी। सरकार पंचायत के कार्यों में कोई हस्तक्षेप नहीं करती थी।
  2. काज़ी का न्यायालय (Qazi’s Court) नगरों में काज़ी के न्यायालय स्थापित किए गए थे। रणजीत सिंह के समय सभी धर्मों के लोगों को इस पद पर नियुक्त किया जाता था। काज़ी के न्यायालय में पंचायतों के निर्णय के विरुद्ध अपीलें की जाती थीं।
  3. जागीरदार का न्यायालय (Jagirdar’s Court) महाराजा रणजीत सिंह के राज्य में जागीरों की व्यवस्था जागीरदारों के हाथ में होती थी। वे अपने न्यायालय लगाते थे, जिनमें अपनी जागीर से संबंधित दीवानी व फ़ौजदारी मुकद्दमों के निर्णय किए जाते थे।
  4. कारदार का न्यायालय (Kardar’s Court) कारदार परगने का मुख्य अधिकारी होता था। उसके न्यायालय में परगने के सारे दीवानी तथा फ़ौजदारी मामलों की सुनवाई की जाती थी।
  5. नाज़िम का न्यायालय (Nazim’s Court)—प्रत्येक प्रांत में न्याय का मुख्य अधिकारी नाज़िम होता था। वह प्रायः फ़ौजदारी मुकद्दमों के निर्णय करता था।
  6. अदालती का न्यायालय (Adalti’s Court)—महाराजा रणजीत सिंह के राज्य के सभी बड़े नगरों जैसे लाहौर, अमृतसर, पेशावर, मुलतान, जालंधर आदि में न्याय देने के लिए अदालती नियुक्त किए हुए थे। वे दीवानी एवं फ़ौजदारी मुकद्दमों की सुनवाई करते थे एवं अपना निर्णय देते थे।
  7. अदालत-ए-आला (Adalat-i-Ala)-लाहौर में स्थापित अदालत-ए-आला महाराजा की अदालत के नीचे सबसे बड़ी अदालत थी। इस अदालत में कारदार और नाज़िम अदालतों के निर्णयों के विरुद्ध अपीलें सुनी जाती थीं। इसके निर्णयों के विरुद्ध अपील महाराजा की अदालत में की जा सकती थी।
  8. महाराजा की अदालत (Maharaja’s Court)-महाराजा की अदालत सर्वोच्च अदालत थी। उसके निर्णय अंतिम होते थे। याचक न्याय लेने के लिए सीधे महाराजा के पास याचना कर सकता था। महाराजा कारदारों, नाज़िमों और अदालत-ए-आला के निर्णयों के विरुद्ध भी अपीलें सुनता था। केवल महाराजा को ही किसी भी अपराधी को मृत्यु दंड देने अथवा अपराधियों की सजा को कम अथवा माफ करने का अधिकार प्राप्त था।

2. अदालतों की कार्य प्रणाली (Working of the Courts)-महाराजा रणजीत सिंह के समय अदालतों की कार्य प्रणाली साधारण एवं व्यावहारिक थी। न्याय प्राप्ति के लिए लोग राज्य में स्थापित किसी भी अदालत में जा सकते थे। कानून लिखित नहीं थे, इसलिए न्यायाधीश प्रचलित रीति-रिवाजों या धार्मिक परंपराओं के अनुसार अपने निर्णय देते थे। लोग इन अदालतों के निर्णयों के विरुद्ध महाराजा के पास अपील कर सकते थे।
3. दंड (Punishments)-महाराजा रणजीत सिंह अपराधियों को सुधारना चाहता था। इसलिए वह अपराधियों को कड़े दंड देने के विरुद्ध था। मृत्यु दंड किसी भी अपराधी को नहीं दिया जाता था। बहुत-से अपराधों का दंड प्रायः जुर्माना ही होता था। अंग काटने का दंड केवल उन अपराधियों को दिया जाता था, जो बार-बार अपराध करते रहते थे।
4. महाराजा रणजीत सिंह की न्याय प्रणाली का मूल्यांकन (Estimate of Maharaja Ranjit Singh’s Judicial System)
(क) दोष (Demerits)—

  1. न्याय को बेचा जाता था (Justice was Sold)-सरकार ने न्याय को अपनी आय का एक साधन बनाया हुआ था। सरकार को धन देकर दंड से बचा जा सकता था।
  2. न्यायालयों के अधिकार स्पष्ट नहीं थे (Courts’ rights were not Clear)-महाराजा रणजीत सिंह के समय अदालतों के अधिकार स्पष्ट नहीं थे। इसलिए लोगों के साथ उचित न्याय नहीं किया जा सकता था।
  3. कोई लिखित कानून नहीं थे (No written Laws)-महाराजा रणजीत सिंह के समय कानून लिखित नहीं थे। इस प्रकार न्यायाधीश कई बार अपनी इच्छा का प्रयोग करते थे।

(ख) गुण (Merits)—

  1. न्याय को बेचा नहीं जाता था (Justice was not Sold)-अधिकाँश इतिहासकारों ने इस विचार का खंडन किया है कि महाराजा रणजीत सिंह के समय न्याय को बेचा जाता था।
  2. शीघ्र व सस्ता न्याय (Fast and Cheap Justice) महाराजा रणजीत सिंह की न्याय प्रणाली का एक प्रमुख गुण यह था कि उस समय लोगों को शीघ्र व सस्ता न्याय मिलता था।
  3. कानून परंपराओं पर आधारित थे (Laws were based on Conventions) न्यायाधीश अपने निर्णय समाज में प्रचलित रीति-रिवाजों और धार्मिक परंपराओं के आधार पर देते थे। लोग इन रीति-रिवाजों का बहुत सम्मान करते थे।
  4. न्यायाधीशों पर कड़ी निगरानी (Strict watch over Judges)—महाराजा रणजीत सिंह न्यायाधीशों । पर कड़ी निगरानी रखता था ताकि वे ठीक प्रकार से न्याय करें।

महाराजा रणजीत सिंह का सैनिक प्रबंध । (Military Administration of Maharaja Ranjit Singh)

प्रश्न 5. महाराजा रणजीत सिंह की सेना का ब्योरा दीजिए। (Give an account of the military administration of Maharaja Ranjit Singh.)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह के सैनिक संगठन का संक्षिप्त वर्णन करें। उसकी सेना को ‘शक्ति का इंजन’ क्यों कहा जाता है ?
(Write briefly the military organisation of Maharaja Ranjit Singh. Why was his army called the ‘Engine of Power’ ?)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह के सैनिक प्रबंध का वर्णन कीजिए।
(Describe the salient features of the Military Administration of Maharaja Ranjit Singh.)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह के सैनिक प्रबंध के गुण तथा अवगुण बताएँ।
(Describe the merits and demerits of the Military Administration of Maharaja Ranjit Singh.)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह के पूर्व सिखों की सैनिक प्रणाली बहुत दोषपूर्ण थी। सैनिकों में अनुशासन का अभाव था। उनकी न तो कोई परेड होती थी तथा न ही किसी तरह का कोई प्रशिक्षण दिया जाता था। सैनिकों को नकद वेतन नहीं दिया जाता था। परिणामस्वरूप, सैनिक लूटमार की ओर अधिक ध्यान देते थे। महाराजा रणजीत सिंह पंजाब में एक शक्तिशाली सिख साम्राज्य की स्थापना करने का स्वप्न देख रहा था। इस स्वप्न को पूरा करने के लिए, उसने एक शक्तिशाली तथा अनुशासित सेना की आवश्यकता अनुभव की। इस उद्देश्य से उसने अपनी सेना का आधुनिकीकरण करने का निश्चय किया। इस सेना में भारतीय तथा यूरोपियन दोनों प्रणालियों का अच्छे ढंग से सुमेल किया गया था। इस सेना का संक्षिप्त वर्णन इस प्रकार है

सेना का विभाजन (Division of Army)
महाराजा रणजीत सिंह ने अपनी सेना को दो भागों (i) फ़ौज-ए-आइन तथा (ii) फ़ौज़-ए-बेकवायद में बाँटा हुआ था। इन भागों का वर्णन निम्नलिखित अनुसार है—

फ़ौज-ए-आइन (Fauj-I-Ain)
महाराजा रणजीत सिंह की नियमित सेना को फ़ौज-ए-आइन कहा जाता था। इसके तीन भाग थे—
(i) पैदल सेना
(ii) घुड़सवार सेना
(iii) तोपखाना।

  1. पैदल सेना (Infantry)-महाराजा रणजीत सिंह पैदल सेना के महत्त्व को अच्छी प्रकार जानता था। अत: उसके शासनकाल में पैदल सेना की भर्ती जो 1805 ई० के पश्चात् शुरू हुई थी वह महाराजा के अंत तक जारी रही। आरंभ में इस सेना में सिखों की संख्या बहुत कम थी। इसका कारण यह था कि वे इस सेना को घृणा की दृष्टि से देखते थे। इसलिए आरंभ में महाराजा रणजीत सिंह ने पठानों एवं गोरखों को इस सेना में भर्ती किया। 1822 ई० में महाराजा रणजीत सिंह ने इस सेना को अच्छा प्रशिक्षण देने के लिए जनरल वेंतरा को नियुक्त किया। 1838-39 ई० में इस सेना की संख्या 26,617 हो गई थी।
  2. घुड़सवार (Cavalry)-अनुशासित सेना का भाग होने के कारण शुरू में सिख इस सेना में भी भर्ती न हुए। आरंभ में इस सेना में पठान, राजपूत तथा डोगरों आदि को भर्ती किया गया। परंतु बाद में कुछ सिख भी इसमें भर्ती हो गए। 1822 ई० में घुड़सवार सैनिकों को प्रशिक्षण देने के लिए महाराजा रणजीत सिंह ने जनरल अलॉर्ड को नियुक्त किया। उसके योग्य नेतृत्व में शीघ्र ही घुड़सवार सेना बहुत शक्तिशाली बन गई। 1838-39 ई० में घुड़सवार सैनिकों की संख्या 4090 थी।
  3. तोपखाना (Artillery) तोपखाना महाराजा की सेना का विशेष अंग था। आरंभ में यह पैदल सेना का ही अंग था। 1810 ई० में तोपखाने का एक अलग विभाग खोला गया था। यूरोपीय ढंग का प्रशिक्षण देने के लिए जनरल कोर्ट एवं गार्डनर को इस विभाग में भर्ती किया गया। महाराजा रणजीत सिंह के समय में ही इस विभाग ने महत्त्वपूर्ण प्रगति कर ली थी। इस विभाग को चार भागों तोपखाना-ए-अस्पी, तोपखाना-ए-फीली, तोपखानाए-गावी तथा तोपखाना-ए-शुतरी में बाँटा गया था।

तोपखाना-ए-फीली में बहुत भारी तोपें थीं तथा इन्हें हाथियों से खींचा जाता था। तोपखाना-ए-शुतरी में वे तोपें थीं जिन्हें ऊँटों के द्वारा खींचा जाता था। तोपखाना-ए-अस्पी में वे तोपें थीं जिन्हें घोड़ों के द्वारा खींचा जाता था। तोपखाना-ए-गावी में वे तोपें थीं जिन्हें बैलों द्वारा खींचा जाता था।

फ़ौज-ए-खास
(Fauj-I-Khas)
फ़ौज-ए-खास महाराजा रणजीत सिंह की सेना का सबसे महत्त्वपूर्ण एवं शक्तिशाली अंग था। इस सेना को जनरल वेंतूरा के नेतृत्व में तैयार किया गया था। इस सेना में पैदल सेना की चार बटालियनें, घुड़सवार सेना की दो रेजिमैंटों तथा 24 तोपों का एक तोपखाना सम्मिलित था। इस सेना को यूरोपीय ढंग से प्रशिक्षण देकर तैयार किया गया था। इस सेना में कुछ चुने हुए सैनिक भर्ती किए गए थे। उनके शस्त्र तथा घोड़े भी अच्छी नस्ल के थे। इसलिए इस सेना को फ़ौज-ए-खास कहा जाता था। इस सेना का अपना अलग झण्डा तथा चिह्न थे।

फ़ौज-ए-बेकवायद (Fauj-i-Beqawaid)
फ़ौज-ए-बेकवायद वह सेना थी, जो निश्चित नियमों की पालना नहीं करती थी। इसके चार भाग थे
(i) घुड़चढ़े
(ii) फ़ौज-ए-किलाजात
(ii) अकाली
(iv) जागीरदार सेना।

  1. घुड़चढ़े (Ghurcharas)-घुड़चढ़े बेकवायद सेना का एक महत्त्वपूर्ण अंग था। ये दो भागों में बंटे हुए थे—
    • घुड़चढ़े खास-इसमें राजदरबारियों के संबंधी तथा उच्च वंश से संबंधित व्यक्ति सम्मिलित थे।
    • मिसलदार-इसमें वे सैनिक सम्मिलित थे, जो मिसलों के समय से सैनिक चले आ रहे थे। घुड़चढ़ों की तुलना में मिसलदारों का पद कम महत्त्वपूर्ण था। इनके युद्ध का ढंग भी पुराना था। 1838-39 ई० में घुड़चढ़ों की संख्या 10,795 थी।
  2. फ़ौज-ए-किलाजात (Fauj-i-Kilajat)-किलों की सुरक्षा के लिए महाराजा रणजीत सिंह के पास एक अलग सेना थी, जिसको फ़ौज-ए-किलाजात कहा जाता था। प्रत्येक किले में किलाजात सैनिकों की संख्या किले के महत्त्व के अनुसार अलग-अलग होती थी। किले के कमान अधिकारी को किलादार कहा जाता था।
  3. अकाली (Akalis) अकाली अपने आपको गुरु गोबिंद सिंह जी की सेना समझते थे। इनको सदैव भयंकर अभियान में भेजा जाता था। वे सदैव हथियारबंद होकर घूमते रहते थे। वे किसी तरह के सैनिक प्रशिक्षण या परेड के विरुद्ध थे। वे धर्म के नाम पर लड़ते थे। उनकी संख्या 3,000 के लगभग थी। अकाली फूला सिंह एवं अकाली साधु सिंह उनके प्रसिद्ध नेता थे।
  4. जागीरदारी फ़ौज (Jagirdari Fauj)-महाराजा रणजीत सिंह के समय जागीरदारों पर यह शर्त लगाई गई कि वे महाराजा को आवश्यकता पड़ने पर सैनिक सहायता दें। इसलिए जागीरदार राज्य की सहायता के लिए पैदल तथा घुड़सवार सैनिक रखते थे।

अन्य विशेषताएँ (Other Features)

  1. सेना की कुल संख्या (Total Strength of the Army)-अधिकतर इतिहासकारों का विचार है कि महाराजा रणजीत सिंह की सेना की कुल संख्या 75,000 से 1,00,000 के बीच थी।
  2. रचना (Composition)-महाराजा रणजीत सिंह की सेना में विभिन्न वर्गों से संबंधित लोग सम्मिलित थे। इनमें सिख, राजपूत, ब्राह्मण, क्षत्रिय मुसलमान, गोरखे, पूर्बिया हिंदुस्तानी सम्मिलित थे।
  3. भर्ती (Recruitment)-महाराजा रणजीत सिंह के समय सेना में भर्ती बिल्कल लोगों की इच्छा के अनुसार थी। केवल स्वस्थ व्यक्तियों को ही सेना में भर्ती किया जाता था। अफसरों की भर्ती का काम केवल महाराजा के हाथों में था।
  4. वेतन (Pay)—पहले सैनिकों को या तो जागीरों के रूप में या ‘जिनस’ के रूप में वेतन दिया जाता था। महाराजा रणजीत सिंह ने सैनिकों को नकद वेतन देने की परंपरा शुरू की। .
  5. पदोन्नति (Promotions)-महाराजा रणजीत सिंह अपने सैनिकों की केवल योग्यता के आधार पर पदोन्नति करता था। पदोन्नति देते समय महाराजा किसी सैनिक के धर्म के आधार पर कोई भेदभाव नहीं करता था।
  6. पुरस्कार तथा उपाधि (Rewards and Honours)-महाराजा रणजीत सिंह प्रत्येक वर्ष लाहौर दरबार । की शानदार सेवा करने वाले सैनिकों को तथा युद्ध के मैदान में वीरता दिखाने वाले सैनिकों को लाखों रुपये के पुरस्कार तथा ऊँची उपाधियाँ देता था।
  7. अनुशासन (Discipline)-महाराजा रणजीत सिंह के समय सेना में बहुत कड़ा अनुशासन स्थापित किया गया था। सैनिक नियमों का उल्लंघन करने वालों को कड़ा दंड दिया जाता था।

जनरल सर चार्ल्स गफ तथा आर्थर डी० इनस का विचार है,
“भारत में हमने जिन सेनाओं का मुकाबला किया उनमें से सिख सेना सबसे अधिक कुशल थी तथा जिसको पराजित करना सबसे अधिक कठिन था।”2

2.” “The Sikh army was the most efficient, the hardest to overcome, that we have ever faced in India.” Gen. Sir Charles Gough and Arthur D. Innes, The Sikhs and the Sikh Wars (Delhi : 1984) p. 33.

संक्षिप्त उत्तरों वाले प्रश्न (Short Answer Type Questions)

प्रश्न 1. महाराजा रणजीत सिंह के केंद्रीय शासन प्रबंध की रूप-रेखा बताएँ।
(Give an outline of Central Administration of Maharaja Ranjit Singh.)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह राज्य का मुखिया था। उसके मुख से निकला प्रत्येक शब्द कानून समझा जाता था। शासन प्रबंध में सहयोग प्राप्त करने के लिए महाराजा ने कई मंत्री नियुक्त किए हुए थे। इनमें प्रधानमंत्री, विदेश मंत्री, दीवान, मुख्य सेनापति तथा ड्योढ़ीवाला प्रमुख थे। इन मंत्रियों के परामर्श को मानना अथवा न मानना रणजीत सिंह की इच्छा पर निर्भर था। महाराजा ने प्रशासन की अच्छी देख-रेख के लिए कुछ दफ्तरों की स्थापना भी की थी।

प्रश्न 2. महाराजा रणजीत सिंह के केंद्रीय शासन में महाराजा की स्थिति कैसी थी? (What was the position of Maharaja in Central Administration ?)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह के प्रशासन का स्वरूप क्या था ? (Explain the nature of administration of Maharaja Ranjit Singh.)
उत्तर-महाराजा राज्य का प्रमुख था। वह सभी शक्तियों का स्रोत था। वह राज्य के मंत्रियों, उच्च सैनिक तथा असैनिक अधिकारियों की नियुक्ति करता था। वह मुख्य सेनापति था तथा राज्य की सारी सेना उसके संकेत पर चलती थी। वह राज्य का मुख्य न्यायाधीश भी था और उसके मुख से निकला प्रत्येक शब्द लोगों के लिए कानून बन जाता था। महाराजा को किसी भी शासक के साथ युद्ध अथवा संधि करने का पूर्ण अधिकार प्राप्त था।

प्रश्न 3. महाराजा रणजीत सिंह के प्रांतीय प्रबंध पर एक नोट लिखें। (Write a short note on the Provincial Administration of Maharaja Ranjit Singh.)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह का प्रांतीय प्रबंध कैसा था ? (How was the Provincial Administration of Maharaja Ranjit Singh ?)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह के समय सूबे में नाज़िम की क्या स्थिति थी ?
(What was the position of Nazim in Province during the times of Maharaja Ranjit Singh?)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह का साम्राज्य चार महत्त्वपूर्ण प्राँतों—

  1. सूबा-ए-लाहौर,
  2. सूबा-ए-मुलतान,
  3. सूबा-ए-कश्मीर,
  4. सूबा-ए-पेशावर में बँटा हुआ था।

प्रत्येक सूबा नाज़िम के अधीन होता था। उसका मुख्य कार्य अपने प्रांत में शांति बनाए रखना था। वह प्रांत के अन्य कर्मचारियों के कार्यों का निरीक्षण करता था। वह प्रांत में महाराजा के आदेशों को लागू करवाता था। वह फ़ौजदारी तथा दीवानी मुकद्दमों के निर्णय करता था। वह भूमि का लगान एकत्रित करने में कर्मचारियों की सहायता करता था।

प्रश्न 4. महाराजा रणजीत सिंह के स्थानीय प्रशासन का विश्लेषण करें। (Analyse the local administration of Maharaja Ranjit Singh.)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह के स्थानीय शासन प्रबंध के बारे में आप क्या जानते हैं ? वर्णन करें।
(What do you know about the local administration of Maharaja Ranjit Singh ? Explain.)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह के समय प्रांतों को परगनों में विभाजित किया गया था। परगने का शासन प्रबंध कारदार के अधीन था। कारदार का मुख्य कार्य शाँति स्थापित रखना, महाराजा के आदेशों का पालन करवाना, लगान एकत्र करना तथा दीवानी और फ़ौजदारी मुकद्दमे सुनना था। कानूनगो तथा मुकद्दम, कारदार की सहायता करते थे। प्रशासन की सबसे छोटी इकाई गाँव अथवा मौजा थी। गाँवों का प्रबंध पंचायतों के हाथ में होता था। पंचायत गाँवों के लोगों की देख-रेख करती थी।

प्रश्न 5. महाराजा रणजीत सिंह के समय कारदार की स्थिति क्या थी ? (What was the position of Kardar during the times of Maharaja Ranjit Singh ?)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह के समय परगने के मुख्य अधिकारी को कारदार कहा जाता था। वह परगने में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए उत्तरदायी था। वह परगने से भूमि कर एकत्र करके केंद्रीय कोष में जमा करवाता था। वह परगना के आय-व्यय का पूरा विवरण रखता था। वह परगना के हर प्रकार के दीवानी तथा फ़ौजदारी मुकद्दमों के निर्णय करता था। वह परगना के लोगों के हितों का पूरा ध्यान रखता था।

प्रश्न 6. महाराजा रणजीत सिंह के समय कोतवाल के मुख्य कार्य लिखो। (Write main functions of Kotwal during Maharaja Ranjit Singh.)
उत्तर-

  1. महाराजा के आदेशों को वास्तविक रूप देना।
  2. नगर में शांति व व्यवस्था को कायम रखना।
  3. नगर में सफाई का प्रबंध करना।।
  4. नगर में आने वाले विदेशियों का ब्योरा रखना।
  5. नगर में उद्योग और व्यापार का निरीक्षण करना।

प्रश्न 7. महाराजा रणजीत सिंह के समय लाहौर शहर के प्रबंध बारे एक संक्षिप्त नोट लिखें। .
(Write a short note on the administration of city of Lahore during the times of Maharaja Ranjit Singh.)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह के समय लाहौर शहर के लिए विशेष प्रबंध किया गया था। समस्त शहर को मुहल्लों में विभाजित किया गया था। प्रत्येक मुहल्ला एक मुहल्लेदार के अंतर्गत होता था। मुहल्लेदार अपने मुहल्ले में शांति व्यवस्था बनाए रखता था तथा सफाई की व्यवस्था करता था। लाहौर शहर का प्रमुख अधिकारी कोतवाल होता था। वह प्रायः मुसलमान होता था। महाराजा रणजीत सिंह के समय इस महत्त्वपूर्ण पद पर ईमाम बखश नियुक्त था।

प्रश्न 8. महाराजा रणजीत सिंह की लगान व्यवस्था की मुख्य विशेषताओं पर प्रकाश डालें। (Write a note on the land revenue administration of Maharaja Ranjit Singh.)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह के आर्थिक प्रशासन पर नोट लिखें। (Write a note on the economic administration of Maharaja Ranjit Singh.)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह के समय में आय का मुख्य स्रोत भूमि कर था। महाराजा रणजीत सिंह के समय में लगान एकत्र करने के लिए बटाई, कनकूत, बीघा, हल तथा कुआँ प्रणालियाँ प्रचलित थीं। लगान वर्ष में दो बार एकत्र किया जाता था। लगान एकत्र करने वाले मुख्य अधिकारियों के नाम कारदार, मुकद्दम, पटवारी, कानूनगो तथा चौधरी थे। लगान नकद अथवा अन्न के रूप में दिया जा सकता था। लगान भूमि की उपजाऊ शक्ति के आधार पर लिया जाता था।

प्रश्न 9. महाराजा रणजीत सिंह की जागीरदारी व्यवस्था पर एक संक्षिप्त टिप्पणी लिखें। (Write a brief note on Jagirdari system of Maharaja Ranjit Singh.)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह के समय जागीरदारी प्रणाली की मुख्य विशेषताएँ क्या थीं? (What were the chief features of Jagirdari system of Maharaja Ranjit Singh ?)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह के समय कई प्रकार की जागीरें प्रचलित थीं। इन जागीरों में सेवा जागीरों को सबसे उत्तम समझा जाता था। ये जागीरें राज्य के उच्च सैनिक तथा असैनिक अधिकारियों को उन्हें मिलने वाले वेतन के बदले में दी जाती थीं। इसके अतिरिक्त उस समय इनाम जागीरें, वतन जागीरें तथा धर्मार्थ जागीरें भी प्रचलित थीं। धर्मार्थ जागीरें धार्मिक संस्थाओं अथवा व्यक्तियों को दी जाती थीं। जागीरों का प्रबंध प्रत्यक्ष रूप से जागीरदार अथवा अप्रत्यक्ष रूप से उनके एजेंट करते थे।

प्रश्न 10. महाराजा रणजीत सिंह के न्याय प्रबंध पर संक्षिप्त नोट लिखें।
(Write a short note on the Judicial system of Maharaja Ranjit Singh.)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह की न्याय व्यवस्था की मुख्य विशेषताएँ क्या थी ?
(What were the main features of the Judicial system of Maharaja Ranjit Singh ?)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह की न्याय व्यवस्था की कोई पाँच विशेषताएँ बताएँ। . (Write any five features of the Judicial system of Maharaja. Ranjit Singh.)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह के काल में न्याय व्यवस्था साधारण थी। न्याय उस समय प्रचलित रस्म-रिवाज़ों तथा धार्मिक ग्रंथों के आधार पर किया जाता था। अंतिम निर्णय महाराजा का होता था। लोगों को न्याय प्रदान करने के लिए राज्य भर में कई न्यायालय स्थापित किए गए थे। गाँवों में झगड़ों का निपटारा पंचायतें करती थीं। शहरों तथा कस्बों में काज़ी का न्यायालय होता था। महाराजा रणजीत सिंह के समय में दंड बहुत कड़े नहीं थे।

प्रश्न 11. महाराजा रणजीत सिंह के सैनिक प्रबंध की मुख्य विशेषताएँ क्या थीं?
(What were the main features of Maharaja Ranjit Singh’s military administration ?)
अथवा
रणजीत सिंह ने अपने सैनिक प्रबंध में क्या सुधार किए ?
(What reforms were introduced by Ranjit Singh to improve his military administration ?)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह की सेना पर संक्षेप नोट लिखें।
(Write a short note on the military of Maharaja Ranjit Singh ?)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह के फ़ौजी प्रबंध की कोई तीन विशेषताओं का वर्णन कीजिए।
(Describe any three Features of the military administration of Maharaja Ranjit Singh.)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह के सैनिक प्रबंध के बारे में आप क्या जानते हैं? (What do you know about military administration of Maharaja Ranjit Singh ?)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह ने एक शक्तिशाली सेना का गठन किया था। उन्होंने सेना को प्रशिक्षण देने के लिए यूरोपीय अधिकारी भर्ती किए हुए थे। सैनिकों का ब्योरा रखने तथा घोड़ों को दागने की प्रथा भी आरंभ की गई। शस्त्रों के निर्माण के लिए राज्य में कारखाने स्थापित किए गए। महाराजा रणजीत सिंह व्यक्तिगत रूप से सेना का निरीक्षण करता था। युद्ध में वीरता प्रदर्शित करने वाले सैनिकों को विशेष पुरस्कार दिए जाते थे। महाराजा रणजीत सिंह ने जागीरदारी सेना को भी बनाए रखा।

प्रश्न 12. महाराजा रणजीत सिंह के सैनिक संगठन में फ़ौज-ए-खास के महत्त्व पर संक्षिप्त नोट लिखें। (Write a brief note on the Fauj-i-Khas of Maharaja Ranjit Singh’s army.)
उत्तर-फ़ौज-ए-खास महाराजा रणजीत सिंह की सेना का सबसे महत्त्वपूर्ण और शक्तिशाली अंग था। इस सेना को जनरल वेंतूरा के नेतृत्व में तैयार किया गया था। इस सेना को यूरोपीय ढंग के कड़े प्रशिक्षण के अंतर्गत तैयार किया गया था। इस सेना में बहुत उत्तम सैनिक भर्ती किए गए थे। उनके शस्त्र व घोड़े भी सबसे बढ़िया किस्म के थे। इस सेना का अपना अलग ध्वज चिह्न था। यह सेना बहुत अनुशासित थी।

प्रश्न 13. महाराजा रणजीत सिंह का अपनी प्रजा के प्रति कैसा व्यवहार था ? (What was Maharaja Ranjit Singh’s attitude towards his subjects ?)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह का अपनी प्रजा के प्रति व्यवहार बहुत अच्छा था। उसने सरकारी कर्मचारियों को यह आदेश दिया था कि वे प्रजा के कल्याण के लिए विशेष प्रयत्न करें। प्रजा की दशा जानने के लिए महाराजा भेष बदल कर प्रायः राज्य का भ्रमण किया करता था। महाराजा के आदेश का उल्लंघन करने वाले कर्मचारियों को कड़ा दंड दिया जाता था। किसानों तथा निर्धनों को राज्य की ओर से विशेष सुविधाएँ दी जाती थीं। महाराजा ने न केवल सिखों बल्कि हिंदुओं तथा मुसलमानों को भी संरक्षण दिया।

प्रश्न 14. महाराजा रणजीत सिंह के शासन के लोगों के जीवन पर पड़े प्रभावों पर एक संक्षिप्त नोट लिखें।
(Write a short note on the effects of Ranjit Singh’s rule on the life of the people.)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह के शासन के लोगों के जीवन पर महत्त्वपूर्ण प्रभाव पड़े। उसने पंजाब में एक विशाल साम्राज्य की स्थापना की। पंजाब के लोगों ने शताब्दियों के पश्चात् चैन की साँस ली। इससे पूर्व पंजाब के लोगों को एक लंबे समय तक मुग़ल तथा अफ़गान सूबेदारों के घोर अत्याचारों को सहन करना पड़ा था। महाराजा रणजीत सिंह ने पंजाब में एक उच्चकोटि के शासन प्रबंध की स्थापना की। उसके शासन का प्रमुख उद्देश्य प्रजा की भलाई करना था। उसने अपने राज्य में सभी अमानुषिक सज़ाएँ बंद कर दी थीं। मृत्यु की सज़ा किसी अपराधी को . भी नहीं दी जाती थी।

वस्तुनिष्ठ प्रश्न (Objective Type Questions)

(i) एक शब्द से एक पंक्ति तक के उत्तर (Answer in One Word to One Sentence)

प्रश्न 1. महाराजा रणजीत सिंह के समय केंद्रीय शासन प्रबंध की धुरी कौन था ?
उत्तर-महाराजा।

प्रश्न 2. महाराजा रणजीत सिंह के प्रशासन का कोई एक उद्देश्य बताएँ।
उत्तर-प्रजा का भलाई करना।

प्रश्न 3. महाराजा रणजीत सिंह की कोई एक शक्ति बताएँ।
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह राज्य की भीतरी तथा विदेश नीति का निर्धारण करता था।

प्रश्न 4. महाराजा रणजीत सिंह का प्रधानमंत्री कौन था ?
उत्तर-राजा ध्यान सिंह।

प्रश्न 5. महाराजा रणजीत सिंह के प्रधानमंत्री का मुख्य काम क्या होता था ?
उत्तर-उसका मुख्य काम राज्य के सभी राजनीतिक विषयों पर महाराजा को परामर्श देना था।

प्रश्न 6. महाराजा रणजीत सिंह के विदेश मंत्री का नाम बताएँ।
उत्तर-फकीर अज़ीज़-उद्दीन।

प्रश्न 7. महाराजा रणजीत सिंह के विदेश मंत्री का मुख्य कार्य क्या था ?
उत्तर-महाराजा को युद्ध एवं संधि से संबंधित परामर्श देना।

प्रश्न 8. महाराजा रणजीत सिंह का वित्त मंत्री कौन था ?
उत्तर-दीवान भवानी दास।

प्रश्न 9. महाराजा रणजीत सिंह के किसी एक विख्यात सेनापति का नाम बताएँ।
उत्तर-हरी सिंह नलवा।

प्रश्न 10. महाराजा रणजीत सिंह के समय ड्योढ़ीवाला के पद पर कौन नियुक्त था ?
उत्तर-जमादार खुशहाल सिंह।

प्रश्न 11. महाराजा रणजीत सिंह के समय के ड्योढ़ीवाला का मुख्य कार्य क्या था ?
उत्तर-राज्य परिवार की देख-रेख करना।

प्रश्न 12. महाराजा रणजीत सिंह के समय केंद्रीय शासन प्रबंध की देख-भाल के लिए गठित किए गए दफ्तरों में से किसी एक का नाम बताएँ।
उत्तर-दफ्तर-ए-अबवाब-उल-माल।

प्रश्न 13. महाराजा रणजीत सिंह का साम्राज्य कितने सूबों (प्रांतों) में बँटा हुआ था ?
उत्तर-चार।

प्रश्न 14. महाराजा रणजीत सिंह के किसी एक प्रांत का नाम लिखो।
उत्तर-सूबा-ए-लाहौर।

प्रश्न 15. महाराजा रणजीत सिंह के समय सूबा के मुखिया को क्या कहा जाता था ?
उत्तर-नाज़िम।

प्रश्न 16. मिसर रूप लाल कौन था ?
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह का एक प्रसिद्ध नाज़िम।

प्रश्न 17. महाराजा रणजीत सिंह के समय नाज़िम का कोई एक मुख्य कार्य बताएँ।
उत्तर–प्रांत में शांति बनाए रखना।

प्रश्न 18. परगना के सर्वोच्च अधिकारी को क्या कहते थे?
उत्तर-कारदार।

प्रश्न 19. महाराजा रणजीत सिंह के समय मुकद्दम का मुख्य कार्य क्या था ?
उत्तर-मुकद्दम गाँव में लगान एकत्र करने में सहायता करते थे।

प्रश्न 20. महाराजा रणजीत सिंह के समय लाहौर शहर की देख-रेख कौन करता था ?
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह के समय लाहौर शहर का शासन प्रबंध किस अधिकारी के अधीन होता था ?
उत्तर-कोतवाल।

प्रश्न 21. महाराजा रणजीत सिंह के समय लाहौर का कोतवाल कौन था ?
उत्तर-इमाम बख्श।

प्रश्न 22. महाराजा रणजीत सिंह के समय कोतवाल के मुख्य कार्य क्या थे ?
उत्तर-शहर में शांति व व्यवस्था बनाए रखना।

प्रश्न 23. महाराजा रणजीत सिंह के समय प्रशासन की सबसे छोटी इकाई को क्या कहते थे ?
उत्तर-मौज़ा।

प्रश्न 24. महाराजा रणजीत सिंह के समय लगान एकत्र करने के लिए प्रचलित किसी एक प्रणाली के नाम लिखें।
उत्तर-बटाई प्रणाली।

प्रश्न 25. बटाई प्रणाली से आपका क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-बटाई प्रणाली के अनुसार लगान फ़सल काटने के पश्चात् निर्धारित किया जाता था।

प्रश्न 26. कनकूत प्रणाली से आपका क्या अभिप्राय है?
उत्तर-कनकूत प्रणाली के अनुसार लगान खड़ी फ़सल को देखकर निर्धारित किया जाता था।

प्रश्न 27. भूमि लगान के अतिरिक्त महाराजा रणजीत सिंह के समय राज्य की आय का अन्य एक मुख्य साधन बताएँ।
उत्तर-चुंगी कर।

प्रश्न 28. जागीरदारी प्रथा से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-राज्य के कर्मचारियों को नकद वेतन के स्थान पर जागीरें दी जाती थीं।

प्रश्न 29. वतन जागीरें क्या थी ?
उत्तर-ये वे जागीरें थीं जो किसी जागीरदार को उसके अपने गाँव में दी जाती थीं।

प्रश्न 30. धर्मार्थ जागीरों का क्या अर्थ है ?
उत्तर-ये वे जागीरें थीं जो धार्मिक संस्थाओं और व्यक्तियों को दी जाती थीं।

प्रश्न 31. ईनाम जागीरें किसे दी जाती थीं ?
उत्तर-विशेष सेवाओं के बदले अथवा बहादुरी दिखाने वाले सैनिकों को।

प्रश्न 32. महाराजा रणजीत सिंह को दिए जाने वाले उपहारों को क्या कहा जाता था ?
उत्तर-नज़राना।

प्रश्न 33. महाराजा रणजीत सिंह के समय प्रचलित किसी एक न्यायालय का नाम बताएँ।
उत्तर-काज़ी की अदालत।

प्रश्न 34. महाराजा रणजीत सिंह के समय राज्य की सबसे बड़ी अदालत कौन-सी होती थी ?
उत्तर-अदालत-ए-आला।

प्रश्न 35. महाराजा रणजीत सिंह से पहले सिख सेना का कोई एक मुख्य दोष बताएँ।
उत्तर-सिख सेना में अनुशासन की भारी कमी थी ।

प्रश्न 36. महाराजा रणजीत सिंह द्वारा सिख सेना में किए गए सुधारों में से कोई एक बताएँ।
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह ने सिख सेना को पश्चिमी ढंग का प्रशिक्षण दिया।

प्रश्न 37. महाराजा रणजीत सिंह की सेना कौन-से दो मुख्य भागों में बँटी हुई थी ?
उत्तर-फ़ौज-ए-आईन तथा फ़ौज-ए-बेकवायद।

प्रश्न 38. महाराजा रणजीत सिंह ने पैदल सेना का गठन कब आरंभ किया ?
उत्तर-1805 ई०।

प्रश्न 39. महाराजा रणजीत सिंह के समय तोपखाना को कितने भागों में बाँटा गया था ?
उत्तर-चार।

प्रश्न 40. महाराजा रणजीत सिंह ने फ़ौज-ए-खास को प्रशिक्षण देने के लिए किसे नियुक्त किया था ?
उत्तर-जनरल वेंतूरा।

प्रश्न 41. महाराजा रणजीत सिंह के समय फ़ौज-ए-खास का तोपखाना किसके अधीन था ?
उत्तर-जनरल इलाही बख्श।

प्रश्न 42. महाराजा रणजीत सिंह के समय हाथियों द्वारा खींची जाने वाली तोपों को क्या कहते थे ?
उत्तर-तोपखाना-ए-फीली।

प्रश्न 43. महाराजा रणजीत सिंह के समय ऊँटों द्वारा खींची जाने वाली तोपों को क्या कहते थे ?
उत्तर-तोपखाना-ए-शुतरी।

प्रश्न 44. महाराजा रणजीत सिंह के समय घोड़ों द्वारा खींची जाने वाली तोपों को क्या कहते थे ?
उत्तर-तोपखाना-ए-अस्पी।

प्रश्न 45. फ़ौज-ए-बेकवायद से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर-यह वह सेना थी जो निश्चित नियमों का पालन नहीं करती थी।

प्रश्न 46. रणजीत सिंह की सेना के दो प्रसिद्ध यूरोपियन अफसरों के नाम लिखिए।
अथवा
रणजीत सिंह के यूरोपियन सेनापतियों में से किन्हीं दो के नाम बताओ।
उत्तर-जनरल वेंतूरा तथा जनरल कोर्ट।

(ii) रिक्त स्थान भरें (Fill in the Blanks)

प्रश्न 1. महाराजा रणजीत सिंह के समय…..राज्य का मुखिया था।
उत्तर-(महाराजा)

प्रश्न 2. राजा ध्यान सिंह महाराजा रणजीत सिंह का………था।
उत्तर-(प्रधानमंत्री)

प्रश्न 3. महाराजा रणजीत सिंह के विदेश मंत्री का नाम…….था।
उत्तर-(फ़कीर अज़ीजुद्दीन)

प्रश्न 4. ………….और……..महाराजा रणजीत सिंह के प्रसिद्ध वित्तमंत्री थे।
उत्तर-(दीवान भवानी दास, दीवान गंगा राम)

प्रश्न 5. महाराजा रणजीत सिंह का सबसे प्रसिद्ध सेनापति……था।
उत्तर-(हरी सिंह नलवा)

प्रश्न 6. महाराजा रणजीत सिंह के समय ड्योड़ीवाला के पद पर…………….नियुक्त था।
उत्तर-(जमादार खुशहाल सिंह)

प्रश्न 7. ड्योड़ीवाला……….की देख-रेख करता था।
उत्तर-(शाही राजघराने)

प्रश्न 8. ……….द्वारा राज्य के प्रतिदिन होने वाले खर्च का ब्योरा रखा जाता था।
उत्तर-(दफ्तर-ए-रोज़नामचा-ए-इखराजात)

प्रश्न 9. …………द्वारा राज्य की बहुमूल्य वस्तुओं की देखभाल की जाती थी।
उत्तर-(दफ्तर-ए-तोशाखाना)

प्रश्न 10. महाराजा रणजीत सिंह का साम्राज्य…………..सूबों में बँटा हुआ था।
उत्तर-(चार)

प्रश्न 11. महाराजा रणजीत सिंह के समय……………सूबे का मुख्य अधिकारी होता था।
उत्तर-(नाज़िम)

प्रश्न 12. महाराजा रणजीत सिंह समय कारदार……………..का मुख्य अधिकारी होता था।
उत्तर-(परगना)

प्रश्न 13. महाराजा रणजीत सिंह के समय……………गाँवों की भूमि का रिकॉर्ड रखता था।
उत्तर-(पटवारी)

प्रश्न 14. महाराजा रणजीत सिंह के समय लाहौर शहर का मुख्य अधिकारी………होता था।
उत्तर-(कोतवाल)

प्रश्न 15. महाराजा रणजीत सिंह के समय लाहौर शहर का प्रसिद्ध कोतवाल……………..था।
उत्तर-(इमाम बख्श)

प्रश्न 16. महाराजा रणजीत सिंह के समय राज्य की आमदनी का मुख्य स्रोत…………था।
उत्तर-(भूमि का लगान)

प्रश्न 17. महाराजा रणजीत सिंह के समय लगान की………….प्रणाली सबसे अधिक प्रचलित थी।
उत्तर-(बटाई)

प्रश्न 18. महाराजा रणजीत सिंह के समय भूमि का लगान वर्ष में ……………..बार एकत्रित किया जाता था।
उत्तर-(दो)

प्रश्न 19. महाराजा रणजीत सिंह के समय जागीरदारों को दी जाने वाली जागीरों में से…..जागीरें सबसे महत्त्वपूर्ण
उत्तर-(सेवा)

प्रश्न 20. महाराजा रणजीत सिंह के समय धार्मिक संस्थाओं को दी जाने वाली जागीरों को……..जागीरें कहा जाता
उत्तर-(धर्मार्थ)

प्रश्न 21. महाराजा रणजीत सिंह के समय राज्य की सबसे बड़ी अदालत को………कहा जाता था।
उत्तर-(अदालत-ए-आला)

प्रश्न 22. महाराजा रणजीत सिंह के समय अदालत-ए-माला की स्थापना……..में की गई थी।
उत्तर-(लाहौर)

प्रश्न 23. महाराजा रणजीत सिंह के समय अपराधियों को प्रायः………….की सजा दी जाती थी।
उत्तर-(जुर्माना)

प्रश्न 24. महाराजा रणजीत सिंह की नियमित सेना को……..कहा जाता था।
उत्तर-(फ़ौज-ए-आईन)

प्रश्न 25. महाराजा रणजीत सिंह ने घुड़सवार सेना को प्रशिक्षण देने के लिए जनरल अलॉर्ड को………में नियुक्त किया।
उत्तर-(1822 ई०)

प्रश्न 26. महाराजा रणजीत सिंह के समय हाथियों द्वारा खींची जाने वाली तोपों को…….कहा जाता था।
उत्तर-(तोपखाना-ए-फीली)

प्रश्न 27. महाराजा रणजीत सिंह ने फ़ौज-ए-खास को प्रशिक्षण देने के लिए………….को नियुक्त किया था।
उत्तर-(जनरल वेंतूरा)

प्रश्न 28. महाराजा रणजीत सिंह की फ़ौज-ए-खास का तोपखाना जनरल…………….के अधीन था।
उत्तर-(इलाही बख्श)

प्रश्न 29. महाराजा रणजीत सिंह की उस फ़ौज को जो निश्चित नियमों की पालना नहीं करती थी उसे………कहा जाता था।
उत्तर-(फ़ौज-ए-बेकवायद)

(iii) ठीक अथवा गलत (True or False)

नोट-निम्नलिखित में से ठीक अथवा गलत चुनें—

प्रश्न 1. महाराजा रणजीत सिंह राज्य की सभी आंतरिक व बाहरी नीतियों को तैयार करता था।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 2. महाराजा रणजीत सिंह के प्रधानमंत्री का नाम राजा ध्यान सिंह था।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 3. दीवान दीना नाथ महाराजा रणजीत सिंह का विदेशी मंत्री था।
उत्तर-गलत

प्रश्न 4. महाराजा रणजीत सिंह के समय वित्त मंत्री को दीवान कहा जाता था।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 5. दीवान भवानी दास महाराजा रणजीत सिंह का प्रसिद्ध वित्त मंत्री था।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 6. दीवान मोहकम चंद और सरदार हरी सिंह नलवा महाराजा रणजीत सिंह के प्रसिद्ध सेनापति थे।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 7. महाराजा रणजीत सिंह के समय जमादार खुशहाल सिंह ड्योढ़ीवाला के पद पर नियुक्त था।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 8. महाराजा रणजीत सिंह के समय दफ्तर-ए-अबवाब-उल-माल द्वारा राज्य की आमदन का ब्योरा रखा जाता
उत्तर-ठीक

प्रश्न 9. महाराजा रणजीत सिंह के समय दफ्तर-ए-रोज़नामचा-ए- इखराजात द्वारा राज्य के प्रतिदिन होने वाले खर्च का ब्योरा रखा जाता था।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 10. महाराजा रणजीत सिंह के समय साम्राज्य की बाँट चार सूबों में की गई थी।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 11. महाराजा रणजीत सिंह के समय सूबे के मुख्य अधिकारी को कारदार कहा जाता था।
उत्तर-गलत

प्रश्न 12. महाराजा रणजीत सिंह के समय लाहौर शहर का प्रमुख अधिकारी कोतवाल होता था।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 13. महाराजा रणजीत सिंह के समय कोतवाल के पद पर इमाम बख्श नियुक्त था।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 14. महाराजा रणजीत सिंह के समय दीवान गंगा राम ने दफ्तरों की स्थापना की।
उत्तर-गलत

प्रश्न 15. महाराजा रणजीत सिंह के समय राज्य की आमदन का मुख्य स्रोत भूमि कर था।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 16. महाराजा रणजीत सिंह के समय बटाई प्रणाली सब से अधिक प्रचलित थी।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 17. महाराजा रणजीत सिंह के समय भूमि का लगान वर्ष में तीन बार एकत्रित किया जाता था।
उत्तर-गलत

प्रश्न 18. महाराजा रणजीत सिंह के समय सेवा जागीरों की संख्या सबसे अधिक थी।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 19. महाराजा रणजीत सिंह के समय धार्मिक स्थानों को दी जाने वाली जागीरों को धर्मार्थ जागीरें कहा जाता था।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 20. महाराजा रणजीत सिंह के समय लोगों को विशेष सेवाओं के बदले गुज़ारा जागीरें दी जाती थीं।
उत्तर-गलत

प्रश्न 21. महाराजा रणजीत सिंह के समय शहरों में काज़ी की अदालतें स्थापित थीं।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 22. महाराजा रणजीत सिंह के समय प्रत्येक परगने में नाज़िम की अदालतें होती थीं।
उत्तर-गलत

प्रश्न 23. महाराजा रणजीत सिंह के समय अदालत-ए-आला की स्थापना लाहौर में की गई थी।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 24. महाराजा रणजीत सिंह के समय अपराधियों को कंठोर दंड दिए जाते थे।
उत्तर-गलत

प्रश्न 25. महाराजा रणजीत सिंह ने अपनी सेना में देशी व विदेशी प्रणालियों का सुमेल किया था।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 26. महाराजा रणजीत सिंह की नियमित सेना को फ़ौज-ए-आईन कहा जाता था।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 27. महाराजा रणजीत सिंह ने फौज-ए-खास को प्रशिक्षण देने को जनरल वेंतूरा को नियुक्त किया था।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 28. महाराजा रणजीत सिंह ने फ़ौज-ए-खास को तोपखाना की प्रशिक्षण देने के लिए जनरल इलाही बख्श को नियुक्त किया था।
उत्तर-ठीक

प्रश्न 29. महाराजा रणजीत सिंह के समय फ़ौज-ए-बेकवायद वह फ़ौज थी जो निश्चित नियमों की पालना नहीं करती थी।
उत्तर-ठीक

(iv) बहु-विकल्पीय प्रश्न (Multiple Choice Questions)

नोट-निम्नलिखित में से ठीक उत्तर का चयन कीजिए—

प्रश्न 1. महाराजा रणजीत सिंह के समय केंद्रीय शासन प्रबंध की धुरी कौन थी ?
(i) महाराजा
(ii) विदेश मंत्री
(iii) वित्त मंत्री
(iv) प्रधानमंत्री।
उत्तर-(i)

प्रश्न 2. महाराजा रणजीत सिंह के प्रधानमंत्री का क्या नाम था ?
(i) दीवान मोहकम चंद
(ii) राजा ध्यान सिंह
(iii) दीवान गंगानाथ
(iv) फकीर अज़ीजउद्दीन।
उत्तर-(ii)

प्रश्न 3. महाराजा रणजीत सिंह का विदेश मंत्री कौन था ?
(i) दीवान मोहकम चंद
(ii) राजा ध्यान सिंह
(iii) फ़कीर अज़ीजउद्दीन
(iv) खुशहाल सिंह।
उत्तर-(iii)

प्रश्न 4. निम्नलिखित में से कौन महाराजा रणजीत सिंह का वित्त मंत्री नहीं था ?
(i) दीवान भवानी दास
(ii) दीवान गंगा राम
(iii) दीवान दीनानाथ
(iv) दीवान मोहकम चंद।
उत्तर-(iv)

प्रश्न 5. निम्नलिखित में से कौन महाराजा रणजीत सिंह का प्रसिद्ध सेनापति था ?
(i) हरी सिंह नलवा
(ii) मिसर दीवान चंद
(iii) दीवान मोहकम चंद
(iv) उपरोक्त सभी।
उत्तर-(iv)

प्रश्न 6. महाराजा रणजीत सिंह के समय शाही महल और राज दरबार की देख-रेख कौन करता था ?
(i) ड्योड़ीवाला
(ii) कारदार
(iii) सूबेदार
(iv) कोतवाल।
उत्तर-(i)

प्रश्न 7. महाराजा रणजीत सिंह के समय ड्योड़ीवाला के पद पर कौन नियुक्त था ?
(i) ज़मांदार खुशहाल सिंह
(ii) संगत सिंह
(iii) हरी सिंह नलवा
(iv) जस्सा सिंह रामगढ़िया।
उत्तर-(i)

प्रश्न 8. महाराजा रणजीत सिंह का साम्राज्य कितने सूबों में बँटा हुआ था ?
(i) दो
(ii) तीन
(iii) चार
(iv) पाँच।
उत्तर-(iii)

प्रश्न 9. महाराजा रणजीत सिंह के समय सूबे के मुखिया को क्या कहा जाता था ?
(i) सूबेदार
(ii) कारदार
(iii) नाज़िम
(iv) कोतवाल।
उत्तर-(iii)

प्रश्न 10. महाराजा रणजीत सिंह के समय परगने का मुख्य अधिकारी कौन था ?
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह के समय परगने के मुख्य अधिकारी को क्या कहते थे ?
(i) नाज़िम
(ii) सूबेदार
(iii) कारदार
(iv) कोतवाल।
उत्तर-(iii)

प्रश्न 11. महाराजा रणजीत सिंह के समय लाहौर शहर का मुखिया कौन होता था?
(i) सूबेदार
(ii) कारदार
(iii) कोतवाल
(iv) पटवारी।
उत्तर-(iii)

प्रश्न 12. महाराजा रणजीत सिंह के समय लाहौर का कोतवाल कौन था ?
अथवा
लाहौर शहर के मुख्य अधिकारी (कोतवाल) का नाम क्या था ?
(i) ध्यान सिंह
(ii) खुशहाल सिंह
(iii) इमाम बख्श
(iv) इलाही बख्श।
उत्तर-(iii)

प्रश्न 13. महाराजा रणजीत सिंह के समय गाँव को क्या कहा जाता था ?
(i) परगना
(ii) “मौज़ा
(iii) कारदार
(iv) नाज़िम।
उत्तर-(ii)

प्रश्न 14. महाराजा रणजीत सिंह के समय राज की आमदन का मुख्य स्रोत कौन-सा था ?
(i) भूमि का लगान
(ii) चुंगी कर
(iii) नज़राना
(iv) ज़ब्ती ।
उत्तर-(i)

प्रश्न 15. महाराजा रणजीत सिंह के समय जागीरदारों को दी जाने वाली जागीरों में कौन-सी जागीर को सबसे महत्त्वपूर्ण समझा जाता था?
(i) ईनाम जागीरें
(ii) वतन जागीरें
(iii) सेवा जागीरें
(iv) गुजारा जागीरें।
उत्तर-(iii)

प्रश्न 16. महाराजा रणजीत सिंह के समय धार्मिक संस्थाओं को दी जाने वाली जागीरों को क्या कहते थे ?
(i) वतन जागीरें
(ii) ईनाम जागीरें
(iii) धर्मार्थ जागीरें
(iv) गुजारा जागीरें।
उत्तर-(iii)

प्रश्न 17. महाराजा रणजीत सिंह के समय सबसे छोटी अदालत कौन-सी थी ?
(i) पंचायत
(ii) काज़ी की अदालत
(iii) जागीरदार की अदालत
(iv) कारदार की अदालत।
उत्तर-(i)

प्रश्न 18. महाराजा रणजीत सिंह के समय महाराजा की अदालत के नीचे सबसे बड़ी अदालत कौन-सी थी ?
(i) नाज़िम की अदालत
(ii) अदालत-ए-आला
(iii) अदालती की अदालत
(iv) कारदार की अदालत।
उत्तर-(i)

प्रश्न 19. महाराजा रणजीत सिंह के समय अपराधियों को सामान्यतः कौन-सी सज़ा दी जाती थी ?
(i) मृत्यु की
(ii) जुर्माने की
(iii) अंग काटने की
(iv) उपरोक्त सभी।
उत्तर-(ii)

प्रश्न 20. महाराजा रणजीत सिंह से पहले सिखों की सैनिक प्रणाली में क्या दोष थे ?
(i) सैनिकों में अनुशासन की बहुत कमी थी
(ii) पैदल सैनिकों को बहुत घटिया समझा जाता था
(iii) सैनिकों को नकद वेतन नहीं दिया जाता था
(iv) उपरोक्त सभी।
उत्तर-(iv)

प्रश्न 21. महाराजा रणजीत सिंह की नियमित सेना को क्या कहा जाता था ?
(i) फ़ौज-ए-आईन
(ii) फ़ौज-ए-खास
(iii) फ़ौज-ए-बेकवायद
(iv) उपरोक्त सभी।
उत्तर-(i)

प्रश्न 22. महाराजा रणजीत सिंह ने फ़ौज-ए-खास को सिखलाई देने के लिए किसे नियुक्त किया था ?
(i) जनरल इलाही बख्श
(ii) जनरल अलार्ड
(iii) जनरल वेंतूरा
(iv) जनरल कार्ट।
उत्तर-(iii)

प्रश्न 23. महाराजा रणजीत सिंह के समय फ़ौज-ए-खास तोपखाना किसके अधीन था ?
(i) जनरल इलाही बख्श
(ii) जनरल कोर्ट
(iii) कर्नल गार्डनर
(iv) जनरल वेंतूरा।
उत्तर-(i)

प्रश्न 24. महाराजा रणजीत सिंह के समय उस फ़ौज को क्या कहते थे जो निश्चित नियमों का पालन नहीं करती थी?
(i) फ़ौज-ए-खास
(ii) फ़ौज-ए-बेकवायद
(iii) फ़ौज-ए-आईन
(iv) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-(ii)

प्रश्न 25. महाराजा रणजीत सिंह ने घुड़सवार सैनिकों को सिखलाई देने के लिए किसको नियुक्त किया ?
(i) जनरल वेंतुरा
(ii) जनरल अलॉर्ड
(iii) जनरल कोर्ट
(iv) जनरल इलाही बखा।
उत्तर-(ii)

Long Answer Type Question

प्रश्न 1. महाराजा रणजीत सिंह के केंद्रीय शासन प्रबंध की रूप-रेखा बताएँ। (Give an outline of Central Administration of Maharaja Ranjit Singh.)
उत्तर-महाराजा केंद्रीय शासन की धुरी था। उसके मुख से निकलां प्रत्येक शब्द कानून समझा जाता था। महाराजा रणजीत सिंह अपने अधिकारों का प्रयोग जन-कल्याण के लिए करता था। शासन प्रबंध में सहयोग प्राप्त करने के लिए महाराजा ने कई मंत्री नियुक्त किए हुए थे। इनमें प्रधानमंत्री, विदेश मंत्री, दीवान, मुख्य सेनापति तथा ड्योढीवाला नाम के मंत्री प्रमुख थे। इन मंत्रियों के परामर्श को मानना अथवा न मानना रणजीत सिंह की इच्छा पर निर्भर था। प्रशासन की कुशलता के लिए रणजीत सिंह प्रायः अपने मंत्रियों का परामर्श मान लेता था। महाराजा ने प्रशासन की अच्छी देख-रेख के लिए 12 दफ्तरों (विभागों) की स्थापना की थी। इनमें विशेषकर दफ्तर-एअबवाब-उल-माल, दफ्तर-ए-तोजीहात, दफ्तर-ए-मवाजिब तथा दफ्तर-ए-रोज़नामचा-ए-अखराजात प्रमुख थे। निश्चय ही रणजीत सिंह का शासन प्रबंध बहुत अच्छा था।

प्रश्न 2. महाराजा रणजीत सिंह के केंद्रीय शासन में महाराजा की स्थिति कैसी थी ? (What was the position of Maharaja in Central Administration ?)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह के प्रशासन का स्वरूप क्या था ? (Explain the nature of administration of Maharaja Ranjit Singh.)
उत्तर-महाराजा राज्य का प्रमुख था। वह सभी शक्तियों का स्रोत था। राज्य की भीतरी तथा बाहरी नीतियाँ महाराजा द्वारा तैयार की जाती थीं। वह राज्य के मंत्रियों, उच्च सैनिक तथा असैनिक अधिकारियों की नियुक्ति करता था। वह जब चाहे किसी को भी उसके पद से अलग कर सकता था। वह मुख्य सेनापति था तथा राज्य की सारी सेना उसके संकेत पर चलती थी। वह राज्य का मुख्य न्यायाधीश भी था और उसके मुख से निकला प्रत्येक शब्द लोगों के लिए कानून बन जाता था। कोई भी व्यक्ति उसकी आज्ञा का उल्लंघन नहीं कर सकता था। महाराजा को किसी भी शासक के साथ युद्ध अथवा संधि करने का पूर्ण अधिकार प्राप्त था। उसे अपनी प्रजा पर कोई भी कर लगा सकने तथा उसे हटाने का अधिकार था। संक्षेप में, महाराजा की शक्तियाँ किसी तानाशाह से कम नहीं थीं। महाराजा कभी भी इन शक्तियों का दुरुपयोग नहीं करता था। वह प्रजा के कल्याण में ही अपना कल्याण समझता था। निस्संदेह ऐसे महान् शासकों की उदाहरणे इतिहास में बहुत कम मिलती हैं।

प्रश्न 3. महाराजा रणजीत सिंह के प्रांतीय प्रबंध पर एक नोट लिखें। (Write a short note on the Provincial Administration of Maharaja Ranjit Singh.)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह का प्रांतीय प्रबंध कैसा था ?
(How was the provincial administration of Maharaja Ranjit Singh ?)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह के समय सूबे में नाज़िम की क्या स्थिति थी ?
(What was the position of Nazim in Province during the times of Maharaja Ranjit Singh ?)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह ने शासन व्यवस्था को कुशल ढंग से चलाने के लिए अपने राज्य को चार प्रांतों अथवा सूबों में विभाजित किया था। इनके नाम थे-सूबा-ए-लाहौर, सूबा-ए-मुलतान, सूबा-ए-कश्मीर तथा सूबा-ए-पेशावर। सूबे अथवा प्राँत का मुखिया नाज़िम कहलाता था। उसकी नियुक्ति महाराजा द्वारा की जाती थी। क्योंकि यह पद बहुत महत्त्व का होता था इसलिए महाराजा इस पद पर बहुत ही विश्वसनीय, समझदार, ईमानदार तथा अनुभवी व्यक्ति को ही नियुक्त करता था। महाराजा रणजीत सिंह के समय नाज़िम को अनेक शक्तियाँ प्राप्त थीं।

  1. उसका प्रमुख कार्य अपने अधीन प्रांत में शाँति तथा कानून व्यवस्था को बनाए रखना था।
  2. वह प्रांत के अन्य कर्मचारियों के कार्यों की देखभाल करता था।
  3. वह प्रांत में महाराजा रणजीत सिंह के आदेशों को लागू करवाता था।
  4. वह फ़ौजदारी तथा दीवानी मुकद्दमों का निर्णय करता था तथा कारदारों के निर्णयों के विरुद्ध याचिकाएँ सुनता था।
  5. वह भूमि लगान एकत्र करने में कर्मचारियों की सहायता करता था।
  6. उसके अधीन कुछ सेना भी होती थी तथा कई बार छोटे-मोटे अभियानों का नेतृत्व भी करता था।
  7. वह जिलों के कारदारों के कार्यों का निरीक्षण भी करता था।
  8. वह निश्चित लगान समय पर केंद्रीय खजाने में जमा करवाता था।
  9. वह आवश्यकता पड़ने पर केंद्र को सेना भी भेजता था।
  10. वह प्रायः अपने प्राँत का भ्रमण करके यह पता लगाता था कि प्रजा महाराजा रणजीत सिंह के शासन से सन्तुष्ट है अथवा नहीं।

इस प्रकार नाज़िम के पास असीम अधिकार थे परंतु उसे अपने प्रांत के संबंध में कोई भी महत्त्वपूर्ण निर्णय लेने से पूर्व महाराजा रणजीत सिंह की अनुमति लेनी होती थी। महाराजा रणजीत सिंह स्वयं अथवा केंद्रीय अधिकारियों द्वारा नाज़िम के कार्यों का निरीक्षण करता था। संतुष्ट न होने पर नाज़िम को बदल दिया जाता था। महाराजा रणजीत सिंह के समय नाज़िम को अच्छी तन्खाहें मिलती थीं तथा वह बहुत शानों-शौकत से बड़े महलों में रहते थे।

प्रश्न 4. महाराजा रणजीत सिंह के स्थानीय प्रबंध पर नोट लिखो। (Write a note on the local administration of Maharaja Ranjit Singh.)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह के स्थानीय शासन प्रबंध के बारे में आप क्या जानते हैं ? वर्णन करें।
(What do you know about the local administration of Maharaja Ranjit Singh ? Explain.)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह के स्थानीय शासन प्रबंध की प्रमुख विशेषताएँ निम्नलिखित थीं—

  1. परगनों का शासन प्रबंध–प्रत्येक प्रांत को आगे कई परगनों में बाँटा गया था। परगने के मुख्य अधिकारी को कारदार कहा जाता था। कारदार के मुख्य कार्य परगने में शांति स्थापित करना, महाराजा के आदेशों की पालना करवाना, लगान एकत्र करना, लोगों के हितों का ध्यान रखना तथा दीवानी एवं फ़ौजदारी मुकद्दमों को सुनना था। कानूनगो एवं मुकद्दम कारदार की सहायता करते थे।
  2. गाँव का प्रबंध प्रशासन की सबसे छोटी इकाई गाँव थी जिसको उस समय मौज़ा कहते थे। गाँवों का प्रबंध पंचायतों के हाथ में होता थी। पंचायत ग्रामीणों की देखभाल करती थी तथा उनके छोटे-छोटे झगड़ों का समाधान करती थी। लोग पंचायतों का बहुत सम्मान करते थे तथा उनके निर्णयों को अधिकाँश लोग स्वीकार करते थे। पटवारी गाँव की भूमि का रिकॉर्ड रखता था। चौधरी लगान वसूल करने में सरकार की सहायता करता था। महाराजा गाँव के कार्यों में हस्तक्षेप नहीं करता था।
  3. लाहौर शहर का प्रबंध-महाराजा रणजीत सिंह के समय लाहौर शहर का प्रबंध अन्य शहरों से अलग ढंग से किया जाता था। लाहौर शहर का प्रमुख अधिकारी कोतवाल होता था। कोतवाल के मुख्य कार्य महाराजा के आदेशों को वास्तविक रूप देना, शहर में शांति एवं व्यवस्था बनाये रखना, मुहल्लेदारों के कार्यों की देखभाल करना, शहर में सफाई का प्रबंध करना, शहर में आने वाले विदेशियों का विवरण रखना, व्यापार एवं उद्योग का ध्यान रखना, नाप-तोल की वस्तुओं पर नज़र रखना आदि थे।

प्रश्न 5. महाराजा रणजीत सिंह के समय कारदार की स्थिति क्या थी ? (What was the position of Kardar during the times of Maharaja Ranjit Singh ?)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह के समय प्रत्येक सूबे अथवा प्राँत को आगे कई परगनों में बाँटा हुआ था। परगने के मुख्य अधिकारी को कारदार कहा जाता था। उसे अनेक कर्त्तव्य निभाने होते थे। वह परगने में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए उत्तरदायी था। वह परगने से भूमि कर एकत्र करके केंद्रीय कोष में जमा करवाता था। वह परगना के आय-व्यय का पूरा विवरण रखता था। वह परगना के हर प्रकार के दीवानी तथा फौजदारी मुकद्दमों के निर्णय करता था। वह दोषियों को दंड भी देता था। कारदार अपने क्षेत्र का आबकारी तथा सीमा कर अधिकारी भी होता था। इसलिए परगना से इन करों को एकत्र करना उसका कर्त्तव्य था। वह कर न देने वाले लोगों के विरुद्ध कार्यवाही भी करता था। वह जनकल्याण अधिकारी भी था, इसलिए वह परगना के लोगों के हितों का पूरा ध्यान रखता था। इस संबंध में वह परगना के महत्त्वपूर्ण व्यक्तियों से संपर्क रखता था। वह परगनों में घटने वाली समस्त महत्त्वपूर्ण घटनाओं की सूचना रखता था क्योंकि वह एक लेखाकार के रूप में भी कार्य करता था। वह परगना में निर्मित सरकारी अन्न भंडारों में अन्न जमा करवाता था। वह परगना में महाराजा के आदेशों का पालन भी करवाता था।

प्रश्न 6. महाराजा रणजीत सिंह के समय लाहौर शहर के प्रबंध बारे एक संक्षिप्त नोट लिखें।
(Write a short note on the administration of city of Lahore during the times of Maharaja Ranjit Singh.)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह के समय लाहौर शहर के लिए विशेष प्रबंध किया गया था। यह व्यवस्था अन्य शहरों की अपेक्षा अलग विधि से की जाती थी। समस्त शहर को मुहल्लों में विभाजित किया गया था। प्रत्येक मुहल्ला एक मुहल्लेदार के अंतर्गत होता था। मुहल्लेदार अपने मुहल्ले में शांति व्यवस्था बनाए रखता था तथा सफाई की व्यवस्था करता था। लाहौर शहर का प्रमुख अधिकारी कोतवाल होता था। वह प्रायः मुसलमान होता था। महाराजा रणजीत सिंह के समय इस महत्त्वपूर्ण पद पर ईमाम बख्श नियुक्त था। कोतवाल के मुख्य कार्य महाराजा के आदेशों को व्यावहारिक रूप देना, शहर में शांति व व्यवस्था बनाए रखना, मुहल्लेदारों के कार्यों की देख-रेख करना, शहर में सफाई की व्यवस्था करना, शहरों में आने वाले विदेशियों का विवरण रखना, व्यापार व उद्योग का निरीक्षण, नाप-तोल की वस्तुओं की जाँच करनी इत्यादि थे। वह दोषी लोगों के विरुद्ध वांछित कार्यवाही करता था। निस्संदेह महाराजा रणजीत सिंह का लाहौर शहर का प्रबंध बहुत बढ़िया था।

प्रश्न 7. महाराजा रणजीत सिंह की लगान व्यवस्था की मुख्य विशेषताओं पर प्रकाश डालें। (Describe main features of Maharaja Ranjit Singh’s land revenue administration.)
अथवा महाराजा रणजीत सिंह के आर्थिक प्रशासन पर नोट लिखें। (Write a note on the economic administration of Maharaja Ranjit Singh.)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह के समय राज्य की आय का मुख्य स्रोत भूमि का लगान था। इसलिए महाराजा रणजीत सिंह ने इस ओर अपना विशेष ध्यान दिया। लगान एकत्र करने की अग्रलिखित प्रणालियाँ प्रचलित थीं—

  1. बटाई प्रणाली-इस प्रणाली के अंतर्गत सरकौर फसल काटने के उपराँत अपना लगान निश्चित करती थी। यह प्रणाली बहुत व्ययपूर्ण थी। दूसरा, सरकार को अपनी आमदन का पहले कुछ अनुमान नहीं लग पाता था।
  2. कनकूत प्रणाली–1824 ई० में महाराजा ने राज्य के अधिकाँश भागों में कनकूत प्रणाली को लागू किया। इसके अंतर्गत लगान खड़ी फसल को देखकर निश्चित किया जाता था। निश्चित लगान नकदी के रूप में लिया जाता था।
  3. बोली देने की प्रणाली-इस प्रणाली के अंतर्गत अधिक बोली देने वाले को 3 से 6 वर्षों तक किसी विशेष स्थान पर लगान एकत्र करने की अनुमति सरकार की ओर से दी जाती थी।
  4. बीघा प्रणाली-इस प्रणाली के अंतर्गत एक बीघा की उपज के आधार पर लगान निश्चित किया जाता था।
  5. हल प्रणाली-इस प्रणाली के अंतर्गत बैलों की एक जोड़ी द्वारा जितनी भूमि पर हल चलाया जा सकता था उसको एक इकाई मानकर लगान निश्चित किया जाता था।
  6. कुआँ प्रणाली—इस प्रणाली के अनुसार एक कुआँ जितनी भूमि को पानी दे सकता था उस भूमि की उपज को एक इकाई मानकर भूमि का लगान निश्चित किया जाता था।

भू-लगान वर्ष में दो बार एकत्र किया जाता था। लगान अनाज अथवा नकदी दोनों रूपों में लिया जाता था। लगान प्रबंध से संबंधित मुख्य अधिकारी कारदार, मुकद्दम, पटवारी, कानूनगो तथा चौधरी थे। लगान की दर विभिन्न स्थानों पर भिन्न-भिन्न थी। जिन स्थानों पर फसलों की उपज सबसे अधिक थी वहाँ लगान 50% था। जिन स्थानों पर उपज कम होती थी वहाँ भूमि का लगान 2/5 से 1/3 तक होता था। महाराजा रणजीत सिंह ने कृषि को उत्साहित करने के लिए कृषकों को पर्याप्त सुविधाएँ दी हुई थीं।

प्रश्न 8. महाराजा रणजीत सिंह के जागीरदारी प्रबंध पर एक संक्षिप्त टिप्पणी लिखें।
(Write a brief note on Jagirdari system of Maharaja Ranjit Singh.)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह के समय जागीरदारी प्रणाली की मुख्य विशेषताएँ क्या थी ? (What were the chief features of Jagirdari system of Maharaja Ranjit Singh ?)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह के समय में कई प्रकार की जागीरें प्रचलित थीं। इन जागीरों में सेवा जागीरों को सबसे उत्तम समझा जाता था। ये जागीरें राज्य के उच्च सैनिक तथा असैनिक अधिकारियों को उन्हें मिलने वाले वेतन के बदले में दी जाती थीं। इसके अतिरिक्त उस समय इनाम जागीरें, वतन जागीरें तथा धर्मार्थ जागीरें भी प्रचलित थीं। धर्मार्थ जागीरें धार्मिक संस्थाओं अथवा व्यक्तियों को दी जाती थीं। ये जागीरें स्थायी रूप से दी जाती थीं। जागीरों का प्रबंध प्रत्यक्ष रूप से जागीरदार अथवा अप्रत्यक्ष रूप से उनके ऐजेंट करते थे। जागीरदारों को न केवल अपनी जागीरों से लगान एकत्र करने का अधिकार था, अपितु वे न्याय संबंधी विषयों का निर्णय भी करते थे। कई बार उन्हें सैनिक अभियानों का नेतृत्व भी सौंपा जाता था। सैनिक जागीरदारों को सैनिक भर्ती करने का भी अधिकार प्राप्त था। जागीरदारी व्यवस्था में यद्यपि कुछ दोष अवश्य थे, परंतु यह प्रबंध तत्कालीन समय के अनुकूल था।

प्रश्न 9. महाराजा रणजीत सिंह की न्याय प्रणाली की मुख्य विशेषताओं की चर्चा करें।
(Discuss the main features of the Judicial System of Ranjit Singh.)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह की न्याय व्यवस्था की मुख्य विशेषताएँ बताएँ।। (Discuss the main features of the Judicial System of Maharaja Ranjit Singh.)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह का न्याय प्रबंध बहुलै साधारण था। कानून लिखित नहीं थे। न्याय उस समय की परंपराओं तथा धार्मिक ग्रंथों के अनुसार किया जाता था। न्याय के संबंध में अंतिम निर्णय महाराजा का होता था। लोगों को न्याय देने के लिए महाराजा रणजीत सिंह ने राज्य भर में कई अदालतें स्थापित की थीं। __महाराजा के उपरांत राज्य की सर्वोच्च अदालत का नाम अदालते-आला था। यह नाज़िम तथा परगनों में कारदार की अदालतें दीवानी तथा फ़ौजदारी मुकद्दमों को सुनती थीं। न्याय के लिए महाराजा रणजीत सिंह ने विशेष अधिकारी भी नियुक्त किए थे जिनको अदालती कहा जाता था। अधिकाँश शहरों तथा कस्बों में काज़ी की अदालत भी कायम थी। यहाँ न्याय के लिए मुसलमान तथा गैर-मुसलमान लोग जा सकते थे। गाँवों में पंचायतें झगड़ों का निर्णय स्थानीय परंपराओं के अनुसार करती थीं। महाराजा रणजीत सिंह के समय दंड कठोर नहीं थे। मृत्यु दंड किसी को भी नहीं दिया जाता था। अधिकतर अपराधियों से जुर्माना वसूल किया जाता था। परंतु बार-बार अपराध करने वालों के हाथ, पैर, नाक आदि काट दिए जाते थे। महाराजा रणजीत सिंह का न्याय प्रबंध उस समय के अनुकूल था।

प्रश्न 10. महाराजा रणजीत सिंह के सैनिक प्रबंध की मुख्य विशेषताएँ क्या थी ?
(What were the main features of Maharaja Ranjit Singh’s military administration ?)
अथवा
महाराजा रणजीत सिंह की सेना पर संक्षेप नोट लिखें। (Write a short note on the military of Ranjit Singh.)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह के सैनिक प्रशासन की प्रमुख विशेषताएँ निम्नलिखित थीं—

  1. रचना-महाराजा रणजीत सिंह की सेना में विभिन्न वर्गों से संबंधित लोग सम्मिलित थे। इनमें सिख, राजपूत, ब्राह्मण, क्षत्रिय, गोरखे तथा पूर्बिया हिंदुस्तानी सम्मिलित थे।
  2. भर्ती-महाराजा रणजीत सिंह के समय सेना में भर्ती बिल्कुल लोगों की इच्छा के अनुसार होती थी। केवल स्वस्थ व्यक्तियों को ही सेना में भर्ती किया जाता था। अफसरों की भर्ती का काम केवल महाराजा के हाथों में था। प्रायः उच्च तथा विश्वसनीय अधिकारियों के पुत्रों को अधिकारी नियुक्त किया जाता था।
  3. वेतन-महाराजा रणजीत सिंह से पूर्व सैनिकों को या तो जागीरों के रूप में या ‘जिनस’ के रूप में वेतन दिया जाता था। महाराजा रणजीत सिंह ने सैनिकों को नकद वेतन देने की परंपरा शुरू की।
  4. पदोन्नति-महाराजा रणजीत सिंह अपने सैनिकों की केवल योग्यता के आधार पर पदोन्नति करता था। पदोन्नति देते समय महाराजा किसी सैनिक के धर्म के आधार पर कोई भेदभाव नहीं करता था।
  5. पुरस्कार और उपाधि-महाराजा रणजीत सिंह प्रत्येक वर्ष लाहौर दरबार की शानदार सेवा करने वाले सैनिकों को और लड़ाई के मैदान में बहादुरी दिखाने वाले सैनिकों को लाखों रुपयों के पुरस्कार तथा ऊँची उपाधियाँ देता था।
  6. अनुशासन-महाराजा रणजीत सिंह ने अपनी सेना में बहुत कड़ा अनुशासन स्थापित किया हुआ था। सैनिक नियमों का उल्लंघन करने वाले सैनिकों को कड़ा दंड दिया जाता था।

प्रश्न 11. महाराजा रणजीत सिंह के सैनिक संगठन में फ़ौज-ए-खास के महत्त्व पर संक्षिप्त नोट लिखें। (Write a brief note on the Fauj-i-Khas of Maharaja Ranjit Singh’s army.)
उत्तर-फ़ौज-ए-खास महाराजा रणजीत सिंह की सेना का सबसे महत्त्वपूर्ण और शक्तिशाली अंग था। इस सेना को जनरल बैंतरा के नेतृत्व में तैयार किया गया था। इसे ‘मॉडल ब्रिगेड’ भी कहा जाता था। इस सेना में पैदल सेना की चार बटालियनें, घुड़सवार सेना की दो रेजीमैंटें तथा 24 तोपों का एक तोपखाना शामिल था। इस सेना को यूरोपीय ढंग के कड़े प्रशिक्षण के अंतर्गत तैयार किया गया था। इस सेना में बहुत उत्तम सैनिक भर्ती किए गए थे। उनके शस्त्र व घोड़े भी सबसे बढ़िया किस्म के थे। इसीलिए इस सेना को फ़ौज-ए-खास कहा जाता था। इस सेना का अपना अलग ध्वज चिह्न था। यह सेना बहुत अनुशासित थी। इस सेना को कठिन अभियानों में भेजा जाता था। इस सेना ने महत्त्वपूर्ण सफलताएँ प्राप्त की। इस सेना की कार्य-कुशलता को देखकर अनेक अंग्रेज़ अधिकारी चकित रह गए थे।

प्रश्न 12. महाराजा रणजीत सिंह की फ़ौज-ए-बेक्वायद से क्या अभिप्राय है ? (What do you mean by Fauj-i-Baqawaid of Maharaja Ranjit Singh ?)
उत्तर-फ़ौज-ए-बेकवायद वह सेना थी, जो निश्चित नियमों की पालना नहीं करती थी। इसके चार भाग थे—
(i) घुड़चढ़े
(ii) फ़ौज-ए-किलाजात
(iii) अकाली
(iv) जागीरदार सेना।

  1. घुड़चढ़े-घुड़चढ़े बेकवायद सेना का एक महत्त्वपूर्ण अंग था। ये दो भागों में बँटे हुए थे—
    • घुड़चढ़े खास-इसमें राजदरबारियों के संबंधी तथा उच्च वंश से संबंधित व्यक्ति सम्मिलित थे।
    • मिसलदार-इसमें वे सैनिक सम्मिलित थे, जो मिसलों के समय से सैनिक चले आ रहे थे। घुड़चढ़ों की तुलना में मिसलदारों का पद कम महत्त्वपूर्ण था। इनके युद्ध का ढंग भी पुराना था। 1838-39 ई० में घुड़चढ़ों की संख्या 10,795 थी।।
  2. फ़ौज-ए-किलाजात-किलों की सुरक्षा के लिए महाराजा रणजीत सिंह के पास एक अलग सेना थी, जिसको फ़ौज-ए-किलाजात कहा जाता था। प्रत्येक किले में किलाजात सैनिकों की संख्या किले के महत्त्व के अनुसार अलग-अलग होती थी। किले के कमान अधिकारी को किलादार कहा जाता था।
  3. अकाली-अकाली अपने आपको गुरु गोबिंद सिंह जी की सेना समझते थे। इनको सदैव भयंकर अभियान में भेजा जाता था। वे सदैव हथियारबंद होकर घूमते रहते थे। वे किसी तरह के सैनिक प्रशिक्षण या परेड के विरुद्ध थे। वे धर्म के नाम पर लड़ते थे। उनकी संख्या 3,000 के लगभग थी। अकाली फूला सिंह एवं अकाली साधु सिंह उनके प्रसिद्ध नेता थे।
  4. जागीरदारी फ़ौज-महाराजा रणजीत सिंह के समय जागीरदारों पर यह शर्त लगाई गई कि वे महाराजा को आवश्यकता पड़ने पर सैनिक सहायता दें। इसलिए जागीरदार राज्य की सहायता के लिए पैदल तथा घुड़सवार सैनिक रखते थे।

प्रश्न 13. महाराजा रणजीत सिंह का अपनी प्रजा के प्रति कैसा व्यवहार था ? (What was Ranjit Singh’s attitude towards his subjects ?)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह का अपनी प्रजा के प्रति व्यवहार बहुत अच्छा था। वह प्रजा के हितों की कभी उपेक्षा नहीं करता था। उसने सरकारी कर्मचारियों को यह आदेश दिया था कि वे प्रजा के कल्याण के लिए विशेष प्रयत्न करें। प्रजा की दशा जानने के लिए महारांजा भेष बदल कर प्रायः राज्य का भ्रमण किया करता था। महाराजा के आदेश का उल्लंघन करने वाले कर्मचारियों को कड़ा दंड दिया जाता था। किसानों तथा निर्धनों को राज्य की ओर से विशेष सुविधाएँ दी जाती थीं। कश्मीर में जब एक बार भारी अकाल पड़ा तो महाराजा ने हज़ारों खच्चरों पर अनाज लाद कर कश्मीर भेजा था। महाराजा ने न केवल सिखों बल्कि हिंदुओं तथा मुसलमानों को भी संरक्षण दिया। उन्हें भारी संख्या में लगान मुक्त भूमि दान में दी गई। परिणामस्वरूप महाराजा रणजीत सिंह के समय में प्रजा बहुत समृद्ध थी।

प्रश्न 14. महाराजा रणजीत सिंह के शासन के लोगों के जीवन पर पड़े प्रभावों पर एक संक्षिप्त नोट लिखें।
(Write a short note on the effects of Ranjit Singh’s rule on the life of the people.)
उत्तर-महाराजा रणजीत सिंह के शासन के लोगों के जीवन पर महत्त्वपूर्ण प्रभाव पड़े। उसने पंजाब में एक विशाल साम्राज्य की स्थापना की। पंजाब के लोगों ने शताब्दियों के पश्चात् चैन की. साँस ली। इससे पूर्व पंजाब के लोगों को एक लंबे समय तक मुग़ल तथा अफ़गान सूबेदारों के घोर अत्याचारों को सहन करना पड़ा था। महाराजा रणजीत सिंह ने पंजाब में एक उच्चकोटि के शासन प्रबंध की स्थापना की। उसके शासन का प्रमुख उद्देश्य प्रजा की भलाई करना था। उसने अपने राज्य में सभी अमानुषिक सज़ाएँ बंद कर दी थीं। मृत्यु की सज़ा किसी अपराधी को भी नहीं दी जाती थी। महाराजा रणजीत सिंह ने अपने नागरिक प्रबंध के साथ-साथ सैनिक प्रबंध की ओर भी विशेष ध्यान दिया। इस शक्तिशाली सेना के परिणामस्वरूप वह साम्राज्य को सुरक्षित रखने में सफल हुआ। महाराजा ने कृषि, उद्योग तथा व्यापार को प्रोत्साहन देने के लिए विशेष उपाय किए। परिणामस्वरूप उसके शासन काल में प्रजा बहुत समृद्ध थी। महाराजा रणजीत सिंह यद्यपि सिख धर्म का पक्का श्रद्धालु था, किंतु उसने अन्य धर्मों के प्रति सहनशीलता की नीति अपनाई। आज भी लोग महाराजा रणजीत सिंह के शासन के गौरव को स्मरण करते हैं।

Source Based Questions

नोट-निम्नलिखित अनुच्छेदों को ध्यानपूर्वक पढ़िए और उनके अन्त में पूछे गए प्रश्नों का उत्तर दीजिए।

1
महाराजा केंद्रीय शासन की धुरी था। उसके मुख से निकला प्रत्येक शब्द कानून समझा जाता था। महाराजा रणजीत सिंह अपने अधिकारों का प्रयोग जन-कल्याण के लिए करता था। शासन प्रबन्ध में सहयोग प्राप्त करने के लिए महाराजा ने कई मन्त्री नियुक्त किए हुए थे। इनमें प्रधानमंत्री, विदेश मंत्री, दीवान, मुख्य सेनापति तथा ड्योढ़ीवाला हम के मन्त्री प्रमुख थे। इन मन्त्रियों के परामर्श को मानना अथवा न मानना रणजीत सिंह की इच्छा पर निर्भर था। प्रशासन की कुशलता के लिए रणजीत सिंह प्रायः अपने मन्त्रियों का परामर्श मान लेता था। महाराजा ने प्रशासन की अच्छी देख-रेख के लिए 12 दफ्तरों (विभागों) की स्थापना की थी। इनमें विशेषकर दफ्तर-ए-अबवाब-उल-माल, दफ्तरए-तोजीहात, दफ्तर-ए-मवाजिब तथा दफ्तर-ए-रोज़नामचा-ए-अखराजात प्रमुख थे। निश्चय ही रणजीत सिंह का शासन प्रबध बहुत अच्छा था।

  1. महाराजा रणजीत सिंह के समय केंद्रीय शासन का धुरा कौन होता था ?
  2. महाराजा रणजीत सिंह का प्रधानमंत्री कौन था ?
  3. महाराजा रणजीत सिंह का विदेश मंत्री कौन था ?
    • राजा ध्यान सिंह
    • हरी सिंह नलवा
    • फकीर अजीजुद्दीन
    • दीवान मोहकम चंद।
  4. महाराजा रणजीत सिंह के समय प्रशासन की अच्छी देखभाल के लिए कितने दफ्तरों की स्थापना की गई थी ?
  5. दफ्तर-ए-तोजीहात का क्या काम होता था ?

उत्तर-

  1. महाराजा रणजीत सिंह के समय केंद्रीय शासन का धुरा महाराजा स्वयं होता था।
  2. महाराजा रणजीत सिंह का प्रधानमंत्री राजा ध्यान सिंह था।
  3. फकीर अजीजुद्दीन।
  4. महाराजा रणजीत सिंह के समय प्रशासन की अच्छी देखभाल के लिए 12 दफ्तरों की स्थापना की गई थी।
  5. दफ्तर-ए-तोज़ीहात शाही घराने का हिसाब रखता था।

2
शासन-व्यवस्था को सुचारु रूप से चलाने के उद्देश्य से महाराजा रणजीत सिंह ने अपने राज्य को चार बड़े प्रांतों में विभाजित किया हुआ था। इन प्रांतों अथवा सूबों के नाम ये थे–(i) सूबा-ए-लाहौर, (ii) सूबा-ए-मुलतान, (ii) सूबाए-कश्मीर, (iv) सूबा-ए-पेशावर। प्राँत का प्रशासन चलाने की ज़िम्मेदारी नाज़िम की होती थी। नाज़िम का मुख्य कार्य
अपने प्रांत में शांति बनाए रखना था। वह प्रांत के अन्य कर्मचारियों के कार्यों का निरीक्षण करता था। वह प्रांत में महाराजा के आदेशों को लागू करवाता था। वह फ़ौजदारी तथा दीवानी मुकद्दमों के निर्णय करता था। वह भूमि का लगान एकत्रित करने में कर्मचारियों की सहायता करता था। वह जिलों के कारदारों के कार्यों का भी निरीक्षण करता था। इस प्रकार नाज़िम के पास असीमित अधिकार थे, परंतु उसे अपने प्रांत के संबंध में कोई भी महत्त्वपूर्ण निर्णय करने से पूर्व महाराजा की स्वीकृति लेनी पड़ती थी। महाराजा जब चाहे नाज़िम को परिवर्तित कर सकता था।

  1. महाराजा रणजीत सिंह ने अपने साम्राज्य को कितने सूबों में बाँटा हुआ था ?
  2. महाराजा रणजीत सिंह के किन्हीं दो सूबों के नाम लिखें।
  3. महाराजा रणजीत सिंह के समय सूबे का मुखिया कौन होता था ?
  4. नाज़िम का कोई एक मुख्य कार्य लिखें।
  5. महाराजा जब चाहे नाज़िम को …………. कर सकता था।

उत्तर-

  1. महाराजा रणजीत सिंह ने अपने साम्राज्य को चार सूबों में बांटा हुआ था।
  2. महाराजा रणजीत सिंह के दो सूबों के नाम सूबा-ए-लाहौर तथा सूबा-ए-कश्मीर थे।
  3. महाराजा रणजीत सिंह के समय सूबे का मुखिया नाज़िम होता था।
  4. वह अपने अधीन प्रांत में महाराजा के आदेशों को लागू करवाता था।
  5. परिवर्तित।

3
प्रशासन की सबसे छोटी इकाई गाँव थी जिसे उस समय मौज़ा कहते थे। गाँवों की व्यवस्था पंचायतों के हाथ में होती थी। पंचायत ग्रामीण लोगों की देख-रेख करती थी तथा उनके छोटे-मोटे झगडों को निपटाती थी। लोग पंचायत का बहुत सम्मान करते थे तथा उसके निर्ण: को अधिकतर लोग स्वीकार करते थे। पटवारी गाँवों की भूमि का रिकार्ड रखता था। चौधरी लगान वसूल करने में सरकार की सहायता करता था। मुकद्दम (नंबरदार) गाँव का मुखिया होता था। वह सरकार व लोगों में एक कड़ी का कार्य करता था। चौकीदार गाँव का पहरेदार होता था। महाराजा गाँव के कार्यों में हस्तक्षेप नहीं करता था।

  1. महाराजा रणजीत सिंह के समय प्रशासन की सबसे छोटी इकाई कौन-सी थी ?
  2. महाराजा रणजीत सिंह के समय गाँव को क्या कहा जाता था ?
  3. महाराजा रणजीत सिंह के समय गाँव का प्रबंध किसके हाथ में होता था ?
  4. महाराजा रणजीत सिंह के समय मुकद्दम कौन था ?
  5. महाराजा रणजीत सिंह के समय गाँवों की भूमि का रिकार्ड कौन रखता था ?
    • मुकद्दम
    • चौधरी
    • पटवारी
    • उपरोक्त में से कोई नहीं।

उत्तर-

  1. महाराजा रणजीत सिंह के समय प्रशासन की सबसे छोटी इकाई गाँव थी।
  2. महाराजा रणजीत सिंह के समय गाँव को मौज़ा कहते थे।
  3. महाराजा रणजीत सिंह के समय गाँव का प्रबंध पंचायत के हाथ में होता था।
  4. मुकद्दम गाँव का मुखिया होता था।
  5. पटवारी।

4
महाराजा रणजीत सिंह के समय लाहौर शहर की व्यवस्था अन्य शहरों की अपेक्षा अलग विधि से की जाती थी। समस्त शहर को मुहल्लों में विभाजित किया गया था। प्रत्येक मुहल्ला एक मुहल्लेदार के अंतर्गत होता था । मुहल्लेदार अपने मुहल्ले में शांति व्यवस्था बनाए रखता था तथा सफ़ाई की व्यवस्था करता था। लाहौर शहर का प्रमुख अधिकारी कोतवाल होता था। वह प्रायः मुसलमान होता था। महाराजा रणजीत सिंह के समय इस महत्त्वपूर्ण पद पर इमाम बख्श नियुक्त था। कोतवाल के मुख्य कार्य महाराजा के आदेशों को व्यावहारिक रूप देना, शहर में शांति व व्यवस्था बनाए रखना, मुहल्लेदारों के कार्यों की देख-रेख करना, शहर में सफाई की व्यवस्था करना, शहरों में आने वाले विदेशियों का विवरण रखना, व्यापार व उद्योग का निरीक्षण, नाप-तोल की वस्तुओं की जाँच करना इत्यादि थे। वह दोषी लोगों के विरुद्ध वांछित कार्यवाई करता था।

  1. महाराजा रणजीत सिंह जी के समय लाहौर शहर का मुख्य अधिकारी कौन था ?
  2. महाराजा रणजीत सिंह के समय कोतवाल के पद पर कौन नियुक्त था ?
  3. कोतवाल का एक मुख्य कार्य बताएँ।
  4. महाराजा रणजीत सिंह के समय मुहल्ले का मुखिया कौन होता था ?
  5. महाराजा रणजीत सिंह के समय ………… शहर की व्यवस्था अन्य शहरों की अपेक्षा अलग विधि से की जाती थी।

उत्तर-

  1. महाराजा रणजीत सिंह के समय लाहौर का मुख्य अधिकारी कोतवाल होता था।
  2. महाराजा रणजीत सिंह के समय कोतवाल के पद पर इमाम बख्श नियुक्त था।
  3. शहर में शांति बनाए रखना।
  4. महाराजा रणजीत सिंह के समय मुहल्ले का मुखिया मुहल्लेदार होता था।
  5. लाहौर।

महाराजा रणजीत सिंह का नागरिक एवं सैनिक प्रशासन Notes

  • महाराजा रणजीत सिंह का नागरिक प्रबंध (Civil Administration of Maharaja Ranjit Singh)-महाराजा रणजीत सिंह के नागरिक प्रबंध की मुख्य विशेषताएँ निम्नलिखित थीं—
    • केंद्रीय शासन प्रबंध (Central Administration)–महासजा राज्य का मुखिया था-राज्य की सभी आंतरिक तथा बाह्य नीतियाँ महाराजा द्वारा तैयार की जाती थीं-प्रशासन व्यवस्था की देख-रेख के लिए एक मंत्रिपरिषद् का गठन किया हुआ था-मंत्रियों की नियुक्ति महाराजा स्वयं करता था-केंद्र में महाराजा के बाद दूसरा महत्त्वपूर्ण स्थान प्रधानमंत्री का था-विदेश मंत्री, वित्त मंत्री, मुख्य सेनापति और ड्योढ़ीवाला मंत्रिपरिषद् के अन्य मुख्य मंत्री थे-प्रबंधकीय सुविधाओं के लिए केंद्रीय शासन-व्यवस्था को अनेक दफ्तरों में विभाजित किया गया था।
    • प्रांतीय प्रबंध (Provincial Administration)-महाराजा ने अपने राज्य को चार बड़े प्राँतों में विभाजित किया हुआ था-ये प्राँत थे-सूबा-ए-लाहौर, सूबा-ए-मुलतान, सूबा-ए-कश्मीर और सूबाए-पेशावर-प्राँत का प्रशासन नाज़िम के हाथ में होता था-नाज़िम कभी भी महाराजा द्वारा परिवर्तित किया जा सकता था।
    • स्थानीय व्यवस्था (Local Administration)—प्रत्येक प्राँत कई परगनों में विभाजित थापरगने के मुख्य अधिकारी को कारदार कहते थे-प्रशासन की सबसे छोटी इकाई गाँव अथवा मौजा थी-गाँव की व्यवस्था पंचायत के हाथ में होती थी-पटवारी, चौधरी, मुकद्दम और चौकीदार गाँव के प्रमुख अधिकारी होते थे-लाहौर शहर की व्यवस्था अन्य शहरों की अपेक्षा अलग थी।
    • वित्तीय व्यवस्था (Financial Administration)-राज्य की आय का मुख्य स्रोत भूमि का लगान था-लगान एकत्रित करने के लिए बटाई प्रणाली सर्वाधिक प्रचलित थी-इसके अतिरिक्त कनकूत प्रणाली, ज़ब्ती प्रणाली, बीघा प्रणाली, हल प्रणाली और इज़ारादारी प्रणाली भी प्रचलित थी-लगान वर्ष में दो बार एकत्रित किया जाता था—यह भूमि की उपजाऊ शक्ति पर निर्भर करता था-चुंगी कर, नज़राना, ज़ब्ती और आबकारी आदि से भी सरकार को आय होती थी।
    • जागीरदारी प्रथा (Jagirdari System)-जागीरदारों को दी जाने वाली जागीरों में सेवा जागीरें सबसे महत्त्वपूर्ण थीं-इन जागीरों को घटाया, बढ़ाया अथवा जब्त किया जा सकता था ये सैनिक तथा असैनिक अधिकारियों को दी जाती थीं-इसके अतिरिक्त ईनाम जागीरें, गुज़ारा जागीरें, वतन जागीरें और धर्मार्थ जागीरें भी प्रचलित थीं।
    • न्याय व्यवस्था (Judicial System)-न्याय प्रणाली साधारण थी-कानून लिखित नहीं थेनिर्णय प्रचलित प्रथाओं व धार्मिक विश्वासों के आधार पर किए जाते थे-न्याय व्यवस्था में पंचायत सबसे लघु और महाराजा की अदालत सर्वोच्च अदालत थी-लोग किसी भी अदालत में जाकर मुकद्दमा प्रस्तुत कर सकते थे-अपराधों का दंड प्रायः जुर्माना ही होता था। मृत्यु दंड किसी भी अपराधी को नहीं दिया जाता था। ।
  • महाराजा रणजीत सिंह का सैनिक प्रबंध (Military Administration of Maharaja Ranjit Singh)-महाराजा रणजीत सिंह ने अपने सैनिक प्रबंध की ओर विशेष ध्यान दिया-उसकी सेना में देशी एवं विदेशी दोनों सैनिक प्रणालियों का समन्वय किया गया था-सेना ‘फ़ौज-ए-आईन’ और ‘फ़ौज-ए-बेकवायद’ नामक दो भागों में विभाजित थी-फ़ौज-ए-आईन को पैदल, घुड़सवार और तोपखाना में विभाजित किया गया था-फ़ौज-ए-खास महाराजा की सेना का सबसे महत्त्वपूर्ण तथा शक्तिशाली अंग थी-इसे जनरल वेंतूरा ने तैयार किया था—फ़ौज-ए-बेकवायद को निश्चित नियमों का पालन नहीं करना पड़ता था-रणजीत सिंह की सेना में भिन्न-भिन्न वर्गों से संबंधित लोग शामिल थेअधिकाँश इतिहासकारें का मत है कि उनकी सेना की संख्या 75,000 से 1,00,000 के बीच थी।